युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

21 जनवरी 2010

जम्मू-कश्मीर में प्रीपेड मोबाइल पर से रोक हटी

नई दिल्ली। केन्द्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर में प्रीपेड मोबाइल फोन सेवा पर ढाई माह से लागू पाबंदी आज हटा ली। केन्द्र का आदेश तत्काल लागू हो गया है और ग्राहकों की जांच के लिए कड़े नियम लागू कर दिए गए हैं। सरकारी सूत्रों ने बताया कि केन्द्र ने राज्य के ३८ लाख प्रीपेड मोबाइल फोनधारकों की जांच के लिए पुख्ता योजना तैयार कर ली है। इसी के मद्देनजर प्रतिबंध हटाने का फैसला किया गया है। केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने पिछले साल पहली नवंबर से प्रदेश में प्रीपेड सेवा पर रोक लगा दी थी।
गृह मंत्री पी. चिदंबरम ने हाल में कहा था कि यदि सेवाप्रदाता ग्राहकों की पहचान और जांच के लिए सौ फीसदी फूलप्रूफ योजना पेश करते हैं और मंत्रालय इससे संतुष्ट हो जाता है तो प्रतिबंध को वापस ले लिया जाएगा। जम्मू-कश्मीर सरकार और स्वयं मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला केन्द के साथ इस मसले पर बातचीत कर रह थे। मुख्यमंत्री ने केन्द्र से इस मसले को जल्द से जल्द हल करने का आग्रह किया था। राज्य सरकार दूरसंचार आपरेटरों के लिए ऐसी नीति के पक्ष में थी, जिसमें ग्राहकों की जांच का काम पूरा नहीं करने वाली कंपनियों पर वित्तीय जुर्माना लगाने के साथ-साथ कड़ी कार्रवाई की जा सके।

अब महिला हॉकी टीम को भी 'शिव' ने दिया सहारा

भोपाल। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कुछ दिनों पहले हॉकी इंडिया के खिलाडि़यों को आर्थिक सहायता देने के ऐलान के बाद देश में हॉकी इंडिया पर भी मंडरा रहे आर्थिक तंगी के चतले सहारा देंगे। श्री चौहान ने देश की पुरुष हॉकी टीम की तरह ही महिला हॉकी टीम को भी आर्थिक सहायता देने का गुरुवार को यहां ऐलान किया। इसके लिए वह दिल्ली में खेल मंत्री से भी चर्चा करेंगे। हालांकि उन्होंने कहाकि यह सहायता केंद्र सरकार के पास जाएगी।
उल्लेखनीय है कि पुरुष हॉकी खिलाडियों की पैसों की मांग पूरी होने के बाद महिला हॉकी खिलाडियों ने हॉकी इंडिया से पैसों की मांग कर डाली है। हालांकि महिला हॉकी के खिलाडि़यों ने पुरुष हॉकी के खिला$िडयों की तरह न तो हड़ताल की और न ही ह$डताल की चेतावनी दी, पर इतना जरूर किया, जिससे उनकी बात शासन-प्रशासन तक पहुंच जाए और उनकी प्रेक्टिस भी प्रभावित न हो। किन्तु इतना जरूर है कि उन्होंने इसके लिए एक अलग रास्ता अख्तियार किया, जिसके तहत जब तक उनकी मांग पूरी नहीं होती वह विरोध स्वरूप बांह पर काली पट्टी बांधकर खेलेंगीं। हालांकि इस मांग के माने जाने पर वह हड़ताल पर जाने की घोषणा करेंगी।
महिला हॉकी इंडिया की खिलाडि़यों ने बुधवार को गांधीगिरी के रूप में भोपाल स्थित सिंडीकेट बैंक में एक खाता (७७०५२०१०००२९७०-टीटीनगर ब्रांच) भी खुलवाया है, जिसके माध्यम से गरीब हॉकी खिला$िडयों की मदद की जाएगी। यह खाता कप्तान सुरिंदर कौर, ममता खरब, दीपिका मूर्ति और सुभद्रा प्रधान के नाम पर संयुक्त रूप से खुला है। इस दौरान हॉकी इंडिया की महिला खिलाडि़यों ने पुरुष खिलाडि़यों के समान ही फीस व अन्य भत्तों की मांग की, लेकिन वहां से जवाब मिला कि हमने सारा पैसा पुरुष खिला$िडयों पर खर्च कर दिया है। अभी आपके लिए कुछ नहीं हो सकता। इसके बाद महिला हॉकी खिलाडि़यों ने आपस में विचार विमर्श कर यह फैसला लिया है कि हम अपनी गरीब साथी खिलाडियों की मदद खुद करेंगी। उल्लेखनीय है कि भारतीय महिला हॉकी खिलाडी इन दिनों भोपाल के साई रीजनल सेंटर पर नेशनल कैम्प में हिस्सा ले रही हैं। यह कैम्प सात फरवरी तक चलेगा। इसमें देशभर की शीर्ष ३८ खिला$डी शामिल हैं। सात फरवरी के बाद दस दिन का विश्राम है। फिर खिला$डी भोपाल में १४ फरवरी को एकत्र होंगी और जापान टूर के लिए अभ्यास करेंगी। वैसे भी कामनवेल्थ गेम्स तक भारतीय महिला हाकी खिलाडि़यों का नेशनल कैंप भोपाल को आबंटित है।

