युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

27 नवंबर 2013

चौधरी की कोठी बनी कांग्रेसियों का अखाड़ा
युवा कांग्रेस अध्यक्ष ने नवरतन बांसल को पीटा
डबवाली (लहू की लौ) वरिष्ठ कांग्रेस नेता संदीप चौधरी की कोठी उस समय अखाड़ा बन गई। जब युवा कांग्रेस हल्का डबवाली अध्यक्ष ने शहर कांग्रेस डबवाली के पूर्व प्रधान को पीट डाला। पूर्व प्रधान ने शहर थाना पुलिस में शिकायत देकर न्याय की गुहार लगाई है।
बीते दिवस संदीप चौधरी की कोठी में एक बैठक चल रही थी। इस बैठक में ओएसडी (मीडिया) डॉ. केवी सिंह, संदीप चौधरी, शहर कांग्रेस के पूर्व प्रधान नवरतन बांसल तथा युवा कांग्रेस हल्का डबवाली के अध्यक्ष विजय सहारण आदि मौजूद थे। कुछ देर बाद ही बैठक अखाड़ा का रूप ले गई। डॉ. केवी सिंह के सामने विजय सहारण ने नवरतन बांसल के मुंह पर तमाचे जड़ दिए। बात यहीं खत्म नहीं हुई। बांसल की अंगुलियों को पकड़कर बुरी तरह से मरोड़ दिया। घटना के तुरन्त बाद बांसल अस्पताल में पहुंचे। उन्होंने मेडिकल जांच करवाने के बाद शहर थाना पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई।
क्या बोले पूर्व शहर कांग्रेस अध्यक्ष
शहर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष नवरतन बांसल ने बताया कि वे संदीप चौधरी की कोठी में बैठे हुए थे। वहां विजय सहारण भी मौजूद था। उसने सहारण को कुछ समय पूर्व तहसीलदार परमजीत सिंह चहल के साथ किए बर्ताव के बारे में समझाते हुए शिष्टाचार की सीमा न लांघने के लिए कहा। जिस पर युवा अध्यक्ष विजय सहारण भड़क उठा। सहारण ने उसे थप्पड़ों से पीटा। हाथापाई करते हुए उसकी अंगुलियां बुरी तरह से मरोड़ दीं। इस संबंध में उसने शहर थाना पुलिस में शिकायत दी है।
हमारा पारिवारिक मामला-सहारण
उधर युवा कांग्रेस अध्यक्ष विजय सहारण ने बताया कि उनका पारिवारिक मामला है। कुछ गिले-शिकवे थे, जो दूर कर लिए गए हैं।
एक्स-रे रिपोर्ट के बाद होगी आगामी कार्रवाई-एसएचओ
शहर थाना पुलिस प्रभारी इंस्पेक्टर भरतेन्द्र सिंह ढिल्लों ने बताया कि नवरतन बांसल की शिकायत उनके पास आई है। अंगुली की एक्स-रे रिपोर्ट आने के बाद आगामी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।
असली विवाद की जड़ है जमीन
सूत्रों से मिली जानकारी अनुसार कांग्रेसियों में विवाद की असली जड़ जमीन है। सूत्र बताते हैं कि चौटाला रोड़ पर नवरतन बांसल के पास 33 फुट का एक टुकड़ा पड़ा है। करीब 22 फुट जमीन के कागजात उसके पास हैं। शेष भूमि पर विजय सहारण अपना कब्जा बताता है। लेकिन बांसल उसे कब्जा नहीं देना चाहता। इसी बात को डॉ. केवी सिंह दोनों में सुलह करवा रहे थे। लेकिन उनके सामने ही सहारण ने बांसल को पीट डाला। सूत्र यह भी बताते हैं कि मामला थाना पहुंचते ही डॉ. केवी सिंह, शहर कांग्रेस अध्यक्ष पवन गर्ग अपने दलबल सहित नवरतन बांसल को मनाने के लिए उनके पेट्रोल पम्प पर पहुंचे। सहारण और बांसल में सुलह करवाने के प्रयास शुरू किए।
शिनाख्त के लिए नम्बरदार ने मांगे 5000, एसडीएम ने बिठाई जांच
नम्बरदार ने आरोपों को नकारा, तहसीलदार परमजीत सिंह चहल करेंगे मामले की जांच
डबवाली (लहू की लौ) एक नम्बरदार पर वसीयत पर शिनाख्त के लिए पांच हजार रूपए मांगने का मामला सामने आया है। शिकायत के आधार पर उपमण्डलाधीश ने तहसीलदार को जांच सौंपी है।
