युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

30 मई 2010

सरपंच पद मिला 11 लाख में

डबवाली (लहू की लौ) जिला सिरसा के गांव पन्नीवाला मोरिकां में चुनाव न हों इसके लिए प्रत्याशियों में पहले बोली से सरपंची नीलाम करने का प्रयास किया गया। लेकिन बाद में गांव के मौजिज व्यक्तियों ने 11 लाख में सरपंची पर सर्वसम्मति करवाते हुए यह राशि गांव में बने एक डेरा और गुरूद्वारा को दिला दी।
डबवाली खण्ड के गांव पन्नीवाला मोरिकां में वीरवार को गांव के गणमान्य लोगों ने सार्वजनिक बैठक की। जिसमें सरपंच पद का चुनाव लड़ रहे अमरजीत सिंह (30) पुत्र दर्शन सिंह, जगदीश (50) पुत्र आत्मा सिंह, जगदीप सिंह (32) पुत्र साधु सिंह, इकबाल सिंह (30) पुत्र मुख्तियार सिंह, गमदूर सिंह (50) पुत्र सरवन सिंह, जगसीर सिंह (40) पुत्र टेक सिंह, लखवीर (55) पुत्र ज्वाला सिंह, हरमन्दर सिंह (35) पुत्र अंग्रेज सिंह, बलविन्द्र (29) पुत्र बन्ता सिंह, नगिन्द्र सिंह (50) पुत्र गुरदेव सिंह, बलकरण सिंह (35) पुत्र गुरदेव सिंह जोटा, अमरीक (30) पुत्र साधु सिंह को भी बुलाया गया। इस बैठक में गांव के डेरा बाबा ज्ञान नाथ के प्रमुख फलाई नाथ भी मौजूद थे। इसके अतिरिक्त कांग्रेसी नेता जग्गा सिंह बराड़ को भी आमंत्रित किया गया था। बैठक में सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि गांव में सरपंच का चयन शांतिमय तरीके से होना चाहिए और चुनाव की नौबत न आये। इसलिए सर्वसम्मति से फैसला ले लिया जाये। इसके साथ ही सरपंच पद पर सर्वसम्मति होने से गांव का 100 साल पुराना रिकॉर्ड भी टूट जाएगा।
इस मौके पर उपस्थित प्रत्याशियों ने सबसे पहले यह मांग रखी कि जो सरपंची पद के लिए अधिक बोली देगा वह स्वीकार होगा। जिस पर बोली 10 लाख रूपये से स्टार्ट हुई। देखते-देखते बोली 15 लाख रूपये तक पहुंच गई। लेकिन उपस्थित गणमान्य व्यक्तियों ने इसे स्वीकार नहीं किया। बल्कि आपसी सहमति से यह तय हो गया कि सरपंच पद का प्रत्याशी जगदीप सिंह (32) पुत्र साधु सिंह 11 लाख रूपये की राशि देगा। मोहर लगते ही जगदीप सिंह 11 लाख रूपये की नकद राशि ले आया। इस राशि को गांव में बने डेरा तथा गुरूद्वारा पर खर्च करने के अतिरिक्त बाकी बची राशि को गांव के विकास पर खर्च करने पर सहमति हुई। बताते हैँ कि यह राशि डेरा के प्रमुख फलाई नाथ के पास रख दी गई।
गांव के निर्विरोध चुने गये सरपंच जगदीप सिंह ने इस बात को स्वीकार किया कि उसने 11 लाख रूपये की राशि दी है। यह राशि डेरा और गुरूद्वारा के विकास के लिए दी गई है।
मौका पर उपस्थित जग्गा सिंह बराड़ ने बताया कि गांव के लोगों की इच्छा के अनुरूप सरपंच पद पर सर्वसम्मति हुई है। उन्होंने कहा कि सरपंच चुने गये जगदीप सिंह ने अपनी इच्छा अनुसार 11 लाख रूपये की राशि डेरा के प्रमुख को सौंपी है। उनके अनुसार इस राशि को गांव के लोगों की कमेटी गठित करके कमेटी द्वारा खर्च की जाएगी। बराड़ ने इस बात की पुष्टि की कि जब उसे बुलाया गया था तो मौका पर सरपंच पद की बोली लग रही थी। जिसे उसने रोका और कहा कि पैसे के बल पर नहीं बल्कि गांव में भाईचारे की बदौलत सहमति हो, जो हुई।

