युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

03 जुलाई 2011

हे भगवान क्राइम खत्म करने की शक्ति दो, हवन करके मांगी दुआ


डबवाली (लहू की लौ) सिटी में बढ़ रहे क्राईम तथा बढ़ते नशे को रोकने के लिए सिटी पुलिस ने हवन करवाकर भगवान से अपराधियों को गिरफ्तार करने की शक्ति मांगी। साथ में सिटी में सुख शांति रहे के लिए दुआ मांगी।
डबवाली शहर क्षेत्र में अपराधों का ग्राफ बढ़ रहा है। अपराधी वारदात को अंजाम देकर फरार हो जाते हैं। पुलिस के हत्थे नहीं चढ़ते। पुलिस अपराधियों को शीघ्र पकडऩे की इच्छा के साथ ईश्वर से दुआ करती है। शनिवार को मंत्रोच्चारण के बीच सिटी थाना के सभी कर्मचारियों ने मिलकर हवन यज्ञ करवाया।
कार्य स्थल पर गूंजे मंत्र
शनिवार को थाना शहर परिसर में धार्मिक माहौल था। सभी कर्मचारी पूजा अर्चना के लिए सुबह सवा 6 बजे ही हवन कुंड के पास बैठ गए। करीब सवा घंटा तक हवन यज्ञ करवाने वाले पुरोहित बालकृष्ण की आज्ञा से यज्ञ में आहुतियां डालते रहे। इस मौके पर मुख्य यजमान के रूप में डीएसपी बाबू लाल उपस्थित रहे।
हालांकि पुलिस थाना परिसर में रामभक्त हनुमान का मंदिर बना हुआ है। लेकिन इसके बावजूद भगवान सीधी दृष्टि थाना में काम करने वाले सभी कर्मचारियों और अधिकारियों पर रहे, इसलिए मंदिर की अपेक्षा कार्य स्थल को हवन यज्ञ के लिए चुना गया।
एएसआई ने दी सलाह
एएसआई राजकुमार धार्मिक प्रवृत्ति के हैं। इसलिए उन्होंने बढ़ते क्राईम, नशाखोरी पर नियंत्रण स्थापित करने के लिए डंडे की बजाए भगवान का सहारा लेने की सलाह अपने साथियों को दी। उन्हीं की सलाह पर इस धार्मिक अनुष्ठान का आयोजन हुआ। जिसमें सर्वप्रथम श्री गणेश की पूजा अर्चना के बाद धरती पूजन, वास्तु पूजन, नवग्रहों के पूजन के साथ-साथ सभी देवी-देवताओं की अराधना तथा गायत्री मंत्र के साथ पूर्णाहुतियां डाली गई।
दुआ मांगी
हवन में आहुति डालते हुए डीएसपी बाबू लाल, सिटी थाना प्रभारी एसआई महावीर सिंह, एएसआई राजकुमार, एएसआई कृष्ण कुमार, एएसआई तुलसी राम, एचसी भरत सिंह, अजीत सिंह, जयप्रकाश, चरणजीत सिंह, कांस्टेबल राजकुमार, विजय कुमार, अमरजीत सिंह, नफे सिंह सहित अन्य पुलिस मुलाजिमों ने ईश्वर से दुआ की कि वह सिटी में ऐसा माहौल पैदा करे कि अपराध और अपराधियों के इरादों पर पानी फिर जाए। लोगों में भाईचारा पैदा हो। सभी को सदबुद्धि मिले। अमन-चैन रहे। स्वयं ने जाने या अनजाने में जो कुछ गलतियां हो गई, उनके लिए क्षमा याचना की।
हवन के बाद अपराध होंगे कम
हवन के बाद डीएसपी बाबू लाल ने कहा कि ईश्वर का नाम लेना कोई बुराई नहीं है। इस प्रकार के आयोजन कार्य करने की शक्ति को बढ़ाते हैं। नगर की सुख-शांति और समृद्धि तथा पुलिस की रक्षा के लिए इस प्रकार का आयोजन करना हमारी संस्कृति में शामिल है। हवन यज्ञ से यहां देवी-देवता प्रसन्न होते हैं। वहां वातावरण भी शुद्ध होता है। जिससे आरोग्य प्राप्त होता है। हवन यज्ञ के बाद अपराधों में कमी आएगी।

डबवाली का बीडीपीओ घोटालेबाज!


