युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

23 फ़रवरी 2010

डेरा प्रमुख पर जूता फेंका

सिरसा। साध्वियों के यौन शोषण और कई हत्याकांडों में मुख्य आरोपी डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत सिंह पर रविवार को मजलिस के दौरान एक व्यक्ति ने जूता फेंक दिया। मजलिस के दौरान इस अप्रत्याशित घटना से हंगामा मच गया।
श्रद्धालुओं के साथ-साथ सुरक्षाकर्मियों ने राम सिंह नामक इस व्यक्ति को धरदबोचा। राम सिंह की बुरी तरह पिटाई की गई। जूते वाली घटना को छिपाने के लिए राम सिंह पर किसी नछत्तर सिंह को धमकाने और हाथापाई करने का मामला दर्ज करवाया गया है। फिलहाल राम सिंह पुलिस की हिरासत में है।
हुआ यूं कि जेजे कॉलोनी निवासी राम सिंह मासिक सत्संग के दौरान डेरा सच्चा सौदा गया था। यहां डेरा प्रमुख गुरमीत सिंह मजलिस में प्रवचन कर रहे थे। सहिष्णुता, सद्भावना, सदाचारिता का पाठ पढ़ा रहे गुरमीत सिंह पर एकाएक राम सिंह ने अपना जूता निकाल कर फैंका।
राम सिंह की इस हरकत से पूरे परिसर में हंगामा मच गया। श्रद्धालु राम सिंह की ओर दौड़े। जैड सुरक्षा घेरे में रहने वाले डेरा प्रमुख भी इस घटना से स्तब्ध रह गए। मजलिस बीच में ही रोकनी पड़ी और डेरा प्रमुख के प्रवचनों का कार्यक्रम स्थगित कर दिया गया। जूता फैंकने वाले राम सिंह को सुरक्षा कर्मियों ने काबू किया और पुलिस के हवाले कर दिया।
पुलिस प्रवक्ता के अनुसार पुलिस ने डेरा के सेवादार नछत्तर सिंह के ब्यान पर रामसिंह के खिलाफ धारा 323/506 आईपीसी के तहत मामला दर्ज किया है। नछत्तर सिंह ने अपने ब्यान में कहा है कि वह सेवा पर था और उसने राम सिंह को मंच की ओर जाने से रोका और कहा कि पिताजी आने वाले हैं। लेकिन उसने कहा कि वह उसे रोकने वाला कौन है और वह मारपीट पर उतर आया और उसे जान से मारने की धमकी देने लगा।
राम सिंह ने क्यों खोया आपा!
सिरसा। कहते हैं दिल की पीड़ा पहले जुबान पर आती है। अगर जुबान से बयां किया गया दर्द दूर न किया जा सके तो फिर पीडि़त क्या करेगा। इस असमंजस की स्थिति ने ही राम सिंह को वह करने पर मजबूर कर दिया जो संभवत: सामान्य आदमी कर ही न सके। गुरमीत सिंह पर जूता फैंकने वाले राम सिंह का दुखड़ा सभी ने सुना, लेकिन दर्द कोई नहीं दूर कर सका।
राम सिंह मामूली मजदूरी कार्य करके अपनी गुजर-बसर करता है। उसने डेरा सच्चा सौदा से संबंधित एक फैक्ट्री में कार्य किया था। लेकिन उसकी मजदूरी डेरा के प्रबंधक हड़प गए। करीब एक लाख रुपये की मजदूरी बनी थी। लेकिन डेरा में उच्च पदस्थ व सेवानिवृत एक्सियन गुप्ता ने राम सिंह को उसकी मेहनत का हक अदा नहीं किया। राम सिंह ने पिछली मजलिस के दौरान डेरा प्रमुख गुरमीत सिंह को बाकायदा लिखकर दिया था कि उसकी मजदूरी दिलवाई जाए। सबको सत्य वचन और सरल व्यवहार का संदेश देने वाले गुरमीत सिंह ने राम सिंह को कोई स्पष्ट बात नहीं कही। टरकाऊ जवाब दिया।
डेरा के सर्वेसर्वा से मिलने पर भी राम सिंह को निराशा हाथ लगी। उसका आपा खो गया। आर्थिक तंगी से जूझ रहा राम सिंह यहां-वहां भटका, लेकिन डेरा की दहशत और गरीब का हक हड़प कर जाने की ताकत के आगे उसकी एक नहीं चली। राम सिंह इस बार मजलिस में आया, लेकिन उस पर गुस्सा सवार था। आर्थिक तंगी से परेशान राम सिंह को कुछ नहीं सूझ रहा था। गुस्साए राम सिंह ने आगा-पीछा सोचे बिना डेरा प्रमुख पर जूता दे मारा और अपना रोष जताया। राम सिंह के इस कृत्य ने कई सवाल खड़े कर दिए हैं। सीबीआई जांच का सामना कर रहे डेरा सच्चा सौदा प्रमुख जूता प्रकरण से अब एक नए विवाद में फंस गए हैं।

