युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

25 नवंबर 2014

शेक्सपियर : फादर ऑफ कंपोजिट थियेटर की धूम

कुछ ही दिनों में 120 देशों में पहुंची एसएम देवगण की पुस्तक

डबवाली (लहू की लौ) 65 वर्षीय भारतीय की अंग्रेज नाटककार पर लिखी पुस्तक को विश्व में वर्ष 2014 की सर्वश्रेष्ठ पुस्तकों में स्थान मिला है। शेक्सपियर : फादर ऑफ कंपोजिट थियेटर नाम की यह पुस्तक विश्वभर में सराही जा रही है। पुस्तक का प्रकाशन लंदन की एक निजी कंपनी ने किया है। चार भाषाओं में प्रकाशित हो चुकी यह पुस्तक अब तक विश्व के 120 देशों में पहुंच चुकी है।
क्या है पुस्तक में
इस पुस्तक को मंडी किलियांवाली निवासी डॉ. एसएम देवगण ने लिखा है। लेखक ने अपनी पुस्तक में करीब चार सौ साल पहले के अंग्रेजी नाटककार शेक्सपियर के लिखे नाटकों की तुलना भारतीय नाट्य शास्त्र, ग्रीक थियेटर, रशिया के पियोर थियेटर तथा जापान के कंबोकी जैसे थियेटर से की है। लेखक ने अपनी किताब में लिखा है कि जो नाटक आज से चार शताब्दी पूर्व लिखे गये थे, आज भी विश्व में मंचित होने वाले नाटकों पर उनका गहरा प्रभाव है। शेक्सपियर के नाटक मन, दिमाग पर असर करके व्यक्तित्व को प्रभावित करने वाले होते थे। आज भी नाटक उसी पद्धति पर चल रहे हैं। नाटक मनुष्य की मानसिकता में परिवर्तन करने का दम रखते हैं।
2002 में लिखी थी पुस्तक
इस संवाददाता से बातचीत करते हुये एसएम देवगण ने कहा कि शेक्सपियर पर उपरोक्त पुस्तक उन्होंने वर्ष 2002 में लिखी थी। लंबे समय के बाद उनके बेटे तिपेशवर ने पुस्तक की रूपरेखा को लंदन की एक पुस्तक प्रकाशन कंपनी के पास भेजा। पुस्तक की समरी लेने के बाद कंपनी ने पुस्तक को मंगवा लिया। प्रकाशन के बाद इसको विश्वभर में रिलीज किया है। उनकी पुस्तक का प्रकाशन लंदन, भारत, अमेरिका तथा कनाडा में अलग-अलग भाषाओं में किया जा चुका है। विश्व भर में जितनी पुस्तकें बिकेंगी उनका 25 प्रतिशत हिस्सा कंपनी उसे देगी।
यूं प्राप्त किया ज्ञान
पढ़ाने के साथ-साथ लेखक खुद भी पढ़ते रहे हैं। पढ़ाने के साथ-साथ देवगण ने बीएड, एमएड, पीएचडी के साथ-साथ लॉ की डिग्री प्राप्त की। पीएचडी के दौरान ही उन्हें स्टेज क्राफ्ट ऑफ शेक्सिपयर विषय पर शोध करने का मौका मिला। इस दौरान वे नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा, नई दिल्ली के साथ-साथ बनारस तथा सेंट्रल यूनिवर्सिटी ऑफ बॉम्बे में गये। भारतीय नाटक शैली के साथ विश्व भर में प्रचलित अन्य शैलियों के अध्ययन करने का मौका मिला। जिसके बाद उन्होंने उपरोक्त विषय पर किताब लिखी।

पिता की कहानी ने दी मंजिल
विभाजन के समय लाहौर के गांव लक्खो को छोड़कर डॉ. एसएम देवगण का परिवार भारत में बसा था। उनके पिता हरबंस लाल पंजाब पुलिस में इंस्पेक्टर थे। उनके पिता को किताबें पढऩे का शौंक था। पिता से कहानी या कविता सुने बिना नींद नहीं आती थी। पिता से मिली किताबें पढऩे की आदत ने देवगण को विश्व भर में ख्याति दी है।


