युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

24 फ़रवरी 2010

पांच लाख की अवैध शराब ले जाते ट्रक पकड़ा गया

हनुमानगढ़। चंडीगढ़ से लगभग पांच लाख रूपये मूल्य की अवैध शराब तस्करी करके जोधपुर ले जा रहे एक ट्रक के चालक एवं परिचालक को आज दोपहर हनुमानगढ़ में गिरफ्तार कर लिया गया। ट्रक में सस्ते अंग्रेजी ब्रांड- रोमियो एवं बैस्टो शराब की 903 पेटियां ईंटों की नीचे छिपाई हुई थी। ट्रक पर फर्जी नंबर की प्लेटें लगी हुई थीं।
हनुमानगढ़ टाउन के थानाप्रभारी संजय बोथरा ने बताया कि टिब्बी मार्ग पर गुरूसर चौराहे के पास आज दोपहर एक बजे संदेह हो जाने पर ट्रक (आरजे 10 जीए 1423) को रोककर चैक किया गया। ट्रक के डाले में ईंटें भरी हुई थीं। कुछ ईंटों का हटाया गया तो नीचे शराब की पेटियां दिखाई दीं। तब चालक मजीद पुत्र गफ्फार खां निवासी भिखोडाई (जैसलमेर) और मोहन पुत्र विजयसिंह राजपूत निवासी बालेसर (जोधपुर) को गिरफ्तार कर लिया गया। तलाशी लेने पर ट्रक के कैबिन में से एक आरसी मिली, जिससे ट्रक के वास्तविक नंबर- आरजे 19 जीए 0423 का पता चला। ट्रक का मालिक जोधपुर का निवासी है। उन्होंने बताया कि पूछताछ में चालक-परिचालक ने जानकारी दी कि वे शराब को चंडीगढ़ से जोधपुर ले जा रहे थे। शराब की बोतलों पर सेल फॉर ऑनली चंडीगढ़ लिखा हुआ है। बरामद शराब का मूल्य लगभग 5 लाख रूपये आंका गया है। उन्होंने बताया कि शराब भेजने और प्राप्त करने वालों के बारे में चालक-परिचालक से पूछताछ की जा रही है।