विदेश सचिव वार्ता में उठे सिर कलम का मामला

चंडीगढ़/अमृतसर - मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने पाकिस्तान में तालिबान द्वारा दो सिखों के सिर कलम करने को मानवता के खिलाफ नफरत करार देते हुए केंद्र सरकार से इस मामले को भारत-पाक सचिव वार्ता में प्राथमिकता के आधार पर उठाने का आग्रह किया है। पेशावर में घटित इस घटना की चौतरफा निंदा की जा रही है।

मुख्यमंत्री बादल ने सोमवार को यहां जारी एक बयान में प्रधानमंत्री डा. मनमोहन सिंह से जोरदार आग्रह किया कि वह तालिबान के चंगुल से बंधक बनाए सिखों को सुरक्षित छुड़ाने के लिए सीधे दखल दें। वह विदेशों में रह रहे सिखों की सुरक्षा को विश्वसनीय बनाने के लिए हरसंभव कदम उठाएं।
उपमुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल ने अमृतसर में आस्था फाउंडेशन का उद्घाटन करने से पहले पत्रकारों से बातचीत में इस घटना को अमानवीय कृत्य करार दिया और केंद्र सरकार से मामले में तुरंत दखल देने की मांग की। प्रधानमंत्री व विदेश मंत्री इसके संबंध में पाकिस्तान सरकार के साथ तालमेल कर सख्त संदेश दें। उन्होंने कहा कि इस घिनौने हत्याकांड के विरुद्ध राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एकमत होना होगा, ताकि पाकिस्तान में बसे सिखों के जानमाल की रक्षा सुनिश्चित की जा सके।
उन्होंने कहा कि केंद्रीय गृहमंत्री पी. चिदंबरम ने अभी तक काली सूची में शामिल पंजाब के लोगों के बारे में कोई सूचना राज्य सरकार को नहीं दी है। सरकार ने इसके संबंध में केंद्रीय गृह मंत्रालय को कई दफा लिखा है।
शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष जत्थेदार अवतार सिंह मक्कड़ ने केंद्र सरकार से मांग की कि पेशावर के सिखों की वर्तमान दशा जानने के लिए एसजीपीसी का एक शिष्टमंडल पाक भेजने की आज्ञा दी जाए। प्रधानमंत्री को लिखे पत्र में मांग की गई कि भारत-पाक के बीच सचिव स्तर की वार्ता में वहां रह रहे अल्पसंख्यकों की सुरक्षा का मुद्दा गंभीरता से उठाया जाए। एसजीपीसी वहां अल्पसंख्यक समुदाय पर हो रहे जुल्म का मुद्दा संयुक्त राष्ट्र संघ में भी उठाएगी।
श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार ज्ञानी गुरबचन सिंह ने केंद्र सरकार से इस मसले को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उठाने की वकालत करते हुए कहा कि यह सुनिश्चित किया जाए कि दुनिया के किसी भी हिस्से में अल्पसंख्यकों के साथ ऐसा बुरा सलूक न हो। अकाल तख्त साहिब के पूर्व जत्थेदार ज्ञानी जोगिंदर सिंह वेदांती ने मांग की कि पाक सरकार सिखों की सुरक्षा करे।
प्रदेश के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री लक्ष्मी कांता चावला ने दुखी परिवारों से हार्दिक सहानूभुति प्रकट करते हुए अफसोस जताया कि केंद्र सरकार एक माह से फिरौती एवं धर्म परिवर्तन के नाम पर अगवाह किए गए सिखों को सुरक्षित बचाने के लिए पाक से तालमेल नहीं बना सकी। नतीजा दुनिया के सामने है।

