युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

22 दिसंबर 2014

राजनीतिकों तथा भ्रष्ट अफसरशाही के जुल्मों का शिकार हुई उमा

उन्नीस वर्षों से इंसाफ के लिये जंग लड़ रही अग्निकांड पीडि़ता


डबवाली (लहू की लौ) इस अग्निकांड पीडि़ता की कहानी सबसे जुदा है। जिसे सुनकर आंखें खुद-ब-खुद रो पड़ती हैं। बच्चों को बचाते हुये पति अग्निकांड में शहीद हो गया। पति की मौत के बाद इस पीडि़ता ने राजनीतिकों तथा भ्रष्ट अफसरशाही के इतने जुल्म सहे कि उसे अदालत की शरण लेनी पड़ी। अदालत से आये फैसले ने इस पीडि़ता की जिंदगी में नई रोशनी दी। लेकिन संघर्ष अभी खत्म नहीं हुआ है, अभी भी पीडि़ता राजनीतिकों के साथ अपने हक की लड़ाई लड़ रही है। हम बात कर रहे हैं अग्निकांड में शहीद हुये भागीरथ की पत्नी उमा की। 23 दिसंबर 1995 को भागीरथ बतौर गनमैन एसडीएम सोमनाथ कंबोज के साथ डीएवी स्कूल के कार्यक्रम में मौजूद था।

आग भड़कने पर वह तीन बार एसडीएम को बाहर लेकर आया। अपनी पत्नी तथा बच्चों को आग से बचाने के लिये गये एसडीएम के पीछे चला गया। लेकिन इस बार वापिस नहीं लौटा। हालांकि हर बार आग से बचाते हुये उसने बच्चों को दीवार से बाहर फेंका। आग में खुद झुलसते हुये इस पुलिस कर्मी ने पंद्रह बच्चों को बचाया। हादसे के एक दिन बाद भागीरथ ने जख्मों का ताप न सहते हुये दम तोड़ दिया। मरणोपरांत भागीरथ की इस बहादुरी के लिये 1999 में लखनऊ में आयोजित एक समारोह में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने सम्मानित किया। पति की बहादुरी का मैडल भागीरथ की पत्नी उमा ने प्राप्त किया। लेकिन राजनीतिकों तथा अफसरशाही के जुल्मों में यह मैडल दबकर रह गया है।
गर्भवती होने पर क्वार्टर से निकाला
उमा पर जुल्मों का सिलसिला 24 दिसंबर 1995 को पति की मौत के साथ ही शुरू हो गया था। उमा के दो बेटे हैं। हादसे के दौरान बड़ा बेटा बलदेव पांच साल का था। जबकि छोटा बेटा सुनील गर्भ में था। पति की मौत होते ही तीन माह से गर्भवती उमा से उसका सरकारी क्वार्टर खाली करवा लिया गया। इस हालत में सड़कों पर आई उमा को उसके परिजनों ने सहारा दिया। सरकार ने एक ओर जुल्म ढहाया। शहीद की पेंशन के रूप में उमा को महज 1045 रूपये प्रतिमाह देने शुरू कर दिये। जिसमें मेडिकल अलाऊंस, बेसिक पे शामिल थी। 1997 में यह पेंशन 1272 रूपये हो गई। दूसरी तरफ एसडीएम सोमनाथ कंबोज के आश्रितों को उनकी पूरी तनख्वाह पेंशन के रूप में मिलने लगी। इसे मुद्दा बनाते हुये वर्ष 2001-02 में उमा पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट में चली गई। मात्र दो हफ्तों की कार्रवाई में हाईकोर्ट ने उसके पक्ष में निर्णय सुना दिया।
खुद के विभाग ने लगा दिया एक साल
बेशक हाईकोर्ट के निर्णय ने उमा को नई ऊर्जा देने का काम किया। लेकिन भागीरथ के खुद के विभाग ने हाईकोर्ट के नियमों को मानने के लिये एक वर्ष लगा दिया। भागीरथ के परिजन इसके लिये ऊंचे ओहदे पर बैठे एक आईएएस अधिकारी से मिले। अधिकारी ने काम के बदले पचास हजार रूपये की रिश्वत मांगी। यह न देने पर उमा को मिलने वाली रकम में से 25 प्रतिशत हिस्सा मांगा। पेंशन न लेने की बात कहते हुये उमा का परिवार वापिस लौट आया। बाद में लड़-झगड़ते वर्ष 2003 में विभाग से पेंशन बढ़ौतरी वाला पत्र जारी करवाया। जिसके बाद 2004 में उमा को 1996 से बकाया चल रही पेंशन के रूप में डेढ़ लाख रूपये मिले।
2007-08 में मिलने लगा हक : विभाग से पत्र जारी होने के बावजूद उमा ने काफी लंबा संघर्ष किया। 2004 से 2008 तक उमा बैंक अधिकारियों के पास इस पत्र को लिये घूमती रही। लेकिन किसी ने एक न सुनी। संघर्ष करते-करते थक चुकी उमा का साथ उसके देवर विनोद कुमार ने दिया। विनोद ने बैंक प्रबंधकों से जवाब तलबी की तो एकाएक पेंशन शुरू हो गई। अब उमा को प्रति माह करीब 16 हजार रूपये पेंशन के रूप में मिल रहे हैं।
यूं पढ़ाया बच्चों को
उमा के अनुसार क्वार्टर से निकाले जाने के बाद उसके परिजनों ने उसकी डिलीवरी करवाई। वह पुन: डबवाली में आ गई। पेंशन राशि से किराये के मकान में रहकर अपने दोनों बच्चों को पढ़ाया। उसके दोनों बच्चे डीएवी संस्थान में पढ़े, जिसमें अग्निकांड पीडि़त परिवारों के लिये मुफ्त शिक्षा मिलती थी। घर का खर्च चलाने के लिये उसने उपमंडलाधीश कार्यालय में नौकरी की। कुछ देर बाद उससे नौकरी छीन ली गई। बाद में विवाह के समय दहेज में मिले दो पशु काम आये। उनका दूध बेचकर बच्चों की परवरिश की। इस वर्ष बड़ा बेटा बी-टेक कर गया है, जबकि छोटा बेटा बीए में दाखिल हुआ है। अदालत में हुये फैसले के बाद जो पैसा मिला, उससे घर बना लिया है।
नौकरी का वायदा पूरा करे सरकार : उमा के अनुसार मदद करने की बजाये गिरगिट की तरह राजनीतिक अपना रंग बदलते रहे हैं। वर्ष 1999 में उसे पुलिस महानिदेशक का एक पत्र प्राप्त हुआ, जिसके अनुसार पति की मौत के बाद उसके बड़े बेटे को नौकरी देने का वायदा करते हुये एक नंबर जारी करके बालिग होने पर नौकरी के लिये अप्लाई करने के लिये कहा। वर्ष 2000 में फिर एक पत्र प्राप्त हुआ। जिसमें सरकार के नियमों के फेरबदल का हवाला देते हुये पुलिस विभाग के अधिकारियों ने नौकरी देने से मना कर दिया।
अब गृह मंत्रालय में अटकी है फाईल : उमा ने बताया कि जुलाई 2014 में पुलिस विभाग ने नियमों का हवाला देते हुये उसके बेटे को पुन: मेडिकल परीक्षण देने के लिये कहा। उसके छोटे बेटे सुनील ने मेडिकल परीक्षण दिया। जिसकी फाइल अभी तक गृह मंत्रालय में अटकी हुई है। हालांकि हरियाणा की मौजूदा खट्टर सरकार ने तत्कालीन हुड्डा सरकार के निर्णयों की समीक्षा करने की बात कही है। जिससे एक बार फिर उसे दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है।


