युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

03 फ़रवरी 2010

शिवसेना की गतिविधियां अलोकतांत्रिक: शाहरुख

न्यूयार्क। आईपीएल में पाकिस्तान के खिलाडिय़ों को तवज्जो न मिलने पर अपनी टिप्पणी से शिवसेना के गुस्से का शिकार बने शाहरुख खान ने कहा है कि वह इसके लिए माफी नहीं मांगेंगे। शाहरुख ने शिवसेना की गतिविधियों को अलोकतांत्रिक करार दिया है। अपनी टिप्पणी पर कायम शाहरुख ने जोर देते हुए कहा कि हर भारतीय इस बात से सहमत है कि भारत एक अच्छा देश है, जहां हर मेहमान का स्वागत होता है। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि सिर्फ एक अभिनेता के शब्दों के साथ बहुत अहमियत जुड़ी हुई है। भारत में शिवसेना की प्रतिक्रियाओं के बारे में पूछे गए प्रश्न के जवाब में शाहरुख ने कहा कि मुझे ऐसी प्रतिक्रियाएं अस्वस्थ, अलोकतांत्रिक और गैरसंवेदनशील लगती हैं। आप सिर्फ इतना ही कह सकते हैं कि आपका जो भी मानना है, आप उस पर कायम रहें और मुझे आशा है कि मेरे पास इतनी शक्ति है कि मैं ऐसा कर सकूंगा। शाहरुख ने कहा कि एक भारतीय होने के नाते मुझे कोई शर्म नहीं है, न दु:ख है और न ही उसके लिए माफी मांगना चाहता हूं जो मैंने कहा है। आईपीएल पर उपजे विवाद के बाद कोलकाता नाइट राइडर्स क्रिकेट टीम के मालिक शाहरुख ने पाकिस्तानी खिलाडिय़ों की उपेक्षा के खिलाफ आवाज उठाई थी। शाहरुख ने कहा था कि अगर उनकी टीम को खिलाडिय़ों को नियुक्त करने का मौका मिलता तो वह सीमा पार के खिलाडिय़ों को लेते।
शिवसेना के कार्यकर्ताओं ने इस मामले को देशभक्ति से जोड़ते हुए शाहरुख की फिल्म 'माय नेम इज खानÓ के पोस्टर फाड़ दिए थे और शाहरुख के मुंबई स्थित बंगले के बाहर प्रदर्शन भी किए थे। पार्टी ने चेतावनी दी थी कि जब तक शाहरुख माफी नहीं मांगते वे फिल्म को प्रदर्शित नहीं होने देंगे। शिवसेना के नेता अनिल परब ने कहा था कि शाहरुख अगर पाकिस्तानी खिलाडिय़ों के पक्ष में बोलना चाहते हैं तो उन्हें पाकिस्तान चले जाना चाहिए। प्रदर्शनकारियों ने शाहरुख के घर के बाहर मुंबई से पाकिस्तान की टिकट के प्रतीक के तौर पर पोस्टर लहराए थे। पार्टी के वरिष्ठ नेता मनोहर जोशी ने कहा था कि यह देशभक्ति का मुद्दा है और शाहरुख को राजनीति में हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए। शाहरुख ने कहा कि उनका वक्तव्य एक भारतीय के दृष्टिकोण से था और उनका मानना है कि सीमा के तनाव को व्यक्तिगत नफरत में नहीं बदळा जाना चाहिए। अपनी फिल्म के प्रचार के सिलसिले में यहां आए शाहरुख ने कहा कि मैंने जो भी कहा, जो एक मुद्दा बन गया- मैंने एक भारतीय होने के नाते कहा, मुझे लगता है कि हर भारतीय यही कहेगा कि हम एक अच्छे देश के निवासी हैं जहां हर मेहमान का स्वागत होता है।
शाहरुख ने कहा कि हर देश की सीमा पर तनाव होता है लेकिन उस तनाव के कारण हम हमारे बच्चों और युवाओं को गलत चीज नहीं सिखा सकते। 'माय नेम इज खानÓ का प्रचार कर रहे शाहरुख से पत्रकार फिल्म के बजाए इस विवाद के बारे में प्रश्न पूछते ज्यादा नजर आए। शाहरुख ने कहा कि मैं कोई राजनीतिज्ञ नहीं हूं और कोई कट्टरपंथी भी नहीं हूं, मैं सिर्फ एक अभिनेता हूं और बहुत सी बातें कहता हूं। कई बार मेरी बातों को लोग सही या गलत तरीके से लेते हैं लेकिन इसे इतना ज्यादा तूल नहीं देना चाहिए।

