युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

20 नवंबर 2014

एसडीएम के सरप्राईज गिफ्ट, बनेंगे पार्किंग स्टेंड बस स्टेंड रोड़ से पीछे हटेगी अड्डा की दीवार


डबवाली (लहू की लौ) एसडीएम सतीश कुमार ने शहर को दो सरप्राईज गिफ्ट की सौगात दी है। बस अड्डा की कार्यशाला में अब कूड़ा घर की जगह पार्किंग स्टेंड दिखाई देगा। पार्किंग स्टेंड के लिये जिला उपायुक्त डॉ. अंशज सिंह ने हरी झंडी दिखा दी है। उपायुक्त ने जल्द परपोजल बनाकर भेजने के निर्देश दिये हैं। साथ में न्यू बस अड्डा की दीवार को भी पीछे हटाने की योजना पर उपायुक्त ने सहमति दे दी है। अगर ऐसा हो गया तो न्यू बस स्टेंड रोड़ पर यातायात व्यवस्था सुधर जायेगी।

अतिक्रमण के विरोध में चल रहे हल्ला बोल अभियान के तहत एसडीएम सतीश कुमार बेहद तंग मार्ग न्यू स्टेंड रोड़ से गुजरे थे। दुकानदारों ने प्रशासन के समक्ष पार्किंग स्टेंड बनाने के साथ-साथ तंग मार्ग होने का मुद्दा उठाया था। दुकानदारों ने कहा था कि आस-पास क्षेत्र के लोगों ने कार्यशाला को कूड़ाघर बना रखा है। जिस पर संज्ञान लेते हुये एसडीएम सतीश कुमार ने कार्यशाला का निरीक्षण कर लोगों द्वारा दीवान फांदकर गिराये गये कूड़ा कर्कट को देखा था। जिस पर उन्होंने बस अड्डा की जगह पर लोगों की सुविधा के लिये पार्किंग स्टेंड बनाने की मुहिम छेड़ी। एसडीएम सतीश कुमार ने दुकानदारों की बात उपायुक्त तक पहुंचाई। बुधवार शाम को जिला उपायुक्त हरियाणा रोड़वेज सिरसा सुरेश कस्वां को साथ लेकर बस अड्डा में पहुंचे।
जिला उपायुक्त ने कार्यशाला में लगी गंदगी पर संज्ञान लेते हुये लोगों की सुविधा के लिये पार्किंग स्टेंड बनाने को स्वीकृति प्रदान कर दी। इसके साथ ही कार्यशाला के नजदीक उजड़े पार्क की जगह पर दूसरा पार्किंग स्टेंड बनाने की भी मंजूरी दे दी। जिससे लोगों को वाहन खड़े करने की जगह मिल जायेगी। वहीं बस अड्डा के वातावरण में सुधार आ जायेगा।
दीवार पीछे हटेगी
एसडीएम सतीश कुमार के प्रयास से ही न्यू बस स्टेंड के दुकानदारों तथा शहर के लोगों को न्यू बस स्टेंड खुला-खुला नजर आने वाला है। बुधवार को एसडीएम ने जिला उपायुक्त के समक्ष बस अड्डा की दीवार का मुद्दा रखते हुये कहा कि यह रोड़ बेहद तंग है। मुश्किल से एक बार में एक वाहन गुजर सकता है। इस रोड़ पर बने चबूतरों को प्रशासन तुड़वा देगा। बस अड्डा की दीवार करीब दो फुट पीछे हटा ली जाये तो यातायात व्यवस्था में सुधार आ जायेगा। जिला उपायुक्त ने इस प्रस्ताव को मंजूरी दे दी। उपरोक्त दोनों प्रस्ताव पर जल्द परपोजल बनाकर भेजने के निर्देश दिये।
एसडीएम सतीश कुमार ने कहा कि पार्किंग स्टेंड नगर परिषद बना सकती है। जिसका कंट्रोल भी वह संभाल सकती है। अगर रोड़वेज यह व्यवस्था संभालनी चाहे तो संभाल सकती है या फिर इंकम का एक टारगेट फिक्स करके नगर परिषद रोड़वेज को दे सकती है। जीएम ने उपरोक्त दोनों प्रस्तावों को स्वीकृति देते हुये कहा कि जनता के हित में होने वाले फैसलों पर एतराज नहीं। जैसा उचित होगा, वैसा रोड़वेज करेगी।
एसडीएम की पीठ थपथपाई
जिला उपायुक्त ने लघु सचिवालय का निरीक्षण करने के साथ-साथ चारदीवारी का निरीक्षण किया। स्वच्छता के मामले में उन्होंने एसडीएम सतीश कुमार की पीठ थपथपाई।