बच्चों को बचाता शहीद हुआ भाई
मेरा भाई अस्पताल में था। वह बुरी तरह से झुलसा हुआ था। मैं उसे पहचान नहीं पाया। लेकिन उसने मुझे आवाज लगाई। वह कह रहा था कि मैंने बच्चों को बचाकर अपना फर्ज अदा किया है। मैं नहीं बचूंगा। मेरी मौत की खबर मेरी उमा को न देना, वह गर्भवती है। मेरे भाई की शहादत पर बेशक सरकार ने बहादुरी का मैडल देकर सम्मानित किया। लेकिन राजनीतिकों तथा भ्रष्ट अफसरशाही ने हमेशा जुल्म किये। जो अभी तक जारी हैं।
-विनोद कुमार (भागीरथ का भाई)

युवक पर हमला हालत गंभीर

डबवाली (लहू की लौ) गांव फुल्लो में इलेक्ट्रिशियन की दुकान करने वाले सन्नी निवासी हैबूआना पर कुछ लोगों ने हमला कर दिया। उपचार के लिये उसे डबवाली के सरकारी अस्पताल में लेजाया गया। हालत गंभीर होने पर प्राथमिक उपचार के बाद चिकित्सक ने उसे सिरसा रैफर कर दिया।

ट्रेन से कटकर मरा

डबवाली (लहू की लौ) रविवार शाम को रामबाग के नजदीक डबवाली से संगरिया की ओर जा रही मालगाड़ी के नीचे आने से एक व्यक्ति की मौत हो गई। करीब दो घंटे तक शव पटरी के बीच पड़ा रहा। सूचना पाकर मौका पर पहुंची जीआरपी बठिंडा पुलिस ने शव को कब्जे में करके पोस्टमार्टम हेतू बठिंडा के सिविल अस्पताल में पहुंचाया। फिलहाल मृतक की पहचान नहीं हो पाई है। मृतक के गले में काले धागे में चांदी का लॉकेट डाला हुआ हे। आसमानी रंग की पेंट, सफेद नीली शर्ट, काले रंग की जर्सी पहनी हुई है। मृतक की आयु करीब 35-40 वर्ष बताई जा रही है।

एक ओर सफलता की सीढ़ी चढऩे को तैयार चकजालू

डबवाली (लहू की लौ) शिक्षा में पूर्ण साक्षर गांव अब पेयजल संरक्षण में सौ फीसदी साक्षर होने जा रहा है। गांव की पंचायत ने जनस्वास्थ्य विभाग के पास आवेदन कर 26 जनवरी 2015 से पूर्व गांव में सभी पेयजल कनेक्शन नियमित करने का दावा जताया है। अगर ऐसा हो गया तो गांव को जिला स्तर पर नकद पुरस्कार देकर सम्मानित किया जायेगा।
जनस्वास्थ्य विभाग अपनी योजना के अनुरूप ग्रामीण क्षेत्र में 85 फीसदी से ज्यादा नियमित कनेक्शन होने पर संबंधित ग्राम पंचायत को आबादी के अनुसार सम्मानित करता है। इस बार नकद इनाम के लिये गांव चकजालू की पंचायत ने दावा ठोका है। इससे पहले भी इस गांव को पूर्ण साक्षर होने का पुरस्कार मिल चुका है। हरियाणा का यह एकमात्र ऐसा गांव है जिसमें बच्चे से लेकर बुजुर्ग सभी पढ़े-लिखे हैं। यहीं नहीं आज तक ग्रामीणों पर पुलिस में कोई मामला दर्ज नहीं हुआ है। न ही कोई बैंक का कर्जदार है। सौ फीसदी ग्रामीण बिजली बिल भरते हैं। गांव में कोई कच्चा घर नहीं, प्रत्येक गली पक्की है। ग्रामीण नशा नहीं करते, इसलिये शराब का ठेका भी नहीं है। यह गांव चकजालू डबवाली-ऐलनाबाद रोड़ पर स्थित है। शहर डबवाली से इसकी दूरी करीब 28 किलोमीटर है। अब जल संरक्षण की शिक्षा में अपना झंडा बुलंद करने जा रहा है। इस गांव की एक विशेषता यह भी है कि गांव के प्रत्येक घर में पेड़ है।
आवेदन पर होगा सर्वे
पंचायत के आवेदन पर एडीसी कार्यालय, बीडीपीओ कार्यालय तथा जनस्वास्थ्य विभाग की संयुक्त टीम जल्द गांव का सर्वे करेगी। अगर 85 फीसदी से ज्यादा रेगुलर पेयजल कनेक्शन मिलेंगे तो गांव को सम्मानित किया जायेगा। गांव चकजालू खंड स्तर पर सम्मानित होने वाली पहली पंचायत होगी। हालांकि उपमंडल स्तर पर मलिकपुरा तथा टप्पी की पंचायत सम्मानित हो चुकी है।
गांव को तोहफा देने के लिये विभाग तैयार : जनस्वास्थ्य विभाग गांव चकजालू की पंचायत को तोहफा देने के मूड में है। विभाग 87 लाख रूपये की लागत से विस्तारीकरण करने के लिये तैयार है। इसके तहत गांव के जलघर में नया वाटर टैंक बनाया जायेगा। इसके साथ-साथ नई मशीनरी स्थापित की जायेगी। गांव रामगढ़ में नया बुस्टिंग बनाने की योजना है।

