युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

21 अप्रैल 2011

कहीं कर्मचारियों की कमी, कहीं कर्मचारी गायब


डाकघर बंद होने के कगार पर                                                                                                                   डबवाली (लहू की लौ) फिरंगियों के जमाने का बना डाकघर अब कर्मचारियों की कमी के चलते बंद होने की कगार पर है। दो कर्मचारियों के कंधों पर यह डाकघर रिसक-रिसक कर चल रहा है। कर्मचारियों के टोटे के चलते लोगों को अपना काम निपटाने के लिए घंटों खड़ा रहना पड़ता है।
भारत पर फिरंगियों की दास्तां के समय साल 1917 में डबवाली में डाकघर का निर्माण हुआ था। इसके बाद से यह डाकघर अब चौदह ग्रामीण शाखाओं को संभालने लगा है। लेकिन विडंबना यह है कि उपमंडल स्तर का डाकघर होने के बावजूद भी डाकघर में कार्य के लिए पर्याप्त कर्मचारी न होने से इस डाकघर की दशा दिनों-दिन बिगड़ रही है।
वर्तमान सबपोस्ट मास्टर लोकेश कुमार को इस समय अपने सब पोस्ट मास्टर के दायित्व के साथ-साथ कोषाध्यक्ष सेविंग लिपिक का कार्य करना पड़ रहा है। जबकि काऊंटर पर डेढ़ माह का अनुभव रखने वाले प्रवीण कुमार को नियुक्त किया हुआ है। इसके साथ-साथ ही सेवानिवृत्त डाक बाबू धुलीचंद को नियुक्त किया हुआ है। हालांकि इन दोनों की नियुक्ति काऊंटर पर न किए जाने का प्रावधान है। लेकिन मजबूरी के चलते इन्हें यह काम सौंप रखा है।
डाकघर में 31 मार्च से पूर्व कुल चार कर्मचारी थे। जिसमें से 31 मार्च को सब पोस्टमास्टर मेजर सिंह गिल सेवानिवृत्त हो गए और उनके स्थान पर रामनारायण बांसल को सबपोस्ट मास्टर नियुक्त कर दिया गया और डाकघर में भी काम करने के लिए मात्र तीन कर्मचारी रह गए। आज ही रामनारायण बांसल को भी गोरीवाला में स्थानांतरित करने के आदेश स्थानीय डाकघर में पहुंचे। जबकि रामनारायण बांसल मेडिकल लीव पर हैं और उनके स्थान पर किसी भी प्रतिनियुक्ति डबवाली डाकघर में नहीं की गई है। अब स्थिति यह है कि मात्र दो ही कर्मचारी पूरे डाकघर को संभालने के लिए रह गए हैं। हालांकि इस डाकघर के अंतर्गत 14 ग्रामीण डाकघर भी आते हैं।
वर्तमान सबपोस्ट मास्टर लोकश कुमार बारह वर्ष से डाक सेवा में है। लेकिन सबपोस्ट मास्टर की सीट पर डाकघर नियमों के अनुसार 20 वर्ष के अनुभवी को ही बनाया जा सकता है। इसी डाकघर में सबपोस्टर मास्टर पर रहे पीडी शर्मा ने भी पुष्टि की।
सब पोस्टमास्टर लोकेश कुमार के अनुसार इस डाकघर में प्रतिदिन 10 लाख रूपए की ट्रांजेक्शन होती है। लेकिन उनके अकेले के रहते इतनी ट्रांजेक्शन को संभालना उसके लिए मुश्किल है। नियमानुसार डाकघर में एक सब पोस्टमास्टर और सात बाबूओं की नियुक्ति होनी जरूरी है। लेकिन यहां पर केवल एक सब पोस्टमास्टर और एक बाबू ही कार्यरत है। जबकि एसबीआरडी, टीडी, एमआईएस, एनएससी, केपी, सीनियर सिटीजन तथा नरेगा से संबंधित काम भी उन्हें ही करने पड़ते हैं। इसके साथ-साथ चौदह ग्रामीण डाकघरों से डिलिंग का दायित्व भी उन पर है। यहां तक पोस्टमैन की बात है, डबवाली डाकघर में पहले छह पोस्टमैन थे, लेकिन अब चार रह गए हैं। हालांकि नगर की आबादी बड़ी है, काम भी बढ़ा है। परिणामस्वरूप दो पोस्टमैन को ओवर टाईम देना पड़ रहा है। अगर दो पोस्टमैन नियुक्त कर दिए जाएं तो डाक बांटने का काम जल्दी निबट सकता है और डाकघर की साख बनी रह सकती है।
मौका पर उपस्थित डाकघर प्रतिनिधि उषा रानी और सुभाष पप्पू ने बताया कि डाकघर में कर्मचारियों के अभाव के चलते उन्हें भी अपने काम निपटाने में घंटों इंतजार करनी पड़ रही है।
भारतीय डाक सेवा हिसार डिविजन के अधीक्षक साधु राम शर्मा के अनुसार सरकार के नियमानुसार डबवाली डाकघर में सभी पद पूरे हैं। 31 मार्च को सब पोस्ट मास्टर मेजर सिंह गिल सेवानिवृत्त हुए हैं। उनकी जगह भरने के लिए प्रक्रिया शुरू है।                                                                                                                                      डबवाली (लहू की लौ) डबवाली का सहकारी समितियां विभाग लालफीताशाही का शिकार है। उपमंडल मेें सहकारी समितियों के आडिट और उनकी शिकायतों की जांच का जिम्मा इस विभाग पर है, लेकिन दूसरों रिकार्ड खंगालने में माहिर इस विभाग का खुद का रिकार्ड कितना दुरुस्त है, इसका अंदाजा इस बात से ही लगाया जा सकता है कि विभाग में ड्यूटी पर तैनात 8 अधिकारियों और कर्मचरियों में से 5 छुट्टी पर थे, और ड्यूटी पर तैनात 3 कर्मचारी किसी मामले की जांच पर गौरीवाला पेक्स में गये हुए थे। इसके उपरांत विरान पड़े कार्यालय में खाली पड़ी कुर्सियां अपने अधिकारियों की बाट जोह रही थी। विभाग कार्यालय में डेपूटेशन पर तैनात चपरासी कांशी राम ही आने जाने वालों को फिर आने का आग्रह कर रहा था।
विभाग में अधिकारियों की कर्तव्य परायणता इतनी है कि एक निरीक्षक, मुख्य लिपिक और लिपिक छुट्टी पर है, तो एक महिला लिपिक बीमारी की लंबी छुट्टी पर है। वहीं एक अन्य लिपिक कृष्ण लाल का कोई अता पता नहीं है। वे पिछले कई दिन से बिना कारण बताए कार्यालय ही नहीं पहुंचे है। अधिकारियों और कर्मचारियों की कमी भी विभाग के कार्य को प्रभावित कर रही है। सहकारी समितियां विभाग का ए. आर ओ का पद पिछले काफी समय से रिक्त पड़ा है और इसका अतिरिक्त प्रभार सिरसा के ए.आर.ओ. श्योकरण के पास है। विभाग के आठ उपनिरीक्षक चार चपरासी तथा 1 लिपिक के पद रिक्त पड़े है।
 विभाग के स्टेनो बुधराम से इस संदर्भ में संपर्क किया गया तो उन्होंने बताया कि वे निरीक्षक जय भगवान और लिपिक बहादुर सिंह के साथ एक मामले की जांच को लेकर गोरीवाला गए हुए थे। विभाग कार्यालय में सभी अधिकारियों और कर्मचारियों की अनुपस्थिति के संदर्भ में उन्होंने कहा कि उनके कार्यालय का जनता से सीधा संपर्क नहीं है इस कारण कर्मचारी या अधिकारी कार्यालय में उपस्थित हो या न हो इससे कोई फर्क नहीं पड़ता।
 विभाग के एआरओ श्योकरण से बात की गई तो उन्होंने कार्यालय में कर्मचारियों की अनुपस्थिति को गंभीर बात बताते हुए कहा कि वे इस मामले की जांच करेंगे और दोषी कर्मचारियों के खिलाफ कार्यवाही होगी।कर्मचारियों की डयूटी का रिपोर्ट कार्ड ये है
1. ए.आर.ओ.- श्योकरण- अतिरिक्त प्रभार सिरसा ड्यूटी पर
2. निरीक्षक - जय भगवान- जांच के लिए गोरीवाला रवाना
3. निरीक्षक-आशीष विश्नोई-छुट्टी पर
4. स्टेनो- बुध राम -जांच के लिए गौरी वाला रवाना
5. मुख्य लिपिक - राजेंद्र कुमार- छुट्टी पर
6. लिपिक -राज रानी- बीमारी की लंबी छुट्टी पर
7.लिपिक - कृष्ण लाल- अनुपस्थित, कारण ज्ञात नही
8. लिपिक- सतपाल सिंह- बीमारी की छुट्टी पर, एआरओ को फोन पर सूचना दी
9.लिपिक -बहादुर सिंह- जांच के लिए गौरी वाला गये
डबवाली कार्यालय -चपड़ासी- कांशी राम  उपस्थित

प्राथमिक पाठशाला से एजूसेट उड़ा ले गए चोर


डबवाली (लहू की लौ) गांव गंगा की ढाणी नं. 2 में स्थित राजकीय प्राथमिक पाठशाला से सोमवार रात को अज्ञात चोर एजूसेट चुरा ले गए। गोरीवाला पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।
मंगलवार सुबह करीब 7.50 पर पाठशाला के टीचर शैलेन्द्र तथा चतुर्थश्रेणी कर्मी राजेन्द्र की नजर एजूसेट रूम पर पड़ी। एजूसेट रूम का दरवाजा खुला पड़ा था, जबकि ताला गायब था। अध्यापक शैलेन्द्र के अनुसार रूम में लगा एजूसेट गायब मिला। जिसकी कीमत करीब 60 हजार रूपए है। उनके अनुसार पाठशाला इंचार्ज लीला देवी ने इस बारे में गोरीवाला पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है। अध्यापक शैलेन्द्र पाठशाला में सुरजीत कुमार नामक चौकीदार तैनात है। लेकिन पिछले काफी दिनों से वह बीमार चल रहा है। सोमवार रात को वह डयूटी पर आया। लेकिन तबीयत बिगडऩे के कारण वापिस घर को चला गया। स्थिति का फायदा उठाकर चोरों ने वारदात को अंजाम दिया। करीब तीन साल पूर्व सरकार की ओर से राज्य के सरकारी स्कूलों के बच्चों को समय-समय पर बेहतर शिक्षा देने तथा अध्यापकों से सीधे संपर्क रखने के उद्देश्य से एजूसेट लगाए थे। लेकिन ये तभी से बंद पड़े हुए हैं। करीब दस दिन पूर्व पंचकूला से आए एक इंजीनियर ने गांव गंगा की ढाणी नं. 2 में स्थापित एजूसेट को चैक करने के बाद इसे खराब करार दिया था। गोरीवाला पुलिस चौकी प्रभारी एसआई रमेश कुमार ने बताया कि एजूसेट चोरी की शिकायत उन्हें मिली है। मामले की जांच की जा रही है।

