युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

03 फ़रवरी 2011

बदमाशों ने लूटा पेट्रोल पंप


डबवाली (लहू की लौ) यहां से 16 किलोमीटर दूर किलियांवाली-अबोहर मार्ग पर पंजाब के गांव भीटीवाला में मंगलवार की रात को अज्ञात तेजधार हथियारों से लैस लुटेरे पेट्रोल पम्प से एक लाख 82 हजार रूपये की नकदी लूट कर फरार हो गये। लुटेरों ने पम्प के करिंदों तथा पम्प पर तेल डलवाने आये लोगों से भी मारपीट करके 4 जनों को घायल कर दिया।
मंगलवार रात को करीब 8.30 बजे किलियांवाली-अबोहर रोड़ पर थाना लम्बी अन्तर्गत पडऩे वाले गांव भीटीवाला में स्थित सतगुरू फिलिंग स्टेशन पर गांव की साईड से आसमानी रंग की इंडिका कार आई। जिसमें सवार युवकों में से एक ने 600 रूपये का तेल पम्प के करिंदे हरचन्द सिंह (24) को डालने के लिए कहा। तेल डालने के बाद युवक कार से नीचे उतर आये और हरचन्द सिंह के सीने से तलवार लगा कर उसे पम्प के कैबिन में ले गये। वहां पर पहले से ही पम्प का एक अन्य करिंदा गुरजन्ट सिंह तथा एक प्राईवेट बस चालक कुलवन्त सिंह (36) मौजूद था। लुटेरों ने कैबिन को भीतर से बन्द कर लिया और उन तीनों पर तेजधार हथियारों से हमला करते हुए नकदी उनके हवाले करने के लिए कहा। भयभीत करिंदों ने साथ लगते कमरे में स्थित नकदी वाली अलमारी की चाबी लुटेरों को सौंप दी। लुटेरों ने अलमारी में रखी एक लाख 82 हजार रूपये की राशि निकाल ली तथा तीनों को चोटें मारने के बाद कमरे में बन्द करके फरार हो गये।
पम्प के करिंदे गुरजन्ट सिंह (35) निवासी मोढ़ीखेड़ा ने बताया कि लुटेरे इस दौरान उनसे नकदी के साथ-साथ मोबाइल भी छीन ले गये। वह कमरे की खिड़की खोल कर बाहर निकले तो उन्होंने देखा कि पम्प पर एक व्यक्ति घायल पड़ा है। घायल व्यक्ति ने अपना नाम संजय जाखड़ (38) निवासी हरिपुरा बताया। जाखड़ ने यह भी बताया कि वह पम्प पर ट्रेक्टर में तेल डलवाने के लिए आया था और उन्हें पम्प के बाहर न देख कर फोन मिला रहा था कि कैबिन निकले हथियारबंद युवकों ने उसका मोबाइल छीन लिया और उस पर तलवार से हमला कर दिया। गुरजन्ट ने बताया कि इस घटना के बाद वह लोग गांव भीटीवाला में गये और एक किसान का मोबाइल लेकर घटना की सूचना पम्प आपरेटर जीवन बांसल को दी।
सूचना पाकर मौका पर पहुंचे जीवन बांसल, प्रीतम बांसल निवासी डबवाली ने बताया कि उन्होंने गांव भीटीवाला में लगे इंडियन ऑयल के सतगुरू फिलिंग स्टेशन को जूही बांसल पत्नी पवन बांसल से आपरेट करने के लिए लिया हुआ है। उन्होंने मौका पर पहुंच कर इसकी सूचना थाना लम्बी में दी। सूचना मिलते ही थाना लम्बी प्रभारी हरिन्द्र ङ्क्षसह चमेली अपने दल बल के साथ घटनास्थल पर पहुंचे। घायलों को उन्होंने लम्बी के सरकारी अस्पताल में पहुंचाया। बाद में उनकी गंभीर हालत को देखते हुए बादल के सिविल अस्पताल में रैफर कर दिया। जबकि संजय जाखड़ के अभिभावक उसे संगरिया के एक प्राईवेट अस्पताल में ले गये।
थाना लम्बी प्रभारी हरिन्द्र सिंह चमेली ने बताया कि घायल गुरजन्ट सिंह के ब्यान पर अज्ञात लुटेरों के खिलाफ धारा 397 आईपीसी के तहत केस दर्ज करके मामले की जांच शुरू कर दी है।

