युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

29 नवंबर 2014

पिज्जा के लिये बना चोर नहीं बख्शा भगवान का घर

डबवाली (लहू की लौ) डबवाली, सिरसा तथा हिसार में बेखौफ होकर चोरियों को अंजाम देने वाले डबवाली निवासी नमन् उर्फ काकू की उम्र महज सत्रह साल है। पंद्रह साल की उम्र में पहली दफा 90 हजार रूपये की चोरी करने वाला यह लिटिल मास्टर अब शहर के दुर्गा मंदिर से लाखों रूपये की ज्वेलरी चोरी करने के मामले में पुलिस ने पकड़ा है। सीआईए के समक्ष उसने ऐसे खुलासे किये, जिसे सुनकर पुलिस के होश उड़ गये।
पिज्जा खाने, शॉपिंग पर उड़ाई राशि : काकू ने पुलिस को बताया कि वह 9वीं कक्षा का छात्र था। जब उसके परिजनों ने उसे न्यू बस स्टेंड रोड़ पर स्थित कपड़े की दुकान पर लगाया। उसने अपने तीन साथियों सहित दुकान से 90 हजार रूपये चोरी किये। एक साथी की दगाबाजी से वह पकड़ा गया। परिजनों ने उसे सुधार के लिये सिरसा में रह रहे उसके मामा के पास भेज दिया। लेकिन वह वापिस आ गया। घर से जेब खर्च न मिलने पर वह छोटी-छोटी चोरी करके अपने शौंक पूरे करने लगा। 3 फरवरी 2014 को पहली दफा दुर्गा मंदिर में गल्ले से एक हजार रूपये की नकदी चुराई। 8 अप्रैल 2014 को शनि मंदिर में 10 हजार रूपये की चोरी की। 31 मई 2014 को दुर्गा मंदिर में ही अपनी तीसरी चोरी को अंजाम देते हुये 35 हजार 961 रूपये, 1500 रूपये के हार तथा डीवीआर चुरा लिया। चोरियों के बाद वह अपने साथियों को लेकर बठिंडा में मॉल घूमने के लिये गया। वहां पिज्जा खाने पर राशि उड़ाई। 2 जून 2014 को पुलिस ने उसे पकड़ लिया। युनाईल कोर्ट सिरसा में पेश करने पर अदालत ने उसे बाल सुधार गृह हिसार भेज दिया। 1 अक्तूबर 2014 को अदालत ने उसे साढ़े तीन माह तक सरकारी अस्पताल की बैड शीट बिछाने की सजा सुनाई। लेकिन उसने ऐसा नहीं किया।
परिजनों ने घर से निकाला
काकू के अनुसार जेल से छूटते ही वह अपने घर पहुंचा। परिजनों ने उसे घर से बाहर निकाल दिया। उसी दिन उसने मीना बाजार के नजदीक एक दुकान में सेंधमारी की। बीड़ी-सिगरेट तथा नकदी चुराने के बाद वह सालासर चला गया। दर्शन करने के बाद सिरसा पहुंच गया। टाऊन पार्क में सोते समय एक जेबकतरे ने उसकी जेब काटने की कोशिश की। उसने पकड़कर उसे धुन दिया। जेबकतरे ने अपनी पहचान हैप्पी निवासी सिरसा के रूप में करवाते हुये उसे गैंग में शामिल होने के लिये कहा। थ्री व्हीलर चालक होने पर हैप्पी पर कोई शक नहीं करता था। रात को उन्होंने सिरसा में एक मेडिकल शॉप में चोरी को अंजाम दिया। शॉप में जो नशा मिला उसे हैप्पी खा गया। जबकि उसे 150 रूपये मिले। उन दोनों ने मिलकर सिरसा में कई चोरियां की। हैप्पी ने हिसार निवासी रविंद्र उर्फ रवि से उसकी मुलाकात करवाई। रवि ने उसे हिसार में 700 रूपये में किराये पर एक कमरा दिलाया। वे दोनों हिसार के जेबकतरों को पीटकर पैसा कमाने लगे। रात को हिसार में कई कोठियों में घुसकर बर्तन चुराये।
पुलिस व्यस्त थी, मैंने अपना काम किया : पुलिस के समक्ष काकू ने कहा कि प्रदेश की पूरी पुलिस संत रामपाल में व्यस्त थी। उसे दुर्गा मंदिर में चोरी करने का यही ठीक अवसर लगा। 16 नवंबर की रात को उसने दुर्गा मंदिर के पीछे लगे रोशनदान से मंदिर में प्रवेश किया। ज्वेलरी चुराने के बाद उसे एक गट्टे में भरकर बस अड्डा में पहुंच गया। 17 नवंबर को सुबह 5 बजे दिल्ली के लिये जाने वाली पहली बस में सवार होकर हिसार स्थित अपने कमरे में पहुंच गया।
जेबकतरे के इलाज पर खर्च करना था पैसा : पुलिस पूछताछ के दौरान लिटिल मास्टर ने यह भी कहा कि उसेक साथ हिसार का जेबकतरा चीकू भी रहता है। जिसका पैर गल रहा है। वह तथा रवि मिलकर उपचार करवा रहे हैं। ज्वेलरी बेचकर मिलने वाली रकम से पहला काम उन्होंने चीकू का इलाज करवाना था। शेष बचे पैसे से वेल्डिंग का काम शुरू करना था।

नमन् को छह-छह माह की कैद
शनि मंदिर तथा दुर्गा मंदिर में चोरी के पुराने मामलों में नमन् को यूनाईल जस्टिस बोर्ड के समक्ष पेश किया गया। बोर्ड की जस्टिस पूजा गोयल ने दोनों मामलों में नमन को छह-छह माह कैद की सजा सुनाई। जबकि चोरी के नये मामले में 14 दिनों के लिये उसे बाल सुधार गृह हिसार भेजने के आदेश दिये। गौरतलब है कि 1 अक्तूबर को अदालत ने परिविक्षा पर रिहा करते हुये नमन् को अस्पताल में रोगियों की सेवा करने के लिये कहा था। लेकिन उसने अदालत के आदेशों को नजरअंदाज किया। जिसके बाद सख्त हुई अदालत ने शुक्रवार को उसे छह-छह माह कैद की सजा सुनाई।