शहर में फैला पीलिया


डबवाली (लहू की लौ) नगर में पीलिया रोग फैल गया है। इस रोग से पीडि़त व्यक्तियों के प्रतिदिन 20 से 25 मामले सामने आ रहे हैं। मौसम के आरंभ में मरीजों की संख्या सामान्य स्तर से बहुत अधिक होने से स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के माथे पर चिंता की लकीरें खिंच गई हैं। स्वास्थ्य विभाग की टीम सर्वे करने में जुट गई है।
यहां के सरकारी अस्पताल में रोजाना 10 से 15 मरीज इलाज के लिए आ रहे हैं। औसतन इतने ही मरीज बेहतर चिकित्सा सेवा के लिए निजी चिकित्सकों के यहां दाखिल हैं। यही नहीं यहां के सरकारी अस्पताल के स्टाफ के कुछ सदस्यों को भी पीलिया ने जकड़ा हुआ है। बड़ी संख्या में पीलिया के रोगी सामने आने से स्वास्थ्य विभाग में खलबली मची हुई है। रोग फैलने का कारण गंदे पानी की आपूर्ति और नगर में बिक रहे गले-सड़े खाद्य पदार्थों को माना जा रहा है। चूंकि पिछले काफी समय से नगर में गंदे पेयजल की आपूर्ति हो रही है। वहीं नगर में गले-सड़े खाद्य पदार्थ भी धड़ल्ले से बेचे जा रहे हैं।
स्वास्थ्य विभाग ने इस मामले  को गंभीरता से लेते हुए नगर के एक निजी अस्पताल में दाखिल पीलिया के मरीजों के क्षेत्रों का पता लगाकर उनमें सर्वे कराया। इन क्षेत्रों में जवाहर नगर, पुराना हनुमान मंदिर क्षेत्र, चौटाला रोड़ पर स्थित हैफेड गोदाम क्षेत्र, प्रेमनगर तथा लवकुश पार्क क्षेत्र शामिल हैं।
अस्पताल के कार्यकारी एसएमओ डॉ. एमके भादू ने स्वीकार किया कि इस बार पीलिया के ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं। शहर में पीलिया रोग फैल गया है। प्रतिदिन करीब 10 से 15 मरीज अस्पताल में उपचार कराने के लिए पहुंच रहे हैं, जो सामान्य स्तर से बहुत अधिक हैं। उपरोक्त मामलों को ध्यान में रखते हुए हैल्थ सुपरवाईजर दर्शन सेठी को शहर का सर्वे कराने की कमान संभाली गई है। जनस्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी राजकुमार को साथ लेकर पानी के नमूने भी भरे जा रहे हैं।                                                                         यहां से भरे गए हैं पानी के सैम्पल
1. गुरू जम्भेश्वर नगर
2. अनाज मण्डी रोड़
3. पुराना हनुमान मंदिर के निकट
4. एकता नगरी की गली नं. 5
5. जीटी रोड़, नजदीक बाबा मनसा दास क्षेत्र से
6. सिविल अस्पताल में स्थित बूस्टिंग स्टेशन से
7. उत्तम नगर गली नं. 1 से
8. खाद्य एवं आपूर्ति कार्यालय क्षेत्र सेअब तक                                                                                                     यहां से मिले हैं रोगी
जवाहर नगर 1
पुराना हनुमान मंदिर क्षेत्र 5
हैफेड गोदाम क्षेत्र 2
प्रेम नगर 1
इसके अतिरिक्त गांव गंगा और गांव जोगेवाला से भी इस रोग का एक-एक केस सामने आया है।
(सरकारी आंकड़ों के अनुसार)

पुलिस थाना से महज 150 गज दूरी पर दिया वारदात को अंजाम चोरों ने उखाड़े शट्टर


डबवाली (लहू की लौ) चोरों ने पुलिस को चुनौती देते हुए सोमवार रात को थाना शहर से मात्र 150 गज की दूरी पर स्थित मोबाइल शॉप तथा करियाना स्टोर के शट्टर उखाड़ डाले। ऑन रोड़ पर स्थित इन दोनों दुकानों से हजारों रूपए का सामान चोरी किया। साथ लगती एक प्लाईवुड शॉप के शट्टर को भी चोरों ने तोडऩे का प्रयास किया। वारदात को अंजाम देने के बाद चोर बड़े आराम से फरार हो गए। जबकि शट्टर तोडऩे में प्रयुक्त किए गए हथियार वहीं छोड़ गए।
बठिंडा चौक से कोर्ट कॉम्पलैक्स को जाने वाली महत्वपूर्ण डिफेंस रोड़ अक्सर रात को चौबीस घंटे चलती है। इस रोड़ पर पुलिस गश्त के साथ-साथ बसों, ट्रकों का आना-जाना आम है। लेकिन इसके बावजूद भी बेखौफ चोरों ने चोरी को अंजाम देते हुए रोड़ पर स्थित प्रिंस टेलीकॉम तथा फर्म सतीश कुमार आशीष कुमार की करियाणा शॉप के शट्टर गैस बैल्डिंग के लिए प्रयुक्त होने वाले उपकरण तथा पेचकस के साथ उखाड़ दिए।
करियाना विक्रेता सतीश कुमार बब्बर (40) पुत्र महेंद्र पाल निवासी डबवाली ने बताया कि वे सोमवार रात को लगभग 9.30 बजे दुकान मंगल करके घर गये थे। मंगलवार सुबह करीब 5.30 बजे उसकी दुकान के साथ वाली गली के निवासी मास्टर सुरिंद्र सिंह ने मोबाइल करके बताया कि उसकी दुकान का शट्टर टूटा हुआ है। इस पर वह मौके पर पहुंचा। उसने इसकी सूचना पुलिस को दी। साथ में अपने पड़ौसी प्रिंस टेलीकॉम का शट्टर भी हटा होने के कारण इसकी जानकारी शॉप के मालिक पिं्रंस मोंगा को दी। वह भी मौका पर पहुंच गया। सतीश बब्बर ने बताया कि अज्ञात चोर उसकी दुकान से दस हजार रूपए कीमत का कॉस्मेटिक का सामान, पांच हजार रूपए कीमत की बीडी सिगरेट, 10 हजार रूपए कीमत का ड्राई-फ्रूट, जूस, विभिन्न प्रकार के ब्रांडेड तेल, फ्रिज में रखा हुआ कोल्ड ड्रिंक और करीब 700 रूपए की रेजगारी चुरा ले गए। उसका करीब 25 हजार रूपए का नुक्सान हुआ। टेलीकॉम मालिक प्रिंस मोंगा (35) निवासी डबवाली ने बताया कि अज्ञात चोर उसकी दुकान से 40 हजार रूपए कीमत के 40 मोबाइल, 10 हजार रूपए कीमत के 20 पुराने मोबाइल के साथ 20 हजार रूपए कीमत की असैसरी चुरा ले गए। इससे उसका करीब 70 हजार रूपए का नुक्सान हुआ।
चोरों ने इसके साथ ही तीसरी दुकान मैहता प्लाईवुड ट्रेडर्ज पर भी अपना दांव चलाने का प्रयास किया। लेकिन चोर दुकान के तालों को ही नुक्सान पहुंचा पाए। दुकान के मालिक अमित मैहता ने बताया कि चोर उसकी दुकान का शट्टर नहीं तोड़ पाए, जबकि शट्टर आदि तोडऩे के लिए प्रयोग किए जाने वाले उपकरणों को वे वहीं छोड़ गए। जिसमें पेचकस और गैस बैल्डिंग के लिए प्रयुक्त होने वाला सामान है।
चोरी की सूचना पाकर मौका पर एएसआई सतबीर सिंह दल बल के साथ पहुंचे और घटना का निरीक्षण किया। एएसआई ने कहा कि उन्होंने घटना का निरीक्षण कर लिया है। दुकानदार चोरी के सामान की लिस्ट और शिकायत देंगे तो अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया जाएगा।

17 अप्रैल 2011

किसानों को मिले फसल भाव का अधिकार

 डबवाली (लहू की लौ) किसानों को अपनी जिनस का भाव स्वयं तय करने की अनुमति मिलनी चाहिए। ताकि किसान अपनी फसल को लागत मूल्य और महंगाई के स्तर के अनुसार बेच सकें। ये शब्द महाराष्ट्र के जिला अमरावती की तहसील दर्यापुर की कृषि उत्पन्न बाजार समिति के चेयरमैन मदन राव ने डबवाली मार्किट कमेटी कार्यालय में पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहे। उन्होंने बताया कि वे अपने अन्य सदस्यों साहिब राव वाईस चेयरमैन, निदेशक अभिजीत सिंह एडवोकेट, विनायक मोहोड, महेन्द्र देशमुख, विजय कुमार, बबराओ बरबत, ईश्वर बुंदेल, हिम्मत मातकर, मिलिनो टारल, पाटकर, अम्बेडकर के साथ देश की विभिन्न अनाज मण्डियों के भ्रमण पर निकले हैं। वे 11 अप्रैल को दर्यापुर से चले थे। चेयरमैन ने कहा कि हरियाणा की मण्डी डबवाली अनाज मण्डी का दौरा करने पर उन्होंने पाया कि यह मण्डी एक अच्छी मण्डी है। यहां किसानों के लिए विश्रामगृह बना हुआ है और किसानों को भाव भी अच्छा मिल रहा है। लेकिन फिर भी सरकार को चाहिए कि वह किसानों को अपनी जिनस का भाव उसी प्रकार तय करने का अवसर दे, जिस प्रकार से व्यापारी अपनी वस्तु का भाव तय करता है। उनके अनुसार उनकी खेती पूर्णतय: बरसात पर निर्भर है। सिंचाई का अन्य कोई साधन नहीं है। हालांकि बरसात अच्छी होने पर बीटी कॉटन, चना, मूंग अच्छी होती है। उन्होंने बताया कि देश की अन्य अनाज मण्डियों का दौरा करने का उनका उद्देश्य अपने क्षेत्र की अनाज मण्डियों को अधिक किसानोंन्मुखी बनाना है। देश की अन्य मण्डियों की सुविधाओं को वहां भी क्रियान्वित करवाना है। चेयरमैन के अनुसार उनका यह भ्रमण 11 अप्रैल से शुरू हुआ था। वे परतवाडा, इंदौर, उज्जैन, अजमेर, अमृतसर, जम्मू, पठानकोट, शिमला, चण्डीगढ़, कुरूक्षेत्र, दिल्ली, ग्वालियर, भोपाल से होते हुए वापिस 25 अप्रैल को दर्यापुर पहुंचेंगे।

