युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

05 मार्च 2011

सीबीआई जांच की मांग


गुरदेव कौर हत्या मामले ने तूल पकड़ा, गांव में पुलिस फोर्स तैनात
डबवाली (लहू की लौ) गांव सांवतखेड़ा में 11 फरवरी को 73 साल की वृद्धा गुरदेव कौर की हत्या का मामला तूल पकड़ गया है। हत्या के आरोप में पकड़े गए युवक के परिजनों ने युवक को मामले में झूठा फंसाए जाने का आरोप पुलिस पर लगाया है। वहीं मामले की जांच सीबीआई से करवाए जाने की मांग भी उठने लगी है। उधर आरोपी परिवार के बहिष्कार करने की अफवाह के चलते गांव में पुलिस फोर्स तैनात कर दी गई है।
11 फरवरी को गांव सांवतखेड़ा में गुरदेव कौर (73) की हत्या कर दी गई थी। उसका शव सरसों के खेत में आपत्तिजनक हालत में मिला था। वृद्धा की हत्या के आरोप में पुलिस ने गांव के ही गुरदीप उर्फ बोला उर्फ निक्का को काबू किया था। लेकिन गुरूवार शाम को आरोपी के परिवार का सामाजिक बहिष्कार करने की अफवाह ने बवाल खड़ा कर दिया। इस अफवाह ने पुलिस के भी हाथ-पांव फूला दिए। किसी भी अनहोनी से निपटने के लिए शुक्रवार सुबह ही भारी संख्या में पुलिस दलबल गांव में पहुंच गया।
एक दलित परिवार के सामाजिक बहिष्कार की अफवाह की सूचना पाकर इंडियन बहुजन संदेश पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष करनैल सिंह औढ़ां पीडि़त परिवार के घर पहुंचे। यहां पत्रकारों से बातचीत करते हुए करनैल सिंह औढ़ां ने कहा कि देश के संविधान में किसी भी जाति विशेष का बहिष्कार करने का किसी को अधिकार नहीं है। अगर कोई ऐसा करता है, तो उसके विरूद्ध भारतीय दण्ड संहिता के तहत कार्रवाई अमल में लाई जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि वृद्धा की हत्या का अपराधी पकड़ा जाना चाहिए। लेकिन किसी बेकसूर को पकडऩा न्याय संगत नहीं है। उन्होंने इस मामले की सीबीआई जांच करवाए जाने की मांग की।
इधर हत्या के आरोप में पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए गुरदीप उर्फ बोला उर्फ निक्का के पिता बंता सिंह, माता तेज कौर, भाई जगसीर सिंह, पत्नी हरजिन्द्र कौर तथा बहन कर्मजीत कौर ने गुरदीप को निर्दोष बताते हुए कहा कि उसे गांव के सरपंच रणजीत सिंह ने रंजिश के चलते झूठा फंसाया है। उन्होंने पुलिस पर भी आरोप लगाया कि पुलिस ने बिना जांच किए गुरदीप उर्फ बोला को प्रताडि़त किया और फंसाया। उन्होंने यह भी बताया कि गुरदीप सिंह ने कभी भी वृद्धा के परिवार में नौकरी नहीं की। जबकि पुलिस गुरदीप को मृतका के परिवार का नौकर बता रही है।
गांव के सरपंच रणजीत सिंह ने निक्का के परिवार द्वारा लगाए गए आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि इस मामले में उसका कोई हस्तक्षेप नहीं है। पुलिस ने अपनी जांच के बाद ही वृद्धा की हत्या का आरोपी निक्का को पाया। उसने यह भी कहा कि उसकी निक्का से कोई पुरानी रंजिश नहीं है। सरपंच ने निक्का के परिवार के बहिष्कार को झूठी अफवाह करार देते हुए कहा कि इस संबंध में कहीं भी मुनादी नहीं हुई है और न ही पंचायत ने इस संदर्भ में कोई प्रस्ताव पारित किया है।
मृतक वृद्धा के भाई जय सिंह ने कहा कि उनके घर पर गुरूवार को किसी तरह की कोई महापंचायत नहीं हुई। बल्कि बहिष्कार का शगूफा शरारती तत्वों की कपोल कल्पना है। किसी ने भी गांव में किसी परिवार का कोई बहिष्कार नहीं किया। हत्या के आरोप में पकड़े गए गुरदीप उर्फ निक्का के परिवार से उनकी कोई रंजिश नहीं है और न ही उनके परिवार का कोई व्यक्ति उनके पास नौकरी करता रहा है। उसकी बहन गुरदेव कौर की हत्या की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए और हत्यारा पकड़ा जाना चाहिए। इसके लिए सरकार सीबीआई की जांच करवाए।
एसपी सिरसा सत्येंद्र गुप्ता ने बताया कि एतिहात के तौर पर गांव सांवतखेड़ा में फोर्स तैनात की गई है। ताकि असामाजिक तत्व अफवाह फैलाकर गांव का माहौल न बिगाड़ें।

