युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

02 अगस्त 2010

11 लाख की धोखाधड़ी का आरोपी कलकत्ता से काबू

सिरसा। जिला की शहर सिरसा पुलिस ने एसबीआई बैंक की मुख्य शाखा से 11 लाख रुपये की धोखाधड़ी करने वाले अरोपी को कलकत्ता से गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तार किये हुए आरोपी की पहचान चंदन सिंह पुत्र विश्वानाथ निवासी 47 छप्पर महल, 24 परगना कलकत्ता के रूप में हुई है। आरोपी को आज मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी की अदालत में पेश कर रिमांड हासिल किया जाएगा, ताकि उसकी निशानदेही पर राशि बरामद की जा सके।
जानकारी के अनुसार एसबीआई बैंक की मुख्य शाखा के चीफ मैनेजर श्री एनके गुप्ता की शिकायत पर आरोपी चंदन सिंह के विरुद्ध 25 अगस्त 2008 को शहर थाना सिरसा में भादसं की धारा 420, 467, 468, 471 के तहत अभियोग दर्ज हुआ था। बैंक द्वारा दी गई शिकायत में बताया गया था कि उपरोक्त आरोपी ने सिरसा एचडीएफसी बैंक में विभिन्न तिथियों को फार्म भरकर एसबीआई मुम्बई के मिचुअल फंड के 22 चैक 50-50 हजार रुपये के फर्जी तैयार करके जमा करवाए गए। एचडीएफसी बैंक द्वारा पैसे क्रेडिट होने के लिए उक्त चैक एसबीआई मेन ब्रांच को सौंपे गये, जहां से 11 लाख रुपये क्रेडिट होकर आरोपी के खाते में जमा हो गये। आरोपी ने जमा हुए पैसे एटीएम द्वारा अपने खाते से कलकत्ता और पटना से निकलवा लिये।
शहर थाना पुलिस ने जांच का जिम्मा शहर के उपनिरीक्षक हंसराज बिश्रोई को सौंपा। उपनिरीक्षक हंसराज पर आधारित टीम आरोपी चंदन सिंह के गिरफ्तारी वारंट लेकर कलकत्ता पहुंची तथा महत्वपूर्ण सुराग जुटाते हुए उसको उसके घर से गिरफ्तार कर लिया। उन्होंने बताया कि आरोपी को गिरफ्तार कर कलकत्ता की संबंधित अदालत में पेश कर उसे राहदारी रिमांड पर सिरसा लाया गया। उपनिरीक्षक हंसराज ने बताया कि आरोपी चंदन सिंह को मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी की अदालत में पेश कर आज रिमांड हासिल किया जाएगा, ताकि धोखाधड़ी की राशि को उसकी निशानदेही पर बरामद किया जा सके।

