युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

11 जून 2011

मेन बाजार में गोली चली

डबवाली (लहू की लौ) नगर में असामाजिक तत्वों की गतिविधियां दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही हैं और लगता है कि प्रशासन अंकुश लगाने में बेबस है।वीरवार की रात को लगभग 8.30 बजे गोल बाजार के नजदीक एक कार चालक ने अपना दाहिना हाथ बाहर निकाला और फायर करता हुआ कार को तेजगति से भगा ले गया। जिससे दुकानदारों में दहशत फैल गई। यह घटना गोल बाजार पुलिस चौकी से महज 200 गज की दूरी पर घटित हुई। प्रत्यक्षदर्शियोंं ने बताया कि कार में से पिस्तौल से फायर करने वाला बड़े आराम से दहशत फैलाता हुआ निकल गया।
इस सन्दर्भ में गोल बाजार पुलिस चौकी के प्रभारी एसआई कृष्ण कुमार ने इस घटना से अनभिज्ञता प्रकट करते हुए बताया कि न तो उनके पास किसी दुकानदार ने शिकायत की है और न ही उन्हें जानकारी मिली है।

विपक्ष को विकास नहीं, नोटों की माला हजम होती है-सीएम

सिरसा। हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डïा ने कहा कि विपक्ष से सिरसा का विकास हजम नहीं हो रहा, उन्हें तो केवल नोटों की माला हजम होती है। अब जब प्रदेश में हर ओर विकास हो रहा है तो वे खिसयानी बिल्ली खम्भा नोचे की तर्ज पर बंद का आयोजन करवा रहे हैं।
    वे आज सिरसा शहर में परशुराम चौक के निकट अग्रवाल सदन और अरोड़वंश सदन की आधारशिला रखने के पश्चात आयोजित सम्मान समारोह में सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने आज 200 करोड़ रुपए से भी अधिक की सरकारी व सामाजिक परियोजनाओं की आधारशिला व उद्घाटन किया। सामाजिक परियोजनाओं में उपरोक्त दोनो सदनों की आधारशिला के साथ, श्री बाबा तारा चैरिटेबल सुपर स्पेशलिटी अस्पताल की आधारशिला, 96 किलोमीटर लम्बे गुरू गोबिन्द सिंह मार्ग का उद्घाटन, श्रीमती रतनी देवी सदन का शिलान्यास शामिल हैं। सरकारी परियोजनाओं में 72 करोड़ 23 लाख रुपए की लागत से पंजुआना में बनने वाले जलघर की आधारशिला, कंगनपुर रोड़ पर 5.70 करोड़ रुपए की लागत से बने पॉलीक्लनिक का उद्घाटन, 3 करोड़ 39 लाख रुपए की लागत से बने राजकीय संस्कृति मॉडल स्कूल का उद्घाटन, 7 करोड़ 63 लाख रुपए की लागत से बनने वाली रानिया रोड़ की फोरलेन का शिलान्यास शामिल हैं।
    प्रदेश के सभी जिलों में समान रूप से विकास करवाया जा रहा है। सिरसा में करवाए गए विकास के आंकड़े प्रस्तुत करते हुए उन्होंने कहा कि उनकी सरकार के सवा छ साल के  कार्यकाल में विभिन्न क्षेत्रों मे विकास कार्यो पर 2446.94 करोड़ रुपए की राशि खर्च की गई जबकि पूर्ववर्ती विपक्षी सरकार के 6 वर्ष के कार्यकाल में केवल मात्र 799 करोड़ रुपए की राशि खर्च की गई है। उन्होंने कहा कि सिरसा जिला में वर्तमान समय में 1098 करोड़ रुपए के कार्य प्रगति पर हैं।

