युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

23 नवंबर 2014

चार दोस्तों का अजब शौंक, मर्डर और लूट

-दो माह तक तीन प्रदेशों की पुलिस को छकाते रहे, दो अभी भी बाहर
-हरियाणा, पंजाब तथा राजस्थान के अलग-अलग थानों में दर्ज हैं हत्या, लूट तथा लड़ाई-झगड़े के मामले
-फिरौती लेकर नहीं, दोस्ती निभाने के लिये किये कतल


डबवाली (लहू की लौ) महज सत्रह दिनों में तीन प्रदेशों में तीन मर्डर, एक लूट। क्राईम के इस शानदार रिकॉर्ड के साथ फिर लूट की योजना। गिरोह का एक सदस्य पंजाब पुलिस की पकड़ में आया। जिसके बाद तीनों प्रदेशों की कई वारदातों से पर्दे हटते चले गये। तीन दिन की रिमांड अवधि के दौरान इस आरोपी ने सीआईए डबवाली के समक्ष अपने गुनाहों का काला चिट्ठा ब्यां किया, जिसे सुनकर पुलिस के होश भी फख्ता हो गये।

आरोपी ने यह कबूला
5 अगस्त 2014 की रात को डबवाली में सिरसा रोड़ पर खड़ी एक स्विफ्ट डिजायर कार को चार लोगों ने गन प्वाईंट पर छीन लिया था। मामले में संलिप्त आरोपी गोबिंद निवासी संगत कलां (बठिंडा) को सीआईए डबवाली ने राजस्थान जेल से प्रॉडक्शन वारंट पर हासिल करके तीन दिन का रिमांड हासिल किया था। रिमांड अवधि के दौरान आरोपी ने खुलासा किया कि 2 अगस्त 2014 को संगत में उसने अपने मित्र अमृतपाल उर्फ बब्बू निवासी हुसनर (थाना दियालपुरा), रमनदीप उर्फ रम्मी निवासी मशाना तथा मनोज उर्फ मौजी निवासी दियालपुर मिर्जा के साथ होटल संचालक की हत्या करनी थी, लेकिन उसके बदले किसी ओर की हत्या कर दी। इस मामले में पंजाब पुलिस उनका पीछा कर रही थी। इस दौरान वे चारों अमृतपाल की वरना गाड़ी से डबवाली पहुंचे। 5 अगस्त 2014 को सिरसा रोड़ पर गन प्वाईंट पर स्विफ्ट डिजायर लूट ली। महज तीन दिन में एक हत्या तथा लूट करने के बाद आरोपी गांव चौटाला में छिप गये। 14 दिनों तक अपने मित्रों के पास पनाह लेने के बाद 19 अगस्त 2014 को अपने मित्रों के साथ मिलकर संगरिया में टिब्बी अड्डा पर फायरिंग करके सोनू निवासी सकताखेड़ा तथा पेट्रोल निवासी जंडवाला बिश्नोईयां की हत्या कर दी। उस समय आरोपियों ने लूटी गई स्विफ्ट डिजायर का प्रयोग किया।
डिंग मंडी से बरामद हुई थी स्विफ्ट डिजायर
हरियाणा, पंजाब तथा राजस्थान के सीमावर्ती इलाके में दहशत फैलाने के बाद तीन राज्यों की पुलिस ने संयुक्त ऑपरेशन चलाया। जिसके बाद आरोपी डिंग मंडी के पास लूटी गई स्विफ्ट डिजायर छोड़कर भाग गये। 19 दिनों तक पुलिस की गिरफ्त से बाहर रखने के बाद आखिरकार सीआईए बठिंडा को सफलता मिली। सीआईए ने 7 अक्तूबर को रामपुराफूल में लूट की योजना बनाते हुये गोबिंद को दर दबोचा। उसके शेष साथी फरार हो गये। सीआईए ने उसके कब्जे से 315 बोर पिस्टल बरामद की। इसके बाद राजस्थान पुलिस ने दो युवकों की हत्या के मामले में उसका प्रॉडक्शन वारंट प्राप्त कर लिया। राजस्थान जेल में बंद होने के बाद सीआईए डबवाली ने उसे प्रॉडक्शन वारंट पर प्राप्त करके लूट मामले में शामिल तफ्तीश किया।
दोस्ती के लिये अपराध
सीआईए डबवाली प्रभारी राकेश कुमार ने बताया कि रिमांड अवधि के दौरान गोबिंद ने अमृतपाल, रमनदीप, तथा मनोज की पहचान करवाई है। चारों मित्र हैं। रमनदीप तथा मनोज शातिर अपराधी हैं। दोस्ती के लिये चारों अपराध करने से नहीं चूकते थे। उपरोक्त चारों पर हरियाणा, पंजाब तथा राजस्थान के विभिन्न थानों में लूट, हत्या तथा लड़ाई-झगड़े के मामले चल रहे हैं। अमृतपाल पंजाब की जेल में बंद है। पुलिस उसका प्रॉडक्शन वारंट हासिल करने का प्रयास करेगी।
जेल गया गोबिंद
सीआईए प्रभारी ने बताया कि रिमांड अवधि समाप्त होने के बाद गोबिंद को उपमंडल न्यायिक दंडाधिकारी परवेश सिंगला की अदालत में पेश किया गया। अदालत ने आरोपी को न्यायिक हिरासत में भेजने के आदेश दिये।