ब्लू क्लीपिंग को टवीटर और फेसबुक से जोड़ा

डबवाली (लहू की लौ) साईबर अपराध करने वाले लोगों ने जिला सिरसा की पुलिस को चुनौती देते हुए डबवाली कांड के नाम से इंटरनेट पर उतारी गई ब्लू फिल्म की क्लिपिंग को अब यूटयूब के साथ-साथ वीयूक्लिप.कॉम पर भी उतार दिया है। पुलिस अभी तक साईबर अपराधियों के  सिरे को ही ढूढ़ रही है। लेकिन साईबर अपराध करने वाले ने पुलिस को एक और चुनौती देते हुए डबवाली कांड की अश्लील क्लिपिंग को दो भागों में वीयूक्लिप.कॉम पर उतारा ही नहीं बल्कि इसे पूरे संसार में अधिक प्रयोग की जाने वाली सोशल नेटवर्किंग साईट टवीटर और फेसबुक के साथ भी जोड़ दिया है।
जिस प्रकार से साईबर अपराधी कार्य कर रहा है उससे लगता है कि अपराधी शातिर दिमाग का है और इंटरनेट का अच्छा जानकार है। यह भी पता चला है कि डबवाली से 38 किलोमीटर दूर पंजाब का शहर बठिंडा इन क्लिपिंग की सीडी के लिए मशहूर हो चला है। कुछ लोग वहां से खरीद कर सीडी को डबवाली ला रहे हैं और उसकी कॉपी करके धड़ल्ले से बेच रहे हैं।
मोबाइल पर भी इस अश्लील क्लिपिंग का तीसरा पार्ट भी जारी करके युवाओं में सनसनी फैला दी है। तथ्य तो यह है कि पुलिस के पास इस अश्लील क्लिपिंग को लेकर न तो लड़के वालों ने और न ही लड़की वालों ने इसकी शिकायत दर्ज करवा कर जांच की मांग की है और न ही पुलिस ने इस अपराध में दोषी किसी व्यक्ति को अभी तक पूछताछ के लिए पकड़ा है। हालांकि इस क्लिपिंग की सीडी और मोबाइल पर इसे धड़ल्ले से डाऊनलोड किया जा रहा है और मोबाइल पर नई साईट का नाम भी दिया जा रहा है।
इस संबंध में डबवाली के डीएसपी बाबू लाल ने कहा कि अभी तक पुलिस किसी सिरे तक नहीं पहुंच पायी है। जब इसमें प्रगति होगी तो बता दी जायेगी। फिलहाल उन्हें कोई शिकायतकर्ता ही नहीं मिल रहा है।