नाबालिगा को बेचने की साजिश में 4 गिरफ्तार

सिरसा। जिला की रानियां पुलिस ने एक नाबालिगा को बेचने की साजिश करते हुए चार लोगों को कस्बा रानियां से गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तार किये गये लोगों में सुरजीत सिंह पुत्र श्रवण सिंह निवासी भडोलावाली, हीरा सिंह पुत्र बंता सिंह निवासी जीवननगर, पूजा पत्नी बिट्टू सिंह निवासी जीवननगर व मंजू पुत्री देसराज निवासी जेजे कॉलोनी शामिल हैं। घटना का मुख्य आरोपी जिसको लड़की बेची जानी थी, लक्खा सिंह (28 वर्ष) पुत्र रिछपाल सिंह निवासी हमजापुर जिला फतेहाबाद मौके से भागने में सफल हो गया। सभी आरोपियों के विरुद्ध पीडि़ता 12वर्षीय पालो पुत्री लाल सिंह निवासी जीवननगर की शिकायत पर भादसं की धारा 366ए/120 बी के तहत अभियोग दर्ज कर मौके से भागे मुख्य आरोपी लक्खा सिंह की तलाश शुरू कर दी है।
रानियां थाना प्रभारी निरीक्षक महासिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि जांच पड़ताल में सामने आया है कि पालो पुत्री लाल सिंह निवासी जीवननगर को 50 हजार रुपये में लक्खा सिंह निवासी हमजापुर जिला फतेहाबाद को बेचा जाना था। आरोपी सुरजीत सिंह लड़की का रिश्ते में ताया व हीरा सिंह मामा लगता है। जबकि पूजा निवासी सिकंदरपुर व मंजू निवासी जेजे कॉलोनी लक्खा सिंह की रिश्तेदार हैं, जो उसके साथ सिरसा से रानियां आई थी। थाना प्रभारी ने बताया कि गिरफ्तार किये गये चारों आरोपियों व लक्खा सिंह ने मिलकर षड्यंत्र रचा तथा लड़की को बहला-फुसला कर रानियां कस्बे में ले आए। लड़की को कहा गया कि रानियां चलना है तथा कपड़े बगैरा खरीदकर लाने हैं। लड़की को जब शक हुआ तो उसने शोर मचाकर झगडऩा शुरू कर दिया और लोग इक_े हो गये। जैसे ही पुलिस को इसकी सूचना मिली तो तुरंत थाना प्रभारी महासिंह ने अन्य पुलिस कर्मियों के साथ उक्त स्थान पर दबिश देकर उक्त आरोपियों काबू कर लिया। जबकि लक्खा सिंह मौका से भागने में कामयाब हो गया। थाना प्रभारी महासिंह ने बताया कि चारों आरोपियों को आज इलाका मजिस्ट्रेट श्रीमती पायल मित्तल की अदालत में पेश किया जाएगा, जबकि लक्खा सिंह को शीघ्र गिरफ्तार किया जाएगा।

लोग पलायन को मजबूर

डबवाली (लहू की लौ) बाढ़ जैसी स्थितियों से गुजर रहे हर्ष नगर के लोगों ने पानी की निकासी न होने के बाद अब यहां से पलायन करना शुरू कर दिया है। दो परिवार पलायन कर ही गए हैं और अन्य पलायन करने के लिए सामान बांध रहे हैं।
शनिवार शाम को करीब डेढ़ घण्टे तक चली मूसलाधार वर्षा से हर्ष नगर में बाढ़ जैसी स्थिति पैदा हो गई थी। जिसके चलते कागज बीनने वाले लोगों की करीब सौ झुग्गी पानी में डूब गई और घरेलू सामान के साथ-साथ दो बालिकाएं इस पानी में बह भी गई थी। रविवार को दूसरे दिन भी हर्ष नगर में जमा हुए पानी की निकासी न होने के कारण इस क्षेत्र के निवासियों ने पलायन करना शुरू कर दिया है।
बरसाती पानी का शिकार हुए प्रदीप (50) ने बताया कि बरसाती पानी में उसका सबकुछ बह गया। तिनका-तिनका इक्ट्ठा कर बनाया गया उसका बसेरा भी उजड़ गया। अब उसके पास अगर रहने के लिए बचा है तो केवल नीला आसमान। वह अब सिरसा जाने को मजबूर हो रहा है। प्रदीप अपनी पत्नी रीना, बेटे निब्बड, राखी पत्नी निब्बड, दूसरे बेटे रिंकू व उसकी पत्नी नूरी के साथ घर छोडऩे को मजबूर है। वह रविवार को सिरसा की ओर रवाना हुआ। प्रदीप के अनुसार उसे उम्मीद है कि सिरसा में बसे उसके रिश्तेदार मुश्किल के इन दिनों में उसे अपने यहां पनाह देंगे।
इधर बरसाती पानी में अपना सबकुछ गंवा चुके रोशन (30) तथा उसकी पत्नी भागा देवी ने अपना सामान समेटते हुए बताया कि उनके लिए यहां कुछ भी नहीं बचा है। मेहनत करके जोड़े गए बर्तन, कपड़े व अन्य सारा सामान पानी में बह गया। अब उनके पास यहां से पलायन करने के अतिरिक्त कोई चारा नहीं है। चूंकि हर्ष नगर में बरसाती पानी भरा हुआ है।
इसी नगर के निवासी सुभाष, विनोद, सेठ कुमार, लालचन्द, सिकन्दर आदि ने बताया कि करीब पच्चीस साल पूर्व उन्होंने पांच सौ-पांच सौ रूपए देकर सरकार से प्लाट लिए थे। इतने वर्ष बीतने के बावजूद पुन: सरकार ने उनकी कोई सुध नहीं ली। मजबूरन उन्हें मूलभूत समस्याओं से दो-चार होना पड़ रहा है। नगर में सीवरेज लाईन बिछी हुई है, लेकिन थोड़ी सी बरसात आने पर ही सीवरेज चॉक हो जाते हैं। नतीजा यह रहता है कि बरसाती पानी की निकासी न होने के कारण पानी उनके नगर में जमा हो जाता है। जिससे हर बार उन्हें नुक्सान उठाना पड़ता है। शनिवार की मूसलाधार वर्षा में उनकी झुग्गियां बह जाने के बावजूद भी कोई प्रशासनिक अधिकारी उनकी सुध लेने नहीं आया। अब उनके पास यहां से पलायन करने के अतिरिक्त कोई मार्ग शेष नहीं बचा है।
जनस्वास्थ्य विभाग के जेई सुभाष चन्द्र ने बातचीत के दौरान बताया कि डिस्पोजल चलाकर पानी निकालने का प्रयास किया गया था। लेकिन साथ लगते पंजाब के किसानों ने इस पर एतराज प्रकट किया। जिसके चलते पानी की निकासी नहीं हो पाई थी। कुछ दूरी पर अतिरिक्त खड्डा खोदा गया है। ताकि जल्द ही पानी की निकासी हो सकें।