पीलीबंगा अश्लील सीडी का प्रकरण दर्ज

पीलीबंगा। पीलीबंगा अश्लील सीडी का पुलिस ने आज एक फोटो स्टूडियो के पार्टनर युवक के विरूद्ध मुकदमा दर्ज कर लिया, जो कथित रूप से फरार है। यह प्रकरण अश्लील सीडी में कैद हुई युवती के मामा द्वारा दी गई रिपोर्ट के आधार पर दर्ज किया गया है, जिसमें स्टूडियो के पार्टनर विनोद बिश्नोई को नामजद किया गया है।
रावतसर के डीएसपी पवन मीणा ने बताया कि यह स्टूडियो पुलिस के दिवंगत सब इंस्पेक्टर के पुत्र का है, जिसे विनोद बिश्नोई को उसने ठेके पर दे रखा था। इसी स्टूडियो में गुप्त रूप से कैमरा लगाकर विनोद बिश्नोई ने युवती के साथ अश्लील हरकतें करने की मूवी बना ली। युवती के मामा ने आरोप लगाया है कि विनोद इस मूवी को सार्वजनिक करने की धमकी देकर ब्लैकमेल कर रहा था। पुलिस के अनुसार यह मामला धारा 384 और आईटी एक्ट की धारा 6 के तहत दर्ज किया गया है। श्री मीणा ने बताया कि विनोद बिश्नोई को जल्दी ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा।
पीलीबंगा में यह अश्लील सीडी सार्वजनिक हो जाने से हड़कंप मचा हुआ है। हड़कंप मचते ही विनोद बिश्नोई स्टूडियो बंद करके गायब हो गया। इस सीडी की जानकारी मिलने पर हनुमानगढ़ के पुलिस अधीक्षक मोहनलाल निठारवाल ने जांच के निर्देश दिये। जानकारी के अनुसार पीलीबंगा पुलिस ने सीडी में नजर आ रही युवती की शीघ्र ही पहचान कर ली और रात को ही पीलीबंगा के निकट उसके गांव में पूछताछ करने के लिए पहुंच गए। सूत्रों के अनुसार यह युवती मूल रूप से पंजाब की निवासी है और पिछले कुछ समय अपने मामा के पास रहकर पढ़ाई कर रही है।
पुलिस सूत्रों के मुताबिक इस युवती का विनोद बिश्नोई के साथ पिछले अढ़ाई-तीन वर्षों से प्रेम संबंध चले आ रहे हैं। दोनों अविवाहित हैं। जांच में पता चला कि विनोद ने युवती को धोखा देकर अश्लील फिल्म बनाई। स्टूडियो के जिस कक्ष में फिल्म बनाई गई, उसमे कैमरा लगे होने की जानकारी युवती को नहीं थी। उसे तो अभी तक नहीं पता था। सीडी सार्वजनिक होने पर युवती और उसके परिजन सदमे में हैं। सूत्रों के अनुसार युवती विनोद के साथ विवाह करना चाहती थी, लेकिन विनोद गैर जाति का होने के कारण युवती के परिजन राजी नहीं हुए। युवती के परिजनों पर दबाव बनाने की नियत से विनोद ने अश्लील फिल्म बनाई, लेकिन उसने भी इसे सार्वजनिक नहीं किया। सूत्रों के मुताबिक लगभग डेढ़ वर्ष पहले बनाई इस अश्लील फिल्म को विनोद ने अपने मोबाइल में डाउनलोड किया हुआ था। कुछ समय पहले मोबाइल फोन खराब हो गया, जिसे ठीक करवाने के लिए वह एक मैकेनिक के पास ले गया। संदेह है कि इस मैकेनिक ने मोबाइल ठीक करने के बाद उसकी मैमोरी में फीड अश्लील फिल्म को अपने कम्प्यूटर में डाउनलोड कर लिया। सात मिनट 41 सैकेंड की इस मूवी के अंतिम क्षणों में एक ओर युवती कक्ष में आती है और वह विनोद बिश्नोई के साथ बातचीत करती है। सूत्रों के अनुसार यह दोनों युवतियां सहेलियां हैं। दूसरी युवती की शादी छह महीने पहले हरियाणा में हुई है। सार्वजनिक होने के बाद इस अश्लील फिल्म की सीडी, क्लिपिंग खुलकर बाजार में आ गई है। धड़ल्ले से इस मूवी को सीडी में डालकर बेचा जा रहा है और मोबाइल फोनों में डाउनलोड की जा रही है। ई-मेल भी जमकर हो रहे हैं।

अपराधियों की नाक में दम कर देंगे-पुलिस अधीक्षक

डबवाली (लहू की लौ) पुलिस अधीक्षक सतिन्द्र कुमार गुप्ता ने सिरसा जिले में नशाखोरों व नशीले पदार्थों की तस्करी के खिलाफ व्यापक अभियान चलाने का ऐलान किया है। वे देविवि सिरसा के सामुदायिक रेडियो स्टेशन पर हैलो सिरसा कार्यक्रम में केंद्र निदेशक वीरेंद्र सिंह चौहान के साथ सिरसा नगर व आसपास के ग्रामीण अंचल के लोगों से रूबरू हुए। दस दिन पूर्व जिला पुलिस की कमान संभालने वाले गुप्ता ने अपनी प्राथमितकताएं गिनवाते हुए जहां जिले में अपराधों पर अंकुश लगाने में कोई कोर-कसर न छोडऩे की बात कही, वहीं उन्होंने कहा कि यातायात को व्यवस्थित करने के लिए सिरसा शहर के प्रमुख बाजारों में अतिक्रमण विरोधी मुहिम चलाई जाएगी। बकौल सतिंद्र कुमार गुप्ता इस अभियान के निशाने पर निस्संदेह जहां -तहां रेहडिय़ां लगाकर यातायात को बाधित करने वाले भी होंगे।
श्रोताओं द्वारा उठाए गए सवालों पर टिप्पणी करते हुए पुलिस अधीक्षक ने कहा कि नगर के स्कूलों व महिला कालेजों के बाहर आवारागर्दी करने वाले युवकों के साथ कड़ाई से पेश आएंगे। उन्होंने कहा कि ऐसे युवक अब पुलिसिया छित्तर परेड़ से बच नहीं पाएंगे। उन्होंने आश्वासन दिया कि संवेदशनशील क्षेत्रों में पुलिस की मौजूदगी व गश्त में तत्काल इजाफा किया जाएगा। जब एक श्रोता ने वी. कामराज द्वारा पुलिस कप्तान के रूप में जिले में सटोरियों को दंडित करने का सुझाव दिया तो पुलिस प्रमुख ने कहा कि जिले में सट्टे के कारोबार में लगे लोगों को सबक सिखाने का काम उन्होंने आते ही प्रारंभ कर दिया था। गुप्ता ने कहा कि इस काम में वे बड़ी से बड़ी मछली पर हाथ डालने में कतई संकोच नहीं करेंगे।
पत्रकारिता विभाग के अध्यक्ष वीरेंद्र सिंह चौहान द्वारा पूछे गए एक सवाल में गुडग़ांव में यातायात व अपराध मामलों में के डीसीपी रहे गुप्ता ने कहा कि सिरसा में भी इन दोनों पक्षों में उन्होंने कार्यभार संभालते ही काम काम प्रारंभ कर दिया है। उन्होंने इस क्रम में उदघोषित अपराधियों व बेल जंपरों को नाथने के अपने संकल्प का भी हवाला दिया। उन्होंने कहा कि यातायात नियंत्रित करने के कार्य को अधिक सुचारू बनाने के लिए निरीक्षक कृष्णा यादव को यातायात प्रभारी बनाया गया है। अब तक सहायक निरीक्षक स्तर के अधिकारी यातायात प्रमुख का कार्यभार संभाले हुए थे। उन्होंने कहा कि यातायात ड्यूटी पर तैनात कर्मचारियों को जिले के लोग आने वाले समय में अधिक चुस्ती के साथ अपना कार्य करते हुए पाएंगे। नवनियुक्त पुलिस अधीक्षक ने कहा कि उन्होंने थानों की कार्यप्रणाली को दुरूस्त करने के निर्देश जारी कर दिए हैं और पुलिस और आम जन के बीच बेहतर तालमेल के साथ वे अपराधियों की नाक में दम कर देंगे। गुप्ता ने कहा कि वे पुलिस के दैनंदिन कार्य में जागरूक नागरिकों की यथासंभव मदद लेने के पक्षधर हैं।