ब्लू फिल्म की क्लीपिंग से युवा हो रहे हैं पथ भ्रष्ट

डबवाली (लहू की लौ) इंटरनेट और मोबाइल पर धड़ल्ले से चलने वाली डबवाली कांड नामक ब्लू फिल्म की क्लीपिंग इतनी लोकप्रिय हो चुकी है कि एक इंटरनेट कैफे पर यह क्लीपिंग जोरशोर से दिखाई जा रही है। जबकि पुलिस फिलहाल न तो इस कैफे को ढूंढ़ सकी है और न ही इसकी जांच को लेकर कड़ा रूख अख्तियार कर पाई है। प्राप्त जानकारी अनुसार पिछले तीन दिनों से डबवाली कांड नामक अश्लील क्लिपिंग चर्चा का विषय बनने के साथ-साथ युवाओं को पथ भ्रष्ट करने में भी अपनी भूमिका अदा कर रही है। चूंकि इस ब्लू फिल्म को इंटरनेट पर एक मिनट 12 सैकेंड की दिखाई गई है और मोबाइल पर यहीं क्लीपिंग दो भागों में 6 मिनट 24 सैकेंड की है। हालांकि कहा तो यह भी जा रहा है कि इस फिल्म की ब्लू सीडी एक घंटा से ऊपर की है। बताया जा रहा है कि यह क्लिपिंग भी बाजार में उतारी जा चुकी है। एक साईबर कैफे पर तो 20 रूपये लेकर दिखाई जा रही है। प्रशासन इस संबंध में फिलहाल सुस्त नजर आ रहा है।  इस सन्दर्भ मेंं जब डबवाली के डीएसपी बाबू लाल से बातचीत की गई तो उन्होंने कहा कि अपराधी का पता लगाया जा रहा है कि किसने इसको तैयार किया और फिर मोबाइल और इंटरनेट पर डाऊनलोड किया। जब उनसे पूछा गया कि क्या इसकी जांच के दौरान किसी व्यक्ति को पूछताछ के लिए हिरासत मेें लिया गया है तो उनका कहना था कि फिलहाल पुलिस को इसका सिरा नहीं मिल पाया है।
स्कूल के विद्यार्थियों में भी इस क्लिपिंग को लेकर भी उत्सुकता बढ़ रही है जिसके चलते इस क्लिपिंग के विद्यार्थियों के मोबाइल पर पहुंच जाने से उनके मार्ग से भटक जाने का खतरा पैदा हो गया है। अगर समय रहते इस पर नियंत्रण स्थापित न किया जा सका तो यह समाज के लिए अहित कर साबित होगी।

गंगा में वोट को लेकर झगड़ा

डबवाली (लहू की लौ) वोटों को लेकर गांव गंगा में हुए झगड़े में एक युवक घायल हो गया। जिसे उपचार के लिए डबवाली के सिविल अस्पताल में दाखिल करवाया गया। घायल की बाजू तथा पेट पर चोट आई है।
घायल कश्मीर सिंह (25) पुत्र करतार सिंह निवासी गंगा ने बताया कि वह भट्ठा मजदूर है। शुक्रवार रात को अपना काम निपटाकर वह घर में आया ही था कि उसी समय गांव के भूंडा, रिम्पा, किंदा बगैरा ने उसे आवाज लगाई। घर से बाहर निकलते ही उन्होंने उस पर तेजधार हथियारों से हमला करके चोटें मारी। कश्मीर ने बताया कि झगड़े का कारण वोट है।
उसके अनुसार वार्ड नं. 12 से गेज सिंह तथा भोला सिंह पंच पद के लिए चुनाव लड़ रहे हैं। वह भोला सिंह की हिमायत करता है। लेकिन गेज सिंह के मददगार उस पर उन्हें वोट देने का दबाव डालते हैं। लेकिन ऐसा करने से उसने साफ इंकार कर दिया। इसी के चलते भूंडा, रिम्पा तथा किंदा निवासी गांव गंगा ने उस पर तेजधार हथियारों से हमला करके चोटें मारी। कश्मीर के अनुसार तीन माह पूर्व भी चुनावी रंजिश के चलते उक्त लोगों ने उस पर हमला करके चोटें मारी थी।
इस मामले के जांच अधिकारी तथा गौरीवाला पुलिस चौकी के एएसआई हंसराज ने बताया कि घायल को गोरीवाला पीएचसी से डबवाली में एक्सरे के लिए रैफर कर दिया है और  एक्सरे की रिपोर्ट आने के बाद ही आगामी कार्यवाही अमल में लाई जायेगी।

