युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

07 अगस्त 2011

बेटी को मारने वाले का हुक्का-पानी बंद करवा दो


उपमण्डलीय विधिक सेवा समिति के चेयरमैन डॉ. अतुल मडिया का बालंटियरों को आह्वान
डबवाली (लहू की लौ) आपके पास कोर्ट की स्पैशल पॉवर हैं, इसलिए आप घर में दुबक कर बैठे ना रहो। एक्टिव हो और अपने क्रियाकलापों को रजिस्टर में दर्ज करो। कन्या भ्रूण हत्या के खिलाफ पंचायत से प्रस्ताव पारित करवाओ। जिससे ऐसा घिनौना कार्य करने वाले परिवार का हुक्का-पानी बंद हो जाए।
गांवों में महिलाएं आज भी घरों में बंद हैं या फिर पर्दा प्रथा प्रचलित है। जिससे उन्हें अपने अधिकारों के बारे में मालूम नहीं। आप चौपाल पर बैठक करें। साथ में महिला पंच को लें। ताकि अधिक से अधिक महिलाएं इक्ट्ठी हों और उन्हें कानून की जानकारी मिले। अपने डेली वर्क का रजिस्टर तैयार करें। रोजाना गांव के चार-पांच व्यक्तियों से मिलें। उनसे हुई बातचीत के अंश रजिस्टर में दर्ज करें। यहां कमी रह गई है, उसके बारे में लीगल सैल के वकील से बातचीत करें। गांव में किसी का राशन कार्ड नहीं बन रहा, विधवा पेंशन मिलने में दिक्कत आ रही है। इसकी जानकारी मिलने पर संबंधित अधिकारी से संपर्क करें। अगर आपकी सुनी नहीं जाती तो वकील या फिर मेरे से संपर्क करें। बस, आप घर पर खाली बैठकर टाईम पास न कीजिएगा। हफ्ते में केवल तीन दिन आपने काम कर लिया तो कुछ महीनों में आपको अपना गांव चेंज मिलेगा।
कृपा आप गांव या फिर आस-पास आने वाली समस्या को जानते हुए चुप न बैठें। उसका मुकाबला करें। गांव में बने विद्यालयों की छात्राओं तथा महिला अध्यापकों से छेड़छाड़ की घटनाओं में अनावश्यक वृद्धि हुई है, ग्रामीणों को साथ लेकर इन्हें रोंके। सुबह के समय स्कूल में जाएं तीन-चार साल के बच्चों को दहेज न लेंगे, दहेज न देंगे के नारे लगवाएं। शादी की उम्र तक पहुंचते-पहुंचते यह नारा उसके मस्तिष्क में घर कर लेगा। जिससे दहेज प्रथा जैसी सामाजिक बुराई खत्म हो सकती है। प्रदेश में महिला-पुरूष अनुपात कम हो रहा है। आप लोग अपने गांव में पता लगाएं कि कितनी महिलाएं गर्भवती हैं। एएनएम, महिला पंच की सहायता से उनकी सूची तैयार करें। डिलीवरी तकउन पर कड़ी नजर रखें। आपका अपना गांव हिंसा से मुक्त हो सकता है, खासकर घरेलू हिंसा से उपजने वाले बड़े झगड़ों से। आपका काम मात्र इतना है कि जिस घर में आपकों पति-पत्नी या पारिवारिक सदस्यों में झगड़ा सुनाई दे, उस घर का कुंडा खटखटा दें।
उपरोक्त शब्द उपमण्डल न्यायिक दण्डाधिकारी तथा उपमण्डलीय विधिक सेवा समिति डबवाली के चेयरमैन डॉ. अतुल मडिया के हैं। वे शनिवार को बार रूम में पेरालीगल वालंटियर को संबोधित कर रहे थे। इस मौके पर उन्होंने वालंटियर से सुझाव भी मांगे। गांव मौजगढ़ से आए युवक हरपाल ने गांव में सरेआम शराब की बिक्री पर कटाक्ष किया। वहीं अन्य वालंटियर ने गांवों में सफाई का हाल बेहाल होने की बात रखी। जिस पर तुंरत संज्ञान लेते हुए उपमण्डल न्यायिक दण्डाधिकारी ने एसडीएम डॉ. मुनीश नागपाल को एक पत्र लिखा। जिसमें उन्होंने कहा है कि सरकार की ओर से ग्रामीण आंचल में सफाई व्यवस्था को दुरूस्त रखने के लिए मुलाजिम लगाए हुए हैं। लेकिन सरपंच इन मुलाजिमों  से अपने घर पर कार्य लेते हैं। ऐसे में गांव की सफाई नहीं हो पाती। जोकि जरूरी है। मुलाजिम सरकार से मिलने वाली तनख्वाह बैठे-बैठाए खा रहे हैं। आप संबंधित बीडीपीओ को निर्देश देकर सफाई कर्मियों से गांव में सफाई व्यवस्था सुनिश्चित करवाएं।
डॉ. अतुल मडिया ने वालंटियर से कहा कि आपकी एक बैठक आगामी 20 तारीख को दोबारा होगी। जिसमें आपकी गतिविधियों की समीक्षा की जाएगी। साथ में  उन्होंने बैठक में अनुपस्थित रहे वालंटियर को नोटिस जारी करने के निर्देश दिए। इस मौके पर उन्होंने कहा कि आस-पास होने वाली घरेलू हिंसा या फिर अन्य समाज विरोधी गतिविधि की सूचना लोग उपमण्डल विधिक सेवा समिति के कोर्ट कम्पलैक्स में खोले गए कार्यालय के फोन नं. 231222 पर भी सुबह 9 से शाम 5 बजे तक दे सकते हैं।
इस अवसर पर बार एसोसिएशन के अध्यक्ष जितेंद्र दंदीवाल, बलजीत सिंह, कुलदीप सिंह सिधू, युधीष्ठिर शर्मा, कुलवंत सिंह, इन्द्रजीत सिंह, कंवलजीत सिंह कंबोज, राजेश यादव, धर्मवीर कुलडिया आदि उपस्थित थे।