जनहित में पार्किंग स्टेंड तथा दीवार हटाने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी गई है। स्वच्छता लाना तथा अतिक्रमण हटाना अच्छा प्रयास है। अधिकारी आते-जाते रहते हैं, शहर आपका है, इसलिये लोगों को खुद अपने कत्र्तव्य के प्रति जिम्मेवार बनना होगा। 
-डॉ. अंशज सिंह, उपायुक्त, सिरसा

दो साल से बिल नहीं भर रहा था सरपंच मीटर उखाडऩे पर एसडीई को दी धमकी

डबवाली (लहू की लौ) पिछले दो साल से बिजली का बिल न भरने वाले गांव आसाखेड़ा के सरपंच का मीटर बुधवार को बिजली निगम ने उखाड़ लिया। निगम की इस कार्रवाई से बौखलाए सरपंच ने एसडीई को फोन पर गालियां देकर जान से मारने की धमकी दे डाली। एसडीई ने सरपंच के खिलाफ सदर थाना पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई है।
50 हजार का बिल बकाया
दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम आसाखेड़ा के एसडीई मोहन लाल ने बताया कि गांव आसाखेड़ा का सरपंच रामकुमार पिछले दो वर्षों से बिजली का बिल अदा नहीं कर रहा था। बिल अदा न करने पर वह निगम की डिफाल्टर सूची में शामिल हो गया। सरपंच की ओर करीब 50 हजार रूपये बिजली बिल बकाया है। डिफाल्टरों पर कार्रवाई के लिये एमडी के आदेश पर उन्होंने बुधवार को सरपंच के घर पर लगा मीटर उखाड़ लिया।
फोन पर आई धमकी
मीटर उखाड़ते ही सरपंच का फोन उसके पास आया। सरपंच गालियां देने लगा। जब उसने इसका विरोध किया तो सरपंच ने उसे जान से मारने की धमकी दी। बाद में उसकी लोकेशन जानने के बाद अपने साथियों के साथ दो जीप भरकर उसका पीछा करने लगा। गांव कालूआना के पास इसका पता चलने पर उसने अलग रास्ता अपनाया। डबवाली पहुंचकर मंडल अभियंता अशोक भनोट को पूरे घटनाक्रम से अवगत करवाया। सरपंच के विरूद्ध सदर थाना पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई है।

यह बोला सरपंच
मेरे पर लगाये जा रहे आरोप निराधार हैं। मैंने किसी से बदतमीजी नहीं की है। न ही एसडीई को जान से मारने की धमकी दी। मेरा कोई बिजली बिल बकाया नहीं है।
-रामकुमार, सरपंच, गांव आसाखेड़ा

मामले की जांच करेंगे
सरपंच रामकुमार के विरूद्ध एसडीई मोहन लाल की शिकायत आई है। फोन पर गाली-गलौज करने का आरोप है। मामले की जांच की जायेगी। शिकायत को चौटाला पुलिस चौकी को फॉरवर्ड कर दिया गया है।
-बलवीर सिंह,
कार्यकारी प्रभारी,

