युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

06 मार्च 2010

अग्निकांड पीडि़तों के लिए राशि स्वीकृत

डबवाली (लहू की लौ) हरियाणा सरकार ने पंजाब हरियाणा उच्च न्यायालय के आदेशों की अनुपालना में 23 दिसम्बर, 1995 में हुए सिरसा के डबवाली अग्निकाण्ड के पीडि़तों के लिए 16 करोड़ 77 लाख 11 हजार 828 रुपये की राहत राशि स्वीकृत की है।

डबवाली अग्निकाण्ड के पीडि़तों को अब तक कुल राहत राशि 21 करोड़ 26 लाख 11 हजार 828 रुपये स्वीकृत हो गई है, जिसमें 15 प्रतिशत हिस्सा दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम का, 15 प्रतिशत हिस्सा डबवाली नगरपालिका तथा 15 हिस्सा हरियाणा सरकार का होगा तथा इस राशि में से सरकार द्वारा 4 करोड़ 49 लाख रुपये की राशि पहले ही स्वीकृत की जा चुकी है।
स्वीकृत की गई राशि दावाकर्ताओं को वितरित करने हेतु अतिरिक्त नागरिक जज (वरिष्ठï मंडल), डबवाली को जमा की जाएगी और दावाकर्ता मुआवजा राशि प्राप्त करने के लिए अतिरिक्त नागरिक जज (वरिष्ठï मंडल), डबवाली से सम्पर्क करें। यदि किसी दावाकर्ता को कोई आपति हो तो वह उपायुक्त सिरसा या वित्तायुक्त एवं प्रधान सचिव, राजस्व एवं आपदा प्रबन्धन विभाग, चण्डीगढ़ से सम्पर्क कर सकते हैं।

प्रेमी-प्रेमिका को जेल

सिरसा। जिला एवं सत्र न्यायालय में हत्या के एक मामले में युवती व उसके प्रेमी को आजीवन कारवास की सजा सुनाई है। दोषियों को 10-10 हजार रुपये अर्थदंड भी लगाया है। अर्थदंड की अदायगी न करने पर दो-दो माह अतिरिक्त कारावास भुगतना होगा। मामले के अनुसार 21 नवम्बर 2006 को शमशाबाद पट्टी निवासी मक्खन सिंह पुत्र बीरबल सिंह की हत्या कर दी गई थी। मृतक के पिता बीरबल सिंह ने आरोप लगाया था कि मक्खन की पत्नी के मैहनाखेड़ा के पूर्व सरपंच ओमप्रकाश के साथ अवैध सम्बंध थे। आरोप था कि उक्त दोनों ने मक्खन सिंह को शराब में जहरीली वस्तु दे दी थी। अस्पताल में उपचार के दौरान मक्खन की मौत हो गई। शहर थाना पुलिस ने पूर्व सरपंच ओमप्रकाश तथा मक्खन की पत्नी परमेश्वरी देवी के विरूद्ध भारतीय दंड संहिंता की धारा 302 व 34 के तहत अभियोग दर्ज कर चालान न्यायालय में पेश किया। करीब चार वर्ष तक चली कार्रवाई के दौरान जिला एवं सत्र न्यायाधीश डा. शिवा शर्मा ने उक्त दोनों को दोषी करार देते हुए उपरोक्त सजा सुनाकर दंडित किया।

