युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

08 नवंबर 2009

मिनी बस पलटी, तीन दर्जन सवारियां घायल

डबवाली (लहू की लौ) गांव फरीदकोट और गांव बांडी के बीच शनिवार सुबह एक प्राईवेट बस पलटने से करीब 3 दर्जन सवारियां घायल हो गई। घायलों में अधिकांश स्कूली विद्यार्थी शामिल हैं। घायलों को उपचार के लिए बठिण्डा, बादल और डबवाली के विभिन्न प्राईवेट अस्पतालों में लेजाया गया।
प्राप्त जानकारी अनुसार आहलुवालिया बस सर्विस की मिनी बस शनिवार सुबह मण्डी किलियांवाली से बठिण्डा के लिए अपने तय समयानुसार चली थी। बस में मण्डी किलियांवाली सहित गांव फरीदकोट, गांव फरीदकोट कोटली सहित अन्य गांवों की करीब 150 सवारियां थी। बताते हैं कि जैसे ही बस गांव फरीदकोट और बांडी के बीच पहुंची तो धुंध की वजह से अचानक बांडी साईड से आई एक ट्रेक्टर-ट्राली से टकराकर दो-तीन पलटे खाती हुई एक खेत में जा गिरी।
बस के खेत में गिरते ही बस में सवार सवारियों में हड़कम्प मच गया। जबकि बस का ड्राईवर राजा निवासी ख्योवाली व परिचालक निन्द्र सिंह निवासी बांडी भाग खड़े हुए। ट्रेक्टर चालक गुरसेवक सिंह पुत्र नछत्तर सिंह निवासी बांडी ने बस में फंसे विद्यार्थियों को बाहर निकालना शुरू किया। इधर गांव बांडी और फरीदकोट कोटली के गुरूद्वारा में इस घटना की सूचना पाकर गांव वासी भारी संख्या में मौका पर पहुंचे और बस में फंसे गांव बांडी के सरकारी हाई स्कूल, गुरूनानक हाई स्कूल और दशमेश पब्लिक स्कूल के विद्यार्थियों को बाहर निकाला। इस मौके पर बस में सवार सरकारी हाई स्कूल के 10वीं कक्षा के छात्र सुखपाल सिंह पुत्र कर्मजीत सिंह ने बस में सवार सवारियों को बाहर निकालने में विशेष योगदान दिया। हालांकि वह स्वयं भी घायल था।
घायलों में विद्यार्थी राजवीर सिंह पुत्र गुरपाल सिंह (8वीं), गगनदीप सिंह पुत्र कौरजीत सिंह बैनीवाल (9वीं), जशनदीप सिंह पुत्र कौर जीत सिंह (8वीं), कुलदीप सिंह पुत्र बलकरण सिंह (8वीं), कुलदीप सिंह पुत्र जगसीर सिंह (8वीं), प्रदीप कुमार पुत्र सोहन लाल, सुखपाल सिंह पुत्र कर्मजीत सिंह, गुरमीत सिंह पुत्र तरसेम सिंह, जसप्रीत सिंह पुत्र दर्शन सिंह, सुखपाल सिंह (10वीं), अमनदीप कौर (10वीं) निर्मल सिंह (8वीं), गुरमीत सिंह (9वीं), मनप्रीत कौर (8वीं), सतवीर कौर (9वीं), जसवन्त सिंह (6वीं), राजदीप सिंह (10वीं), प्राईमरी अध्यापिका कुलदीप कौर निवासी डबवाली, महिला गुरविन्द्र कौर पत्नी बूटा सिंह निवासी फरीदकोट आदि शामिल हैं। घायलों को उपचार के लिए गांव बादल, बठिण्डा तथा डबवाली के निजी अस्पतालों में दाखिल करवाया गया है।
अधिकांश विद्यार्थी होते हैं शामिल
गांव फरीदकोट एवं कोटली के निवासी कौर जीत सिंह, दर्शन सिंह, डॉ. विनोद, भोला सिंह, तेजा सिंह, जुल्फी खान आदि ने बताया कि उनके गांवों में बने स्कूल प्राईमरी तक हैं। जिसके चलते मिडिल व उच्च शिक्षा के लिए उन्हें साथ लगते गांवों में जाना पड़ता है। पिछले दिनों बठिण्डा संसदीय क्षेत्र से सांसद हरसिमरत कौर बादल को भी इस समस्या से अवगत करवाया गया था। लेकिन उनकी बात को नहीं सुना गया। उनके अनुसार हर वर्ष ही इस प्रकार की दुर्घटना होती है। उन्होंने यह भी मांग की कि सरकार को चाहिए कि वे इस रूट पर बच्चों के लिए स्पैशल बस चलाये, ताकि बसों में सवारियों की भीड़ न बढ़े और बच्चे सुरक्षित स्कूल तक तथा स्कूल से घर तक पहुंच सकें।

