युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

24 जुलाई 2011

भगवान ने सुहाग छीना, अपनों ने औलाद


डबवाली (लहू की लौ) भगवान ने उससे उसका सुहाग छीन लिया। पति के बाद बेटे के साथ जिन्दगी कटने की आस बंधी। लेकिन पति के परिवार ने उससे उसे भी छीन लिया। मां-बेटा को सदा के लिए जुदा कर दिया। बाद में ससुरालियों के डर से घर से बेघर हो गई। अब अपने कलेजे के टुकड़े को पाने के लिए पुलिस की शरण में आई है।
डबवाली की रहने वाली अंजू की शादी गांव शेरगढ़ के सतविंद्र सिंह के साथ हुई थी। सतविंद्र पेशे से आरएमपी डॉक्टर था। दोनों के एक लड़का हरमनप्रीत हुआ। अक्तूबर 2009 में सतविंद्र की अचानक मौत हो गई। पति की मौत के गम से वह उभरी भी नहीं थी कि ससुराल वालों ने उससे उसका हरमन छीन लिया।
अंजू शनिवार को अपने भाई भोला तथा मौसी शीला देवी के साथ सिटी थाना पहुंची। अंजू ने सिटी थाना में एक शिकायत देकर आरोप लगाया कि उसके पति सतविंद्र की मौत हुए को करीब डेढ़ साल हो गया है। वह अपने ससुराल में रह रही थी। लेकिन पति की मौत के बाद ससुराली उससे मारपीट करने लगे। ससुरालियों से डरकर वह अपने भाई भोला के पास डबवाली आ बसी। एक प्लान के तहत आरोपियों ने मार्च 2011 में उसका छह वर्षीय बेटा हरमनप्रीत उससे छीन लिया। उस समय ससुरालियों का कहना था कि वे हरमन की अच्छी परवरिश करेंगे। सप्ताह में एक बार वह उससे मिलने भी आया करेगा। लेकिन पांच माह बीतने के बावजूद आज तक उससे हरमन से मिलने नहीं दिया गया। ससुरालियों ने उसे गांव बनी में अपने किसी रिश्तेदार के यहां भेज दिया है। अंजू ने पुलिस से उसका बेटा दिलाए जाने की मांग की है। एएसआई रामसरूप को अपनी शिकायत सौंपते समय अंजू ने यह भी कहा कि वह अपने बेटे हरमन के बगैर नहीं रह सकती।
सिटी थाना के एएसआई रामसरूप ने बताया कि अंजू की शिकायत आई है। जिसमें उसने अपने ससुरालियों पर उसका बेटा उसे न देने तथा उनसे अपनी जान को खतरा बताया है। अंजू के ससुरालियों को थाना में बुलाया गया है। शिकायत के आधार पर जांच की जा रही है।

सरे राह युवक को काटा, हालत गंभीर


डबवाली (लहू की लौ) शनिवार सुबह 6.30 बजे मण्डी किलियांवाली में स्थित बाल मंदिर सीनियर सैकेण्डरी स्कूल के पास सरे राह मुंह ढांपे युवकों ने एक रेहड़ा चालक को तेजधार हथियारों से काट डाला। युवक को उपचार के लिए लम्बी स्थित सरकारी अस्पताल में लेजाया गया। यहां चिकित्सक ने प्राथमिक उपचार के बाद उसे फरीदकोट रैफर कर दिया गया। यहां घायल की हालत चिंताजनक बताई जाती है। उधर घायल की पत्नी का कहना है कि शुक्रवार रात को उसके पति ने पड़ौस में रहने वाले कुछ युवकों से अपनी जान को खतरा बताया था। फिलहाल हमले का कारण स्पष्ट नहीं हो सका है। किलियांवाली पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।
मण्डी किलियांवाली की चर्च वाली गली में रहने वाला 35 वर्षीय महिंद्र किलियांवाली स्थित एक ईंट भट्ठा पर रेहड़ा चालक है। शनिवार सुबह वह अपने रेहड़ा के साथ भट्ठा के लिए रवाना हुआ था। बाल मंदिर स्कूल के पास पहुंचते ही एक साईकिल और बाईक पर आए मुंह ढांपें पांच युवकों ने उसे घेर लिया और उस पर तेजधार हथियारों से ताबड़तोड़ हमला कर दिया। महिंद्र सहायता के लिए चिल्लाया। उसकी चीख पुकार सुनकर वहीं रहने वाली एक महिला जसवीर कौर तथा पास स्थित दूध डेयरी में सोया अश्विनी शर्मा उर्फ आशू गली में आ गए।
जसवीर कौर तथा अश्विनी शर्मा ने बताया कि उन्होंने देखा कि मुंह ढांपें पांच युवक एक रेहड़ा चालक को कापों, बेसबॉल बैट से बुरी तरह से पीट रहे हैं। युवक के शरीर से खून से बह रहा है। उन लोगों ने शोर मचा दिया। उन्हें देखकर एक युवक बाईक स्टार्ट करके भाग गया।  चार युवक दूसरी साईड में फरार हो गए। अपना साईकिल वहीं छोड़ गए। जाते हुए युवकों ने अपने हथियारों को बाल मंदिर स्कूल में फेंक दिया। उन लोगों ने घायल को खड़ा किया और पता पूछा।
जसवीर कौर के भाई बिन्नी ने चर्च वाली गली में जाकर इसकी सूचना घायल के परिजनों को दी। मौका पर पहुंचे उसके जीजा राजू तथा गली के निवासी मनजीत सिंह अपनी बाईक से महिंद्र को उपचार के लिए निकटवर्ती एक प्राईवेट अस्पताल में ले गए। लेकिन स्टॉफ ने उसे एडमिट करने से इंकार कर दिया। बाईक पर ही वे लोग उसे लम्बी के सरकारी अस्पताल में ले गए। यहां चिकित्सक ने प्राथमिक उपचार के बाद उसे फरीदकोट रैफर कर दिया।
महिंद्र की पत्नी 33 वर्षीय कमला देवी ने बताया कि शुक्रवार रात को करीब 8 बजे उसके पति ने उसे बताया था कि तीन-चार दिनों से पड़ौस में रहने वाले अनिल, सुनील तथा महेश उसके पीछे लगे हुए हैं। उसे उनसे जान का खतरा है। लेकिन उस समय उन्होंने कोई कारण नहीं बताया।
उधर युवक पर हमले की सूचना पाकर किलियांवाली पुलिस चौकी प्रभारी एएसआई जीत सिंह तथा एचसी हरबंस सिंह अपने दलबल के साथ 8 बजकर 45 मिनट पर घटना स्थल पर पहुंची। एएसआई जीत सिंह ने बताया कि पुलिस ने वारदात में प्रयुक्त किए गए कापों, डंडों तथा बैसबॉल बैट तथा हमलावर की साईकिल को बरामद किया है। हमले का कारण सामने नहीं आ रहा है। घायल महिंद्र के ब्यानों के बाद अगली कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

