युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

22 जुलाई 2011

प्यार के लिए आशिक ने भरी माशूका की मांग


अपनी शादी रखे जाने से खफा युवती प्रेमी संग भागी, नहर में कूदने की थी तैयारी
डबवाली (लहू की लौ) शादी रखे जाने से खफा एक युवती अपने आशिक के संग घर से फरार हो गई। युवती के भाईयों को बात का पता लगने पर उन्होंने आशिक का सिर फोड़ दिया। खफा आशिक ने अपनी मशूका के साथ नशे की गोलियां निगल लीं। प्यार को परवान न चढ़ता देख मरने के लिए गांव मौजगढ़ के पास बहती भाखड़ा नहर के लिए चल पड़े। दोनों गुरूवार सुबह 5.30 बजे गांव मौजगढ़ के खेत में बेहोश मिले। जिन्हें उपचार के लिए डबवाली के सरकारी अस्पताल में लाया गया। पुलिस मामले की जांच कर रही है।
गांव मौजगढ़ निवासी लक्ष्मण सिंह गुरूवार सुबह करीब 5.30 बजे अपने खेत में पानी लगाकर वापिस गांव जा रहा था। अचानक उसकी नजर किसान जगरूप सिंह के खेत में पड़े युवक-युवती पर पड़ी। दोनों बेहोश थे। उन्होंने इसकी सूचना तत्काल खेत मालिक जगरूप सिंह तथा गांव के सरपंच ओमप्रकाश को दी। सरपंच की सूचना पर मौका पर आई सरकारी अस्पताल की एम्बुलैंस ने बेहोश युवक-युवती को उपचार के लिए सरकारी अस्पताल पहुंचाया। यहां चिकित्सक ने प्राथमिक उपचार के बाद दोनों को खतरे से बाहर घोषित कर दिया। इधर इसकी सूचना पाकर सिटी थाना के एएसआई रामसरूप तथा एएसआई साधु राम मौके पर पहुंचे। पुलिस के समक्ष युवती ने अपनी पहचान महाशा बिरादरी से संबंधित छिन्द्र कौर उर्फ काली, युवक ने मजहबी सिक्ख बिरादरी से संबंधित गुरमीत उर्फ वीर सिंह निवासी मसीतां के रूप में करवाई। अस्पताल के इमरजेंसी रूम में होने के बावजूद दोनों ने एक-दूसरे का हाथ पकड़े रखा।
19 साल का गुरमीत सिंह उर्फ वीरा सिंह दिहाड़ीदार मजदूर है। जबकि 18 साल की छिन्द्र कौर घर पर कार्य करती है। करीब दो साल पहले नरमा की चुगाई करते समय दोनों में प्रेम हो गया। मोबाइल पर आपसी बातचीत में यह प्रेम और गहरा होता गया। कुछ समय पूर्व युवती की मंगनी सिरसा के एक युवक से कर दी गई। इस बात से खफा दोनों ने घर से भागकर शादी रचाने का मन बनाया।
बुधवार रात करीब 12 बजे युवती अपने घर से बाहर आ गई। वह गांव के छप्पर के पास सिंदूर, कोल्ड ड्रिंक तथा अन्य सामान के साथ उसका इंतजार कर रहे वीरा के पास पहुंच गई। लेकिन युवती के भाई को उसके घर से बाहर जाने का पता चल गया। वह अपने ताऊ के लड़के को साथ लेकर अपनी बहन के पीछे-पीछे आ गया। उसने अपनी बहन को वीरा के साथ बैठा देखा। युवती के अनुसार गुस्से में आए उसके भाई कुलदीप तथा ताऊ के लड़के मंगा ने डंडों से वीरा पर हमला बोल दिया। वह वहां से भागकर कुछ दूर जा छुपी। वीरा के शोर मचाने पर उसके भाई वहां से भाग गए। युवती के अनुसार खुले आसमान के नीचे घायल वीरा ने उसकी मांग सिंदूर से भर दी। लेकिन उनकी शादी को सामाजिक मान्यता न मिलने के कारण वे लोग गांव मौजगढ़ के पास बहने वाली भाखड़ा नहर में कूदने के लिए बढ़ गए।
यूं निकले गांव से
वीरा के अनुसार गांव में चौकीदार होने के डर से उसने अपनी शर्ट उतारकर काली को पहना दी और उसे गांव से बाहर ले आया। उसके तथा काली के पास नशे की गोलियां थी, जो उन दोनों ने खा ली और भाखड़ा की ओर कदम बढ़ा दिए। लेकिन भाखड़ा से कुछ ही दूरी पर स्थित गांव मौजगढ़ के एक खेत में बेहोश होकर गिर पड़े। वीरा ने बताया कि इससे पूर्व उसने सिंदूर से काली की मांग भर दी थी।
अस्पताल के चिकित्सक डॉ. बलेश बांसल ने बताया कि लड़का-लड़की ने नशीली गोलियों का सेवन किया हुआ है। दोनों खतरे से बाहर हैं।
सिटी थाना प्रभारी इंस्पेक्टर महा सिंह ने बताया कि उपरोक्त घटना की जानकारी उन्हें मिली थी। सूचना मिलने पर एएसआई रामसरूप तथा एएसआई साधु राम सरकारी अस्पताल में पहुंचे थे। युवक-युवती के ब्यानों के बाद अगली कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

