युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

22 अप्रैल 2010

गौशाला ने दी आंदोलन की चेतावनी

डबवाली (लहू की लौ) गौशाला प्रबन्धक समिति के प्रधान जवाहर कामरा के नेतृत्व में गौशाला सदस्यों का एक शिष्टमंडल बुधवार को उपमण्डलाधीश डॉ. मुनीश नागपाल को मिला। शिष्टमंडल ने मृत पशुओं के लिए भूमि व ठेकेदार उपलब्ध करवाने की मांग की। साथ में चेतावनी भी दी कि अगर समस्या का तुरन्त हल न किया गया तो वे आंदोलन करने को बाध्य होंगे। प्राप्त जानकारी अनुसार मंगलवार शाम को गौशाला के पीछे रहने वाले वार्ड नं. 4 के निवासियों ने मृत पशुओं को दबाने आये गौशाला के प्रबन्धकों को खदेड़ दिया था। इस मौके पर दोनों पक्षों में काफी देर तक कहासुनी भी हुई। मौका पर पहुंचे गौशाला प्रबन्धक कमेटी के अध्यक्ष जवाहर कामरा ने 4 दिन के भीतर समस्या का हल होने का आश्वासन दिया था। जिससे उग्र लोग शान्त हुए। बुधवार सुबह जवाहर कामरा, कमलेश गोयल, बलवन्त तायल, सतीश गर्ग उपप्रधान, रमेश झालरिया, पवन शारदा, गोवर्धन दास गोयल पर आधारित एक शिष्टमंडल उपमण्डलाधीश डॉ. मुनीश नागपाल को मिला। शिष्टमंडल ने उन्हें मुख्यमंत्री हुड्डा के नाम एक ज्ञापन भी सौंपा। ज्ञापन के माध्यम से गौशाला प्रबन्धकों ने मृत पशुओं के लिए भूमि तथा ठेकेदार उपलब्ध करवाये जाने की मांग की है। गौशाला प्रबन्धकों के अनुसार मृत पशुओं को समय पर न उठाये जाने के कारण आस-पास के क्षेत्र में दुर्गन्ध फैलनी शुरू हो जाती है, जिससे बीमारियां फैलने का भय बना रहता है। करीब 10 माह पूर्व भी प्रशासन को इस समस्या से चेताया गया। लेकिन समस्या ज्यों की त्यों बरकरार है। अगर प्रशासन समस्या का जल्द स्थायी हल नहीं करता तो उन्हें मजबूरन सड़कों पर उतरना पड़ेगा। इस अवसर पर उपमण्डलाधीश ने समस्या को हल करने का आश्वासन दिलाया।
ज्ञापन लेने के बाद पत्रकारों से बातचीत करते हुए उपमण्डलाधीश मुनीश नागपाल ने बताया कि ग्राम पंचायत डबवाली ने प्रस्ताव पारित करके हड्डारोड़ी के लिए जगह मुहैया करवा दी है। जिस पर नगरपालिका डबवाली चारदीवारी करवाएगी। इस प्रस्ताव को उपायुक्त सिरसा ने भी मंजूरी दे दी है। नगरपालिका सचिव तथा बीडीपीओ को कार्य शुरू करने के निर्देश जारी कर दिये गये हैं। मृत पशुओं को उठाने का ठेका देने सम्बन्धी आदेश भी नगरपालिका सचिव को दिये गये हैं। उपमण्डलाधीश के अनुसार गौशाला में मृत पड़े 6 पशुओं को डबवाली की निकटवर्ती हड्डारोड़ी पर भेजा जाएगा। ताकि लोगों को इससे कोई मुश्किल न हो।
उपमण्डलाधीश ने गौशाला में मृत पशुओं की खाल पाये जाने सम्बन्धी लहू की लौ में छपे समाचार पर संज्ञान लेते हुए नगरपालिका सचिव को जांच कर रिपोर्ट सौंपने के आदेश दिये हैं।