सदर थाना, डबवाली


पहले दिन 60 रेहड़ी वालों को मिली जगह

डबवाली (लहू की लौ) अतिक्रमण के खिलाफ चले हल्ला बोल अभियान में एक कदम और बढ़ाते हुये प्रशासन ने फल/सब्जी रेहड़ी मालिकों को जगह मुहैया करवाने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। नगर परिषद में बुधवार को ड्रा सिस्टम के जरिये 60 रेहड़ी मालिकों को जगह दी गई। नगर परिषद सचिव ऋषिकेश चौधरी ने बताया कि पहले दिन 60 रेहड़ी मालिक जगह लेने के लिये पालिका कार्यालय में पहुंचे थे। जैसे-जैसे पर्ची उठती गई, वैसे-वैसे उन्हें नंबर वाईज गौशाला के नजदीक जगह मुहैया हो गई। वीरवार से रेहड़ी मालिक गौशाला के नजदीक रेहडिय़ां लगाने की शुरूआत करेंगे। सचिव ने बताया कि फल/सब्जी के अतिरिक्त शहर में चाट तथा अन्य प्रकार की रेहड़ी लगाने वाले लोग भी जगह मांगने पहुंचे। बाद में उन्हें फल/सब्जी वालों से अलग कर दिया जायेगा। जिससे पूरा क्षेत्र बाजारमय नजर आयेगा।

कमानी टूटी, टीले पर जा चढ़ी बस, 30 घायल

डबवाली (लहू की लौ) सड़क पर दौड़े जा रही पीआरटीसी चंडीगढ़ डिपू की बस अचानक आठ फुट मिट्टी के टीले पर चढ़ गई। टीले पर खड़े एक वृक्ष से टकराकर बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई। जिससे सवारियों में कोहराम मच गया। डबवाली-बठिंडा मार्ग पर गांव गहरी बुट्टर के नजदीक हुये हादसे में घायल लोगों को डबवाली तथा बठिंडा के सरकारी तथा निजी अस्पतालों में उपचार के लिये लेजाया गया।
सुबह करीब पौने 11 बजे सूरतगढ़-चंडीगढ़ रूट की एक बस डबवाली से चंडीगढ़ के लिये रवाना हुई थी। बस में करीब 42 लोग सवार थे। गांव गहरी बुट्टर के नजदीक चालक ने आगे जा रहे वाहनों को ओवरटेक करने का प्रयास किया। इसी बीच बस के तीन पट्टे (कमानी) टूट गई। चालक के नियंत्रण से बाहर हुई बस मिट्टी के टीले पर चढ़कर वृक्ष से जा टकराई। जिससे बस बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई। हादसे में यात्रियों के चोटें आई। राहगीरों ने बड़ी मुश्किल से घायलों को बस से बाहर निकाला। सूचना पाकर मौका पर थाना कोटफत्ता के प्रभारी इंस्पेक्टर रिछपाल सिंह तथा हाईवे ट्रेफिक इंचार्ज प्रीतम सिंह, हरजीत सिंह मौका पर पहुंचे। एंबुलैंस की मदद से घायलों को उपचार के लिये अस्पताल पहुंचाया गया।
बड़ा हादसा होने से टला
डबवाली-बठिंडा मार्ग देश के अति व्यस्त मार्गों में से एक है। पंजाब तथा गुजरात के उद्योगों के लिये यह संजीवनी से कम नहीं। इसलिये इस मार्ग पर तेल तथा गैस से भरे टैंकर चलते हैं। गनीमत रही कि जब पीआरटीसी की बस अनियंत्रित होकर सड़क की दूसरी ओर चली गई, उस समय कोई वाहन सामने या पीछे से नहीं आया। डबवाली के एक निजी अस्पताल में घायल अवस्था में पहुंची सकताखेड़ा निवासी हरविंद्र कौर तथा गांव वीरूवाली निवासी जसपाल कौर ने बताया कि वे बठिंडा जा रही थीं। मार्ग में बस ऊंची जगह पर पहुंच गई। वे बस में फंस गई। बड़ी मुश्किल से उन्हें बाहर निकाला गया।

इलाज के लिये बठिंडा, डबवाली पहुंचे घायल
हाईवे ट्रेफिक इंचार्ज प्रीतम सिंह ने बताया कि हादसे में जख्मी लोगों को एंबुलैंस के जरिये बठिंडा, डबवाली के सरकारी अस्पतालों में पहुंचाया गया है। बस में सवार अधिकतर बच्चों तथा महिलाओं को चोटें आई हैं।

