युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

10 दिसंबर 2014

सायरन बजने पर ट्रेन में चढ़ी डीआरएम

-महज सात मिनट में लगा समस्याओं का अंबार
-समस्याओं को दूर करने का दिया आश्वासन
-दो मिनट देरी से चली डीआरएम की ट्रेन

डबवाली (लहू की लौ) मंगलवार को पैसेंजर ट्रेन से डबवाली के रेलवे स्टेशन पर पहुंची रेलवे के बीकानेर मंडल की डीआरएम मंजू गुप्ता का समस्याओं के साथ जोरदार स्वागत हुआ। रेल रोड़ पैसेंजर एसोसिएशन तथा रेलवे पुल निर्माण संघर्ष समिति ने समस्याओं का ऐसा अंबार लगाया कि डीआरएम निर्धारित समय पर गाड़ी पर चढऩा ही भूल गई। डीआरएम ने पहले सायरन को गंभीरता से नहीं लिया। दूसरा सायरन सुनने के बाद वे झट से गाड़ी पर सवार हो गईं। बोगी के दरवाजे में खड़े-खड़े उन्होंने रेलवे स्टेशन की स्वच्छता को बनाये रखने का संदेश दे दिया।
केवल 7 मिनट बिताये
डीआरएम सुबह 11.10 मिनट पर बठिंडा-लालगढ़ पैसेंजर ट्रेन से डबवाली के रेलवे स्टेशन पर पहुंची। ट्रेन की अंतिम बोगी का दरवाजा जैसे ही खुला तो गुलदस्तां भेंट करते ही रेलवे स्टेशन पर मौजूद लोगों ने समस्याओं की झड़ी लगा दी। डीआरएम मंजू गुप्ता सात मिनट तक रेलवे स्टेशन पर रूकी। इस दौरान सुरेश मित्तल, अवतार सिंह, विनोद नीलू, इकओंकार सिंह नामधारी, भारत भूषण समारा, गोपाल मित्तल, हरदेव गोरखी ने बताया कि गाडिय़ों के ठहराव, डीएमयू गाडिय़ां चलाये जाने की मांग उठाते हुये रेलवे ट्रेक पर फुटब्रिज बनाये जाने की मांग की।
बदल गये सब नियम
डीआरएम के आगमन में रेलवे के नियमों-कायदों की धज्जियां उड़ गईं। जिस पैसेंजर ट्रेन से डीआरएम डबवाली पहुंची, रेलवे स्टेशन पर उसके रूकने का समय पांच मिनट है। लेकिन मंगलवार को यह नियम हवा हो गये। गाड़ी सात मिनट के लिये रूकी।

रेल रोड़ पैसेंजर एसोसिएशन की मांग
1. वर्तमान में रेलवे माल गोदाम शहर के बीचों बीच स्थित है। जिस कारण माल ढुलाई के समय शहर में जाम की समस्या बनी रहती है। माल गोदाम को शहर से बाहर स्थानांतरित किया जाये।
2. फाटक संख्या सी-34 (रामबाग रेलवे फाटक) पर रेलवे अंडरब्रिज का निर्माण किया जाये।
3. गाड़ी संख्या 14707/14708 बीकानेर-बांद्रा रणकपुर एक्सप्रेस को भटिंडा तक विस्तारित किया जाये। जिससे भटिंडा, डबवाली तथा संगरिया से मुंबई के लिये सीधी गाड़ी हो जायेगी।
4. गाड़ी संख्या 19107/19108 अहमदाबाद-उदमपुर जन्म भूमि एक्सप्रैस का मंडी डबवाली में ठहराव किया जाये।
5. रेलगाड़ी संख्या 12559-12560 शिव गंगा सुपर फास्ट एक्सप्रैस बनारस से नई दिल्ली सुबह 7 बजे जाती है और सायं 7 बजे वापिस चलती है। यह गाड़ी लालगढ़ तक की जाये।
6. लालगढ़ से अमृतसर तक वाया सूरतगढ़, हनुमानगढ़, बठिंडा, बरनाला, धूरी, लुधियाना व अमृतसर तक एक दैनिक एक्सप्रैस गाड़ी चलाई जाये।
7. सुबह 8 बजे बठिंडा से अनूपगढ़ के लिये एक गाड़ी चलाई जाये। वापिस अनूपगढ़ से चलकर रात्रि 8 बजे बठिंडा पहुंचे।
8. गाड़ी नं. 15909 दिल्ली से दोपहर 3.30 बजे चलकर 10 बजे बठिंडा आ जाती है। रात्रि 11.35 मिनट पर लालगढ़ के लिये रवाना होती है। कई दफा एड़वांस में आकर खड़ी हो जाती है। इस गाड़ी को दिल्ली से ही लेट चलाया जाये या फिर पहले पहुंचाया जाये, जिससे यात्रियों के समय में बचत हो सकें।
9. बठिंडा-बीकानेर रेलवे लाईन डबल करने व विद्युतीकरण किया जाये।
10. रेलवे कलोनी में 30 वर्षों से खाली पड़ी तीन रेलवे डिग्गियों में पार्क बनाया जाये।
11. रेलवे स्टेशन पर शुद्ध जल की व्यवस्था करवाई जाये।


डीएमयू गाड़ी होंगी शुरू
लोकल रेलगाडिय़ां (डीएमयू) चल रही हैं। डबवाली के लिये भी गाड़ी जल्द शुरू हो जायेगी। लोगों ने जो मांग पत्र सौंपा है, उन मांगों पर विचार करके कार्य को गति दे दी जायेगी। रेलवे स्टेशन पर स्वच्छता जरूरी है। सामाजिक संस्थाएं आगे आयें। इसे गोद लें, ताकि स्वच्छता बनी रहे।
-मंजू गुप्ता, डीआरएम, रेलवे, मंडल बीकानेर

आयकर विभाग के ज्वाईंट कमीशनर आज डबवाली में

डबवाली (लहू की लौ) बुधवार को आयकर विभाग के संयुक्त कमीशनर भवानी शंकर (आईआरएस) तथा आरके गर्ग दोपहर बाद 2.30 बजे अग्रवाल धर्मशाला में व्यापारियों के साथ बैठक लेंगे। जिसमें वे आयकर संबंधी जानकारी देंगे। यह जानकारी आयकर बार एसोसिएशन के अध्यक्ष राजेंद्र गुप्ता तथा सचिव मनीष बांसल ने दी।