महिला को सरेआम चौक में पीट-पीटकर घायल किया

श्रीगंगानगर। आपराधिक प्रवृत्ति के एक युवक ने चौक में सरेआम एक महिला को पीट-पीटकर घायल कर दिया। उसके पहने हुए सोने के गहने और पर्स में साढ़े तीन हजार रूपये निकाल लिये। यह महिला रोती-चिल्लाती रही, लेकिन कोई उसे बचाने नहीं आया। मारपीट करने वाला युवक वहां मौजूद लोगों को धमकाता रहा कि अगर कोई बीच में आया तो वह उसका भी यही हश्र करेगा।
जिला अस्पताल में उपचाराधीन महिला सुमन (31) पत्नी भंवरलाल नायक निवासी गली नं. 2 भांभू कॉलोनी ने देर रात को कोतवाली पुलिस को दिये बयान में बताया कि मोनू उर्फ कपिल तलवार नामक यह युवक पहले उसके साथ बलवीरसिंह के मकान में किराये पर रहता था। मोनू ने जब किराया नहीं दिया तो उसे मकान मालिक ने बाहर निकाल दिया। इसी कारण मोनू उससे रंजिश रखने लगा। रविवार सायं 6.30 बजे वह बुखार होने के कारण दवा लेने के लिए मैडिकल स्टोर पर जा रही थी। मालूराम भांभू पोलोटेक्निक कॉलेज के पास अचानक मोनू तलवार पीछे से आया और उसे बालों से पकड़कर नीचे पटक दिया। उसे लकड़ी की फट्टी से पटने लगा। काफी लोग जमा हो गए, लेकिन मोनू ने उन्हें धमका दिया कि अगर बीच में आया तो उनकी हालत भी ऐसी ही कर देगा। मारपीट कर मोनू ने उसके पहने हुए सोने के टॉप्स और अंगूठी निकाल ली। पर्स भी छीनकर ले गया, जिसमें साढ़े तीन हजार रूपये थे। बाद में उसे लोगों ने अस्पताल में भर्ती करवाया। पुलिस ने बताया कि यह मामला धारा 341, 323, 382 में दर्ज किया गया है। मोनू तलवार पर कई आपराधिक मामले चल रहे हैं।


विदेश भेजने के नाम पर अढ़ाई लाख की ठगी
श्रीगंगानगर। मलेशिया में वर्क वीजा दिलाने का झांसा देकर फरीदकोट के दो व्यक्तियों पर लगभग अढ़ाई लाख रूपये की धोखाधड़ी करने के आरोप में मुकदमा दर्ज करवाया गया है। जिले की घड़साना पुलिस ने बताया कि चक 23 एएस के गुरमीतसिंह पुत्र जरनैलसिंह जटसिख द्वारा दायर किए गए इस्तगासा के आधार पर धारा 420, 467, 471 व 120-बी के तहत प्रकरण दर्ज किया गया है। इस्तगासा में गुरमीतसिंह ने बताया कि उसके ससुर ने ही दो एजेंटों-रिंकूसिंह पुत्र गुरमेलसिंह जटसिख और कालासिंह निवासी गांव पक्का (फरीदकोट) से लगभग डेढ़ वर्ष पहले परिचय करवाया। इन लोगों ने उसे मलेशिया भेजने और वर्क वीजा से अच्छा काम दिलाने का वायदा किया। इन पर विश्वास करके उसने 15 जुलाई 08 को अपने गांव में इन दोनों को सवा लाख रूपये दे दिये। इसके 15 दिन बाद उसे वीजा दिया गया, जिससे वह एक अगस्त 08 को मलेशिया चला गया। वहां जाने पर जब उसके मलेशियाई अधिकारियों ने कागजात चैक किये तो उसे पता चला कि एक माह का टूरिस्ट वीजा देकर उसे मलेशिया भेजा गया है। वह मलेशिया की एक फैक्ट्री में काम करने लगा। वीजा समाप्त होने पर उसे अनेक परेशानियां झेलनी पड़ी। बाद में वह थाईलैंड होते हुए 9 मार्च 09 को कोलकाता पहुंचा और वहां से एक महीने बाद वह अपने घर आया। इस चक्कर में उसके कुल मिलाकर दो लाख 40 हजार रूपये खर्च हो गए। रिंकू और कालासिंह ने यह रकम देने से इंकार कर दिया। पुलिस ने बताया कि मामले की जांच शुरू कर दी गई है।