रामबाग के साथ गंदगी में बरामद हुई दो किलो चांदी

डबवाली (लहू की लौ) सीआईए डबवाली ने दुर्गा मंदिर में हुई चोरी की गुत्थी को सुलझाते हुये दो लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने आरोपियों से चार किलो 540 ग्राम चांदी की ज्वेलरी बरामद की है।
सीआईए प्रभारी राकेश कुमार ने बताया कि बुधवार शाम को मुखबरी मिली थी कि एक युवक सिरसा में ज्वेलरी बेचने के लिये ग्राहक तालाश कर रहा है। पुलिस ने उसे काबू कर लिया। पूछताछ के दौरान उसने अपनी पहचान रविंद्र उर्फ रवि निवासी हिसार के तौर पर करवाते हुये दुर्गा मंदिर से चोरी ज्वेलरी उसके पास होना स्वीकार किया। डबवाली अदालत से एक दिन का रिमांड प्राप्त करने के बाद रवि की निशानदेही पर उसके घर से दो किलो 500 ग्राम चांदी बरामद की। उसने बताया कि वारदात को डबवाली निवासी नमन् ने अंजाम दिया था। पुलिस ने मुखबरी के आधार पर शुक्रवार सुबह डबवाली के बठिंडा चौक से नमन् उर्फ काकू को गिरफ्तार कर लिया। उसकी निशानदेही पर पुलिस ने रामबाग की दीवार के साथ गंदगी में छुपाकर रखी गई 2 किलो 40 ग्राम चांदी बरामद कर ली। ज्वेलरी को दोनों ने लोहे के कतिया से काटकर हिस्सों में बांट रखा था। जबकि हिसार में इसको किसी ने खरीदा नहीं, तो नमन् उर्फ काकू अपने हिस्से को लेकर डबवाली आ गया। जबकि रवि ने सिरसा में ग्राहक ढूंढना शुरू कर दिया।
सीआईए प्रभारी ने बताया कि हिसार में 26 वर्षीय रवि ने बीकानेर स्थित आईटीआई से वेल्डर का कोर्स किया हुआ है। नशे की पूर्ति के लिये वह चोरियों को अंजाम देने लगा। रवि को उपमंडल न्यायिक दंडाधिकारी परवेश सिंगला की अदालत में पेश किया गया। अदालत ने उसे जेल भेजने के आदेश दिये। जबकि नमन् को युनाईल कोर्ट सिरसा में पेश किया गया। अदालत ने उसे बाल सुधार गृह हिसार भेजने के आदेश दिये।

एसडीएम ने चेताया, मोबाइल लोकेशन से पता चल जायेगा आप डयूटी कर रहे हो या फिर....

डबवाली (लहू की लौ) शुक्रवार को उपमंडलाधीश सतीश कुमार ने अपने कार्यालय में उपमंडल अधिकारियों की क्लास ली। उन्हें अपने काम के बारे में ए टू जेड तक सीखने की नसीहत देते हुये सात दिन की मोहलत दी। आदेशों की अवहेलना करने वाले कर्मचारियों को सस्पेंड करने की चेतावनी दी। साथ में लापरवाह अधिकारियों को अपना बोरिया-बिस्तर गोल रखने की सलाह दी।
दोपहर 12 बजे उपमंडल के विभिन्न विभागों के अधिकारी तथा कर्मचारी उपमंडलाधीश कार्यालय में एकत्रित हुये। बैठक को संबोधित करते हुये उपमंडलाधीश ने कहा कि बगैर सरकारी कार्यालयों में सफाई किये हम स्वच्छता का ढिंढोरा पीटते फिरें, यह बड़े दुर्भाग्य की बात है। सात दिन के भीतर प्रत्येक कार्यालय चमक जाना चाहिये, वरना कार्यालय का मुखिया जिम्मेवार होगा। उपमंडलाधीश ने कहा कि कार्यालय में समय पर आयें और जायें। उपायुक्त औचक्क निरीक्षण करते हैं, अगर कोई गैर हाजिर पाया गया तो उसकी खैर नहीं होगी।
मोबाइल लोकेशन से पता लगायेगा प्रशासन
उपमंडलाधीश ने संबंधित अधिकारियों से चतुर्थश्रेणी कर्मी से लेकर ए श्रेणी में आने वाले अधिकारियों का ब्यौरा उनके मोबाइल नंबरों सहित मांगा। उपमंडलाधीश ने कहा कि मोबाइल नंबरों के आधार पर चतुर्थश्रेणी कर्मियों की लोकेशन जानी जायेगी। अगर कोई कर्मचारी डयूटी से किसी अन्य जगह पर मिला, तो उसके खिलाफ कार्रवाई अमल में लाई जायेगी। उन्होंने आदेश दिये कि अधिकारी समयबद्धता का पालन करते हुये लोगों के कार्य निपटायें। काम लेकर बैठे रहने की प्रवृत्ति बर्दाश्त नहीं की जायेगी। अगर इस संबंध में शिकायत मिलती है तो संबंधित अधिकारी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी।
एएफएसओ नहीं दे पाया जवाब
बैठक में उपमंडलाधीश ने एएफएसओ से सवाल किया कि उपमंडल डबवाली में कितने डिपो हैं? कितने लोगों के राशन कार्ड बने हैं? जिसका जवाब वे नहीं दे पाये। उन्होंने रोजगार कार्यालय से आये अधिकारी से बेरोजगारी भत्ता के लिये आये फार्मों के बारे में पूछा, वे भी स्पष्ट जवाब नहीं दे पाये। उन्होंने रोजगार कार्यालय अधिकारी को निर्देश दिये कि वे बेरोजगारी भत्ते के लिये आये फार्मों की फिजिकल वेरिफिकेशन करें। किसी फर्जी बेरोजगार को भत्ता न मिले। ऐसे ही सवाल उपमंडलाधीश ने मार्किटिंग बोर्ड के जेई से पूछे। उपमंडलाधीश ने पूछा कितनी सड़कें हैं? उनकी लंबाई कितनी है? लेकिन जेई नहीं बता पाये। जिस पर उपमंडलाधीश ने सभी विभागों के अधिकारियों तथा कर्मचारियों को अपने काम को ए टू जेड तक समझने के लिये कहा।
रोड़वेज अधिकारी को लगाई फटकार
उपमंडलाधीश ने रोड़वेज अधिकारी को फटकार लगाते हुये कहा कि वे कई दफा बस अड्डा के बाहर रोड़ पर निजी या सरकारी बसों को खड़ा न होने के लिये कह चुके हैं। लेकिन अभी तक समस्या जस की तस है। एसडीएम ने रोड़वेज अधिकारी से पूछा आप मुझे बतायें कि आप कौन सी भाषा समझोगे, हिंदी में तो मैं आपको बता चुका हूं। बसें न रूकने के लिये कर्मचारी लगायें, अगर वह नहीं काम करता तो उसे सस्पेंड किया जायेगा। आपसे नहीं संभलता तो आप अपना बोरिया-बिस्तर गोल करके रखें।
मनरेगा में है धांधली
उपमंडलाधीश ने कहा कि मनरेगा संबंधी मेरे पास ऐसे कई मामले हैं, जिनमें मृत व्यक्ति को ही कार्य करता हुआ दिखाया गया है। मनरेगा में धांधली संबंधी कई शिकायतें हैं। उन्होंने बीडीपीओ को इस संबंध में व्यक्तिगत रूचि लेकर काम करने की सलाह दी।

ढाई माह पहले उखाड़ी गली, आज तक बननी शुरू नहीं हुई

डबवाली (लहू की लौ) गली नई बननी थी। ठेकेदार ने पत्थर गिराने के बाद उसे मिट्टी से ढक दिया था। आज ढाई माह से ज्यादा का समय हो गया है, गली जस की तस है। अब तो रिश्तेदार भी कमेंट करने लगे हैं। पूछते हैं गली बन गई या फिर वैसी ही है।
यह कहना है फ्रेंडस कलोनी की गली नं. 5 के लोगों का। गली वासी सुरेंद्र सचदेवा, सुरजीत सिंह, राजेंद्र सेठी, संजीव पाल कौर, भूप सिंह, दर्शन सिंह, सुमन रानी ने बताया कि 9 सितंबर 2014 को उनकी गली में जेसीबी से उनके घरों के आगे बने थेहड़े तोडऩे के बाद पत्थर बिछा दी गई थी। पत्थर के ऊपर मिट्ठी गिरा दी गई। लेकिन अभी तक गली का निर्माण शुरू नहीं हुआ है। गली में धार्मिक तथा वैवाहिक कार्यक्रम होने हैं। लेकिन उनके घरों के टूटे थेहड़े तथा गली का निर्माण न होने के कारण उन्हें भारी परेशानी आ रही है।