कागजों में भाग्य ढूंढ रहे बीपीएल परिवार

प्रदर्शन कर, एसडीएम को सौंपा ज्ञापन
डबवाली (लहू की लौ) बीपीएल परिवारों ने अपनी मांगों को लेकर हरियाणा खेत मजदूर यूनियन सिरसा के अध्यक्ष कामरेड गणपत राम के नेतृत्व में शुक्रवार को एसडीएम कार्यालय के आगे धरना दिया। सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारियों ने अपनी मांगों के समर्थन में मुख्यमंत्री के नाम उपमण्डलाधीश को एक ज्ञापन भी सौंपा।
प्रदर्शनकारी खेमचंद, मंगल सैन, राज रानी, लाजवंती, सोमा देवी, चमेली देवी, मुन्नी देवी, पाल कौर, काली देवी, पुष्पा, दर्शना रानी आदि ने बताया कि वे मजदूरी करके अपना तथा अपने परिवार का पेट पालते हैं। करीब दो साल पूर्व खाद्य एवं आपूर्ति विभाग द्वारा उनके कार्डों पर बीपीएल कार्ड होने की मुहर लगाई गई थीं। लेकिन अभी तक उन्हें बीपीएल कार्ड होने का कोई लाभ नहीं मिल पा रहा। इतना ही नहीं वे कागज के इन पन्नों को राशन कार्ड के तौर पर भी प्रयोग करने में असमर्थ हैं। चूंकि सरकारी या प्राईवेट सैक्टर में भी कागज के इन पन्नों को राशन कार्ड नहीं समझा जाता। हरियाणा खेत मजदूर यूनियन सिरसा के अध्यक्ष कामरेड गणपत राम ने चेतावनी दी कि अगर बीपीएल परिवारों की समस्या का समाधान जल्द न किया गया तो खेत मजदूर यूनियन 1 मई से एसडीएम कार्यालय डबवाली के समक्ष भूख हड़ताल पर जाने को विवश होगी।
प्रदर्शनकारियों ने करीब चार घंटे तक एसडीएम कार्यालय के समक्ष धरना दिया और अपनी मांगों के समर्थन में प्रदेश सरकार के विरूद्ध नारेबाजी की। बाद में उपमण्डलाधीश डॉ. मुनीश नागपाल को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा। उपमण्डलाधीश डॉ. मुनीश नागपाल ने बताया कि ज्ञापन को आवश्यक कार्रवाई के लिए उच्च अधिकारियों के पास भेज दिया जाएगा।

पार्लर संचालिका से रेप

डबवाली (लहू की लौ) मलोट रोड़ पर ब्यूटी पार्लर का कार्य करने वाली एक महिला ने अपने पुराने सांझीदार पर नशीला कोल्ड ड्रिंक्स पिला कर बलात्कार करने का आरोप लगाया है।
मलोट रोड़, डबवाली में ब्यूटी पार्लर के नाम पर व्यवसाय करने वाली 35 वर्षीय महिला निवासी कालचराणी (बठिंडा) ने बताया कि वह पिछले दो वर्ष से ब्यूटी पार्लर और मनियारी की दुकान डबवाली में चला रही है। उसके साथ जगमालवाली के एक व्यक्ति पार्टनर था। लेकिन 11 अगस्त 2010 को उसने अपने पार्टनर को 90 हजार रूपये की राशि देकर उसके हिस्सेदारी खत्म कर दी।
वीरवार शाम को लगभग 7 बजे जब वह अपना ब्यूटी पार्लर बन्द करके घर जा रही थी तो उसका पुराना पार्टनर कार पर आया और उससे कहने लगा कि उससे कोई जरूरी बात करनी है और वह उसे कार में बैठा कर ले गया। जीटी रोड़ रेलवे फाटक बन्द होने के कारण वह उसे मालवा बाईपास की ओर से डबवाली के गोल चौक में ले आया और कार को एक साईड में लगा कर उसे कोल्ड ड्रिंक्स पिलाया। कोल्ड ड्रिंक्स पीते ही वह बेहोश हो गई। शुक्रवार सुबह जब उसकी जाग खुली तो उसने अपने आपको एक कमरे में नग्न अवस्था में पाया और देखा कि साथ में ही उसका पुराना पार्टनर नग्न अवस्था में सोया हुआ है।
महिला के अनुसार उसने कपड़े पहने और इसी दौरान उसका पुराना पार्टनर भी जाग पड़ा और वह उसे कार में डाल कर गोल चौक डबवाली में उतार गया। इसकी सूचना उसने अपने पति को दी और अपने पति के साथ वह थाना शहर डबवाली में पहुंची। लेकिन पुलिस ने यह कह कर कार्यवाही करने से इंकार कर दिया कि यह मामला पंजाब क्षेत्र का है। इस सन्दर्भ में मामले की जांच कर रहे एएसआई राजकुमार से पूछा गया तो उन्होंने बताया कि उनके पास शिकायत आई थी लेकिन मामला साथ लगते पंजाब क्षेत्र का होने के कारण महिला के ब्यान पर रपट लिख कर आवश्यक कार्यवाही के लिए किलियांवाली पुलिस को भेज दी गई है।

15 अप्रैल 2011

भाजपा महिला मोर्चा का जन जागरण अभियान शुरू


औढ़ां (जितेन्द्र गर्ग) भय, भ्रष्टाचार, महंगाई तथा महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराधों के विरोध में भारतीय जनता पार्टी महिला मोर्चा हरियाणा द्वारा जनचेतना यात्रा का शुभारंभ गुरुवार को कस्बा ओढ़ां से महिला मोर्चा की प्रदेशाध्यक्ष रेणु शर्मा द्वारा किया गया। ओढ़ां में जी.टी रोड पर स्थित श्रीहनुमान मंदिर में एक सभा को संबोधित करते हुए हरियाणा महिला मोर्चा की प्रदेशाध्यक्ष रेणु शर्मा ने कहा कि आज डॉ. भीमराव अंबेडकर जयंती व वैशाखी के अवसर पर भाजपा ने कांग्रेस की केंद्र व राज्य सरकार की दमनकारी, जनविरोधी एंव आम आदमी के लिये अहितकारी नीतियों के खिलाफ जनता को लामबंद करने के लिये भाजपा महिला मोर्चा ने पूरे देश में जन-जागरण अभियान चलाने का निर्णय लिया है।
उन्होंने कहा कि जनचेतना यात्रा के तहत वे प्रत्येक शहर व गांव में जाकर सरकार की दमनकारी नीतियों, घोटालों व महंगाई के विरूद्ध जनता को जागरूक करेंगे। उन्होंने कहा कि आज ऊपर से लेकर नीचे तक भ्रष्टाचार का बोलबाला है और राजनेता दोनों हाथों से देश को लुटने में लगे हुए हैं तथा कालाबाजारी, मिलावट व घोटालों का जोर है। किसान खाद व बीज के लिए, महिलाएं रसोई गैस के लिए और बीपीएल परिवार कैरोसीन तेल के लिए मारे मारे फिर रहे हैं लेकिन सरकार इन मुद्दों से दूर बड़े बड़े घोटालों जैसे टू-जी स्पैक्ट्रम, कॉमन वैल्थ, आदर्श हाउसिंग सोसाईटी, ईसरो घोटाला तथा भूमि अधिग्रहण के नाम पर चल रहे अरबों रुपए के खेल में लगी हुई है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार की गलत वित्तीय नीतियों के कारण प्रदेश पर करोड़ों रुपए का कर्ज चढ़ गया है और ब्याज की किश्त उतारने के लिए वर्तमान सरकार को कोई भी कर्ज देने को तैयार नहीं है।
उन्होंने आगे कहा कि यूपीए की अध्यक्षा सोनिया गांधी और प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के मंत्री तक व्यापक स्तर पर भ्रष्टाचार और घोटालों में शामिल पाए गए हैं जिस कारण देश की जनता का केंद्र सरकार से मोह भंग हो चुका है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री अटल बिहारी के नेतृत्व में भाजपा की सरकार के समय हर वर्ग के लोग खुश थे, सरकार ने महंगाई व भ्रष्टाचार पर अंकुश लगा रखा था और किसी भी मंत्री पर कोई ऊंगली नहीं उठी थी जबकि वर्तमान सरकार देश व प्रदेश को दोनों हाथों से लूटने में लगी हुई है। इस सभा को महिला मोर्चा की जिलाध्यक्ष किफायत यादव, महासचिव सरला शर्मा, भाजपा के जिलाध्यक्ष गुरदेव सिंह राही, उपाध्यक्ष बलदेव सिंह मांगेआना, जिला महासचिव सतीश जग्गा, एसडी कपूर, रामजी लाल भाटिया, डॉ. भीम शर्मा, सुरेश पंवार, दाताराम बसौड़, कृष्ण ग्रोवर और कर्मजीत सिंह आदि ने भी संबोधित किया।
इसके उपरांत जनचेतना यात्रा में शामिल नेता व कार्यकर्ताओं ने कांग्रेस सरकार के विरूद्ध नारे लगाते हुए जुलूस की शक्ल में प्रदर्शन किया और गांव की प्रमुख गलियों से होते हुए जनचेतना यात्रा बस स्टेंड पर पहुंची। जनचेतना यात्रा में भानूप्रताप सिंह, जसवंत सिंह कालूआना, सतपाल पिपली, प्रेम शर्मा ओढ़ां, मुखत्यार सिंह, पवन गर्ग, अमरनाथ गर्ग, पिरथी राम गर्ग, कृष्ण लाल शर्मा और जगदीश मायला सहित अनेक महिलाएं व पुरुष शामिल थे।