सदमा या साजिश, मौत

औढ़ां (जितेन्द्र गर्ग) अदालत में पेशी के बाद घर लौटते समय खाई शेरगढ़ निवासी एक व्यक्ति की मौत हो गई। उसकी मौत किसी साजिश के तहत हुई अथवा सदमे के कारण जान गई, यह राज बना हुआ है। मृतक की पत्नी ने औढ़ां थाने के एक एएसआई सहित पांच लोगों पर हत्या का आरोप लगाया है। फिलहाल पुलिस ने इस शिकायत पर पांचों के खिलाफ धारा 302, 34 के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
पुलिस का कहना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही मौत के कारण स्पष्ट हो पाएंगे। पुलिस को दी शिकायत में खाई शेरगढ़ निवासी शारदा देवी ने बताया कि उसका पति भीम सेन डबवाली स्थित अदालत में कल पेशी पर गया था, वापिस लौटते समय उसकी मौत हो गई।
शारदा देवी ने आरोप लगाया कि उसके पति की मौत साधरण नहीं है बल्कि एक साजिश के तहत एक मौत के घाट उतारा गया है। शारदा देवी ने बताया कि उसके ससुर पुनराम की कुछ समय पहले मृत्यु हो चुकी है। उसके पति के चाचा श्योपत राम व उसके लड़कों श्रवण, प्रकाश व रामचन्द्र ने मिलकर उनकी जमीन हड़प ली। अब जमीन के एक टुकड़े को कब्जाने के लिए उक्त लोग उसके पति को परेशान कर रहे थे। थाने ंमें समझौते के प्रयास सिरे न चढऩे पर पुलिस ने दोनों पक्षों का धारा 107, 51 के तहत चालान काट दिया। इसी के तहत श्योपत का लड़का श्रवण डबवाली अदालत में पेशी भुगत चुका था।
शारदा देवी ने बताया कि बीते दिवस उसका पति भीम सेन अदालत में पेशी के लिए डबवाली गया था। वापिसी में उसकी हालत बिगड़ गई और उसने दम तोड़ दिया। शारदा देवी ने श्योपत, उसके तीनों लड़कों के इलावा औढ़ां थाने के एएसआई ओमप्रकाश पर अपने पति की हत्या का आरोप लगाते हुए कहा कि उक्त लोगों ने एक साजिश रचकर उसके पति को बुरी तरह पीटा जिससे उसकी मौत हुई। पुलिस ने शारदा देवी के बयान पर उक्त पांचों लोगों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
इस संबंध में थाना प्रभारी हीरा सिंह से पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि पोस्टमार्टम की रिपोर्ट आने के बाद जांच करके दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