एक घंटे में दो मोटरसाइकिल चोरी
श्रीगंगानगर। लाख यत्न के बाद भी सिटी पुलिस शहर में दुपहिया वाहनों की चोरियों को रोक पाने में बुरी तरह नाकाम साबित हो रही है। पुलिस अधीक्षक उमेशचंद्र दत्ता द्वारा नगर पुलिस अधिकारियों को एक बैठक में सख्त हिदायतें दी गईं, लेकिन फिर भी दुपहिया वाहन चोरी हो रहे हैं। आज दोपहर एक घंटे के भीतर अलग-अलग स्थानों से दो मोटरसाइकिल चोरी हो गए। पुलिस के अनुसार जवाहरनगर में गगनपथ पर लालगढिय़ा हॉस्पीटल के सामने से आज दोपहर नीले-काले रंग का पैशन मोटरसाइकिल (आरजे 13-6796) चोरी हो गया। लगभग अढ़ाई बजे इस मोटरसाइकिल चोरी होने की सूचना मिली। इस मोटरसाइकिल को पकडऩे के लिए पुलिस की नाकाबंदी चल ही रही थी कि सवा तीन बजे रेलवे स्टेशन परिसर से होण्डा शाईन मोटरसाइकिल (आरजे 19 एसए 1913) चोरी हो गया। सुरजीतसिंह कॉलोनी के गुरूनानक चौक में एक मैडिकल स्टोर के संचालक गोपाल ने अपने कर्मचारी को कोई सामान देकर इस मोटरसाइकिल पर रेलवे स्टेशन भेजा था। यह कर्मचारी स्टेशन के अंदर जाकर सामान देकर दस मिनट में बाहर आया तो मोटरसाइकिल गायब हो चुका था। नाकाबंदी के बावजूद इन मोटरसाइकिलों का कुछ पता नहीं चला। देर शाम तक नाकाबंदी जारी थी। उल्लेखनीय है कि एक सप्ताह पहले मंगलवार-बुधवार को शहर में तीन मोटरसाइकिल चोरी हो गए। इनमें से बाद में एक लावारिस पड़ा मिल गया था। दो मोटरसाइकिलों का अभी भी कुछ पता नहीं चला। इसके विपरीत गत 9 फरवरी को ही लालगढिय़ा हॉस्पीटल के पास से ही एक मोटरसाइकिल चोरी हो गया था। एक पखवाड़े के भीतर पांच मोटरसाइकिल चोरी हुए हैं, जिनमें एक बरामद हुआ है। बाकी चार चोरी हुए मोटरसाइकिलों में से सिर्फ एक ही मुकदमा दर्ज पुलिस ने किया।

