युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

25 नवंबर 2009

कांग्रेस बैठक में उछली पगडिय़ां

सिरसा (लहू की लौ) हरियाणा विधानसभा चुनाव के दौरान सिरसा लोकसभाई चुनाव क्षेत्र के आठ विधानसभाई चुनाव क्षेत्रों में से सात विधानसभाई चुनाव क्षेत्रों में कांग्रेस को मिली करारी हार के बाद आज स्थानीय बेगू रोड़ पर स्थित कांग्र्रेस भवन में कांग्रेस कार्यकर्ताओं की एक बैठक का आयोजन किया गया। जिसे संबोधित करने के लिए प्रदेश कांगे्रस अध्यक्ष फूलचंद मुलाना मुख्य रूप से उपस्थित थे।
चुनावों में सिरसा से आजाद उम्मीदवार के रूप में चुनाव जीते गोपाल काण्डा के गृह राज्य मंत्री बनने के बाद आज पहली बार अपने समर्थकों सहित इस बैठक में भाग लेने के लिए कांग्रेस भवन पहुंचे। वहीं दूसरी ओर फतेहाबाद से आजाद उम्मीदवार के रूप में चुनाव जीते प्रहलाद सिंह गिलांखेड़ा भी मुख्य संसदीय सचिव बनने के बाद अपने समर्थकों व कार्यकर्ताओं सहित इस बैठक में कांग्रेस भवन में पहली बार शामिल हुए। रानियां विधानसभाई चुनाव क्षेत्र से कांग्रेस प्रत्याशी रणजीत सिंह के चुनाव हार जाने के बाद उनके समर्थक आक्रोशित तरीके से इस बैठक में अपना गुस्सा निकालने की प्रतिक्षा में ही थे कि जब एक वक्ता द्वारा यह कह दिया गया कि चौ. रणजीत सिंह तो पहले भी कई बार चुनाव हार चुके हैं तो इस पर इस मीटिंग में भारी हंगामा खड़ा हो गया व विभिन्न नेताओं के समर्थकों ने एक दूसरे के साथ हाथापाई शुरू कर दी। स्थिति को बिगड़ते देख कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष फूलचंद मुलाना ने खुद मंच संभाला तथा आपस मेें भिड़े कार्यकर्ताओं को शांत किया।
इस बैठक में नेहरा और रणजीत समर्थक इतनी बुरी तरह से भिड़ गये कि धक्का-मुक्की के साथ-साथ माईक भी इधर-उधर गिर गया और इस दौरान कुछ कार्यकर्ताओं की पगडिय़ां भी उछल गई। इस बैठक में ऐलनाबाद से कांग्रेस प्रत्याशी के रूप मेें चुनाव हारे भरत सिंह बैनीवाल ने कहा कि भीतरघात के शिकार के कारण ही कांग्रेस को इस जिला में मार पड़ी है जबकि अन्य क्षेत्रों से भी आए स्थानीय नेताओं ने इस आरोप को जोरदार शब्दों में बयान किया। इस हंगामेदार बैठक में कार्यकर्ताओं ने जमकर नारेबाजी भी की।
इस बैठक के दौरान मंच पर भी उस समय भारी हंगामा खड़ा हो गया जब स्थानीय नेता नवीन के साथ किसी अन्य स्थानीय कांगेसी नेता की कहासुनी हो गई व स्थिति को बिगड़ते देख मंचासीन नेताओं ने बीच-बचाव कर हालात पर काबू पाया। आज की इस बैठक के समय बेगू रोड पर वाहनों का इतना अधिक जमाव हो गया कि पुलिस को अवरूद्ध हुए यातायात को बहाल करने के लिए कड़ी मशक्कत करनी पड़ी।