एजूकेशन सोसायटी के सदस्यों ने लगाया धांधलियों का आरोप

डबवाली (लहू की लौ) आर्य विद्या मन्दिर एजूकेशन सोसायटी, मण्डी डबवाली के सदस्य भारत भूषण छाबड़ा और भारत मित्र छाबड़ा ने उपायुक्त सिरसा को एक पत्र भेजकर सोसायटी के चुनाव नियमानुसार करवाने तथा धांधलियों की जांच करवाने की मांग की है।
पत्र में उपरोक्त दोनों सदस्यों ने लिखा है कि आर्य विद्या मन्दिर एजूकेशन सोसायटी मण्डी डबवाली सरकार से सहायता प्राप्त करके आर्य विद्या मन्दिर के नाम से एक स्कूल चला रही है। उनका आरोप है कि इस स्कूल में सभी कार्य नियमों को ताक पर रखकर किये जा रहे हैं। उनके अनुसार शिक्षा विभाग द्वारा शिक्षा समिति के चुनाव करवाने के लिए कहा गया तो स्कूल प्रबन्धक कमेटी ने आनन-फानन में 15 जनवरी को एक बैठक बुलाकर शिक्षा विभाग के अधिकारियों की मिलीभगत से चुनाव करवाने की कोशिश की। जिसमें शिक्षा विभाग के प्रतिनिधि के रूप में दर्शना अरोड़ा शामिल हुई। लेकिन मौका पर प्रबन्धक समिति की अनियमितताओं का पर्दाफाश होने पर चुनाव स्थगित कर दिये गये और सही वोटर सूचि आदि बनाने के लिए समय मांगा गया।
शिकायतकर्ताओं के अनुसार प्रबन्धक समिति ने अपने बिना क्रमांक नम्बर के पत्र दिनांक 3-3-2010 के अनुसार चुनाव की बैठक बुलाई है। जब उन्होंने प्रबन्धक समिति सदस्यों की सूचि मांगी तो उन्हें सूचि देने से इंकार कर दिया। शिकायतकर्ताओं के अनुसार शिक्षा समिति के ज्ञापन व नियमों के अनुसार बैठक की सूचना एक सप्ताह पूर्व देनी होती है, जोकि प्रबन्धक समिति ने नहीं दी। उनका आरोप है कि समिति की प्रबन्धक कमेटी द्वारा रजिस्ट्रार फर्मस एवं समितियों के भी सभी नियमों की उल्लंघना की जा रही है। पत्र में शिकायतकर्ताओं ने उपायुक्त सिरसा से अनुरोध किया है कि किसी उच्च अधिकारी से जांच करवाई जाये और जांच पूरी होने तक स्कूल में प्रशासक नियुक्त करके सही सदस्य सूचि बनवाकर चुनाव करवायें जायें और दिनांक 6 मार्च को होने वाले चुनाव स्थगित किये जायें।

शराब ठेका से 15 हजार रूपये लूटे

सिरसा। एक तरफ तो जिला में हिंसक वारदातों की पुनरावृत्ति रोकने के लिए पुलिस भागदौड़ कर रही है वहीं दूसरी ओर चोर लूटेरे पुलिस को परेशानी में डाले हुए है।
जोधकां गांव में बीती रात पिस्तोल की नोक पर मोटरसाइकिल सवार तीन युवक शराब ठेके से हजारों की नकदी लूट ले गए। मामले की सूचना पाकर पुलिस के कर्मचारी मौके पर पहुंचे और नाकेबंदी कर लूटेरों को पकडऩे का काफी प्रयास किया लेकिन वे उनकी पकड़ में नहीं आए। डिंग पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।
बताया गया है कि गांव जोधका स्थित देसी शराब के ठेेके पर बीती रात करीब पौने 9 बजे मोटरसाइकिल पर तीन युवक आए और ठेके के कारिंदे धर्मपाल व पिंटू पर पिस्तोल तान दी तथा 15 हजार की लूट ले गए। धर्मपाल व पिंटू ने तुरंत पुलिस को सूचना दी। पुलिस कुछ देर में मौके पर आ गई। धर्मपाल व पिंटू के मुताबिक लूटेरों में से एक ने मुंह पर नकाब ओढ़ा हुआ था। पुलिस फरार लूटेरों की सरगर्मी से तलाश में लगी हुई है। फिलहाल उनका कोई पता नहीं चला है।
उल्लेखनीय है कि 27 फरवरी की शाम को जिला में डेरा सच्चा सौदा के प्रेमियों द्वारा सरकारी बसों में की गई तोडफ़ोड़ व आगजनी के बाद पुलिस काफी सर्तकता से काम ले रही है। पुलिस का फिलवक्त मुख्य ध्येय ऐसी हिंसक घटनाओं की पुनरावृत्ति रोकना है। ऐसे में जिला पुलिस के एक तरफा ध्यान का फायदा उठाते हुए बीती रात लूटेरे वारदात कर गए। यह बात अलग है कि 27 फरवरी से पहले भी जिला में चोरी व लूट की अनेक वारदातें हो चुकी है।