ससुरालियों के लालच ने ली कर्मजीत की जान


डबवाली (लहू की लौ)  जमीन के लालच में पति, देवर और सास ने मिलकर एक विवाहिता की जान ले ली। पुलिस ने मृतका के भाई की शिकायत पर आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज करके आगामी कार्यवाही शुरू कर दी है।
गांव घुकांवाली के जगसीर सिंह (35) पुत्र बारू सिंह ने बताया कि वर्ष 2000 में उसकी छोटी बहन कर्मजीत कौर की शादी गांव लोहगढ़ में जगपाल सिंह पुत्र गुरचरण सिंह के साथ हुई थी। शादी में हैसियत से बढ़कर उन्होंने अपनी बहन को दान-दहेज दिया था। इस दौरान कर्मजीत कौर के बेटा हुआ। जिसका नाम अर्शदीप है। अब उसकी आयु करीब 9 साल है। गुरूवार शाम को गांव लोहगढ़ के बलविंद्र सिंह पटवारी ने उसे सूचना दी कि कर्मजीत कौर की मौत हो गई है। उसे डबवाली के सरकारी अस्पताल में रखा गया है। इसकी सूचना पाकर वह मौका पर पहुंचा। उसने देखा कि उसकी बहन के गले पर निशान हैं और मुंह से खून की लार बह रही है। उसकी बहन को मरने के लिए मजबूर किया गया है या फिर उसे मारा गया है। उसके अनुसार उसकी तीन अन्य बहनें भी हैं। वीरां और रानी उससे बड़ी हैं जबकि कर्मजीत कौर उससे छोटी थी और जसप्रीत कौर भी उससे छोटी है। उनके पास कुल 26 किल्ले जमीन है। 7 माह पूर्व उसके पिता बारू सिंह की मौत हो गई थी। इसके बाद जमीन को 6 हिस्सों में बांट दिया गया। उसकी चारों बहनों ने अपने हिस्से की जमीन उसे देना तय कर लिया। तीन माह पूर्व उन्होंने अपनी जमीन उसके नाम करवा दी।
कर्मजीत कौर का पति जगपाल सिंह पुत्र गुरचरण सिंह, देवर बग्गा सिंह तथा सास हरबन्स कौर को यह बात बर्दाश्त नहीं हुई और वह लोग उससे ज्यादा मारपीट करने लगे। वे चाहते थे कि कर्मजीत कौर के हिस्से आने वाली करीब 4 एकड़ जमीन जगसीर सिंह के नाम न करके  उनके नाम कर दी जाये। इसको लेकर उसकी बहन कर्मजीत कौर के ससुराली उसे परेशान करते थे। 10 दिन पूर्व उसकी बहन का फोन उसके पास आया और वह कहने लगी कि जमीन उनके नाम न करवाये जाने पर उसके ससुराली उसे मारने की धमकी दे रहे हैं और परेशान कर रहे हैं। बहन का फोन आने वह गांव के ही बलदेव सिंह, गुरसेवक सिंह, मनजीत सिंह के साथ लोहगढ़ गया और उन्हें समझाया, साथ में दो लाख रूपये देकर उन्हें कहा कि इसके बाद वे उसकी बहन को तंग व परेशान न करें।
सरकारी अस्पताल डबवाली के डॉक्टर एमके भादू ने बताया कि अस्पताल में वीरवार रात को लगभग 8.30 बजे कर्मजीत कौर को मृत अवस्था में लाया गया था। उसके गले पर रस्सी का निशान था। शुक्रवार को चौटाला पुलिस चौकी की कार्यवाही के बाद उन्होंने अपने साथी डॉ. बलेश बांसल के  साथ शव का पोस्टमार्टम करना था। लेकिन लड़की पक्ष के लोग पोस्टमार्टम सिरसा में करवाना चाहते थे। इसलिए लाश को पोस्टमार्टम के लिए सिरसा रैफर कर दिया गया।  थाना सदर पुलिस प्रभारी उपनिरीक्षक रतन सिंह ने बताया कि जगसीर सिंह निवासी घुकांवाली के ब्यान पर उसकी बहन कर्मजीत कौर को मरने के लिए मजबूर करने के आरोप में गांव लोहगढ़ के जगपाल सिंह, बग्घा सिंह तथा हरबन्स कौर के खिलाफ धारा 306/34 आईपीसी के तहत केस दर्ज करके लाश का पोस्टमार्टम सिरसा के सिविल अस्पताल से करवाने के बाद बिसरे को जांच के लिए प्रयोगशाला मधुबन भेज दिया गया है। मामले की जांच चौटाला पुलिस चौकी प्रभारी एसआई जीत सिंह कर रहे हैं।