अल कायदा बेकसूर मुस्लिमों का हत्यारा: ओबामा

वाशिंगटन। अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा का मानना है कि अल कायदा दुनिया भर के बेकसूर मुसलमानों का सबसे बड़ा हत्यारा है। ओबामा ने यूट्यूब को दिए एक साक्षात्कार में कहा कि मुझे लगता है कि यह समझना अहम है कि हमारा युद्ध एक समूह विशेष के खिलाफ है- अल कायदा और उसके चरमपंथी सहयोगी, जो दुनिया भर में फैले हुए हैं, जो हम पर हमला करते हैं, हमारे सहयोगियों पर, दुनिया भर के दूतावासों पर और सबसे दुखद तौर पर मासूम लोगों पर हमला करते हैं- वे यह नहीं देखते कि जिन पर हमला कर रहे हैं उनकी पारिवारिक पृष्ठभूमि और मजहब क्या है। ओबामा ने कहा कि अल कायदा संभवत: मासूम और बेकसूर मुस्लिमों का सबसे बड़ा हत्यारा है। अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि अमेरिका को हर मोर्चे पर आतंकवाद से लडऩा है। ओबामा ने कहा कि हमें अफगानिस्तान और पाकिस्तान की सीमा वाले इलाकों में उनसे ठोस तरीके से निपटना होगा, जहां उन्होंने अब भी पकड़ बना रखी है। उन्होंने कहा कि अब वे यमन और सोमालिया जैसे इलाकों में भी फैल रहे हंै। हम उनकी कार्रवाइयों को सीमित करने और उन्हें उन इलाकों में नष्ट करने के लिए अपने अंतरराष्ट्रीय सहयोगियों के साथ मिल कर काम कर रहे हंै।
ओबामा ने कहा- लेकिन हमें उनके नए विचारों से भी लडऩा होगा। हमें मुस्लिमों के उस बहुसंख्यक समुदाय के साथ मिल कर काम करना होगा जो इस हिंसा को नकार चुके हैं। ओबामा को महसूस होता है कि उनके प्रशासन ने इस दिशा में उतना अच्छा काम नहीं किया, जितना किया जाना चाहिए। ओबामा ने कहा कि हमें यमन जैसे देशों में आर्थिक परियोजनाएं शुरू करनी चाहिए, जो बहुत गरीब हैं। इससे यह सुनिश्चित किया जा सकेगा कि वहां के युवा लोगों को मौके मिलें। यही बात पाकिस्तान में भी सच है। उन्होंने कहा कि इन चरमपंथी संगठनों से निपटने के लिए हमें हमारी पूरी शक्ति से लडऩा होगा।