श्याम बाबा के भजनों पर झूम उठा शहर


डबवाली (लहू की लौ) 12वें श्री श्याम मंदिर स्थापना महोत्सव पर निकाली गई शोभा यात्रा पूरे नगर की परिक्रमा करने के बाद वापिस मंदिर में पहुंची। इस शोभा यात्रा में श्रद्धालुओं ने 71 ध्वजा उठाई हुई थीं। शोभा यात्रा के आगे भिवानी के नफीरी वादक श्याम बाबा का कीर्तन करते हुए चल रहे थे जबकि इसके साथ-साथ सुन्दर-सुन्दर झांकियां थीं।
श्री श्याम मंदिर से शुरू होकर यह यात्रा जीटी रोड़, मेन बाजार, कलोनी रोड़, चौटाला रोड़ से होती हुई वापिस मंदिर में पहुंची। इस शोभा यात्रा में चल रहे श्याम प्रभु की रथ यात्रा का जगह-जगह पुष्प वर्षा करके श्रद्धालुओं ने स्वागत किया। शोभा यात्रा में ध्वजा उठाये हुए 71 महिला-पुरूष का यह जत्था जब नगर में निकला तो पूरा नगर केसरियामय हो गया और श्याम बाबा के जयघोष से गूंज उठा। शोभा यात्रा में धूरी के कलाकारों द्वारा प्रस्तुत गणेश, श्याम बाबा, हनुमान, कृष्ण, शेषनाग, दुर्गा माता की झांकियां आकर्षण का केन्द्र बनी हुई थीं।
इस शोभा यात्रा में बठिंडा, मलोट, अबोहर, फाजिल्कां, सिरसा, भिवानी, फतेहाबाद से श्याम भक्तों ने भाग लिया। इस मौके पर पवन गोयल, बलवन्त तायल, ओंमकार गोयल, गोपाल मित्तल, आशीष मित्तल, बंटी गोयल, प्रकाश चन्द बांसल गंगा, कमल बांसल, बनवारी लाल रिनवा, गोवर्धन गोयल, रामसहाय शर्मा, विक्की बांसल मलोट, लक्ष्मी नारायण मित्तल, साहिल मित्तल, सुरेश मित्तल, लक्ष्मी नारायण मित्तल उपस्थित थे। मंदिर प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष पवन गोयल ने बताया कि 15 अप्रैल को मंदिर में बाबा का विशाल जागरण होगा। जिसमें बाबा का भव्य दरबार सजाया जाएगा।
इस मौके पर मुस्कान गोयल, मास्टर साहिल गोयल, प्रदीप अग्रवाल दिल्ली, बिमल दीक्षित अलीगढ़, बबली शर्मा बठिंडा बाबा का गुणगान करेंगे। इसके अतिरिक्त बाबा का अलौकिक श्रृंगार देखने योग्य होगा। 16 अप्रैल को सुबह 11 बजे विशाल भण्डारा आयोजित किया जाएगा।

बीज न मिलने पर किसान बिफरे, एसडीएम निवास के आगे बैठे


डबवाली (लहू की लौ) पिछले पांच दिनों से बीज के लिए  भटक रहे किसानों के सब्र का पैमाना छलक गया। गुस्साए किसान बुधवार सवेरे उपमण्डलाधीश की गैर मौजूदगी में उनकी कोठी के आगे बैठ गए। सूचना पाकर मौका पर प्रशासनिक अधिकारी पहुंचे। करीब एक घंटा तक अधिकारियों और किसानों में कशमकश होती रही। बीज मिलने का आश्वासन पाने के बाद ही किसान शांत हुए।
उपमण्डल डबवाली के किसानों को 7 अप्रैल से बीटी कॉटन के बीज मिलने आरंभ हुए हैं। कृषि विभाग द्वारा किसानों को बीज आईडी प्रूफ (राज्य का नागरिक होने पर) के  आधार पर दिए जाने के निर्देश दिए गए हैं। दिन निकलने से पहले ही किसान लाईन बनाकर बीज केंद्र पर जमा हो जाते हैं। बुधवार अल सुबह करीब दो बजे से ही अनाज मण्डी स्थित दुकान नं. 61 पर किसानों की लाईन लगनी शुरू हो गई थी। लेकिन बीज का वितरण आरंभ नहीं हुआ। पिछले पांच दिनों से हाथों में पर्चियां लेकर बीज पाने के लिए धक्के खा रहे किसानों का धैर्य जवाब दे गया। सुबह करीब 9 बजे सैंकड़ों किसान उपमण्डलाधीश डॉ. मुनीश नागपाल के निवास स्थान के आगे जुट गए। इसकी सूचना पाकर नायब तहसीलदार हरिओम बिश्नोई, उपमण्डल कृषि अधिकारी विजेन्द्र पाल, एडीओ राधेश्याम मौका पर पहुंचे। करीब एक घंटा तक किसानों और उपरोक्त अधिकारियों के बीच बहस होती रही। उपमण्डल कृषि अधिकारी द्वारा बीज उपलब्ध करवाने का आश्वासन मिलने के बाद ही गुस्साए किसान शांत हुए।
किसान अजमेर सिंह मसीतां, लखवीर सिंह सकताखेड़ा, गुरमीत सिंह डबवाली, जगतपाल सिंह रिसालियाखेड़ा, टोनी गिदडख़ेड़ा, साधु सिंह लोहगढ़, दविंद्र सिंह रत्ताखेड़ा, भजन लाल रत्ताखेड़ा, नानक चन्द गिदडख़ेड़ा, भाला राम रत्ताखेड़ा, हरनेक सिंह खुईयांमलकाना, गुरनाम सिंह खुईयांमलकाना ने बताया कि पांच दिन पूर्व उन्हें बीज देने के लिए कृषि विभाग द्वारा पर्चियां काटी गई थी। लेकिन इन पर्चियों को वे हाथ में लिए घूम रहे हैं। सोमवार को बीटी कॉटन का काफी स्टॉफ बीज केंद्रों पर पड़ा था। जबकि मंगलवार को रामनवमी की छुट्टी होने के चलते बीज का वितरण नहीं हुआ। लेकिन आज लाईन में खड़े होने के सात घंटे बाद उन्हें बताया गया कि स्टॉक उपलब्ध नहीं है। किसानों ने सवाल किया कि एक दिन की छुट्टी के बीच स्टॉक कहां गायब हो गया? किसानों के अनुसार मार्किट में बीज 1350 रूपए से लेकर 1800 रूपए तक ब्लैक में बेचा जा रहा है। अगर कंपनी से बीज नहीं आ रहा तो ब्लैक करने वाले लोग बीज कहां से जुटा रहे हैं? किसानों ने आरोप लगाया कि बीज के लिए उन्हें बेवजह परेशान किया जा रहा है।
इस संदर्भ में उपमण्डल कृषि अधिकारी विजेंद्र पाल ने बताया कि उपमण्डल के किसानों को 7 अप्रैल से बीटी कॉटन के बीज का वितरण शुरू हुआ है। किसानों का रूझान बीटी कॉटन की किस्म 6488, 6588 की ओर ज्यादा है। इन दोनों की किस्मों के अब तक 7500 पैकेट सेल किए जा चुके हैं। जबकि अन्य किस्म बंटी, राघव, लियोकोट, 6304, 6025, 6317, 7007, जयबीटी, मनजीत, ओम3, राशि-134 के भी 7500 पैकेट सेल किए जा चुके हैं। उन्होंने बताया कि 6488, 6588 की किस्मों का बीज कंपनी की ओर से नहीं आ रहा। शेष सभी किस्मों के करीब 10,000 पैकेट स्टॉक में पड़े हैं। बीज का कालाबाजारी रोकने के लिए बीज विक्रेताओं को रिकॉर्ड दुरूस्त रखने के निर्देश दिए गए हैं। साथ में पंजाब के किसानों को बीज उपलब्ध करवाने पर पाबंदी लगाई हुई है, ताकि राज्य के किसानों को बीज आसानी से मिल सके।  उपमण्डल कृषि अधिकारी के मुताबिक बीटी कॉटन बीज की सभी किस्में एक ही प्रकार की हैं। लेकिन किसान विशेषत: दो किस्मों पर जोर दे रहा है। जिसके चलते बीज वितरण में समस्या सामने आ रही है।