चौटाला में झगड़ा, पांच घायल

डबवाली (लहू की लौ) पुरानी रंजिश के चलते गांव चौटाला में दो पक्षों में हुए झगड़े में एक पक्ष के पांच लोगों को चोट आयी है। जिसमें दो महिलाएं भी शामिल हैं। चौटाला पुलिस चौकी के प्रभारी जीत सिंह कुंंडू ने बताया कि पुलिस ने चौटाला निवासी सरोज (40) पत्नी सुनील कुमार की शिकायत पर इसी गांव के 8 जनों के खिलाफ धारा 323/342/147/148 आईपीसी के तहत केस दर्ज करके आगाामी कार्यवाही शुरू कर दी है। पुलिस को दिये ब्यान में सरोज ने बताया कि उसके भांजे सुभाष (18) पुत्र रणवीर सिंह निवासी चौटाला का 7-8 दिन पूर्व गांव के विनीत पुत्र रामकुमार के साथ किसी बात को लेकर झगड़ा हो गया था जिसे पंचायती तौर पर उस समय निपटा लिया गया था। लेकिन विनीत इस समझौते के बावजूद भी सुभाष के साथ मन में खुनस लिये हुए था। इसी खुनस के चलते शनिवार रात को उसने अपने भाई विनोद, पिता रामकुमार पुत्र मनीराम तथा चाचा श्रवण, पाला व तीन अन्य के साथ लेकर उनके मकान में घुस कर उन पर हमला कर दिया और चोटें मारीं।
इस झगड़े में आरोपियों ने उस (सरोज) सहित उसके बेटे गोबिन्द (16), बेटी ममता (20), बहन संतोष (38) पत्नी रणवीर सिंह, भांजा सुभाष (18) पुत्र रणवीरसिंह के चोटें मारीं। घायल अवस्था में उन्हें इलाज के लिए गांव के सरकारी अस्पताल में ले जाया गया लेकिन बाद में उन्हें डबवाली, डबवाली से सिरसा रैफर कर दिया गया।