बड़ा हादसा होने से टला
बस चालक हरिंद्र सिंह ने बताया कि बस सूरतगढ़ से चंडीगढ़ जा रही थी। बस में करीब 42 लोग सवार थे। जैसे ही उसे कमानी टूटने का अहसास हुआ। उसे बस की गति धीमी कर ली। बस अनियंत्रित होकर टीले पर चढ़ गई। गति कम होने के कारण बस वृक्ष से टकराकर वहीं मिट्टी में धंस गई। अन्यथा बस पलट सकती थी। बस की तीन कमानी टूटने से यह हादसा हुआ।

चौटाला की चंद्रकला चुनी गई सर्वश्रेष्ठ मदर

डबवाली (लहू की लौ) खंड स्तर की सर्वश्रेष्ठ महिला का खिताब गांव चौटाला की चंद्रकला को मिला है। खिताब के दौर में इस महिला से जब पुरूष प्रधान समाज में लड़के की इच्छा न रखने के बारे में पूछा गया तो चेहरे पर मुस्कान लिये चंद्रकला ने कहा कि बेटियां किसी भी कार्यक्षेत्र में पीछे नहीं है। कई मामलों में तो उन्होंने लड़कों भी पीछे छोड़ दिया है। जवाब सुनकर निर्णायक मंडल दंग रह गया। महिला की सोच तथा बेटियों के बाद ऑपरेशन करवा लेने के साथ-साथ बच्चों के पोषण संबंधी सभी सवालों का जवाब देने पर उसे सर्वश्रेष्ठ चुना गया।
प्रतियोगिता में खंड डबवाली के सभी नौ सर्कलों की सत्ताईस महिलाओं ने भाग लिया। खंड स्तर पर दूसरे स्थान पर विद्या गोरीवाला तथा शारदा भारूखेड़ा रही। निर्णायक मंडल की भूमिका एसएमओ एमके भादू तथा सीडीपीओ सरोज कंबोज ने निभाई।
सीडीपीओ ने बताया कि प्रथम स्थान प्राप्त करने वाली महिला को एक हजार रूपये, दूसरा स्थान प्राप्त करने वाली महिला को 750 रूपये तथा तीसरे स्थान पर रहने वाली महिला को 500 रूपये नकद पुरस्कार दिया गया। इस मौके पर सुपरवाईजर सतिंद्र कौर, कर्मजीत कौर, पाल कौर, सेब कौर, स्वर्णकांता, सुखविंद्र पाल कौर उपस्थित थीं।

बाईक-साईकिल भिड़ंत में दो घायल

डबवाली (लहू की लौ) गांव चकजालू के बस अड्डा पर बाईक-साईकिल भिड़ंत में दो व्यक्ति घायल हो गये। जिन्हें उपचार के लिये डबवाली के सरकारी अस्पताल में लेजाया गया। साईकिल सवार की पहचान बेगाराम निवासी चकजालू तथा बाईक सवार की पहचान रामेश्वर निवासी गोरीवाला के रूप में हुई है। रामेश्वर के सिर पर चोट के चलते चिकित्सक ने प्राथमिक उपचार के बाद उसे सिरसा रैफर कर दिया।

गैस के प्रभाव से बाथरूम में नहा रही युवती बेहोश

डबवाली (लहू की लौ) वार्ड नं. 7 के जंभेश्वर नगर में बुधवार को गैस के प्रभाव से बाथरूम में नहा रही एक युवती बेहोश हो गई। जिसे गेट तोड़कर बाहर निकाला गया। उपचार के लिये महिला को सिविल अस्पताल में लेजाया गया।
दोपहर को एक विवाहित युवती नहाने के लिये गैस गीजर लगे बाथरूम में गई थी। काफी समय तक बाथरूम से बाहर न आने पर उसकी सास तथा ससुर ने आवाज लगाई। काफी देर तक यहीं चलता रहा। बाद में दोनों ने गली में शोर मचा दिया। शोर सुनकर मौका पर आये पड़ौसियों ने बाथरूम का गेट तोड़ डाला। युवती बाथरूम में बेहोश पड़ी थी। उपचार के लिये उसे डबवाली के सरकारी अस्पताल में लेजाया गया। उपचार के बाद उसे होश आया। माना जा रहा है गैस के प्रभाव के चलते वह बेहोश हुई थी।