रोलर आते ही शुरू होगा काम
डबवाली में सरकारी या निजी तौर पर रोड़ रोलर की सुविधा नहीं है। रोलर को बाहर से लाना पड़ता है। एक-दो दिन में रोलर आने के बाद गली का निर्माण शुरू कर दिया जायेगा। टाईल संबंधी कोई दिक्कत नहीं है। इंतजाम पूरे हैं।
-मनीष जैन, ठेकेदार


अभी टाईल में नमी है
सर्दी शुरू होने के कारण टाईल में नमी है। इसके प्रयोग से गली कुछ ही दिनों में बिखर जायेगी। टाईल सूखते ही निर्माण शुरू करवा दिया जायेगा।
-जयवीर डुडी, एमई नगर परिषद, डबवाली

कौन सच्चा, कौन झूठा
गली कब बननी शुरू होगी, इस सवाल का जवाब ठेकेदार तथा नगर परिषद एमई अलग-अलग जवाब दे रहे हैं। ठेकेदार का कहना है रोड़ रोलर की वजह से गली अटकी है। जबकि एमई का कहना है टाईल में नमी है। सवाल उठ रहा है कि आखिर दोनों में से सच कौन बोल रहा है?

बीएड कॉलेज में प्रतियोगिता आयोजित

डबवाली (लहू की लौ) भगवान श्री कृष्ण कॉलेज ऑफ एजूकेशन की महिला प्रकोष्ठ प्रभारी डॉ. बिमला ढाका के निर्देशन में शुक्रवार को स्लोगन-लेखन प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। जिसमें भारत में चुनावी लोकतन्त्र की दशा और दिशा विषय रखा गया। प्रतियोगिता का शुभारंभ प्राचार्या डॉ. पूनम गुप्ता ने किया। प्रतियोगिता में पूनम प्रथम, प्रियंका जिन्दल और खुशबू क्रमश: द्वितीय और तृतीय रहीं। निर्णायक की भूमिका प्राचाार्या डॉ. पूनम गुप्ता, सुमन छाबड़ा ने निभाई। इस मौके पर  डॉ. कमलेश यादव, स्मिता सेतिया, रिंकी गुप्ता उपस्थित थे। प्रतियोगिता में कुल 15 छात्राओं ने भाग लिया।

35 दंत रोगियों के जबड़े बदले

श्रीगंगानगर के सुरेन्द्रा डेंटल कॉलेज एवं रिसर्च इंस्टीच्यूट ने डबवाली में लगाया कैंप

डबवाली (लहू की लौ) श्री जैन श्वेताम्बर तेरा पंथ भवन में सुरेन्द्रा डैन्टल कॉलेज एवं रिसर्च इन्स्टीच्यूट श्री गंगानगर के सहयोग से श्री जैन श्वेताम्बर तेरा पंथ सभा मंडी डबवाली द्वारा आयोजित दो दिवसीय नये जबड़े लगाने का शिविर शुक्रवार को सम्पन्न हो गया।
सुेरन्द्रा डैन्टल कॉलेज के प्रिंसीपल योगेश गुप्ता ने बताया कि इस शिविर में कॉलेज की हैड ऑफ दी डैन्टल डिपार्टमेंट डॉ. शशिकला जैन के नेतृत्व में चिकित्सकों की 25 सदस्यीय टीम ने 35 दंत रोगियों का चैकअप किया और फिर उनके जबड़े का माप लेकर मौका पर ही जबड़े का निर्माण करके नये जबड़े लगाये। उन्होंने बताया कि एक जबड़े पर कॉलेज का करीब 10 से 15 हजार रूपया खर्च आता है।
इस मौके पर डॉ. शशिकला जैन ने नकली जबड़े लगवाने वाले रोगियों को इसके उपयोग एवं रख रखाव संबंधी जानकारी दी। उनके अनुसार अगर जबड़े को सही रख रखाव दिया जाये तो 20 वर्ष तक खराब नहीं होते। किसी संस्था द्वारा डबवाली में नये जबड़े नि:शुल्क लगाने का यह अपनी किस्म का पहला शिविर था।
इस मौके पर श्री जैन श्वेतम्बर सभा द्वारा शिविर में उपस्थित दंत चिकित्सों व सहयोगियों को सम्मानित किया गया। इस मौके पर सभा के प्रधान रमेश बांसल,गिरधारी लाल गुप्ता एडवोकेट, डॉ. शिवजी राम गर्ग, हम्पटी गर्ग, ललित जैन, सुरेश मित्तल, नरेश जैन, बलदेव जैन, सुरेन्द्र जिन्दल, मैनेजर केके जैन, दविन्द्र जैन, राकेश गर्ग, रितू जैन, सुषमा जैन, डॉ. सीमा जैन, मोना जैन, सुमन जैन ने अपनी सेवाएं दी।
इस शिविर में सुरेन्द्रा डैन्टल कॉलेज के चेयरमैन सूरज अग्रवाल तथा उनकी धर्मपत्नी रजनी अग्रवाल ने भी व्यक्तिगत रूप से विजिट करके शिविर का निरीक्षण किया।

एचपीएस में तीन दिवसीय खेल मुकाबले शुरू


डबवाली (लहू की लौ) एचपीएस सीनियर सैकेंडरी स्कूल में एचपीएस स्टडी ग्रुप के तीन दिवसीय खेल मुकाबलों का शुभारंभ खेल ध्वज फहराकर व खेल ज्योति प्रज्जवलित कर किया। विद्यार्थियों को खेल भावना से खेल खेलने की शपथ दिलाई।