मैक्स पेड़ से टकराई, 3 की मौत

डबवाली (लहू की लौ) राष्ट्रीय राजमार्ग नंबर 10 पर आज सुबह साहुवाला प्रथम के पास हुई एक सड़क दुर्घटना में तीन लोगों की मौत हो गई, जबकि एक दर्जन लोग घायल हो गये, जिन्हें सरसा के सामान्य अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। ये घटना सुबह साढे पांच बजे घटित हुई। सूचना पाकर मौके पर पहुंची बडागुढ़ा पुलिस ने एक घायल के बयान पर गाड़ी चालक के खिलाफ मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी। गाड़ी सवार लोग वेटर का कार्य करते थे और एक शादी में अपनी सेवा देकर वापिस लौट रहे थे।
प्राप्त विवरण अनुसार दिल्ली की चड्ढा वेटर कम्पनी में वेटर का कार्य करने वाले करीब 15 व्यक्ति बङ्क्षठडा से एक शादी समारोह में अपना कार्य निपटाकर वापिस दिल्ली आ रहे थे। गाड़ी में सवार घायल एक वेटर केदारनाथ पुत्र कैलाश चंद ने पुलिस को दिये बयान में बताया कि वे बङ्क्षठडा में आयोजित एक शादी में कार्य हेतु आए थे और वापसी के लिए उनके मालिक ने एक मैक्स गाड़ी किराए पर भेजी, जिसमें सभी लोग सवार होकर देर रात्रि बठिंडा से चल पड़े।
कैदार ने बताया कि गाड़ी चालक गाड़ी को बहुत तेज रफ्तार से भगा रहा था, जिसके लिए उन्होंने उसे कहा भी था, पर चालक ने उनकी बातों को अनसुना करदिया। जब गाड़ी साहुवाला प्रथम बस स्टैंड के समीप जलघर के पास पहुंची तो चालक गाड़ी से संतुलन खो बैठा और तेज रफ्तार गाड़ी बेकाबू होकर सड़क किनारे पेड़ से जा टकराई।
हादसा इतना भीषण था कि तीन लोगों की मौके पर ही मौत हो गई, जिनकी पहचान संदीप, महेश व अमित के रूप में की गई है। जबकि सुनील, सचिन, अरूण, राजेश, संदीप, रामकुमार, राजीव व सुनील बुरी तरह से घायल हो गये। बड़ागुढ़ा थाना प्रभारी अजीत बैनीवाल पुलिस टीम सहित मौके पर पहुंचे तथा घायलों को एम्बुलैंस द्वारा सिरसा के सामान्य अस्पताल में भर्ती करवाया। घायलों में से राजीव व रामकुमार की गंभीर हालत को देखते हुए उन्हें दिल्ली रैफर किया गया है।
पुलिस ने वेटर केदार के बयान पर गाड़ी चालक के खिलाफ भादसं की धारा 279, 304ए के तहत मामला दर्ज कर लिया है।

झगड़ों में 7 घायल

डबवाली (लहू की लौ) उपमण्डल डबवाली में सोमवार रात को अलग-अलग स्थानों पर हुई ढिशुम-ढिशुम में एक बच्चे सहित 7 जनें घायल हो गये। जिन्हें उपचार के लिए डबवाली के राजकीय अस्पताल में लाया गया।

गांव मौजगढ़ में दो पक्षों में गाली-गलौच को लेकर हुए झगड़े में पत्थर और लाठियां चली। जिसमें दोनों पक्षों के चार जनें घायल हो गये। घायल दर्शन सिंह पुत्र जैला सिंह ने बताया कि वह गांव में ही स्थित शराब के ठेके पर काम करता है और सोमवार रात को अपनी डयूटी पूरी करके गांव में वापिस घर लौट रहा था। मार्ग में गांव का ही संदीप कुमार पुत्र जगन्नाथ अपने साथियों सहित खड़ा था, जोकि शराब के नशे में धुत्त था। किसी बात को लेकर उन दोनों में तकरार हो गई। तैश में आये संदीप कुमार ने अपने 8-10 साथियों सहित मिलकर उस पर हमला बोल दिया। इस बात की भनक पाकर उसका भाई परमजीत सिंह, बोहड़ सिंह पुत्र करनैल सिंह निवासी मौजगढ़ भी वहां पहुंचे गये। आरोपियों ने उनके भी चोटें मारी। दूसरे पक्ष के घायल संदीप कुमार ने बताया कि वह अपने घर जा रहा था कि अचानक शराब के नशे में धुत्त दर्शन सिंह, परमजीत सिंह बगैरा ने उस पर तेजधार हथियारों से हमला करके उसे घायल कर दिया।
इधर गांव पन्नीवाला रूलदू में दो भाईयों के परिवारों में हुए झगड़े में एक बच्चे सहित तीन लोग घायल हो गये। घायल मिट्ठू राम पुत्र मिल्खी राम ने बताया कि उसका भाई मक्खन सिंह व उसके साथी रामलाल, भोला सिंह बगैरा उसके प्लाट पर कब्जा करना चाहते हैं। सोमवार रात को आरोपियों ने उसके घर में घुसकर उस पर हमला कर दिया। जिससे वह और उसका बेटा कुलदीप घायल हो गये। दूसरी ओर घायल मक्खन ने बताया कि उसका भाई मिट्ठू राम उससे रंजिश रखता है और 4-5 बार अपने बेटों के साथ मिलकर उस पर हमला भी कर चुका है। सोमवार रात को रंजिशवश मिट्ठू राम ने उसके घर में घुसकर तेजधार हथियारों से उस पर हमला करके उसे चोटें मारी तथा उसकी बेटियों को भी पीटा।