शॉर्ट सर्कट से लगी आग, हजारों का नुक्सान

डबवाली (लहू की लौ) मंगलवार सुबह नई अनाज मंडी में बूथ नं. 2 में अचानक आग लग जाने से करीब 20 हजार रूपये की कीमत का सामान जल गया। आग पर मौका पर पहुंची फायर ब्रिगेड ने काबू पाया।
बूथ मालिक पवन कुमार ने बताया कि वह प्रचून में नरमा-ग्वार आदि खरीदने का काम करता है। सुबह उसे आढ़तिया गुरसेवक तथा सोनू ने फोन पर सूचना दी कि उसकी दुकान से धुआं निकल रहा है। वह मौका पर पहुंचा। उसने देखा कि बूथ में रखा टीवी, बैंच, ग्वार बगैरा को आग लगी हुई है। सूचना पाकर मौका पर पहुंची फायर ब्रिगेड ने आग पर काबू पाया। आग से उसका करीब 20 हजार रूपये का नुक्सान हो गया।

ट्रेक्टर-ट्राली पलटी, दो घायल

डबवाली (लहू की लौ) मंगलवार सुबह चौटाला रोड़ पर नरमा की भरी ट्रेक्टर-ट्राली पलट जाने से दो जनों के गिरने से चोट लगी। जिन्हें घायल अवस्था में सरकारी अस्पताल पहुंचाया।
ट्रेक्टर-ट्राली मालिक मोहन लाल निवासी चौटाला ने बताया कि वह नरमा की भरी ट्रेक्टर-ट्राली को चौटाला से बठिंडा ले जा रहे थे। उसके साथ ट्रेक्टर चालक प्रमोद ट्राली पर सोया हुआ था। ट्रेक्टर-ट्राली को राजेन्द्र निवासी चौटाला चला रहा था। उनके ट्रेक्टर-ट्राली जैसे ही डबवाली काली माता मंदिर के पास पहुंची तो पीछे से आये ट्रक ने साईड मार दी जिससे ट्राली पलट गई और उनके चोटें आयीं।

पाना के बलजिंद्र ने लगाई सबसे तेज दौड़

डबवाली (लहू की लौ) गुरू गोबिंद सिंह खेल स्टेडियम में मंगलवार को खंड स्तरीय राजीव गांधी खेल प्रतियोगिता का समापन हो गया। दूसरे दिन भी अव्यवस्थाओं का आलम रहा। 23 गांवों के 484 खिलाडिय़ों ने अपनी प्रतिभा प्रदर्शित की। प्रथम, द्वितीय तथा तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले खिलाडिय़ों के खातों में ईनाम राशि आयेगी। प्रथम को 250 रूपये, द्वितीय को 150 रूपये तथा तृतीय को 100 रूपये मिलेंगे।
गांव मसीतां, डबवाली, खुईयां मलकाना, पाना, नीलियांवाली, मोड़ी, तेजाखेड़ा, चौटाला, मांगेआना, सुकेराखेड़ा, जंडवाला, अलीकां, पन्नीवाला मोरिकां, जोगेवाला, गंगा, बिज्जूवाली, गांव डबवाली, मौजगढ़, पन्नीवाला रूलदू, अबूबशहर, मटदादू, लंबी, गोरीवाला के खिलाडिय़ों ने अपना दमखम दिखाया। लड़कियों की प्रतियोगिता में रही अव्यवस्थाएं दूसरे दिन भी रही। मैदान में उड़ रही धूल से फुटबाल खिलाडिय़ों को दो-चार होना पड़ा। वहीं बालीबॉल तथा कबड्डी मैदान में गंदगी का आलम रहा।
कोच सुखजीत सिंह सुक्खी ने बताया कि खंड स्तरीय प्रतियोगिता के विजेता जिला स्तरीय प्रतियोगिता में भाग लेंगे। सिरसा में 10 दिसंबर से आयोजित होने वाली प्रतियोगिता के पहले दिन लड़कियां तथा 11 दिसंबर को लड़के अपना दमखम दिखाएंगे।
प्रतियोगिता का परिणाम
एथलीट : 100 मीटर : बलजिंद्र पाना, सचिन जंडवाला बिश्नोईयां, सुशील गोरीवाला क्रमश: पहले, दूसरे तथा तीसरे स्थान पर रहे।
400 मीटर : बिंद्र सिंह डबवाली, मनजिंद्र सिंह डबवाली, सोनू अलीकां क्रमश: पहला, दूसरा तथा तीसरा स्थान अर्जित किया।
800 मीटर : निशानदीप डबवाली, अमनदीप गोरीवाला, मनप्रीत मौजगढ़ क्रमश: पहला, दूसरा तथा तीसरा स्थान पाया।
1500 मीटर : विनोद कुमार मटदादू, पंकज मोड़ी, नरेश जंडवाला क्रमश: प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय रहे।
3000 मीटर : हरदेव गांव डबवाली, सरदूल मोडी, अमृतपाल गांव डबवाली क्रमश: पहले, दूसरे तथा तीसरे स्थान पर रहे।
शॉटपुट : सचिन जंडवाला बिश्नोईयां, गुरलाल पाना, मुकेश गोरीवाला क्रमश: पहले, दूसरे तथा तीसरे स्थान पर रहे।
डिस्कस थ्रो : सचिन जंडवाला बिश्नोईयां, अजय कुमार जंडवाला बिश्नोईयां, निर्मल गोरीवाला ने क्रमश: प्रथम, द्वितीय एवं त़तीय स्थान पाया।
बास्केटबॉल : गांव डबवाली, जंडवाला बिश्नोईयां, तेजाखेड़ा क्रमश: पहले, दूसरे तथा तीसरे स्थान पर रहे।
बालीबॉल : चौटाला, मांगेआना, तेजाखेड़ा क्रमश: प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय स्थान अर्जित किया।
कबड्डी : बिज्जूवाली, जंडवाला बिश्नोईयां, जोगेवाला क्रमश: पहले, दूसरे तथा तीसरे स्थान पर रहे।

ई-दिशा केंद्र की बत्ती गुल, नहीं हुये कार्य

डबवाली (लहू की लौ) सोमवार को सात घंटे बिजली गुल रही। इस बीच ई-दिशा केंद्र के इंवर्टर भी जवाब दे गये। वैकल्पिक व्यवस्था न होने से रजिस्टरी, जमाबंदी, वाहन रजिस्ट्रेशन सहित सभी कार्य ठप हो गये।
दोपहर बाद 2 बजे तक चल पाया काम
ई-दिशा केंद्र में दोपहर 2 बजे तक कार्य हो सका। इसके बाद इंवर्टर जवाब दे गये। उस समय जमाबंदी, जाति प्रमाण पत्र, रजिस्टरी, आरसी, लाईसेंस आवेदकों की लंबी कतारें लगी हुई थी। इंवर्टर ठप होते ही केंद्र में अंधेरा छा गया। लोग मायूस होकर बाहर निकल आये। बिजली की वैकल्पिक व्यवस्था होने की प्रतीक्षा में बाहर खड़े रहे। लेकिन कोई समाधान नहीं हुआ। लघु सचिवालय में पड़े दो जनरेटर सफेद हाथी साबित हुये। वहीं कंप्यूटर ऑपरेटर भी शाम 5 बजे तक बत्ती गुल रहने की जानकारी पाकर खिसक गये।
ई-दिशा केंद्र में जनरेटर की व्यवस्था नहीं है। दोनों जनरेटर अलग-अलग कार्यालयों से जुड़े हुये हैं। भविष्य में उपरोक्त परेशानी न आये, इसके लिये जिला प्रशासन से जनरेटर की मांग की जायेगी।
-मातू राम नेहरा, तहसीलदार, डबवाली