फिल्मों में प्रवेश करने के लिए मॉडलिंग इजी-वे


डबवाली (लहू की लौ) मॉडलिंग फिल्मों में प्रवेश करने का इजी वे है। लेकिन मेहनत और लगन के बिना मॉडलिंग भी आसान नहीं। यह कहना है प्रसिद्ध पंजाबी फिल्म हश्र के विलन विक्टर जॉन का।
वे गुरूवार को मण्डी किलियांवाली के नीलकंठ मैरिज पैलेस में एक पंजाबी एलबम की शूटिंग के दौरान पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि 2001 में उन्होंने पंजाबी गीत रस भीनी-भीनी बहा जोगिया.. से मॉडलिंग की दुनियां में प्रवेश किया था। उसके बाद उनके मॉडलिंग में शूट किए गए गीत नैण नैला नाल मिला लीं, बाजी मार गया बठिंडा वाला गबरू काफी हिट हुए। उन्होंने बताया कि मॉडलिंग में युवाओं के लिए आपार संभावनाएं हैं। लेकिन भारतीय समाज मॉडलिंग को पश्चिमी कल्चर की संज्ञा देता है, जबकि ऐसा नहीं है। उनके अनुसार एक मॉडल भारतीय संस्कृति में रहकर भी बुलंदियों को छू सकता है।
प्रसिद्ध पंजाबी फिल्म मिट्टी तथा हश्र में भूमिका निभा चुके विक्टर जॉन जल्द आ रही पंजाबी फिल्म मित्रां दा ना चलदा में मुख्य किरदार की भूमिका में रूपहले पर्दे पर नजर आएंगे।