आबादी मुताबिक
मिलता है पुरस्कार
आबादी पुरस्कार
1000 10,000
2000 20,000
3000 30,000
4000 40,000
5000 50,000
5000 से ज्यादा 50,000


सर्वे के बाद पुरस्कार: अगर गांव चकजालू में 85 फीसदी नियमित पेयजल कनेक्शन का लक्ष्य पूरा हो गया तो पंचायत को सम्मानित किया जायेगा। पंचायत का आवेदन आया है। विभागीय टीम जांच करेगी, अगर सर्वे में पंचायत का दावा सही पाया जाता है तो पंचायत नकद पुरस्कार की हकदार होगी।
-संकेत शर्मा, एसडीई,
जनस्वास्थ्य विभाग, डबवाली

26 जनवरी से पहले हो जायेगा लक्ष्य पूरा
गांव की आबादी करीब साढ़े 900 है। 550 वोटर हैं। पेयजल कनेक्शनों को नियमित करने के लिये फार्म भरे जा रहे हैं। ग्रामीण सवाल पूछ रहे हैं कि कहीं बिल न आ जाये। अगर पेयजल का बिल न भरना पड़े तो 100 फीसदी लक्ष्य पूरा हो जायेगा। फिलहाल विभाग ने जो फार्म उपलब्ध करवाये हैं, उन्हें बांटा जा रहा है। फार्म भरवाये जा रहे हैं। 26 जनवरी से विभाग का 85 फीसदी नियमित पेयजल कनेक्शन का लक्ष्य अवश्य पूरा कर लिया जायेगा।
-देवीलाल, सरपंच
गांव चकजालू

युवक से मारपीट, अपहरण का प्रयास

डबवाली (लहू की लौ) शनिवार रात को कलोनी रोड़ पर कुछ दबंग युवकों ने फर्टीलाईजर विक्रेता के बेटे से मारपीट करके उसका अपहरण करने का प्रयास किया। खुद को छुड़वाकर भाग रहे युवक का ईंट मारकर सिर फोड़ दिया। युवक डबवाली के सिविल अस्पताल में उपचाराधीन है। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।
पहले बाहर बुलाया, फिर पीटा
फर्टीलाईजर विक्रेता अरूण बंसल ने बताया कि वह वार्ड नं. 11 की श्री अन्नपूर्णा मंदिर वाली गली में रहता है। उसका बेटा दीपक एक निजी विद्यालय में 12वीं कक्षा का छात्र है। शनिवार शाम को ट्यूशन पूरी करके वापिस घर लौटा था। कलोनी रोड़ पर स्नूकर खेल रहा था। इसी दौरान एक युवक उसे बुलाकर रोड़ पर ले आया। वहां पहले से तैयार खड़े पांच-छह युवकों ने उससे मारपीट शुरू कर दी। दीपक से जबरदस्ती करते हुये युवक उसे एक कार के नजदीक ले गये। उसके बेटे को कार में डालकर अपहरण करने का प्रयास किया। खुद को छुड़वाते हुये उसके बेटे ने भागने का प्रयास किया। युवकों ने पीछे से ईंट मारकर उसका सिर फोड़ दिया। आरोपियों में से उसका बेटा एक युवक को पहचानता है। उसके बेटे से मारपीट करके उसका अपहरण करने का प्रयास क्यूं किया गया, वह नहीं जानता। न ही उनकी किसी से दुश्मनी है।
ब्यान दर्ज करने के बाद होगी कार्रवाई-पुलिस
शहर थाना पुलिस के एसआई इंद्राज ने बताया कि दीपक की एमएलआर आई है। उसका ब्यान लेने के लिये वे सिविल अस्पताल में गये थे। अभी दीपक ब्यान देने के काबिल नहीं है। ब्यानों के बाद आगामी कार्रवाई अमल में लाई जायेगी।