हथियारों से लैस दो गुट अस्पताल में भिड़े

डबवाली (लहू की लौ) अनाज मण्डी निकट स्थित स्वतंत्रता सेनानी पार्क के पास तेजधार हथियारों से लैस युवाओं के दो गुट आमने-सामने हो गए। झगड़े में दोनों गुटों के दो जने घायल हो गए। उपचार के लिए अस्पताल में पहुंचे उपरोक्त गुटों में फिर ढिशुम-ढिशुम शुरू हो गई। सूचना पाकर मौका पर पुलिस भी पहुंची। पुलिस को देखकर युवक भाग निकले।
जानकारी अनुसार डबवाली के वार्ड नं. 13 में रहने वाले राजन (19) का डबवाली के ही वार्ड नं. 8 में रहने वाले विकास (22) से रविवार को स्वतंत्रता सेनानी पार्क के नजदीक झगड़ा हो गया। दोनों युवकों ने मोबाइल से सम्पर्क करके अपने साथियों को मौका पर बुला लिया। मामला तूल पकड़ गया। तेजधार हथियारों से लैस दोनों पक्ष आपस में भिड़ गए। झगड़े में राजन और विकास को चोटें आई। दोनों को उपचार के लिए अस्पताल में लाया गया।
अस्पताल में उपचार के दौरान हथियारों से लैस युवाओं के ये दोनों गुट फिर भिड़ गए। चतुर्थश्रेणी कर्मी विनोद ने साहस का परिचय देते हुए दोनों गुटों को अलग-थलग किया। इधर सूचना पाकर मौका पर पुलिस भी पहुंच गई। पुलिस को देखकर युवाओं के दोनों गुट भाग गए।
अस्पताल के चिकित्सक डॉ. सरवन बांसल ने बताया कि अस्पताल के बाहर युवाओं के दो गुटों में झगड़ा हुआ था। घायलों को इलाज करवाने के लिए दोनों गुट अस्पताल में आए थे। लेकिन यहां भी आमने-सामने हो गए। इसकी सूचना पुलिस को दी गई।
मामले की जांच कर रहे थाना शहर पुलिस के हवलदार जय सिंह ने बताया कि दोनों पक्षों को थाना में बुलाया गया है।

कांग्रेस ने किया सीबीआई का राजनीतिकरण-रामफल शर्मा

डबवाली (लहू की लौ) भाजपा कर्मचारी प्रकोष्ठ के प्रदेशाध्यक्ष रामफल शर्मा ने कहा कि सरकार ने घग्घर मे खनन रोकने की बजाए इसे संरक्षण एवं बढ़ावा दिया। बाढ़ से हुई हरियाणा की दुर्दशा तथा स्थिति को सामान्य ना कर पाने की विफलता की नैतिक जिम्मेवारी लेते हुए हुड्डा सरकार को इस्तीफा दे देना चाहिए।
वे रविवार को कर्मचारी प्र्रकोष्ठ के मण्डल प्रधान कृष्ण ग्रोवर के निवास पर सम्पन्न भाजपा पदाधिकारियों की बैठक को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होने मांग की कि सरकार एक श्वेत पत्र जारी कर साफ करे कि प्रदेश में भूपेन्द्र सिंह हुड्डा के कार्यकाल में कुल कितनी नौकरियां लगी है और उनमें रोहतक के कितने लोगो को रखा गया। प्रदेशाध्यक्ष शर्मा ने कहा कि केन्द्र की कांग्रेस सरकार ने सीबीआई जैसी निष्पक्ष जांच एजेंसी का भी राजनीतिकरण कर दिया है। एक तरफ तो 1984 के सिख दंगों के दोषियों को क्लीन चिट दे रही है, दूसरी ओर गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी की लोकप्रियता से डरी सहमी कांग्रेस सीबीआई के जरिए गुजरात के मंत्रियों को झूठे आरोपों में फंसा रही है।
बैठक को कर्मचारी प्रकोष्ठ के प्रदेश प्रभारी एस.डी.कपूर, प्रदेश महासचिव मदन मोहन सचदेवा, डबवाली प्रभारी सतीश जग्गा, मण्डल महामंत्री बलदेव सिंह मांगेआना, जिला सचिव दाता राम बसौड़, महिला मोर्चा जिलाध्यक्षा शकुन्तला बरेजा, किसान मोर्चा प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य रणधीर सिंह पन्नीवाला तथा अधिवक्ता प्रकोष्ठ के राजेन्द्र सिंह एडवोकेट ने भी संबोधित किया। बैठक में प्रशासन संबंधी जनसमस्याओं के निवारण के लिए मन्नू राम शर्मा की अध्यक्षता में पांच सदस्य समिति का भी गठन किया गया। बैठक में व्यापार प्रकोष्ठ के  जिला उपप्रधान हेम राज बांसल, देस राज सेठी, प्रवेश घई, कृष्ण कीनिया, संजीव, सुशील गर्ग, राम किशन मैहता, नन्द लाल, चिरंजी लाल, खुशहाल चन्द सहित कई पदाधिकारी मौजूद है।