युवक को गोली मारकर हत्या करने का प्रयास

श्रीगंगानगर। स्थानीय पदमपुर मार्ग स्थित कुंज विहार कॉलोनी में लगभग आधी रात को चार जनों ने एक युवक को मारपीट करने के बाद गोली मार दी, जो उसके पेट में लगी। यह युवक लगभग 3 घंटे बेहोश पड़े रहने के बाद होश में आया और रक्तरंजित अवस्था में घर पहुंचा। तब घरवालों को इस घटना का पता चला और उसे तुरंत अस्पताल में भर्ती करवाया गया।
प्राप्त जानकारी के अनुसार आज तड़के 3.30 बजे कुंज विहार कॉलोनी निवासी प्रवीण सोनी ने पुलिस को सूचना दी कि उसके भाई प्रिंस (22) पुत्र रामलुभाया सोनी को किसी ने गोली मार दी है। लगभग इसी समय आपातकाल सेवा 108 की एंबुलैंस ने प्रिंस को सरकारी अस्पताल पहुंचाया। आज सुबह होश में आने पर प्रिंस के बयान के आधार पर पुरानी आबादी पुलिस ने नरेश, गिरधारीलाल यादव व दो अन्य व्यक्तियों के विरूद्ध धारा 307 व अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज किया। प्रिंस ने पुलिस को बताया कि वह रात्रि लगभग 11 बजे पदमपुर रोड पर ए-माईनर नहर के समीप बाबा पूनमदास की कुटिया से वापिस घर आ रहा था। रास्ते में पार्क के पास मिले चार जनों ने मारपीट की व उनमें से एक ने उसे गोली मार दी। वह बेहोश हो गया और वहीं गिर गया। लगभग तीन घंटे बाद होश में आने पर वह लडख़ड़ाते हुए घर पहुंचा।
पुलिस के अनुसार इस घटना में प्रिंस ने नरेश को तो पहचाना है, लेकिन गिरधारी यादव के बारे में उसका सिर्फ अनुमान ही है। मारपीट करने वालों में से एक ने अपना मुंह कपड़े से ढका हुआ था। इसके गिरधारी यादव होने का संदेह प्रिंस ने व्यक्त किया है। पुलिस के मुताबिक प्रिंस सोनी की बहन ने चार-पांच वर्ष पहले गिरधारी यादव के साथ प्रेम विवाह किया था। बाद में उसका तलाक हो गया। गिरधारी यादव और प्रिंस जब जीजा-साला थे, तब बाबा पूनमदास की कुटिया में इक_े आते-जाते और बैठते थे, लेकिन तलाक हो जाने के बाद इनमें दूरियां बढ़ गईं और रंजिश उत्पन्न हो गई। बीती रात की घटना को इसी रंजिश का परिणाम माना जा रहा है।
डीएसपी (शहर) हरीराम गहलोत और पुरानी आबादी थानाप्रभारी धीरेंद्रसिंह ने आज सुबह घटनास्थल का निरीक्षण किया, प्रिंस सोनी के परिवार वालों तथा आसपास के लोगों से पूछताछ की। श्री गहलोत ने कहा कि अभियुक्तों को पकडऩे के लिए छापे मारे जा रहे हैं। गिरधारी यादव मॉडल टाउन में वृदाश्रम रोड और नरेश जवाहरनगर में एसएसबी रोड के निवासी हैं। पुलिस ने बताया कि नरेश पर सदर थाना में मारपीट के कई मामले चल रहे हैं। वह आपराधिक प्रवृत्ति का है।