विलन की भूमिका में पुलिस वाला


डबवाली (लहू की लौ) फिल्म इंडस्ट्री में बॉम्बे नागपुर शर्मा के नाम से मशहूर कलाकार बीएन शर्मा ने कहा कि अब पंजाबी फिल्मों का स्तर काफी ऊंचा हुआ है। जिसके चलते हिन्दी फिल्मों के कलाकार भी अब पंजाबी फिल्मों में भाग लेने लगे हैं। यहीं नहीं पंजाबी फिल्में अच्छा कारोबार करने लगी हैं। 30-40 लाख रूपए में बनकर तैयार होने वाली पंजाबी फिल्म में जान फूंकने के लिए अब 5-6 करोड़ रूपए खर्च किए जाने लगे हैं।
वे गुरूवार को मण्डी किलियांवाली स्थित नीलकंठ पैलेस में एक एलबम की शूटिंग के दौरान पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि पहले पंजाबी फिल्में जट्ट और जमीन के इर्द-गिर्द घूमती थी। इसलिए फिल्मों के नाम भी जट्ट दी मुच्छ, जट्ट दी गंडासी या जट्ट दी जमीन के इर्द-गिर्द घूमते थे। लेकिन अब इसमें परिवर्तन आया है। पंजाबी फिल्मों ने इससे बाहर आकर अपने स्तर को सुधारा है।
उन्होंने कहा कि समाज की मांग के अनुसार ही फिल्में तैयार होती है। कभी जमाना था कि फिल्म में महिला अदाकार की बाजू पकडऩे पर बवाल खड़ा हो जाता था। इसे सैक्स सिंबल कहा जाता था। अब जबकि महिला अदाकार का बाजू पकडऩे पर कोई हो-हल्ला नहीं होता। बल्कि समाज इस प्रकार के दृश्यों की मांग कर रहा है।
उसे फिल्मों में विलन की भूमिका पसंद है। उसके भाग्य में विलन की भूमिका ही लिखी हुई है। उन्होंने मजाक करते हुए कहा कि अक्सर उसकी 85 वर्षीय माता सुभद्रा भी उससे यही प्रश्न करती है कि पुत जदो तूं छोटा सी ओदों भी छित्तर खांदा सी, ते हुण तूं फिल्म दे शुरू तो ले के खत्म होण तक छित्तर खाई जांदा रहदां, ते छित्तर पैणे कदों हटनगे।
बीएन शर्मा ने बताया कि देश के कई राज्यों ने कलाकारों को एक प्लेटफार्म तैयार करके दिया है। लेकिन पंजाब अभी इसमें पिछड़ा हुआ है। उनके अनुसार उपमुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल की ओर से पंजाब में फिल्म सिटी के निर्माण की घोषणा से कुछ आस बंधी है। उन्होंने यह भी बताया कि वे हरभजन मान की जल्द आने वाली फिल्म यारा ओ दिलदारा के साथ-साथ जी ने मेरा दिल लुटेया में जीपी ग्रेवाल के साथ नजर आएंगे।
1985 में पंजाबी फिल्म बैसाखी में विलन की भूमिका से अपने कैरियर का आगाज करने वाले बीएन शर्मा अब तक हिन्दी तथा पंजाबी की सैंकड़ों फिल्मों में विलन के तौर पर कार्य कर चुके हैं। उन्होंने हिन्दी फिल्म गदर-एक प्रेम कथा, अब तुम्हारे हवाले वतन साथियो, प्रायश्चित, लेडी डकैत, आज का बंदोबस्त में अपनी अदाकारी दिखाकर दर्शकों की खूब वाहवाही लूटी। अदाकार होने के साथ-साथ बीएन शर्मा पंजाब पुलिस के सैक्टर-9 चण्डीगढ़ में स्थित पुलिस हैडक्र्वाटर में बतौर सुपरिडेण्ट तैनात हैं।