दो जांच अधिकारियों की रिपोर्ट में हुआ रहस्योद्घटन, साढ़े तीन लाख में से एक लाख का घपला
डबवाली (लहू की लौ) देश की राजधानी दिल्ली में हुए कॉमनवेल्थ गेम्स घोटाला का भूत डबवाली पहुंच गया है। उपमण्डल के गांव मसीतां में प्रस्तावित खेल स्टेडियम के निर्माण से पहले खरीदे गए सामान में बड़ा घपला सामने आया है। दो अधिकारियों की जांच के दौरान पाया गया कि सामान को बाजार भाव से ऊंची दरों में खरीदा गया। वहीं सामान के वजन तथा मोटाई में भी अंतर निकला है। साढ़े तीन लाख के सामान में करीब एक लाख घपला उजागर हुआ है। तीन माह के भीतर आई दो जांच रिपोर्ट में खण्ड विकास एवं पंचायत अधिकारी डबवाली को राजकोष का 'घोटालेबाजÓ तय किया गया है।
नींव रखी नहीं, सामान पहुंचा
गांव मसीतां में निर्माणाधीन खेल स्टेडियम के हाल कमरे का निर्माण होना है। जिसका नींव पत्थर अभी तक नहीं रखा गया है। लेकिन हाल कमरे के लिए खिड़की, दरवाजे, रोशनदान, ग्रिल बगैरा का निर्माण पहले ही हो लिया। यह सारा सामान प्रस्तावित खेल स्टेडियम स्थल पर पहुंच गया। सामान का निर्माण बीडीपीओ डबवाली द्वारा करवाया गया था। बीडीपीओ ने सामान के बदले 3 लाख 74 हजार 333 रूपए का भुगतान किया। लेकिन ग्राम पंचायत ने सामान के निर्माण में गोलमाल की आशंका जाहिर की। गांव के सरपंच शिवराज सिंह ने तत्कालीन उपायुक्त सिरसा को एक शिकायत देकर आरोप लगाया कि सरपंच पद के लिए चुनाव जून 2010 में हुए थे। 25 जुलाई को उसने सरपंच पद की शपथ ग्रहण करनी थी। लेकिन इससे पूर्व ही बीडीपीओ ने बैंक से 3 लाख 74 हजार 333 रूपए निकलवा लिए और इन पैसों को उपरोक्त सामान पर खर्च किया हुआ दिखा दिया।
जांच से कर दिया था इंकार
सरपंच की शिकायत पर उपायुक्त ने डीडीपीओ को जांच के आदेश दिए। लेकिन डीडीपीओ ने इस मामले की जांच करने से इंकार कर दिया। जांच एसडीएम डॉ. मुनीश नागपाल के पास आ गई। एसडीएम ने मामले की जांच एसडीई पंचायती राज शेषकरण बिश्नोई को सौंप दी। एसडीई ने 1 अप्रैल 2011 को अपनी जांच रिपोर्ट एसडीएम डबवाली को सौंप दी।
जांच रिपोर्ट
पंचायती राज के एसडीई शेषकरण बिश्नोई ने एसडीएम डॉ. मुनीश नागपाल को सौंपी अपनी जांच रिपोर्ट में कहा है कि खण्ड विकास एवं पंचायत अधिकारी राम सिंह ने खरीदे गए सामान का जो बिल प्रस्तुत किया है उसमें दरवाजों की मोटाई 14 गेज, माप 2018 फुट दर्शाई गई है। जबकि वास्तविक मोटाई 16 से 18 गेज है तथा माप 1971.31 फुट है। इनमें लगे पल्लों की लम्बाई बिल में 18 गेज तथा क्षेत्रफल 1123.19 वर्गफुट दर्शाया गया है, जबकि वास्तविक मोटाई 19 गेज है तथा कुल क्षेत्रफल 1057.35 वर्गफुट है। इसी प्रकार ग्रिल का वजन बिल में 1238 किलोग्राम दर्शाया गया है, जबकि वास्तविक वजन 787 किलोग्राम है। कब्जों की संख्या 496 की बजाए मौके पर 467 नग मिले हैं। खरीद किए गए इस सामान का बाजार मूल्य 55 रूपए, 90 रूपए तथा 55 रूपए का है, जबकि खण्ड विकास एवं पंचायत अधिकारी ने इसकी अदायगी 72 रूपए, 105 रूपए तथा 60 रूपए के हिसाब से की गई है। जांच में सामने आया है कि खरीदे गए सामान पर 99703 रूपए  अधिक खर्च किए गए हैं। इससे स्पष्ट होता है कि अधिक दरों पर की गई खरीद से खण्ड विकास एवं पंचायत अधिकारी, डबवाली ने राजकोष को जानबूझकर नुक्सान पहुंचाया है।
दूसरी रिपोर्ट भी खिलाफ
पंचायती राज के एसडीई की जांच रिपोर्ट को गलत बताते हुए खण्ड विकास एवं पंचायत अधिकारी डबवाली ने उपायुक्त सिरसा से दोबारा जांच की मांग की। बीडीपीओ की मांग पर उपायुक्त ने पीडब्ल्यूडी सिरसा के एक्सीयन एमएस सांगवान को जांच का दायित्व सौंपा। उनकी जांच में भी बीडीपीओ को राजकोष के नुक्सान को दोषी करार दिया गया है। दोनों ही रिपोर्ट उपायुक्त के पास भेजी गई हैं।