नाम : सुरिंद्र मोहन देवगण
(एसएम देवगण)
जन्म : 3 अप्रैल 1949
स्थान : जीरा (फिरोजपुर)
परिचय : राजकीय हाई स्कूल में मेट्रिक करने के बाद मोगा स्थित डीएम कॉलेज में बीए ऑनर की। पंजाब यूनिवर्सिटी कैंपस चंडीगढ़ से एमए (अंग्रेजी) की। इसके साथ ही खालसा कॉलेज अमृतसर में लेक्चरशिप ली। करीब 11 साल बीताने के बाद उन्होंने डीएवी कॉलेज जलालाबाद में वाईस प्रिंसीपल के रूप में नौकरी की। चार साल रहने के बाद डीएवी कॉलेज के शताब्दी समारोह में सीनियर लेक्चरर को प्रिंसीपल बना दिया गया। जिसके आधार पर वे पहली बार कल्याण (मुंबई) में डीएवी पब्लिक स्कूल के बतौर प्रिंसीपल नियुक्त हुये। इसके साथ ही वे गुजरात तथा महराष्ट्र स्थित डीएवी स्कूलों के डिप्टी रीजनल डायरेक्टर बनाये गये। बाद में पटियाला स्थित डीएवी संस्थान में नौकरी की। इसके बाद मंडी किलियांवाली स्थित बाल मंदिर स्कूल में प्रिंसीपल के रूप में करीब छह साल बिताये। प्रिंसीपल के रूप में मंडी किलियांवाली आने के बाद वे यहीं पर रहकर यहीं के हो गये।


सोशल साईंटस पर 40 लाख लोगों ने सराहा

सपोंसर कर रही कंपनी ने देवगण की किताब को सोशल नेटवर्किंग साईटस पर भी बिक्री के लिये उतारा है। ब्रीफ में दिये किताब के आंकलन पर विश्वभर में तेजी से लाईक किये जा रहे हैं। अब तक करीब 40 लाख लोगों ने लाईक किया है। देवगण के अनुसार दुनिया के 120 मुल्कों में किताब की बिक्री से होने वाली आमदन का 25 प्रतिशत हिस्सा उन्हें मिला। हालांकि किताब संबंधी बिक्री का पूरा कंट्रोल विश्व स्तरीय कंपनी के हाथों में है।

शेक्सपियर ने लिखे थे 38 नाटक

एसएम देवगण के अनुसार शेक्सपियर विश्व के सबसे बड़े नाटककार हुये हैं। अपनी जिंदगी में उन्होंने 38 नाटक लिखे। जोकि हास्यरस, दुखांत तथा इतिहास पर आधारित हैं। इन नाटकों में 154 गीत भी शामिल हैं।


अंतर्राष्ट्रीय मार्किट में किताब की कीमत

लंदन 8 पाऊं

भारत 849/- (बाऊंड)
377/- (पेपर बाऊंड)
अमेरिका 18 डॉलर
कनाडा 16 डॉलर

सफाई नहीं हो रही, डस्टबिन भरा पड़ा है तो डायल करें 94683-88900

डबवाली (लहू की लौ) एसडीएम सतीश कुमार लोगों को स्वच्छता का संदेश दे रहे हैं। स्वयं झाडू लगाकर लोगों के लिये प्रेरणा बन रहे हैं। स्वच्छता के मामले में लोगों को शिकायत न रहे इसलिये डस्टबिन पर सीनेटरी इंस्पेक्टर अविनाश सिंगला का मोबाइल नं. 94683-88900 लिखवाया जा रहा है। ताकि लोग गंदगी से भरे डस्टबिन या फिर कूड़ा कर्कट को उठवाने के लिये सीधा सीनेटरी इंस्पेक्टर से संपर्क साधकर स्वच्छता की मुहिम को आगे बढ़ा सकें। अगर सीनेटरी इंस्पेक्टर शिकायत पर सुनवाई न करे तो आप सीधा एसडीएम सतीश कुमार के सरकारी मोबाइल नं. 98123-00903 पर शिकायत दर्ज करवा सकते हैं।

