युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

13 जून 2011

सालगिरह के दिन युवक गाड़ी तले आया

डबवाली (लहू की लौ) गांव नरसिंह कलोनी स्थित जामा मस्जिद के सामने गाड़ी तले आने से एक युवक की मौत हो गई। मृतक की पहचान नरसिंह कलोनी निवासी गुरमीत सिंह (23) के रूप में हुई है। जीआरपी बठिंडा ने शव का बठिंडा के सरकारी अस्पताल से पोस्टमार्टम करवाने के बाद उसे उसके वारिसों को सौंप दिया।
गुरमीत सिंह मस्जिद के पास स्थित एक आरा पर कार्यरत था। रोजाना की तरह आरा पर अपना काम निबटाने के बाद शनिवार रात को वह घर के लिए निकला था। रेलवे लाईन क्रॉस करते समय किसी गाड़ी की चपेट में आकर घायल हो गया। घायल युवक ने तड़प-तड़प कर वहीं दम तोड़ दिया। रविवार सुबह करीब 5.30 बजे रेलवे का की-मैन छोटू राम रेल लाईन चैक कर रहा था। इसी दौरान उसने रेलवे लाईन के पास युवक के शव को देखा। उसने तत्काल इसकी सूचना स्टेशन मास्टर महेश सरीन को दी। इधर सूचना पाकर मौका पर जीआरपी बठिंडा में तैनात एएसआई जगदीश सिंह भी पहुंचे।
काफी खुश था गुरमीत
मृतक गुरमीत सिंह की शादी ठीक एक साल पहले 11 जून 2010 को राजस्थान के गांव बुधरांवाली की रहने वाली मनदीप कौर के साथ हुई थी। 11 जून 2011, दिन शनिवार को शादी की पहली सालगिरह थी। डेढ़ माह पहले वह अपनी पत्नी को उसके मायके छोड़ आया था। गुरमीत कौर गर्भवती है। भाई की मौत पर घटना स्थल के पास एक कोने में बैठकर भगवान को कोस रही रीतू ने बताया कि अपनी शादी की पहली सालगिरह पर उसका भाई सुबह से काफी खुश था। उसकी खुशी को किसी की नजर लग गई। वह सालगिरह वाले दिन ही अकाल मौत का ग्रास बन गया।
मामले की जांच कर रहे एएसआई जगदीश सिंह ने बताया कि मृतक गुरमीत के भाई जगमीत तथा मामा बीरबल निवासी देसू फुल्लो के ब्यान पर पुलिस ने दफा 174 सीआरपीसी के तहत इत्तफाकिया मौत की कार्रवाई करते हुए शव का पोस्टमार्टम करवाने के बाद शव को उसके वारिसों को सौंप दिया।
शव को पोस्टमार्टम के लिए डबवाली जन सहारा सेवा संस्था ने अपनी एम्बूलैंस से बठिंडा पहुंचाया। संस्था के प्रमुख आरके नीना ने बताया कि संस्था ने मृतक गुरमीत सिंह के पार्थिव शरीर का दाह संस्कार डबवाली के रामबाग में अपने खर्चे पर किया।

मोबाइल शॉप का ताला तोड़कर कंप्यूटर उड़ाया

डबवाली (लहू की लौ) यहां के न्यू बस स्टैण्ड रोड़ पर स्थित एक मोबाइल शॉप का ताला तोड़कर अज्ञात व्यक्ति हजारों रूपए का सामान चुरा ले गए। वारदात को अंजाम देने के बाद चोरों ने पास स्थित एक फोटो स्टूडियो के भी ताले चटकाए।
शिव टेलीकॉम के मालिक राजपाल (22), मोनू (18) निवासी मण्डी किलियांवाली ने बताया कि शनिवार रात करीब 9 बजे वे अपनी दुकान मंगल करके घर गए थे। रविवार सुबह करीब साढ़े सात बजे उनके पास फोन आया कि उनकी दुकान के ताले टूटे हुए हैं। शट्टर ऊपर उठा हुआ है। सूचना पाकर वे मौका पर पहुंचे। राजपाल ने चोरी की सूचना पुलिस को दी। सूचना पाकर थाना शहर प्रभारी एसआई महावीर सिंह, एएसआई गोपाल राम, एएसआई रामनिवास मौके पर पहुंचे और घटना स्थल का निरीक्षण किया। राजपाल ने बताया कि अज्ञात चोर शॉप में पड़ा कंप्यूटर, स्पाईस कंपनी के सात तथा पांच चाईनिज मोबाइल सैट चुरा ले गए। जिसकी अनुमानित कीमत करीब पचास हजार रूपए है। इधर चोरों ने टेलीकॉम के सामने स्थित महक डिजिटल स्टूडियो को भी निशाना बनाने का प्रयास किया। चोरों ने स्टूडियो के शट्टर पर लगा एक ताला चटका दिया। जबकि दूसरे ताले पर किसी चीज से जोरदार प्रहार किया। लेकिन ताला नहीं टूटा। एक रात में हुई दो वारदातों के बाद न्यू बस स्टैण्ड रोड़ के दुकानदारों में रोष पाया जा रहा है।
थाना शहर प्रभारी एसआई महावीर सिंह ने बताया कि मोबाइल शॉप मालिक राजपाल की शिकायत के आधार पर मामले की जांच की जा रही है।