शिक्षा पर 425 करोड़ रूपये खर्च कर रही है सरकार-बादल

डबवाली-मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने कहा कि पंजाब सरकार राज्य में शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए 425 करोड़ रूपये खर्च कर रही है। मोहाली में नोलेज सिटी खोलने के साथ-साथ ऐसी संस्था का भी निर्माण करवाने जा रही है, जिसमें विद्यार्थी फौज की ट्रेनिंग प्राप्त कर सकेंगे। वे बुधवार को गांव बादल स्थित दशमेश कॉलेज ऑफ एजूकेशन के 5वें वार्षिक कोनवोकेशन के अवसर पर उपस्थित विद्यार्थियों को सम्बोधित कर रहे थे। बादल ने कहा कि पढ़ाई के बिना कोई भी देश तरक्की नहीं कर सकता। अकाली-भाजपा सरकार ने अपने तीन साल के कार्यालय में शिक्षा के क्षेत्र में अच्छी उपलब्धियां हासिल की हैं। उनके अनुसार राज्य में तीन नई यूनिवर्सिटीयां स्थापित की जा रही हैं। इसके साथ 14 नयें डिग्री कॉलेज के भवनों के निर्माण का कार्य शुरू हो चुका है। ग्रामीण आंचल में गरीब वर्ग के बच्चों को शिक्षा देने के लिए 21 आदर्श स्कूल खोले जा रहे हैं। मोहाली में स्थापित किये जा रहे शिक्षण संस्थान में विद्यार्थी दोपहर से पहले शिक्षा प्राप्त करेंगे तथा बाद में आर्मी अफसरों से फौज की ट्रेनिंग प्राप्त करेंगे। मुख्यमंत्री बादल ने बीएड में राज्य में प्रथम आने वाली कॉलेज की छात्रा नवकिरण शर्मा को माता जसवन्त कौर मैमोरियल अवार्ड एवं 50 हजार रूपये नकद देकर सम्मानित किया तथा कॉलेज के 350 विद्यार्थियों को डिग्रियां बांटी। इससे पूर्व कॉलेज प्रिंसीपल डॉ. एसएस संघा ने मुख्यंत्री का स्वागत किया। इस अवसर पर जिला मुक्तसर के उपायुक्त वरूण रूजम, एनएस ढिल्लों डीआईजी पुलिस रेंज बठिण्डा, इन्द्रमोहन सिंह एसएसपी मुक्तसर आदि उपस्थित थे।

एक रात में चार घरों में चोरियां

औढ़ां (जितेन्द्र गर्ग)गत रात्रि चोरों ने गांव जड़वाला जाटान में 4 घरों में चोरी करके ग्रामीणों में भय पैदा कर दिया। ओढ़ां पुलिस ने अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ चोरी का मुकदमा दर्ज करके छरनबीन शुरू कर दिया है। पुलिस चौकी जंडवाला जाटान के इंचार्ज रघुवीर सिंह ने बताया कि गत रात्रि तीन-चार चोर नायब सिंह के घर में जा घुसे और उनके घर से अलमारी को खोलकर 21 तोले सोना, छह तोले चांदी और दो मोबाईल चोरी करके ले जाने लगे तो उसके भाई अजायब सिंह की आंख खुल गई और उन्होंने उसे पकडऩे की कोशिश की। इस पर वे उसे डंडा मारकर फरार हो गए। इससे पूर्व रघुवीर सिंह पुत्र महेंद्र सिंह के घर से  तीन तोले सोना और पांच हजार रुपए की नकदी घर में रखी अटेची का ताला तोड़कर ले गए। इसी प्रकार जीत सिंह पुत्र मंदर सिंह के घर से साढ़े तीन तोले सोना और 50-60 चांदी के सिक्के, बलजिंद्र सिंह पुत्र मल सिंह के घर में रखी गोदरेज की अलमारी से 12 तोले सोना, छह तोले चांदी और 25 हजार रुपए की नकदी लेकर फरार हो गए। ओढ़ां पुलिस ने इन चारों के बयान पर चोरी का मुकदमा दर्ज करके छानबीन शुरू कर दी है और मौके पर फिंगर प्रिंट एक्सपर्ट, डॉग स्क्वायड भी पहुंचे। सूचना मिलते ही डबवाली के डीएसपी बाबू लाल, सीआईए इंस्पैक्टर किशोरी लाल और हवा सिंह डबवाली, एसएचओ ओढ़ां हीरा सिंह सहित अनेक पुलिस अधिकारी पहुंचे। जांच अधिकारी उपनिरीक्षक रघुवीर सिंह से पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि यह कार्य किसी गिरोह के सदस्यासें द्वारा किया गया लगता है, जिन्हें शीघ्र ही काबू कर लिया जाएगा ।