डबवाली से साजिश कर रही सरकार-अजय


सिरसा। इंडियन नैशनल लोकदल के राष्ट्रीय महासचिव एवं डबवाली के विधायक डा. अजय ङ्क्षसह चौटाला ने कांग्रेस सरकार पर तीखे आरोपों की बौछार करते हुए कांग्रेस को भ्रष्टाचार की जननी बताया। उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार के मामले में ए. राजा को बलि का बकरा बनाया गया जबकि इतना बड़ा घोटाला दस जनपथ से आए आदेशों के बिना संभव नहीं है। अजय चौटाला ने तो कांग्रेस की मुखिया सोनिया गांधी के दामाद पर हरियाणा में जमीन खरीद के मामले घोटालों में संलिप्त बताया।
चौटाला जननायक चौधरी देवीलाल विद्यापीठ में पत्रकारों से बातचीत करते हुए अजय चौटाला ने कहा कि भ्रष्टाचार जैसे संवदेनशील मुद्दे को लेकर दो माह तक संसद में विपक्ष ने आवाज बुलंद की। लम्बे समय तक संसद की कार्रवाई ठप्प रही लेकिन कांग्रेस इस मसले पर चुप्पी साधे रही। अब अचानक महज पांच दिन में भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने की बात कर रही है। ऐसे में कांग्रेस पर संशय होना लाजिमी है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री को ईमानदार व्यक्ति की संज्ञा देना मूर्खतापूर्ण है। प्रधानमंत्री की चाहत के बिना कोई भी व्यक्ति या एजैंसी भ्रष्टाचार में संलिप्त नहीं हो सकती। अगर प्रधानमंत्री के रहते हुए देश में अब तक के सबसे बड़े घोटाले हुए है तो उससे जाहिर होता है कि प्रधानमंत्री ने सब कुछ जानते हुए इसे नजरांदाज किया या फिर इसमें उनकी भागीदारी रही।
उन्होंने कहा कि आज पूरे देश की जनता चाहती है कि विदेशों में जमा काले धन की सूची सामने आए। पर इस मसले पर देश के वित्त मंत्री बेतुका एवं तर्कहीन बयान देते हैं कि यह सूची उजागर नहीं की जा सकती कानून आड़े आते है। अजय चौटाला ने कहा कि कानून देश और जनता से बड़ा नहीं हो सकता। पहले भी कानूनों में संशोधन होता रहा है और इस मसले पर भी संशोधन किया जा सकता है। अजय चौटाला ने कहा कि जननायक चौधरी देवीलाल ने तो बहुत समय पहले भ्रष्टाचार बंद, बिजली-पानी का प्रबंध नारा देते हुए भ्रष्टाचार पर लगाम लगाने की वकालत की थी। साथ ही देवीलाल ने सबसे पहले कर्जमाफी की योजना की वकालत की और वृद्धावस्था पैंशन को लागू किया।
उस समय स्वार्थी किस्म के राजनेताओं ने देवीलाल के इस कदम की आलोचना की थी जबकि आज देवीलाल की ही नीतियों का न केवल अनुसरण किया जा रहा है बल्कि उन नीतियों को आगे बढ़ाने का काम किया जा रहा है। एक प्रश्र के जवाब में अजय चौटाला ने कहा कि इनैलो ने हमेशा जनता के हितों की आवाज को बुलंद किया है। उन्होंने तो बकायदा विधानसभा में इस बात का जिक्र किया कि एक-दूसरे पर आरोप लगाने के बहुत से मंच हैं, लेकिन विधानसभा पटल को ऐसा मंच न बनाया जाए। अजय चौटाला ने कहा कि वह चाहते हैं कि विधानसभा में जनहित से संबंधित योजनाओं पर, उनके क्रियान्वयन पर एवं अन्य संवेदनशील मुद्दों पर मंथन हो। उन्होंने कांग्रेस सरकार पर भेदभाव का भी आरोप लगाया।
उन्होंने कहा कि जानबूझ कर एवं एक साजिश के तहत उनके हलके डबवाली की अनदेखी हो रही है। तीन मर्तबा विधानसभा में डबवाली-संगरिया रोड बाबत प्रश्र पूछा गया एक ही आश्वास मिला कि सड़क के निर्माण के लिए बजट पास हो गया है। अजय चौटाला ने अचम्भा जताया कि इतने लम्बे अरसे बाद सड़क निर्माण के लिए 25 करोड़ आए और अब वे किसी दूसरी परियोजना में समायोजित कर दिए गए हैं। इससे जाहिर होता है कि सरकार निश्चित रूप से सिरसा के साथ सौतला व्यवहार कर रही है।

खड़ी इनोवा को लगी आग


डबवाली (लहू की लौ) वार्ड नं. 11 की भगवान दास ठेकेदार वाली गली में खड़ी एक इनोवा गाड़ी को शरारती तत्व ने आग लगा दी। घटना सोमवार रात करीब 12 बजे की बताई जाती है। घटना स्थल का मुआयना करने के बाद पुलिस ने मामले की जांच आरंभ कर दी है।
विनरो कंस्ट्रक्शन प्रा. लि. कंपनी, दिल्ली ने जिला बठिंडा के गांव फुल्लोखारी के निकट स्थापित हो रही गुरू गोविंद सिंह रिफाईनरी में निर्माण कार्यों का ठेका लिया हुआ है। इन निर्माण कार्यों पर कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर रोहित गोयल निवासी सोनीपत नजर रखे हुए हैं। रोहित गोयल (24) निवासी सोनीपत ने बताया कि कंपनी के चल रहे कार्य के दृष्टिगत डबवाली के वार्ड नं. 11 की भगवान दास ठेकेदार वाली गली में एक मकान किराए पर लिया हुआ है। इसी गली में उसके मामा धर्मपाल (40) का भी घर है। सोमवार शाम करीब 7 बजे रिफाईनरी से काम निबटाने के बाद उसने अपनी इनोवा गाड़ी को अपने मामा के घर के बाहर खड़ा कर दिया था। रात्रि करीब 12 बजे उसके मामा के मकान में रह रहे किराएदार सुनील सेठी ने गली में से धुआं उठते देखा। उसने तत्काल इसकी जानकारी मकान मालिक धर्मपाल को दी। दोनों गली में आए, तो देखा कि इनोवा को आग लगी हुई है। सूचना पाकर वह भी मौका पर पहुंचा। इसकी सूचना तत्काल फायर ब्रिगेड को दी गई। मौका पर पहुंची फायर ब्रिगेड ने आग पर काबू पाया। रोहित के मुताबिक किसी शरारती तत्व ने गाड़ी को आग लगाई है। जिससे उसका करीब छह लाख रूपए का नुक्सान हुआ है।
घटना की जानकारी पाकर थाना शहर पुलिस के एएसआई रामचन्द्र ने घटना स्थल का निरीक्षण किया। जांच अधिकारी एएसआई रामचन्द्र ने बताया कि गाड़ी को आग लगाई गई लगती है। गाड़ी के पास से नशे में प्रयुक्त होने वाली कफ सिरप की शीशियां मिली हैं। फिलहाल मामले की जांच की जा रही है।

फिर भी उपेक्षा


सैन्य दृष्टि से महत्वपूर्ण, मॉडर्न रेलवे स्टेशन, मुख्य मार्ग पर स्थित
डबवाली (लहू की लौ) जम्मू से अहमदाबाद तक जाने वाले रेलमार्ग के बीच पडऩे वाला डबवाली रेलवे स्टेशन वर्षों से कई समस्याओं से जूझ रहा है। हालांकि इसे दो साल पूर्व मॉडर्न रेलवे स्टेशन का दर्जा भी मिला। फिर भी सुविधाओं से वंचित है। हालांकि सैन्य दृष्टि से भी इस रेलवे स्टेशन का महत्व बड़ा है। इसके नजदीक ही फाजिल्का (पंजाब), श्री रायसिंह नगर (राजस्थान) आदि का पाक बॉडर भी पड़ता है। एशिया की सबसे बड़ी मिल्ट्री की बठिंडा छावनी इसके नजदीक है। सिरसा का एयर फोर्स स्टेशन भी मात्र 60 किलोमीटर की दूरी पर है।
डबवाली का मॉडर्न रेलवे स्टेशन अच्छे पेयजल और सफाई जैसी प्राथमिक सुविधाओं से भी वंचित है। रेलवे स्टेशन, रेलवे कलोनी में सफाई नाम की कोई चीज नहीं है। कारण स्पष्ट है कि सफाई कर्मचारी ही नहीं है। दो सफाई कर्मचारी थे जिन्हें सरप्लस कह कर यहां से स्थानांतरित कर दिया गया। अब रेलवे लाईन तो गंदी रहती ही है और साथ में शौचालय भी नहीं खुलते। सफाई के आभाव में गंदगी के अम्बार लगे हैं।
पेयजल जमीन से आता है जिसमें शोरा की मात्रा ज्यादा है और स्वास्थ्य की दृष्टि से यह पानी पीने के योग्य नहीं है फिर भी रेलवे स्टेशन पर यात्री और क्वाटरों में रेलवे कर्मचारी इस पानी को पीने का मजबूर हैं। रेलवे स्टेशन पर यात्रियों के लिए बने शैड बरसात में टपकते हैं। यात्री बरसात में शरण लें तो कहा? रेलवे स्टेशन प्लेटफार्म से नीचा है और बरसात का पानी सीधे ही रेलवे स्टेशन पर बने कमरों में घुस जाता है।
हालांकि रेलवे स्टेशन पर तीने लाईनें हैं लेकिन प्लेटफार्म एक ही पर बना है। दूसरी लाईनों के बीच प्लेटफार्म न होने से गाडिय़ों के क्रॉस के समय यात्रियों का जीवन भी सुरिक्षत नहीं है। दूसरे रेलवे प्लेटफार्म बनाने के लिए कई बार रेलवे अधिकारी कह चुके हैं। लेकिन माप के बाद यह फिर अधर में लटक जाता है। हाल ही में जनवरी 2011 में भी दो लाईनो के बीच प्लेट फार्म बनाने के लिए माप लिया गया। अब यह किस स्तर पर है इस संबंध में रेलवे अधिकारी मुंह खोलने को तैयार नहीं है। रेलवे स्टेशन के दोनो ओर बनी हुई रोड़ इन दिनों खस्ताहाल में है और जगह-जगह से खड्डों में तबदील हो चुकी है लेकिन इस ओर रेलवे कोई ध्यान नहीं दे रही। जब स्पैशल मालगाड़ी की भराई होती है तो मजदूरों का भारी दिक्कत का सामना करना पड़ता है। इसका कारण माल भराई के लिए उचित माल प्लेटफार्म का न होना है।
इस संदर्भ में रेलवे स्टेशन अधीक्षक महेश कुमार सरीन से पूछा गया तो उन्होंने उपरोक्त बाते सही बताई और साथ में कहा कि इस संबंध में कई बार रेल अधिकारियों का ध्यान आकर्षित करवाया जा चुका है। इस संबंध में पग तो अधिकारियों ने ही उठाने हैं।

नशे की हालत में गुरूद्वारा में घुसा, मामला दर्ज


डबवाली (लहू की लौ) शराब के नशे में धुत्त होकर एक युवक दीवार फांदकर गुरूद्वारा में जा घुसा। गुरूद्वारा के ग्रंथी तथा ग्रामीणों ने युवक को पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया। घटना गांव मौजगढ़ में सोमवार रात करीब 1.30 बजे घटित हुई।
गांव के गुरूद्वारा साहिब में दो दिन पूर्व कोई अज्ञात व्यक्ति घुस आया था। इस व्यक्ति ने मुख्य गेट का ताला तोड़कर गुरूद्वारा में प्रवेश किया। बाद में दरबार साहिब का ताला तोड़कर गोलक तक जा पहुंचा। अज्ञात व्यक्ति गोलक का एक ताला तोडऩे में भी कामयाब हो गया। इसके बावजूद वह चोरी की वारदात को अंजाम नहीं दे सका। गुरूद्वारा में इस प्रकार की घटना से प्रबंधक कमेटी गंभीर थी। कमेटी सदस्यों ने उक्त व्यक्ति गुरूद्वारा के ग्रंथी को निगाह रखने के लिए कहा।
दो दिन से ग्रंथी नत्था सिंह गुरूद्वारा में होने वाली किसी भी हलचल पर नजर बनाए हुए थे। गुरूद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष गुरमीत सिंह (50) निवासी मौजगढ़ ने बताया कि सोमवार रात करीब 1.30 बजे एक युवक दीवार फांदकर गुरूद्वारा में घुस आया और दरबार साहिब की ओर बढऩे लगा। अचानक ग्रंथी नत्था सिंह की आंख खुल गई। नत्था सिंह ने दरबार साहिब की ओर देखा तो एक युवक आगे बढ़ रहा था। युवक को देखकर उसने शोर मचा दिया। बाद में हिम्मत जुटाते हुए युवक को दबोच लिया। युवक नशे में था। सूचना पाकर वह भी मौके पर पहुंचा। गुरूद्वारा में चोर घुसने की सूचना पाकर काफी संख्या में ग्रामीण मौका पर जमा हो गए। ग्रामीणों के समक्ष युवक ने अपनी पहचान बलवंत उर्फ बंटी (22) निवासी मौजगढ़ के रूप में करवाई। आरोपी को सूचना पाकर मौका पर पहुंची पुलिस के हवाले कर दिया गया।
मामले की जांच कर रहे थाना सदर के एसआई सीता राम ने बताया कि गुरूद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष गुरमीत सिंह निवासी मौजगढ़ के ब्यान पर शराब के नशे में धुत्त होकर बदनियति से गुरूद्वारा में घुसने के आरोप में पुलिस ने बलवंत उर्फ बंटी (22) निवासी मौजगढ़ के खिलाफ मामला दर्ज करके आगामी कार्रवाई शुरू कर दी है।
इधर बंटी (22) निवासी मौजगढ़ ने बताया कि सोमवार रात को उसने गांव के टिल्लू, कश्मीरी, बलवीरा के साथ बैठकर शराब पी थी। उसके बाद वह गुरूद्वारा में कैसे पहुंचा, उसे मालूम नहीं।