बिजली निगम ने जारी किया टोल फ्री नंबर

डबवाली (लहू की लौ) बिजली निगम ने बिजली संबंधी शिकायत के लिये टोल फ्री नं. 1800-180-4334 जारी किया है। एसडीई सुखबीर कंबोज ने बताया कि उपरोक्त नंबर निगम के गुडग़ांव स्थित कॉल सेंटर का है। टोल फ्री नंबर पर दर्ज होने वाली शिकायत का स्टेटस उच्च अधिकारियों की निगरानी में रहेगा।

बच्चे पूछेंगे, आपके घर में डस्टबिन है

डबवाली (लहू की लौ) अब बच्चे अपने माता-पिता को बताएंगे कि डस्टबिन क्यों जरूरी है। अपने आस-पास के क्षेत्र में सर्वे भी करेंगे कि डस्टबिन रखा है या नहीं। कड़ी दर कड़ी चलने वाले इस कार्यक्रम में हस्ताक्षर अभियान के साथ-साथ रैलियां भी आयोजित होंगी। जिसका दारोमदार भी बच्चों पर ही होगा। बच्चों को स्वच्छता की शिक्षा देने के साथ-साथ स्वच्छता अभियान को आगे बढ़ाने के लिये नगर परिषद उपरोक्त कदम उठाने जा रही है। मंगलवार को शिक्षण संस्थाओं के प्रतिनिधियों के साथ बैठक करके योजना को अमलीजामा पहनाने के प्रयास शुरू हुये।
यूं चलेगा अभियान
बैठक की अध्यक्षता नप सचिव ऋषिकेश चौधरी ने की। जिसमें सीनेटरी इंस्पेक्टर अविनाश सिंगला, शशिकांत शर्मा, जितेंद्र शर्मा, शगुन सिंह, राजसिंह मान, डिंपल मिढ़ा ने भाग लिया। सचिव ने शिक्षण संस्थानों के प्रतिनिधियों के आगे स्वच्छता अभियान को आगे बढ़ाने संबंधी सुझाव मांगे। प्रतिनिधियों ने कहा कि बच्चों के जरिये अभियान को आगे बढ़ाने का तरीका सही रहेगा। सभी स्कूल बच्चों के जरिये सर्वे करेंगे कि कितने घरों में डस्टबिन हैं। बच्चों को यह भी बताना होगा कि आखिर डस्टबिन क्यों नहीं है? इसके अतिरिक्त एक बच्चे को दस घर दिये जाएंगे, ताकि वे उन घरों की रिपोर्ट दे सकें। अगले चरण में बच्चों को शपथपत्र दिया जायेगा, जिस पर वे अपने माता-पिता तथा संबंधित व्यक्तियों के हस्ताक्षर करवाएंगे। इस शपथपत्र में संबंधित व्यक्ति को स्वच्छता के लिये प्रतिबद्ध किया जायेगा। अंतिम चरण में रैलियां निकाली जाएंगी।
डस्टबिन में ही डाला जाये कूड़ा
बैठक में सीनेटरी इंस्पेक्टर ने आंकड़े प्रस्तुत करते हुये कहा कि शहर में रोजाना करीब 60 टन कूड़ा उठ रहा है। नप के पास 70 मुलाजिम हैं। जिन्हें अब केवल कूड़ा उठाने पर लगाया जायेगा। लोगों में नप डस्टबिन में कूड़ा डालने की आदत पैदा हो, इसलिये उपरोक्त अभियान की शुरूआत की जायेगी।
कर्मचारियों का करवाया जायेगा मैडीकल
एक सवाल के जवाब में सचिव ऋषिकेश चौधरी ने कहा कि नप कर्मचारियों का मैडीकल परीक्षण करवाया जायेगा। उन्हें मास्क तथा दस्ताने दिये जाएंगे। ताकि वे गंदगी से होने वाली बीमारियों से बचे रहें। इसके लिये बुधवार को सभी कर्मचारियों की बैठक बुलाई गई है। बैठक में शिक्षण संस्थानों के मुखियों ने शहर में अवारा पशुओं का मुद्दा भी उठाया।