नवविवाहिता की दहेज के लिए हत्या

संगरिया। डेढ़ वर्ष पूर्व विवाहित एक युवती की उसके ससुराल में दहेज के लिए हत्या कर दी गई। इस युवती के शव का आज मैडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम करवाये जाने के साथ उसके ससुरालवालों के विरूद्ध दहेज हत्या का मामला दर्ज किया गया है।
संगरिया पुलिस ने बताया कि मोरजंड सिखान गांव के मिलखासिंह कुम्हार सिख की भतीजी परमजीतकौर का विवाह डेढ़ वर्ष पूर्व ढाबां गांव के चरणजीतसिंह के साथ हुआ था। बीती रात परमजीतकौर की संदिग्ध परिस्थितियों में मृत्यु हो गई। आज सुबह मिलखासिंह ने रिपोर्ट देते हुए बताया कि चरणजीतसिंह, उसके पिता हरबंससिंह, मां गौरा, ननद मनजीतकौर और पम्मी पीहर से और दहेज लाने के लिए परमजीतकौर को तंग-परेशान करते थे। इन सब ने मिलकर परमजीतकौर को जहर देकर मार दिया। संगरिया के डीएसपी रामकिशन सोनगरा ने बताया कि धारा 304-बी में मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है।

अधेड़ किसान की पत्थर मारकर नृशंस हत्या

संगरिया। नजदीक के गांव से रोजाना दूध लेकर अपनी ढाणी आ रहे एक अधेड़ किसान की रास्ते में किसी अज्ञात व्यक्ति ने पत्थर से सिर कुचलकर नृशंस हत्या कर दी। गांव और ढाणी में बमुश्किल एक किलोमीटर का भी फासला नहीं हैं। इस रास्ते में एक खेत में आज सुबह मृतक किसान मानसिंह जाखड़ (40) की लाश मिली। कुछ दूरी पर उसका दूध का बर्तन पड़ा था। अज्ञात हत्यारे के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर पुलिस ने छानबीन शुरू कर दी है।

संगरिया पुलिस के अनुसार ग्राम पंचायत दीनगढ़ के सरपंच प्रवीण कुमार को आज खेत मालिक जगदीश बेनीवाल के एक परिवार के सदस्य ने लाश खेत में पड़े होने की जानकारी दी। तब मौके पर पुलिस अधिकारी पहुंचे। अवर पुलिस अधीक्षक यादराम फासल, संगरिया के डीएसपी रामकिशन सोनगरा और संगरिया थाना के सब इंस्पेक्टर गोपालसिंह ने जांच-पड़ताल करने के बाद मृतक मानसिंह के चाचा गिरधारीलाल जाखड़ की रिपोर्ट के आधार पर अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस ने बताया कि मानसिंह रोजाना अपनी ढाणी चक 4 एएमपी से सुबह नजदीकी गांव दीनगढ़ आया करता था और शाम को दूध लेकर वापिस अपनी ढाणी जाता था। सोमवार रात करीब 8 बजे वह दीनगढ़ से ढाणी के लिए रवाना हुआ, लेकिन घर नहीं पहुंचा। रात को उसकी पत्नी व भाई उसके मोबाइल पर कॉल करते रहे, लेकिन वह स्विच ऑफ था। पुलिस के मुताबिक मानसिंह के पास डबल सिमकार्ड वाला मोबाइल था। इसमें एक सिम कार्ड बंद था, जबकि दूसरा चालू था। घरवालों ने दूसरे नंबर पर कॉल नहीं की। यह मोबाइल आज उसके पहने कपड़ों में मिल गया। घटनास्थल के समीप खून लगा हुआ पत्थर भी मिला है। इस पत्थर से मानसिंह के सिर में वार किया गया। उसके चेहरे व सिर का एक हिस्सा बुरी तरह कुचल दिया गया। पुलिस के अनुसार मानसिंह के चार पुत्रियां हैं, जिनमें दो विवाहित हैं। उसका छोटा भाई अविवाहित है। अवर पुलिस अधीक्षक ने बताया कि हत्या के कारणों और हत्यारे का पता लगाने के लिए गहन जांच शुरू कर दी गई है। मृतक की किसी के साथ रंजिश-दुश्मनी होने की जानकारी सामने नहीं आई है। यह हत्या लूटपाट की नियत से भी की गई नहीं लगती। उन्होंने बताया कि मानसिंह और उसके भाई के पास लगभग 20 बीघा कृषि भूमि है। हत्यारे का पता लगाने के लिए मुखबिरों को सक्रिय किया गया है।