।ईंट से मां का सिर फोड़ा


डबवाली (लहू की लौ) गांव मसीतां में कलियुगी बेटे ने अपनी मां का ईंट मारकर सिर फोड़ दिया। जिसे उपचार के लिए सरकारी अस्पताल में लाया गया।
गांव मसीतां निवासी 50 वर्षीय मुख्तियार कौर ने बताया कि उसके दो बेटे सतनाम सिंह तथा मनजीत सिंह हैं। दस दिन पूर्व उसने सतनाम को घर में उसका बनता हिस्सा दे दिया और घर में दीवार निकाल दी। बुधवार रात करीब 9 बजे शराब के नशे में धुत्त सतनाम गालियां निकालने लगा। उसके हिस्से की जमीन में पड़ा उनका रेहड़ा उठाने की बात कहने लगा। इसी बात को लेकर उसके पति सुरजीत सिंह की सतनाम से कहासुनी हो गई। उसने भी अपने बेटे को समझाने का प्रयास किया। नशे में धुत्त सतनाम ने उसके मुंह पर तमाचा जड़ दिया। जब उसके पति सुरजीत सिंह तथा दूसरे बेटे मनजीत सिंह ने इसका विरोध किया तो इस बीच सतनाम ने ईंट मारकर उसका सिर फोड़ दिया।
सिटी थाना प्रभारी इंस्पेक्टर महा सिंह ने बताया कि एमएलआर उनके पास आई है। घायल के ब्यानों के बाद ही अगली कार्रवाई की जाएगी

पीआरटीसी की बसों से उड़ाया डीजल


डबवाली (लहू की लौ) हरियाणा रोड़वेज के बस अड्डा पर खड़ी पीआरटीसी की बसों से डीजल चोरी होने का मामला थाना शहर पुलिस के पास पहुंचा है।
गुरूवार को पीआरटीसी के डबवाली बस स्टैण्ड पर स्थित अड्डा के इंचार्ज अमरजीत सिंह लाली के नेतृत्व में बस चालक गुरजंट सिंह, हरमंदर सिंह, प्रितपाल सिंह, भिन्द्र सिंह सिटी थाना प्रभारी महा सिंह से मिले। उन्हें बताया कि अड्डा में असामाजिक तत्वों की वारदातें दिन ब दिन बढ़ रही हैं। रविवार रात को अड्डा में खड़ी एक बस से अज्ञात व्यक्ति 110 लीटर डीजल निकाल ले गए।
उन्होंने थाना शहर प्रभारी को यह भी बताया कि अक्सर बस अड्डा पर खड़ी बस से डीजल चोरी होता ही है। कई बार तो अज्ञात चोर उनकी बसों को सेल्फ मारकर जीटी रोड़ रेलवे फाटक के नजदीक ले जाते हैं और वहां पर तेल को निकालने के बाद बस को वहीं खड़ी कर देते हैं। उन्होंने बताया कि चार-पांच माह के दौरान ही एक हजार लीटर डीजल उनकी बसों से चोरी हो चुका है।
सिटी थाना प्रभारी महा सिंह ने उन्हें आश्वासन दिया कि गश्त को बढ़ाया जाएगा। पुलिस चौकसी रखेगी। लेकिन वे भी नजर रखें। जैसे ही चोरों की जानकारी उन्हें मिले, तो वे पुलिस को इससे अवगत करवाएं।