सपा से निकाले गये अमर सिंह, बोले धन्यवाद मुलायम

नई दिल्ली। समाजवादी पार्टी से निकाले जाने के बाद अमर सिंह ने आज पार्टी प्रमुख मुलायम सिंह यादव को इसके लिए धन्यवाद देते हुए कहा कि अब मैं अपनी तरह से काम करने के लिए आजाद हूं। उन्होंने कहा कि यह मेरे लिए राजनीतिक निर्वाण है। अमर ने मुलायम सिंह के खिलाफ एक भी शब्द कहने से इंकार करते हुए कहा कि मैंने १४ वर्षों तक पार्टी की दिन रात सेवा की उसके बदळे मुझे यह सिला मिला। उन्होंने कहा कि वैसे भी पार्टी में रहकर अंग्रेजी, कम्प्यूटर और ब्लॉगिंग का विरोध करने पर मुझे घुटन महसूस होती थी। उन्होंने कहा कि यह हैरत की बात है कि पार्टी प्रमुख को यह समझने में १४ साल का समय लग गया कि पार्टी का पूंजीवाद हो गया। जबकि उत्तर प्रदेश विकास परिषद का गठन स्वयं मुलायम सिंह ने मुख्यमंत्री रहते हुए कहा था जिसमें देश के प्रमुख उद्योगपति शामिल थे।
उन्होंने कहा कि मैं १४ साल प्रवक्ता रहा और अब १४ दिन पुराने प्रवक्ता मोहन सिंह मेरे खिलाफ आग उगल रहे हैं जबकि वह लोकसभा चुनावों के समय मेरे पास गिड़गिड़ाकर आर्थिक मदद मांगने आए लेकिन चुनाव में तीसरे नंबर पर रहे। अब वह ललचाई आंखों से राज्यसभा पर निगाह लगाए हुए हैं, मेरी उन्हें शुभकामना है कि राज्यसभा उन्हें मिल जाए।
उन्होंने कहा कि मुझसे सोमवार को मुलायम सिंह की ओर से पार्टी सांसद राशिद मसूद ने संपर्क किया और पूछा कि क्या पार्टी में आपके लौटने की संभावनाएं हैं तो मैंने साफ इंकार कर दिया क्योंकि मैं इस आरोप से खिन्न हूं कि कल्याण सिंह को पार्टी से जोडऩे के लिए मैं जिम्मेदार हूं और मेरे पास मुलायम परिवार के खिलाफ सीडी है। उन्होंने इस कथित भ्रामक प्रचार पर भी सपा को आड़े हाथों लिया कि वह मायावती का पक्ष ले रहे हैं। उन्होंने कहा कि अभी दो दिन पहले ही प्रदेश सरकार ने मेरे खिलाफ एक मुकदमे को गति प्रदान की है। मेरे खिलाफ मायावती ने जो मुकदमे कराए हैं वह मुलायम और उनके परिवार की ढाल बनकर जब मैं खड़ा हुआ तब दर्ज कराए गए। वर्तमान प्रवक्ता पर तो ऐसा कोई मुकदमा नहीं है। यही नहीं मुलायम परिवार के किसी सांसद ने भी संसद के दोनों सदनों में मुलायम का कभी बचाव नहीं किया।
उन्होंने कहा कि मैंने अपने ब्लॉग में ज्योति बसु और सोनिया गांधी के त्याग की जो तारीफ की उसमें कुछ भी गलत नहीं है। अपने दिल्ली स्थित सरकारी आवास पर संवाददाताओं से बातचीत कर रहे अमर सिंह ने कहा कि मैंने पार्टी को यह सुझाव देकर कुछ गलत नहीं किया कि जब कांग्रेस और भाजपा जैसी पार्टियां महिला आरक्षण के समर्थन में हैं तो इस विधेयक का विरोध करके कोई फायदा नहीं। साथ ही यह सुझाव भी कोई गलत नहीं था कि पार्टी को अब मुस्लिम या अति पिछड़े को मुख्यमंत्री बनाना चाहिए। मुलायम को खुद बार-बार मुख्यमंत्री या फिर अपने परिवार के लोगों को इस पद पर लाने का प्रयास नहीं करना चाहिए।
पार्टी प्रवक्ता के आरोपों से नाराज अमर सिंह ने कहा कि इन लोगों ने बड़ी बेशर्मी से मेरे योगदान को नकारते हुए मुझे कमीना और पागल तक कहा। यदि यह विशेषण मुझे नहीं दिए जाते तो मैं घर पर रहता लेकिन इन विशेषणों के कारण मैं सभाएं करने पर विवश हुआ। उन्होंने कहा कि मैंने तो पार्टी से सिक लीव मांगी थी और अपनी बीमारी की बात कहकर, कुछ दिन आराम करने की बात कहकर कुछ गलत नहीं किया।
अमर ने साफ किया कि उन्होंने अभी कोई राजनीतिक निर्णय नहीं लिया है और जो लोकमंच बनाया है उसके जरिए वह काम करेंगे। उन्होंने कहा कि हमने तो क्षत्रियों की सभा में भी अति पिछड़ों के हित की बात की।