    उन्होंने कहा कि केन्द्र में यूपीए और हरियाणा में कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में सभी वर्गो के हित के साथ-साथ किसानों के हितों क े लिए विशेष योजनाएं क्रियान्वित की गई हैं। उन्होंने कहा कि किसानों के हितों को देखते हुए ऋण राशि से ब्याज की दर 11 प्रतिशत से घटाकर चार प्रतिशत की गई और प्रदेश से उस काले कानून को हटाया गया जिसमें ऋणी किसानों को पकड़ कर जेलों मे ठूस दिया जाता था। इतना ही नहीं किसानों की जीनस के भाव में रिकार्ड वृद्धि की गई। उनकी सरकार के कार्यकाल में जीरी के भाव में 550 रुपए प्रति क्विंटल की वृद्धि की गई। उन्होंने कहा कि व्यापारी वर्ग को भी इस सरकार ने विभिन्न प्रकार की रियायतें दी हैं।
    मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार प्रदेश में जनसेवा की भावना और सामाजिक सौहार्द की भावना से कार्य कर रही है। आज सिरसा में समाज से जुड़ी परियोजनाओं की आधारशिला रखी गई है उससे समाज में एकता नया अध्याया शुरू होगा। उन्होंने कहा कि सिरसा शहर के बीचोंबीच अरोड़वंश और अग्रवाल सदनों के लिए जो जगह दी गई है उसक ा श्रेय स्थानीय विधायक व निकाय मंत्री श्री गोपाल कांडा तथा स्थानीय सांसद श्री अशोक तंवर को जाता है। उन्होंने यह भी कहा कि इन दोनों सदनों की जमीन की 89 लाख रुपए की कीमत श्री गोपाल कांडा ने दी है। इसके साथ वे दोनों  सदनों के निर्माण के लिए 21-21 लाख रुपए की राशि स्वयं देंगे और 10-10 लाख रुपए की राशि सांसद श्री अशोक तंवर देंगे।
    इस अवसर पर मुख्यमंत्री का स्वागत करते हुए सांसद श्री अशोक तंवर ने कहा कि हजारों करोड़ रुपए के विकास कार्य सिरसा संसदीय क्षेत्र में करवाए हैं इसके लिए मैं मुख्यमंत्री का आभार प्रकट करता हूं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार में गरीब, मजदूर, महिला, नौजवानों, किसानों के लिए अनेक कल्याणकारी योजनाएं लागू की हैं। सांसद ने कहा कि सिरसा में बिजली व्यवस्था में सुधार किया गया है। पूर्व की विपक्षी सरकार में 24 सब स्टेशन थे। कांग्रेस सरकार के आने के बाद सिरसा में 49 स्टेशनों का निर्माण किया गया है तथा 21 बिजली सब स्टेशन पाईप लाईन में हैं। उन्होंने कहा कि सिरसा क्षेत्र में पेयजल व सीवरेज की व्यवस्था सुदृढ़ की गई है। सांसद ने अग्रवाल व अरोड़वंश समाज के लिए जगह देने के लिए मुख्यमंत्री का धन्यवाद करते हुए कहा कि यह 40 साल से लम्बित मांग थी जिसे आज मुख्यमंत्री ने पूरा किया है। इनके पूरा होने से दोनों समाज में खुशी की लहर है।
    गृह राज्य व स्थानीय निकाय मंत्री श्री गोपाल कांडा ने मुख्यमंत्री का सिरसा में विभिन्न सौगातें देने के लिए आभार जताया और कहा कि आज का दिन ऐतिहासिक दिन है। मुख्यमंत्री ने आज चारों समाज अग्रवाल, अरोड़ा, गुज्जर व सिख समुदाय के लोगों की मांगे मानी हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे विकासपुरुष मुख्यमंत्री को समाज के लोग जीवन भर याद रखेंगे। आज प्रदेश में मुख्यमंत्री के नेतृत्व में चहुंमुखी विकास हुआ है। उन्होंने कहा कि आज मुख्यमंत्री के नेतृत्व में  हरियाणा में अभूतपूर्व विकास हुआ है। सिरसा शहर के लोगों ने आज 72.23 करोड़ रुपए की जल परियोजना की शुरूआत करके शहर की 2040 तक की पेयजल समस्या को खत्म किया है। इस परियोजना से शहर के लोगों को 135 लीटर प्रतिदिन प्रतिव्याक्ति आर ओ आधारित प्योरीफाईड पेयजल मिलेगा। इससे पूर्व अरोड़वंश और अग्रवाल समाज की ओर से मुख्यमंत्री को सम्मानित किया गया और दोनों समाज के लोगों ने एक सुर में मुख्यमंत्री का आभार जताया। वहीं धर्मशाला सदनों के निर्माण के लिए भूमि दिलवाने पर स्थानीय विधायक व सांसद का आभार प्रकट किया और सम्मानित किया।
    इस समारोह में हरियाणा के कृषि एवं पशुपालन मंत्री स0 परमवीर सिंह, लोक निर्माण विभाग के मुख्य संसदीय सचिव श्री प्रहलाद सिंह गिलाखेड़ा, जयबीर बाल्मीकि, मुख्यमंत्री के राजनीतिक सलाहकार, प्रो0 वीरेन्द्र ङ्क्षसह, प्रैस सलाहकार सुन्दरपाल, कान्फेड के चेयरमैन बजरंग दास गर्ग, पूर्व विधायक मनीराम केहरवाला, भरत सिंह बैनीवाल, पूर्व मंत्री कृष्णमूर्ति हुड़्डा, जगदीश नेहरा, प्रदेश कांग्रेस प्रतिनिध श्री गोबिन्द कांडा, जिला प्रधान मलकीत सिंह खोसा, होशियारी लाल शर्मा, अग्रवाल सभा के प्रधान श्री भागीरथ गुप्ता, प्रेम शर्मा, कृष्ण लाल सैनी, अरोड़वंश सभा के प्रधान वीरेन्द्र बाहिया, सदन के प्रधान बनवारी लाल चावला, उपप्रधान रामनारायण कक्कड़, सचिव राजेन्द्र मकानी, सुरेन्द्र भाटिया सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