अश्लील फिल्म सार्वजनिक होने से पीलीबंगा में हड़कंप मचा

हनुमानगढ़। सात मिनट से अधिक समय की बनी हुई एक अश्लील फिल्म के सार्वजनिक हो जाने से हनुमानगढ़ जिले के पीलीबंगा कस्बे में हड़कंप मच गया है। यह फिल्म करीब एक-डेढ़ महीने से गुपचुप तरीके से आगे की आगे लोगों तक पहुंच रही थी, लेकिन अब इसकी सीडी खुलकर मार्केट में आ जाने से पुलिस महकमा सक्रिय हो गया। हनुमानगढ़ के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक यादराम फासल ने पीलीबंगा थाना पुलिस को इस मामले की जांच करने के निर्देश दिये हैं और इसके लिए जिम्मेवार व्यक्तियों को पकडऩे के लिए कहा है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार 7 मिनट 21 सैकेंड की यह ब्ल्यू फिल्म एक फोटो स्टूडियो में मोबाइल कैमरे से बनाई हुई है। इसमें एक युवक को युवती के साथ सहवास करते हुए कैमरे में कैद किया गया है। सहवास करने वाले युवक की शक्ल एक-दो क्षण के लिए साफ दिखाई देती है, जिसके बारे में दावा किया जा रहा है कि यह युवक पीलीबंगा का ही है। उसके साथ जो युवती दिखाई देती है, वह पीलीबंगा के आसपास के गांव की होने की संभावना व्यक्त की जा रही है। इस ब्ल्यू फिल्म में अंतिम क्षणों में एक ओर महिला आती है तथा फिर तीनों में कुछ क्षण के लिए बातचीत होती है। देखने से साफ पता चलता है कि यह फिल्म एक फोटो स्टूडियो के कक्ष में बनाई गई है। फिल्म देखने वालों का दावा है कि यह स्टूडियो पीलीबंगा में तहबाजारी के आसपास का है।
पीलीबंगा के कुछ व्यक्तियों ने फोन पर बताया कि यह ब्ल्यू फिल्म एक-डेढ़ महीना पहले सामने आई। तब से इसकी क्लिपिंग मोबाइल फोनों और इसकी सीडी गुपचुप तरीके से बिक रही थी। क्लिपिंग 100 से 200 रूपये में बेची जा रही है। सूत्र बताते हैं कि मोबाइल फोन के कैमरे से बनाई गई यह ब्ल्यू फिल्म तब बाहर आई, जब जिस कम्प्यूटर की हार्डडिस्क में इसे स्टोर किया हुआ था, उसके खराब हो जाने पर ठीक करवाने के लिए मैकेनिक के पास ले जाया गया। संभावना व्यक्त की जा रही है कि इसी दौरान इस फिल्म की सीडी बना ली गई, जो बाद में गुपचुप तरीके से बिकने लगी और अब सार्वजनिक हो गई। पीलीबंगा में पिछले दो दिनों में यह क्लिपिंग एक मोबाइल से दूसरे मोबाइल पर रेवडियों की तरह एमएमएस के जरिये भेजी जा रही हैं।
इस बारे में संपर्क करने पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक यादराम फासल ने कहा कि अभी तक किसी ने पुलिस को शिकायत नहीं की है, लेकिन मामला गंभीर होने के कारण वे इसकी जांच करवायेंगे। इसके लिए रावतसर के डीएसपी पवन मीणा को कार्यवाही करने के निर्देश दिये जा रहे हैं। उधर, पीलीबंगा के कार्यवाहक थानाप्रभारी मोहनलाल ने कहा कि यह मामला उनके सामने आज ही आया है, वे पता लगा रहे हैं कि इसमें कितनी वास्तविकता है। अगर कोई इसमें दोषी पाया गया तथा उसके विरूद्ध रिपोर्ट आई तो सख्त कार्यवाही की जाएगी।