अस्पताल में इलाज के लिये आया बच्चा मिला हेपेटाईटिस बी पॉजीटिव

डबवाली (लहू की लौ) दस फीट गहरे गड्ढे में गिरकर उपचार के लिये सरकारी अस्पताल में पहुंचा एक पंद्रह वर्षीय बच्चा हेपेटाईटिस बी पॉजीटिव मिला है। जख्म गहरा होने के कारण फिलहाल बच्चे को सिरसा रैफर किया गया है। डबवाली सिविल अस्पताल के वरिष्ठ चिकित्सा अधिकारी ने परिजनों के स्वास्थ्य जांच की बात कही है।
गांव शेरगढ़ में वडिंगखेड़ा रोड़ पर स्थित एक कॉटन फेक्टरी में कार्यरत प्रभु राम का पंद्रह वर्षीय बेटा अली सुबह करीब पांच बजे अपने पिता के लिये चाय लेकर पहुंचा था। मशीन के पट्टे में उलझने से वह दस फीट गहरे गड्ढे में जा गिरा। गंभीर रूप से घायल होने के बाद उसे उपचार के लिये डबवाली के सरकारी अस्पताल में लेजाया गया। चिकित्सक ने उसके खून की जांच करवाने की सलाह दी। खून की जांच में हेपेटाईटिस बी पाया गया। प्रभु राम ने बताया कि उसका बेटा चौथी कक्षा का छात्र है। वह मूल रूप से बिहार के रहने वाले हैं। करीब तीन माह पूर्व ही गांव शेरगढ़ स्थित कॉटन फेक्टरी में आये हैं।
पीजीआई रोहतक रैफर होगा
सिविल अस्पताल के एसएमओ एमके भादू ने बताया कि गड्ढे में गिरने के कारण हुये जख्म का इलाज करवाने के लिये उसे सिरसा रैफर किया गया है। ब्लड जांच में हेपेटाईटिस बी पॉजीटिव मिला है। एक अन्य लैब से उसके खून की जांच करवाई जायेगी। साथ में उसके पारिवारिक सदस्यों की भी जांच होगी। हेपेटाईटिस बी का इलाज संभव है लेकिन स्थानीय स्तर पर नहीं। मरीज को हीमोग्लोबिन के इंजेक्शन लगते हैं। इसलिये उसे रोहतक स्थित पीजीआई में भेजा जायेगा।

बाईक टकराये, युवक की मौत

डबवाली (लहू की लौ) शनिवार रात को गांव पाना के नजदीक सड़क हादसे में एक युवक की दर्दनाक मौत हो गई। जबकि चार युवक गंभीर रूप से जख्मी हो गये। घायलों को उपचार के लिये सिरसा के सामान्य अस्पताल में दाखिल करवाया गया है। सदर थाना पुलिस ने इत्तेफाकिया मौत की कार्रवाई अमल में लाई है।
गांव पन्नीवाला रूलदू निवासी 23 वर्षीय अमृतपाल उर्फ मालो अपने मित्र कुलविंद्र उफ मनु के साथ पिपली-पाना लिंक रोड़ से बाईक पर अपने गांव लौट रहा था। गांव पाना के नजदीक सामने से आई एक तेजगति बाईक के साथ जोरदार टक्कर हो गई। मौका पर ही मालो की मौत हो गई। जबकि उसके साथी मनु सहित दूसरी बाईक पर सवार तीन युवक गंभीर रूप से जख्मी हो गये। गांव पाना के ग्रामीणों की सूचना पर मौका पर आई एंबुलैंस ने घायलों को उपचार के लिये औढ़ां के सरकारी अस्पताल में पहुंचाया। चिकित्सकों ने उन्हें बेहतर इलाज के लिये सिरसा रैफर कर दिया। मृतक के पिता जगतार सिंह ने बताया कि उसके बेटे मालो ने पल्सर बाईक किश्तों पर ली थी। कालांवाली में बाईक की किश्त अदा करके वापिस लौट रहा था। तभी उपरोक्त हादसा हुआ।
मामले की जांच कर रहे सदर थाना पुलिस के एसआई दया कृष्ण ने बताया कि मृतक के पिता जगतार सिंह के ब्यान पर इत्तेफाकिया मौत की कार्रवाई अमल में लाई गई है। रविवार को शव का पोस्टमार्टम करवाने के बाद उसे उसके वारिसों को सौंप दिया। मृतक युवक मजदूरी करता था। दूसरी बाईक पर गांव खुईयांमलकाना निवासी गुरदीप उर्फ नूरी, राजू तथा सर्वजीत सवार थे। नूरी तथा राजू की हालत गंभीर है। दोनों सिरसा के सिविल अस्पताल में दाखिल हैं। जबकि सर्वजीत को इलाज के लिये एक निजी अस्पताल में लेजाया गया है।

गोल चौक को किया चकाचक

डबवाली (लहू की लौ) रविवार को सुखमंदर सिंह देसूजोधा तथा पटवारी राकेश शर्मा ने खेत राम सेठी स्पोटर््स क्लब के बाल सदस्यों के साथ मिलकर बठिंडा चौक की सफाई कर चौक को चकाचक कर दिया। गौरतलब है कि अतिथि अध्यापक सुखमंदर सिंह ने चौक के रखरखाव के लिये चौक को गोद लिया हुआ है।

अग्निकांड स्मारक पर अखंड पाठ प्रकाश



आज होगा श्री रामायण पाठ का प्रकाश


डबवाली (लहू की लौ) डबवाली अग्निकांड की 19वीं बरसी के संदर्भ में रविवार को अग्निकांड स्मारक स्थल पर श्री अखंड पाठ प्रकाश हुआ। 23 दिसंबर को बरसी पर अखंड पाठ का भोग डाला जायेगा।
फूलों से सजाया स्मारक

अग्निकांड स्मारक को फूलों से सजा दिया गया है। श्री अखंड पाठ प्रकाश के मौके पर पहुंचे युवाओं ने अग्निकांड में शहीद हुये बच्चों, महिलाओं तथा पुरूषों को श्रद्धांजलि अर्पित की। अग्निकांड पीडि़त संघ के प्रवक्ता विनोद बांसल ने बताया कि सोमवार को श्री रामायण पाठ प्रकाश किये जाएंगे। जिसका भोग 23 दिसंबर को पड़ेगा। इस दिन सर्वधर्म सभा आयोजित होगी। इस मौके पर अग्निकांड पीडि़त शमशेर सिंह, सुच्चा सिंह भुल्लर, पालविंद्र शास्त्री, सुरेंद्र कालड़ा उपस्थित थे।