मोल में पानी लेकर पी रहे हैं गांव बिज्जूवाली के ग्रामीण


बिज्जूवाली (हेमराज बिरट) गांव बिज्जूवाली के जलघर में जलापूर्ति विभाग के कर्मचारियों द्वारा अपनी ड्यूटी पर सही ढंग से नहीं आने व वाटर सप्लाई न छोडऩे के कारण ग्रामीणों ने उच्चाधिकारियों को अवगत करवाते हुए कहा कि अगर जल्द ही उनकी समस्या का सामाधान न हुआ तो वे इस जलघर को ताला लगा देगें। ग्रामीणों ने बताया कि जलघर में मुन्नांवाली निवासी हरबंस व गंगा निवासी भजनलाल दो कर्मचारी कार्यरत है, लेकिन उच्चाधिकारियों की फटकार के बाद भी वह अपनी ड्यूटी पर सही नहीं आ रहे हैं और उनको पानी के लिए दर-दर की ठोकरें खानी पड़ती है व पीने का पानी मोल लेकर पीना पड़ रहा है। जलघर में तैनात कर्मचारी दिन में थोड़ी देर के लिए महज खानापूर्ति के लिए आता है, उस समय लाईट न होने का बहाना बनाकर अपना पल्ला झाड़ लेते हैं और ग्रामीणों को पीने का पानी नहीं मिलता। उन्होंने बताया उक्त कर्मचारी ने एक व्यक्ति को निजी तौर पर जलघर में रख रखा है, लेकिन वो अकेला इतने बड़े गांव को पानी की सप्लाई कैसे पहुंचा सकता है व ग्रामीणों ने उच्चाधिकारियों से मांग की है कि जो कर्मचारी ड्यूटी पर नहीं आते हैं उनके खिलाफ कार्यवाही की जाए। उन्होंने कई बार संबंधित विभाग के अधिकारियों को जलघर के बारे में लिखित व मौखिक रूप में अवगत करवाया हैं, लेकिन विभागीय कर्मचारी जल्द ही समस्या का समाधान करवाने की बात कहकर ग्रामीणों की समस्या को रफा-दफा कर देते हैं। वहीं ग्रामीणों ने बताया कि बार-बार शिकायत करने के बाद भी अधिकारी कोई न कोई बहाना बना रहे हैं।
इस बारे में सरपंच राजाराम बिरट से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि उच्च अधिकारियों को इस बारे में अवगत करवा कर दोषी पाए जाने वाले कर्मचारियों के खिलाफ कार्यवाही करवाई जाएगी। जेई सुभाष चन्द्र से बात की गई तो उन्होंने कहा कि कर्मचारी गांव में ही होंगे, आ जाएंगे। ग्रामीणों को पेयजल संबंधी दिक्कत नहीं आने दी जाएगी।

सरकार के विरूद्ध धरने पर बैठे इनेलो कार्यकर्ता


डबवाली। प्रदेश में शहरी व कृषि भूमि के कलेक्टर रेटों में की गई वृद्धि व हाऊस टैक्स लगाने के प्रस्ताव का विरोध करते हुए डबवाली में इनेलो के हजारों कार्यकर्ताओं ने सोमवार को तहसील कार्यालय में धरना दिया।
धरने का नेतृत्व जिला परिषद के चेयरमैन डॉ. सीता राम ने किया। धरने पर बैठे कार्यकर्ता हरियाणा सरकार मुर्दाबाद, कलैक्टर रेट वापिस लो के नारे लगाते रहे। इस मौके पर जिला परिषद चेयरमैन डॉ. सीता राम व नगर सुधार मंडल के पूर्व चेयरमैन रणवीर सिंह राणा ने कहा कि हरियाणा सरकार ने अफसरों की अनुशंसा से कलेक्टर रेटों में अनापशनाप वृद्धि कर दी है। उन्होंने कहा कि कलेक्टर रेट निर्धारित करने के लिए पब्लिक की सलाह जरूरी है, जबकि राज्य में ऐसा नहीं हो रहा। उन्होंने कहा कि इनेलो इसका विरोधी करती है और इसके खिलाफ आंदोलन जारी रहेगा। जिला परिषद के पूर्व चेयरमैन राधेराम गोदारा ने कहा कि वर्तमान सरकार किसानों की अनदेखी कर रही है। उन्होंने गेहूं का समर्थन मूल्य 1500 रूपए प्रति किवंटल करने की मांग की। नगर पार्षद टेकचंद छाबड़ा ने कहा कि प्रदेश में हाऊस टैक्स लगाना बिल्कुल गलत है और इसका डटकर विरोध किया जाएगा।  इनेलो कार्यकर्ताओं ने इस मामले को लेकर राज्यपाल के नाम एक ज्ञापन भी प्रशासन के माध्यम से भेजा। इनेलो के इस रोष प्रदर्शन में जगरूप सिंह, संदीप सिंह सन्नी गंगा, सर्वजीत सिंह मसीतां, महेंद्र डूडी, कुलदीप गोदारा,  प्रहलाद, दर्शन मोंगा, नरेंद्र सिंह बराड़, कुलदीप जम्मू, नरेश मित्तल, हरबिलास निरंकारी, राजेश जुनेजा बिल्लू, लवली मैहता, सतपाल लोहगढिय़ा, रूकमा सिहाग, पुष्पा दैड़ान, राजा पेंटर, मूर्ति देवी, बिमला देवी, अवतार सिंह मलहान, रामस्वरूप, महावीर सहारण, सज्जन भांभू, गिरधारी बिस्सू, मोहन सहू, काला जापानी, गुरचरण सिंह, सुखविंद्र सरां, काका मोंगा, राजेश कुमार, सरदारी लाल, बख्शी तनेजा, हंसराज सचदेवा, केके सेठी, भजन लाल, राजकुमार, जगदेव सिंह, सतपाल सिंह लोहगढिय़ा, सुखविंद्र सिंह सरां, अमरनाथ बागड़ी व कई अन्य कार्यकर्ता उपस्थित थे।

वध के लिए लेजाए जा रहे थे पशु, 26 पर मामला दर्ज


डबवाली (लहू की लौ) गौशाला डबवाली की गोरक्षा सेवा समिति के सदस्यों ने रविवार रात को गौ वध के लिए ले जाए जा रहे पशुओं से भरे 7 कैंटरों को कब्जे में लेकर उन्हें पुलिस के सुपुर्द कर दिया। थाना शहर पुलिस ने पशु क्रूरता अधिनियम 11/59/1960  के तहत 26 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। सात कैंटरों में ठूंस-ठूंस कर भरे 80 गाय और 37 बछड़े मुक्त करवाकर गौशाला को सौंप दिए गए।
गौशाला डबवाली की गोरक्षा सेवा समिति के सदस्यों को मुखबरी मिली कि कुछ लोग कैंटरों में गायों व बछडों को भरकर पंजाब की ओर से आ रहे हैं। इन कैंटरों में पशुओं को ठूंस-ठूंस कर भर रखा है। ये सभी कैंटर डबवाली से होकर गुजरेंगे। समिति के प्रवक्ता संदीप बिश्नोई ने बताया कि सूचना पाकर समिति सदस्य सुरेश, योगित बिश्नोई, चरणजीत सिंह दंदीवाल, विष्णु, उमेद सिंह, सोनू, ओमप्रकाश आदि ने गौशाला प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष जवाहर लाल कामरा के नेतृत्व में बठिंडा चौक पर नाकाबंदी कर दी। इधर इसकी सूचना थाना शहर पुलिस को भी दी गई। मौका पर पुलिस भी पहुंच गई। इसी दौरान गायों व बछडों से भरे सात कैंटर आए। इन कैंटरों में गाय और बछड़ों को ठूंस-ठूंस कर भर रखा था। कैंटर के टूल बॉक्स तथा सीट के नीचे बछड़ों को बुरी तरह से डाला हुआ था। सीट के नीचे बछड़ों को डालकर कुछ लोग ऊपर बैठे हुए थे। थाना शहर प्रभारी बलवंत जस्सू ने बताया कि सातों कैंटरों को कब्जे में लेकर कैंटरों में भरी हुई 80 गाय व 37 बछड़ों को डबवाली की गौशाला में भेज दिया गया। पुलिस ने मौके से 26 आरोपियों को काबू किया। गौशाला प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष जवाहर कामरा के ब्यान पर आरोपियों के खिलाफ पशु क्रूरता अधिनियम 11/59/1960 के तहत मामला दर्ज किया गया है। आरोपियों ने अपनी पहचान गांव कंसाली (मेवात) निवासी हमीद खान पुत्र बशीर खान, दीनदार पुत्र जुम्मा खान, रसीद खान पुत्र नूर मोहम्मद, अब्बास खान पुत्र बशीर खान, इस्लाम पुत्र रफी खान, अहमद खान पुत्र हमीद खान, अकबर खान पुत्र कमाल, मजीद खान पुत्र नूर मोहम्मद, मौसम पुत्र रमजान, हबीब खान पुत्र अब्दुलखान, इरफान पुत्र सिराज खान, शाहिद खान पुत्र साहबदीन, बावदीन पुत्र कुल्लू, शब्बीर पुत्र रमजान, अली पुत्र घुना, मुवीन पुत्र असरूखान, गांव घासेड़ा (मेवात) निवासी तसलीम पुत्र नूर मोहम्मद, फतेह खान पुत्र मुंशी खान, हरूप पुत्र मुस्सा खान, कासम पुत्र ईशरखान, अनीश पुत्र कायश, मुनस पुत्र अमर मोहम्मद, फरीदाबाद निवासी सतीश पुत्र हरी सिंह, राकेश पुत्र हेतराम, अनीस पुत्र नन्हें खान, ईदरीस पुत्र मत्तू खान के रूप में करवाई है।
थाना प्रभारी ने बताया कि आरोपियों ने उक्त पशु साथ लगते राज्य पंजाब के जिला श्री मुक्तसर साहिब की किलियांवाली मण्डी में भरने वाले पशु मेले से खरीदे थे।