राजस्थान कैनाल में डूबा कैंटर, दो बाल-बाल बचे

डबवाली (लहू की लौ) शनिवार सुबह संगरिया की ओर से आया एक कैंटर गांव अबूबशहर के निकट राजस्थान कैनाल में डूब गया। कैंटर की खिड़की के शीशे तोड़कर चालक तथा परिचालक बाहर आ गये। जिन्हें ग्रामीणों ने सकुशल बाहर निकाल लिया। सरकारी एंबुलैंस ने उपचार के लिये दोनों को अस्पताल में पहुंचाया।
कैंटर चालक दुल्ला सिंह निवासी बठिंडा ने बताया कि वीरवार को कैंटर में साबुन भरकर वह परिचालक गुल्लू के साथ बीकानेर गया था। साबुन छोडऩे के बाद कैंटर लेकर शुक्रवार को वापिस बठिंडा के लिये निकल गये। शनिवार को सुबह करीब साढ़े छह बजे गांव अबूबशहर के पास उसकी आंख लग गई। इसी दौरान अनियंत्रित हुआ कैंटर राजस्थान कैनाल में गिर गया। वह कैंटर के शीशे तोड़कर छत पर चढ़ गया। फिर गुल्लू को निकाला। वे सहायता के लिये चिल्लाए।
शोर सुनकर आये ग्रामीण
राजस्थान कैनाल के निकट स्थित गौशाला की सेवा कर रहे जगदीश गोदारा तथा सुभाष देहडू आवाज सुनकर नहर पर पहुंचे। उन्होंने पड़ौस में पाईप का टुकड़ा उठाकर उसे नहर में फेंका। जिसे पकड़कर चालक तथा परिचालक बाहर आ गये। ग्रामीणों ने अलाव जलाकर दोनों को सर्दी से बचाने का प्रयास किया। मौका पर पहुंचे सरकारी एंबुलैंस चालक सतपाल ने उन्हें उपचार के लिये सरकारी अस्पताल डबवाली में पहुंचाया।

अस्पताल में फूट-फूटकर रोया दुल्ला सिंह
अस्पताल में डयूटी पर मौजूद चिकित्सक भारत भूषण ने मानवीय फर्ज निभाते हुये कांप रहे चालक तथा परिचालक को सहायता प्रदान की। लेकिन दुल्ला सिंह की आंखों में अश्रुधारा रूकने का नाम नहीं ले रही थी। वह फूट-फूटकर रोया। दुल्ला सिंह ने बताया कि उसकी भतीजी की शादी 3 दिसंबर को होनी है। उसके भाई की मृत्यु होने के कारण वह ही उसका सबकुछ है। उसने अपने मालिक को कहा था कि यह उसका आखिरी चक्कर है। आखिरी चक्कर में जान पर बन गई थी। अगर उसे कुछ हो जाता तो क्या होता? चिकित्सक सहित अस्पताल स्टॉफ ने उसके सकुशल होने का दिलासा देकर आंसू पोंछे।

बिना आधार सब्सिडी नहीं

डबवाली (लहू की लौ) बिना आधार कार्ड सिलेंडर मिलेगा, लेकिन सब्सिडी नहीं। नये वर्ष 1 जनवरी 2015 से यहीं होने वाला है। इंडेन की डबवाली गैस सर्विस के मैनेजर उमाशंकर ने बताया कि कुकिंग गैस सिलेंडर पर मिलने वाली सब्सिडी सीधी बैंक खातों में जमा होनी है। लेकिन यह आधार कार्ड के बिना नहीं होगी। केंद्र सरकार तथा कंपनी के निर्देशानुसार गैस उपभोक्ता अपने आधार कार्ड की फोटो कॉपी एजेंसी कार्यालय में जमा करवा सकते हैं। मैनेजर ने स्पष्ट किया कि आधार कार्ड के बिना गैस आपूर्ति में बाधा नहीं होगी। लेकिन उपभोक्ता सब्सिडी से वंचित हो सकते हैं।