नीलियांवाली में संदिग्ध मौत


डबवाली (लहू की लौ) गांव नीलियांवाली के किसान शिवराज सिंह की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत का मामला उलझ गया है। किसान के बेटों ने इसे अत्याधिक नशा करने के कारण हुई मौत बताया है। वहीं उसकी मां तथा भाई ने इसे जमीनी विवाद में हत्या करार दिया है। फिलहाल सदर पुलिस ने इत्तेफाकिया मौत की कार्रवाई अमल में लाकर विसरे को जांच के लिए प्रयोगशाला में भेजा है।
गांव नीलियांवाली निवासी सुरजीत सिंह (23) ने पुलिस को दिए ब्यान में कहा है कि उसका 45 वर्षीय पिता शिवराज सिंह लम्बे समय से शराब तथा पोस्त का नशा करने का आदि था। बुधवार शाम को उसके पिता की अत्याधिक शराब पीने से हालत गंभीर हो गई। इस बात की जानकारी उसके छोटे भाई कुलदीप ने उसे दी। वह मौका पर पहुंचा। वे लोग अपने पिता को सरकारी अस्पताल में ले आए। यहां डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया। इधर मृतक शिवराज सिंह की मां करतार कौर (70), भाई लाभ सिंह (48) ने पुलिस में शिकायत देकर आरोप लगाया कि शिवराज नशे करने का आदि था। लेकिन उन्होंने उसे दवाई दिलाकर नशा छुड़वा दिया था। अब वह नशा नहीं करता था। शिवराज के तीन बेटों तथा पत्नी गांव हैबूआना में पड़ी लगभग उसकी आठ एकड़ जमीन को लेकर विवाद किए हुए थे। उन्हें शक है कि इन चारों ने मिलकर शिवराज को जहर देकर मारा है।
किसान शिवराज के शव का पोस्टमार्टम करने के बाद डॉ. बलेश बांसल ने बताया कि मृतक के शरीर पर कहीं भी चोट के निशान नहीं मिले हैं। मौत कैसे हुई इसकी पुष्टि के लिए विसरे को करनाल स्थित प्रयोगशाला में भेजा गया है। सदर पुलिस के एसआई रतन सिंह ने बताया कि पुलिस ने मृतक के बड़े बेटे सुरजीत सिंह के उपरोक्त ब्यान के आधार पर इत्तेफाकिया मौत की कार्रवाई अमल में लाई है। गुरूवार को शव का सरकारी अस्पताल से पोस्टमार्टम करवाने के बाद उसे उसके परिजनों को सौंप दिया गया। मृतक के भाई लाभ सिंह की शिकायत के आधार पर विसरे को जांच के लिए प्रयोगशाला में भेजा है। प्रयोगशाला की रिपोर्ट के आधार पर ही आगामी कार्रवाई की जाएगी।

हाईवे पर कार ने मजदूर कुचला


डबवाली (लहू की लौ) नेशनल हाईवे नं. 10 पर गांव सांवतखेड़ा के निकट एक तेजगति कार की टक्कर से दिहाड़ीदार मजदूर की मौत हो गई। मृतक की पहचान जिला श्री मुक्तसर साहिब (पंजाब) के गांव किलियांवाली निवासी 62 वर्षीय गुरदेव सिंह के रूप में हुई है। वह गांव सांवतखेड़ा में अपने किसी परिचित से मिलकर साईकिल पर वापिस गांव लौट रहा था।
पुलिस को दर्ज कराई शिकायत में मृतक के बेटे अंग्रेज सिंह ने कहा है कि उसका पिता गुरदेव सिंह गुरूवार दोपहर करीब एक बजे गांव सांवतखेड़ा में रिश्तेदारी में मिलकर साईकिल पर डबवाली की ओर आ रहा था। गांव सांवतखेड़ा के निकट ही सिरसा साईड से आई एक तेजगति जेन कार ने उसमें टक्कर मार दी। जिससे उनकी मौका पर ही मौत हो गई। जबकि कार चालक कार को डबवाली की ओर भगा ले गया।
प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार जेन कार इतनी तेज थी कि साईकिल सवार को करीब 100 फुट तक घसीटती हुई ले आई और पटक दिया। दुर्घटना में गाड़ी को भी काफी नुक्सान पहुंचा। कुछ दूरी पर लेजाकर चालक ने गाड़ी को रोका लेकिन साईकिल सवार के सड़क पर मृत पड़ा होने के कारण वह गाड़ी को मौका से भगा ले गया। मृतक गुरदेव के दो बेटे तथा दो बेटियां हैं। दिहाड़ीदार मजदूर होने के साथ-साथ वह सरबत सोशल वैल्फेयर सोसाईटी, किलियांवाली का सक्रिय सदस्य था।
मामले की जांच कर रहे सिटी थाना के एएसआई साधु राम ने बताया कि अंग्रेज सिंह के ब्यान के आधार अज्ञात कार चालक के खिलाफ मामला दर्ज करके उसकी तालाश शुरू कर दी गई है। शव का सरकारी अस्पताल से पोस्टमार्टम करवाने के बाद उसे उसके वारिसों को सौंप दिया।