कुष्ठ आश्रम में चला सफाई अभियान
स्वच्छता अभियान जारी है। सोमवार को एसडीएम सतीश कुमार ने कुष्ठ आश्रम में सफाई अभियान चलाया। उनका साथ नप सचिव ऋषिकेश चौधरी, सीनेटरी इंस्पेक्टर तथा वियोगी हरि शर्मा ने दिया। इस मौके पर एसडीएम ने आश्रम में रह रहे कुष्ठ रोगियों को साफ-सफाई रखने का आह्वान किया। उनकी समस्याएं भी सुनी।

गंदगी का आलम
स्वच्छता अभियान के बावजूद शहर में विभिन्न जगहों पर गंदगी का आलम है। कई-कई दिन गंदगी का उठान नहीं होता। ऐसे में शहरवासियों को भारी दिक्कत आ रही है। गंदगी की वजह से रोग पनपने का भी खतरा बना हुआ है।


करीब डेढ़ साल पूर्व नगर परिषद ने शहर के डस्टबिन से कूड़ा एकत्रित करने के लिये रिफ्यूज कंपेक्टर खरीदा था। तब से वह कम्युनिटी हाल में खड़ा हुआ कबाड़ हो रहा है। शहर की स्वच्छता से जुड़े इस महत्वपूर्ण उपकरण की ओर प्रशासन का ध्यान नहीं जा रहा। डस्टबिन खाली करने में यहां नगर परिषद कर्मी घंटों लगा देते हैं, वहीं इस कंपेक्टर की सहायता से वहीं कार्य मिनटों में हो सकता है।

बूथ लेवल अधिकारियों की बैठक 26 को

डबवाली(लहू की लौ)आगामी 26 नवम्बर को उपमण्डल के सभी बूथ लेवल अधिकारियों की मीटिंग तहसील कार्यालय  में प्रात:  11 बजे और बाद दोपहर 2 बजे होनी निश्चित हुई है।
यह जानकारी देते हुए उपमण्डल अधिकारी (ना.) सतीश कुमार ने बताया कि इस प्रस्तावित मीटिंग में सभी बूथ लेवल अधिकारियों को नए वोट बनाना, नाम इत्यादि का शुद्धिकरण करना एवं वोटर लिस्ट से, जो स्थान छोड़ गये, जिन की मृत्यु हो गई इत्यदि वोटरों के नाम काटने बारे प्रशिक्षण दिया जाएगा। ये सभी बूथ लेवल अधिकारी 7 दिसम्बर व 14 दिसम्बर को अपने-अपने मतदान केन्द्र पर उपस्थित रहेंगे। 

सुबह बनाई, रात को गिराई



डबवाली (लहू की लौ) रेलवे बीकानेर मंडल की डीआरएम मंजू गुप्ता के आदेश पर रेलवे क्षेत्र में जा रहे मार्गों को बंद करने की कवायद शुरू हो गई है। इसी कड़ी में रविवार को सब्जी मंडी के नजदीक मार्ग को बंद कर दिया गया। लेकिन सोमवार सुबह ही बंद मार्ग खुला मिला। किसी असामाजिक तत्व ने रास्ता बंद करने के लिये लगाई गई ईंटें उखाड़ फेंकी। गौरतलब है कि कुछ समय पूर्व डीआरएम मंजू गुप्ता ने डबवाली रेलवे स्टेशन का दौरा किया था। इस दौरान उन्होंने रेलवे क्षेत्र में गंदगी के अंबार होने पर आपत्ति दर्ज की थी। स्टेशन अधीक्षक महेश सरीन ने गंदगी रेलवे बाऊंड्री पार से आने की बात कही थी। जिस पर डीआरएम ने बाजार से रेलवे स्टेशन की ओर आने वाले मार्गों को बंद करने के आदेश जारी किये थे। रविवार को जैसे ही आदेश सिरे चढऩे लगे तो असामाजिक तत्वों ने बनी बनाई दीवार को गिरा दिया। रेलवे के जेई अरूण कुमार से बातचीत की गई तो उन्होंने बताया कि वह फिलहाल आऊट ऑफ स्टेशन हैं, वापिसी पर मौका देखेंगे।