बाप-बेटे को नशीला दूध देकर भाग गई बहू!


डबवाली (लहू की लौ) गांव पन्नीवाला मोरिकां में विवाहित युवती अपने पति तथा ससुर को दूध में नशीली गोलियां देकर 18 साल के अपने प्रेमी संग भाग गई। बाद में दोनों को प्रेमी के घर से बरामद कर लिया गया। सदर पुलिस मामले की जांच कर रही है।
जिला बठिंडा के गांव संगत के रहने वाले सुखदेव सिंह ने बताया कि उसके 27 वर्षीय साले जगसीर सिंह की 25 वर्षीय पत्नी सुखजीत कौर का गांव के मनदीप नामक युवक से लव चल रहा था। यह युवक उनकी रिश्तेदारी में है। जिसके कारण उसका अक्सर उनके घर आना-जाना था। चार माह पहले मनदीप सुखजीत कौर को भगाते हुए पकड़ा गया था। इसके बाद मनदीप के परिवार से उनके संबंध विच्छेद थे।
सुखदेव के अनुसार शुक्रवार रात करीब 10 बजे घर पर उसका ससुर 70 वर्षीय ससुर जंग सिंह, साला जगसीर सिंह अकेले थे। उसकी सास अमरजीत कौर तथा जगसीर सिंह की तीन वर्षीय बेटी राजदीप कौर राजस्थान के रावला में रिश्तेदारी में गए हुए थे। मौके का फायदा उठाते हुए सुखजीत कौर ने दोनों को नशा मिला दूध पिला दिया। दोनों के नशे में आते ही मौका पाकर वह अपने प्रेमी मनदीप के साथ फरार हो गई। लेकिन उनको वहां से फरार होता उसके ससुर के छोटे भाई तेजा सिंह ने देख लिया। उसके शोर मचाने पर गांव की महिला पंच पाली कौर, पड़ौसी जंगीर कौर तथा अन्य ग्रामीण भी उठ खड़े हुए। पोल खुलता देख मनदीप उसे अपने घर ले गया।
पंच ने सुखजीत कौर को मनदीप का साथ छोडऩे के लिए कहा और घर चलने को कहा। लेकिन वह नहीं मानी और मनदीप के साथ रहने की जिद्द पकड़ ली। शनिवार सुबह तक होश न आने के कारण जंग सिंह को डबवाली के राजकीय अस्पताल में लाया गया।
मामले की जांच कर रहे थाना सदर पुलिस के एएसआई आत्मा राम ने बताया कि दोनों पक्ष पंचायती तौर पर मामले को सुलझाने का प्रयास कर रहे हैं। अगर पंचायती तौर पर मामला नहीं निबटता तो पुलिस अपनी कार्रवाई अमल में लाएगी।

विवाद से आहत महिला ने की खुदकुशी की कोशिश


डबवाली (लहू की लौ) घर में विवाद होने पर आहत एक रिटायर्ड एसडीओ की धर्मपत्नी ने शनिवार को रेलगाड़ी के आगे आकर जान देने की कोशिश की। गाड़ी की फेट लगने से महिला घायल हो गई। मौका पर पहुंचे डबवाली जन सहारा सेवा संस्था के सदस्यों ने उपचार के लिए महिला को राजकीय अस्पताल में पहुंचाया।
दर्पण सिनेमा के पीछे रहने वाले वाटर सप्लाई एण्ड सैनीटेशन पंजाब से रिटायर्ड एसडीओ बलवंत सिंह के घर में कुछ रोज पहले विवाद हुआ था। विवाद से उनकी 55 वर्षीय पत्नी मनजीत कौर आहत थी। इसी वजह से वह शनिवार को घर से रेलवे लाईन पर आ गई। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार सुबह करीब सवा 11 बजे साईं मंदिर के निकट डबवाली रेलवे स्टेशन से बठिंडा की ओर जा रही गाड़ी के आगे आने का प्रयास किया। गाड़ी चालक ने महिला की हरकतों को देखते हुए गाड़ी धीमे कर ली। इसी दौरान महिला गाड़ी की फेट लगने के कारण दूर जा गिरी। उसके सिर, बाजू पर गंभीर चोट आई। गाड़ी भी कई देर तक रूकी रही।
गाड़ी में सवार होकर बठिंडा जा रहे वार्ड नं. 16 निवासी सर्वजीत सिंह राजा सरां ने फूर्ति दिखाते हुए डबवाली जन सहारा सेवा संस्था को मौके पर बुलाया और घायल महिला को अस्पताल पहुंचाया। चिकित्सक ने प्राथमिक उपचार के बाद महिला की गंभीर हालत को देखते हुए उसे सिरसा रैफर कर दिया। लेकिन उसके परिजन बेहतर इलाज के लिए उसे लधियाना के एक निजी अस्पताल में ले गए। महिला की हालत अभी भी  गंभीर बनी हुई है।