मृत पशुओं को दबाने पर बवाल

डबवाली (लहू की लौ) यहां की गौशाला में मृत पशुओं को दबाने और उनकी चमड़ी उतारे जाने का आरोप लगाते हुए गौशाला के पीछे क्षेत्र के लोगों ने आज गौशाला को घेर लिया और तीन पशुओं को वहां दबाने से रोक दिया।
प्राप्त जानकारी अनुसार मंगलवार शाम को गौशाला प्रबंधक समिति के आदेश पर गौशाला प्रबंधक कमेटी का सदस्य गोवर्धन दास गोयल स्वयं ट्रैक्टर चला कर बैरग में डाले तीन मृत पशुओं को दबाने के लिए गौशाला प्रांगण की ओर जा रहा था कि इसकी भनक गौशाला के पीछे रहने वाले वार्ड नं. 4 के निवासियों को मिल गई। वह मौका पर पहुंचे और उन्होंने मृत पशुओं की यह कहते हुए घेराबन्दी कर ली कि इन पशुओं के दबाने से जो बदबू फैलती है उससे उनका अपने घरों में रहना मुश्किल हो रहा है। इन लोगों का नेतृत्व  बलवन्त सिंह भाऊ पुत्र ठाकुर सिंह, रेशमा देवी पूर्व सरपंच कंदूखेड़ा, कमल यादव पुत्र दौलत राम यादव, सुखजिन्द्र पुत्र बहादुर सिंह, रामजी भाटी, मास्टर मान सिंह कर रहे थे। इन लोगों ने गली की महिलाओं के साथ मिल कर मौका पर पहुंचे गौशाला प्रबंधक समिति के प्रधान जवाहर कामरा से भी ऐतराज किया और प्रशासन को शिकायत करने की धमकी दी।
मौका पर पहुंचे इस संवाददाता को उपरोक्त पीडि़तों ने बताया कि केवल गौशाला के मृत पशुओं को दबाया ही नहीं जाता बल्कि उनकी खाल भी उतार बाहर बेची जा रही है। वह लोग गौशाला प्रबंधक समिति की इन हरकतों से पिछले 10 माह से परेशान हैं।
इस सन्दर्भ में मौका पर उपस्थित गौशाला प्रबंधक कमेटी के प्रधान जवाहर कामरा ने बताया कि हड्डा रोड़ी के लिए नगर में कोई स्थान नहीं है। जिसके चलते उन्हें मजबूरी में गौशाला की जमीन में ही मृत पशुओं को दबाना पड़ रहा है। 15 दिन पूर्व ही गौशाला ने मृत पशुओं को उठाने के लिए सिरसा के अतर सिंह पुत्र लाला राम को 31 हजार रूपये में ठेका दिया था। लेकिन उसके पास जमीन न होने पर उसको गौशाला ने अलीकां रोड़ पर गांव डबवाली के जसविन्द्र सिंह पुत्र काका सिंह की जगह 10 हजार रूपये ठेका पर लेकर दे दी थी। जब वह मृत पशुओं को लेकर वहां गया तो उसे पड़ौसियों ने न तो वहां दबाने दिया और न ही उसकी खाल उतारने दी। वह वापिस उतारी गई खाल को गौशाला ले आया। आज गौशाला के पीछे रहने वाले लोगों ने जो खाल दिखाई है वह वहीं खाल है। मरे हुए पशुओं के संबंध में उन्होंने कहा कि यह वह तीन पशु हैं जो बाजार से एक्सीडैंट हालत में उठा कर लाये थे। उन्होंने उपस्थित लोगों से कहा कि वह इस समस्या को लेकर प्रशासन के पास न जायें, गौशाला प्रबंधक समिति ही उनका 4 दिनों में समाधान कर देगी।

