युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

25 जनवरी 2011

मारूति कार में आग लगी, दो झुलसे


डबवाली (लहू की लौ) सोमवार शाम को पटाखों की आवाज से मेन बाजार से जा रही एक मारूति कार को लगी आग से दुकानदारों में अफरा-तफरी मच गई। दुकानदार दुकानें छोड़ कर भाग खड़े हुए है। कार में सवार चार लोगों में से दो लोग इस आग का शिकार होकर झुलस गये।
प्रत्यक्षदर्शी दुकानदार मुकन्दलाल सिंगला, प्रशोत्तम ग्रोवर, महिन्द्र कुमार, सुनील कुमार ने बताया कि शाम को लगभग 4.30 बजे मेन बाजार से गुजर रही मारूति कार से पटाखे की आवाज आई। थोड़े ही समय बाद कार में एक और पटाखा चला और देखते ही देखते कार की डिग्गी में आग धधकने लगी। आग को देख कर बाजार में हड़कम्प मच गया। आसपास के दुकानदार दुकानें छोड़ कर भाग खड़े हुए। कार में सवार लोग आनन फानन में कार से उतरने लगे तो दो लोग कार में फंस गये। कार में फंसे लोगों को देख कर उन्होंने हौसला करके अन्य लोगों की मदद से मिट्टी डाल कर आग पर नियंत्रण पाया। इस दौरान दो लोग आग से झुलस गये। जिन्हें तुरन्त निकटवर्ती प्राईवेट अस्पताल ले जाया गया।
झुलसने वालों में बाबा शंकर मुनि (40), निर्मल सिंह (35) निवासीगण देसूजोधा के नाम शामिल हैं। बाबा शंकर मुनि ने बताया कि  डबवाली उपमंडल के गांव देसूजोधा में उनका बाबा पाल दास के नाम पर डेरा है और डेरे में 25 जनवरी को श्री मद्भागवत गीता का आरम्भ करना था और इसी को लेकर वह गांव के निर्मल सिंह, सीता मैम्बर के साथ नरेन्द्र सिंह की मारूति कार पर सोमवार बाजार से सामान खरीदने के लिए आये थे। धूप, कपड़ा, नारियल बगैरा लेकर जब वह वापिस गांव लौट रहे थे तो अचानक सब्जी मंडी के बाहर मेन बाजार में उनकी कार में आग लग लग गई। सीता मैम्बर तथा नरेन्द्र सिंह तो कार से बाहर निकल गये लेकिन वह तथा निर्मल सिंह कार में फंस गये। निर्मल सिंह की टांगें तथा बाबा शंकर मुनि का मुंह आग से झुलस गया। बाबा शंकर मुनि ने बताया कि कार में सिलेंडर लगा हुआ था और अचानक सिलेंडर में आग लगने से यह घटना घटित हुई। सूचना पाकर मौका पर डबवाली नगरपालिका फायर ब्रिगेड भी पहुंची लेकिन तब तक आग पर काबू पाया जा चुका था।
गोल बाजार पुलिस चौकी प्रभारी एएसआई कृष्ण कुमार, थाना शहर पीसीआर पर एसआई भगत राम, एएसआई महावीर सिंह सूचना पाकर पहुंचे और उन्होंने घटनास्थल का निरीक्षण किया।