पहले दिन 168 गोल्ड, सिल्वर तथा कांस्य मैडल के लिए मुकाबले करवाये गए। एलकेजी की लड़कियों की 25 मीटर दौड़ में साक्षी ने गोल्ड, खुशी गोयल ने चांदी तथा ईशप्रीत कौर ने कांस्य मैडल हरजिन्द्र कौर, परनीत कौर व हरलीन ने क्रमश: गोल्ड, सिल्वर तथा कांस्य मैडल हासिल किए। वहीं लड़को में निखिल कुमार व खुशदीप सिंह ने गोल्ड, रूद्राक्ष सिंगला व देवकश ने चांदी तथा वीर गुप्ता व अंकित ने कांस्य मैडल हासिल किया। यूकेजी की लड़कों की 25 मीटर दौड़ में विक्रमवीर सिंह ने गोल्ड, अरमान सिंह ने चांदी तथा जयदीप ने कांस्य मैडल हासिल किया। लड़कियों में सोफिया ने गोल्ड, निराली ने चांदी तथा सरमीत ने कांस्य मैडल हासिल किया। तृतीय कक्षा के लड़कियों की 100 मीटर दौड़ में सितेला ने गोल्ड, भावना ने चांदी तथा निधि ने कांस्य मैडल हासिल किया। चतुर्थ की लड़कियों की 100 मीटर दौड़ में शबनवप्रीत ने गोल्ड, जीनू ने चांदी तथा काजल ने कांस्य मैडल हासिल किया। पांचवी की लड़ंिकयों की 100 मीटर रेस़ में सिमरन ने गोल्ड, प्रनीता ने चांदी तथा काजल ने कांस्य मैडल हासिल किया। लड़कियों में कल्पना ने गोल्ड, पल्लवी ने चांदी तथा पूर्णिमा ने कांस्य मैडल हासिल किया । छटी कक्षा की लड़कियों की 100 मीटर रेस में जसविंद्र कौर ने गोल्ड, जश्नी ने सिल्वर तथा अलीशा ने कांस्य मैडल जीता।  छटी कक्षा के लड़कों की 100 मीटर रेस में चेतन बांसल, ईशान व खुशदीप ने मैडल प्राप्त किए व अंकुश कंबोज, कौशल व नवदीप सरन ने मैडल जीते। सातवीं की लड़कियों की 100 मीटर दौड़ में रिया व स्नेहा ने गोल्ड, जय श्री व दविंद्र कौर ने चांदी तथा दीक्षा, कुदरत व प्रतीक ने कांस्य मैडल हासिल किया। वहीं आठवीं की लंबी कूद में लोकिंद्र ने गोल्ड, सुखप्रीत ने चांदी तथा नवजोत ने कांस्य मैडल हासिल किया। लंबी कूद में आठवीं कक्षा में लड़कियों में पायल, विजयलक्ष्मी तथा तनूजा ने क्रमश: मैडल प्राप्त किए। नौवीं कक्षा के शॉटपुट में कुलदीप सिंह ने गोल्ड, गुरकिरत सिंह ने सिल्वर तथा अमृतपाल सिंह ने कांस्य मैडल हासिल किया।
इसी प्रकार भाला फेंक प्रतियोगिता में वरिष्ठ वर्ग में लड़कों में से डिम्पल ने गोल्ड़, शुभम् तथा करन ने क्रमश: सिल्वर तथा कांस्य मैडल जीते। लड़कियों में कोमल, मनप्रीत कौर तथा टीना, कनिष्ठ वर्ग लड़कों में दसवीं के संजीव कुमार, अमृतपाल सिंह, लवप्रीत सिंह को क्रमश: गोल्ड, सिल्वर तथा कांस्य मैडल प्राप्त हुये। कार्यक्रम में वासदेव मैहता ने मुख्यातिथि के तौर पर शिरकत की। जबकि जसवंत सिहाग, सुमन देवी, सुनीता रानी, सिकन्दर सिंह, विजय कुमार, आशा देवी ने विजेताओं को मैडल डालकर सम्मानित किया। इस मौके पर प्रिंसीपल रमेश सचदेवा उपस्थित थे।

जरा, इधर भी ध्यान दीजिए जनाब

जनस्वास्थ्य विभाग की बगल में सीवरेज जाम होने से गली में बह रहा गंदा पानी शुक्रवार सुबह नई अनाज मंडी रोड़ पर आ गया। पूरे क्षेत्र में गंदे पेयजल की आपूर्ति हुई। बाबा रामदेव मंदिर वाली गली के निवासी अमरनाथ बागड़ी, सुरेंद्र पलंबर, दर्शन कुमार, संत राम, राजा सिंह ने बताया कि हफ्ते में दो दफा सीवरेज जाम होते हैं। पड़ौस में स्थित जनस्वास्थ्य विभाग के कार्यालय में शिकायत करने पर समस्या का शीघ्र समाधान हो जाता है। लेकिन स्थाई तौर पर समाधान न होने से समस्या अब गहराती जा रही है। सीवरेज जाम होने के साथ-साथ गंदा पानी मिक्स होकर घरों में आने लगा है। शुक्रवार को भी ऐसा ही हुआ। गली में बह रहे गंदे पानी तथा गंदे पानी की आपूर्ति से क्षेत्र के रोग फैलने की आशंका है।

सफाई व्यवस्था देखने के बाद अस्पताल के निरीक्षण के लिये पहुंचे एसडीएम

डबवाली (लहू की लौ) एसडीएम सतीश कुमार ने गत दिनों से शहर में चलाए गए सफाई अभियान का जायजा लिया। इस दौरान उन्होंने गुरू जंभेश्वर नगर, इंदिरा नगर, सुंदर नगर, स्वतंत्रता सेनानी पार्क के आसपास से चौटाला रोड़ तक चले सफाई अभियान का भी निरीक्षण किया। उन्होंने देखा कि कुछ लोग अभी भी सफाई अभियान में सहयोग न देकर, सड़कों एवं गलियों की सफाई होने के बाद कूड़ा कर्कट डालकर वातावरण को अशुद्ध करते हैं। उन्होंने सभी से अनुरोध किया कि नगर परिषद ने बड़ी-बड़ी डस्टबिन रखा दी है। उसमें ही कूड़ा कर्कट डालें। उन्होंने नगर परिषद अधिकारी को आम जनता के लिए शौचालयों का निर्माण एवं मुरम्मत आदि के निर्देश दिए।
उन्होंने कहा कि जल्द ही सामाजसेवी संस्थाओं, विभिन्न व्यवसायियों के प्रधानों एवं डेरा इत्यादियों से मिलकर सफाई अभियान चलाया जाएगा ताकि लोगों में जागरूकता पैदा हो और वे इस सफाई अभियान में पूर्ण सहयोग देकर स्वच्छ डबवाली-स्वच्छ हरियाणा-स्वच्छ भारत महायज्ञ में आहुति डालें। एसडीएम सतीश कुमार ने बताया नई सब्जी मंडी के स्थापित होने से शहर की महिलाएं भी बेझिझक सब्जी मंडी से सब्जी खरीदकर ले जाती हैं। उन्होंने कहा कि जो महिलाएं पहले कभी बाजार से खरीददारी करने नहीं निकली वह आज सब्जी मंडी से सब्जी खरीदकर अपने आप को गौरवांवित महसूस कर रही हैं।
सतीश कुमार ने सफाई अभियान के दौरान सिविल अस्पताल का भी निरीक्षण किया। सफाई अभियान का असर देखने के बाद उन्होंने सभी चिकित्सकों की बैठक ली। जिसमें उन्होंने अस्पताल के सभी वार्डों व मरीजों के स्वास्थ्य के मद्देनजर सफाई पर विशेष ध्यान देने के निर्देश दिए। उन्होंने शहर में सफाई व्यवस्था को निरंतर बनाए रखने के लिए भी सुझाव मांगे। इस पर वरिष्ठ चिकित्सा अधिकारी एमके भादू ने सुझाव दिया कि फलों एवं चाट इत्यादि की रेहडिय़ां लगाने वाले अपनी रेहडिय़ों के साथ एक बैग लटका कर रखें। जिसमें ग्राहक फलों के छिलके इत्यादि डाल सकें ताकि गदंगी न फैले।
इस मौके पर डॉ. बलेश बांसल, डॉ. प्रमोद कड़वासरा, डॉ. भारत भूषण, डॉ. सुखवंत बराड़, डॉ. कीर्ति गुप्ता, नगर परिषद सचिव ऋषिकेश चौधरी, नगरपरिषद एमई जयवीर डुडी, भवन निरीक्षक सुमित ढांडा उपस्थित थे।

29 Nov. 2014





बेचने के लिये रखा था लाखों का गेहूं, पकड़ा गया!