वार्ड नं. 16 निवासी अजायब सिंह पुत्र जंगीर सिंह ने उपमण्डलाधीश को दी शिकायत में कहा है कि उसने अपनी जायदाद की वसीयत अपने पौत्रे जबरजंग सिंह, जगमीत सिंह के हक में करवानी थी। दस्तावेज तैयार करवाने के बाद नम्बरदार नरेन्द्र जोईया को वसीयत पर शिनाख्त करने के लिए कहा। उसने 5000 रूपए की मांग की। नम्बरदार ने कहा कि अगर उसे पैसे नहीं दिए तो वह वसीयत नहीं होने देगा। जिस पर उसने तथा उसके लड़के गुरमीत सिंह ने 2500 रूपए की राशि उक्त नम्बरदार को दी। राशि लेने के बावजूद भी उसने वसीयत पर शिनाख्त नहीं की। उसने गांव डबवाली के नम्बरदार जगरूप सिंह की वसीयत पर शिनाख्त करवाई और अपने पोतों के हक में वसीयत रजिस्टर्ड करवाई।
यह भी लगाया आरोप
शिकायतकर्ता ने अपनी शिकायत में यह भी आरोप लगाया कि करीब एक माह पूर्व उसके नजदीकी मित्र संदीप निवासी सिरसा की जमानत ऐलनाबाद की अदालत में चल रहे फौजदारी मुकदमें में करवानी थी। शिनाख्त करने के लिए उपरोक्त नम्बरदार ने 5000 रूपए की मांग की थी। उसके मना करने पर वह 2500 रूपए मांगने लगा। एक सप्ताह तक टालमटोल करने के बाद ऐलनाबाद में जाकर उसकी शिनाख्त की। शिकायतकर्ता ने शिकायत में एक मूवी का जिक्र भी किया है। जिसमें नम्बरदार को पैसे मांगता दिखाया है। शिकायतकर्ता ने उपरोक्त नम्बरदार के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।
उधर नम्बरदार नरेन्द्र जोईया के अनुसार उस पर लगाए जा रहे आरोप निराधार हैं। अजायब सिंह ने उससे 2000 रूपए उधार लिए थे। उसने उन्हीं पैसों की मांग की थी।
उपमण्डलाधीश सतीश कुमार ने बताया कि शिकायत उनके पास आई है। जांच का कार्य तहसीलदार परमजीत सिंह चहल को सौंपा गया है। जांच अधिकारी की रिपोर्ट के बाद आगामी कार्रवाई की जाएगी।
हरियाणा सरकार के खिलाफ उठेंगे एक साथ 40 हजार हाथ
डबवाली (लहू की लौ) आने वाले दिनों में हरियाणा सरकार को आफत का सामना करना पड़ सकता है। भवन निर्माण कामगार यूनियन हरियाणा के 40 हजार कार्यकर्ता तीन दिवसीय कार्यक्रम के अनुसार कांग्रेसी सांसदों, विधायकों तथा मंत्रियों के आवास के बाहर धरना-प्रदर्शन करेंगे।
सरकार ने की वायदा  खिलाफी-जिला सचिव
भवन निर्माण कामगार यूनियन हरियाणा जिला सिरसा के सचिव नत्थू राम ने बताया कि 23 अगस्त को सीएम आवास पर सरकार के साथ यूनियन की बैठक हुई थी। जिसमें सरकार ने उनकी मांगों पर सहमति जताते हुए उसे लागू करने का आश्वासन दिया था। इसके बाद गोहाना में कांग्रेस की रैली हुई। लेकिन सीएम ने मजदूरों के लिए कोई घोषणा नहीं की। यूनियन सरकार को धोखेबाज मान रही है। जिला सचिव के अनुसार सरकार की वायदाखिलाफी पर यूनियन आगामी 4, 5 तथा 6 दिसम्बर को कांग्रेसी विधायकों, सांसदों तथा मंत्रियों के आवास पर प्रदर्शन करके उन्हें ज्ञापन सौंपेगी।
नत्थू राम के अनुसार प्रदेश में करीब 10 लााख् मजदूर हैं। लेकिन अभी तक 10 प्रतिशत मजदूरों का पंजीकरण हुआ है। पंजीकरण सीधे वोटर कार्ड, पहचान पत्र से किया जाए। चूंकि अधिकतर मजदूर अनपढ़ हैं। उपरोक्त कार्यक्रम के अतिरिक्त आगामी 12 तारीख को सीटू के आह्वान पर मजदूर दिल्ली के रामलीला मैदान में होने वाली रैली में भी भाग लेंगे।
सांसद के आवास पर प्रदर्शन 5 को
अपने तय कार्यक्रम अनुसार यूनियन सदस्य 5 दिसम्बर को सिरसा में भी विरोध दर्ज करवाएंगे। यूनियन के सदस्य एक जगह पर एकत्रित होंगे। सरकार के विरूद्ध नारेबाजी करते हुए सांसद अशोक तंवर के आवास पर पहुंचेंगे। इस मौके पर एक ज्ञापन भी सौपेंगे।
ये हैं मुख्य मांगे
1. पंजीकरण वोटर कार्ड के आधार पर हो।
2. कन्यादान राशि बढ़ाकर 51 हजार की जाए।
3. मृत्यु के मामले में राशि 5 लाख रूपए की जाए।
4. इलाज के लिए स्मार्ट कार्ड जारी किए जाएं।