झगड़ों में 7 घायल

डबवाली (लहू की लौ) उपमण्डल डबवाली में सोमवार रात को अलग-अलग स्थानों पर हुई ढिशुम-ढिशुम में एक बच्चे सहित 7 जनें घायल हो गये। जिन्हें उपचार के लिए डबवाली के राजकीय अस्पताल में लाया गया।

गांव मौजगढ़ में दो पक्षों में गाली-गलौच को लेकर हुए झगड़े में पत्थर और लाठियां चली। जिसमें दोनों पक्षों के चार जनें घायल हो गये। घायल दर्शन सिंह पुत्र जैला सिंह ने बताया कि वह गांव में ही स्थित शराब के ठेके पर काम करता है और सोमवार रात को अपनी डयूटी पूरी करके गांव में वापिस घर लौट रहा था। मार्ग में गांव का ही संदीप कुमार पुत्र जगन्नाथ अपने साथियों सहित खड़ा था, जोकि शराब के नशे में धुत्त था। किसी बात को लेकर उन दोनों में तकरार हो गई। तैश में आये संदीप कुमार ने अपने 8-10 साथियों सहित मिलकर उस पर हमला बोल दिया। इस बात की भनक पाकर उसका भाई परमजीत सिंह, बोहड़ सिंह पुत्र करनैल सिंह निवासी मौजगढ़ भी वहां पहुंचे गये। आरोपियों ने उनके भी चोटें मारी। दूसरे पक्ष के घायल संदीप कुमार ने बताया कि वह अपने घर जा रहा था कि अचानक शराब के नशे में धुत्त दर्शन सिंह, परमजीत सिंह बगैरा ने उस पर तेजधार हथियारों से हमला करके उसे घायल कर दिया।
इधर गांव पन्नीवाला रूलदू में दो भाईयों के परिवारों में हुए झगड़े में एक बच्चे सहित तीन लोग घायल हो गये। घायल मिट्ठू राम पुत्र मिल्खी राम ने बताया कि उसका भाई मक्खन सिंह व उसके साथी रामलाल, भोला सिंह बगैरा उसके प्लाट पर कब्जा करना चाहते हैं। सोमवार रात को आरोपियों ने उसके घर में घुसकर उस पर हमला कर दिया। जिससे वह और उसका बेटा कुलदीप घायल हो गये। दूसरी ओर घायल मक्खन ने बताया कि उसका भाई मिट्ठू राम उससे रंजिश रखता है और 4-5 बार अपने बेटों के साथ मिलकर उस पर हमला भी कर चुका है। सोमवार रात को रंजिशवश मिट्ठू राम ने उसके घर में घुसकर तेजधार हथियारों से उस पर हमला करके उसे चोटें मारी तथा उसकी बेटियों को भी पीटा।