रात 11 बजे पब्लिक एरिया में घमासान, थाना में जुटे लोग


डबवाली (लहू की लौ) शुक्रवार रात को वार्ड नं. 5 के पब्लिक क्लब एरिया में खूब घमासान हुआ। दो पक्षों में हुई भिड़ंत में 12वीं के छात्र सहित तीन युवक घायल हो गए। घायलों को उपचार के लिए सरकारी अस्पताल में लाया गया। बाद में आरोपी युवकों पर कार्रवाई की मांग को लेकर रात करीब 11.30 बजे एक पक्ष के लोग भारी संख्या में थाना शहर में जमा हो गए। कार्रवाई का आश्वासन पाने के बाद ही ये लोग वापिस हुए। इधर शनिवार से पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।
एक पक्ष के घायल 19 वर्षीय हैप्पी पुत्र दाना राम पूर्व एमसी निवासी वार्ड नं. 5 ने बताया कि अक्सर कुछ युवक उनकी गली से तेज रफ्तार में बाईक निकालते हैं। तीन दिन पूर्व उसने तेज रफ्तार से जा रही एक बाईक को रूकवाया। जिसे सोनू नामक युवक चला रहा था। उसे गली से बाईक को धीमा करके गुजारने की सलाह दी। लेकिन वह उसे धमकी देता हुआ वहां से चला गया। शुक्रवार रात करीब 10 बजे वह कबीर चौक से सॉफ्टी लेकर गली में आ रहा था, उसे अकेला पाकर सोनू, शरीफ, काका बगैरा ने उसे पीट डाला। परिजनों ने बीच में पड़कर उसे आरोपियों से छुड़वाया और घर ले आए। इसकी शिकायत करने के लिए उसके परिजन गोल बाजार पुलिस चौकी में गए हुए थे कि पीछे से उपरोक्त युवकों ने अपने साथियों के साथ उसके घर पर हमला कर दिया। जिससे उसके तथा उसके चचेरे भाई सुरेंद्र (20) के चोटें आई।
इधर दूसरे पक्ष के घायल सोनू (20) निवासी डबवाली ने बताया कि उसकी गाड़ी किराए पर सालासर गई थी। किराया लेने के लिए वह इस वार्ड में रह रहे काका नामक युवक के पास गया था। किराया लेकर वह वापिस लौट रहा था। रास्ते में उसके एक मित्र सागर को दाना राम, हैप्पी, प्रवीण बगैरा घेरे हुए थे। जब उसने एतराज किया तो ये लोग उस पर टूट पड़े। सागर ने भागकर अपनी जान बचाई। उसके परिजनों को मोबाइल से सूचित किया। उसके परिजनों ने उसे घायल अवस्था में अस्पताल पहुंचाया।
पब्लिक क्लब एरिया में हुए घमासान के बाद वार्ड नं. 5 के पूर्व एमसी दाना राम के नेतृत्व में उनकी गली वासी भारी संख्या में रात्रि 11.30 बजे थाना शहर में पहुंचे। उन्होंने पुलिस से घर पर हमला करके दो युवाओं को चोटें मारने वाले आरोपियों को गिरफ्तार करने की मांग की। थाना में एएसआई राजकुमार से पुलिस कार्रवाई में विलंब की भी शिकायत की। साथ में एरिया में गश्त बढ़ाए जाने की भी मांग रखी। एएसआई राजकुमार से आरोपियों के विरूद्ध कार्रवाई का आश्वासन मिलने के बाद गुस्साए लोग शांत हुए।
गोल बाजार पुलिस चौकी के प्रभारी एसआई कृष्ण कुमार ठाकुर ने बताया कि एमएलआर उनके पास आई है। घायलों के ब्यानों के बाद ही अगली कार्रवाई की जाएगी।