ग्रामीणों की चेतावनी के बाद चार थानों की पुलिस ने डाला डूमवाली में डेरा

डबवाली (लहू की लौ) शुक्रवार को हुये बवाल के बाद गांव डूमवाली में शनिवार को भी स्थिति तनावपूर्ण रही। ग्रामीणों के सड़क मार्ग जाम करने की सूचना पर चार थानों की पुलिस ने गांव में मोर्चा संभाले रखा।
सुबह करीब 10 बजे पंजाब पुलिस की चार गाडिय़ों ने गांव में प्रवेश किया। गांव का चक्कर लगाने के बाद पुलिस बल ने डबवाली-बठिंडा रोड़ पर डेरा डाल लिया। सुबह से शाम तक पुलिस बल गांव में मौजूद रहा।  पुलिस बल ग्रामीणों की टोह लेने के लिये पूरा दिन सादी वर्दी में मुलाजिम भेजता रहा। बाद में जाम न लगाने की पुख्ता जानकारी मिलने पर वापिस हो गया।
ग्रामीणों ने दी थी जाम लगाने की धमकी : शुक्रवार को संगत के बीडीपीओ जगराज सिंह पुलिस बल के साथ पंचायती जमीन पर अवैध कब्जे को हटाने के लिये पहुंचे थे। जिसका ग्रामीणों ने विरोध किया था। पथराव कर जेसीबी का शीशा तक तोड़ डाला था। जेसीबी का शीशा तोडऩे के आरोप में पुलिस ने केस दर्ज करके तीन युवकों को गिरफ्तार किया था। पुलिस की इस कार्रवाई के खिलाफ ग्रामीणों ने डबवाली-बठिंडा रोड़ जाम करने की चेतावनी दी थी। जिस पर शनिवार को संगत, नथाना, कोटफत्ता तथा आनंदगढ़ थानों की पुलिस ने गांव डूमवाली में डेरा जमाये रखा।

बराड़ के निधन पर दु:ख जताया

डबवाली (लहू की लौ) हिसार से लोकसभा सांसद दुष्यंत चौटाला, सिरसा के विधायक मक्खन लाल सिंगला, पूर्व मुख्य संसदीय सचिव रामपाल माजरा, रतिया के विधायक प्रो. रविन्दर सिंह बलियाला, इनेलो के प्रदेश कार्यालय सचिव एन एस मल्हान, सिरसा के जिला अध्यक्ष पदम जैन, जिला शहरी अध्यक्ष प्रदीप मेहता, हल्का प्रधान बिकार सिंह हडोली, शहरी प्रधान रमेश सिंगला, जिला महासचिव जेके अग्रवाल, रमेश लॉली, रणबीर राणा, महावीर शर्मा व विनोद अरोड़ा ने इनेलो के प्रदेश प्रवक्ता व पार्टी के मीडिया प्रभारी राम सिंह बराड़ के पिता मिट्ठू सिंह बराड़ के निधन पर शोक व्यक्त करने उनके डबवाली स्थित निवास पर पहुंचे। उन्होंने बराड़ के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए शोक संतप्त परिवार के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की।