इनेलो के सवाल, सचिव ने पूर्व चेयरमैन को घसीटा


नगर परिषद कार्यालय के अतिक्रमण पर उठाई अंगुली


डबवाली (लहू की लौ) मंगलवार को इनेलो कार्यकर्ताओं ने नगर परिषद कार्यालय के आगे धरना देकर हरियाणा सरकार तथा नगर परिषद के खिलाफ जमकर नारेबाजी करते हुये प्रदर्शन किया। कार्यकर्ताओं ने आरोप लगाया कि स्वच्छता अभियान की आड़ में नगर परिषद अधिकारी तथा कर्मचारी अपनी कारगुजारियों पर पर्दा डालने में लगे हैं। लोगों की मर्जी के बगैर ऐसी गलियों को तोड़ा जा रहा है, जो एकदम सही हैं। अनाप-शनाप नियम थोपकर उनका पुन: निर्माण नहीं करवाया जा रहा। नप सचिव ने इनेलो समर्थित पूर्व चेयरमैन को घसीटते हुये आरोपों को निराधार करार दिया।
सुबह करीब 11 बजे इनेलो कार्यकर्ता रणवीर राणा, मदन गुप्ता, दर्शन मोंगा, दीपक बागड़ी के नेतृत्व में नगर परिषद कार्यालय के समक्ष एकत्रित हुये। कार्यकर्ताओं ने धरना देकर नप तथा हरियाणा सरकार के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। धरनारत कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुये इनेलो नेता रणवीर राणा ने कहा कि वार्ड नं. 3 की पुन्नू लाल वाली गली की हालत बिल्कुल ठीक थी। गली वासियों की मर्जी के बगैर नगर परिषद ने जेसीबी चला दी। जिसका निर्माण आज तक नहीं हुआ है। दूसरी ओर शिव चौक के नजदीक स्थित काली माता मंदिर वाली गली को बनाने के लिये लोग पिछले ढाई वर्षों से संघर्षरत है, कई बार शपथपत्र दे चुके हैं। लेकिन आज तक सुनवाई नहीं हुई। अब स्वच्छता अभियान की आड़ में अधिकारी तथा कर्मचारी मनमर्जी से कार्यालय पहुंच रहे हैं। लोग शिकायत लेकर आते हैं, उनसे दुव्यर्वहार किया जाता है।
नप ने खुद कर रखा अतिक्रमण
इनेलो कार्यकर्ताओं ने सवाल खड़ा किया कि पूरे शहर में अतिक्रमण के खिलाफ अभियान चल रहा है, जोकि अच्छी बात है। लेकिन नप खुद अतिक्रमण करने पर लगी है। कार्यालय के आगे 11 से 12 फुट लंबी-चौड़ी थेहड़ी बनी साफ दिख रही है। यहीं नहीं कार्यालय का बोर्ड भी सड़क पर है। यह अतिक्रमण किसी को दिखाई नहीं दे रहा। धरनारत कार्यकर्ताओं को समझाने के लिये पहुंचे एमई जयवीर डुडी को खूब खरी-खोटी सुननी पड़ी। इनेलो कार्यकर्ताओं ने चेतावनी भरे शब्दों में एमई को कहा कि अगर समस्याओं का जल्द समाधान नहीं किया गया तो वे अगला धरना गांधी चौक में देंगे। जिसकी जिम्मेवारी नप की होगी। दोपहर बाद करीब दो बजे इनेलो कार्यकर्ताओं ने धरना उठा लिया।
इनेलो के सवालों पर नप सचिव ऋषिकेश से सीधी बात
सवाल : आरोप है कि शपथपत्र देने के बावजूद काली माता मंदिर की गली को नहीं बनाया गया, ऐसा क्यों?
सचिव : गली को पक्की करने का प्रस्ताव हाऊस की बैठक में लाया गया था। उस समय चेयरमैन इनेलो के ही टेकचंद छाबड़ा थे। टैंडर के बाद गली बननी है।
सवाल : सफाई अभियान की आड़ में शाम 4.30 बजे ऑफिस पहुंचने का आरोप है?
सचिव : सफाई अभियान चल रहा है। इसमें शक नहीं। लेकिन पब्लिक की कोई शिकायत पेंडिंग नहीं। एक भी काम न हुआ हो, तो मैं जिम्मेवार हूं।
सवाल : कुछ समय पहले किराया वसूलने के नाम पर 50 रूपये प्रतिदिन के हिसाब से जुर्माना वूसला गया था, उसका क्या बना?
सचिव : हां, ऐसा हुआ था। लेकिन वह किरायेदारों के किराये में एडजस्ट कर दिया गया है।
सवाल : सब्जी मंडी में डिवाईडर का निर्माण किया जा रहा है, कुछ समय पहले ऐसा हुआ था, क्या वह टिक पायेगा?
सचिव : जो डिवाईडर पहले बना था, उसमें कुछ खराबी रही होगी, जिसके चलते उसे समाप्त करना पड़ा। अब जो डिवाईडर बन रहा है, वह लोगों की आकांक्षाओं के अनुरूप बनाया जा रहा है। जोकि सही है।
सवाल : वार्ड नं. 3 की एक गली को खोदे करीब डेढ़ माह हो चुका है, कब बनेगी?
सचिव : देखिये, तत्कालीन उपमंडलाधीश सतीश कुमार ने बैठक में प्रस्ताव पारित किया था कि बिना थहड़े तोड़े गली का निर्माण न किया जाये। इस मामले में भी गली के लोगों ने थहड़े नहीं हटाये हैं, जिसके चलते गली का निर्माण नहीं शुरू हुआ। जब तक थहड़े नहीं हटाये जाते तब तक ऐसा ही रहेगा।
सवाल : नप कार्यालय के आगे अतिक्रमण है?
सचिव : लोगों को एतराज है तो थेहड़ी हटवा दी जायेगी। बोर्ड भी हटवा दिया जायेगा।

चार माह में ही टूट गई नई बनाई सड़क, ग्रामीणों में रोष

डबवाली (लहू की लौ) गांव गोरीवाला से चकजालू तक नई बनी सड़क चार माह में ही टूट गई, जिसको लेकर ग्रामीणों में रोष है। गांव गोरीवाला के पूर्व सरपंच आदराम देवरथ, ब्लॉक समिति सदस्य लिखी राम, पंच फुसा राम सिंहमार, भाजपा कार्यकर्ता रामकुमार जलंधरा, कृष्ण घोड़ेला, बजरंग लाल, भंवरलाल, राजेंद्र कुमार ने बताया की हरियाणा राज्य कृषि विपणन बोडऱ् द्वारा बनाई गई इस सड़क का शिलान्यास पूर्व सांसद अशोक तंवर व मुख्यमंत्री के पूर्व ओएसडी डॉ.केवी सिंह ने किया था। यह सड़क बने अभी थोड़ा ही समय हुआ है कि सड़क बिखर गई व जगह-जगह गड्ढे पड़ गए हैं। ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि न तो इस सड़क का लेवल लिया गया, ना ही बढिय़ा सामग्री प्रयोग की गई। जिस कारण सड़क टूट गई। वहीं सड़क के दोनों और पूरी मिट्टी नहीं लगाई गई है जबकि दोनों और पांच-पांच फिट तक मिट्टी लगनी चाहिए। ग्रामीणों ने सड़क की जांच करवा कर दोबारा सड़क बनाने की मांग की है। इस बारे में हरियाणा राज्य कृषि विपणन मंडल के जेई महेन्द्र कुमार से बात की गई तो उन्होंने कहा कि सड़क बने अभी थोड़ा समय हुआ है। यदि कहीं टूट-फूट हुई है तो देखकर ठीक करवा देंगे।

10 Dec. 2014





ई-दिशा केंद्र में बने लेडीज टॉयलेट की स्थिति

अधिकारी को इंट्री महिलाओं पर बैन

डबवाली (लहू की लौ) ई-दिशा केंद्र में बने लेडीज टॉयलेट का प्रयोग महिलाएं नहीं पुरूष अधिकारी और कर्मचारी करते हैं। बाहर से हमेशा लॉक रहने वाले इस टॉयलेट का दरवाजा ई-दिशा केंद्र में खुलता है। जिससे कार्य के लिये कार्यालय में आने वाली महिलाओं को दिक्कत का सामना करना पड़ता है।
ई-दिशा केंद्र में लेडीज तथा जेंटस के लिये अलग-अलग टॉयलेट की व्यवस्था है। लेकिन हर रोज लेडीज टॉयलेट पर लॉक लगा रहता है। प्रतिदिन करीब 30 से 40 महिलाएं अपने कार्य के लिये आती हैं। जिन्हें ई-दिशा केंद्र में घंटों लग जाते हैं। लेकिन टॉयलेट बंद मिलने के बाद काफी परेशानी उठानी पड़ती है। शनिवार तथा रविवार की छुट्टी के बाद सोमवार को खुले कार्यालय में युवतियां तथा महिलाओं की भीड़ लगी थी। महिलाओं ने लेडीज टॉयलेट प्रयोग करनी चाही, लेकिन बंद मिली।
केंद्र के भीतर है चोर मोरी
महिलाओं के लिये बंद लेडीज टॉयलेट का प्रयोग ई-दिशा केंद्र के पुरूष अधिकारी तथा कर्मचारी करते हैं। इसके लिये ई-दिशा केंद्र में टॉयलेट तक पहुंचने के लिये चारी मोरी भी बनी हुई है। जबकि महिलाओं को पुरूषों के लिये बनी टॉयलेट का रूख करना पड़ता है।