लुटेरों की तालाश में चार टीमें गठित
डबवाली (लहू की लौ) जिला मुक्तसर के गांव भीटीवाला में मंगलवार रात को इंडियन ऑयल के पम्प सतगुरू फिलिंग स्टेशन पर लूट की घटना के बाद जिला की पुलिस हरकत में आ गई है। बुधवार सुबह एसएसपी इन्द्रमोहन सिंह मुक्तसर तथा डीएसपी मुखविन्द्र सिंह भुल्लर मलोट ने घटनास्थल का निरीक्षण करके लुटेरों की तालाश के लिए चार टीमों का गठन कर दिया है।
जिला पुलिस कप्तान इन्द्रमोहन सिंह ने घटनास्थल का निरीक्षण करने बाद इस संवाददाता से बातचीत करते हुए बताया कि लुटेरों को पकडऩे के लिए जिला भर की पुलिस को अलर्ट कर दिया गया है। लुटेरों की तालाश के लिए चार टीमें गठित की गई हैं। जिनमें डीएसपी मलोट मुखविन्द्रपाल सिंह भुल्लर, सीआईए मुक्तसर के प्रभारी एसआई गुरिन्द्रजीत सिंह, थाना लम्बी प्रभारी हरिन्द्र सिंह चमेली, किलियांवाली चौकी प्रभारी एएसआई कश्मीरी लाल की टीम शामिल हैं। इस संबंध में संदिग्ध स्थानों पर इन टीमों द्वारा छापामारी जारी है। एसएसपी ने बताया कि पम्प करिंदे गुरजन्ट सिंह, हरचन्द सिंह से पूछताछ के दौरान पता चला है कि लुटेरे पंजाबी बोलते थे और कुर्ता पायजामा पहने हुए थे। लुटेरों की आयु 15-25 वर्ष के बीच की थी। उनमें एक युवक को प्रिंस के नाम से लुटेरे आपसी बातचीत के दौरान सम्बोधित कर रहे थे।
बुधवार शाम को फिंगर एक्सपर्ट हवलदार जसविन्द्र सिंह मुक्तसर ने भी मौका पर पहुंच कर घटनास्थल पर फिंगर के निशान लिये।

कालुआना ने बढ़ाया हरियाणा का मान


डबवाली (लहू की लौ) गंाव कालुआना की पंचायत को महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के बेहतर क्रियान्वयन के लिए वर्ष 2009-10 की देश की श्रेष्ठ (बैस्ट ऐट) आठ पंचायतों में चुना गया है। इसके लिए पंचायत को दिल्ली के विज्ञान भवन में यूपीए की अध्यक्षा सोनिया गांधी व देश के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने सम्मानित किया। यह सम्मान कालूआना गांव के सरपंच जगदेव सहारण ने प्राप्त किया। दिल्ली में यह कार्यक्रम महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के पांचवी वर्षगांठ के उपलक्ष्य में आयोजित किया गया। इससे पहले कालुआना पंचायत को राष्ट्रीय स्तर पर देश की राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल द्वारा भी निर्मल ग्राम पुरस्कार से नवाजा जा चुका है।
उपायुक्त सीजी रजिनीकांथन ने बताया कि कालूआना गांव में जिला प्रशासन व ग्राम पंचायत के सहयोग से महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के तहत विभिन्न प्रकार के विकास कार्यों पर सवा 3 करोड़ रुपए की राशि खर्च की जा चुकी है। इस राशि से ग्राम पंचायत द्वारा गांव की पंचायती 68 एकड़ भूमि को समतल करना अनुसूचित जाति की 5 एकड़ पंचायती जमीन पर बाग लगाना, गांव में सरकारी व पंचायती जमीन पर पौधारोपण और गांव में ही नर्सरी तैयार करने जैसे कार्य किए गए। इसके साथ-साथ गांव में चैक डैम और हरियाणा की सीमा से गुजरने वाली इंदिरा गांधी नहर के पास ट्यूबवैल लगाकर आरसीसी पाईप से ट्यूबवैलों का पानी गांव की पंचायती भूमि और अन्य किसानों की भूमि पर सिंचाई के लिए पानी उपलबध करवाया गया। इसी प्रकार से गांव की ढाणियों में पानी के लिए बड़ी टंकियां बनवाई गई। गांव में ही खालों का निर्माण करवाया गया।
बता दें कि पिछले साल 20  व 21 मई को केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय की टीम ने मंत्रालय के सचिव बी.के सिन्हा के नेतृत्व में गांव में दौरान किया। इस टीम द्वारा गांव के सभी लोगों से बातचीत की गई और नरेगा के तहत किए गए विकास कार्यों की ब्यौरा लिया था। यह भी उल्लेखनीय कि कालुआना गांव को स्वच्छता के मामले में राज्य स्तर पर 20 लाख रुपए का पुरस्कार भी मिला वहीं स्वच्छता के मामले में राष्ट्रीय स्तर पर देश की राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल द्वारा भी निर्मल ग्राम पुरस्कार से नवाजा जा चुका है।
गांव के सरपंच जगदेव सिंह ने इस संवाददाता को बताया कि गांव की सात हजार से भी अधिक आबादी है। उन्होंने बताया कि गंाव प्रदेश के अतिंम छोर पर बसा है इस योजना से पूर्व लोगों के पास रोजगार के साधन बहुत कम थे। उन्होंने बताया कि योजना के क्रियान्वयन से लोगों को काम तो मिला ही है खेतों में काम करने की मजदूरी की दर में भी इजाफा हुआ है। इसके साथ-साथ पंचायत की भी आमदनी बढ़ी है, जहां पहले पंचायती जमीन का ठेका 1500 से 2000 रुपए प्रति एकड़ वार्षिक उठ पाता था अब सिंचाई की सुविधा होने से पंचायती जमीन का ठेका 18 हजार रुपए वार्षिक तक हो गया है। इसके साथ-साथ गांव में तीन तालाब भी इस योजना के तहत खुदवाए गए है।
इस प्रकार से महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना से कालुआना गांव की फिजा बदली है। आज कालुआना गांव किसी भी दृष्टि से एक विकसित शहर से कम नहीं है। प्रदेश के विभिन्न जिलों के अधिकारी ग्राम पंचायतों को नरेगा के क्रियान्वयन व विकास के मामले में कालुआना गांव प्रेरणादायी बना हुआ है। राष्ट्रीय स्तर पर पुरस्कार से नवाजी गई कालुआना गांव की पंचायत ने हरियाणा का समूचे देश में नाम रोशन किया है।