अबूबशहर के मनरेगा मजदूर बिफरे


डबवाली (लहू की लौ) नियमित रूप से काम न मिलने और किए गए काम के बदले वेतन न मिलने पर गुस्साए गांव अबूबशहर के मनरेगा मजदूरों ने उपमण्डलाधीश कार्यालय के समक्ष जोरदार प्रदर्शन कर नारेबाजी की।
गुरूवार दोपहर को गांव अबूबशहर के मनरेगा मजदूर अचानक उपमण्डलाधीश डॉ. मुनीश नागपाल के कार्यालय के समक्ष पहुंचे और कार्यालय के आगे धरना देकर बैठ गए। इस दौरान मजदूरों ने अपनी मांगों के समर्थन में हरियाणा सरकार के विरूद्ध जोरदार नारेबाजी करके भड़ास निकाली। प्रदर्शनकारियों का नेतृत्व सुंदर लाल, आत्मा राम, बिन्द्र, विजय, कुलदीप, गजानंद, सोमा रानी, पुष्पा देवी, रजनी, प्रेमो देवी, कलावती, नसीब कौर, परमेश्वरी, जसपाल कौर, निहाल सिंह आदि कर रहे थे।
इन लोगों ने बताया कि छह माह पूर्व उन्होंने गांव में बने वाटर वक्र्स तथा उसकी डिग्गी की सफाई की थी। लेकिन काम के बदले आज तक उन्हें मजदूरी नहीं मिली है। इसके बाद जनवरी माह में काम मिलने पर कुछ मजदूरों ने जोहड़ की खुदाई की। चार-पांच दिन कार्य करने के बाद उन्हें हटा दिया गया। इस कार्य की मजदूरी भी उन्हें आज तक नहीं मिली है। इस मौके पर मजदूरों ने अपनी मांगों के समर्थन में उपमण्डलाधीश डॉ. मुनीश नागपाल को ज्ञापन सौंपा। एसडीएम से कार्रवाई किए जाने का आश्वासन मिलने के बाद मनरेगा मजदूर शांत हुए।
बाद में एसडीएम डॉ. मुनीश नागपाल ने बताया कि मनरेगा मजदूरों के साथ न्याय होगा। मामले की जांच करने के आदेश बीडीपीओ डबवाली राम सिंह को दे दिए गए हैं। मनरेगा मजदूरों की मांगों के संबंध में वे उपायुक्त सिरसा युद्धवीर सिंह ख्यालिया से भी बात करेंगे।
बीडीपीओ राम सिंह से जब इस संदर्भ में बातचीत की गई तो उन्होंने बताया कि पैसे की कोई कमी नहीं है। पैसे मनरेगा मजदूरों के खाते में जमा होते हैं। कुछ मजदूरों ने बैंक में अपने खाते नहीं खुलवाएं हैं। बिना खाता वे किसी मजदूर को पैसे नहीं दे सकते। यहां तक कार्य का सवाल है, पंचायत जो भी डिमांड करती है, उसके अनुसार पैसा उसे उपलब्ध करवा दिया जाता है। फिर भी वे मामले की जांच करेंगे।

वृद्धा का हत्यारा जेल भेजा


डबवाली (लहू की लौ) गांव सांवतखेड़ा में वृद्धा गुरदेव कौर की हत्या के आरोप में गिरफ्तार निक्का उर्फ बोला को एक दिन के पुलिस रिमांड के बाद मंगलवार को उपमंडल न्यायिक दंडाधिकारी महावीर सिंह की अदालत में पेश किया गया। अदालत ने उसे 14 दिन के लिए न्यायिक हिरासत में भेजने के आदेश दिये।
रिमांड के दौरान हत्या आरोपी निक्का ने पुलिस को बताया कि मृतका गुरदेव कौर के भाई जय सिंह स्वामी के पास दिहाड़ी करता था। वह काली का उपासक है। जब भी किसी महिला को देखता है उसे कुछ हो जाता है।  11 फरवरी को खेत से चारा लेने के लिए जा रहा था और उसके आगे जा रही गुरदेव कौर को देख कर उसे कुछ हुआ और उसने धक्का देकर गुरदेव कौर को गिरा दिया।
थाना शहर प्रभारी इंस्पेक्टर बलवन्त जस्सू ने बताया कि बेहोश गुरदेव कौर को निक्का घसीट कर सरसों के खेत में ले गया। उसका इरादा नेक नहीं था। लेकिन रोड़ पर यातायात को देख कर वह भयभीत हो गया। अंगूठे से गला दबा कर गुरदेव कौर की हत्या कर दी और फरार हो गया। पुलिस के अनुसार हत्यारोपी निक्का इससे पहले भी गांव की औरतों से छेड़छाड़ कर चुका है, लेकिन मामला इज्जत का होने के कारण मामलों को गांव में ही निपटा दिया गया। जस्सू ने बताया कि इसका सुराग भी नाटकीय ढंग से लगा जब बार-बार पुलिस दबिश पाकर आरोपी मृतका के भतीजे छिन्द्र सिंह के पास पहुंचा और उससे कहने लगा कि उसने गुरदेव कौर की हत्या करके भूल की है। उसकी इस गलती को किसी प्रकार माफ करवाया जाये और वह अपना अपराध स्वीकार करने को तैयार है। इस पर पुलिस ने निक्का को दबोच लिया और पूछताछ करने के बाद पुलिस के समक्ष उसने अपना आरोप भी स्वीकार कर लिया।
इधर आरोपी निक्का ने इस संवाददाता से बातचीत के दौरान बताया कि दो वर्ष उसकी शादी संगरिया की हरजिन्द्र कौर (20) के साथ हुई। वह पिछले डेढ़ वर्ष से काली माता की उपासना कर रहा है। जब उसमें माता की शक्ति महसूस होती है तो अपनी सुध-बुध खो देता है और उसके पास जो भी आता है उसे धक्का देकर गिरा देता है। ऐसा ही उसने गुरदेव कौर के साथ किया। लेकिन उसका नीयत लूटपाट या बलात्कार की नहीं थी। उसने यह तो स्वीकार किया कि गांव की महिला से छेड़छाड़ का आरोप लगा था, जो झूठा था।

