युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

28 जनवरी 2010

सानिया मिर्जा की सगाई टूटी

बेंगलूर। अपने बचपन के मित्र सोहराब मिर्जा से शादी रचाने के ख्वाब रखने वाली मशहूर टेनिस खिलाड़ी साजिया मिर्जा ने सोहराब से दूरियां बना ली है। इन दूरियों की मध्यस्थता करने वाले सानिया के पिता ही हैं। पिता ने बताया, कि सानिया और सोहराब की सगाई टूट गयी है, वहीं एक चैनल को भी सानिया ने खुद एसएमएस करके इसकी जानकारी दी।
सानिया के पिता इमरान ने कहा, कि हैदराबाद के व्यवसायी मो- सोहराब मिर्जा उनकी बेटी सानिया के लम्बे जीवन सफर के लिये उपयुक्त नहीं थे। इसलिए उन्होंने यह निर्णय लिया। सोहराब फिलहाल इंग्लैण्ड में पढ़ाई कर रहे हैं।
सानिया ने सगाई टूटने के कारणों के बारे में तो कुछ नहीं कहा है, लेकिन सगाई टूटने की पुष्टि की है। सानिया ने कहा कि वह और सोहराब पिछले पांच सालों से दोस्त थे। लेकिन सगाई के समय के दौरान हमने खुद को असंगत पाया। सानिया ने कहा कि सोहराब का आगे का जीवन अच्छा रहे वह इसकी दुआ करती हैं। उल्लेखनीय है कि हाल ही में सानिया ने कहा था, कि वह शादी के बाद टेनिस को अलविदा कह देंगी।

भगोड़े डीआईजी टण्डन पर 50 हजार का इनाम

जयपुर। अभी तक पुलिस चोरों को ढूंढने के लिये इनाम का सहारा लेती थी, लेकिन अब पुलिस विभाग को ही बलात्कार के आरोपी डीआईजी को गिरफ्तार करने के लिये ईनाम की घोषणा करनी पड़ी। इस ईनाम के लिये पुलिस मुख्यालय से ५० हजार रुपये का नकद ईनाम देने से सम्बंधी आदेश जारी कर दिया है। गौरतलब है, कि मधुकर टण्डन के खिलाफ वर्ष १९९७ में बांदीकुंई थाने में कांस्टेबल ने पत्नी का अपहरण का उसके साथ बलात्कार करने का मामला दर्ज कराया था।
अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (क्राइम) कन्हैया लाल ने बताया कि न्यायालय ने टण्डन के खिलाफ स्थायी वारण्ट जारी किया है। एसओजी २००३ में बर्खास्त टण्डन को तलाशने में जुटी है। मुख्यालय से जारी आदेश में कहा गया है, कि टण्डन की सूचना देने पर ५० हजार इनाम मिलेगा और सूचना देने वाले का नाम गुप्त रखा जाएगा।
कई स्तर पर जांच के बाद टण्डन के नहीं मिलने पर पुलिस की ओर से मामले में अदालत में चार्जशीट पेश कर दी थी। इसके बाद पुलिस ने मामले को ठण्डे बस्ते में डाल दिया। अब दुबारा इस मामले को लेकर सरकार चेती है। सरकार की ओर से ३० दिसम्बर को जारी हुए आदेश में मधुकर टण्डन व पेरोल पर जेल से बाहर आने के बाद फरार हुए बिती मोहन्ती की तलाश का काम एसओजी को सौंपा गया।