बुकिंग के 48 घण्टे में उपभोक्ता को घर पर मिलेगी गैस

डबवाली (लहू की लौ) लम्बे समय से डबवाली में स्वतंत्र गैस एजेन्सी खोले जाने की मांग अन्तत: कई बाधाओं के बाद आज उस समय पूरी हो गई, जब इण्डियन ऑयल कार्पोरेशन लि. दिल्ली और हरियाणा के महाप्रबन्धक एस.एस. बापट ने डबवाली गैस सर्विस के बैनर तले खुली इस एजेन्सी का रिबन काटकर उद्घाटन किया।
इस मौके पर पत्रकारों से बातचीत करते हुए इण्डेन के मुख्य क्षेत्रीय प्रबन्धक विजय नारायण ने कहा कि 2004-2007 में इण्डेन गैस डबवाली में खोले जाने की योजना बनाई गई थी। लेकिन इस योजना को लागू करने में कई अड़चने आती रही, अन्तत: अड़चने समाप्त हुई, आज गैस एजेन्सी का उद्घाटन हो गया।
उन्होंने इस मौके पर कहा कि डबवाली में इण्डेन की एक ओर नई गैस एजेन्सी खोले जाने का प्रावधान इस वर्ष रखा गया है और उम्मीद है कि 2011 तक यह एजेन्सी भी अपना काम शुरू कर देगी। उनके अनुसार डबवाली के गैस उपभोक्ताओं को गैस सम्बन्धी कमी नहीं रहेगी।
उन्होंने पत्रकारों से यह भी कहा कि इण्डेन डबवाली में उपभोक्ता द्वारा गैस बुकिंग करवाये जाने के 48 घण्टे के भीतर उपभोक्ता के घर पर गैस आपूर्ति करेगी। उनके अनुसार हरियाणा में डबवाली में खुली इण्डेन की यह 145वीं गैस एजेन्सी है। इस मौके पर इंटरनेट पर टोमो गैस डॉट कॉम पर उपभोक्ताओं द्वारा गैस बुकिंग की सुविधा को लेकर उठाये गये सवाल का जवाब मुख्य क्षेत्रीय प्रबन्धक नहीं दे पाया। बाद में उसे अपने ही मुंह से यह कहना पड़ा कि इस साईट पर हरियाणा के कुछ जिलों के गैस उपभोक्ताओं को गैस बुकिंग की सुविधा दी गई है। इस अवसर पर उपमण्डलाधीश मुनीश नागपाल, बीएस गिरधर उप महाप्रबन्धक, डबवाली गैस सर्विस के संचालक श्याम सुन्दर सभ्रवाल, खाद्य एवं आपूर्ति निरीक्षक अरविन्द पूनियां उपस्थित थे।