दूसरी के लिए पत्नी को राजस्थान कैनाल में फेंका


डबवाली (लहू की लौ) राजस्थान कैनाल के लोहगढ़ हैड से शनिवार देर शाम को चौटाला पुलिस को एक महिला का शव बरामद हुआ है। मृतका की पहचान जसवंत कौर (40) पत्नी शेर सिंह निवासी गांव मसीतां थाना कोट ईसे खां जिला मोगा के रूप में हुई है।
पति ने की थी हत्या
चौटाला पुलिस चौकी के इंचार्ज एसआई जीत सिंह ने बताया कि 27 मार्च 2011 को गांव मसीतां थाना कोट ईसे खां जिला मोगा (पंजाब) ने अपनी पत्नी जसवंत कौर की गांव पधरी थाना मक्खू जिला फिरोजपुर के निकट राजस्थान कैनाल में फेंककर हत्या कर दी थी। उस दिन से जसवंत कौर के परिजन नहर में से शव की तालाश कर रहे थे। शनिवार को जसंवत कौर के शव को खोजते-खोजते वे लोग लोहगढ़ हैड पर पहुंचे। मृतका के जीजा रतन सिंह (72) पुत्र बूटा सिंह निवासी अमृतसर की नजर नहर में तैरते एक शव पर पड़ी। शव को बाहर निकाला गया। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर उसे पोस्टमार्टम के लिए गली-सड़ी अवस्था में डबवाली के सरकारी अस्पताल में पहुंचाया। लेकिन डॉक्टर ने शव की हालत को देखते हुए उसे रोहतक रैफर कर दिया।
14 दिन पहले फेंका था नहर में
जसवंत कौर का शव मिलने की सूचना पाकर थाना मक्खू जिला फिरोजपुर से एएसआई गुरनेक सिंह तथा हवलदार कुलवंत सिंह रविवार को डबवाली पहुंचे। एएसआई गुरनेक सिंह ने बताया कि 27 मार्च 2011 को गांव मसीतां थाना कोट ईसे खां का रहने वाला शेर सिंह (42) अपनी पत्नी जसवंत कौर को अपनी बाईक पर बैठाकर गांव पधरी थाना मक्खू के निकट राजस्थान नहर के पुल पर ले आया और वहां उससे गाली-गलौज करने लगा। नहर में फेंकने की कोशिश शुरू कर दी। महिला ने शोर मचाना शुरू कर दिया और मदद की गुहार लगानी शुरू कर दी। महिला का शोर सुनकर पुल की निगरानी कर रहे पंजाब आम्र्ड पुलिस के जवान तजिंद्र सिंह ने इसकी सूचना तुरंत रेलवे ब्रिज गार्द के इंचार्ज एसआई सतनाम सिंह को दी।
हत्या का मामला दर्ज
एएसआई के मुताबिक इंचार्ज ने अपने अधिनस्थ कर्मचारियों को साथ लेकर उपरोक्त व्यक्ति को महिला को नहर में न फेंकने की आवाज लगाई। लेकिन उसने महिला को नहर में फेंकने के बाद भागने का प्रयास किया। जिसका पीछा करते हुए कर्मचारियों ने दबोच लिया। पकड़े गए व्यक्ति ने अपनी पहचान शेर सिंह निवासी मसीतां  थाना कोट ईसे खां के रूप में करवाई। थाना मक्खू पुलिस ने एसआई सतनाम सिंह के ब्यान पर आरोपी के खिलाफ दफा 302 आईपीसी के तहत मामला दर्ज करके मृतका के शव की तालाश शुरू कर दी।
यह कहते हैं मृतका के जीजा
मृतका जसवंत कौर के जीजा रतन सिंह (72) पुत्र बूटा सिंह निवासी अमृतसर रिटायर्ड चीफ इंस्पेक्टर पंजाब रोड़वेज ने बताया कि उसकी साली जसवंत कौर की शादी साल 1994 में शेर सिंह  निवासी गांव मसीतां थाना कोट ईसे खां के साथ हुई थी। शादी के इतने साल बाद भी दोनों के संतान नहीं हुई। संतान न होने के कारण दोनों पति-पत्नी में तकरार रहने लगी। कुछ समय पूर्व शेर सिंह ने दूसरी महिला रख ली। पांच माह पूर्व जसवंत कौर को इस बात का पता चला और उसने एतराज भी किया। इस पर शेर सिंह ने उससे मारपीट की। रतन सिंह के अनुसार 26 मार्च की रात को सभी हदें पार करते हुए वह दूसरी महिला को अपने घर ले आया। इस बात को लेकर पति-पत्नी में काफी झगड़ा हुआ। 27 मार्च की सुबह जसवंत कौर को दवाई दिलाने का बहाना बनाकर उसे गांव पधरी के पास राजस्थान कैनाल पर ले गया। वहां शेर सिंह ने जसवंत कौर को नहर में फेंक दिया। शनिवार को मृतका के शव को ढूंढता हुआ वह लोहगढ़ हैड पर पहुंचा यहां उसे जसवंत कौर का शव दिखाई दिया।

हलके के लोगों की समस्याएं मेरी अपनी समस्याएं-चौटाला


डबवाली 8 अप्रैल। हलके के लोगों की समस्याएं मेरी अपनी समस्याएं हैं और इन समस्याओं को हल करवाने के लिए हलके के लोगों के लिए मैं हमेशा तत्पर हूं। यह बात इनेलो के प्रधान महासचिव डा. अजय सिंह चौटाला ने कही। वे वीरवार देर सायं यहां के सुंदर नगर में वार्ड 7 वासियों द्वारा आयोजित सम्मान समारोह में बोल रहे थे। यहां पहुंचने पर डा. अजय सिंह चौटाला का भव्य स्वागत किया।
इनेलो महासचिव ने कहा कि डबवाली हलके के साथ हुड्डा सरकार पूरा भेदभाव कर रही है। सड़केे  टूटी हुई हैं और बिजली पानी की व्यवस्था पूरी तरह से चरमरा गई है। लोग आधारभूत जरूरतों के लिए तरस रहे हैं। उन्होंने कहा कि यहां की समस्याएं हल करवाने के लिए वे कटिबद्ध हैं और जब तक उनकी समस्याएं नहीं होंगी, तब तक वे जनता के लिए लड़ते रहेंगे। उन्होंने कहा कि डबवाली की इन समस्याओं को उन्होंने विधानसभा में बार-बार उठाया है और परन्तु सरकार टालमटोल कर रही है।
उन्होंने कहा कि यहां के रेलवे ओवर ब्रिज की मांग को भी रेलवे मंत्री ममता बेनर्जी के समक्ष रखा है और जल्द ही इस मांग को पूरा करवाएंगे।
इनेलो नेता ने कहा कि हुड्डा सरकार पूरी तरह से किसान व गरीब विरोधी है। बिजाई के सीजन में किसानों को बीटी कॉटन का बीज नहीं मिल रहा है और इसकी जमकर कालाबाजारी की जा रही है। उन्होंने कहा कि यह सब सरकार की शह पर हो रहा है। उन्होंने कहा कि हाल ही में हुड्डा ने कहा था कि उनकी सरकार किसान हितैषी है। उन्होंने कहा कि किसानों के लिए बुआई के लिए बीज न मिलने ने एक बार फिर हुड्डा सरकार का किसान विरोधी चेहरा उजागर कर दिया है।
उन्होंने हुड्डा सरकार द्वारा सर्कल व कलेक्टर रेटों में की गई बढ़ौतरी की कड़े शब्दों में निंदा की। उन्होंने कहा कि इस फैसले से प्रदेश की जनता में भारी रोष है और इस 11 अप्रैल को इनेलो के बैनर तले होने वाले धरनों के माध्यम से सरकार के प्रति जनता अपनी नाराजगी व्यक्त करेगी। उन्होंने कार्यक्रताओं से आह्वान किया कि वे इन प्रदर्शनों में बढ़-चढ़ कर भाग लें और हुड्डा सरकार के इस जनविरोधी निर्णयों को वापस लेने के लिए मजबूर करें। उन्होंने जीटी रोड से शिव नारायण के घर तक गली को आरसीसी पक्की करवाने की घोषणा की। इससे पहले उन्होंने श्री वैष्णों माता मंदिर के मूर्ति स्थापना दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित विशाल भगवती जागरण में ज्योति प्रज्जवलित करते हुए पूजा अर्चना में भाग लिया।
इस अवसर पर मंदिर प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष विनोद सिंगला, जीडी जिंदल, राजकुमार सिंगला, रतन लाल सिंगला, प्रशोत्तम जिंदल, तेलू राम बांसल, प्रीतम बांसल, हेमराज जिंदल, सतपाल जिंदल, डॉ. जिम्मी जिन्दल, पार्टी पदाधिकारी डॉ. सीताराम, राधेराम गोदारा, रणवीर राणा, जगरूप सिंह, मनिन्द्रपाल मीनू बराड़, महेन्द्र डूडी, प्रहलाद राय, लवली मैहता, अजनीश धारनियां, सर्वजीत मसीतां, संदीप सिंह सन्नी गंगा, महावीर बागड़ी, दर्शन मोंगा, केशो राम गुप्ता, जगदीश अरोड़ा, अनिल जिंदल, सुरेन्द्र छिन्दा, नसीब गार्गी, हरबंस भीटीवाला, मदन गुप्ता, सुभाष गुप्ता, राजकुमार नरूला, कौर सिंह, हरीकृष्ण, इकबाल सिंह, गुरदास सिंह, हंसराज, अमृतपाल आदि उपस्थित थे।