पन्नीवाला रूलदू में गोली चली

डबवाली (लहू की लौ) गांव पन्नीवाला रूलदू में खेत में पानी लगाने को लेकर दो पक्षों में हुए झगड़े में एक पक्ष पर दूसरे पक्ष ने गोलियां चलाने का आरोप लगाया है।
थाना सदर पुलिस डबवाली में की शिकायत में रणजीत सिंह (31) पुत्र छोटा सिंह ने आरोप लगाया है कि उसकी पानी की बारी थी लेकिन उनके ही गांव के इकबाल सिंह ने उसे पानी लगाने से रोका। जब उसने इसका विरोध किया तो इकबाल सिंह ने 12 बोर की देसी पिस्तौल के साथ दो हवाई फायर करके उसे जान से मारने की धमकी दी। जांच अधिकारी तथा थाना सदर पुलिस के एएसआई जय सिंह ने बताया कि रणजीत सिंह के ब्यान पर इकबाल सिंह पुत्र सतकरतार सिंह के खिलाफ धारा 285/506 आईपीसी तथा आर्मज एक्ट के तहत केस दर्ज करके मौका से चले दो कारतूस बरामद करके आगामी कार्यवाही शुरू कर दी है।

16 मई 2010

इंटरनेट पर चल रही ब्लू क्लीपिंग पर शिकंजा कसने की तैयारियां शुरू

डबवाली (लहू की लौ) यूटयूब पर डबवाली कांड के बैनर तले चल रही ब्लू फिल्म की क्लिपिंग का मामला पुलिस के आला अधिकारियों तक जा पहुंचा है। पुलिस ने इस ब्लू फिल्म को लेकर अपनी जांच शुरू कर दी है।
पता चला है कि डबवाली में चर्चा का विषय बनी डबवाली कांड की ब्लू फिल्म की क्लिपिंग का मामला पुलिस तक पहुंंचने के बाद इस साईट को पुलिस के आला अधिकारियों ने आज जांचा और इसके बाद अधिकारी इस बात का पता लगाने में जुट गये हैं कि यह फिल्म किसने तैयार करवाई और किसने बनाई तथा इसे किस प्रकार से नेट पर डाला गया।  चर्चा है कि एक युवक अपना मोबाइल लेकर एक कंप्यूटर वाले के पास गाने डाऊन लोड करवाने के लिए ले गया और उस कंप्यूटर वाले की निगाह मोबाइल में रखी ब्लू फिल्म पर पड़ी तो उसने उसकी कॉपी कंप्यूटर में कर ली और बाद में अन्य मोबाइल पर एमएमएस के जरिये पहुंचने लगी। जिससे पूरे नगर में हड़कम्प मच गया। पुलिस और खुफिया विभाग सक्रिय हो गया।
इंटरनेट पर और मोबाइल में डाली जा रही अश्लील वीडियो क्लीपिंग के संदर्भ में जब डीएसपी बाबू लाल से बातचीत की गई तो उन्होंने कहा कि इस प्रकार की शिकायतें पुलिस को मिली हैं और एसपी सिरसा कार्यालय से इन साईटों को बन्द करवाने के लिए प्रयास शुरू हो चुके हैं। शीघ्र ही इन साईंटों को बन्द करवा दिया जाएगा और जो इस प्रकार की शरारत करेगा, उसके खिलाफ कार्यवाही होगी।

चर्चा का विषय बनी ब्लू फिल्म की क्लीपिंग

डबवाली (लहू की लौ) डबवाली कांड नामक एक ब्लू फिल्म की क्लीपिंग शुक्रवार को दिनभर शहर में चर्चा का विषय बनी रही। फिल्म की क्लीपिंग में नगर ही युवक-युवती को अश्लील हरकतें करता हुआ दिखाया गया है। इतना ही नहीं दो सप्ताह पूर्व इसे किसी व्यक्ति ने इंटरनेट से जोड़ दिया है।
जानकारी अनुसार इस क्लीपिंग को लेकर शहर में दिन-भर हलचल होती रही। लोग इस वीडियो की सीडी या क्लीपिंग के लिए सीडी विक्रेताओं तथा मोबाईल शॉप के चक्कर लगाते रहे। बताते हैं कि यह फिल्म करीब डेढ़ घण्टा की है। लेकिन मोबाइल शॉप द्वारा मोबाइलों में डाऊनलोड की जा रही इस वीडियो की क्लीपिंग मात्र 8 मिनट है। इंटरनेट पर 1 मिनट की वीडियो क्लीपिंग अपलोड की गई है। यह भी जानकारी प्राप्त हुई है कि वीडियो को बीती 26 अप्रैल को इंटरनेट पर डाला गया है। इंटरनेट पर डालने के लिए एक वेबसाईट का इस्तेमाल किया गया है। यह भी पता चला है कि कुछ लोग 200-200 रूपये लेकर मोबाइल पर इस क्लीपिंग को डाल रहे हैं।