एक दिवसीय एनएसएस शिविर आयोजित

डबवाली (लहू की लौ) रविवार को गांव  अबूबशहर के रा.व.मा. विद्यालय में एनएसएस का एक दिवसीय कैम्प का आयोजन किया। जिस में +1 के 62 स्वयंसेवकों ने भाग लिया।
एनएसएस अधिकारी  प्रदीप पारीक ने स्वयंसेवकों को उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 1986 के विभिन्न प्रावधानों व शिक्षा के अधिकार की जानकारी दी। इसके बाद छात्राओं ने कमरों, बरामदों, छत्तों व प्रांगण की सफाई की। जबकि लड़कों ने विद्यालय में बिखरी ईंटों को एकत्रित किया।  पार्कों की उखड़ी ईटों को लगाया तथा खुदाई की और गुलाब व गेंदों के पौधे लगाये। विद्यालय के बाहर सड़क के दोनों ओर सफाई की।
बाद में भाषण प्रतियोगिता हुई। जिसमें शकीला प्रथम, सपना द्वितीय तथा सिमरन कौर तृतीय रहे।  लड़कों में  सुरेन्द्र कुमार प्रथम, हरपाल द्वितीय तथा सुखविन्द्र तृतीय रहे। इस मौके पर प्रवक्ता सुरजीत बिश्नोई, अनिल बिश्नोई,देवीलाल तथा बृजलाल उपस्थित थे।

नेहरू स्कूल की छात्रा ने पाया पहला स्थान

डबवाली (लहू की लौ) नेहरू सीनियर सेकंडरी स्कूल की  छात्रा प्रियंका सचदेवा ने हिसार में आयोजित डिवीजनल लेवल लीगल लिटरेसी कंपीटिशन में प्रथम पुरस्कार हासिल किया। यह कार्यक्रम19 दिसंबर को हिसार के सोफिया सीनियर सेकंडरी स्कूल में हुआ व प्रियंका सचदेवा ने स्लोगन/स्पॉट पेटिंग प्रतियोगिता में प्रथम पुरस्कार पाया। हिसार की डीईओ मधु मित्तल व चंडीगढ़ से लीगल लिटरेसी ऑफिसर कुलवंत सिंह ने बच्चों को पुरस्कृत किया। प्रियंका को पुरस्कार में प्रमाण पत्र  व 5100 रुपए का चैक दिया गया। इन मुकाबलों में नेहरू स्कूल के छात्र मनदीप व अंकित की डॉक्यूमैंट्री फिल्म राईट ऑफ एजुकेशन की भी प्रशंसा की गई। बच्चों को आशीर्वाद देते हुए स्कूल प्रिंसीपल हरि प्रकाश शर्मा ने कहा कि बच्चों के व्यक्तित्व विकास के लिए इस प्रकार की प्रतियोगिताएं काफी लाभदायक होती हैं। उन्होंने बताया कि बच्चों को प्रतियोगिता की तैयारी करवाने में अध्यापक सतीश शर्मा व समता जुनेजा का विशेष योगदान रहा। प्रिंसीपल हरि प्रकाश शर्मा ने बच्चों, अभिभावकों व अध्यापकों को बधाई दी। इस मौके पर जीवन सिंगला व जसविंद्र मनकू उपस्थित थे।

एक्यूप्रेशर से भी संभव है इलाज

डबवाली (लहू की लौ) योगाचार्य गोपाल कृष्ण ने कहा कि बिना दवाइयों के एक्यूप्रेशर से अनेक रोगों का नि:शुल्क ही इलाज पाया जा सकता है।
वे शनिवार देर सायं को लायन क्लब सुप्रीम मंडी डबवाली द्वारा महाराजा पैलेस में आयोजित तीन दिवसीय योग शिविर के अन्तिम दिन उपस्थित साधकों को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि योग, प्राणायाम तथा श्वास लेने की सही विधि अपना कर हम कई रोगों से बच सकते हैं। वहीं एक्यूप्रेशर से शरीर के मर्म स्थानों में रूकी ऊर्जा पर दबाव देकर कई रोगों का उपचार कर सकते हैं। उन्होंने मौके पर रोगियों पर इस पद्धति का उपयोग करके  उन्हें तुरन्त राहत पहुंचा कर इस का प्रदर्शन किया। उन्होंने न्यौली क्रिया भी करके दिखाई और इसके लाभ से भी अवगत करवाया।
इस मौके पर  सरवाईकिल, घुटने के दर्द, पीठ दर्द से कराह रहे करीब तीन दर्जन रोगियों को तुरन्त राहत भी मिली। उन्होंने विभिन्न प्रकार के दर्दों से मुक्ति दिलाने वाले आसन करवाये और साथ में एक्यूप्रेशर के बिंदुओं का साधकों को प्रशिक्षण भी दिया और मौके पर बिन्दुओं को दबा कर इसकी व्यवहारिकता भी बताई।

22 Dec. 2014





लेज के पैकेट से निकली पट्टी उपभोक्ता अदालत जाने की तैयारी में

डबवाली (लहू की लौ) लेज़ चिप्स का इंडिया मैजिक मसाला के पैकेट से पट्टी निकलने पर उपभोक्ता ने इसकी शिकायत कम्पनी को करके रोष जताते हुए उपभोक्ता अदालत में मामले को लेजाने की धमकी दी है।
डबवाली निवासी मोहित बागड़ी, निशांत भारद्वाज ने बताया कि उन्होंने चौधरी पम्प के पास चाय की दुकान चलाने वाले रोशन लाल से पैप्सीको इंडिया होल्डिंगस प्रा. लि. गुडग़ांव की बनी हुई लेज चिप्स का इंडिया मैजिक मसाला 55 ग्राम का पैकेट 20 रूपये मेें खरीदा। लेकिन जब इसे खोला तो उसमें से पट्टी निकली। इस पर उन्होंने रोशन लाल से ऐतराज जताया।
दुकानदार रोशन लाल ने बताया कि लेज़ के पैकेट से पट्टी निकली थी। उसने इसकी शिकायत डबवाली में वितरक बजाज ट्रेडिंग कम्पनी के तिलक बजाज को दे दी है।
इधर वितरक तिलक बजाज ने बताया कि उसे रोशन लाल की शिकायत मिली है उसने इस सारी घटना की जानकारी कम्पनी के सेल्ज ऑफिसर फतेहाबाद कपिल शर्मा को दे दी है।