ट्रेक्टर की टक्कर से बच्चा घायल

डबवाली (लहू की लौ) गांव गंगा में मंगलवार शाम को ट्रेक्टर की चपेट में आने से 9 वर्षीय अजय घायल हो गये। जिसे इलाज के लिये डबवाली के सरकारी अस्पताल में लेजाया गया।

स्विफ्ट लूट के बाद दो की हत्या करने वाला रिमांड पर

डबवाली (लहू की लौ) सिरसा रोड़ पर डेरा मनसा दास के निकट गन प्वाईंट पर स्विफ्ट डिजायर छीनने के बाद संगरिया में ताबड़तोड़ फायरिंग कर दो युवकों को मौत के घाट उतारने वाले आरोपी को सीआईए डबवाली ने राजस्थान पुलिस से प्रॉडक्शन वारंट पर गिरफ्तार करने के बाद अदालत में पेश किया। अदालत ने आरोपी को तीन दिन के पुलिस रिमांड पर भेजने के आदेश दिये।
सीआईए डबवाली प्रभारी राकेश कुमार ने बताया कि 5 अगस्त 2014 को सिरसा रोड़ पर डेरा बाबा मनसा दास के नजदीक चार युवकों ने गन प्वाईंट पर स्विफ्ट डिजायर लूट ली थी। कुछ दिन कार का प्रयोग करने के बाद आरोपी चौटाला से होते हुये संगरिया में पहुंच गये। वहां उन्होंने छात्र संघ चुनावों के लिये रैली निकाल रहे युवकों पर अंधाधुंध गोलियां चलाकर दो युवकों को मार डाला था और फरार हो गये थे। 7 अक्तूबर को राजस्थान पुलिस ने मामले में संलिप्त संगत कलां (पंजाब) निवासी गोबिंद को काबू किया था। आरोपी हनुमानगढ़ जेल में बंद था। जिसे आज प्रॉडक्शन वारंट पर राजस्थान पुलिस से प्राप्त किया गया। जिसके बाद गोबिंद को उपमंडल न्यायिक दंडाधिकारी परवेश सिंगला की अदालत में पेश किया गया। अदालत ने आरोपी को तीन दिन के पुलिस रिमांड पर भेजने के आदेश दिये।
सीआईए प्रभारी के अनुसार गोबिंद ने अपने साथियों की पहचान अमनदीप उर्फ रम्मी निवासी मशाना, मनोज निवासी दियालपुरा तथा एक अन्य साथी की पहचान बब्बू के रूप में करवाई है। जोकि पंजाब का ही रहने वाला है। डबवाली में स्विफ्ट डिजायर लूटने से कुछ दिन पूर्व चारों ने प्लाट विवाद में संगत कलां में एक व्यक्ति का मर्डर किया था। पुलिस ने छिपते हुये आरोपी डबवाली पहुंच गये और उपरोक्त वारदात को अंजाम दिया था।