डबवाली (लहू की लौ) गेहूं से भरे गोदामों में भ्रष्टाचार की कई परतें खुलने के बावजूद न कर्मचारी चेते हैं, न ही उन्हें संरक्षण देने वाले अधिकारी। उपमंडल डबवाली के एक गोदाम में इस बार भी ऐसा हो रहा था।  लाखों रूपये का सरकारी गेहूं बेचा जाता, इससे पहले ही भारतीय खाद्य निगम के एक अधिकारी ने छापा मारकर गेहूं पकड़ लिया। गुपचुप तरीके से अंजाम दी गई इस कार्रवाई के बाद एफसीआई के डिपो इंचार्ज पर गाज गिरी है। जब इस मामले में निगम के एक वरिष्ठ अधिकारी से बात की गई तो वे टालमटोल कर गये। अधिकारी के रवैये ने कई सवाल पैदा कर दिये हैं।
डिपो इंचार्ज का तबादला
गांव सांवतखेड़ा स्थित गोदाम का कंट्रोल हैफेड के पास है। गोदाम में भरने वाली गेहूं एफसीआई की होती है। सितंबर, अक्तूबर में स्पैशल के दौरान इस गोदाम से गेहूं उठाया गया था। उठान के बाद लूज गेहूं को पुन: बैग में भरकर स्पैशल तक नहीं पहुंचाया गया। कर्मचारियों तथा अधिकारियों ने मिलीभगत करके लूज गेहूं से एक स्टेग जितने करीब बत्तीस सौ बैग बना लिये। बताया जा रहा है कि सरकारी गेहूं को बेचा जाना था। इससे पहले ही भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) की एक टीम ने भनक पाकर गोदाम में छापा मार लिया। रिकॉर्ड की जांच किये जाने पर गोदाम में करीब बत्तीस सौ बैग ज्यादा पाये गये। टीम ने हैफेड तथा एफसीआई अधिकारियों तथा कर्मचारियों से जवाब तलबी की। लेकिन वे कोई स्पष्ट जवाब नहीं दे पाये।
जांच टीम ने उपरोक्त स्टॉक को रिकॉर्ड में जमा करने के बाद हैफेड तथा एफसीआई अधिकारियों को लताड़ा। टीम ने जांच की तुरंत बाद ही एफसीआई डिपो इंचार्ज आरके गर्ग का तबादला भी कर दिया। उनके स्थान पर रोहतक के डिपो इंचार्ज एसपी भाटिया को डबवाली डिपो का इंचार्ज बनाया गया है।

लूज गेहूं भरा था बैग में, बाद में दर्ज हुआ
सांवतखेड़ा गोदाम में गेहूं एफसीआई का लगता है। सिक्योरिटी हैफेड उपलब्ध करवाती है। टीम ने दौरा कर लूज गेहूं से भरे बैग पकड़े थे। स्पैशल के दौरान एकदम से इसे रिकॉर्ड में दर्ज नहीं किया जा सकता। बाद में बैग दर्ज कर लिये गये।
-छबील दास, प्रभारी हैफेड, डबवाली

मुझे मामले की जानकारी नहीं
मैंने कुछ दिन पूर्व ही डबवाली में ज्वाईन किया है। मुझे उपरोक्त मामले की जानकारी नहीं है।
-एसपी भाटिया, इंचार्ज डबवाली डिपो

एफसीआई हिसार के डीएम सुभाष चंद्र की नोटंकी
पहली कॉल : मैं डबवाली नहीं आया (फोन काट दिया)।
दूसरी कॉल : मैं अभी विजी हूं, थोड़ी देर बाद करना (फोन काट दिया)
तीसरी कॉल (कुछ समय बाद) : हैलो, हैलो, हैलो (फोन काट दिया)। लगातार कॉल की गई फोन रिसीव नहीं किया।

पालिका भूमि पर अवैध कब्जा होने पर फंसेगा अधिकारी

डबवाली (लहू की लौ) पालिका भूमि पर अवैध कब्जा या अनाधिकृत निर्माण की शिकायत मिलने पर संबंधित कर्मचारी और अधिकारी की खैर नहीं। ऐसे लापरवाह कर्मचारी तथा अधिकारी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जायेगी। शहरी स्थानीय निकाय विभाग ने चेतावनी भरा पत्र प्रदेश की नगर पालिकाओं तथा नगर परिषदों में जारी किया है। जिसके बाद अधिकारी तथा कर्मचारी पालिका भूमि पर अवैध कब्जों तथा अनाधिकृत निर्माण वाले क्षेत्रों क सूची तैयार करके कार्रवाई करने के मूड में हैं।
शहरी स्थानीय निकाय हरियाणा, पंचकूला के उप निदेशक युधिष्ठिर सिंह ने अपने पत्र में कहा है कि पालिका भूमि पर अवैध कब्जों संबंधी लगातार शिकायतें मिल रही हैं। इस संदर्भ में बार-बार दिशा निर्देश जारी करने के बावजूद पालिका प्रशासन ने कोई कार्रवाई नहीं की। ऐसे में पालिका प्रशासन की अकुशलता और अक्षमता को दर्शाता है। जबकि कथित अवैश कब्जे हटाने व निर्माण रोकने के लिये हरियाणा नगर निगम अधिनियम 1994 की धारा 408 (ए) के तहत संबंधित नगर निगम तथा हरियाणा नगर पालिका अधिनियम-1973 की धारा 181 के तहत संबंधित नगर परिषद या नगरपालिका स्वयं सक्षम है।
पत्र में आई चेतावनी
पत्र के जरिये उपनिदेशक ने पालिका भूमि पर अवैध कब्जे को तुरंत हटाये जाने के आदेश दिये गये हैं। साथ में स्पष्ट तौर पर लिखा है कि अगर उपरोक्त मामले में भविष्य में कोई शिकायत, सरकार व निदेशालय में पुन: प्राप्त होती है तो इस संबंध में संबंधित अधिकारी व कर्मचारी व्यक्तिगत रूप से स्वयं जिम्मेवार होंगे। उनके विरूद्ध नियमानुसार अनुशासकीय कार्यवाही अमल में लाई जायेगी।
12 पत्र जारी कर चुका है विभाग
हालांकि इससे पूर्व भी शहरी स्थानीय निकाय विभाग 12 पत्र जारी कर चुका है। पत्र जारी करने का सिलसिला 1 सितंबर 2011 को जारी हुआ था। इसके बाद 9 जुलाई 2012, 21 जून 2013, 31 जुलाई 2013, 2 दिसंबर 2013, 16 जून 2014, 28 जुलाई 2014, 5 सितंबर 2014, 27 अक्तूबर 2014 को जारी हो चुके हैं। अब अपने नये पत्र में उपरोक्त पत्रों का जिक्र करते हुये उपनिदेशक ने संबंधित कर्मचारी या अधिकारी को व्यक्तिगत तौर पर जिम्मेवार मानते हुये कार्रवाई करने की चेतावनी दी है। जिसके बाद कर्मचारियों तथा अधिकारियों में हड़कंप की स्थिति है।