महिलाओं के लिये खुलेगा टॉयलेट

ई-दिशा केंद्र में बने लेडीज टॉयलेट का प्रयोग केंद्र के कर्मचारी करते थे। अब यह महिलाओं के लिये खोल दिया जायेगा।
-मातू राम नेहरा, तहसीलदार, डबवाली

अलाव की आग में झुलसी वृद्धा

डबवाली (लहू की लौ) सर्दी से बचने के लिये जलाये अलाव की आग में एक वृद्धा झुलस गई। उपचार के लिये उसे डबवाली के सरकारी अस्पताल में लेजाया गया। गंगा निवासी माया देवी ने बताया कि रविवार शाम को ठंडी से बचने के लिये उन्होंने अलाव जलाया था। आग ने उसकी सास बनारसी देवी के कंबल को पकड़ लिया। उसके शोर मचाने पर आस-पड़ौस के लोग वहां जमा हो गये। बनारसी देवी को लगी आग बुझाई गई। वृद्धा की बाईं बाजू बुरी तरह से झुलस गई है।

शहतूत को लेकर भिड़े, युवती सहित तीन घायल

डबवाली (लहू की लौ) गांव मौजगढ़ में शहतूत काटने को लेकर हुये विवाद में एक युवती सहित तीन जनें घायल हो गये। तीनों को उपचार के लिये डबवाली के सरकारी अस्पताल में लेजाया गया।
मौजगढ़ निवासी फुम्मन सिंह ने बताया कि सोमवार को वह धान की ट्राली खेत से निकाल रहा था। इसी दौरान मार्ग में ट्राली शहतूत के पेड़ में फंस गई। जब वह शहतूत को काटने लगा तो कश्मीर बगैरा ने उस पर हमला कर दिया। उसे छुड़वाने के लिये आई उसकी बेटी ममता के भी चोटें मारी।
इधर कश्मीर सिंह ने बताया कि कुछ दिन पूर्व पंचायती समझौते के तहत शहतूत को दूसरी जगह पर लगाया जाना था। लेकिन फुम्मन सिंह समझौते के उलट शहतूत को काटने लगा। जिस पर उसने एतराज किया। आरोपियों ने उस पर हमला कर दिया।

सीसीआई पर भेदभाव का आरोप, किसानों ने जताया विरोध

डबवाली (लहू की लौ) नरमा के भाव को लेकर सोमवार को अनाज मंडी में जमकर बवाल हुआ। किसान सरकारी खरीद एजेंसी सीसीआई पर भेदभाव बरतने का आरोप लगाते हुये लामबंद हो गये। नारेबाजी करते हुये मंडी के गेटों पर ताले जड़ दिये। जिससे मार्किट कमेटी कर्मचारियों में हड़कंप जैसी स्थिति हो गई। कमेटी कर्मचारियों के अनुरोध पर तुरंत ही किसानों ने ताले खोल भी दिये।
किसान सुंदर सिंह,कंलवजीत सिंह, मलकीत सिंह सूच, काका सिंह, अजनीश कैनेडी ने बताया कि नरमा का भाव सबसे निचले स्तर पर चल रहा है। पिछले करीब एक माह से सीसीआई खरीद कर रही है। जोकि भेदभाव भरा रूख अख्तियार किये हैं। नरमा का 3100, किसी नरमा का 3300 भाव लगा रही है। किसान राजेंद्र नेहरा ने बताया कि आढ़ती ने उसके नरमा का भाव 3305 रूपये लगाया था। जिस पर वह अपने नरमा को उठाकर ले गया। शेरगढ़ स्थित एक कॉटन फेक्टरी ने उसका वही नरमा 3850 रूपये प्रति क्विंटल की दर से खरीदा।
बोली हुई प्रभावित
किसानों तथा आढ़तियों के विरोध के बीच नरमा की बोली प्रभावित हुई। कुछ समय के लिये किसान तथा आढ़ती अनाज मंडी के गेट बंद किये खड़े रहे। बाद में कर्मचारियों के समझाने पर मान गये और बोली शुरू करवाई।
मार्किट कमेटी के कार्यकारी सचिव हेतराम ने बताया कि सीसीआई सरकार के तय नियमों के अनुसार नरमें की खरीद कर रही है। कुछ समय के लिये किसानों तथा आढ़तियों ने विरोध किया था। समझाने पर सभी मान गये।

दुकान पर कब्जे का प्रयास, तोडफ़ोड़

-पुलिस ने एक को नामजद करते हुये पांच-छह अन्य के खिलाफ दर्ज किया मामला

डबवाली (लहू की लौ) रविवार रात को कुछ लोगों ने बठिंडा रोड़ पर स्थित एक दुकान में तोडफ़ोड़ करके कब्जे का प्रयास किया। दुकान में पड़ा सामान भी उठा ले गये। पुलिस ने एक व्यक्ति को नामजद करते हुये 4-5 अन्य के खिलाफ मामला दर्ज करके आगामी कार्रवाई शुरू कर दी है।
डबवाली निवासी मनजीत सिंह ने बताया कि बठिंडा रोड़ पर 11 फुट चौड़ी तथा 82 फुट लंबी दुकान को उन्होंने वर्ष 1991 में खरीदा था। जिसके कागजात उनके पास हैं। इस दुकान को उसने सोहन लाल को किराये पर दे रखा है। कुछ दिन पूर्व सुरेंद्र कुमार नामक व्यक्ति दुकान में आया। संबंधित जमीन को अपना बताकर सोहन लाल से दुकान खाली करने का कहकर चला गया। रात को कुछ लोग दुकान के पिछवाड़े में लगे गेट को तोड़कर भीतर घुस आये। दुकान में सो रहे महेंद्र कुमार को दबोच लिया। उसे आवाज निकालने पर जान से मारने की धमकी दी। उनकी संख्या पांच से छह थी। सभी ने अपने मुंह ढांपे हुये थे। करीब दो घंटे तक दुकान में जमकर तोडफ़ोड़ की। दुकान में पड़े साईकिलों को बाहर फेंक दिया। नये टायर व अन्य सामान चुरा ले गये। आरोपी जाते समय महेंद्र का मोबाइल भी साथ ले गये। मनजीत ने बताया कि आरोपियों के चले जाने के बाद रात करीब दो बजे महेंद्र ने इसकी सूचना उसे दी।
शहर थाना प्रभारी दलीप सिंह ने बताया कि सुरेंद्र कुमार तथा 5-6 अन्य के खिलाफ धारा 147/148/448/506/379 आईपीसी के तहत मामला दर्ज करके आगामी कार्रवाई शुरू कर दी गई है।