पानी को लेकर कोहराम

डबवाली (लहू की लौ) डबवाली नगर में इस समय पेयजल को लेकर त्राहि-त्राहि मची हुई है। पंजाब और हरियाणा की नहरों में बन्दी के चलते यह स्थिति पैदा हुई है। हालांकि जनस्वास्थ्य विभाग ने जमीनी टयूब्बैलों के द्वारा पेयजल आपूर्ति का प्रयास किया। लेकिन दो टयूब्बैल काम करना बन्द कर जाने से विभाग की आशाओं पर पानी फिर गया।
वार्ड नं. 1 के जोगिन्द्र गोयल, दर्शन सिंह, जगसीर सिंह, वार्ड नं. 2 के विजय बांसल, कैशो राम गुप्ता, वार्ड नं. 4 के पूर्व पार्षद पवन बांसल, पेमा राम, अंजू बांसल, प्रीतम ज्ञानी, वार्ड नं. 5 के सुखविन्द्र सिंह, शिवजी राम बागड़ी, वार्ड नं. 11 के बख्तावर मल दर्दी ने आरोप लगाया कि उनके वार्डों में पिछले कई दिनों से पेयजल की आपूर्ति नहीं हो रही। जिसके चलते उन्हें पानी की एक बूंद भी नसीब नहीं हो रही और पेयजल के लिए जमीनी पानी का सहारा लेना पड़ रहा है।
वार्ड नं. 4 में तो लोगों का रोष इस कद्र फूट पड़ा कि सोमवार देर रात को लोगों ने जनस्वास्थ्य विभाग के जेई सतपाल को घेर लिया और पेयजल की आपूर्ति करवाने की मांग की। मौका पर पहुंचे वार्ड नं. 4 की पार्षद तथा नगरपालिका अध्यक्षा सिम्पा जैन के पति राजेन्द्र जैन ने लोगों को आश्वासन दिया कि मंगलवार को उन्हें पेयजल की आपूर्ति करवा दी जाएगी। तब कहीं जाकर वार्ड वासियों ने जेई का घेराव तोड़ा।
मंगलवार सुबह राजेन्द्र जैन ने वार्ड नं. 4 की गांधी बस्ती की गली नं. 4 के लिए स्पैशल पानी का टैंकर भेजा। लेकिन इसकी सूचना पाकर अन्य गलियों के लोग भी पेयजल के लिए इस टैंकर पर टूट पड़े।
इस संदर्भ में जनस्वास्थ्य विभाग के एसडीओ कंवर लाल से बातचीत की गई तो उन्होंने बताया कि डबवाली नगर के 19 वार्डों में विभाग द्वारा 80 लाख लीटर पेयजल की आपूर्ति दो वाटर वक्र्सों से की जा रही है। लेकिन पुराना जलघर जोकि अकेला 50 लाख लीटर पेयजल की आपूर्ति करता है, उसमें 3 टयूब्बैल भी लगे हुए हैं। लेकिन पिछले दो दिनों से इनमें से दो टयूब्बैल भी जवाब दे गये हैं।
इसके चलते अब एक टयूब्बैल के सहारे हर रोज 25 लाख लीटर पानी की आपूर्ति केवल पुराने जलघर से ही डबवाली की 65 प्रतिशत आबादी को हो रही है। चूंकि डिग्गियां पहले ही नहर बंदी के चलते नहरी पानी के अभाव में सूख गई हैं और इन डिग्गियों के सूख जाने पर पेयजल की आपूर्ति जमीनी पानी से की जा रही है। इसी प्रकार लाईन पार की आबादी को नये जलघर से 30 लाख लीटर पानी की आपूर्ति की जा रही है। लेकिन हरियाणा में भी नहर बंदी होने के कारण इस जलघर में भी पानी काफी कम रह गया है। एसडीओ कंवर लाल के अनुसार विभाग ने उपमण्डलाधीश डॉ. मुनीश नागपाल के आदेशों पर लोगों से अपील की थी कि नहर बंदी को देखते हुए लोग उनका सहयोग दें और पानी का दुरूपयोग न करें। न ही छिड़काव आदि के लिए पानी बहायें। लेकिन लोगों ने इस अपील को अनसुना कर दिया और विभाग को मजबूरन कड़े कदम उठाने पड़ रहे हैं। इन्हीं कदमों के तहत डबवाली के चौहान नगर और जवाहर नगर से दो पाईपे तथा जीटी रोड़ क्षेत्र से एक पानी की मोटर को जब्त किया गया है।