11 मई 2010

डेरा फिर मुश्किल में

डबवाली (लहू की लौ) डेरा सच्चा सौदा सिरसा के पूर्व प्रबन्धक फकीर चन्द प्रकरण की जांच के लिए 5 दिनों से सिरसा में डेरा डाले बैठी सीबीआई टीम ने आज दूसरी बार गांव दीवानखेड़ा का दौरा किया। करीब एक दर्जन गवाहों के ब्यान दर्ज किये। गांव की पंचायत से फकीर चन्द की सम्पत्ति और रिश्तेदारों आदि के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त की।
सीबीआई इंस्पेक्टर जेसी तिवाड़ी तथा हैड कांस्टेबल विपिन कुमार आज सुबह 8.30 बजे अचानक डबवाली नगर के बठिण्डा चौक में पहुंचे। फकीर चन्द के भतीजे तथा थ्री व्हीलर चालक चेतन कुमार से पूछताछ की। इसके बाद सुबह करीब 9.15 पर गांव दीवानखेड़ा के सरपंच राजेन्द्र बिश्नोई के निवास स्थान पर पहुंचे। उन्होंने वहां पर करीब एक दर्जन लोगों के ब्यान कलमबद्ध किये। पत्रकारों से बातचीत करते हुए गांव के सरपंच राजेन्द्र बिश्नोई ने बताया कि आज दूसरी बार सीबीआई टीम दीवानखेड़ा पहुंची। फकीर चन्द प्रकरण में करीब एक दर्जन लोगों से पूछताछ की और तथ्य जुटाए। सीबीआई टीम को उन्होंने बताया कि फकीर चन्द 1965 से डेरा में बतौर प्रबन्धक नियुक्त थे और अक्सर डेरा में रहते थे। लेकिन गांव में दु:ख-सुख में शरीक होने के लिए कभी-कभार आते थे। लेकिन पिछले 20 वर्षों से उनका कोई अता पता नहीं है। वर्ष 1990 में उन्हें आखिरी बार उनके भतीजे चेतन दास पुत्र रामदास की शादी में गांव में देखा गया था। उसके बाद वे कभी भी गांव में दिखाई नहीं दिये। डेरा से वे गायब हुए हैं। न तो उनके मृत शरीर को गांव में लाया गया और न ही उनके शरीर का संस्कार गांव में किया गया है। राजेन्द्र बिश्नोई ने कहा कि सीबीआई टीम जांच कर रही है। वे भी चाहते हैं कि फकीर चन्द के लापता होने के कारणों का सही पता लग सके।
सूत्रों से मिली जानकारी अनुसार गांव की पंचायत ने अपनी लेटरपेड पर लिखकर सीबीआई को फकीर चन्द के बारे में आवश्यक जानकारी मुहैया करवाई है। सूत्र बताते हैं कि लेटर पेड पर फकीर चन्द की जमीन-जायदाद, रिश्तेदारों तथा फकीर चन्द के शव का गांव में दाह संस्कार न करने सम्बन्धी विस्तार से वर्णन किया गया है। फकीर चन्द के भतीजे एवं ब्लाक समिति डबवाली के सदस्य हंसराज पुत्र लक्ष्मण दास निवासी गांव दीवानखेड़ा ने पत्रकारों को बताया की फकीर चन्द उनके फूफा थे। उन्होंने सीबीआई को बताया कि उन्होंने आखिरी बार 1990 में फकीरचन्द को गांव में देखा था। वे अक्सर डेरा में रहते थे। उन्होंने सीबीआई को यह भी जानकारी दी कि जब फकीर चन्द की बहन लक्ष्मी देवी का निधन हुआ था, उस समय लक्ष्मी देवी का दाह संस्कार डेरा में ही किया गया था। उस समय फकीर चन्द भी वहां उपस्थित थे। लेकिन पिछले 20 वर्षो से उनका कोई पता नहीं। डेरा से वे गायब हुए हैं। गांव में उनके मृत शरीर का अन्तिम संस्कार नहीं किया गया। सीबीआई ने गांव की पूर्व महिला सरपंच कर्मजीत कौर के पति गुरतेज सिंह तेजा के ब्यान भी दर्ज किये हैं। पत्रकारों से बातचीत में गुरतेज सिंह ने बताया कि वर्ष 2000 से 2005 तक उसकी पत्नी गांव की सरपंच थी। नवम्बर 2004 में फकीर चन्द का भाई रामदास दो पुलिसकर्मियों के साथ उसके पास आया और फकीरचन्द की मृत्यु सम्बन्धी प्रमाण पत्र की मांग करने लगा। लेकिन फकीर चन्द के शरीर का दाह संस्कार गांव में नहीं हुआ था। इसके चलते उसने प्रमाण पत्र बनाने से साफ इंकार कर दिया। हालांकि रामदास के साथ आये दो पुलिस कर्मियों ने उस पर दबाव बनाने की कोशिश की। सूत्रों से मिली जानकारी अनुसार फकीर चन्द के भाई रामदास ने सीबीआई को जो ब्यान दर्ज करवाये हैं, उसमें उन्होंने प्रमाण पत्र के लिए वर्ष 2004 में महिला सरपंच के पति गुरतेज के पास जाने की बात स्वीकारी है। ज्ञातव्य रहे कि किसी भी मृत व्यक्ति के संस्कार सम्बन्धी प्रमाण पत्र को पंचायत से 21 दिन के भीतर प्राप्त करना होता है। फकीर चन्द के भाई रामदास के पुत्र चेतन कुमार निवासी डबवाली तथा ईसर दास के पुत्र पुरूषोत्तम निवासी दीवानखेड़ा के भी सीबीआई ने ब्यान दर्ज किये हैं।