कालांवाली में लगा कवि दरबार

कालांवाली (नरेश सिंगला) पंजाबी साहित्य सभा कालांवाली ने महाजन धर्मशाला में रविवार को हरियाणा पंजाबी साहित्य अकादमी, पंचकूला  के सहयोग से कवि दरबार एवं पुस्तक विमोचन समारोह आयोजित गया। जिसमें हरियाणा पंजाबी साहित्य अकादमी के निदेशक सुखचैन सिंह भंडारी ने बतौर मुख्यातिथि शिरकत की।
उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए सुखचैन सिंह भंडारी ने कहा कि हरियाणा के नगरों में पंजाबी भाषा, साहित्य एवं संस्कृति को बढ़ावा देने के  अलावा छोटे-छोटे गांवो व कस्बों में हरियाणा पंजाबी साहित्य अकादमी नुक्कड़ नाटक आयोजित करेगी। इससे पूर्व पंजाबी साहित्य सभा कालांवाली के संरक्षक बीरबल दास गुप्तेश्वर ने उपस्थित लेखकों एवं गणमान्य लोगों का स्वागत किया। इस मौके पर पंजाबी साहित्य सभा कालांवाली के प्रधान भूपिंद्र पन्नीवालिया ने हरियाणा के गावों में पंजाबी भाषा की स्थिति पर प्रकाश डाला। उन्होंने डॉ. जीडी चौधरी को शिव कुमार बटालवी पुरस्कार से सम्मानित किया।
इस दौरान हरियाणा के पंजाबी लेखकों की पुस्तकों का भी विमोचन किया गया। जिसमें गुरजीत सिंह कालांवाली की पुस्तक लफजां दी चंगेर, गुरदास सिंह पालना की पुस्तकें गुरू गोबिंद सिंह (महाकाव्य) व सच्ची किरत एवं पूर्ण सिंह निराला की पुस्तक रूत टपियां दी आई का विमोचन मुख्यातिथि द्वारा किया गया। समारोह के अंत में कवि दरबार का आयोजन किया गया जिसमें सुखजीत कौर कुरंगावाली, गुरजीत सिंह, हरगोबिन्द सिंह शेखपुरिया, रेवती प्रसाद, दर्शन भम्मी, हरबंस भुल्लर, अमरीक सिंह, हरि सिंह दिलबर, राम स्वरूप रिखि, जीत पाल जीता, जग्गा जगमालवाली सहित अनेक कवियों ने अपनी रचनाओं से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध किया। मंच का संचालन सुरेन्द्र पाल सिंह ने किया।

गाड़ी तले आकर मरा

डबवाली (लहू की लौ) रेलवे पुलिस को स्टेशन के सामने पटरी पर एक युवक का शव मिला है। जिसकी पहचान बिमल (36) निवासी परारी थाना बहादरपुर जिला दरबंगा (बिहार) के रूप में हुई है। रविवार सुबह करीब 5.30 बजे रेलवे स्टेशन मास्टर महेश सरीन को सूचना मिली की स्टेशन के सामने पहली पटरी के नजदीक एक युवक का शव पड़ा हुआ है। उन्होंने तत्काल जीआरपी डबवाली को सूचित किया। मौका पर पहुंचे जीआरपी के एएसआई सुरेश कुमार ने डबवाली जन सहारा सेवा संस्था के सहयोग से शव को डबवाली के सरकारी अस्पताल में पहुंचाया।
एएसआई सुरेश कुमार ने बताया कि मृतक की पहचान उसकी जेब से मिले एक कागज पर लिखे फोन नंबरों के आधार पर की गई। विनोद निवासी दिल्ली ने मृतक की पहचान अपने जीजा बिमल के रूप में करवाई। मृतक की बाईं बाजू पर सुनीता नाम लिखा हुआ था, जोकि उसकी पत्नी का नाम बताया जाता है। विनोद ने पुलिस को यह भी बताया कि बिमल डबवाली में रहकर मजदूरी कर रहा था।
पुलिस ने मृतक के चाचा कमलेश्वर मंडल तथा चचेरे भाई रामउद्गार मंडल निवासी परेरा हाल सेठी आईस फेक्ट्री, किलियांवाली के ब्यान पर 174 सीआरपीसी के तहत इत्तेफाकिया मौत की कार्रवाई करते हुए पोस्टमार्टम के बाद शव को उसके वारिसों को सौंप दिया। पुलिस को उन्होंने बताया कि बिमल अवध-असम एक्सप्रैस में सवार होने के लिए रेलवे स्टेशन पर आया था और उसी दौरान ही कहीं ये दुर्घटना उसके साथ हुई और उसकी वहां मौत हो गई।