69 लाख मीट्रिक टन गेहूं खरीदी जा चुकी है-गुरू

डबवाली (लहू की लौ) मुख्यमंत्री पंजाब के प्रमुख सचिव दरबारा सिंह गुरू ने कहा कि अब तक पंजाब की अनाज मण्डियों में 69 लाख मीट्रिक टन गेहूं की खरीद हो चुकी है और गेहूं उठाने का काम युद्ध स्तर पर जारी है।
वे मंगलवार को जिला मुक्तसर की अनाज मण्डियों बादल, लम्बी, मलोट, गिदड़बाहा, मधीर और मुक्तसर का दौरा करने के बाद पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि अब तक पंजाब की अनाज मण्डियों में 71 लाख मीट्रिक टन गेहूं की आमद हुई है। जिसमें अलग-अलग खरीद एजेंसियों द्वारा कुल 69 लाख मीट्रिक टन गेहूं खरीदी जा चुकी है। उन्होंने कहा कि इस वर्ष मण्डियों में 110 लाख मीट्रिक टन गेहूं आने की संभावना है। उनके अनुसार 18 अप्रैल को पंजाब की मण्डियों में 7 लाख मीट्रिक टन गेहूं की आमद हुई। जिसमें 5 लाख मीट्रिक टन गेहूं की खरीद की गई। आज भी इससे अधिक गेहूं आने की संभावना है। गुरू ने कहा कि पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल की दिली इच्छा है कि किसानों को मण्डियों में कोई मुश्किल नहीं आने दी जाएगी और उनकी जिनस को मण्डियों में पहुंचने से अगले दिन के बाद खरीद करके फारग कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि गेहूं की अदायगी 48 घण्टों में देने के वायदे को निभाते हुए खरीद एजेंसियों को सख्त निर्देश दिये गये हैं कि किसानों को उनकी जिनस की कीमत की अदायगी निश्चित समय में की जाये। उनके अनुसार पंजाब में 10 हजार 500 करोड़ रूपये की राशि बैंकों में भुगताने के लिए सुरक्षित रखी गई है। अब तक किसानों को 5200 करोड़ रूपये का भुगतान किया जा चुका है।
उन्होंने स्वीकार किया कि शुरू में मण्डियों में गेहूं की लिफ्टिंग की समस्या आई थी और अब सरकार ने सारा ध्यान मण्डियों में गेहूं की लिफ्टिंग पर दे दिया है। आगामी दो दिनों तक मण्डियों में गेहूं की सारी लिफ्टिंग कर ली जाएगी। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री पंजाब ने प्रत्येक जिला के डिप्टी कमीश्नर को आदेश जारी किये हैं कि वे रोजाना मण्डियों का दौरा करें। गेहूं की खरीद और लिफ्टिंग पर पूरी नजर रखें। उन्होंने कहा कि पंजाब कैबिनेट मंत्रीमण्डल ने पिछले दिनों बैठक के दौरान यह फैसला लिया कि अगर कोई ठेकेदार मण्डियों में गेहूं की लिफ्टिंग में कोताही करता है, तो इसके बदले में जिला के डिप्टी कमीश्नर को गेहूं की लिफ्टिंग के दूसरे विकल्प करने के पूरे अधिकार दिये गये हैं। बारदाना सम्बन्धी जिक्र करते हुए प्रमुख सचिव ने कहा कि पंजाब की मण्डियों में 4 लाख 60 हजार गांठों की जरूरत है। जबकि सरकार के पास 4 लाख 90 हजार गांठों का स्टॉक मौजूद है। उन्होंने कहा कि वे स्वयं ही पूरे पंजाब का दौरा करके खरीद प्रबन्धों का जायजा ले रहे हैं और इसकी रिपोर्ट मुख्यमंत्री पंजाब को दे रहे हैं। इस मौके पर डिप्टी कमीश्नर मुक्तसर वरूण रूजम, एसएसपी इन्द्रमोहन सिंह, एमडी मार्कफेड एसएस धालीवाल, एडीसी दिप्रभा लाकड़ा, एसडीएम मलोट प्रवीण थिंद, एसडीएम गिदड़बाहा भूपिन्द्र मोहन सिंह, एसडीएम मुक्तसर दलविन्द्रजीत सिंह उपस्थित थे।