मुंबई हमले में आतंकियों से लोहा लेने वाले एक नायक सहित 27 सैन्य अधिकारियों-जवानों को आज मैडल प्रदान किये जाएंगे

श्रीगंगानगर। श्रीगंगानगर मिलट्री स्टेशन (साधूवाली) में कल बुधवार को एक भव्य आयोजन में 26/11 के मुंबई हमले में आतंकियों से लोहा लेने वाले एक सैन्य जवान सहित कुल 27 अधिकारियों-जवानों को उनकी वीरता, अदम्य साहस और जांबाजी के लिए मैडल प्रदान किये जाएंगे। इस आयोजन के लिए दक्षिण-पश्चिम कमान के लेफ्टिनेंट जनरल सीकेएस साबू आज श्रीगंगानगर मिलट्री स्टेशन पहुंच गए। सैन्य अधिकारियों ने उनकी अगवानी की।
मैडल प्रेजेंटेशन सैरामनी की आज सुबह फुल ड्रेस रिहर्सल की गई। इसके कुछ देर बाद ही हैलीकॉप्टर से लेफ्टिनेंट जनरल साबू मिलट्री स्टेशन में पहुंचे। उच्च सैन्य अधिकारियों ने उनका स्वागत किया। शाम को सेना के जवानों ने साहस और कौशल का प्रदर्शन किया। सैन्य जवानों ने पैराशूट से लैंडिंग की, मोटरसाइकिलों पर करतब दिखाये। बड़ी संख्या में जवान और अधिकारी उपस्थित थे। लगभग एक घंटे के इस शो को लेफ्टिनेंट जनरल साबू ने बड़ी दिलचस्पी से देखा। उन्होंने शो में भाग लेने वाले जवानों की सराहना की।
कल बुधवार को प्रात: आयोजित सैरामनी में एक शहीद जवान सहित 23 अधिकारियों व जवानों को वीरता सेना मैडल प्रदान किये जाएंगे। चार अधिकारियों को अति विशिष्ट मैडल दिये जाएंगे। जिन जवानों और अधिकारियों को यह मैडल प्रदान किये जाने हैं, उनमें 26/11 के मुंबई आतंकी हमले के दौरान होटल ताज पर हमला करने वाले आतंकवादियों को मार गिराने के लिए भेजे गए एक्शन ग्रुप में शामिल हवलदार के. मुरूगन मुख्य रूप से शामिल है। हवलदार मुरूगन ने ताज होटल के एक हिस्से में अपने दल के साथ आतंकवादियों से लोहा लेते हुए एक आतंकवादी को मार गिराया, जबकि हैंड ग्रेनेड से तीन-चार आतंकवादियों को घायल कर दिया। इस हिस्से से आतंकवादियों को मारने-खदेड़ देने से एक्शन ग्रुप को आगे बढऩे का मार्ग प्रशस्त हो गया।
इसके अलावा हवलदार साहबसिंह को मरणोपरांत वीरता सेना मैडल प्रदान किया जा रहा है, जो उनकी धर्मपत्नी वीरनारी-ज्ञानवती ग्रहण करेंगी। हवलदार साहबसिंह असम में आतंकवादियों से मुकाबला करते हुए वीरगति को प्राप्त हुए थे। मेजर कंवल थापा, मेजर पुर्नप्रीतसिंह, मेजर राजेंद्रसिंह सैनी, मेजर अभिजीत बनर्जी, कप्तान मनीष सोबती, कप्तान अमोद गोयल, सूबेदार जवाबसिंह, हवलदार चंद्रपालसिंह, हवलदार समुंद्रसिंह आदि को भी वीरता सेना मैडल प्रदान किये जाएंगे। इस सैरामनी में सेना के जिन अधिकारियों और जवानों को यह मैडल दिये जाने हैं, उनमें से ज्यादातर ने जम्मू-कश्मीर, असम और मणीपुर जैसे हिंसाग्रस्त-आतंकवाद प्रभावित इलाकों में आतंकवादियों का मुकाबला करते हुए उन्हें मार गिराने अथवा खदेड़ देने में अपने रणकौशल, अदम्य साहस और मानसिक संतुलन का गजब प्रदर्शन किया है। इस आयोजन के लिए मिलट्री स्टेशन में बड़े पैमाने पर तैयारियां की गई हैं। आसपास के अन्य मिलट्री स्टेशनों के अधिकारी भी इस आयोजन में शामिल होंगे।