पेंटिंग में डीएवी ने मारी बाजी

डबवाली (लहू की लौ) एक्सिस बैंक ने पेटिंग के जरिये बैंक की जानकारी देने के लिए राजा राम वरिष्ठ कन्या विद्यालय में शाखा प्रबधंक अंकित गर्ग की अध्यक्षता में रविवार को बच्चों में पेटिंग कम्पीटिशन (स्पैशल) करवाया। जिसमें 12 विद्यालयों के 120 विद्यार्थियों ने भाग लेकर अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया।
ये रहे विजेता
प्रतियोगिता टीम के सदस्य संदीप गोयल, मुकेश सचदेवा, राजेश कुमार, रीतू मलिक, खुशमीन कौर तथा भारतभूषण ने बताया कि कार्यक्रम में ऑप्रेशन हैड अनिल सेठी, ब्रांच सैल मैनेजर प्रवीण सिंगला भी शामिल हुए। प्रतियोगिता में विषय इंडियन इन, वल्र्ड पीस तथा मिशन मार्स थे। उनके अनुसार प्रयिोगिता में डीएवी स्कूल के विशाल, सविता तथा हरियाणा पब्लिक स्कूल की नम्रता क्रमश: प्रथम, द्वितीय तथा तृतीय रहे।

अभय सिंह इनेलो की हार का ठीकरा दूसरों पर न फोड़े-शर्मा

डबवाली (लहू की लौ) डबवाली विधानसभा सीट पर चुनाव लड़े वरिष्ठ भाजपा नेता देव कुमार शर्मा ने ऐलनाबाद के विधायक अभय सिंह चौटाला के उस बयान की निंदा की है जिसमें उन्होंने कहा कि उन्हें डेरा सच्चा सौदा के बाबा ने हरवाया है व अब भाजपा भी उसे बचा नहीं पाएगी। शर्मा ने कहा कि डेरा सच्चा सौदा के संत गुरमीत राम रहीम सिंह इंसां के खिलाफ इस तरह की भाषा का प्रयोग करते हुए उन्हें चैलेंज करना ठीक नही है। इस प्रकार की बातों से इनेलो नेताओं का अहंकार नजर आता है। वास्तव में इनेलो अपनी गलत नीतियों व कुशासन के कारण विधानसभा चुनावों में पराजित हुई है और इन्हीं वजहों के कारण हरियाणा की जनता ने इनेलो को नकार दिया है। 
 उन्होंने कहा कि अभय सिंह चौटाला को दूसरों पर आरोप लगाने की बजाय अपने गिरेबान में झांक कर अपनी कमियों को दूर करना चाहिए। इनेलो के लोग बार-बार हार कर भी सबक लेने की बजाए हार का ठीकरा दूसरों पर फोडऩे का प्रयास करते हैं। देव कुमार शर्मा ने कहा कि सभी को अपने पसंद के उम्मीदवार को वोट डालने का अधिकार है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अच्छे काम को देखते हुए अगर डेरा सच्चा सौदा श्रद्धालुओं ने भाजपा उम्मीदवारों को वोट दिए हैं तो कोई गलत काम नहीं किया है। इससे अभय सिंह चौटाला को तिलमिलाना नहीं चाहिए।

छात्रों ने दी शहीदों का श्रद्धांजलि

डबवाली (लहू की लौ) एनसीसी सप्ताह के छटे दिन राजा राम कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय के एनसीसी एयरविंग कैडिट तथा विद्यार्थियों ने हुस्सैनी वाला बार्डर पर रिट्रीट सैरेमनी को देखा। इससे पूर्व विद्यार्थियों ने वतन के अमर शहीदों भगत सिंह, राजगुरू, सुखदेव की समाधियों पर जाकर श्रद्धांजलि दी। विद्यालय प्रधानाचार्य प्रवीण गौड़ ने हरी झण्डी दिखाकर विद्यार्थियों को हुसैनीवाला की ओर रवाना किया था। इस भ्रमण का नेतृत्व एयरविंग अधिकारी सत्यपाल जोशी, अध्यापिका राधा,आशा, कमलेश तथा घनश्याम कर रहे थे।