चार बच्चों की मां प्रेमी संग फुर्र

डबवाली (लहू की लौ) यहां के हर्ष नगर निवासी चार बच्चों की मां अपने प्रेमी संग फरार हो गई। न्याय की गुहार लगाते हुए महिला के पति और पिता ने अपनी बिरादरी की पंचायत के साथ डीएसपी डबवाली के पास लिखित दरख्वास्त देकर न्याय की गुहार लगाई है। हर्ष नगर निवासी सुरेश कुमार ने बताया कि उसकी पुत्री रेखा पत्नी बलदेव रविवार दोपहर को कागज बीनने के लिए घर से निकली थी लेकिन शाम तक घर वापिस नहीं लौटी। उसके साथ उसका 3 वर्षीय बेटा रोहित भी था। महिला के पिता के अनुसार वह तथा उसका दामाद बलदेव उसकी तालाश में जगह-जगह गये तो सोमवार सुबह इन्दिरा नगरी के लोगों ने उन्हें बताया कि उसे तो उनकी नगरी का रिक्शा चालक मोनू  भगा ले गया है। सुरेश और बलदेव ने बताया कि आज वह लोग अपनी बिरादरी की पंचायत को लेकर डीएसपी डबवाली बाबू लाल से मिले और उन्हें अपनी दास्तां सुनाई। उनके अनुसार पंचायत को डीएसपी ने न्याय दिलाने का आश्वासन दिया है। सुरेश के अनुसार बलदेव बूट पॉलिश का काम करता है और उसके रेखा से चार बच्चे हैं जिसमें तीन लड़के और एक लड़की है। इस सन्दर्भ में जब डीएसपी बाबू लाल से पूछा गया तो उन्होंने बताया कि उन्हें सुरेश की ओर से इस बारे में शिकायत मिली है और थाना शहर पुलिस को आवश्यक कार्यवाही के लिए भेज दिया गया है।

सरोबर में डूबने से किशोर की मृत्यु

औढ़ां (जितेन्द्र गर्ग) गांव चोरमार में स्थित श्री गुरुद्वारा साहिब के सरोबर में डूबने से एक 16 वर्षीय किशोर की मृत्यु हो गई है। थाना प्रभारी ओढ़ां हीरा सिंह ने बताया कि मनिंद्र सिंह नामक किशोर पंजाब के गांव फत्ताकेरा से कुछ दिन पूर्व अपनी रिश्तेदारी में चोरमार आया था। सोमवार की दोपहर वो कपड़े उतारकर जब सरोबर में स्नान करने लगा तो अचानक उसका पांव फिसल गया और तैरना नहीं जानने के कारण वो डूब गया। गुरुद्वारा के श्रद्धालुओं ने जब सरोबर के किनारे कपड़े पड़े देखे गए तो उन्हें शक हुआ कि कोई सरोबर में डूब गया है। गांववासियों ने उसे ढूंढने की कोशिश की लेकिन वो नहीं मिला तो गांव नुहियांवाली से गोताखोर चंद्र सिंह को बुलाया गया और उसने किशोर का शव सरोबर में से निकाला। थाना प्रभारी ने बताया कि सरोबर में रेलिंग न होने के कारण ये दुघर्टना हुई है। उन्होंने बताया कि यहां पहले भी हादसा हो चुका है इसलिए सरोबर में रेलिंग लगाई जानी चाहिए। उन्होंने बताया कि किशोर का शव पोस्टमार्टम हेतु सिरसा भेजा गया है।