ठेकेदारों-किसानों में भिडंत एवं फायरिंग, एक घायल

श्रीगंगानगर। हनुमानगढ़ जिले में हरियाणा के साथ लगते भादरा-भिरानी क्षेत्र की प्रमुख नहरों में पानी चोरी रोकने के लिए जल संसाधन विभाग द्वारा सख्ती किये जाने के साथ ही अराजकता की स्थिति उत्पन्न हो गई है। हालात बेकाबू होते जा रहे हैं। बीती रात नहरी तंत्र की सुरक्षा के ठेकेदार के कारिंदों की कथित रूप से पानी चोरी की नियत से भिरानी हैड पर आये कुछ किसानों के साथ भिडंत हो गई। गोलियां चलने से एक व्यक्ति गंभीर रूप से घायल हो गया। उसे हिसार रैफर किया गया है। आज स्थिति काफी देर तक तनावपूर्ण बनी रही। भिरानी थाने में प्रशासन-पुलिस की मध्यस्थता में सिंचाई विभाग के अधिकारियों की जन प्रतिनिधियों के साथ वार्ता हुई। इसमें ठेकेदार का ठेका तुरंत निरस्त करने, सिंचाई विभाग में ठेके की प्रथा को बंद करने के लिए राज्य सरकार से आग्रह करने और गई रात की घटना के लिए जिम्मेवार लोगों को शीघ्र गिरफ्तार करने के आश्वासन पर ग्रामीण शंात हुए।
इस क्षेत्र की नहरों में पिछले कई दिनों से पानी की कमी बनी हुई है। जितना पानी आ रहा है, उसमें ज्यादा प्राथमिकता पीने के पानी को दी जा रही है। दूसरी तरफ खेतों में फसलें पकाव की स्थिति में है और उन्हें पकाने के लिए पानी की ज्यादा जरूरत है। मांग और आपूर्ति में अंतर होने तथा नहरों की टेलों पर पानी नहीं पहुंचने से कुछ ही दिनों में इस क्षेत्र में स्थिति बिगडऩे लगी, जो अब चरम पर पहुंच गई है। दो दिन से जल संसाधन विभाग के अधिकारी खुद तथा नहरी तंत्र में वाच एंड वार्ड के ठेकेदारों ने पानी की चोरी रोकने के लिए काफी सख्ती बरत रहे हैं। इससे किसान छटपटाने लगे हैं। बीती रात भिरानी हैड पर सिद्धमुख नहर के वाच एवं वार्ड ठेकेदार भागीरथ के इंचार्ज रणजीत माली के पुत्र विनोद की वहां चोरी की नियत से आये हुए कुछ किसानों के साथ भिडंत हो गई। विनोद के साथ पिकअप जीप एवं कार में कई जने थे। झगड़े के दौरान गोली चल गई, जिससे सुरेंद्र जाट नामक एक किसान बुरी तरह घायल हो गया। सुरेंद्र के भतीजे सुनील व एक अन्य किसान सुभाष के भी चोटें लगीं।
टकराव की जानकारी मिलने पर पुलिस तुरंत मौके पर पहुंच गई। घायल सुरेंद्र को प्राथमिक उपचार के बाद डॉक्टरों ने हिसार रैफर कर दिया गया। देर रात को पुलिस ने सुरेंद्र के भतीजे सुनील पुत्र रामकुमार जाट की रिपोर्ट के आधार पर विनोद पुत्र रणजीत माली, बबलू गढ़वाल जाट निवासी बांडाहेडी (हरियाणा) और 15-20 अन्य व्यक्तियों के खिलाफ हत्या के प्रयास के आरोप में धारा 307, 147, 148, 149 और आम्र्स एक्ट की धारा 27 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया।
आज सुबह जनप्रतिनिधियों को इस घटना का पता चला तो उनमें रोष फैल गया। काफी संख्या में ग्रामीण-किसान भिरानी थाने पर जमा हो गए, हनुमानगढ़ से अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक यादराम फासल, भादरा के एसडीएम नरेंद्र कुलहरी, नोहर के डीएसपी नैविल क्लार्क, थानाप्रभारी इंद्रकुमार, जल संसाधन विभाग के अधिशाषी अभियंता सुभाष माथुर ने ग्रामीणों-किसानों की ओर से आये जनप्रतिनिधियों-पूर्व विधायक संजीव बेनीवाल, सरपंच शिशपाल वर्मा, पूर्व सरपंच विशालसिंह पूनिया, पंचायत समिति प्रधान कांता पूनिया के पति प्रेम पूनिया, पूर्व सरपंच शेरसिंह आदि के साथ बातचीत की। जनप्रतिनिधियों ने वाच एंड वार्ड के ठेकेदारों व उनके कारिंदों की कार्यशैली पर आक्रोश व्यक्त किया। लगभग दो घंटे चली इस बातचीत में दोनों पक्षों में सहमति हो गई कि जल संसाधन विभाग बीती रात की घटना में लिप्त वाच एंड वार्ड के ठेकेदार का ठेका अतिशीघ्र निरस्त करेगा। साथ ही राज्य सरकार को सिंचाई विभाग में नहरी तंत्र की सुरक्षा का जिम्मा निजी लोगों के हाथों पर सौंपने के लिए अपनाई गई ठेका प्रथा को समाप्त करने के लिए प्रशासन पत्र लिखेगा। गई रात की घटना में नामजद व अन्य अभियुक्तों की शीघ्र गिरफ्तारी की जाएगी। इस सहमति के बाद लोगों में आक्रोश कुछ कम हुआ। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री फासल ने बताया कि अभियुक्तों की गिरफ्तारी के प्रयास शुरू कर दिये गए हैं।
उल्लेखनीय है कि बीते दो दिनों में प्रशासनिक अधिकारियों व जल संसाधन विभाग के अधिकारियों ने पुलिस की मदद से अभियान चलाकर भिरानी-भादरा थाना क्षेत्र की नहरों में पानी चोरी करने वाले किसानों पर व्यापक छापामारी की है। इस दौरान लगभग 40 डीजल ईंजन, दो ट्रैक्टर और बड़ी संख्या में पाइपें जब्त की गई हैं। कार्यवाही का विरोध करने पर सात किसानों को शांति व्यवस्था भंग करने के आरोप में गिरफ्तार भी किया गया है।