ग्रामीण खेल प्रतियोगिता में रूकमणि चौथी बार प्रथम


डबवाली (लहू की लौ) सोमवार को महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा खंड डबवाली की ग्रामीण आंचल महिलाओं की खेलकूद प्रतियोगिता  गुरू गोबिंद सिंह खेल स्टेडियम में आयोजित की गई। जिसमें ग्रामीण महिलाओं ने बढ़चढ़ कर भाग लिया। 

वरिष्ठ चिकित्सा अधिकारी महेन्द्र सिंह भादू ने कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए कहा कि  पूरे परिवार का दारोमदार महिलाओं पर निर्भर करता है यदि महिलाएं स्वस्थ होंगी तभी परिवार को पालन पोषण भली-भांति कर पाएंगी। खेलों एवं व्ययाम से शरीर में प्रतिरोधक क्षमता पैदा होती है जोकि रोगों से लड़कर शरीर को निरोग रखने में सहायक होती है। इसलिए महिलाओं को दैनिक क्रिया-कलापों से समय निकालकर अपने स्वास्थ्य के प्रति सजग रहना चाहिए। उन्होंने अबूबशहर की रूकमणी को विशेष तौर से ग्रामीण खेल प्रतियोगिता में चौथी बार प्रथम स्थान प्राप्त करने पर बधाई दी।
महिला एवं बाल विकास अधिकारी सरोज कंबोज ने आए हुए मुख्यातिथि को धन्यावाद किया। उन्होंने कहा कि गर्भवती महिलाएं खुराक का विशेष ध्यान रखें। जिला में 70 प्रतिशत महिलाओं में खून की कमी पाई गई है। इसलिए महिलाओं को अपनी सेहत का ध्यान रखते हुए हरी सब्जियां आंवला इत्यादि का भरपूर सेवन करना चाहिए। उन्होंने कहा कि सभी बच्चियों को शिक्षा दिलवाए जिससे आगे चलकर वह दो घरों का नाम रोशन कर सके। 
खेलकूद की प्रतियोगिता की मटका रेस (30 वर्ष आयुवर्ग से अधिक) में गांव अबूबशहर की रूकमणी देवी प्रथम, अबूबशहर की ही सुनीता द्वितीय और गोरीवाला की मंजू तृतीय रही। इसी प्रकार 100 मीटर (30 वर्ष आयुवर्ग से अधिक) में चौटाला की प्रीतपाल प्रथम, बनवाला की सरला द्वितीय और तृतीय स्थान पर चौटाला की रूकमणी रही। 400 मीटर रेस (18 से 30 वर्ष आयुवर्ग) में मटदादू की माया प्रथम, मटदादू की ही राजवीर द्वितीय और तृतीय स्थान पर लंबी की अमरजीत रही।
इसी प्रकार साईकिल रेस (18 से 30 वर्ष आयुवर्ग) गोरीवाला की सलोचना प्रथम, देसूजोधा की बैअंत कौर द्वितीय एवं निलियांवाली की कुलविन्द्र कौर तीसरे स्थान पर रही। पटेटो रेस (30 वर्ष आयु वर्ग से अधिक) में गोरीवाला की अंजना प्रथम, कविता द्वितीय स्थान पर रही। तीसरा स्थान लंबी की वीरपाल कौर ने पाया। इसी प्रकार 300 मीटर रेस (18 से 30 वर्ष आयुवर्ग) में मटदादू की संदीप कौर प्रथम, शेरगढ़ की रमनदीप कौर द्वितीय और देसूजोधा की मीनाक्षी तृतीय स्थान पर रही। खेलकूद प्रतियोगिता में प्रथम स्थान प्राप्त करने पर 500 रूपये, द्वितीय को 300 व तृतीय को 200 रूपये का पुरस्कार दिया गया।
इस अवसर पर करमजीत कौर, सुखन्द्रि कौर,  स्वर्णकांता,  सेव कौर, सतिन्द्र कौर, स्टेडियम इंचार्ज सुरजीत सिंह सहित गांवों की महिलाएं उपस्थित थी।