स्वर्ण जयंती एक्सप्रेस में डकैती

इटारसी। त्रिवेंद्रम से हजरत निजामुद्दीन जाने वाली स्वर्ण जयंती एक्सप्रेस में आज डकैती से हडकंप मच गया। इस दौरान डकैतों ने करीब दो घंटे से ज्यादा समय तक लूटपाट की, जिसके बाद जीआरपी के होश उड़ गए। अभी मामले की जांच जारी है।
जानकारी अनुसार नागपुर से तकरीबन रात साढ़े १२ बजे लगभग ८ नकाबपोश बदमाश जनरल कोच में चढ़ गए और स्वर्ण जयंती एक्सप्रेस के स्टेशन से छूटते ही लूटपाट शुरू कर दी। करीब ढाई घंटे चली इस लूटपाट में डकैतों ने यात्रियों से नकदी के साथ ही सोने-चांदी के जेवरात सहित मोबाइल फोन भी लूट लिए। बताया जाता है कि टी गांव के पास अक्सर गाडि़यां काफी स्लो हो जाती हैं, जिसका फायदा उठाकर यह नकाबपोश बदमाश अपने मकसद में कामयाब होने के बाद यहीं पर गा$डी से उतर गए। घटना के बाद पूरी तरह लुट चुके यात्रियों ने बैतूल स्टेशन पर जमकर हंगामा मंचाया, जिस पर जीआरपी ने मामले की गंभीरता को देखते हुए प्रकरण पंजीबद्घ किया।

लंगर तैयार करते आग भड़की

डबवाली (लहू की लौ) दु:खहरण अंजनी माता मन्दिर, मण्डी किलियांवाली में बुधवार को लंगर तैयार करते समय गैस सिलेण्डर की पाईप लीक हो जाने से अचानक आग भड़क उठी। जिससे शंकर नामक हलवाई घायल हो गया।
प्राप्त जानकारी अनुसार दु:ख हरण अंजनी माता मन्दिर में आज गणेश और श्री अंजनी माता की मूर्ति स्थापना का कार्य सम्पन्न हो चुका था और इस मौके पर श्रद्धालुओं के लिए लंगर तैयार किया जा रहा था। लंगर तैयार करते समय भट्ठी के साथ जो गैस सिलेण्डर लगा हुआ था। उसकी पाईप अचानक लीक कर उठी और देखते-ही-देखते सिलेण्डर को आग ने अपने आगोश में ले लिया। बचाव करते हुए हलवाई शंकर का बाजू आग से झुलस गया और उसे गंभीर हालत में प्राईवेट अस्पताल में लेजाया गया। पता चला है कि मौका पर पहुंची फायर ब्रिगेड ने आग पर काबू पाया।

