युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

01 अगस्त 2010

बारिश के बाद बाढ़ जैसे हालात

डबवाली (लहू की लौ) शनिवार को डबवाली नगर में जोरदार बारिश हुई। करीब डेढ़ घण्टा चली बारिश से बिजलीघर, दुकानों तथा घरों में बरसाती पानी घुस गया। हर्षनगर में दो बच्चे पानी में बह गए। क्षेत्र में करीब 40 एमएम बारिश होने का अनुमान है।
वार्ड नं. 17 की पार्षद गीता चौहान ने बताया कि शनिवार को हुई बरसात ने उनके हर्ष नगर में काफी तबाही मचाई। सात परिवार जो तम्बू लगा कर रह रहे थे उनके तम्बू व सामान पानी में बह गया। पार्षद के अनुसार सिंघीकाट मुहल्ला में रहने वाले दीपक कुमार पुत्र निरंजन कुमार, मोनू पुत्र गुल्लू राम, सुच्चा पुत्र मदन लाल, विनोद पुत्र टैरा राम, मंजू रानी पत्नी तुपा राम, बेगम पत्नी स्व. जागराज, शगनलाल के घर के बर्तन, बिस्तरे, चारपाई बगैरा सब पानी में बह गए। शगनलाल की दो बेटियां मिट्ठू (8), आरती (4) भी बरसात के पानी में बह गईं। उनके मुहल्ले के लोगों ने आसपास के खेतों में पानी निकाल कर हर्ष नगर को बचाया। करीब दो घण्टे के कड़े संघर्ष के बाद पानी में बही बच्चियों को बेहोशी की हालत में बाहर निकाला गया। उन्हें निकटवर्ती एक प्राईवेट अस्पताल में लेजाया गया। दोनों बच्चों की हालत खतरे से बाहर बताई जाती है।
इधर वार्ड नं. 11 के निवासी संजय मिढ़ा ने बताया कि उनके वार्ड की लवली मैहता पार्षद वाली गली में इन्द्रसेन मिढ़ा, विजय सेतिया, चिमन लाल मिढ़ा, वेदप्रकाश बतरा आदि के घरों में डेढ़-डेढ़ फुट बरसाती पानी भर गया। जब इस संबंध में जनस्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों से शिकायत की गई तो उन्होंने कहा कि उनके पास स्टाफ नहीं है। वार्ड पार्षद ने तो यह कह कर पल्ला झाड़ लिया कि उनकी तो सरकार ही नहीं है।
चौटाला रोड़ पर स्थित मिट्ठू सिंह बराड़ नगर में बरसाती पानी की निकासी न होने के कारण आत्मा राम, जगदीश कुमार, चेतराम, मोटा राम के घरों में बरसाती पानी घुस गया।
उधर गांव डबवाली स्थित हरियाणा विद्युत प्रसारण निगम लिमिटेड (एचवीपीएनएल)   के 132केवी सबस्टेशन के कंट्रोल पैनल में दो फुट तक बरसाती पानी घुस गया। पानी टरनच में चला जाने के कारण नगर की विद्युत आपूर्ति ठप्प हो गई। बाद में मोटर का प्रयोग करके टरनच में घुसे पानी को बाहर निकाला गया। तीन घण्टे बाद विद्युत आपूर्ति बहाल हो पाई।
बरसाती पानी के जलभराव पर जनस्वास्थ्य विभाग के जेई सुभाष चन्द्र ने बताया कि डिस्पोजल की मोटरें चल रही हैं और रात भर भी चलती रहेंगी और शीघ्र ही बरसाती पानी निकल जाएगा।