दिहाड़ीदार मजदूर से तीन लाख की अफीम बरामद

डबवाली (लहू की लौ) थाना सदर पुलिस ने एक दिहाड़ीदार मजदूर को एक किलो 520 ग्राम अफीम दूध समेत काबू किया है। आरोपी का शुक्रवार सुबह उपमण्डल न्यायिक दण्डाधिकारी डॉ. अतुल मडिया की अदालत में पेश किया गया। अदालत ने आरोपी को पांच दिन के पुलिस रिमांड पर भेजने के आदेश दिए।
गुरूवार रात को थाना सदर के एसआई सीता राम, एएसआई महेंद्र सिंह, ईएएसआई महेंद्र सिंह, ईएएसआई बलवंत सिंह गांव सकताखेड़ा-लोहगढ़ मार्ग पर गश्त पर थे। पुलिस पार्टी को लोहगढ़ साईड से एक व्यक्ति आता हुआ दिखाई दिया। पुलिस पार्टी ने उसे रूकने के लिए कहा। लेकिन वह वापिस लोहगढ़ की ओर तेज गति से चलने लगा। पुलिस ने उसे काबू कर लिया। कंधे पर रखे काले रंग के बैग के बारे में पूछने पर वह कोई जवाब नहीं दे पाया। सूचना पाकर मौका पर डीएसपी बाबू लाल भी पहुंचे। डीएसपी की उपस्थिति में बैग को चैक किया गया। बैग में रखे पोलिथीन में से पुलिस को अफीम दूध बरामद हुआ।
मामले की जांच कर रहे थाना सदर के एसआई सीता राम ने बताया कि पकड़े गए आरोपी ने अपनी पहचान जय नारायण (45) पुत्र ठाकर राम निवासी गांव लटियालपुरा हाणियां थाना ओशिया जिला जोधपुर के रूप में करवाई है। प्राथमिक पूछताछ के दौरान आरोपी ने बताया कि यह अफीम दूध वह 20 हजार रूपए कीमत में भीलवाड़ा (राजस्थान) निवासी भंवर लाल से लेकर आया था और इसे उसने गांव लोहगढ़ के पास एक कंबाईन मालिक को देना था। लेकिन कंबाईन मालिक नहीं आया, वह अफीम दूध को वापिस ले जा रहा था। थाना प्रभारी के अनुसार आरोपी के खिलाफ एनडीपीएस एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है। शुक्रवार को अदालत में पेश करके उसका पांच दिन का पुलिस रिमांड ले लिया गया।
 बाजार में अफीम का भाव 40,000 रूपए प्रति किलोग्राम के आस-पास है। एक किलोग्राम अफीम दूध से पांच किलोग्राम अफीम बनती है। इस प्रकार थाना सदर पुलिस द्वारा पकड़े गए एक किलो 520 ग्राम अफीम दूध से करीब तीन लाख रूपए कीमत की अफीम तैयार की जा सकती है।
कैसे पहुंचा गांव लोहगढ़
पुलिस का कहना है कि मादक पदार्थ तस्करी करता पकड़ा गया व्यक्ति दिहाड़ी करके पेट पालने वाला मजदूर है। करीब एक माह पूर्व वह इस क्षेत्र में मजदूरी करने के लिए आया था। इस दौरान उसकी भेंट एक कम्बाईन मालिक से हुई। उसने कम्बाईन मालिक को 100 ग्राम अफीम दी। इस दौरान दोनों में डील हुई। डील के मुताबिक ही कम्बाईन मालिक को अफीम दूध देने के लिए जय नारायण ट्रेन के जरिए हनुमानगढ़ पहुंचा। हनुमानगढ़ से उसने यहां के लिए बस में सफर किया।