कलोनी रोड़ पर सटोरियों का हंगामा


डबवाली (लहू की लौ) लवकुश पार्क के पास शुक्रवार की रात को क्रिकेट सट्टा में लगे 12 लाख रूपये को लेकर दो पक्षों में खूब तनातनी रही। अन्तत: एक कांग्रेसी नेता के हस्तक्षेप के बाद 8 लाख रूपये में मामला निपट गया।
इंग्लैंड औैर इंडिया के बीच ट्रेंटब्रिज (इंग्लैंड) में 29 जुलाई से 2 अगस्त तक खेले गये पांच दिवसीय क्रिकेट मैच की हार-जीत को लेकर डबवाली और किलियांवाली में बुक्की संचालकों के पास लाखों रूपये का क्रिकेट सट्टा लगा। जिसमें कई युवा कंगाल हो गये। इसी दौरान डबवाली का एक युवक इंडिया को जिताता हुआ 12 लाख रूपये हार गया। जब पैसा देने की नौबत आई तो युवक ने हाथ खड़े कर दिये और अपने बचाव के लिए इनेलो तथा कांग्रेसी नेताओं की शरण में चला गया। बुक्की संचालकों ने इस युवक का पीछा नहीं छोड़ा और वह 12 लाख रूपया वसूलने पर अड़े रहे।
शुक्रवार रात को बुक्की संचालकों ने इस युवक को कलोनी रोड़ के लवकुश पार्क के पास घेर लिया और इसी दौरान युवक ने भी अपने समर्थकों को बुला लिया। डेढ़ घंटा तक दोनों पक्षों में खूब तनातनी रही। अन्तत: मामला एक कांग्रेसी नेता के पास रखा गया। दोनों तरफ की बात सुनने के बाद कांग्रेसी नेता ने अपने फरमान में युवक को 8 लाख रूपये की राशि बुक्की संचालकों को लौटाने की बात मनवा ली। यह राशि एक आढ़तिया की मार्फत 27 अगस्त को देना तय हुआ है।
मामला केवल पैसों की हार-जीत का नहीं है। बल्कि बुक्की संचालकों की मार्फत युवाओं की हो रही बर्बादी का है। जिस पर डबवाली तथा किलियांवाली पुलिस नकेल कसने में असफल रही है। क्रिकेट सट्टे में बर्बाद हुए युवकों के अभिभावकों ने जिला सिरसा और मुक्तसर पुलिस कप्तानों से  अनुरोध किया है कि जनहित में क्रिकेट पर सट्टा लगवाने वालों के खिलाफ कार्यवाही अमल में लाकर युवा पीढ़ी को बर्बाद होने से बचाया जाये।

करंट से मजदूर की मौत


डबवाली (लहू की लौ) गांव आसाखेड़ा में करंट लगने से एक मजदूर की मौत हो गई। पुलिस ने इत्तफाकिया मौत की कार्रवाई करते हुए शनिवार को शव का डबवाली के राजकीय अस्पताल से पोस्टमार्टम करवाने के बाद उसे उसके वारिसों को सौंप दिया।
गांव आसाखेड़ा का 32 वर्षीय भूप सिंह शुक्रवार शाम करीब 4 बजे किसान विनोद कुमार के खेत में लगी घास को दरांती से काट रहा था। अचानक उसकी दरांती खेत में लगे बिजली के खम्बे से टकरा गई। खम्बे में करंट होने की वजह से उसने वहीं दम तोड़ दिया। खेत मालिक ने इसकी सूचना तत्काल मृतक के परिजनों को दी। सूचना पाकर मौका पर भूप सिंह का पिता मंगला राम तथा भाई रिछपाल सिंह मौके पर पहुंचे। मृतक के दो बच्चे सुमन (12) तथा रविंद्र (10) हैं।
चौटाला पुलिस चौकी प्रभारी एसआई जीत सिंह ने बताया कि मृतक के भाई रिछपाल के ब्यान पर दफा 174सीआरपीसी के तहत इत्तेफाकिया मौत की कार्रवाई अमल में लाई गई है। शव का राजकीय अस्पताल डबवाली से पोस्टमार्टम करवाने के बाद उसे उसके वारिसों को सौंप दिया गया।