चौकीदार को कमरे में बंद करके दिया वारदात को अंजाम


डबवाली (लहू की लौ) जिला बठिंडा के गांव नरसिंह कलोनी में स्थित एक आरा के चौकीदार को कमरे में बंद करके अज्ञात चोर मोबाइल सैट और नकदी चुरा ले गए। थाना संगत पुलिस ने मामले की जांच आरंभ कर दी है।
नरसिंह कलोनी में स्थित बलराज सा मिल (आरा) की दीवार फांदकर गुरूवार देर रात करीब एक बजे आरा में तीन चोर घुस आए। आते ही चोरों ने चौकीदार रामजी दास (50) के कमरे में प्रवेश किया और उसके सिरहाने रखे दोनों मोबाइल उठा लिए। बाहर आकर कमरे का कुंडा लगा दिया। बाद में चोरों ने आरा के ऑफिस का ताला तोड़ दिया। शोर सुनकर रामजी दास की आंख खुल गई। गेट बंद होने के कारण खिड़की से देखा कि तीन जनें ऑफिस में प्रवेश कर रहे हैं। उसने काफी शोर मचाया। बाद में किसी तरह खिड़की तोड़कर बाहर निकला। लेकिन तब तक चोर अपना काम निबटाकर निकल चुके थे। उसने तत्काल इसकी सूचना पास ही स्थित एक आरा में रह रहे विनोद, शंकर, भूपिंद्र को दी। उक्त सभी लोग मौका पर पहुंचे। सूचना मिलने पर आरा मालिक प्रिंस जुनेजा भी मौका पर पहुंचे।
प्रिंस जुनेजा (34) पुत्र बलराज सिंह निवासी डबवाली ने बताया कि अज्ञात चोर अपने साथ दो मोबाइल सैट, गल्ला तोड़कर करीब पांच सौ रूपए की रेजगारी चुरा ले गए। उन्होंने इसकी सूचना पुलिस को दे दी है।
थाना संगत पुलिस के एएसआई सबेग सिंह ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है। आरोपी जल्द सलाखों के पीछे होंगे।

टेलीकॉम से लाखों के मोबाइल सैट चोरी



डबवाली (लहू की लौ) चौटाला रोड़ पर स्थित एक टेलीकॉम शॉप के ताले तोड़कर अज्ञात व्यक्ति लाखों रूपए का सामान चुरा ले गए। पुलिस ने मामला दर्ज करके जांच आरंभ कर दी है।
वार्ड नं. 7 के अंतर्गत आने वाले प्रेमनगर का रहने वाला अजय कुमार (23) पुत्र अशोक कुमार चौटाला रोड़ पर विनय टेलीकॉम के नाम से दुकान चलाता है। शुक्रवार सुबह उसके पड़ौस में स्पेयर पार्टस की दुकान चलाने वाले सन्नी मैहता ने देखा कि टेलीकॉम का गेट ऊपर उठा पड़ा है। जबकि ताले गायब हैं। मौके पर रॉड पड़ी हुई है। उसने तत्काल इसकी सूचना टेलीकॉम के मालिक अजय कुमार को दी।
अजय के अनुसार गुरूवार रात करीब 8 बजे वह दुकान मंगल करके घर गया था। सन्नी की सूचना मिलने पर वह दुकान पर पहुंचा। अज्ञात चोर उसकी दुकान से करीब 40 नए मोबाइल सैट, ठीक होने के लिए आए करीब 70 मोबाइल सैट चुरा ले गए। जिससे उसका करीब एक लाख रूपए का नुक्सान हुआ।
इसकी सूचना थाना शहर पुलिस को दी गई। एफएसएल टीम के प्रभारी अजीत सिंह भी मौका पर पहुंचे और घटना स्थल की बारीकी से छानबीन की। मामले की जांच कर रहे थाना शहर पुलिस के एएसआई गोपाल राम ने बताया कि मामले की तफ्तीश की जा रही है। चोरी की गुत्थी को जल्द सुलझा लिया जाएगा।

14 अप्रैल 2011

एसडीएम ·ा जादू देख·र जादूगर सम्राट भी हुए हैरान


डबवाली (लहू ·ी लौ) उपमण्डलाधीश डॉ. मुनीश नागपाल ·ो अगर जादूगर सम्राट एम. नागपाल ·हा जाए तो इसमें ·ोई आश्चर्य नहीं होगा। रविवार ·ो स्टेज पर उन्होंने ·रीब छह हजार स्टेज शो ·र चु·े जादूगर सम्राट एस. आनन्द ·े साथ-साथ लोगों ·ो भी अपनी जादूगरी से हैरान ·र दिया।
हुआ यूं ·ि जादूगर सम्राट एस. आनंद ·े शो ·ा उद्घाटन ·रने ·े लिए रविवार ·ो नील·ंठ पैलेस में उपमण्डलाधीश डॉ. मुनीश नागपाल पहुंचे। उद्घाटन ·रने ·े बाद जादूगर सम्राट ने ·ुछ ट्रि· दिखाने ·े बाद उपमण्डलाधीश ·ो स्टेज पर बुलाया। ए· खाली ·ागज पर उन·े हस्ताक्षर लिए। अपनी जादूगरी से उस ·ागज पर उपमण्डलाधीश ·ा इस्तीफा लिख दिया। यहीं नहीं उन·ी सारी प्रॉपर्टी अपने नाम ·र ली। ले·िन उपमण्डलाधीश डॉ. मुनीश नागपाल ने यहां अपनी जादूगरी भी दिखा दी। जादूगर सम्राट ·ो बताया ·ि बेश· आपने अपनी जादुई ता·त से मेरा इस्तीफा लिख लिया। ले·िन वे अपनी आदत ·े अनुसार लिखने से पहले और लिखने ·े बाद ए· निशान छोड़ते हैं, जो जादुई ता·त से लिखे उन·े इस इस्तीफे में नहीं है। उपमण्डलाधीश ·ा जादू देख जादूगर सम्राट भी हैरान रह गए।
इस अवसर पर डॉ. मुनीश नागपाल ने आयोज·ों ·ो स्वस्थ पारिवारि· ·ार्य·्रम प्रस्तुत ·रने ·ी सलाह दी। ता·ि ये ·ार्य·्रम दर्श·ों ·े लिए शिक्षाप्रद साबित हो स·ें।
बाद में जादूगर सम्राट एस. आनंद दर्श·ों ·ो जादुई दुनियां में ले गए। इन्द्रजाल, लड़·ी ·ो पंद्रह फुट ऊपर उठाना, अपने शरीर ·े दो टु·ड़ें ·रना जैसी ट्रि· दिखा·र लोगों ·ा दिल जीत लिया। वे मनोरंजन ·े साथ-साथ लोगों ·ो सामाजि· बुराईयों से लडऩे ·े लिए भी प्रेरित ·रते रहे। जादूगर ने स्टेज ·े माध्यम से लोगों से जल बचाने, ·न्या भ्रूण हत्या बंद ·रने तथा देश ·े लिए प्राण न्योछावर ·रने ·ा आह्वान ·िया।

12 अप्रैल 2011

बिना ·नेक्शन ·े बीपीएल परिवारों ·ो भेज दिए बिल


डबवाली (लहू ·ी लौ) गांव सांवतखेड़ा ·े तीन बीपीएल परिवारों ·ो दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम ने बिना ·नेक्शन दिए बिजली ·े बिल भेज दिए हैं। इस मामले ·ो संबंधित परिवारों ने निगम ·े समक्ष उठा·र न्याय मांगा है।
साल 2007 में राज्य सर·ार ने ए· योजना बनाते हुए प्रदेश ·े सभी बीपीएल परिवारों ·ो बिजली मीटर ·ी सुविधा दी थी। योजना ·े मुताबि· बीपीएल परिवार ·ो मात्र 10 रूपए सिक्योरिटी दे·र बिजली मीटर ·नेक्शन सहित देना था। सर·ार ने योजना ·े तहत मीटर लगाने ·ा ठे·ा दिल्ली ·ी ए· फर्म ·ो दिया। फर्म ने निर्धारित समय में एडीसी ऑफिस सिरसा से प्राप्त बीपीएल परिवारों ·ी लिस्ट ·े आधार पर मीटर लगा दिए। मण्डल डबवाली में इस योजना ·े तहत फरवरी 2011 त· ·रीब आठ हजार मीटर लगाए गए हैं। ले·िन इन मीटरों में ·ाफी मीटर खराब हैं या फिर बंद पड़े हैं। ले·िन दक्षिण हरियाणा विद्युत वितरण निगम ने बिना ·ोई जांच ·राए बीपीएल परिवारों ·ो लम्बे-चौड़े बिल भेज दिए हैं।
अवगत ·राया
योजना ·े तहत गांव सांवतखेड़ा ·ी रानी देवी, लालचंद, गुरमेल सिंह बगैरा ·े ·रीब 10 माह पूर्व बिजली मीटर लगाए गए थे। ये मीटर आरंभ से ही बंद पड़े हैं। ले·िन अब दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम ने अप्रैल 2010 से ले·र अब त· ·ा बिल उन्हें दो-दो हजार रूपए भेज दिया है। गांव ·े लाईनमैन ·ुलवंत सिंह ने बताया ·ि जब से ठे·ेदार द्वारा उपरोक्त लोगों ·े बिजली मीटर लगाए गए हैं, तभी से ये बंद चल रहे हैं। अब इन लोगों ·ो बिजली बिल मिले हैं। जो·ि गलत हैं। उसने निगम ·े उच्च अधि·ारियों ·ो इस बारे में अवगत ·रवाया हुआ है।
इस संदर्भ में जब निगम ·े एसडीई गुलशन वधवा से बातचीत ·ी गई तो उन्होंने बताया ·ि मामले ·ी जांच ·राई जाएगी। बीपीएल परिवारों ·ो ·ोई समस्या नहीं आने दी जाएगी।
खराब मीटर बदलेगी फर्म
इधर निगम ·ी ·ंस्ट्रक्शन विंग सिरसा ·े एक्सीयन एमआर सचदेवा ने बताया ·ि योजना ·े अंतर्गत जिला में बीपीएल परिवारों ·ो बिजली ·नेक्शन दे·र मीटर लगाए गए थे। जिनमें से ·ुछ मीटर खराब पाए गए हैं। खराब मीटरों ·ो संबंधित ठे·ेदार फर्म द्वारा बदला जाएगा।