गैस बैल्डिंग टैंकी फटने से लोगों में दहशत


डबवाली (लहू की लौ) वार्ड नं. 3 की गली पुन्नू लाल वाली में मंगलवार शाम को गैस बैल्डिंग टैंकी फटने से लोगों में दहशत फैल गई और टैंकी के टुकड़े आसपास के घरों में जा गिरे।
गली वासी भगवान दास (40), प्रशोत्तम दास (37) पुत्रान रघुवीर सिंह ने बताया कि उनके घर के साथ ही सुदर्शन मित्तल ने अलमारियां बनाने की फैक्टरी लगा रखी है। इस फैक्टरी में शाम को धमाका हुआ और बैल्डिंग टैंकी फट गई। टैंकी का मलबा उनके घर पर आकर गिरा। संयोग से घर में कोई नहीं था, इसलिए हादसा टल गया। अन्य गली वासी सुशील कुमार (57), सुनीता गर्ग (47), सीमा रानी (38), सरिता गर्ग (35), रजनी गोयल (30) ने बताया कि धमाका इतने जोर का था कि उन्हें लगा कि किसी मकान की छत गिर गई है।
फैक्टरी में काम करने वाले मिस्त्री सुदर्शन कुमार (32) पुत्र जवाहर लाल निवासी गोरखपुर ने बताया कि अलमारी को बैल्डिंग करने का काम चल रहा था और अचानक धमाका के साथ टैंकी फट गई। मिस्त्री के अनुसार वह लोग टंकी से 8 फुट दूर थे नहीं तो उन्हें भी चोट लग सकती थी। मै. गिरधारी लाल सुदर्शन कुमार फर्म के मालिक सुदर्शन मित्तल के बेटे ऋषि मित्तल ने भी स्वीकार किया कि उनकी फैक्टरी में टंकी फटी है लेकिन मिस्त्री का परिवार भी वहीं रहता है, यह कोई बड़ी घटना नहीं है। अचानक बैल्डिंग के दौरान ऐसा हुआ।