बेस्ट सिंगर अवार्डी हैं राही

डबवाली (लहू की लौ) प्रतिभा के समक्ष परिस्थितियां भी नत-मस्तक हो जाती हैं। प्रतिभाशाली भले ही किसी भी पद पर पहुंच जायें, लेकिन उनकी प्रतिभा उन्हें आगे बढ़ाने के लिए हमेशा ही तत्पर रहती है। ऐसी ही प्रतिभा गुरबन्स सिंह राही पुत्र गुरजंट सिंह निवासी तख्त हजारा (सादूलशहर) हाल डबवाली में विद्यमान है। 30 वर्ष की छोटी सी आयु में वह अब तक कई पुरस्कार पा चुका है। जिसमें पंजाब विश्वविद्यालय से बेस्ट सिंगर और अन्तर्राष्ट्रीय फॉक पुरस्कार तक शामिल हैं। राही संगीत विशाद तक की परीक्षा पास कर चुके हैं और इन दिनों एजूकेशन में पीएचडी कर रहे हैं।
गुरबन्स राही का जन्म डबवाली के निकटवर्ती गांव हाकूवाला जिला मुक्तसर में 7 अप्रैल 1979 में हुआ। राही का बचपन पिता गुरजंट सिंह, माता अंग्रेज कौर, बड़े भाई कुलवन्त सिंह और बड़ी बहन परमजीत कौर, दादा श्रवण सिंह के प्यार-दुलार में राजस्थान के मटीली के गांव तख्तहजारा में बीता। प्राथमिक शिक्षा गांव के स्कूल में प्राप्त करने के बाद हायर सैकेण्डरी शिक्षा सादूलशहर के सरकारी स्कूल से प्राप्त की। बीएससी खालसा कॉलेज श्री गंगानगर, एमएससी एमडी कॉलेज श्री गंगानगर, बीएड और एमएड की डिग्री पंजाब विश्वविद्यालय, चण्डीगढ़ से प्राप्त की। इन दिनों वे बीकानेर विश्वविद्यालय से एजूकेशन विषय पर पीएचडी में अध्ययनरत हैं और इसके साथ ही बठिण्डा जिला के गांव कालझराणी के राजकीय विद्यालय में विज्ञान अध्यापक के पद पर अपनी सेवाएं दे रहे हैं।
राही के अनुसार बचपन से ही उन्हें संगीत का शौक है। सत्संग में जाना, भजन बोलना और हरमोनियम बजाना, उसकी हॉबी रही है। 1995 में एकल संगीत गायन प्रतियोगिता में उन्होंने मंच का सहारा लिया और गीत गाते हुए द्वितीय स्थान पाया। मास्टर फकीर चन्द और रामकुमार से संगीत की शिक्षा लेनी शुरू की। इसके बाद उसने पीछे मुड़कर नहीं देखा। मंच संचालन सम्बन्धी मार्गदर्शन उन्हें एच.बी. मनचन्दा से प्राप्त हुआ। वे पंजाबी और हिन्दी भाषा में जागरण तथा बाबा के दीवान में व्यवसायिक रूप से गाते हैं। जागरण के लिए उनका आदर्श उनके गुरू गोपाल भारद्वाज हैं। राही के अनुसार वर्ष 2000 के पश्चात वे व्यवसायिक तौर पर मंच पर आये और प्रथम वीसीडी पंजाबी गीतों पर आधारित सरूर निकाली। इसके बाद आजा बाला, चल सालासर नूं, धाम रूणेचे जाना, धाम रूणेचा, लंगर बाबे दा, इन्द्रपाल आहूजा व अशोक आहूजा के निर्देशन में और सुक्खा 38 वाला के सहयोग से पेश की।
इस समय उनकी चर्चित वीसीडी पीरां दर लड्डू वंडणे कुछ समय पूर्व ही रिलीज हुई है। जिसने उसे केवल ख्याति नहीं दी। बल्कि उसे आर्थिक सहयोग भी दिया और इस वीसीडी को निगाहे वाले बाबा के श्रद्धालुओं ने खूब खरीदा। वे अब तक पंजाब, राजस्थान और हरियाणा के कई नगरों व गांवों में अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन कर चुके हैं। उनकी विशेषता यह है कि वे भगवान शिव, बाबा रामदेव, मां भगवती, खाटू श्याम, हनुमान जी, बाबा बालकनाथ, बाबा लालजी, शनिदेव आदि के जागरण बखूबी कर चुके हैं। वे केवल पंजाबी और हिन्दी में ही नहीं, बल्कि राजस्थानी में भी सहजता से गा लेते हैं।
गुरबन्स राही ने कहा कि उसका सबसे बड़ा सम्मान श्रोताओं का प्यार है। परन्तु बीएड के दौरान पंजाब विश्वविद्यालय से मिला बेस्ट सिंगर अवार्ड, एमएड के दौरान मिला इन्टरनेशनल फॉक अवार्ड उनके लिए सबसे बड़ी यादगार है। उनकी इच्छा है कि वे अध्यापन के जरिये बच्चों की सेवा तो करें ही, लेकिन इसके साथ ही अनाथ बच्चों के लिए स्टेज शो करके जितनी समाजसेवा कर सकते हैं, उतनी समाजसेवा करें।