बेटी ने लगाया माता-पिता पर बेचने का आरोप

डबवाली (लहू की लौ) यहां के रेलवे स्टेशन के पीछे उस समय हंगामा खड़ा हो गया। जब एक पुरूष एक महिला को बुरी तरह पीटने लगा और लोगों ने हस्तक्षेप करके महिला को पुरूष के चंगुल से आजाद करवाकर पुलिस को सौंप दिया।
प्राप्त जानकारी अनुसार सोमवार को डबवाली रेलवे स्टेशन के पीछे स्थित शिव मन्दिर के पास एक युवक अचानक पहुंचा और उसने वहां बैठी महिला को पीटना शुरू कर दिया। लोगों ने जब इसका कारण युवक से पूछा तो युवक ने अपना नाम पम्मा निवासी तपाखेड़ा बताते हुए कहा कि यह उसकी पत्नी है और वह इसे लेने के लिए मलोट गया था। लेकिन यह अपने मायके से भागकर डबवाली आ गई।
इधर अपनी सफाई देते हुए महिला ने अपना रानी पत्नी देसराज निवासी गांव हौंदा (जिला फरीदकोट) बताया। उसने बताया कि उसके चार बच्चे हैं। लेकिन मलोट में रहने वाले उसकी मां अमरजीत कौर और पिता गुरदयाल सिंह ने करीब तीन माह पूर्व उसे तपाखेड़ा के पम्मा को 25,000 रूपये में बेच दिया। वह कह रही थी कि वह अपने पति देसराज के पास जाना चाहती है, लेकिन पम्मा और उसके माता-पिता उसे जबर्दस्ती तपाखेड़ा लेजाना चाहते हैं।
इस संदर्भ में जब वहां उपस्थित अमरजीत कौर से पूछा गया तो उसने बताया कि उसकी बेटी रानी पिछले एक वर्ष से घर पर बैठी है और वह अपने ससुराल से रूठ कर घर आ गई थी। उसको भेजने का प्रयास कर रहे थे, लेकिन वह जा नहीं रही थी। जिस पर उन्होंने इसकी शादी पम्मां के साथ कर दी। लेकिन जब उससे यह पूछा गया कि उसकी बेटी तो उन पर उसे बेचने का आरोप लगा रही है, इस पर कुछ नहीं बोले। इसकी सूचना पाकर मौका पर थाना शहर पुलिस के एएसआई वेदप्रकाश पहुंचे और वे दोनों पक्षों को थाना ले गये।

इंटरनेट उपभोक्ताओं को ठगने के प्रयास

डबवाली (लहू की लौ) स्थानीय नगर में कुछ दिनों से विदेशों से मोबाइल पर ईनाम निकलने की सूचना देकर लोगों को ठगने का प्रयास किये जाने का मामला अभी ठण्डा भी नहीं हुआ है कि अब इंटरनेट से ई-मेल द्वारा इस प्रकार के प्रयास शुरू हो चुके हैं। हालांकि कुछ समय पूर्व इस प्रकार की ठगी का शिकार डबवाली के कुछ लोग हो चुके हैं।
यह जानकारी देते हुए डबवाली के वार्ड नं. 8 के निवासी हरबन्स लाल के पुत्र नीरज सेठी ने बताया कि उसके पास उसकी ई-मेल आईडी पर एक ई-मेल आई जिसमें ई-मेल भेजने वाले ने अपने आपको माईक्रोसोफ्ट वर्ड (यूके) का फाऊंडेशन प्रोग्राम मैनेजर बताया और कहा कि उन्हें 7.50 लाख पौंड (भारतीय करंसी के अनुसार लगभग 6 करोड़ रूपये) का पुरस्कार निकला है। सेठी के अनुसार उसे हैरानी हुई कि बिना प्रतियोगिता में हिस्सा लिये उसे इतनी बड़ी राशि निकल आई। वह बहुत खुश हुआ और उसने इस ई-मेल के साथ भेजे गये प्रोफार्मे को भी भरकर दिये गये ई-मेल पते पर भेज दिया। इसके बाद उसे फोन आया कि इतनी बड़ी राशि का पार्सल यूके की सिटी लिंक एक्सप्रेस पार्सल सर्विस के सुपुर्द कर दिया गया है। इसे प्राप्त करने के लिए उसे तीन शर्तो का पालन करना होगा। यह शर्तें अलग-अलग थी, उसने 30 हजार रूपये की राशि वाली शर्त स्वीकार करते हुए आगामी कार्यवाही के लिए पूछा, तो वहां से बताया गया कि वह भारत में स्थित उनके एजेंट के आईसीआईसीआई बैंक खाता में अपनी राशि जमा करवा सकता है।
इस प्रकार की ई-मेल केवल एक ई-मेल आईडी पर नहीं बल्कि डबवाली के अनेक ई-मेल आईडी पर आई हैं। यह एक प्रकार का साईबर क्राईम है। जिसके तहत इंटरनेट उपभोक्ता को लालच देकर ठगा जाता है।