अवैध कब्जे पर सूची बननी शुरू

शहरी स्थानीय निकाय हरियाणा, पंचकूला के उपनिदेशक युधिष्ठिर सिंह का पत्र मिला है। पत्र के अनुसार कार्य आरंभ कर दिया गया है। पालिका भूमि का पता करके अवैध कब्जों की सूची तैयार की जा रही है। जिस पर जल्द कार्रवाई की जायेगी।
-ऋषिकेश चौधरी, सचिव, नगर परिषद, डबवाली

सिरसा में बेची जानी थी दुर्गा मंदिर से चोरी ज्वेलरी, एक गिरफ्तार

-पुलिस ने आरोपी के हिसार स्थित घर से बरामद की टुकड़ों में बंटी ज्वेलरी
-डबवाली निवासी नमन् ने दिया था वारदात को अंजाम

डबवाली (लहू की लौ) दुर्गा मंदिर में चोरी किये स्वर्ण आभूषणों का सौदा करने के लिये सिरसा में घूम रहे एक युवक को सीआईए डबवाली ने दर दबोचा। पुलिस ने युवक की निशानदेही पर उसके हिसार स्थित घर से स्वर्ण आभूषण बरामद करने में सफलता अर्जित की है।
बुधवार शाम को सीआईए डबवाली को मुखबरी मिली कि सिरसा में देवीलाल पार्क के नजदीक एक युवक घूम रहा है। जो स्वर्ण आभूषणों को बेचने की बात कर रहा है। सूचना मिलते ही सीआईए प्रभारी राकेश कुमार अपने दलबल सहित मौका पर पहुंचे। युवक ने अपनी पहचान रवि उर्फ रविंद्र कुमार निवासी हिसार के रूप में करवाते हुये डबवाली के दुर्गा मंदिर में चोरी हुये स्वर्ण आभूषण उसके पास होने की बात कही। पुलिस ने वीरवार को उसे उपमंडल न्यायिक दंडाधिकारी परवेश सिंगला की अदालत में पेश किया। अदालत ने रवि को एक दिन के पुलिस रिमांड पर पुलिस को सौंप दिया। रिमांड अवधि के दौरान सीआईए डबवाली ने हिसार स्थित रवि के घर से छत्र, मुकुट बरामद कर लिये। जिसे रवि ने टुकड़ों में विभाजित कर रखा था।
रवि ने नहीं नमन् ने की चोरी
पुलिस पूछताछ में आरोपी ने बताया कि दुर्गा मंदिर में चोरी उसने नहीं, बल्कि नमन् उर्फ काकू पुत्र मदन लाल ग्रोवर, नजदीक पुराना हनुमान मंदिर, डबवाली ने की थी। जोकि उसका मित्र है। चोरी का आधा सामान उसके पास है। पता चला है कि रवि पर पांच मामले चल रहे हैं। जिनमें से तीन चोरी, एक एक्साईज तथा एक लड़ाई-झगड़े का मामला शामिल है।
कौन है नमन्
चोरी के एक मामले में शहर थाना पुलिस ने नमन् को 2 जून 2014 को गिरफ्तार किया था। पुलिस के समक्ष नमन् ने 3 फरवरी 2014 को दुर्गा मंदिर में गल्ले से एक हजार रूपये की नकदी उड़ाने की पुष्टि की थी। अपना जुर्म कबूल करते हुये उसने 8 अप्रैल 2014 को शनि मंदिर में 10 हजार रूपये चोरी करने की बात स्वीकारी थी। इतना ही नहीं 31 मई 2014 को उसने दुर्गा मंदिर में दूसरी बार चोरी करके 35 हजार 961 रूपये की नकदी, 1500 रूपये के हार सहित दस हजार रूपये कीमत का डीवीआर चोरी करने का जुर्म कबूला था। 1 अक्तूबर 2014 को सिरसा स्थित यूनाईल कोर्ट ने नमन् के व्यवहार में सुधार की आशा करते हुये उसे सरकारी अस्पताल की चद्दर बिछाने के लिये कहा था। रिहा होने के दिन वह एक बार घर पर पहुंचा। उसके बाद घर से फरार था।
नमन् की गिरफ्तारी के प्रयास शुरू
चोरी की गुत्थी सुलझने के बाद शहर थाना पुलिस ने नमन् की तालाश में छापामारी शुरू कर दी है। शुक्रवार को पुलिस पकड़े गये आरोपी रवि को अदालत में पेश करेगी।

अष्टमी 29 को

डबवाली (लहू की लौ) जस्सी बागवाली में स्थित जय श्री सिद्धेश्वरी महाकाली माता मंदिर में 29 नवंबर 2014, दिन शनिवार को अष्टमी पर जागरण होगा। डबवाली स्थित श्री सिद्धेश्वरी महाकाली माता मंदिर में जागरण तथा लंगर होगा। गिदड़बाहा के सुभाष नगर की गली नं. 3 में स्थित श्री वैष्णों माता मंदिर में अष्टमी पर चौकी होगी तथा अटूट भंडारा बरतेगा। लाल चन्द हीरा एण्ड पार्टी की ओर से जस्सी मंदिर के लिए शाम 7 बजे गोल चौक से फ्री बस चलेगी। जय मां काली जस्सी बागवाली लंगर सेवा समिति की ओर से मंदिर के निकट 42वां लंगर लगाया जायेगा।