सरकार कर्मचारियों की रिटायरमैंट की उम्र में बदलाव न करे

डबवाली (लहू की लौ) कर्मचारियों की रिटायरमेंट की उम्र बार-बार बदले जाने के सरकारों के निर्णय से कर्मचारी वर्ग में रोष है। एक सरकार रिटायरमेंट की उम्र 58 या 60 वर्ष करती है तो दूसरी सरकार आकर उसे बदल देती है। सरकार की यह नीति ठीक नही है।
सामाजिक कार्यकर्ता हरदेव कुमार  ने कहा कि पूर्ववर्ती हुड्डा सरकार ने कर्मचारियों की रिटायरमेंट की उम्र 58 साल से बढ़ाकर 60 साल की थी लेकिन अब खट्टर सरकार इसे दोबारा 58 साल करना चाहती है। सरकार को इस पर पुनर्विचार करना चाहिए। सरकार इसे राजनीतिक मुद्दा न बनाकर कर्मचारियों के साथ अन्याय न करे।
उन्होंने मांग की कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर एक आम आदमी की तरह विचार कर निर्णय लें। पंजाब की तर्ज पर कुछ शर्तें लगाकर इसे लागू कर देना चाहिए जैसे इंक्रीमेंट नहीं लगेगा अथवा प्रमोशन नहीं की जाएगी। वैसे भी पंजाब तथा राजस्थान में भाजपा की सरकारें हैं और वहां भी रिटायरमेंट की उम्र 60 साल है। अब भाजपा सरकार को हरियाणा में भी उसी तर्ज पर रिटायरमेंट की उम्र 60 साल रखनी चाहिए। उन्होंने कहा कि रिटायरमेंट की उम्र 60 साल होने से जो कर्मचारी लाभान्वित होंगे वह सरकार के आभारी रहेंगे।

मां-बाप ज्योतिषी के पास, मासूम सड़क पर

डबवाली (लहू की लौ) रविवार को अपनी कार्य सिद्धी के लिये शहर के एक ज्योतिषी के पास आया परिवार अपने क्लेजे के टुकड़े को भूला बैठा। अपनों से बिछुड़कर चौटाला रोड़ पर रोता बिलखता आया यह बच्चा वाहनों की चपेट में आता-आता बच्चा। कुछ युवकों की नजर बच्चे पर पड़ी। उन्होंने उसे संभाला। बाद में मां-बाप की तालाश कर उन्हें लौटा दिया।
रविवार को बठिंडा से एक परिवार चौटाला रोड़ पर रह रहे ज्योतिषी रमेश सचदेवा के पास आया था। अपने कार्य को निपटाने में लगे परिवार ने बच्चे की ओर ध्यान नहीं दिया। बच्चा गली में आ गया और चौटाला रोड़ पर जा पहुंचा। इसी दौरान अस्पताल की ओर जा रही एक गाड़ी के नीचे आने से बच्चा बाल-बाल बच गया। गाड़ी में सवार जयदीप चौटाला, प्रवीण शर्मा, सोनू शर्मा, दीपांशु सोनी, विक्की ने बच्चे को संभाला। उन्होंने बच्चे के परिजनों की खोज शुरू करते हुये गलियों में अपने मोबाइल नंबर वितरित किये। प्रवीण शर्मा ने बताया कि अगर वे बच्चे को न संभालते तो बच्चे के साथ दुर्घटना घट सकती थी। बाद में बच्चे के परिजन उनके पास आये। जोकि ज्योतिषी रमेश सचदेवा के पास आये हुये थे। उन्होंने ज्योतिषी के घर पहुंचकर बच्चे को लौटा दिया।

कौमी एकता सप्ताह आयोजित

डबवाली (लहू की लौ) सोमवार को भगवान श्री कृष्ण कॉलेज ऑफ एजुकेशन में कौमी एकता सप्ताह के सन्दर्भ में यूथ रैडक्रास कमेटी की प्रभारी सुशीला हुड्डा के निर्देशन में साम्प्रादियक सद्भावना विषय पर पोस्टर मेकिंग प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ  प्रिंसीपल डॉ. पूनम गुप्ता ने किया।
प्रतियोगिता में कुमारी प्रियंका जिन्दल प्रथम, कुमारी कोमल  व मनीषा ने क्रमश: द्वितीय और तृतीय रहें। निर्णायक की भूमिका प्राचार्य डॉ. पूनम गुप्ता, डॉ. बिमल ढाका ने निभाई।

25 Nov. 2014