05 मई 2010

भाखड़ा में डूबे सोनू का शव मिला

डबवाली (लहू की लौ) राजस्थान कैनाल में कैनाल के एक छोर से दूसरे छोर तक जाने की दौड़ में लगे दो दोस्तों में से गायब हुए युवक सोनू उर्फ रमेश कुमार (17) पुत्र मनी राम निवासी सुकेराखेड़ा का 32 घण्टे के बाद सुकेराखेड़ा पुल से एक किलोमीटर दूर पानी में तैरता हुआ शव मिल गया।
गांव की सरपंच पार्वती देवी के पति ओमप्रकाश (38) ने बताया कि सोनू को ढूंढऩे के लिए आज दूसरे दिन 14 फुट गहरे पानी में गांव के तैराक युवकों को उतारा गया। राजस्थान कैनाल के तीन पुलों पर ग्रामीणों के निगरानी दल सोनू के जीवित या मृत निकलने की आस लगाये हुए बैठे रहे। उनके अनुसार 7-7 किलोमीटर पर स्थित राजस्थान कैनाल के सुकेराखेड़ा पुल, जण्डवाला बिश्नोइयां पुल तथा कालुआना पुल पर ग्रामीणों के दस्ते तैनात कर दिये गए। 32 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद शाम को करीब 6 बजे सुकेराखेड़ा पुल से एक किलोमीटर दूर बुर्जी नं. 534 के नजदीक लापता हुए सोनू का शव राजस्थान कैनाल में तैरता हुआ दिखाई दिया। तुरन्त लोगों ने नहर में कूदकर उसे बाहर निकाल लिया। मौका पर पहुंचकर चौटाला पुलिस ने शव को अपने कब्जे में ले लिया।
ज्ञातव्य रहे सोमवार को सुबह 11 बजे गांव सुकेराखेड़ा के दो हमउम्र दोस्त सोनू और राजकुमार राजस्थान कैनाल में नहाने के लिए उतरे थे। नहाते-नहाते वह 220 फुट चौड़े एक छोर से दूसरे छोर तक जाने के लिए एक-दूसरे की प्रतियोगिता पर उतर आये। लेकिन सोनू सांस चढऩे के कारण अधर में ही लापता हो गया जबकि राजकुमार दूसरे छोर तक पहुंचने में सफल रहा।
सरपंच ओमप्रकाश के अनुसार सोनू 10वीं फेल था और खेत मजदूर था। वह एक हंसमुख युवक होने के कारण सभी उसे प्यार करते थे। किसी को यह मालूम नहीं था कि वह नहाने जाएगा और फिर लौटकर वापिस घर नहीं आएगा।
चौटाला पुलिस चौकी के प्रभारी एसआई जीत सिंह कुंडू मौका पर पहुंचे और ग्रामीणों के ब्यान दर्ज किये।