जुर्माना तीस को, भरने आये दो

जुर्माना न भरने वालों के खिलाफ अदालत में जायेगी नगर परिषद

डबवाली (लहू की लौ) अतिक्रमण के खिलाफ चल रहे हल्ला बोल अभियान के तहत प्रशासन का रवैया लगातार तीखा होता जा रहा है। बृहस्पतिवार को एसडीएम को चैलेंज करके रेहड़ी लगाने का प्रयास कर रहे रेहड़ी मालिकों का प्रयास धरा का धरा रह गया।
प्रशासन सतर्क रहा
बुधवार शाम को नगर परिषद कार्यालय में हुये हंगामे के बाद प्रशासन सतर्क रहा। वीरवार सुबह करीब साढ़े 7 बजे सीनेटरी इंस्पेक्टर अविनाश सिंगला ट्रेक्टर-ट्राली को लेकर सब्जी मंडी में पहुंच गये। जिसे देखते ही रेहड़ी मालिक फरार हो गये। सब्जी मंडी के भीतर रेहड़ी लगाने का प्रयास कर रहे लोग भी खदेड़ दिये गये। बृहस्पतिवार देर शाम तक सब्जी मंडी क्षेत्र खुला-खुला नजर आया। उधर हल्ला बोल अभियान के तहत नगर परिषद के एमई जयवीर डुडी ने चौटाला रोड़ तथा न्यू बस स्टैंड रोड़ पर पांच अतिक्रमणकारियों के चालान काटे। दुकानदारों को तीन दिन के भीतर जुर्माना भरने का समय दिया गया है।
शहर में लगाई जा रही सफेद पट्टी : अतिक्रमण के साथ-साथ प्रशासन बाजार में आड़े-तिरछे लगने वाले वाहनों पर भी नकेल कसने जा रहा है। इसी कड़ी में मुख्य बाजार में सफेद पट्टी लगाई गई है। दुकानों के आगे वाहन खड़ा करने के लिये छह फुट जगह छोड़ी गई है। पट्टी से बाहर वाहन मिलने पर कार्रवाई अमल में लाई जायेगी। वहीं सब्जी मंडी क्षेत्र से हटाई गई रेहडिय़ों की जगह पर मुख्य बाजार के बीचों-बीच करीब तीन फुट चौड़ा तथा 1000 फुट लंबा डिवाईडर तैयार किया जा रहा है। डिवाईडर में प्रत्येक 200 फुट पर एक स्ट्रीट लाईट लगाई जायेगी।
रिकवरी वैन की योजना
नगर परिषद के एमई जयवीर डुडी ने बताया कि सफेद पट्टी के बाद रिकवरी वैन लाने की योजना पर कार्य चल रहा है। ताकि पट्टी से बाहर मिलने वाले वाहन को उठाकर चालान किया जा सके। डुडी ने बताया कि सफेद पट्टी कलोनी रोड़ तथा न्यू बस स्टेंड रोड़ पर लगाने की भी योजना है। बृहस्पतिवार को अतिक्रमण के खिलाफ अभियान के दौरान पांच दुकानदारों के चालान काटे गये हैं।

इंतजार में बीते दो हफ्ते
हल्ला बोल अभियान के तहत नगर परिषद पिछले दो हफ्तों में 30 अतिक्रमणकारियों के चालान काट चुकी है। जुर्माना भरने के लिये महज तीन दिन का समय था। चेतावनी के बावजूद महज दो दुकानदार ही जुर्माना भरने के लिये नगर परिषद कार्यालय में पहुंचे हैं। जिनसे नगर परिषद ने जुर्माने के तौर पर 1000 रूपये तथा 1200 रूपये वसूल किये हैं।
कोर्ट में जाएगी नप
नगर परिषद सचिव ऋषिकेश चौधरी ने बताया कि जुर्माना भरने वाले अतिक्रमणकारियों को तीन दिन का समय दिया गया था। करीब दो हफ्ते हो चले हैं। ऐसे अतिक्रमणकारियों के खिलाफ नप अदालत का दरवाजा खटखटाएगी।

सीबीआई के पूर्व एएसपी ने दी गवाही

डेरा सच्चा सौदा के पूर्व प्रबंधक मामले में शिकायतकर्ता को धमकाने का मामला

डबवाली (लहू की लौ) डेरा सच्चा सौदा सिरसा के पूर्व प्रबंधक से जुड़े एक मामले में शिकायतकर्ता को फोन पर धमकाने के मामले में सीबीआई के पूर्व एएसपी डबवाली की एक अदालत के समक्ष पेश हुये। मामला चार साल पुराना बताया जा रहा है।
वर्ष 2010 में दर्ज हुआ था मामला
गांव गंगा के नजदीक ढाणी में रहने वाले रामकुमार बिश्नोई ने 16 अगस्त 2010 को सीबीआई चंडीगढ़ के एसएसपी सतपाल सिंह को पत्र लिखकर कहा था कि डेरा सच्चा सौदा के पूर्व प्रबंधक फकीरचंद मामले में वह शिकायतकर्ता है। 12 अगस्त 2010 तथा 14 अगस्त 2010 को उसके पास धमकी भरी कॉल आई है। कॉलर ने खुद को लुधियाना के मुल्लांपुर का बताते हुये डेरा सच्चा सौदा प्रमुख के खिलाफ बोलने पर जान से मारने की धमकी दी है। कॉलर ने खुद को रिटायर्ड फौजी बताया था। मामले की गंभीरता को समझते हुये एसएसपी ने मामले की जांच सीबीआई के एएसपी बीएस डोगरा को सौंप दी। बीएस डोगरा ने जांच रिपोर्ट उस समय सीबीआई के डीआईजी महेश अग्रवाल को दे दी। जिसके बाद 21 सितंबर 2010 को सदर थाना डबवाली के तहत आने वाली गोरीवाला चौकी में जान से मारने की धमकी देने का मामला दर्ज हुआ था।
कॉल डिटेल में मिले सबूत
मामला दर्ज करने के बाद चौकी प्रभारी एसआई रमेश कुमार ने मामले की जांच की थी। कॉल डिटेल में शिकायत में दर्ज नंबर से रामकुमार बिश्नोई को उपरोक्त दोनों तारीखों में कॉल आने की पुष्टि हुई। यहीं नहीं रामकुमार को मिले अंगरक्षक ने भी अपने ब्यानों में फोन कॉल की पुष्टि की। मामले में संलिप्त आरोपी को गिरफ्तार किया गया था। पुलिस ने 1 दिसंबर 2012 को चार्जशीट अदालत में पेश की थी।
चार साल पुराने मामले में सीबीआई के पूर्व एएसपी बीएस डोगरा न्यायिक दंडाधिकारी (प्रथम श्रेणी) कपिल राठी की अदालत में पेश हुये। उपरोक्त मामले में अपने ब्यान दर्ज करवाये।

अबकी बार बिना आधार डिपो से नहीं मिलेगा राशन

डबवाली (लहू की लौ) डिपो पर राशन लेने जा रहे हैं, तो अपना आधार कार्ड जरूर साथ लेते जायें। चूंकि बिना आधार इस बार डिपो संचालक आपको राशन नहीं देगा। खाद्य एवं आपूर्ति विभाग ने खंड डबवाली के सभी डिपो को आदेश जारी कर दिये हैं।
भाजपा सरकार का फैसला
हरियाणा में बनी भाजपा सरकार नित नये कानून लागू कर रही है। पेंशनरों के बाद इसी कड़ी में अब डिपो से राशन लेने वालों को उलझना होगा। प्रदेश में खाद्य सुरक्षा योजना के तहत लाभपात्रों को ओपीएच पांच किलो गेहूं प्रति सदस्य दी जाती है। जबकि एएवाई परिवार को 35 किलोग्राम, बीपीएल को पांच किलोग्राम प्रति सदस्य दी जाती है। जबकि बीपीएल तथा एएवाई कार्ड धारक को ढाई किलोग्राम चीनी तथा ढाई किलोग्राम दाल भी मिलती है। लेकिन इस बार उपरोक्त सभी को राशन लेने के लिये भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।
एक आधार कार्ड मान्य नहीं होगा
एक कार्ड पर परिवार के जितने सदस्य राशन ले रहे हैं, उन सभी का आधार कार्ड डिपो संचालक को दिखाना होगा। अगर किसी सदस्य का आधार नहीं बना है, तो उसका राशन काट दिया जायेगा। बता दें कि आधार वाला फंडा सरकार इस वर्ष पेंशन पात्रों पर भी लागू कर चुकी है। बाद में हुई किरकिरी के बाद इस योजना को आगे बढ़ाते हुये सरकार ने 1 जनवरी 2015 से आधार लागू करने के आदेश दिये थे।
डबवाली में है यह स्थिति
खाद्य एवं आपूर्ति विभाग कार्यालय डबवाली के तहत आने वाले शहर डबवाली में 20 राशन डिपो हैं। 52 गांवों में 58 राशन डिपो हैं। कुल 78 राशन डिपो का फायदा क्षेत्र के 20754 कार्ड धारक उठाते हैं। इतने राशन कार्ड पर 90,057 लोग निर्भर हैं।