पब्लिक हेल्थ कार्यालय में तोडफ़ोड़


डबवाली (लहू की लौ) घरों में गंदे पेयजल की आपूर्ति की शिकायत जनस्वास्थ्य विभाग और उपमंडल अधिकारी (ना.) को कई बार किए जाने के बावजूद भी इसका समाधान न निकलने पर आक्रोशित लोगों ने मंगलवार को जनस्वास्थ्य विभाग कार्यालय का घेराव कर डाला। मटका तोड़ प्रदर्शन किया। फिर भी जब अधिकारियों ने उनकी आवाज को नहीं सुना। लोग कार्यालय में जबर्दस्ती घुस गए। मौका पर पहुंची पुलिस ने बल प्रयोग करके प्रदर्शनकारियों को वहां से खदेड़ा।
वार्ड नं. 5 के लोग पिछले काफी समय से घरों में गंदे पेयजल की आपूर्ति होने और सीवरेज के पानी की निकासी न होने की शिकायत लेकर जनस्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों से लेकर एसडीएम तक को मिल चुके हैं। लेकिन जब उनकी बात को न सुना गया तो उनका संयम टूट गया। मंगलवार को वार्ड नं. 5 के बच्चे, महिलाएं, पुरूष और वृद्ध गंदे पेयजल की आपूर्ति का समाधान न किए जाने को लेकर जनस्वास्थ्य विभाग के कार्यालय पर आ धमके। इन लोगों ने पहले हरियाणा सरकार तथा जनस्वास्थ्य विभाग के विरूद्ध नारेबाजी की, महिलाओं ने मटके फोड़कर अपना आक्रोश जताया। धरना देकर बैठे इन लोगों की जब सुनवाई विभाग और प्रशासन के अधिकारियों ने नहीं की, तो उनका धैर्य जवाब दे गया और गुस्सा आसमान को छूने लगा। लोग जबर्दस्ती कार्यालय में घुस गए और कुछ लोगों ने इस दौरान कार्यालय में तोडफ़ोड़ भी की। इसकी सूचना पाकर एएसआई साधु राम के नेतृत्व में पुलिस दल मौका पर पहुंचा। हल्का बल प्रयोग करते हुए पुलिस ने लोगों को वहां से खदेड़ा।
वार्ड नं. 5 के पूर्व पार्षद दाना राम, डॉ. संतोष अरोड़ा, बनारसी दास, वेदप्रकाश, अशोक कुमार, बूटा राम, दर्शना देवी, दयालो देवी, शिमला रानी, लक्ष्मी, सरोज, बिन्द्र महंत, चांदनी महंत, पायल महंत, निशा, बबली, बालक प्रीति, कोमल, राहुल, तनु, सिमरन, कोमल रानी, शक्ति, अजय, मोती ने बताया कि उनके घरों में पिछले छह माह से गंदे पेयजल की आपूर्ति हो रही है। इस संबंध में वे लोग कई बार जनस्वास्थ्य विभाग के अधिकारयों से मिलकर शिकायत कर चुके हैं, इसके बाद इस मामले को लेकर उपमंडलाधीश को भी मिल चुके हैं। एक सप्ताह से तो हालत इतनी खस्ता हो चुकी है कि सीवरेज युक्त काला और गंदा पेयजल उनके घरों में सप्लाई हो रहा है। वार्ड के लोग बुरी तरह से बीमारी का शिकार हो रहे हैं। लेकिन विभाग के कान पर इसके बावजूद भी जूं तक नहीं रेंगी। बार-बार शिकायत करने के बावजूद भी जब उनकी सुनवाई नहीं हुई तो आज उन्हें इक्ट्ठे होकर जनस्वास्थ्य विभाग कार्यालय पर आकर प्रदर्शन की मार्फत अपना रोष प्रकट करने लगा।
मौका पर उपस्थित विभाग के जेई सतपाल ने बताया कि उन्हें लगातार गंदे पेयजल आपूर्ति की शिकायतें मिल रही हैं। सोमवार को डिस्पोजल से गंदा पानी निकालने का प्रयास किया तो पंजाब के किसानों ने पानी की निकासी नहीं होने दी। जिसके चलते डिस्पोजल का पानी वापिस शहर में आने लगा। यहां कहीं पेयजल पाईप लीक करती थी, उसमें मिक्स होकर घरों तक पहुंचने लगा। उन्होंने पंजाब के किसानों की इस हरकत से उपमण्डलाधीश डॉ. मुनीश नागपाल को अवगत करवा दिया है।
मौका पर पहुंचे थाना शहर प्रभारी इंस्पेक्टर बलवंत जस्सू ने बताया कि जनस्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की लिखित शिकायत मिलने पर डिस्पोजल के पानी में बाधा बनने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।
नगर में गंदे पेयजल की आपूर्ति पर उपमण्डलाधीश डॉ. मुनीश नागपाल से बातचीत की गई तो उन्होंने स्वीकार किया कि शहर में गंदे पानी की आपूर्ति की शिकायतें निरंतर मिल रही हैं। तहसीलदार राजेन्द्र कुमार को शहर का निरीक्षण करके रिपोर्ट देने के निर्देश दिए गए हैं। साथ में जनस्वास्थ्य विभाग को भी नगर में स्वच्छ पानी की आपूर्ति करने को कहा गया है।

