युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

15 नवंबर 2014

सरकारी फुटपाथ, बरामदे में सामान रख सकेंगे मुख्य बाजार के दुकानदार

डबवाली (लहू की लौ) मुख्य बाजार के दुकानदारों को सरकारी फुटपाथ तथा बरामदे में सामान रखने की इजाजत मिल गई है। लेकिन नियमों के साथ। शुक्रवार को नगर परिषद कार्यालय में एसडीएम सतीश कुमार ने दुकानदारों के साथ बैठक करके फैसला सुनाया। इसके साथ ही मुख्य बाजार में अतिक्रमण हटाने के दौरान भाजपा नेताओं के साथ हुये बवाल का पटाक्षेप हो गया। 
बैठक में नगर परिषद किरायेदार यूनियन के प्रधान सुरेंद्र कुमार, भाजपा के जिला महामंत्री विजय वधवा, अवतार सिंह, तरसेम भीटीवाला, सोम अरोड़ा, विनोद नीलू, राजू मदान, शिव कुमार, गौरव मोंगा, विजय गंगा, धर्मवीर सिंगला ने दुकानदारों की ओर से भाग लिया। बैठक को संबोधित करते हुये एसडीएम ने कहा कि अतिक्रमण हटवाने के लिये वे कानूनी थप्पड़ जड़ सकते थे। लेकिन कानून वाला तरीका अपनाने की अपेक्षा हाथ जोड़े। समस्या को खत्म करने के लिये अगर पैर भी पकडऩे पड़े तो वे गुरेज नहीं करेंगे। चूंकि शहर डबवाली सुंदर बने, आने-जाने में किसी को दिक्कत न हो।
मुझे तबादले का डर नहीं
भाजपा नेताओं से उलझने के बाद एसडीएम के तबादले के कयास लगाये जा रहे हैं। बैठक में भाजपा नेताओं की मौजूदगी में एसडीएम ने कहा कि हरियाणा के जिस कोने में डयूटी कर रहा हूं, वह मेरे घर से सबसे ज्यादा दूर है। अगर मुझे मेवात भी भेज दिया जाये तो मैं घर के नजदीक पहुंच जाऊंगा। चंडीगढ़ भी मेरे घर से ज्यादा दूर नहीं। 
मुझे माफ करो
मुख्य बाजार में अतिक्रमण हटाते समय समाजसेवियों तथा दुकानदारों में हुई तीखी नोंकझोंक पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुये एसडीएम ने कहा कि मेरे साथ चल रहे किसी व्यक्ति ने दुकानदारों के साथ जाने-अनजाने में कोई बात कही है तो इसके लिये वे हाथ जोड़कर माफी मांगते हैं। लेकिन अतिक्रमण हटाने में आप लोग मेरा सहयोग करें।
भाजपा नेता ने रखी दुकानदारों की बात
दुकानदारों की ओर से पक्ष रखते हुये भाजपा नेता विजय वधवा ने कहा कि उनकी दुकानों के आगे फुटपाथ की चौड़ाई पांच फुट थी। कुछ वर्ष पहले ढाई फुट फुटपाथ को हटा दिया गया। फुटपाथ पर चला नहीं जा सकता। लेकिन फुटपाथ पर बैठे टेलर मास्टर अपना व्यवसाय चलाते हैं। प्रशासन फुटपाथ तथा बरामदे में सामान लगाने की इजाजत दे। जिस पर एसडीएम ने दुकानदारों को अस्थाई तौर पर सरकारी बरामदा तथा फुटपाथ प्रयोग करने की अनुमति देते हुये नियम भी बनाये। एसडीएम ने कहा कि दुकानदार फुटपाथ पर तीन फुट ऊचाईं तक अपना सामान लगा सकते हैं। वे शट्टर के ऊपर सामान नहीं लटकाएंगे। जिस पर दुकानदारों ने सहमति जता दी।

महज ट्रायल, रिव्यू लेंगे
दुकानदारों के साथ सहमति से उन्हें सरकारी फुटपाथ तथा बरामदा प्रयोग करने के लिये कहा है। दुकानदारों  ने विश्वास दिलाया है कि वे फुटपाथ से आगे अपना सामान नहीं लाएंगे। न ही अपना सामान दुकानों के आगे लटकाएंगे। यह अस्थाई रहेगा। रिव्यू लिया जायेगा, अतिक्रमण बरकरार रहा तो कार्रवाई की जायेगी। अभियान करीब एक माह तक चलेगा। दुकानदार अतिक्रमण हटाने के साथ-साथ स्वच्छता अभियान से जुडऩे के लिये उत्सुक हैं। सभी दुकानदार डस्टबिन लगाएंगे।
-सतीश कुमार, उपमंडलाधीश, डबवाली