पेंशन वितरण आज से

डबवाली (लहू की लौ) बुढ़ापा, विधवा एवं विकलांग पेंशन का वितरण 9 दिसंबर से निर्धारित स्थलों पर होने जा रहा है। यह जानकारी देते हुये नगर परिषद सचिव ऋषिकेश चौधरी ने बताया कि 9 दिसंबर को वार्ड नं. 1,2,3 के पेंशनरों को सब्जी मंडी के नजदीक स्थित गुरूद्वारा श्री कलगीधर सिंह सभा, 10 दिसंबर को वार्ड नं. 4,5,6 के पेंशन धारकों को गौशाला के नजदीक कम्युनिटी हाल, 11 दिसंबर को वार्ड नं. 7,8,9 तथा 10 के पेंशनरों को नई अनाज मंडी रोड़ स्थित अरोड़वंश धर्मशाला सभा, 12 दिसंबर को वार्ड नं. 11,12,13 तथा 14 के पेंशन धारकों को कलोनी रोड़ स्थित मैहता धर्मशाला, 13 दिसंबर को वार्ड नं. 15,16 तथा 19 के पेंशनरों को जीटी रोड़ स्थित गुरूद्वारा बाबा विश्वकर्मा जी में पेंशन का वितरण होगा।
सचिव के अनुसार 14 दिसंबर को रविवार होने के कारण छुट्टी रहेगी। 15 दिसंबर को वार्ड नं. 17 तथा 18 के पेंशन धारकों को सिरसा रोड़ पर स्थित डेरा बाबा मनसा दास में पेंशन बांटी जायेगी।

आज तक राजकीय घोषित नहीं हुआ अग्निकांड स्मारक

-अग्निकांड पीडि़त उठा रहे हैं रखरखाव का खर्च
-बिजली का कनेक्शन कट चुका है, कुंडी के सहारे प्रयोग हो रही है बिजली

डबवाली (लहू की लौ) 23 दिसंबर 1995 को डबवाली में हुये अग्निकांड को विश्व की सबसे भयानक अग्नि त्रासदी माना गया है। अब तक केंद्र तथा हरियाणा सरकार ने इसे त्रासदी मानकर घटना स्थल को राजकीय स्मारक घोषित नहीं किया है। ऐसे में अग्निकांड पीडि़त संघ ही स्मारक के खर्चे वहन कर रहा है। सबसे खास बात यह है कि अग्निकांड का मुख्य कारण शॉर्ट सर्किट माना गया था। वैसे ही हालात अब भी अग्निकांड स्थल के हैं। कनेक्शन कटा होने पर अग्निकांड स्मारक की बिजली कुंडी पर चल रही है।
अग्निकांड स्मारक का सफर
अग्निकांड पीडि़त संघ की मांग पर वर्ष 2002 में सरकार ने करीब 9 लाख रूपये की लागत से दो कमरे खड़े किये थे। छह साल तक सरकार ने मुड़कर ने देखा। 2008 में करीब साढ़े बारह लाख रूपये की लागत से स्मारक का मुख्य गेट बनाया गया। अब उसमें करीब साढ़े 25 लाख रूपये की लागत से ई-लाईब्रेरी स्थापित की गई है। साथ में कुशलता विकास केंद्र चल रहा है। पूरा स्मारक करीब 110 गुणा 110 फुट जमीन पर बना हुआ है। लेकिन आज तक इस स्मारक को सरकार ने राजकीय स्मारक घोषित नहीं किया।
राजकीय स्मारक घोषित होने पर सरकार उठाती है खर्च
पिछले करीब उन्नीस वर्षों से बरसी पर राजनेताओं के आगे अग्निकांड पीडि़त संघ स्मारक को राष्ट्रीय या राजकीय स्मारक घोषित करने की मांग कर रहा है। पीडि़त संघ का कहना है कि स्मारक प्रेरणा का स्त्रोत बने, ताकि लापरवाही के चलते डबवाली अग्निकांड जैसी पुनरावृत्ति दोबारा न हो। लेकिन आज तक पीडि़तों की मांग पूरी नहीं हुई। कुछ समय पहले बिजली बिल न भरने के कारण स्मारक का कनेक्शन कट गया। जैसे ही स्मारक में कुशलता विकास केंद्र खुला, प्रशासन ने नया कनेक्शन जारी करवा लिया। तब से अब तक स्मारक में बिजली व्यवस्था कुंडी कनेक्शन के सहारे चल रही है। सवाल उठता है कि अग्निकांड स्मारक का खर्च कब तक अग्निकांड पीडि़त वहन करते रहेंगे।
अग्निकांड पीडि़त संघ के प्रवक्ता विनोद बांसल ने बताया कि अब तक स्मारक के रखरखाव पर पूरा खर्च अग्निकांड पीडि़त वहन करते आ रहे हैं। डबवाली अग्निकांड के शहीदों की याद में बने स्मारक को राष्ट्रीय या राजकीय स्मारक घोषित किया जाना चाहिये, ताकि सरकारी कंट्रोल में आने के बाद अच्छी तरह से स्मारक का रखरखाव हो सके।