ललित मोदी ने मेरे फोन का जवाब नहीं दिया पीसीबी चीफ

लाहौर। पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) के अध्यक्ष एजाज बट्टा मंगलवार को मुंबई में आईपीएल-३ के लिए हुई नीलामी में अपने देश के किसी खिलाड़ी के लिए बोली नहीं लगने से खासे नाराज हैं।
जियो न्यूज के मुताबिक बट्टा ने आईपीएल आयोजकों और फ्रेंचाइजी टीमों के मालिकों के इस कदम की आलोचना की और इस संबंध में आईपीएल कमिश्नर ललित मोदी से बात करने की कोशिश की लेकिन उनके मुताबिक मोदी ने उनके फोन कॉल का जवाब ही नहीं दिया। लाहौर में मीडिया से मुखातिब बट्टा ने कहा, हमारे ११ खिलाड़ी नीलामी के लिए मैदान में थे लेकिन किसी के लिए बोली नहीं लगी। यह बेहद दुखदाई पक्ष है। मैं इसे लेकर बहुत नाराज हूं। मैंने खेल मंत्री से अनुरोध किया है कि वह इस संबंध में भारत के खेल मंत्री से बात करें। बट्टा ने कहा कि उन्होंने कई बार मोदी से संपर्क साधने की कोशिश की लेकिन मोदी ने एक बार भी उनके फोन कॉल का जवाब देना उचित नहीं समझा। बकौल बट्टा, यह बहुत निराशाजनक पहलू है। मैं मोदी से इसका कारण जानना चाहता था लेकिन उन्होंने मुझसे बात नहीं की। गौरतलब है कि मंगलवार को मुंबई के ट्राइडेंट होटल में हुई नीलामी में पाकिस्तान के किसी भी खिलाड़ी के लिए बोली नहीं लगाई गई। तीसरे सेशन के लिए मौजूदा ट्वेंटी-२० विश्व चौम्पियन पाकिस्तानी टीम के कुल ११ खिलाड़ी मैदान में थे लेकिन आठ में से एक भी फ्रेंचाइजी टीम ने उन्हें अपने साथ जोडऩे की इच्छा नहीं जाहिर की। यहां तक की ट्वेंटी-२० टीम के कप्तान शाहिद अफरीदी को भी खरीददार नहीं मिला।