विवाद पर भाजपा नेता का ब्यान
मुख्य बाजार में अतिक्रमण के खिलाफ अभियान छेड़ते समय किसी भी दुकानदार को विश्वास में नहीं लिया गया। चंद तथाकथित समाजसेवियों ने मुख्य बाजार में आकर रौब झाडऩा शुरू कर दिया, जोकि बर्दाश्त नहीं होगा। आईंदा प्रशासन मुख्य बाजार में आये तो दुकानदारों को विश्वास में ले। भाजपा सरकार को बदनाम करने के लिये तथाकथित समाजसेवियों ने ड्रामा रचा था।
-विजय वधवा, जिला महामंत्री, भाजपा

अतिक्रमण हटाने के मामले में भाजपा में कलह

मुख्य बाजार में एसडीएम को धक्का देकर अतिक्रमण हटाने का विरोध करने वाले भाजपा कार्यकर्ताओं के बाद भाजपा का एक पक्ष एसडीएम तथा समाजसेवियों के हक में उतर आया है। भाजपा अंत्योदय प्रकोष्ठ के प्रदेश सह संयोजक बलदेव सिंह मांगेआना, भाजपा कर्मचारी प्रकोष्ठ के पूर्व प्रदेश प्रभारी एसडी कपूर, भाजपा गौवंश विकास प्रकोष्ठ के जिला संयोजक अशोक सेतिया तथा भाजपा डबवाली के पूर्व मंडलाध्यक्ष कृष्ण ग्रोवर ने संयुक्त ब्यान में कहा कि अतिक्रमण डबवाली की प्रमुख समस्याओं में से एक है। जहां अतिक्रमण शहर की स्वच्छता एवं सुंदरता पर धब्बा है वहीं इस कारण से कई बार हादसे भी होते हैं जिससे शहरवासियों की जिंदगी पर भी खतरा है। नगर के कई बाजार व गलियां ऐसी हैं जहां अतिक्रमण के कारण हादसा होने की स्थिति में फायर बिग्रेड़ एवं एंबुलेंस को पहुंचने में कठिनाई आएगी। नगर की सामजसेवी संस्थाओं ने प्रशासन के नेतृत्व में अतिक्रमण को लेकर जो जन जागरण अभियान चलाया है वह काबिले तारीफ है। उन्होंने कहा कि बिना भेदभाव के चलाए जा रहे इस जनहितैषी अभियान का भाजपा समर्थन करती है व नगर की समाजसेवी संस्थाओं व आम जनता को भी भाजपा इस पुण्य कार्य में सहभागी बनने के लिए साधुवाद देती है तथा इस अभियान में बाधा उत्पन्न करने वालों की निंदा भी करती है। जिन लोगों ने शंाति प्रिय अपील अभियान के दौरान प्रशासनिक अधिकारियों व समाजसेवियों के साथ अभद्र व्यहवार किया है उनकी भत्र्सना करती है। भाजपा की सोच है कि डबवाली का विकास भी बड़े शहरों की तर्ज पर हो। चंडीगढ़ की तरह हमारी डबवाली भी साफ सुथरी, हरी भरी, अतिक्रमण रहित व सुरक्षित ट्रैफिक के लिए देश भर में नाम कमाए। बलदेव सिंह मांगेआना ने कहा कि आने वाले दिनों में भाजपा अंत्योदय प्रकोष्ठ उन संस्थाओं व समाजसेवियों को सम्मानित भी करेगी जो निस्वार्थ भाव से स्वच्छता अभियान तथा लोक भलाई कार्यों में जुटे हुए हैं।

21 सदस्यों वाली होगी शहर की विधानसभा

    वार्ड बंदी के बाद की स्थिति
  1. एससी आरक्षित 4,6,15,19
  2. एससी महिला आरक्षित 5,18
  3. बीसी आरक्षित 16,21
  4. महिला आरक्षित 1,2,7,13,17
  5. सामान्य 3,8,9,10,11,12,14,20