तीस लाख की अफीम के साथ धरा


औढ़ां (जितेन्द्र गर्ग) जिला पुलिस अधीक्षक सत्येंद्र गुप्ता के निर्देशानुसार औढ़ां पुलिस ने मादक पदार्थों की तस्करी पर शिकंजा कसते हुए एक बड़ी सफलता प्राप्त की है। जिसके तहत एक व्यक्ति को 33 किलो 200 ग्राम अफीम व जीप सहित गिरफ्तार किया है। पकड़ी गई अफीम का बाजार मूल्य करीब 30 लाख रूपए है।
जिला पुलिस कप्तान सत्येंद्र गुप्ता ने बताया कि रविवार रात को गुप्त सूचना मिली कि एक व्यक्ति जीप नंबर आरजे-23यूए-0628 पर अफीम लेकर सिरसा की तरफ जा रहा है। सूचना के आधार पर थाना प्रभारी हीरा सिंह के नेतृत्व में ओढां थाना के सहायक उपनिरीक्षक जगदीश, ओमप्रकाश, सुभाष, ओमप्रकाश, मुख्य सिपाही दाताराम, सिपाही जगदीश व दयानंद पर आधारित दो पुलिस पार्टियां गठित करके टी प्वाइंट सालमखेड़ा व घुकांवाली पर तैनात कर दी गई। इसी दौरान डबवाली की ओर से एक जीप आती दिखाई दी और सालमखेड़ा टी प्वाइंट पर पुलिस ने उसे रूकने का इशारा किया। लेकिन चालक ने जीप नहीं रोकी, पुलिस ने जीप का पीछा करते हुए आगे वाले टी प्वाइंट पर इसकी सूचना दी। जीटी रोड पर स्थित घुकांवाली टी प्वाइंट पर पुलिस ने जीप को रोक लिया और शक के आधार पर उसकी तलाशी लेनी चाही तो जीप चालक ने तलाशी देने से इंकार कर दिया।
औढ़ां थाना प्रभारी ने इसकी सूचना तुरंत डीएसपी डबवाली बाबू लाल को दी। डीएसपी ने मौके पर आकर जीप की तलाशी ली तो जीप की अगली सीट के नीचे एक बॉक्स में अफीम के तीन-तीन किलो के 11 पैकेट बरामद हुए। पूछताछ करने पर व्यक्ति ने अपनी पहचान अमनदीप पुत्र गुरनाम सिंह निवासी खड़क सिंह वाला जिला मानसा पंजाब के रूप में करवाई।
पुलिस अधीक्षक के अनुसार प्रारंभिक पूछताछ में आरोपी ने बताया कि वह अफीम राजस्थान से लेकर आया है और गांव रघुआना निवासी कुलदीप सिंह उर्फ कमलजीत पुत्र मुखत्यार सिंह को देने जा रहा था। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि कुलदीप के खिलाफ भी अभियोग दर्ज किया गया है। शीघ्र ही उसे काबू कर लिया जाएगा। पकड़े गए आरोपी को उपमण्डल न्यायिक दण्डाधिकारी डबवाली महावीर सिंह की अदालत में पेश किया गया। अदालत ने आरोपी को चार दिन के पुलिस रिमांड पर भेजने के आदेश दिए।

प्रदर्शनों के नाम रहा सोमवार


डबवाली (लहू की लौ) सोमवार का दिन प्रदर्शनों के नाम रहा। हरियाणा खेत मजदूर यूनियन ने बीपीएल परिवारों की समस्याओं को लेकर यहां एसडीएम कार्यालय घेरा। वहीं नगरपालिका के सफाई कर्मचारियों तथा लोक निर्माण विभाग के कर्मचारियों ने अपनी मांगों को लेकर अलग-अलग जगह नारेबाजी कर सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया।
हरियाणा खेत मजदूर यूनियन जिला सिरसा के अध्यक्ष कामरेड गणपत राम की अगुवाई में बीपीएल कार्ड धारकों हेतराम, हुक्मचंद, कौशल्या देवी, मूर्ति देवी, चम्पा देवी, महेन्द्र कौर, कृष्णा देवी, कुलदीप कौर, हंसराज, मंगल सैन, भगवान दास, चुन्नी लाल बगैरा ने एसडीएम डॉ. मुनीश नागपाल के कार्यालय के समक्ष धरना दिया। हरियाणा सरकार के विरूद्ध नारेबाजी की जोरदार प्रदर्शन किया। करीब पांच घंटे के धरने के बाद मुख्यमंत्री के नाम नायब तहसीलदार हरिओम बिश्नोई को अपनी मांगों के समर्थन में ज्ञापन सौंपा। कामरेड गणपत राम के अनुसार सरकार की ओर से बीपीएल चुने गए परिवारों के राशन कार्डों पर मुहर लगे करीब डेढ़ साल हो चुका है। लेकिन इसके बावजूद बीपीएल परिवार सरकार की ओर से उन्हें मुहैया करवाई जाने वाली सुविधाओं का लाभ नहीं उठा पा रहे हैं। उन्होंने मांग की कि मुहर लगे बीपीएल कार्ड धारकों को सुविधाएं प्रदान की जाएं।
इधर नगरपालिका के सफाई कर्मचारियों ने हरियाणा नगरपालिका सफाई कर्मचारी संघ के आह्वान पर अपनी मांगों के समर्थन में काले बिल्ले लगाकर और झाडू उल्टे करके नपा की सफाई शाखा के समक्ष प्रदेश सरकार के खिलाफ जोरदार नारेबाजी करके प्रदर्शन किया। डबवाली सफाई कर्मचारी यूनियन के अध्यक्ष संजय डुल्गच ने बताया कि 6वां वेतन आयोग लागू हुए को काफी समय बीत चुका है। लेकिन नगरपालिका के सफाई कर्मियों को उनका बकाया एरियर अभी तक नहीं मिला। इतना ही नहीं कर्मचारियों को हर माह मिलने वाली तनख्वाह में से पीएफ काट लिया जाता है। जबकि काटा गया पीएफ आज तक उनके खातों में नहीं आया। इसके अतिरिक्त संघ की प्रदेश ईकाई ने कर्मचारियों की 17 सूत्री मांगों के संबंध में एक ज्ञापन भी प्रदेश सरकार का दिया है। जिस पर सरकार कोई कदम नहीं उठा रही है। उन्होंने चेतावनी दी कि अगर सरकार ने कर्मचारियों की मांगे जल्द पूरी न की तो संघ के आह्वान पर आंदोलन को ओर तेज कर दिया जाएगा। इस अवसर पर शाम लाल चौहान, सुनील कुमार, राजकुमार, भीम सिंह, ओमप्रकाश बागड़ी, संतोष पुहाल, दर्शना देवी, बाला रानी, लक्ष्मी देवी, कमला देवी, मंजू देवी सहित काफर संख्या में नगरपालिका के सफाई कर्मचारी उपस्थित थे।
उधर लोक निर्माण विभाग के कर्मचारियों ने उपमण्डल अभियंता कार्यालय के समक्ष एक गेट मीटिंग के दौरान हुड्डा सरकार के विरूद्ध नारेबाजी करके अपना रोष जताया। मीटिंग की अध्यक्षता पवन कुमार शर्मा ने की। बैठक को जयवीर शर्मा महासचिव महासंघ, राजकुमार प्रांतीय उपप्रधान ने संबोधित किया। वक्ताओं ने कहा कि कच्चे कर्मचारियों को पक्का करने, निजीकरण बंद करने तथा नियमित भर्ती करने आदि मांगों को लेकर हरियाणा कर्मचारी महासंघ के अध्यक्ष रमेश शर्मा तथा महासचिव वीर सिंह कर्मचारियों की मांगों के लिए पिछले कुछ दिनों से जींद में अनिश्चितकालीन आमरण अनशन पर डटे हुए थे। लेकिन 23 जनवरी रात को प्रदेश सरकार ने पुलिस बल के प्रयोग से कर्मचारी नेताओं को उठवा लिया। जिनका अभी तक कोई अता-पता नहीं है। उन्होंने कहा कि जब तक सरकार कर्मचारियों की मांगे मान नहीं लेती, तब तक महासंघ का संघर्ष जारी रहेगा। इस मौके पर कर्मचारी नेता रूप राम, सुभाष कुमार, हेमराज, पाल सिंह, तेजा सिंह, निहाल सिंह, जीत सिंह, रामअवतार, ओमप्रकाश शर्मा आदि उपस्थित थे।