टीबी नियंत्रण कार्यक्रम की समीक्षा करेगी केंद्रीय टीम


डबवाली (लहू की लौ) स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार देश में प्रति डेढ़ मिनट में एक व्यक्ति की मौत टीबी रोग से होती है। पिछले दस वर्षों से टीबी रोग नियंत्रण के तहत दी जाने वाली दवा का प्रभाव भी कम होने लगा है। दस वर्षों के फीडबैक के साथ-साथ योजना में सुधार की उम्मीद लेकर केंद्र सरकार की 26 सदस्यीय टीम सिरसा तथा सोनीपत में डेरा डालने वाली है। यह टीम 24 नवंबर से अपना काम शुरू करेगी।
वर्ष 2004 में टीबी रोग पर नियंत्रण के लिये कार्यक्रम शुरू हुआ था। जिसके तहत जिला सिरसा में डबवाली, ऐलनाबाद तथा सिरसा में टीबी रोग नियंत्रण केंद्र स्थापित किये गये थे। न्यूट्रीशियन की वजह से पनपने वाला यह रोग वर्तमान समय में भी काफी खतरनाक है। अगर पूर जिला सिरसा की बात की जाये तो हर वर्ष करीब 1525 मरीज टीबी के निकलते हैं। लेकिन अब इन मरीजों में से कुछ पर टीबी की दवा ने असर करना बंद कर दिया है। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग सकते में आ गया है। पिछले दस वर्षों का डाटा लेने तथा योजना में खामियां दूर करने के लिये केंद्र की टीम सिरसा आ रही है।
अलग-अलग जगहों पर इतने मरीज
डबवाली केंद्र के तहत एक सामान्य अस्पताल, दो सीएचसी तथा आठ प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र आते हैं। 11 स्थानों पर करीब पौने चार लाख लोग निर्भर हैं। अकेले डबवाली में ही हर वर्ष 400 मामले निकलते हैं। जबकि ऐलनाबाद में सवा चार लाख लोगों में से हर वर्ष 425 मरीज, सिरसा की करीब साढ़े पांच लाख आबादी में से 700 मरीज प्रति वर्ष ट्रेस होते हैं। इस वर्ष डबवाली में निकले 10 मरीजों ने स्वास्थ्य विभाग को सोचने पर मजबूर कर दिया है। ये ऐसे मरीज हैं, जिन पर वर्तमान समय में दी जाने वाली टीबी की दवा ने असर करना बंद कर दिया है।
सिरसा में टीम के सदस्य
डॉ. शिव प्रकार हिमाचल प्रदेश, डॉ. संजय सिन्हा राजस्थान, डॉ. संजय अरोड़ा जम्मू, डॉ. पैलाश तालुकदार अरूणाचल प्रदेश, डॉ. डील फिना तामिलनाडू, डॉ. वैभव झारखंड, डॉ. तुषार मध्य प्रदेश, डॉ. कविथा ए सिंह यूपी, डॉ. जोसफ अरूणाचल प्रदेश, डॉ. नरेश अमृतसर के साथ-साथ उत्तर प्रदेश, नागपुर तथा चेन्नई के प्रतिनिधि भी शामिल होंगे।

24 से 27 नवंबर तक रहेगी सिरसा में
वर्तमान समय में दी जाने वाली टीबी की दवा कुछ मरीजों पर प्रभावशाली नहीं हो रही है। बार-बार जांच में टीबी आने पर ऐसे रोगियों का टेस्ट करनाल सहित लैब में किया जाता है। करीब एक सप्ताह बाद रिपोर्ट आती है। ऐसे 10 मरीजों की रिपोर्ट पॉजीटिव आ चुकी है। ऐसे एक मरीज के उपचार पर ढाई लाख रूपये खर्च आयेगी। कार्यक्रम की समीक्षा के किये केंद्रीय टीम 24 से 27 नवंबर तक जिला सिरसा में रहकर योजना की समीक्षा करगी। टीबी नियंत्रण केंद्रों को दिशा-निर्देश जारी हो गये हैं। डाटा तैयार किया जा रहा है।
-डॉ. सुखवंत सिंह, प्रभारी, टीबी नियंत्रण कार्यक्रम