नई सब्जी मंडी में नप ने पहुंचाई रोशनी, सात दिन में तैयार होगा पार्किंग स्टेंड

डबवाली (लहू की लौ) अतिक्रमण के खिलाफ चल रहे हल्ला बोल अभियान के तहत गौशाला के पास बनी नई सब्जी मंडी में सुविधाएं मुहैया करवाने की मुहिम छेड़ते हुये नगर परिषद ने बिजली व्यवस्था को चकाचौंध कर दिया है। वहीं बस अड्डा में पार्किंग स्टेंड की प्रक्रिया शुरू कर दी है।
मुख्य बाजार से फल/सब्जी की रेहडिय़ां गौशाला के नजदीक शिफ्ट होने से बाजार की सूरत में निखार आ गया है। रेहड़ी मालिकों की समस्याओं को समझते हुये नगर परिषद ने गौशाला के नजदीक लाईट की व्यवस्था कर दी है। वहीं शौचालय का निर्माण भी करवाया जा रहा है। प्रशासन के इस कदम के साथ कदम मिलाते हुये शहर वासी भी निर्धारित जगह पर पहुंचकर खरीददारी करने लगे हैं। जिससे रेहड़ी मालिकों ने सकून की सांस ली है। चूंकि पिछले तीन दिनों से प्रशासन तथा रेहड़ी मालिकों के बीच चल रहे लुका छिपी के खेल से दोनों पक्षों को छुटकारा मिल गया है।
इधर पार्किंग स्टेंड की प्रक्रिया शुरू
न्यू बस स्टेंड रोड़ पर यातायात की समस्या को हमेशा के लिये समाप्त करने के उद्देश्य से बस अड्डा के भीतर पार्किंग स्टेंड की प्रक्रिया शुरू हो गई है। शनिवार को नगर परिषद के सचिव ऋषिकेश चौधरी तथा जेई सुरेंद्र कुमार मौका पर पहुंचे। उन्होंने स्टेंड का निरीक्षण करने के बाद खाका तैयार किया। जेई सुरेंद्र कुमार ने बताया कि पार्किंग स्टेंड के लिये करीब 130 गुणा 130 फुट का क्षेत्र कवर किया जायेगा। बस अड्डा की कार्यशाला वाले क्षेत्र को करीब छह फुट दीवार निकालकर अलग कर दिया जायेगा। स्टेंड में आने-जाने के लिये करीब पंद्रह फुट का रास्ता छोड़ा जायेगा।
नगर परिषद सचिव ऋषिकेश चौधरी ने बताया कि पार्किंग स्टेंड बनने से न्यू बस स्टेंड रोड़ पर खरीददारी के लिये आने-जाने वाले लोगों के साथ-साथ दुकानदारों को फायदा होगा। पार्किंग स्टेंड एक सप्ताह के भीतर तैयार हो जायेगा। जिसे रोड़वेज के हवाले कर दिया जायेगा। रोड़वेज इसे ठेका पर देगा।
प्रशासन ने उठाई दो रेहडिय़ां, दो के चालान किये
नगर परिषद प्रशासन ने चौटाला रोड़ पर यातायात में बाधा बन रही सब्जी/फल की दो रेहडिय़ों को उठवा लिया। इसके साथ-साथ अतिक्रमण विरोधी मुहिम के तहत दुर्गा मंदिर क्षेत्र में दो दुकानदारों के चालान काटे।

शहीदी दिवस के संदर्भ में नगर कीर्तन निकाला

डबवाली (लहू की लौ) सिखों के नौवें गुरू तेग बहादुर के शहीदी दिवस के संदर्भ में सिख संगतों ने शनिवार को नगर कीर्तन निकाला। जिसका शहर में जगह-जगह पुष्प वर्षा करके स्वागत किया गया। पंज प्यारों की अगुवाई वाला यह नगर कीर्तन पूरी तरह से हाईटेक था। जेब कतरों से बचने के लिये फूलों से सजी पालकी साहिब में विराजमान श्री गुरूग्रंथ साहिब के ठीक ऊपर कैमरा लगाया गया था। जबकि एक कैमरा नगर कीर्तन की रिकॉर्डिंग कर रहा था।
गतके के जोहर दिखाये
गुरूद्वारा बाबा विश्वकर्मा मंदिर में अरदास के बाद नगर कीर्तन शुरू हुआ। नगर कीर्तन में अखाड़ा बाबा दीप सिंह गतका पार्टी के सदस्य गतके के जोहर दिखाते हुये आगे बढ़ रहे थे। महिलाएं गुरूबाणी का जाप कर रही थीं। रागी तथा ढाड़ी जत्थे सिख इतिहास सुनाकर संगतों को निहाल कर रहे थे। नगर कीर्तन में स्कूली बच्चे अपने बैंड के साथ शामिल हुये। नगर कीर्तन सिरसा रोड़, चौटाला रोड़, नई अनाज मंडी रोड़, न्यू बस स्टेंड रोड़ से होते हुये वापिस गुरूद्वारा में पहुंचा।
24 नवंबर को मनेगा शहीदी दिवस
गुरूद्वारा प्रबंधक कमेटी के प्रधान कुलवंत सिंह ने बताया कि 24 नवंबर को गुरू तेग बहादुर का शहीदी दिवस गुरूद्वारा बाबा विश्वकर्मा मंदिर में श्रद्धापूर्वक मनाया जायेगा। इससे पूर्व 23 नवंबर को शाम 7 से रात्रि 10 बजे तक इलाहीवाणी का कीर्तन होगा। शहीदी दिवस पर अखंड पाठ के भोग डाले जाएंगे। कीर्तन दरबार सजाया जायेगा। गुरू का लंगर अटूट बरतेगा।

23 Nov. 2014