कार्बन डाईआक्साईड शरीर में कैंसर रोग को जन्म देती है-गोपाल कृष्ण

डबवाली (लहू की लौ) योगाचार्य गोपाल कृष्ण ने कहा कि लोग  श्वास तो लेते हैं लेकिन जब श्वास को बाहर निकालते हैं, श्वास को बीच में ही खा जाते हैं। परिणामस्वरूप कार्बन डाईआक्साइड बाहर निकलने की अपेक्षा भीतर ही रह जाती है। यहीं कार्बन डाईआक्साईड शरीर में कैंसर जैसे कई रोगों को जन्म देती है।
वे शनिवार को लायन क्लब सुप्रीम मंडी डबवाली द्वारा महाराजा पैलेस में आयोजित तीन दिवसीय योग शिविर के अन्तिम दिन उपस्थित साधकों को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि श्वास को गले में खाने के चलते ही, रोगी दवा लेने के बावजूद भी ठीक नहीं हो पाता बल्कि दिन प्रतिदिन और रोगी होता जाता है।
उन्होंने उज्जाई प्राणायाम के संबंध में बताया कि इसमें आवाज शंख की तरह आनी चाहिए। उनके अनुसार इससे शंखनी नाड़ी जागृत होती है। जिससे ज्ञान और विवेक प्राप्त होता है। यहीं नहीं बल्कि थायराईड, टांसल, गले के सभी रोग दूर होते हैं। दिमाग शांत होकर तेज होता है। उन्होंने बताया कि अनुलोम विलोम शरीर का टम्परेचर सम बनाता है। कपालभात्ति से डाईजिस्ट सिस्टम तेज होकर चेहरे पर तेज आता है।
इसके बाद उन्होंने सतलुज पब्लिक स्कूल के विद्यार्थियों और स्टॉफ को भर योग के गुर बताये। दोपहर को उन्होंने बार एसोसिएशन में वकीलों को श्वास लेने की सही विधि की जानकारी दी और विभिन्न प्रकार के प्राणायाम बताये। इस मौके पर उनके  साथ  अनन्द योग अमृत दिल्ली के ट्रस्टी आनन्द जैन तथा कल्ब के प्रधान नरेश गुप्ता, भूपेन्द्र पाहूजा, गुरदीप कामरा, संजीव कुमार, दीपक सिंगला भी थे। महाराज पैलेस में चल रहे योग शिविर में ट्रस्ट के चेयरमैन दिनेश गोयल तथा अजय जैन आईजी ने भी भाग लिया। शाम को महाराज पैलेस में लायन्ज कल्ब ने योगाचार्य गोपाल कृष्ण को सम्मानित किया।

गांव के जोहड़ से मिला लापता गमदूर सिंह का शव

डबवाली (लहू की लौ) रोड़ी में बीती 13 दिसंबर को एक शादी समारोह में आये गमदूर सिंह का शव 7 दिन बाद शनिवार को गांव के जोहड़ से बरामद हो गया। गौरतलब है कि गमदूर सिंह बीती 13 दिसंबर को रोड़ी में अपनी ससुराल पूर्व एसएस चेयरमैन शेर सिंह के घर उनके पौत्रे हरप्रीत सिंह की शादी में अपनी पत्नी के साथ आया हुआ था और वह इसी दौरान रहस्यमय ढंग से लापता हो गया था। जिसके बाद परिजनों ने दो दिनों तक उसकी तालाश करने के बाद थाने में रिपोर्ट करवाई थी। इस मामले में पिछले एक सप्ताह से उसके परिजनों के अलावा पुलिस भी तालाश कर रही थी। 

जय श्री राम सेवा सदन के ग्राऊंड फ्लोर पर 13000 वर्ग फुट का लेंटर डला

डबवाली (लहू की लौ) सालासर में निर्माणाधीन जय श्री राम सेवा सदन के ग्राऊंड फ्लोर पर 13000 वर्ग फुट का लेंटर डाला जा चुका है।
सदन के प्रधान नरेन्द्र गर्ग ने बताया कि ग्राऊंड फ्लोर पर  20 कमरे, एक लंगर हाल, सत्संग हाल, किचन व मीटिंग हाल, मैनेजर रूम, बिजली कंट्रोल रूम, स्टोर बनाया जाना है। जोकि 2015 में बन कर तैयार हो जायेगा और उसे दिसम्बर 2015 में लोकार्पित कर दिया जायेगा। इस मौके पर कोषाध्यक्ष गौतम गोयल, गुरजीत सिंह दंदीवाल, कृष्ण कुमार मेहता, सौरभ गर्ग बन्टी ठेकेदार, राजकुमार बांसल डेयरी वाला, नरेश नागपाल, सुशील कुमार सुशी पेट्रो डीलर, जिले सिंह, विनोद कुमार, दीपक कुमार, अमरजीत उपस्थित थे।

कैंडल मार्च निकाल कर दी शहीद बच्चों को श्रद्धांजलि

Add caption
डबवाली (लहू की लौ) यंग सोशन वलंटियर पंजाब की मंडी किलियांवाली शाखा के अध्यक्ष राजेन्द्र शर्मा लक्की तथा उपप्रधान अमनदीप भाऊ के नेतृत्व में पाकिस्तान में तालिवान आतंकवादियों के हाथों शहीद हुए बच्चों की याद में कैंडल मार्च निकाला।
कैंडल मार्च वाटर वक्र्स मंडी किलियांवाली से शुरू होकर डबवाली के बाजार में से होता हुआ रामलीला मैदान में समाप्त हुआ। रामलीला मैदान में वलंटियर ने दो मिनट का मौन रख कर बच्चों की आत्मिक शान्ति के लिए प्रार्थना की। इस कैंडल मार्च में विक्की आहूजा, रोहित वर्मा, संजीव कुमार, विपिन शर्मा, विक्की, सोनू ढालिया, दविन्द्र मान, लवली खरेरा शामिल हुए।