दुर्घटना में दो की मौत

डबवाली (लहू की लौ) गांव अलीकां नहर के पास शुक्रवार रात को एक कार को अज्ञात वाहन टक्कर मारकर फरार हो गया। कार में सवार दो व्यक्तियों की मौका पर ही मौत हो गई। प्राप्त जानकारी अनुसार गांव गोदीकां का रामकुमार पुत्र नानू राम अपनी पारिवारिक कार से डबवाली में गेहूं का बीज लेने के लिए आया हुआ था। शाम को वापिस गांव लौट रहा था और उसके साथ उन्हीं के गांव का राय सिंह पुत्र भागीरथ भी था। वह भी बीज लेकर गांव लौट रहा था। उनकी कार जैसे ही गांव अलीकां की नहर के नजदीक पहुंची तो कोई अज्ञात वाहन कार से टक्कर मारकर फरार हो गया। कार बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई। मौका पर ही रामकुमार और राय सिंह की मौत हो गई। इस दुर्घटना की सूचना पाकर मौका पर पहुंची पुलिस एम्बूलैंस ने क्षतिग्रस्त कार में से दोनों को निकाला और सिविल अस्पताल डबवाली पहुंचाया। शनिवार सुबह पोस्टमार्टम करवाने के बाद पुलिस ने शव उनके वारिसों को सौंप दिये। थाना शहर पुलिस ने अज्ञात वाहन चालक के खिलाफ मामला दर्ज करके आगामी कार्यवाही शुरू कर दी है।

ईस्टवुड स्कूल की बस दुर्घटनाग्रस्त, चालक और विद्यार्थी घायल

घायलडबवाली (लहू की लौ) गांव गिदडख़ेड़ा में शनिवार सुबह एक स्कूली बस और एक प्राईवेट बस के आमने-सामने टक्कर हो जाने से स्कूली बस का चालक और पांच बच्चे घायल हो गये।
प्राप्त जानकारी अनुसार ईस्टवुड इंटरनेशनल स्कूल, डूमवाली का बस चालक विक्रम बच्चों को स्कूल ला रहा था कि गांव गिदडख़ेड़ा के पास धुंध के कारण सामने आ रही बस से उसकी बस टकरा गई। जिसके चलते बस में सवार सात बच्चों में से पांच को और स्वयं चालक को चोटें आई।
चालक विक्रम पुत्र राजेन्द्र सिंह निवासी अबूबशहर के अनुसार उसकी बस न्यूटल में थी और सामने से आ रही महाशा कोच बस को देखकर उसने बस को रोक लिया था। इसी कारण एक बड़ा हादसा टल गया। उसके माथे पर चोट आई है। जोकि शीशा लगने से आई है। पता चला है कि बस में 7 बच्चे थे जिनमें से पांच को चोटें आई, जिन्हें डबवाली के अलग-अलग प्राईवेट अस्पतालों में इलाज के लिए लेजाया गया। घायल विद्यार्थियों में गुरतेज सिंह, अखिल, शुभम, गगनदीप कौर आदि के नाम शामिल हैं।

कैंटर से सूमो टकराई,चार घायल

डबवाली (लहू की लौ) गांव खुईयांमलकाना के पास शनिवार सुबह एक सूमो गाड़ी सड़क पर खड़े वाहन से टकरा गई और सूमों में सवार चार लोगों को चोटें आई।
फतेहाबाद निवासी दलबीर कौर ने बताया कि उनका परिवार दो टाटा सूमो में सवार होकर जलालाबाद (अबोहर) शोक सभा में भाग लेने के लिए जा रहा था। एक गाड़ी तो आगे निकल गई। लेकिन उनकी गाड़ी गांव खुईयांमलकाना के नजदीक सड़क पर उसी दौरान टकराये एक ट्राला और कैंटर के साथ जा भिड़ी। जिससे उसे और अन्य मिल्खा सिंह 60 वर्ष, गुरबचन कौर 60 वर्ष, सुरजीत कौर 50 वर्ष के चोटें आई। जिन्हें इलाज के लिए डबवाली के सिविल अस्पताल में लाया गया। प्राथमिक चिकित्सा के बाद अस्पताल से उन्हें छुट्टी दे दी गई।