जांच के संबंध में ये बोले अधिकारी
खण्ड विकास एवं पंचायत अधिकारी डबवाली (बीडीपीओ) द्वारा जिस दर पर सामान खरीदा गया है, वह बाजार मूल्य से काफी अधिक है। वहीं सामान के वजन तथा गिनती में भी अंतर पाया गया है। बीडीपीओ ने राजकोष का दुरूपयोग किया है। उन्होंने अपनी रिपोर्ट एसडीएम डॉ. मुनीश नागपाल को सौंप दी है।
-शेषकरण बिश्नोई, एसडीई पंचायती राज


उपायुक्त के आदेश पर उन्होंने गांव मसीतां में प्रस्तावित स्टेडियम के लिए खरीदे गए सामान की जांच की थी। सामान का वजन, मूल्य तथा बिलों में दर्शाई गई गिनती में काफी अंतर पाया गया है। बीडीपीओ ने राजकोष को करीब करीब एक लाख रूपए की चपत लगाई है। उन्होंने अपनी रिपोर्ट उपायुक्त को सौंप दी है।
-एमएस सांगवान, एक्सीयन पीडब्ल्यूडी सिरसा

जांच के लिए डीडीपीओ के इंकार करने पर उपायुक्त के आदेश पर उन्होंने एसडीई पंचायती राज शेषकरण बिश्नोई को जांच का कार्यभार सौंपा था। उनकी जांच में बीडीपीओ सरकारी पैसे के दुरूपयोग का दोषी पाया गया है। जांच रिपोर्ट को उपायुक्त सिरसा के पास भेज दिया गया है।
-डॉ. मुनीश नागपाल, एसडीएम

वह बिल्कुल पाक साफ है। उसने कोई घोटाला नहीं किया। जांच में आया है कि उसके द्वारा खरीदे गए सामान की मोटाई अधिक है, जबकि उसने कम मोटाई के सामान पैसे दिए हैं। वह हर जांच रिपोर्ट का स्वागत करता है और उसका सामना करने के लिए तैयार है।
-राम सिंह, बीडीपीओ डबवाली



कार्रवाई में आनाकानी क्यों?
दो जांच अधिकारियों द्वारा सामान खरीद घोटाले का पर्दाफाश करने के बावजूद भी प्रशासन ढिलमुल रवैया अपनाए हुए है। बीडीपीओ राम सिंह के खिलाफ जांच रिपोर्ट आने के दो माह बीतने के बावजूद भी कोई कानूनी कदम नहीं उठाया गया है। जिला प्रशासन बीडीपीओ के खिलाफ केस दर्ज करवाकर, बीडीपीओ को कानूनी सजा दे। डबवाली में रहते हुए बीडीपीओ द्वारा किए गए सभी कार्यों की विभागीय कार्रवाई भी आरंभ करे। अगर ऐसा नहीं होता तो वे आंदोलन करने को बाध्य होंगे।
-शिवराज सिंह सरपंच ग्राम पंचायत मसीतां एवं अध्यक्ष सरपंच एसोसिएशन ब्लाक डबवाली