सड़क हादसों में तीन की मौत


डबवाली (लहू की लौ) रविवार रात को डबवाली-बठिंडा मार्ग पर हुए दो सड़क हादसों में तीन जनों की मौत हो गई।
गांव जस्सी के निकट फीटर रेहड़ा और ट्रेक्टर-ट्राली टक्कर में फीटर रेहड़ा पर सवार गांव गोबिंदपुरा निवासी गुरजंट सिंह (60) की मौत हो गई। गुरजंट मण्डी किलियांवाली की पशु मण्डी में भैंस खरीदकर वापिस गांव लौट रहा था।
गांव चकरूलदू सिंहवाला के पास एक कार और ट्रेक्टर-ट्राली की आमने-सामने हुई भिड़ंत में कार सवार दो युवकों की मौत हो गई। नीना के अनुसार सांवतखेड़ा निवासी राजपाल उर्फ हैप्पी (32), बलजिन्द्र सिंह उर्फ काका (35), छिन्द्रपाल सिंह (40), प्रितपाल सिंह (37) बठिंडा में एक शादी समारोह में भाग लेकर वापिस गांव लौट रहे थे। कार को छिन्द्रपाल चला रहा था। गांव चकरूलदू सिंहवाला के पास करीब 7.30 बजे डबवाली साईड से आई नरमा की एक भरी ट्रेक्टर-ट्राली ने कार में टक्कर मार दी। हैप्पी और बलजिन्द्र की मौका पर ही मौत हो गई। सूचना पाकर मौका पर पहुंचे डबवाली जन सहारा सेवा संस्था के अध्यक्ष आरके नीना तथा एम्बूलैंस चालक कुलवंत सिंह ने घायल छिन्द्रपाल सिंह तथा प्रितपाल सिंह को उपचार के लिए बठिंडा के सरकारी अस्पताल में दाखिल करवाया।
मामले की जांच कर रहे थाना संगत के एएसआई सुखमंदर सिंह ने बताया कि घायल छिन्द्रपाल के ब्यानों के आधार पर अज्ञात ट्रेक्टर चालक के खिलाफ लापरवाही से वाहन चलाकर दुर्घटना को अंजाम देने के आरोप में मामला दर्ज कर उसकी तालाश शुरू कर दी गई है।