डबवाली (लहू की लौ) शहर की विधानसभा में अब 21 जनप्रतिनिधि जनता की आवाज उठाने के लिये पहुंचेंगे। शुक्रवार को नगर परिषद कार्यालय में एडहॉक कमेटी की बैठक में नई वार्ड बंदी पर मुहर लग गई। ड्रा सिस्टम के जरिये अनुसूचित जाति, पिछड़ा वर्ग सहित महिला जनप्रतिनिधियों के वार्ड आरक्षित कर दिये गये। इस रिपोर्ट को मुख्यमंत्री की स्वीकृति के बाद सार्वजनिक किया जायेगा।
वार्ड बंदी के लिये दोपहर करीब 12 बजे स्थानीय शहरी निकाय विभाग हरियाणा के अतिरिक्त निदेशक रणवीर पराशर की अध्यक्षता में बैठक शुरू हुई। जिसमें एडहॉक कमेटी सदस्य एसडीएम सतीश कुमार, नायब तहसीलदार छोटू राम, नगर परिषद सचिव ऋषिकेश चौधरी, विनोद बांसल, सुरिंद्र छिंदा, रमेश बागड़ी, सुभाष मित्तल, मधु बागड़ी ने भाग लिया। लंबी चली बैठक में वार्डबंदी के लिये पूर्व में आयोजित हुई दो बैठकों में कमेटी सदस्यों के एतराज को दूर किया गया। पिछली बैठक में कमेटी सदस्य सुरिंद्र छिंदा के वार्ड नं. 1 को पिछड़ा वर्ग के लिये आरक्षित करने के एतराज पर स्पष्टीकरण देते हुये अतिरिक्त निदेशक ने कहा कि वार्ड नं. 1 तथा 21 का पुन: सर्वे करवाया गया। वार्ड नं. 1 की अपेक्षा 21 में पिछड़ा वर्ग की जनसंख्या अधिक मिली। इसलिये वार्ड नं. 1 को पिछड़ा वर्ग से निकाल दिया गया है। सदस्य सुभाष मित्तल के एतराज को दूर करते हुये बैठक अध्यक्ष ने कहा कि नई बनी ड्राईंग के आधार पर पिछली गलतियों से छुटकारा मिल गया है। गलियों को व्यवस्थित ढंग से संबंधित वार्ड से जोड़ दिया गया है। सदस्य विनोद बांसल के एतराज को दूर करते हुये जनसंख्या का पूर्व अवलोकन किया गया है। जिसके बाद वार्डों की जनसंख्या में थोड़ी-बहुत फेरबदल हुई है।
एडहॉक कमेटी सदस्यों के एतराज को दूर करने के बाद अतिरिक्त निदेशक ने वार्ड बंदी का प्रस्ताव रखा। वार्ड नं. 7 तथा 17 से एक-एक वार्ड बनाये जाने से वार्डों की संख्या 19 से 21 कर दी गई। 21 वार्डों में से सर्वाधिक एससी जनसंख्या वाले छह वार्डों को आरक्षित कर दिया गया। महिला आरक्षित दो वार्डों के लिये महिला सदस्य मधु बागड़ी ने ड्रा सिस्टम के जरिये पर्ची निकाली। एससी के लिये आरक्षित वार्डों का चयन होने के बाद पिछड़ा वर्ग (बीसी) के लोगों की सर्वाधिक जनसंख्या वाले दो वार्डों को बीसी के लिये आरक्षित करने की घोषणा की गई। शेष 13 सामान्य वार्डों में सामान्य महिला के लिये पांच आरक्षित वार्डों का चयन भी ड्रा सिस्टम के जरिये किया गया। इस बार भी पर्ची मधु बागड़ी ने उठाई।

वार्ड बंदी का कार्य पूरा, यूं चलेगी प्रक्रियाएडहॉक कमेटी की बैठक में वार्डबंदी फाइनल हो गई है। रिपोर्ट पर मुख्यमंत्री की मुहर लगते ही अधिसूचना जारी कर दी जायेगी। अधिसूचना विभाग की वेबसाईट के अतिरिक्त नगर परिषद कार्यालय, उपमंडलाधीश कार्यालय में चस्पा की जायेगी। पंद्रह दिनों के भीतर एतराज मांगे जाएंगे।

वर्ष 2003-04 के बाद वार्ड बंदी
वर्ष 2004 में नगरपालिका डबवाली के चुनावों से पूर्व 2011 की जनसंख्या के आधार पर वार्ड बंदी की गई थी। जिसके आधार पर वार्ड की संख्या 17 से 19 हो गई थी। इस वार्ड बंदी के तहत ही वर्ष 2008 में नगरपालिका चुनाव हुये थे। पार्षदों का कार्यकाल मार्च 2014 में पूरा हो चुका है। वार्ड बंदी के लिये पहली बैठक 1 अक्तूबर 2013 को हुई थी, 24 मई 2014 को दूसरी बैठक हुई। दोनों बैठकों में वार्ड बंदी का कार्य सिरे नहीं चढ़ पाया था। आज पुन: हुई वार्ड बंदी में वार्डों की संख्या 21 हो गई।

48 नपा/नप की वार्डबंदी प्रक्रिया में
हरियाणा की 48 नगरपालिकाओं/नगर परिषद में वार्ड बंदी का कार्य प्रक्रिया में है। चुनाव आयोग हरियाणा ने 14 दिसंबर 2014 तक वार्ड बंदी का कार्य पूर्ण करने के लिये कहा है। मई 2015 में प्रदेश की 39 नगरपालिकाओं के चुनाव होने तय हैं। डबवाली नगर परिषद के चुनाव इसके बाद हो सकते हैं।
-रणवीर पराशर, अतिरिक्त निदेशक,
स्थानीय शहरी निकाय विभाग, हरियाणा

हम तैयार
वार्डबंदी फाइनल हो चुकी है। अंतिम निर्णय आते ही मत बनाने की प्रक्रिया शुरू होगी। चुनाव के लिये प्रशासन तैयार है।
-सतीश कुमार
एसडीएम, डबवाली

15 Nov. 2014