एसडीएम ने चखा मिड-डे मील के दलिया का स्वाद, बोले बढिय़ा है


डबवाली (लहू की लौ) स्वच्छ हरियाणा, स्वच्छ भारत अभियान के तहत बुधवार को शहर के गोल चौक, मलोट रोड़, नगर सुधार मंडल पार्क क्षेत्र में एसडीएम सतीश कुमार ने झाडू पकड़ी। समाजसेवियों तथा प्रशासनिक कर्मचारियों ने कुछ ही घंटों में पूरे क्षेत्र को चकाचक कर दिया। एसडीएम ने क्षेत्र के लोगों को स्वच्छता बनाये रखने की सलाह देते हुये पार्क में चल रही प्राथमिक पाठशाला का निरीक्षण किया।
निजी कार से राऊंड किया, फिर अभियान की शुरूआत की
बुधवार सुबह बच्चों को स्कूल छोडऩे के लिये एसडीएम अपनी निजी गाड़ी पर बठिंडा रोड़ पर आये। इस दौरान उन्होंने अतिक्रमण के खिलाफ चल रहे हल्ला बोल अभियान का असर देखा। साथ में उपरोक्त क्षेत्र में अभियान चलने से पहले के माहौल का निरीक्षण किया। प्रशासनिक कर्मचारियों को बाद में पता चला कि एसडीएम एक राऊंड भी लगा गये हैं।
एसडीएम सतीश कुमार ने गली वासियों से कहा कि वे लोग गलियों में अपना निजी सामान रखकर अतिक्रमण न करें। इससे गलियों में साफ-सफाई करने में बाधा तो आती है, वाहनों के आने-जाने से दुर्घटना का खतरा भी बना रहता है। उन्होंने आह्वान किया कि गलियों की साफ-सफाई के बाद अगर घरों का कूड़ा कर्कट होता है तो उसे निर्धारित (डंम्पिग प्वाईंट) स्थान पर रखे, डस्टबीन में ही डालें।
मिड-डे मील का दलिया चखा
एसडीएम सफाई अभियान के दौरान नगर सुधार मंडल पार्क में चल रहे प्राईमरी स्कूल का निरीक्षण किया। उन्होंने स्कूल में बच्चों के लिए बने दलिया का स्वाद चखा। दलिया का स्वाद चख एसडीएम ने कहा कि बढिय़ा है। पाठशाला प्रभारी पुष्पा बांसल को निर्देश देते हुये कहा बच्चों के स्वास्थ्य से जुड़ी प्रत्येक चीज का खुद निरीक्षण करने के बाद ही बच्चों को दी जाये। इस मौके पर मौजूद ट्रस्ट के अधिकारी रमेश कंबोज को वार्ड में खाली पड़े प्लाटों के मालिकों को प्लाट का शीघ्र निर्माण करवाने के नोटिस जारी करने के आदेश दिए।
इस दौरान उपमंडल अधिकारी (ना.) सतीश कुमार के नेतृत्व में अतिक्रमण हटाओ अभियान भी चलाया गया। जिसके तहत गोल चौक में अतिक्रमणकारी तीन दुकानदारों के चालान भी काटे गए। इस मौके पर नगर परिषद सचिव ऋषिकेश चौधरी, सफाई निरीक्षक अविनाश सिंगला, भवन निरीक्षक सुमित ढांडा, एमई जयवीर डुडी व नगर परिषद के कर्मचारियों ने अपनी भागेदारी निभाई।

हल्ला बोल का जोरदार असर

डबवाली (लहू की लौ) अतिक्रमण के खिलाफ प्रशासन द्वारा छेड़े गये अभियान का असर दिखाई देने लगा है। लोग स्वयं ही इसमें रूचि लेकर अपनी दुकानों के आगे लगे शैड हटा रहे हैं। सिविल अस्पताल के पास स्थित बिश्नोई मन्दिर के बाहर बनी मार्किट में दुकानदारों ने दुकानों के आगे बड़े-बड़े शैड डाल रखे थे। प्रशासन ने उन्हें शैड हटवाने की अपील की। इस पर स्वयं संज्ञान लेते हुए दुकानदार संदीप बिश्नोई, सुनील धारणीय, जसवंत जम्मू, जसकरण सिंह, स्र्वण सिंह, ओमप्रकाश तथा प्रमोद ने पहल करते हुए शैड उतार दिये और दूसरों को भी प्रशासन के अभियान में सहयोग देने की प्रेरणा दी।

समाज की तरक्की के लिये बेटियों की सुरक्षा जरूरी-पूनम गुप्ता

डबवाली (लहू की लौ) भगवान श्री कृष्णा कॉलेज ऑफ एजुकेशन में बुधवार को महिला प्रकोष्ठ प्रभारी डॉ. बिमला ढाका के निर्देशन में महिला सशक्तिकरण व बेटी बचाओ विषय पर अन्तर सदन कविता-लेखन एवं पोस्टर मेकिंग प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। शुभारंभ प्रचार्या डॉ. पूनम गुप्ता ने किया।
कविता लेखन में मोनिका प्रथम रही। जबकि रजनी और किरन ने क्रमश: द्वितीय और तृतीय स्थान पाया। पोस्टर मेकिंग में  पूजा प्रथम, मनिषा द्वितीय रही। प्रतियोगिता में प्रत्येक सदन से 5-5 छात्राओं ने हिस्सा लिया।  कुल मिलाकर 20 छात्राएं प्रतियोगिता का हिस्सा बनीं। निर्णायक की भूमिका प्रचाार्या डॉक्टर पूनम गुप्ता ने निभाई।
कार्यक्रम की अध्यक्षा गुप्ता ने अपने सम्बोधन में कहा कि बड़े दु:ख की बात है बेटियों की संख्या दिन प्रतिदिन कम होती जा रही है। उन्होंने कहा कि यदि समाज व देश ने प्रगति करनी है तो हमें लड़कियों की सुरक्षा पर ध्यान देना होगा।