तीन लोगों की असामयिक मौत

डबवाली (लहू की लौ) बड़ागुढ़ा थाना क्षेत्र के गांव रघुआना, लकडांवाली व साहूवाला प्रथम में जहरीला पदार्थ खाने व फांसी लगाने से तीन लोगों की मौत हो गई। इस संदर्भ में पुलिस ने परिजनों के बयान पर इत्तफाकिया घटना की कार्रवाई दर्ज कर शव उनके हवाले कर दिए हैं। जानकारी मुताबिक लकड़ांवाली निवासी 35 वर्षीय हरभजन, पुत्र जंगीर सिंह ने अपने घर में अज्ञात कारणों के चलते फांसी का फंदा लगाकर इहलीला समाप्त कर ली। वहीं रघुआना निवासी 50 वर्षीय जगदेव सिंह पुत्र करतार सिंह ने कीटनाशक दवा का सेवन कर आत्महत्या कर ली तो उधर साहूवाला-प्रथम में 38 वर्षीय जसकरण पुत्र जगदेव सिंह की कीटनाशक दवा के असर से सिरसा के एक निजी अस्पताल में उपचार के दौरान मौत हो गई। बताया जाता है कि जसकरण सिंह ने बीते बुधवार को गलती से कीटनाशक दवा वाले गिलास में शराब डालकर उसका सेवन कर लिया था। 

डाक्यूमेंट्री 'खिलते फूलÓ को मिला दूसरा पुरस्कार, स्टेट लेवल के लिए चयनित

डबवाली (लहू की लौ) राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय डबवाली की लीगल लिट्रेसी सैल की ओर से बनाई गई 'खिलते फूलÓ नामक डाक्यूमेंट्री $िफल्म ने हिसार के सेंट सोफिया स्कूल में शुक्रवार को आयोजित समारोह में द्वितीय स्थान हासिल किया।
यह जानकारी देते हुए बीआरसी-कम-प्रिंसिपल सुरजीत सिंह मान ने बताया कि लीगल लिट्रेसी सैल की ओर से उन्हें अलग-अलग 10 टॉपिक दिए गए थे। उनमें से उन्होंने विशेष बच्चों के अधिकारों पर आधारित डाक्यूमेंट्री $िफल्म तैयार करवाई। जिसमें मैडम वंदना वर्मा ने पठकथा लेखन व कमेंटेटर की भूमिका निभाई है जबकि मैडम नवजोत ऋषि की डायरेक्शन है। उन्होंने बताया कि इसके अलावा उनके स्कूल की 10+2 मेडिकल की प्रतिभाशाली छात्रा अमनप्रीत कौर ने सूत्रदार की भूमिका में अपनी प्रतिभा की छटा बिखेरी है। नवजोत ऋषि ने बताया कि उन्हें 5 से 8 मिनट का निर्धारित समय दिया गया था। उन्होंने मात्र साढ़े 7 मिनट की डाक्यूमेंट्री में सबकुछ दिखाने का प्रयास किया है। उन्होंने बताया कि ब्लॉक व जिला के बाद स्टेट लेवल के लिए चयनित किया गया है। इंचार्ज वंदना वर्मा ने बताया कि सरकार की ओर से विशेष बच्चों को पेंशन, मेडिकल कैंप व सभी प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध करवाई जा रही हैं ताकि विशेष बच्चे भी स्कूलों तक पहुंच सकें।

पर्यावरण बचाओ प्रतियोगिता में महकप्रीत, हिमांशु, वरिया और प्राची सर्वश्रेष्ठ विद्यार्थी चुने गये

डबवाली (लहू की लौ) डीएवी स्कूल के प्रांगण में एलकेजी से द्वितीय कक्षा के विद्यार्थिAयों द्वारा यज्ञ प्रार्थना का आयोजन किया गया।
स्कूल की प्राचार्या सरिता गोयल ने बताया कि इस यज्ञ के करवाने का उद्देश्य  था कि बच्चों में नैतिक गुण पैदा किया जाये और बच्चों को आर्य समाज के नियमों के बारे में जागरूक करवाया जाये। बच्चों ने गायत्री मंत्र का उच्चारण किया और बहुत ध्यान से सारे मंत्र सुने और हवन कुंड में हवन सामग्री भी डाली। प्रथम कक्षा की छात्रा बेबी भाविका ने इस मौके पर बहुत सुंदर-सुंदर भजन सुनाए, इसके साथ-साथ  एलकेजी की अध्यापिका सरूचि ने भी भजन सुनाया। हवन यज्ञ का आयोजन स्कूल के अध्यापक महेन्द्र शास्त्री ने किया।
आज दूसरी और चौथी कक्षा के बच्चों के बीच भाषण प्रतियोगिता करवाई गई। पर्यावरण बचाओ प्रतियोगिता में चौथी के विद्यार्थी महकप्रीत, हिमांशु, वरिया और प्राची सर्वश्रेष्ठ चुने गये।