आरएमपी डॉक्टर ने फांसी खाई


डबवाली (लहू की लौ) गांव आसाखेड़ा के स्वास्थ्य केन्द्र में स्थित डिलीवरी रूम में एक एएनएम के आरएमपी पति ने पंखे से लटक कर अपनी जान दे दी।
एएनएम नीलम (42) गांव आसाखेड़ा में सरकारी स्वास्थ्य केन्द्र में कार्यरत है। वह गंगानगर निवासी पृथ्वी नाथ (45) पुत्र रामनाथ के साथ विवाहिता थी। दोनों पति-पत्नी पिछले करीब पंद्रह सालों से स्वास्थ्य केन्द्र में रह रहे थे। पृथ्वी नाथ गांव में आरएमपी डॉक्टर के रूप में प्रेक्टिस कर रहा था।
पुलिस को दिए ब्यान में एएनएम नीलम ने बताया कि बुधवार सुबह करीब 6 बजे जब वह जागी तो उसने देखा कि उसका पति पृथ्वी नाथ स्वास्थ्य केन्द्र में स्थित डिलीवरी रूम के पंखे के साथ लटका हुआ है। उसने इसकी सूचना गांव के सरपंच रामकुमार को दी और साथ में इसकी जानकारी चौटाला पुलिस को भी दी। नीलम के अनुसार उसका पति उच्च रक्तचाप का रोगी था। जिसके चलते पिछले कुछ समय से उसने गांव में आरएमपी डॉक्टर की प्रेक्टिस भी छोड़ दी थी। उसके अनुसार उसका पति उच्च रक्तचाप की दवा के साथ-साथ नशे की गोली भी लेता था।
मृतक का एक लड़का प्रिंस (22) तथा लड़की प्रियंका (20) है। प्रिंस पंजाब के एक शहर में आईलेटस की कोचिंग ले रहा है। जबकि प्रियंका अपनी दादी के पास गंगानगर में रह रही है।
मामले की जांच कर रहे चौटाला पुलिस चौकी के एएसआई कृष्ण कुमार ने बताया कि सूचना पाकर मौका पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में ले लिया। उनके अनुसार पृथ्वी नाथ का शव लोई से फंदा लिए हुए पंखे से लटका हुआ था। पृथ्वी नाथ की पत्नी नीलम के उपरोक्त ब्यानों के आधार पर पुलिस ने दफा 174 सीआरपीसी के तहत कार्रवाई करते हुए शव का डबवाली के सरकारी अस्पताल में पोस्टमार्टम करवाने के बाद उसे उसके वारिसों को सौंप दिया।