लिफ्टिंग जल्दी करने के आदेश

डबवाली (लहू की लौ) अनाज मण्डी में खरीद एजेंसियों द्वारा लिफ्टिंग में बरती जा रही ढिलाई को लेकर आढ़तियों ने मार्किट कमेटी के प्रशासक तथा उपमण्डलाधीश डॉ. मुनीश नागपाल से शिकायत की। जिस पर उन्होंने सोमवार शाम को आढ़तियों, खरीद एजेंसियों तथा ठेकेदारों की बैठक बुलाई।
इस मौके पर आढ़तिया एसोसिएशन के प्रधान प्रकाश चन्द बांसल तथा आढ़तिया रमेश मिढ़ा ने उपमण्डलाधीश से शिकायत की कि अनाज मण्डी से मुश्किल से हर रोज 25 हजार गट्टा गेहूं उठाया जा रहा है। जबकि एक ही फर्म के दो लाख गट्टे लिफ्टिंग का मण्डी में इंतजार कर रहे हैं। उन्होंने आढ़तियों की शिकायत सुनने के बाद खरीद एजेंसियों के अधिकारियों को निर्देश दिये कि हर हालत में लिफ्टिंग तैयार की जाये। खरीद एजेंसियों ने विश्वास दिलाया कि हर रोज 50 हजार गट्टा गेहूं अनाज मण्डी से उठाया जाएगा।
इस मौके पर मार्किट कमेटी डबवाली के कार्यकारी सचिव सुरेन्द्र कुमार ने बताया कि अब तक डबवाली अनाज मण्डी से खाद्य एवं आपूर्ति विभाग ने दो लाख 73 हजार, स्टेट वेयर हाऊस ने 1 लाख 80 हजार, कनफेड ने 3 लाख 20 हजार, एग्रो ने 2 लाख 50 हजार, एफसीआई ने 60 हजार, हैफेड ने 32 हजार गेहूं के गट्टों की खरीद की है। जिसमें से खाद्य एवं आपूर्ति विभाग ने 65 हजार, स्टेट वेयर हाऊस ने 67 हजार, कनफेड ने 75 हजार, एग्रो ने 1 लाख 20 हजार, हैफेड ने 32 हजार गट्टे उठा लिये हैं। जबकि एफसीआई ने एक भी गट्टा नहीं उठाया है।
इस मौके पर उपस्थित ठेकेदार रमेश बागड़ी और भारत भूषण निरंकारी ने बताया कि ट्रकों की कमी है और लेबर भी कम मिल रही है। एफसीआई की चावलों की स्पैशल लगी हुई है। जिसके चलते लिफ्टिंग में कमजोरी आई है। लेकिन लिफ्टिंग तेज कर दी जाएगी। बैठक में खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के निरीक्षक अरविन्द पूनियां, स्टेट वेयर हाऊस के मदन सेठी, एग्रो के बिशन, हैफेड के लीलाधर, कनफेड के बूहड़ सिंह उपस्थित थे।

डेढ़ किलो अफीम सहित काबू

डबवाली (लहू की लौ) संंगत पुलिस ने रविवार शाम को नशीले पदार्थों के खिलाफ चलाये गये चैकिंग अभियान के दौरान अफीम स्मगलिंग के आरोप में एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है।
डीएसपी (आर) बठिंडा बलजीत सिंह ने बताया कि थाना संगत के एएसआई कौर सिंह पुलिस पार्टी के साथ चैकिंग पर थे। यह दल गांव गुरथरी टी प्वाईंट रिफाईनरी रोड़ पर पहुंचा तो दल ने एक व्यक्ति को संदिग्ध हालतों में पुलिस को देख कर छिपते हुए देखा। लेकिन पुलिस ने उसे दबोच लिया। इस व्यक्ति ने अपनी पहचान कुलविन्द्र सिंह उर्फ बिल्लू पुत्र तारा सिंह निवासी सरहाली कलां (तरनतारन)के रूप में करवाई और पुलिस को बताया कि इस रोड़ से जा रहे ट्रकों में शरण लेने की ताक में था।
उन्होंने बताया कि एएसआई कौर सिंह ने उन्हें सूचना दी कि एक व्यक्ति को संदिग्ध हालत में पकड़ा गया है उसके पास भारी मात्रा में नशीले पदार्थ होने का संदेह है। वह मौका पर पहुंचे और उन्होंने आरोपी की तालाशी ली तो जांघ के साथ बांधी हुई अफीम मिली। जिसका वजन करने पर डेढ़ किलोग्राम निकला।
उन्होंने बताया कि आरोपी ने पुलिस के समक्ष स्वीकार किया कि उसने इस अफीम को 48 हजार रूपये में राजस्थान के जिला बीकानेर के नगर तलवाड़ा से खरीदा था और इसे तरनतारन और अमृतसर ले जाकर बेचना था। पुलिस ने एनडीपीएस एक्ट के तहत आरोपी पर केस दर्ज करके सोमवार को बठिंडा में एसडीजेएम केके सिंगला की अदालत में पेश करके एक दिन का पुलिस रिमांड प्राप्त कर लिया। पुलिस रिमांड के दौरान यह पता लगाने का प्रयास करेगी कि आरोपी इस कार्य में कितने समय से जुड़ा हुआ है और उसके अन्य साथी कौन हैं।