एसबीआई ने लगाये शिविर लाखों रूपये के लोन बांटे, रिकवरी की

डबवाली (लहू की लौ) भारतीय स्टेट बैंक की ओर से सोमवार को एकमुश्त समझौता स्कीम के तहत जगह-जगह शिविर लगाये गये। जिसमें मौका पर ही इच्छुक व्यक्तियों को लोन उपलब्ध करवाये गये। साथ में सेटलमेंट करके लोन की राशि भरवाई गई।
डबवाली, चौटाला, कालूआना स्थित एसबीआई शाखाओं का शिविर नई अनाज मंडी स्थित दुकान वर्मा ब्रादर्स (दुकान नं. 186) पर लगा। शिविर में रीजनल मैनेजर आरबीओ सिरसा यमुना लोहिया ने उपभोक्ताओं को बैंक की स्कीम की जानकारी दी और बकाया राशि भरने का सुनहरी मौका बताते हुए राशि भरने के लिए प्रेरित किया।  शिविर में एसबीआई डबवाली ने 36 खाताधारकों को 1 करोड़ 13 लाख रूपये का लोन दिया। जबकि 10 खाता सेटल करके 28 लाख रूपये की रिकवरी की। एसबीआई कालूआना ने 11 मामलों में साढ़े 32 लाख रूपये लोन दिया। 10 लाख रूपये का होम लोन दिया। शनिवार को लगी लोक अदालत में पांच मामलों में 35 लाख 20 हजार रूपये फाईनल हुए। जिसमें से 16 लाख रूपये की रिकवरी हो चुकी है। जबकि शिविर में ओटीएस के तहत दो मामलों में 11 लाख 63 हजार रूपये प्राप्त किये। इसी तरह चौटाला शाखा ने 13 मामलों में 31 लाख 15 हजार रूपये की रिकवरी दी। जबकि आठ मामलों में पांच लाख 85 हजार रूपये का लोन दिया। शिविर में मैनेजर एनपीए आरबीओ सिरसा रमनदीप गंभीर, वरिष्ठ शाखा प्रबंधक इकबाल गर्ग, सुदेश वर्मा, नारायण सिंह उपस्थित थे।
इधर कालांवाली की अनाज मंडी में कालांवाली, पिपली, औढ़ां तथा रोड़ी शाखाओं का संयुक्त शिविर लगाया गया। जिसमें ओटीएस के तहत 24 खाता धारकों से 41 लाख 08 हजार रूपये की रिकवरी की गई। इसके अतिरिक्त 9 लोगों को 24 लाख रूपये का लोन दिया गया। इस मौके पर कालांवाली शाखा के प्रबंधक अशोक महाजन, बीएस अरोड़ा पिपली, अशोक गोयल औढ़ां तथा आरसी मरोडिय़ा रोड़ी उपस्थित थे।

गुरू नानक कॉलेज में एक दिवसीय सफाई शिविर का आयोजन

डबवाली (लहू की लौ) गुरूनानक कॉलेज किलियांवाली में एनसीसी कैडेटों ने एक दिवसीय सफाई शिविर लगाया। जिसमें 37 कैडेटों ने भाग लिया। एनसीसी इंचार्ज बलराज सिंह सिधू ने बताया कि शिविर के दौरान कैडेटों ने कॉलेज की सफाई की। बाद में कबड्डी में जौहर दिखाये। गुरप्रीत सिंह गंगा को बेस्ट कैडेट चुना गया। इस मौके पर प्रिंसीपल डॉ. इंदिरा अरोड़ा, डॉ. कुलविंद्र सिंह सिधू, गुरमीत सिंह ग्रेवाल, प्रो. गुरलाल सिंह, अध्यापिका सुनीता शर्मा, शिल्पा अरोड़ा, सीमा गर्ग , करनैल सिंह क्लर्क उपस्थित थे।

खंड स्तरीय गेम्स में सिर्फ 12 गांवों से आये खिलाडिय़ों ने दिखाया दमखम

डबवाली (लहू की लौ) गुरू गोबिंद सिंह खेल स्टेडियम में सोमवार को खंड स्तरीय राजीव गांधी खेल प्रतियोगिता शुरू हुई। पहले दिन विभिन्न स्पर्धाओं में लड़कियों ने दमखम दिखाया। आनन-फानन में अव्यवस्थाओं के बीच शुरू हुई खेलों में पिछले वर्ष के मुकाबले इस वर्ष बहुत कम लड़कियां मैदान में उतरीं।
प्रतियोगिता के पहले दिन लड़कियों के मुकाबलों में खंड के मात्र 12 गांवों की टीमों ने भाग लिया। गांव तेजाखेड़ा, जंडवाला बिश्नोईयां, मांगेआना, मोड़ी, पाना, मटदादू, गांव डबवाली, पन्नीवाला मोरिकां, नीलियांवाली, लंबी, बिज्जूवाली, गोरीवाला की मात्र 261 लड़कियां बॉलीबाल, फुटबाल, कबड्डी, बास्केटबॉल, एथलीट में भाग लेने पहुंची। जबकि पिछले वर्ष हुई प्रतियोगिता में करीब 450 लड़कियों ने भाग लिया था। हालांकि इस वर्ष सरकार ने नियमों में परिवर्तन करते हुये खिलाड़ी को किराया भी दिया था। लेकिन खेल प्रतियोगिता तथा नियमों के बारे में प्रचार न होने की वजह से बहुत कम खिलाड़ी मैदान में पहुंची। उन्हें भी अव्यवस्थाओं का सामना करना पड़ा। मैदान साफ न होने की वजह से खिलाडिय़ों को कंकर-पत्थरों पर दौडऩा पड़ा। कबड्डी मैदान के इर्द-गिर्द भी गंदगी का आलम रहा।
प्रतियोगिता के परिणाम
बालीबॉल : मांगेआना प्रथम, बिज्जूवाली द्वितीय, पन्नीवाला मोरिकां तृतीय।
कबड्डी : मटदादू प्रथम, लंबी द्वितीय, मोड़ी तृतीय।
बास्केटबॉल : अबूबशहर प्रथम, जंडवाला बिश्नोईयां द्वितीय तथा खालसा स्कूल तृतीय।
फुटबाल : खालसा स्कूल प्रथम, मटदादू द्वितीय, मांगेआना तृतीय।
एथलीट :
100 मीटर : नवनीत कौर प्रथम, हेमलता द्वितीय, अमरजीत कौर तृतीय।
800 मीटर : माया प्रथम, दीपिका द्वितीय और अमनदीप तृतीय।
400 मीटर : संदीप कौर प्रथम, रितू बिश्नोई द्वितीय तथा अमरजीत कौर तृतीय।
1500 मीटर : मनप्रीत कौर प्रथम, सुखवीर पाल कौर द्वितीय, ज्योति कौर तृतीय।
लॉंग जंप : रितू बाला प्रथम, अनामिका द्वितीय, दीक्षा तृतीय।
शॉटपुट : लवलीन प्रथम, वीरपाल कौर द्वितीय, प्रियंका तृतीय।
डिस्कस थ्रो : दीक्षा प्रथम, प्रियंका द्वितीय, अनामिका तृतीय।
4 गुणा 100 रिले दौड़ : हेमलता, माया, हरबंस कौर, सुखप्रीत कौर प्रथम, मनप्रीत, ज्योति, अमनदीप कौर, अनामिका द्वितीय, अंतिमा, अंकुश, रीतू, जसप्रीत कौर तृतीय।

पिछले वर्ष से कम आये खिलाड़ी
दो दिवसीय खेल प्रतियोगिता संपन्न करवाने के लिये महज 50 हजार रूपये दिये गये हैं। ऐसे में स्टेडियम की व्यवस्था से लेकर रिफ्रेशमेंट तथा किराया भी दिया जाना है। पिछले वर्ष के मुकाबले कम खिलाडिय़ों ने भाग लिया है।
-सुखजीत सिंह सुक्खी कोच,
गुरू गोबिंद सिंह खेल स्टेडियम, डबवाली