राजस्थान कैनाल को पार करता युवक डूबा

डबवाली (लहू की लौ) राजस्थान कैनाल के एक छोर से दूसरे छोर तक जाने की दो दोस्तों में क्या ठनी एक दोस्त बीच में ही पानी में गायब हो गया। जबकि दूसरे दोस्त ने बाहर निकलकर ग्रामीणों को इसकी जानकारी दी और अब पूरा गांव लापता हुए युवक को ढूंढ़ रहा है। प्राप्त जानकारी अनुसार गांव सुकेराखेड़ा के दो युवक सोनू (17) पुत्र मनी राम, राजकुमार (17) पुत्र रामकिशन गांव में से बहने वाली राजस्थान कैनाल पर सुबह करीब 11 बजे नहाने के लिए गये थे। लेकिन एक छोर पर नहाते-नहाते अचानक दोनों दोस्तों ने राजस्थान कैनाल के एक छोर से दूसरे छोर तक 220 फुट चौड़े मार्ग को पार करने की ठान ली। दोनों ही दोस्त पानी के बीच कूद पड़े और संघर्ष करते हुए दोनों में से राजकुमार उर्फ राजू तो नहर को पार कर गया। लेकिन सोनू रास्ते में दम चढऩे से गायब हो गया।
इस घटना की सूचना राजू ने गांव में जाकर दी। जिस पर गांव की सरपंच पार्वती देवी के पति ओमप्रकाश (38) अन्य ग्रामीणों के साथ मौका पर पहुंचे। इसकी पुष्टि करते हुए ओमप्रकाश ने बताया कि सोनू को ढूंढने के लिए लोहगढ़ से दो गोताखोर भी बुलाये गये। लेकिन पांच घण्टे के कड़े संघर्ष के बावजूद भी गोताखोरों के हाथ सफलता नहीं लग पाई। हालांकि नहर में पानी 14 फुट गहरा है। उन्होंने यह भी बताया कि इस घटना की सूचना पाकर डीएसपी डबवाली बाबू लाल अपने दलबल सहित मौका पर पहुंचे। अब ग्रामीणों ने सोनू को ढूंढने के लिए इस नहर पर निगरानी करनी शुरू कर दी है। जिसके लिए 20 लोग तैनात किये गये हैं। 7-7 लोगों के तीन ग्रुप नहर पर अपनी निगाहें टिकाये हुए हैं और रोशनी की व्यवस्था भी ग्रामीणों द्वारा नहर पर की गई है।
डीएसपी बाबू लाल ने बताया कि ग्रामीणों ने पुलिस को सूचना दी कि गांव सुकेराखेड़ा के दो लड़के राजस्थान कैनाल में नहा रहे थे। जिसमें से एक डूब गया। जिसकी सूचना पाकर वे भी मौका पर पहुंचे। पुलिस ने मौका पर दो गोताखोरों को डूबे हुए युवक को निकालने के लिए बुलाया था। थाना सदर प्रभारी भगवान दास ने बताया कि राजस्थान कैनाल से सोनू को ढूंढऩे के लिए पुलिस ने प्रयास किया। लेकिन पानी का बहाव काफी ज्यादा था। ग्रामीणों को नहर पर लगा दिया गया है। जब भी उन्हें शव दिखाई दे तो वे तुरन्त पुलिस को सूचित करें।