बच्चे व युवा ज्यादा आते हैं स्वाइन फ्लू के चपेट में

नई दिल्ली। देश में स्वाइन फ्लू वायरस का संक्रमण जारी है। इस संबंध में किए गये एक ताजा सरकारी अध्ययन से यह बात सामने आयी है कि इस रोग के वायरस अन्य आयु के लोगों की अपेक्षा बच्चों और युवाओं को अधिक चपेट में ले रहे हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा स्वाइन फ्लू के संबंध में किए गये एक ताजा अध्ययन की रिपोर्ट के अनुसार गत वर्ष ११ मई से २० दिसंबर तक स्वाइन फ्लू की जांच के लिए मान्यता प्राप्त प्रयोगशालाओं की पुष्टि के २४ हजार २४२ मामलों को लिंग-आयु के आधार पर विभाजित किया तो यह बात सामने आयी कि इन पुष्टि के मामलों में सबसे अधिक संख्या ८५०१ पांच से १९ साल के युवावर्ग की थी। इनमें युवकों की संख्या ५०१६ और युवतियों की संख्या ३४८५ थी। इसके बाद दूसरा स्थान २० से ३९ साल के लोगों का था जिनकी संख्या ६८९० थी जिसमें, पुरुषों की संख्या ४१११ और महिलाओं की संख्या २७७९ थी। तीसरा स्थान ४० से ५९ साल के लोगों का था जिनकी संख्या २११८ थी जिसमें पुरुषों की संख्या १२०५ और महिलाओं की संख्या ९१३ थी। चौथा स्थान पांच साल से कम आयु के बच्चों का था जिनकी संख्या १६७६ थी जिसमें लड़के ९६९ और लड़कियां ७०७ थी, जबकि सबसे कम संख्या ६० से ऊपर आयु के लोगों की थी। यह संख्या ३५५ थी जिसमें पुरुषों की संख्या २१६ और महिलाओं की संख्या १३९ थी। रिपोर्ट के अनुसार देश में गतवर्ष २० दिसंबर तक एक लाख तीन हजार ७८० संदिग्ध रोगियों की जांच की गयी जिसमें से केवल २३ प्रतिशत यानी २३ हजार ७२७ मामलों में पुष्टि हुई और ७७ प्रतिशत यानी ८० हजार ५३ मामले नकारात्मक पाए गये। इस रोग से पीडि़त तीन प्रतिशत २८२ रोगियों की मौत हुई ओर ९७ प्रतिशत यानी २२ हजार ९४५ रोगियों को विभिन्न अस्पतालों में इलाज के बाद ठीक हो गये या उनका सुधार है।
देश में स्वाइन फ्लू का पहला मामला मई के दूसरे सप्ताह में आया था। उसके बाद से प्रत्येक एक सप्ताह में दर्ज किए गये इसके मामलों में भारी उतार चढाव आता रहा। ११ से १७ मई तक के सप्ताह में मामलों की संख्या केवल एक थी। उसके कुछ समय बाद २४-३० अगस्त तक के सप्ताह में यह संख्या बढ़कर एक हजार १५९ हो गई लेकिन अचानक ३१ अगस्त से ६ सितंबर के सप्ताह यह संख्या ८८५ हो गयी। उसके बाद यह तेजी से बढ़ी और १४-२० सितंबर के सप्ताह में बढ़कर एक हजार ७२० हो गई। इसी प्रकार फिर मामलों में तेजी से गिरावट आई और १९-२५ अक्टूबर तक के सप्ताह में ५३३ हो गयी जो ७-१३ दिसंबर तक के सप्ताह में बढ़कर २ हजार ९६ हो गई और १४-२० दिसंबर तक के सप्ताह में १९८१ हो गयी। अध्ययन के दौरान स्वाइन फ्लू के कुल मामलों में से ५००२ मामलों का चिकित्सीय परीक्षण किया गया तो उनमें फेब्रीली समूह के ४९४७ मामले सामने आये। जिनमें केवल बुखार और सांस लेने की कठिनाई महसूस होने वाले रोगियों की संख्या ३४४ यानी ७ प्रतिशत, बुखार और सर्दी लगने वाले रोगियों की संख्या ३२६ यानी ७ प्रतिशत, बुखार और खांसी एक साथ की संख्या ४००९ यानी ८४ प्रतिशत और केवल बुखार वालों की संख्या ७० यानी एक प्रतिशत पाई गयी। इसी प्रकार एफेब्रीली समूह में रोगियों की संख्या ३५३ सामने आयी इनमें खांसी और गला खराब वाले रोगियों की संख्या १५४ यानी ६१ प्रतिशत, केवल खांसी वाले रोगियों की संख्या ९३ यानी ३७ प्रतिशत और उल्टी आ रहे रोगियों की संख्या ६ यानी दो प्रतिशत पाई गयी।
सर्वेक्षण के दौरान देश के ९ प्रमुख शहरों में २१ नवंबर से २० दिसंबर तक की अवधि के दौरान स्वाइन फ्लू के ५७५१ मामले सामने आये। जिसमें सबसे अधिक ३४४८ मामले यानी १४-७ प्रतिशत दिल्ली में आये उसके बाद जयपुर में ६५८ यानी २-८ प्रतिशत, पुणे ४४७ यानी १-९ प्रतिशत, नोएडा २७४ यानी १-२ प्रतिशत, चेन्नई २२३ यानी एक प्रतिशत, गुडगांव २२१ यानी ०-९ प्रतिशत, बेंगलुरू २२० यानी ०-९ प्रतिशत, गाजियाबाद १४९ यानी १४९ यानी ०-६ प्रतिशत और चंडीगढ १११ यानी ०-५ प्रतिशत मामले सामने आये।

पवार ने कहा, बढ़ेंगे दूध के दाम

नई दिल्ली। महंगाई से त्रस्त आम आदमी को जल्द ही एक और झटका लगने वाला है। सूत्रों के मुताबिक देश में चीनी और दालों की कीमतों के आसमान छूने के बाद जल्द ही दूध की कीमतें भी बढऩे वाली हैं। केन्र्दीय कृषि मंत्री शरद पवार ने आज एक और चौंकाने वाला बयान देकर दूध की कीमतों को बढ़ाने के संकेत दे दिए हैं। पवार का कहना है कि देश में दूध की जबर्दस्त किल्लत हो रही है। जिसके मद्देनजर सरकार पर दूध का दाम बढ़ाने पर दबाव बनाया जा रहा है। पवार के मुताबिक खासकर उत्तर भारत में पिछले कई सालों से दूध के उत्पादन में कोई बढ़ोतरी नहीं हुई है जबकि मांग दिनोंदिन बढ़ती जा रही है। दूध की सबसे ज्यादा कमी उत्तर भारत में ही हो रही है। उन्होंने चीनी के बाद दूध के दामों में भी बढ़ोतरी कर जनता पर एक और भार डालने का संकेत दिया है।