कांग्रेस कार्यकत्र्ताओं ने मनाई इन्दिरा गांधी की 97 वीं जयन्ती


डबवाली (लहू की लौ) पूर्व प्रधानमन्त्री स्वर्गीय इन्दिरा गांधी की 97 वीं जयन्ती पर कांग्रेस कार्यालय मे रामजी लाल पूर्व प्रधान ब्लॉक कांग्रेस डबवाली की अध्यक्षता में बैठक करके उन्हें याद किया गया।  इस अवसर पर वक्ताओं ने श्रीमति इन्दिरा गांधी की दृढ निर्णय क्षमता तथा उन द्वारा देश की एकता व अखण्डता के लिए किये गये कार्यो को याद किया तथा संकल्प लिया कि सभी कांग्रेस कार्यकर्ता देश की एकता व अखण्डता के लिए कार्य करते रहेंगे। इस सभा में कर्मचन्द शर्मा, केशव शर्मा, स. जगरूप सिंह, विनोद बांसल, इन्द्र जैन, गुरदीप कामरा, का. गणपतराम, बिमला पुहाल ने अपने विचार रखे। मंच संचालर्न ब्लॉक कांग्रेस महासचिव रविन्द्र बिन्दू ने किया।
इस अवसर पर पूर्व प्रधान नवरतन बांसल, जगसीर सिंह मिठड़ी, बलदेव राज शर्मा, जयदयाल मेहता, हेमराज जिन्दल, औमप्रकाश वधवा, बिमला महाशा, डा. नानक, लेखराज धमीजा, राजेन्द्र जोईया, मा. नत्थूराम, प्रशान्त गर्ग, डा. सन्तोष अरोड़ा, डा. सुरेन्द्र मदान, गुरचरण सिंह मान, गीता चैहान, जेताराम, भारत भुषण गर्ग, रमेश शर्मा, अशोक धमीजा, भीमसेन, सुरज चावला, भारती, दीपक बाबा, विजय कुमार, करमजीत सिंह  उपस्थित थे।

आवारा पशुओं के छोडऩे पर प्रतिबन्ध

डबवाली (लहू की लौ) जिलाधीश डा. अंशज सिंह ने जिला सिरसा के गांवों, कस्बों व शहरी क्षेत्रों में किसी भी व्यक्ति द्वारा आवारा पशुओं के छोडऩे पर तुरन्त प्रभाव से प्रतिबन्ध लगाया है। जिलाधीश ने दण्ड प्रक्रिया नियमावली 1973 की धारा 144 के तहत प्रदत्त शक्तियों के अंतर्गत ये आदेश जारी किये हैं।
उन्होंने कहा है कि गांवो, कस्बों व विशेषकर शहरी क्षेत्रों में आवारा पशुओं की संख्या दिन प्रतिदिन बढती जा रही है। आवारा पशुओं की वजह से हर रोज सड़क दुर्घटनाए होती रहती है जिससे जानमाल का नुकसान होता है। इसके अतिरिक्त उन्य जिलों/राज्यों से भी लोग रात को आवारा पशुओं को इस जिला में छोड़ जाते हैं। इसलिए इन आवारा पशुओं की समस्या का समाधान किया जाना अतिआवश्यक है ताकि आमजन को जानमाल के नुकसान से बचाया जा सके। उन्होंने कहा कि उपरोक्त आदेश की अवहेलना करने पर यदि कोई व्यक्ति दोषी पाया जाता है तो वह भारतीय दण्ड प्रक्रिया नियमावली की धारा 188 के तहत दण्ड का भागी होगा।

20 Nov. 2014