हजकां कार्यकर्ताओं पर बरसी लाठियां

चंडीगढ़। हरियाणा विधानसभा का घेराव करने जा रहे हजारों हजकां कार्यकत्र्ताओं को पुलिस ने जमकर पीटा और सैंकड़ो गाडिय़ां क्षतिग्रस्त कर दी। हजकां प्रमुख कुलदीप बिश्नोई के हाथ पर गंभीर चोट है और उन्हें गिरफ्तार भी किया गया है।
शुक्रवार प्रात: हजकां के प्रदेश भर से आए हजारों कार्यकत्र्ता सेक्टर 25 के मैदान में जमा हुए जहां हजकां प्रमुख कुलदीप बिश्रोई, पूर्व मुख्यमंत्री भजन लाल, रामजी लाल सहित अनेक नेताओं ने कार्यकत्र्ताओं को सम्बोधित किया। इस जनसभा के बाद सभी कार्यकत्र्ता कुलदीप के नेतृत्व में विधानसभा की ओर बढऩे लगे और पुलिस द्वारा लगाए गए नाकों को तोड़ दिया। पुलिस ने हजकां कार्यकत्र्ताओं को आगे बढ़ता देखकर उन पर पानी की तेज बौछारें फैंकी और प्लास्टिक की गोलियों से उन्हें रोकने का प्रयास किया। उधर से हजकां कार्यकत्र्ताओं ने पुलिस पर पथराव शुरू कर दिया। देखते ही देखते हालात इतने गंभीर हो गए कि पुलिस को लाठीचार्ज पर उतारू होना पड़ा। इसके बाद पुलिस ने हजकां प्रमुख कुलदीप बिश्रोई, उनके सहयोगी दलीप बिश्रोई सहित एक-एक कार्यकत्र्ताओं को जमकर पीटा। इस मारपीट में कुलदीप और देवीलाल के हाथों पर गहरी चोटें आई हैं और अन्य दर्जनों कार्यकत्र्ता बुरी तरह घायल हो गए। दोनों ओर से हुए हमलों में कुछ पुलिस के कर्मचारियों को भी चोटें आईं बताई गई हैं। इन कार्यकत्र्ताओं को खदेड़ कर पुलिस ने कुलदीप बिश्रोई को हिरासत में ले लिया और अज्ञात स्थान पर ले गई। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि प्रदेशभर से गाडिय़ों में सवार होकर कार्यकत्र्ता सेक्टर 25 पहुंचे थे जहां पुलिस ने एक भी गाड़ी के शीशे नहीं छोड़े और अनेक गाडिय़ों को बुरी तरह तोड़ दिया। कुलदीप बिश्नाोई ने इस सब पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि यह सरकार की बौखलाहट है और लोकतंत्र की हत्या है। उन्होंने कहा कि हजकां कार्यकत्र्ता शांतिपूर्ण ढंग से विधानसभा का घेराव करने जा रहे थे जो कि उनका लोकतांत्रिक हक है। इसके बावजूद पुलिस ने सरकार के इशारे पर एक-एक कार्यकत्र्ता को जमकर पीटा है। इधर सिरसा में हजकां नेता वीरभान मेहता भी तीन बड़ी गाडिय़ों के काफिले के साथ चंडीगढ़ पहुंचे थे तथा उनकी भी तीनों गाडिय़ां तोड़ दी गई। उनके पुत्र राजन मेहता ने कहा कि सरकार ने डंडे के बल पर प्रदर्शन कर रहे कार्यकत्र्ताओं को रोकने की कोशिश की है और यह सरासर लोकतंत्र की हत्या है। इस घटना के बाद चंडीगढ़ का यातायात बुरी तरह प्रभावित हो गया और चंडीगढ़ के विधानसभा से लेकर सेक्टर 25 तक के रास्तों पर लम्बे जाम लग गए। स्थिति अत्यंत तनावपूर्ण बन गई।

पंजाब चाहे तो अलग राजधानी चुन ले, बोले हुड्डा

चण्डीगढ़ (लहू की लौ) हरियाणा के मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा ने कहा कि वर्ष 2010-11 के लिए राज्य का बजट आम आदमी का बजट होगा तथा यह प्रदेश में अब तक प्रस्तुत किये गये बजट से सबसे बड़ा बजट होगा।
मुख्यमंत्री शुक्रवार को विधानसभा की प्रैस लॉबी में पत्रकारों के प्रश्नों का जवाब दे रहे थे। उन्होंने कहा कि बजट में सामाजिक क्षेत्र के एजेंडे तथा चल रही परियोजनाओं को पूरा करने पर भी बल दिया जाएगा।
पंजाब विधानसभा के चल रहे सत्र के दौरान पंजाब सरकार द्वारा राज्यपाल के अभिभाषण में उठाये गये चंडीगढ़ के मुद्दे की ओर ध्यानाकर्षित किये जाने पर हुड्डा ने कहा कि यह राज्यपाल के अभिभाषण का मुद्दा नहीं था। बहरहाल, उन्होंने स्मरण करवाया कि दिल्ली में हाल ही में कानून एवं व्यवस्था पर हुई एक बैठक में पंजाब के मुख्यमंत्री ने चंडीगढ़ के इसी मुद्दे को उठाया था तथा उन्होंने स्पष्ट कर दिया था कि पंजाब का चंडीगढ़ पर उतना ही अधिकार है जितना की हरियाणा का। इसलिए, यदि पंजाब एक अलग राजधानी चाहता है तो पंजाब के लिए यह बेहतर होगा कि वह चंडीगढ़ के बाहर अपनी राजधानी बनाये।
पंजाब सरकार द्वारा चंडीगढ़ अन्तर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे को मोहाली अन्तर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे के रूप में वर्णित किये जाने के संबंध में पूछे गये एक अन्य प्रश्न के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि एक स्पेशल परपज व्हीकल बनाया गया है तथा पंजाब व हरियाणा दोनों का बराबर का हिस्सा है। निर्णय लिया गया था कि इसे चंडीगढ़ अन्तर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे का नाम दिया जाएगा। उन्होंने अपने द्वारा कही गई इस बात को भी स्मरण करवाया कि यदि इस अन्तर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे का नाम शहीद भगत सिंह के नाम पर रखा जाए तो उन्हें कोई आपत्ति नहीं होगी। राज्य मंत्रिमण्डल के विस्तार की सम्भावना पर पूछे गये एक अन्य प्रश्न के जवाब में हुड्डा ने कहा कि मंत्रिमण्डल का विस्तार किया जाएगा, लेकिन कब होगा इस बारे में उन्होंने कुछ नहीं कहा। हरियाणा जनहित कांग्रेस (बीएल) के पांच विधायकों द्वारा कांग्रेस पार्टी के प्रति निष्ठा दिखाये जाने मुद्दे की ओर ध्यानाकृषित किये जाने पर हुड्डा ने कहा कि यह एक न्यायाधीन मामला है और कानून अपना काम करेगा। आज चंडीगढ़ में हरियाणा जनहित कांग्रेस के कार्यकर्ताओं पर की गई लाठी चार्ज के संबंध में हुड्डा ने कहा कि हमें कानून के दायरे में रहना चाहिए तथा यह कार्य स्थानीय प्रशासन द्वारा किया गया है।