गरजे बिजली कर्मचारी


डबवाली (लहू की लौ) हरियाणा बिजली कर्मचारी ज्वाईंट एक्शन कमेटी के आह्वान पर बुधवार को प्रदेश के बिजली कर्मचारी हड़ताल पर रहे। हड़ताल का डबवाली मण्डल में भी व्यापक असर देखने को मिला। बिजली कर्मचारियों ने मांगों के समर्थन में निगम के गांव डबवाली स्थित 132 केवी सबस्टेशन पर प्रदेश सरकार के खिलाफ नारेबाजी करके प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारियों ने 'हमारी मांगे पूरी करोÓ, 'जो हमसे टकराया है, भूतपूर्व कहलाया हैÓ, 'हुड्डा-पुड्डा मुर्दाबादÓ, 'लुटू टोला मुर्दाबादÓ के नारे लगाकर रोष जताया।
एचएसईबी वर्कर यूनियन के सर्कल सचिव ओमप्रकाश शर्मा ने बताया कि हरियाणा बिजली कर्मचारी ज्वाईंट एक्शन कमेटी के बैनर तले आज प्रदेश के प्रदेश सरकार के खिलाफ बिजली कर्मचारी सड़कों पर हैं। सरकार कमेटी की 11 सूत्री मांगों पर लगातार लॉलीपाप थमा रही है। उनकी मांगों में मुख्य तौर पर कच्चे कर्मचारियों को पक्का करना, कच्चे कर्मचारियों का न्यूनतम वेतन 12 हजार रूपए करना, ठेकेदारी प्रथा समाप्त करके विभाग में नियमित भर्ती करना आदि शामिल हैं। उन्होंने चेतावनी दी कि अगर सरकार हड़ताल से भी न चेती तो बिजली कर्मचारी सरकार के विरूद्ध लम्बा संघर्ष छेडऩे के लिए बाध्य होंगे। इस अवसर पर एचएसईबी वर्कर यूनियन के यूनिट अध्यक्ष केवल कृष्ण, मनोज शर्मा, चन्द्रभान नेहरा, जोगिन्द्र सिंह, जसविंद्र सिंह, रामकिशन, विजय पाण्डे, हवा सिंह, तरसेम सिंह जेई, गुरबख्श सिंह जेई, जगदीश मैहता, राजकुमार ने भाग लिया। इसके अतिरिक्त बिजली निगम मण्डल डबवाली के एक्सीयन बीके रंजन, एसडीई गुलशन वधवा ने काले बिल्ले लगाकर कर्मचारियों की मांगों का समर्थन किया।
इतने कर्मचारी रहे नदारद
बिजली मण्डल डबवाली के अभियंता बीके रंजन ने बताया कि डबवाली मण्डल के अंतर्गत आने वाली सब डिविजन चौटाला, कालांवाली तथा डबवाली से संबंधित 232 कर्मचारियों में से 173 कर्मचारी अनुपस्थित रहे।
निगम ने रखी नजर
बिजली कर्मचारियों की हड़ताल पर बिजली निगम के आला अधिकारी लगातार नजर बनाए रखे हुए थे। अधिकारियों से हर घंटे रिपोर्ट मांगी जा रही थी। यहीं नहीं लोगों को बिजली निर्बाध रूप से मिले इसके लिए सरकार के आदेश पर डबवाली मण्डल में दो अधिकारी एसडीई विजीलैंस दीवान चन्द, हितेष कुमार जैन को तैनात किया हुआ था।
कार्रवाई का अंदेशा
इधर बिजली कर्मचारियों की एक दिवसीय टूल छोड़ हड़ताल पर सरकार सख्त है। निगम के उच्च अधिकारियों से हर घंटे ली जा रही रिपोर्ट इस ओर साफ इशारा कर रही है।
पहले भी हो चुकी है कार्रवाई
साल 1974, 1989 तथा 1994 में भी बिजली कर्मचारी अपनी मांगों को लेकर संघर्ष का रास्ता अख्तियार कर चुके हैं। उस समय की तत्कालीन सरकारों ने संघर्षरत बिजली कर्मचारियों को जेल तक के दर्शन करवा दिए थे। यहीं नहीं कईयों को टर्मिनेट कर दिया था। जोकि करीब दो साल तक नौकरी से बाहर रहे। बाद में संघर्ष या फिर अदालत के जरिए अपना हक सरकार से छीनने में सफल रहे।