श्रेणी कार्ड सदस्य
ओपीएच 11373 49156
बीपीएल (सी) 3511 15967
बीपीएल (एस) 2121 8608
एएवाई 3749 16326
कुल 20754 90057

राशन लेने के लिये आधार कार्ड जरूरी

सिस्टम ऑनलाईन किया जा रहा है। इसके तहत सभी श्रेणियों के राशन कार्ड धारकों से आधार कार्ड मांगे गये हैं। एक राशन कार्ड पर जितने भी सदस्य राशन ले रहे हैं, सभी का आधार कार्ड जरूरी है। दिसंबर माह का राशन डिपो पर पहुंचा दिया गया है। 1 दिसंबर से राशन मिलना आरंभ होगा। आधार कार्ड की फोटो कॉपी साथ लाने वाले व्यक्ति को ही राशन दिया जायेगा।
-सुंदर लाल, एएफएसओ

एसडीएम ने बुलाई बैठक

डबवाली (लहू की लौ) उपमंडल स्तर पर आगामी समय में होने वाले विकास कार्यों व लम्बित विकास कार्यों के संबंध में विचार विमर्श हेतू उपमण्डल के अधिकारियों की 28 नवम्बर को 12 बजे एक बैठक बुलाई है। उपमण्डलाधीश सतीश कुमार ने बताया कि उपमण्डल स्तर के सभी अधिकारी अपने-अपने विभाग से संबंधित विकास कार्यों/ स्कीमों व आगमी समय में होने वाले विकास कार्यो तथा लम्बित विकास कार्यों का पूरा विवरण दोहरी प्रति में लेकर आएं। इसके अतिरिक्त कार्यालयों की सूची, कार्यालय में नियुक्त कर्मचारियों / फिल्ड स्टाफ के सम्पर्क नम्बर साथ लेकर आएं । उन्होंने निर्देश दिये कि उपमण्डल स्तर के सभी अधिकारी अपने अधीनस्थ स्टाफ को न भेज कर बैठक में स्वयं उपस्थित हो।

चौटाला रोड़ पर चला स्वच्छता अभियान

डबवाली (लहू की लौ) स्वच्छ हरियाणा स्वच्छ भारत अभियान के तहत स्वच्छता अभियान की कड़ी में वीरवार को सिटी थाना, पुलिस क्वाटर से बिश्नोई मंदिर सहित चौटाला रोड क्षेत्र में सफाई अभियान चलाया गया।
सफाई के बाद कूड़ा-कर्कट न डालें
इस अवसर पर उपमंडल अधिकारी (ना.) सतीश कुमार ने आह्वान किया कि सफाई कर्मचारियों के सफाई करने के बाद गलियों व सड़कों पर कूड़ा कर्कट न डालें। अगर बाद में कूड़ा कर्कट इक्ट्ठा होता है तो उसे डस्टबीन में डालकर रखें इससे गंदगी गलियों व सड़कों पर नहीं फैलेगी। वातावरण को साफ सुथरा बनाना आप सबके हाथों में है। साफ सुथरे वातावरण से बीमारियां फैलने का प्रकोप नहीं रहता। उन्होंने कहा कि अपनी दिनचर्या में अन्य कार्यों के साथ सफाई को भी उतना ही महत्व दें। सफाई को निरंतर जारी रखकर, सफाई व सुंदरता को बनाए रखा जा सकता है। इस अभियान में नगर परिषद अभियंता जयवीर सिंह डूड़ी, सफाई निरीक्षक अविनाश सिंगला, वियोगी हरी शर्मा उपस्थित थे।

बीईओ ने दो घंटों में खोलकर रख दी व्यवस्था की पोल

औढ़ां (लहू की लौ) स्कूलों में शिक्षक छात्रों को कैसा अक्षर ज्ञान देते हैं और उन्हें पाठ पढ़ाने वाले ये अध्यापक ड्यूटी के प्रति कितने सजग हैं इसका जायजा लेने के लिए खंड शिक्षा अधिकारी बड़ागुढ़ा पवन सुथार ने गुरुवार को राजकीय उच्च विद्यालय भीवां का औचक्क निरीक्षण ने कि या। हैरान कर देने वाली बात ये थी कि खुद मुख्याध्यापक तो लेट थे ही बल्कि अन्य स्टाफ भी इसी तर्ज पर मिला जिस पर बीईओ ने स्कूल में रहकर सबकी क्लास ली।
जानकारी मुताबिक बीईओ पवन सुथार गुरुवार सुबह स्कूल टाईम से पूर्व ही ढाबां के राजकीय उच्च विद्यालय में पहुंच गए। जहां से मुख्याध्यापक भारत भूषण को साथ लेकर औचक्क निरीक्षण करने भीवां स्कूल में पहुंचे लेकिन स्कूल में समय पर कोई अध्यापक नही पहुंचा था जबकि प्रार्थना सभा में स्कूली छात्रों की काफी कमी रही। इससे बड़ी लापरवाही ये दिखी कि स्कूल में सिर्फ 3 अध्यापक ही स्कूल समय से 15 मिनट लेट पहुंचे। यहीं नहीं स्कूल के मुख्याध्यापक मथुरादास के साथ-साथ 5 अध्यापक गायब रहे।
खंड शिक्षा अधिकारी द्वारा 10वीं के  एक छात्र से एबीसी सुनाने को कहा तो वह ढंग से नहीं सुना सका। वहीं सामान्य ज्ञान के प्रश्नों में जब पूछा गया कि प्रदेश में कितने जिले हैं तो एक छात्र ने 21 जिले बताए लेकिन जब पूछा गया कि 21 जिले किसके हैं तो छात्र ने भारत के बताए। जिस पर बीईओ व अध्यापकों की हंसी छूट गई। इस बात से सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि शिक्षक विद्यार्थियों को कैसा अक्षर ज्ञान देते हैं। वहीं बीईओ द्वारा स्कूल के मिड डे मील का निरीक्षण किया गया तो उसमें भी कमियां मिली। स्कूल में अनियमितताएं और भी भारी मिली जिसमें मिड डे मील के स्टॉक व रजिस्टर में काफी गड़बड़ी पाई गई।
बता दें कि बीईओ द्वारा 7 अगस्त को भी स्कूल का औचक्क निरीक्षण किया था जिसमें मिली अनियमितताओं पर बीईओ ने मुख्याध्यापक को चेतावनी दी थी कि अगली बार ऐसा नहीं होना चाहिए लेकिन मुख्याध्यापक मथुरादास ने कोई सबक नहीं लिया। बीईओ ने 2 घंटे तक स्कूल में रहकर मुख्याध्यापक व स्टाफ की खूब क्लास ली। इसके बाद उन्होंने थराज, झोरडऱोही, फग्गू व बड़ागुढ़ा के विद्यालयों का भी निरीक्षण किया।