हरियाणा से आई लाखों की शराब जब्त, चार गिरफ्तार

श्रीगंगानगर । हरियाणा से तस्करी करके लाई गई लाखों की अवैध अंग्रेजी-देशी शराब को बरामद करते हुए चार जनों को गिरफ्तार किया गया है। एक तस्कर शराब से लदी हुई बिना नंबरी पिकअप जीप को छोड़कर भाग गया, जबकि एक तेल टैंकर के चालक-परिचालक को 6 लाख रूपये की शराब सहित काबू किया गया। शराब की पेटियां खाली टैंकर में छिपाई हुई थीं। चूरू जिले के दूदवां खारा थाना के प्रभारी अरविंद शर्मा ने बताया कि नेशनल हाइवे 65 पर रेलवे फाटक के पास शुक्रवार देर रात को एक टैंकर (आरजे 04 जीए 2443) को चैक किया गया तो इसके टैंक में अंग्रेजी शराब तथा बीयर कैन के 241 कॉर्टून बरामद हुए। इनमें से 152 कॉर्टून बीयर कैन के हैं तथा शेष कॉर्टून में बैगपाईपर तथा ऑफिसर च्वाईस अंग्रेजी शराब की बोतलें तथा क्वार्टर भरे हुए थे। उन्होंने बताया कि यह टैंकर गुजरात से तेल लेकर राजपुरा (पटियाला) गया था ओर वापसी में हिसार (हरियाणा) में किसी तस्कर ने चंडीगढ़ मार्का शराब के यह कॉर्टून चालक-परिचालक को मोटी रकम का लालच देकर लदवा दिये। यह शराब जोधपुर पहुंचाई जानी थी। टैंकर के जोधपुर पहुंचने पर चालक-परिचालक को मोबाइल फोन पर बताया जाना था कि शराब कहां उतारनी है। गिरफ्तार किये गए चालक पे्रमचंद बिश्नोई निवासी ओसियां, जोधपुर तथा बाबूलाल बिश्नोई निवासी गुढामलानी, बाड़मेर के मोबाइल फोन की कॉल डिटेल हासिल की जा रही है। इस बीच सिद्धमुख थाना प्रभारी शकील अहमद ने बीती रात एक बिना नंबरी पिकअप जीप को पीछा करके काबू किया। जीप का चालक कथित रूप से भाग जाने में सफल हो गया। पुलिस के मुताबिक चालक की पहचान श्योपतराम के रूप में हुई है। जीप में शराब के 71 कॉर्टून लदे हुए थे, जिनमें अंग्रेजी शराब की 444 बोतलें और 1632 पव्वे भरे हुए थे। इसी तरह हनुमानगढ़ जिले की संगरिया पुलिस ने शुक्रवार रात को सालीवाला गांव के पास हरियाणा की ओर से आई एक मारूति कार (डीएल 6 सी 5561) को पकड़ा। इसमें हरियाणा निर्मित देशी शराब की 276 बोतलें बरामद हुईं। कार के चालक रामकुमार पुत्र हरिराम मेघवाल निवासी आसाखेड़ा (हरियाणा) को गिरफ्तार किया गया है। इसके अलावा नोहर पुलिस ने बड़बिरान गांव के ओमप्रकाश नामक व्यक्ति के कब्जे से हरियाणा निर्मित देशी शराब की 72 बोतलें बरामद की हैं। हनुमानगढ़ सदर व टाउन थानों की पुलिस ने तीन जनों को दस-दस लीटर हथकढ़ शराब सहित गिरफ्तार किया है।

एनआरआई युवती से विवाह रचाकर लाखों गंवाये

श्रीगंगानगर। अमेरिका में रह रही अप्रवासी भारतीय युवती से विवाह रचाकर उसके साथ अमेरिका जा बसने का एक युवक का सपना महज सपना ही रह गया। इस चाह में उसने पुरखों की कृषि भूमि बेचकर बीस लाख रूपये भी गंवा डाले। शादी करने के 9 वर्ष बाद तक यह युवक अमेरिका में अपनी पत्नी के पास नहीं पहुंच पाया। ठगा हुआ महसूस कर रहे इस युवक ने अपनी पत्नी, उसके परिजनों तथा बिचौले रिश्तेदारों पर धोखाधड़ी का आरोप लगाते हुए मुकदमा दर्ज करवाया है।
गजसिंहपुर पुलिस के मुताबिक चक 21 आरबी निवासी परमजीतसिंह पुत्र अंग्रेजसिंह की शादी 24 नवंबर 2000 को श्रीगंगानगर के गौरव पैलेस में राजवंतकौर उर्फ राजू पुत्री दर्शनसिंह निवासी 30 आरबी के साथ हुई थी। यह रिश्ता परमजीतसिंह के रिश्तेदारों ने ही तय करवाया था। शादी से पहले तय हुआ था कि राजवंतकौर विवाह के बाद परमजीतसिंह को अमेरिका अपने पास बुला लेगी। उसका पासपोर्ट तथा वीजा लगवा दिया जायेगा। विवाह से पहले परमजीतसिंह ने अपने पिता की चक 21 आरबी में लगभग 6 बीघा कृषि भूमि बेचकर बीस लाख रूपये राजवंतकौर के परिजनों को अपने रिश्तेदारों के समक्ष सौंपे। तब उसकी शादी हुई। राजवंतकौर विवाह के चार माह बाद वापिस अमेरिका चली गई।
पुलिस के अनुसार अमेरिका जाने के बाद राजवंतकौर वापिस नहीं आई। न ही परमजीतसिंह को अमेरिका अपने पास बुलाने की उसका पासपोर्ट बनवाया। उसके बीस लाख रूपये भी वापिस नहीं किये। यह आरोप लगाते हुए परमजीतसिंह ने हाल ही अदालत में इस्तगासा दायर किया। इसके आधार पर राजवंतकौर, उसके पिता दर्शनसिंह, मां छिंद्रपालकौर व रिश्तेदार मुखत्यारसिंह पुत्र जग्गासिंह और मुखत्यारसिंह की पत्नी सुरजीतकौर के खिलाफ विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है। इसकी जांच थानाप्रभारी विष्णु खत्री कर रहे हैं।