सबसे स्वच्छ गांव की पंचायत पर केस दर्ज करने के आदेश

डबवाली (लहू की लौ) स्वच्छता के मामले में प्रदेश की नंबर वन कालूआना ग्राम पंचायत विवादों में घिर गई है। डबवाली की अदालत ने एक इस्तगासे पर सुनवाई करते हुए पुलिस को देवीलाल पार्क गिराए जाने के मामले की जांच करके सरपंच सहित 12 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज करने के आदेश दिए हैं।
गांव कालूआना के लंबरदार प्रीतपाल (65) ने उपमण्डल न्यायिक दण्डाधिकारी डॉ. अतुल मडिया की अदालत में एक इस्तगासा दायर करके कहा था कि साल 2001-02 में गांव में पंचायत की करीब बीस एकड़ भूमि पर चौ. देवीलाल की याद में गांव के लोगों ने तत्कालीन सरकार की मदद से चौ. देवीलाल पार्क बनाया था। इस पार्क की स्थापना राजकीय रिकॉर्ड में भी है।
इस्तगासा में यह भी जिक्र किया गया है कि सूचना के अधिकार के तहत चौ. देवीलाल पार्क के बारे में संबंधित अधिकारी से सूचना मांगी गई थी। उसमें खण्ड विकास एवं पंचायत अधिकारी ने अपने पत्र क्रमांक 123, दिनांक 21.1.2011 द्वारा सूचित किया कि चौ. देवीलाल पार्क गांव कालूआना तहसील डबवाली (जिला सिरसा) में अस्तित्व में है और उस पर 1 लाख 77 हजार रूपए की राशि खर्च की गई है।
इस्तगासा में मुद्दई ने यह भी कहा कि जगदेव सहारण गांव कालूआना का वर्तमान सरपंच होने के साथ-साथ कांग्रेस का सक्रिय कार्यकर्ता है। वह इंडियन नेशनल लोकदल पार्टी से दुर्भावना पूर्ण द्वेष रखता है। अपने मन में इसी द्वेष से प्रेरित होकर सरपंच व पंचायत के आठ पंचों व अन्य ने 19.1.2011 और 20.1.2011 की मध्य रात्रि को चौ. देवीलाल पार्क स्थल की चारदीवारी जोकि 870 फुट के करीब थी, को जेसीबी मशीन लगाकर तोड़ दिया। इसके अतिरिक्त पार्क में लगे हुए वृक्षों को काट दिया। इस प्रकार से सरपंच ने चौ. देवीलाल पार्क का नामोनिशान मिटा दिया। सरपंच ने यह जानते हुए कि चौ. देवीलाल पार्क गांव के लोगों के लिए बना है, लोग इसमें सुबह-शाम सैर करके अपने स्वास्थ्य को तंदरूस्त रखते हैं। इसके बावजूद भी आरोपी ने पार्क की चारदीवारी को तोड़कर पब्लिक प्रॉपर्टी को तोड़कर नुक्सान पहुंचाया है। सरपंच ने पार्क में लगे हुए लाखों रूपए के वृक्ष भी कटवाकर और कम पैसे में कथित निलामी दिखाते हुए और खजाना में नाममात्र के पैसे जमा करवाकर बाकी पैसे खुद हजम करके सरकारी पैसे का गबन किया है।
अदालत ने बुधवार को इस इस्तगासा पर सुनवाई करते हुए इस मामले को सीआरपीसी की दफा 156 (3) के तहत थाना सदर डबवाली को भेजकर मामले की जांच करने के बाद गांव कालूआना के सरपंच जगदेव सहारण, पंच धौली राम, हनुमान, विनोद, जैना देवी, दलीप, महावीर, महावीर, बृजलाल, बिमला देवी, श्रवण निवासीगण गांव कालूआना, वीर सिंह, भागीरथ के खिलाफ दफा 427/409/120बी/34 आईपीसी के तहत केस दर्ज किए जाने के आदेश दिए हैं।