संदिग्ध परिस्थितियों में किसान की मौत


डबवाली (लहू की लौ) पंजाब की तहसील मलोट के गांव बुर्ज सिंधवा के एक किसान की मंगलवार शाम को रहस्यमय परिस्थितियों में मौत हो गई।
गांव बुर्ज सिंधवा का किसान गुरभजन सिंह (56) अपनी पांच एकड़ जमीन के लिए बीटी कॉटन का बीज खरीदने के लिए शुक्रवार शाम को गुजरात रवाना हुआ था। उसके बाद वापिस घर नहीं लौटा। मंगलवार शाम करीब 5 बजे किसान डबवाली की नई अनाज मण्डी रोड़ पर स्थित पीरखाना के पास बेहोश पड़ा मिला। सूचना पाकर मौका पर पहुंचे डबवाली जन सहारा सेवा संस्था के सदस्य कुलवंत सिंह उसे उपचार के लिए डबवाली के सरकारी अस्पताल में पहुंचाया। यहां कुछ समय बाद किसान ने दम तोड़ दिया।
गुरभजन सिंह के बेटे जगमीत सिंह (22) निवासी गांव बुर्ज सिंधवा ने बताया कि उसका पिता हार्ट का रोगी था। गुजरात में बीज के साथ-साथ वह हार्ट की दवा लेने के लिए गया था। लेकिन घर वापिस नहीं लौटा। मंगलवार रात करीब 8.30 बजे उसके भाई पवनदीप के पास फोन आया कि डबवाली के सरकारी अस्पताल में एक मृत व्यक्ति की जेब से उसका नंबर मिला है। वे फोरी तौर पर डबवाली पहुंचे। यहां उन्हें उपरोक्त जानकारी मिली। संभव है कि उसके पिता गुरभजन सिंह की मौत हार्ट फेल होने के कारण हुई। जगमीत के अनुसार उसके पिता के पास 10-15 हजार रूपए की नकदी तथा कपड़ों का बैग भी था। जिसका कोई अता-पता नहीं चल पा रहा है।
मामले की जांच कर रहे गोल बाजार पुलिस चौकी के एएसआई सुभाष चन्द्र ने बताया कि जगमीत के ब्यान पर पुलिस ने फिलहाल इतफाकिया मौत की कार्रवाई अमल में लाई है। गुरभजन सिंह के शव का बुधवार को डबवाली के सरकारी अस्पताल में पोस्टमार्टम करवाने के बाद उसे उसके वारिसों को सौंप दिया गया। वहीं विसरे को जांच के लिए मधुबन स्थित प्रयोगशाला में भेजा गया है।
डबवाली के सरकारी अस्पताल में तैनात डॉ. सरवन बांसल ने बताया कि जब गुरभजन सिंह के शव को लाया गया था, उस समय उसमें कुछ सांसें शेष थी। कुछ देर बाद ही गुरभजन सिंह ने दम तोड़ दिया।
गुरभजन सिंह के शव का पोस्टमार्टम करने के बाद डॉ. एमके भादू ने बताया कि प्रथम दृष्टि से मौत का कारण हार्ट फेल होना हो सकता है। चूंकि मृतक के शरीर पर कहीं भी चोट के निशान नहीं है। फिर भी विसरे को जांच के लिए प्रयोगशाला में भेजा गया है।
कैसे हुई किसान की मौत?
1. क्या किसान गुरभजन सिंह गुजरात गया था?
2. अगर वह गुजरात गया था तो वहां से खरीदा गया कॉटन बीज व उसका सामान कहां है?
3. अपने गांव जाने की अपेक्षा गुरभजन सिंह डबवाली के पीरखाना के पास कैसे पहुंचा?
4. जब उसे अस्पताल लाया गया, उस समय उसकी जेब से 400 रूपए मिले, बाकी के पैसे कहां गए?