शहीदों की स्मृति में लगे रक्तदान शिविर में 31 ने किया रक्तदान

डबवाली (लहू की लौ) पंजाब के चमकौर साहिब में शहीद हुए बाबा अजीत सिंह, बाबा जुझार सिंह व अमर शहीद बाबा जीवन सिंह की स्मृति में शनिवार को गांव डबवाली के शिव नगर में एक भव्य धार्मिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इसके तहत सहिज पाठ का भोग डाला गया एवं गत्तका पार्टी ने अपनी कला का प्रदर्शन किया।  कार्यक्रम के आयोजक भाई वरियाम सिंह ने बताया कि वह प्रत्येक वर्ष अपने गांव वासियों के पूर्ण सहयोग से इस कार्यक्रम का आयोजन करते चले आ रहे हैं।
इस अवसर पर प्रथम बार आयोजित किए गए विशाल रक्तदान शिविर का उद्घाटन युवा रक्तदान सोसायटी के संस्थापक सुरेंद्र सिंगला ने किया। शिविर में स्वेच्छा से रक्तदान करने वाले सभी 31 रक्तदाताओं को शहीद बाबा जीवन सिंह जागृति मंच के अध्यक्ष निर्मल सिंह गंगा व उनके सहयोगी साथियों ने स्मृति चिन्ह भेंट कर उनका आभार व्यक्त किया। रक्त प्राप्त करने के लिए सिरसा के सामान्य अस्पताल के ब्लड बैंक से पहुंची चिकित्सकों की टीम ने सामान्य अस्पताल डबवाली के एसएमओ डॉ. एमके भादू के सानिध्य में रक्तप्राप्त किया। इस अवसर पर श्री गुरूद्वारा कलगीधर सिंह सभा के अध्यक्ष सुरजीत सिंह, डॉ. भीम राव अंबेडकर सभा के अध्यक्ष जगरूप सिंह, भक्त कबीर गौशाला के संचालक ज्ञानी गुरप्यार सिंह, डॉ. मदन लाल, पवन कुमार, जगदीश कुमार, मनोज कुमार लवली, भूपिंद्र कुमार, पवन निरंकारी, प्रदीप कुमार एवं मास्टर नवीन नागपाल सहित बड़ी संख्या में उपस्थित लोगों ने समारोह में शामिल होकर शहीदों को नमन किया व गुरू का लंगर ग्रहण किया। 

इन्सान प्रभु को भुला कर माया को ही सब कुछ मान बैठा है-जरनैल सिंह

डबवाली (लहू की लौ) गांव भारूखेड़ा के डॉ. भीम राव अंबेडकर पार्क में निरंकारी मिशन के महान प्रचारक संत जरनैल सिंह सादुलशहर वालों की अध्यक्षता में विशाल निरंकारी संत समागम का आयोजन किया गया। इस समागम में भारूखेड़ा, चौटाला, साबूआना, खारा खेड़ा, संगरिया मंडी, सुकेराखेड़ा, डबवाली, लोहगढ़ व आसपास की ढाणियों से भारी संख्या में श्रद्धालुओं ने भाग लिया।
अध्यक्षीय प्रवचनों में संत जरनैल सिंह ने कहा कि वर्तमान दौर में इन्सान ने प्रभु को भुला दिया है व माया को ही सब कुछ मान बैठा है। माया के वशीभूत होकर ही मिलावट, धोखेबाजी, कत्ल, झगड़े व अन्य गिरी हुई हरकतें कर रहा है। यहां तक कि छोटे-छोटे बच्चों को भी गोलियों से भूनते समय उसके हाथ नहीं कांपते। ऐसे इन्सानों में दया नाम की कोई चीज नहीं बची है व मानव, दानव बन गया है। उन्होंने समझाया कि पाप का मूल कारण अभिमान है। जब तक हम अभिमान का त्याग नहीं कर देते तब तक जीवन में आनंद व खुशी को प्राप्त नहीं कर सकते।

जल संरक्षण जागरूकता रैली निकाली

डबवाली (लहू की लौ) राजकीय माध्यमिक विद्यालय चकजालू, ग्राम पंचायत, विद्यालय प्रबंधन समिति व एसके युवा क्लब द्वारा गांव में राष्ट्रीय ग्रामीण पेयजल कार्यक्रम के तहत जल संरक्षण जागरूकता रैली निकाली गई। रैली को गांव के सरपंच देवी लाल ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। रैली में शामिल बच्चों ने 'जल है तो जीवन हैÓ, ' पानी जीवन का अनमोल रत्न, इसे बचाने का करो यत्नÓ आदि नारे लगाते हुए गांव की गलियों में जाकर ग्रामीणों को जल बचाव के लिए जागरूक किया।
इससे पहले जनस्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग द्वारा विद्यालय में एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। मुख्यध्यापक पालविंद्र शास्त्री व अध्यापक राम निवास शास्त्री ने जलसंरक्षण विषय पर ग्रामीणों को जानकारी दी। गांव के युवा क्लब प्रधान अमरजीत प्रेरक के नेतृत्व में क्लब सदस्यों ने गांव में जाकर पानी लीकेज कर रही टूटियों को बदला। सरपंच देवीलाल व विद्यालय प्रबंधन समिति प्रधान जगदीश व यशराम ने घर-घर जाकर लोगों को पानी के सदुपयोग करने की प्रेरणा दी। इस अवसर पर कर्ण सिंह, गोपाल राम, प्रेमपाल, विक्रम, ईश्वर रानी, महावीर प्रसाद, राकेश व अनिल उपस्थित थे।

आर्य समाज सदस्यों की बैठक संपन्न

स्वामी श्रद्धानंद बलिदान दिवस पर हवन यज्ञ 23को

डबवाली (लहू की लौ)आर्य समाज सदस्यों की एक बैठक प्रधान एसके दुआ की अध्यक्षता में शुक्रवार रात्रि डॉ. एनडी वधवा के निवास पर संपन्न हुई।
सर्व प्रथम उपाध्यक्ष भारत भूषण वर्मा के आक्समिक निधन व पाक में आतंकी हमले में मारे गए स्कूली बच्चों की स्मृति में दो मिनट का मौन रख उन्हें श्रद्धांजलि दी गई। तदोपरांत प्रधान एसके दुआ ने पांच दिवसीय वार्षिक वेद प्रचार उत्सव के सफल आयोजन के लिए सभी सदस्यों का आभार जताया। स्वामी श्रद्धानंद बलिदान दिवस व अग्निकांड के शहीदों की स्मृति में 23 दिसंबर को प्रात: 10 बजे हवन यज्ञ व श्रद्धांजलि समारोह आयोजन का निर्णय लिया गया।  इस मौके पर डॉ. जेएस हरचंद, डॉ. रामफल आर्य, भारत मित्र आर्य, संजीव दुआ, सुदेश आर्य उपस्थित थे।

21 Dec. 2014