सड़क हादसे में दो युवकों की मौत

औढां (लहू की लौ) राष्ट्रीय राजमार्ग नंबर 9 पर गांव खैरेकां के निकट रविवार रात्रि घटित हुए एक दर्दनाक सड़क हादसे में दो युवकों की मौत हो गई। जानकारी मुताबिक गांव भंगू निवासी 24 वर्षीय सुरेंद्र पुत्र काला सिंह व सुखविंद्र पुत्र बलजीत सिंह सिरसा में एक मोटर कंपनी में कार्य करते थे। रोजमर्रा के अनुसार रात्रि को उक्त दोनों युवक बाइक पर सवार होकर गांव आ रहे थे कि साहूवाला प्रथम के निकट एक वाहन ने बाईक को अपनी चपेट में ले लिया। इस हादसे में 24 वर्षीय सुरेंद्र की मौके पर मौत हो गई जबकि 18 वर्षीय सुखविंद्र ने अस्पताल में दम तोड़ दिया। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने दुर्घटना का जायजा लिया। इस संबंध में पुलिस ने परिजनों के ब्यान पर अज्ञात वाहन चालक के खिलाफ दुर्घटना का मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

बच्चे बोले, नहीं तोड़ेंगे यातायात नियम


डबवाली (लहू की लौ) हम शपथ लेते हैं कि यातायात नियम नहीं तोड़ेंगे। नियमों का खुद पालन करते हुये दूसरों को भी नियमों का पालन करने की सलाह देंगे। सोमवार को शहर के चार विद्यालयों के सैंकड़ों बच्चों ने शहर थाना प्रभारी दलीप सिंह के साथ शपथ उठाई। 
रात भर डयूटी, सुबह होते जागरूकता अभियान
बढ़ती सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के लिये शहर थाना प्रभारी दलीप सिंह ने अभियान का आगाज किया हुआ है। रात भर गश्त पर डयूटी पूरी करने के बाद सुबह बच्चों को यातायात नियमों के बारे में जागरूक करने के लिये निकल जाते हैं। सोमवार को उन्होंने एकाएक चार विद्यालयों में अपने अभियान को चलाया। इस दौरान उन्होंने सड़क दुर्घटनाओं के आंकड़ों के आधार पर बच्चों से बात की। जिसे सुनकर विद्यालय स्टॉफ के भी रोंगटे खड़े हो गये। सिरसा रोड़ पर स्थित खालसा सीनियर सैकेंडरी स्कूल से अपने अभियान की शुरूआत करते हुये थाना प्रभारी ने डीएवी सीनियर सैकेंडरी स्कूल, सरस्वती विद्या मंदिर तथा बठिंडा रोड़ पर सेंट जोसफ हाई स्कूल में बच्चों को यातायात नियम अपनाने की शपथ दिलाई।
यह आंकड़े रखे
थाना प्रभारी ने बताया कि विश्व में अगर सबसे ज्यादा कहीं सड़क दुर्घटनाएं होती हैं, तो वह हमारा देश है। देश में एक घंटे में पंद्रह लोग सड़क दुर्घटनाओं में मारे जाते हैं। शाम तक यह संख्या 360 हो जाती है। कारण सिर्फ लापरवाही होता है। थाना प्रभारी ने बच्चों का ज्ञान बढ़ाने के लिये ट्रेफिक सिग्नल आधारित प्रश्न भी पूछे।

दिग्विजय बोले, किसानों के लिये आंदोलन करेगी इनेलो

डबवाली (लहू की लौ) इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला ने सोमवार को नई अनाज मंडी का दौरा कर किसानों, आढ़तियों व मंडी मजदूरों की समस्याएं जानीं। उन्होंने मंडी में व्याप्त अव्यवस्थाओं का भी जायजा लिया। किसान भवन में एक सरकारी कार्यालय खोलने व भवन में किसानों के लिए सुविधाएं नहीं होने पर रोष जताया।
बाद में इनेलो कार्यालय में कार्यकर्ताओं से रूबरू होते हुए दिग्विजय ने कहा कि भाजपा सरकार की किसान विरोधी नीतियों के कारण सबका पेट भरने वाला किसान आर्थिक संकट से जूझ रहा है। नरमा व धान की कीमतें न्यनूतम स्तर पर आ चुकी है। आज खेती घाटे का सौदा बन चुकी है। फसलों के उचित दाम नहीं मिलने के कारण किसानों को फसलें पकने तक आने वाली लागत राशि पूरा करना ही मुश्किल हो गया है। उन्होंने मंडी में अव्यवस्थाओं को लेकर भी रोष जताया व चेतावनी दी कि यदि किसान भवन से सरकारी कार्यालय कार्यालय जल्द शिफ्ट नहीं किया व किसानों को सुविधाएं उपलब्ध नहीं करवाई तो इनेलो द्वारा आंदोलन किया जाएगा।
उन्होंने बताया कि रेलवे मंत्रालय से संबंधित डबवाली की समस्याओं को लेकर विधायक नैना सिंह चौटाला, हिसार के सांसद दुष्यंत चौटाला व सिरसा के सांसद चरणजीत सिंह रोड़ी जल्द ही केंद्रीय रेल मंत्री से मिलेंगे। दिग्विजय चौटाला ने बताया कि राम बाग के नजदीक स्थित रेलवे फाटक पर अंडरब्रिज बनाए जाने की मांग वर्षों से लंबित है। इसके अभाव में मेन बाजार रेलवे फाटक पर प्रतिदिन लगने वाले जाम से लोगों को परेशानी झेलनी पड़ रही है। इसके अलावा ट्रैफिक समस्या के समाधान के लिए रेलवे फाटक के नजदीक बने लोडिंग अनलोडिंग प्वाईंट को भी शहर से बाहर शिफ्ट किया जाना जरूरी है। दिग्विजय चौटाला ने कहा कि स्थानीय भाजपा नेताओं ने भी चुनावों से पहले उक्त दोनों मांगों को लेकर शहरवासियों से वायदे किए लेकिन भाजपा की सरकार बनने के बाद चुप्पी साध कर घर बैठ गए हैं। ऐसे में इनेलो द्वारा जनहित में आवाज बुलंद की जाएगी।
इस मौके पर रणबीर राणा, लवली मैहता, सर्वजीत मसीतां, केके सेठी, दर्शन मोंगा, हरबिलास निरंकारी, हरबंस भीटीवाला, परविंद्र अरोड़ा, अजनीश कनेडी, मलकीत सूच, जगरूप सिंह, गुरलाल सिंह, सुखविंद्र सरां, डा. जेके कटारिया, राकेश शर्मा, जगसीर मांगेआना, मुकंद सेठी, तेलू राम बांसल, हैप्पी गिल, सतपाल लोहगढिय़ा, पवन बांसल, अमर बागड़ी, अमन बांसल, गोशा बांसल व अन्य उपस्थित थे।