कर्मचारियों ने दिया धरना

सिरसा। आबकारी व कराधान मिनस्ट्रियल स्टाफ एसोसिएशन के आह्वान पर विभागीय कर्मचारियों ने आज कार्यालय के बाहर धरना दिया एवं विभाग के वित्तायुक्त एवं प्रधान सचिव और आयुक्त के खिलाफ नारेबाजी की। इस मौके पर एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष राजेंद्र सिंह व प्रांतीय मुख्य संगठन सचिव कुलदीप शर्मा ने कहा कि सरकार का रवैया कर्मचारियों के हितों के प्रति उदासीन है। बार-बार मांग के बावजूद उनके हितों की ओर सरकार ध्यान नहीं दे रही। शर्मा ने कहा कि अब कर्मचारी चुप बैठने वाले नहीं है। हमारी मांगे समय पर पूरी नहीं हुई तो आगामी ९ मार्च को विभाग के वित्तायुक्त एवं प्रधान सचिव रामेंद्र जाखू का घेराव किया जाएगा। अगले चरण में १९ मार्च को विभाग के सभी कर्मचारी सामूहिक अवकाश लेंगे और ३० मार्च को काले झण्डे लेकर आबकारी एवं कराधान आयुक्त के पंचकुला स्थित कार्यालय पर विशाल धरना दिया जाएगा। एसोसिएशन नेताओं ने अपनी मांगों को लेकर कहा कि निरीक्षकों की पदोन्नति के लिए सहायकों की लगातार ३ वर्ष की सेवा शर्त को समाप्त किया जाए, हुडा की तर्ज पर सभी कर्मचारियों को पिछले चार वर्ष का परफारमेंस अवार्ड दिया जाए, चतुर्थ रेणी कर्मचारियों की लिपिकों के पद पर पदोन्नति तुरंत प्रभाव से की जाए, निरीक्षकों की पदोन्नति के बाद विभागीय परीक्षा पास करने की शर्त समाप्त की जाए, शुद्ध वरिष्ठता सूचि तैयार की जाए, एसआरसी, नाजर, कैशियर के तीन-तीन पद प्रत्येक जिला में अप्रग्रेड किए जाए, १० उप कार्यालयों पर सहायकों के १० नए पद सृजित किए जाए, कर्मचारियों के लिए प्रत्येक जिले में आवासीय कालोनियां बनाई जाए, विभाग में कार्यरत कंप्यूटर प्रोफैशनल को समय पर वेतन दिया जाए व विभाग में स्वीकृत २०० पदों परे स्थाई नियुक्ति की जाए। धरने में एसोसिएशन के राज्य उपप्रधान उदय राम, भानी राम, करनैल सिंह, हनुमान सैनी, रविन्द्र कुमार, महावीर सिंह, महेन्द्र सिंह, श्याम सुंदर, मनोज कुमार, महेंद्र मग्गु, रण सिंह आदि मौजूद थे।