हजारों लीटर मिट्टी तेल पकड़ा


डबवाली (लहू की लौ) अंधेरे में पंजाब से समगल होकर हरियाणा में जा रहा हजारों लीटर मिट्टी के तेल का भरा टैंकर गोरीवाला पुलिस ने बुधवार देर रात को काबू किया है। चालक पुलिस को चकमा देकर भागने में कामयाब रहा। पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज करके आगामी कार्रवाई शुरू कर दी है।
बुधवार रात को गोरीवाला पुलिस को मुखबरी मिली थी कि दो नंबर में हजारों लीटर मिट्टी के तेल से भरा एक टैंकर बठिंडा से पंजाब के लिए रवाना हुआ है। अब यह टैंकर डबवाली से ऐलनाबाद के लिए चला है। मुखबर की सूचना पाकर पुलिस ने नाकाबंदी कर दी। गोरीवाला के पास पुलिस को डबवाली साईड से मुखबर द्वारा बताया गया टैंकर आता हुआ दिखाई दिया। पुलिस पार्टी ने उसे रूकने का इशारा किया। पुलिस को देखकर टैंकर चालक नीचे कूद गया और खेतों में भाग निकला।
गोरीवाला पुलिस चौकी के प्रभारी एसआई प्रीतम सिंह ने बताया कि ट्रक को काबू में करके चौकी लाया गया। मौका पर खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के निरीक्षक अरविंद पूनियां को बुलाया गया। उन्होंने चैकिंग के बाद बताया कि टैंकर में मिट्टी तेल है। माप के बाद टैंकर से 12 हजार लीटर तेल मिला। पुलिस ने आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत अज्ञात चालक के खिलाफ मामला दर्ज करके उसकी तालाश शुरू कर दी है। पुलिस फिलहाल टैंकर पर लिखे नंबर के आधार पर जांच में जुटी हुई है।
खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के निरीक्षक अरविंद पूनियां ने बताया कि बाजार में मिट्टी तेल का रेट 15 रूपए प्रति लीटर है। उस हिसाब से पकड़े गए मिट्टी तेल की कीमत 1 लाख 80 हजार रूपए है।

रात ढाई बजे पकड़ी पोस्त से भरी मारूति


डबवाली (लहू की लौ) सिटी पुलिस ने बुधवार रात ढ़ाई बजे चूरा पोस्त से भरी मारूति-800 के साथ गांव शेरगढ़ के एक व्यक्ति को काबू किया है। पुलिस ने एनडीपीएस एक्ट के तहत मामला दर्ज करके आगामी कार्रवाई शुरू कर दी है।
एसएचओ महा सिंह रात करीब ढ़ाई बजे चौटाला रोड़ पर गश्त पर थे। बिश्नोई मंदिर के पास पुलिस पार्टी को देखकर चौटाला साईड से आ रही एक मारूति-800 के कार चालक ने गाड़ी को पीछे मोडऩे का प्रयास किया। शक के आधार पर गाड़ी चैक की गई। एसएचओ महा सिंह ने बताया कि गाड़ी की पिछली सीट पर दो बोरियों में भरी 60 किलो चूरा पोस्त बरामद हुई। पकड़े गए आरोपी ने अपनी पहचान 51 वर्षीय महावीर सिंह जाट निवासी शेरगढ़ के रूप में करवाई। उसने बताया कि वह इसे राजस्थान के मटीली से एक व्यक्ति से खरीदकर लाया है। जिसे उसने आगे सप्लाई करना था।
पहले हुआ था गिरफ्तार
एसएचओ ने बताया कि आरोपी को साल 2001 में भी गिरफ्तार किया जा चुका है। इसके अतिरिक्त पड़ौसी राज्य पंजाब में भी चूरा पोस्त तस्करी में पकड़ा जा चुका है। जबकि आरोपी का एक साथी पवन पंडित जेल में है। उन्होंने बताया कि गुरूवार को आरोपी को उपमण्डल न्यायिक दण्डाधिकारी डॉ. अतुल मडिया की अदालत में पेश किया गया। अदालत ने आरोपी को दो दिन के पुलिस रिमांड पर भेज दिया। इन दो दिनों में पुलिस महावीर सिंह से पोस्त विक्रेता का पता लगाएगी। यह भी जानने का प्रयास करेगी कि उसने 60 किलोग्राम पोस्त को आगे कहां और किस-किस को सप्लाई करना था।
चूरा पोस्त तस्करी में पकड़ा गया महावीर मारूति-800 के कागजात भी प्रस्तुत नहीं कर सका। जिसके चलते मोटर व्हीकल एक्ट के तहत भी उसका चालान किया गया।
4 किलो और पकड़ी
इंस्पेक्टर महा सिंह ने बताया कि इसके अतिरिक्त बिश्नोई मंदिर क्षेत्र में शहर के वार्ड नं. 7 के निवासी बलविंद्र सिंह को चार किलोग्राम चूरा पोस्त सहित काबू किया गया है। आरोपी पोस्त को थैले में भरकर लेजा रहा था।