युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

23 जनवरी 2011

रिलायंस के खिलाफ ट्रक ड्राईवरों की नारेबाजी, प्रदर्शन


डबवाली (लहू की लौ) बड़ौदा से रिलायंस कंपनी का माल भरकर लुधियाना जा रहे ट्रक पिछले पांच दिनों से डूमवाली बैरियर पर अटके हुए हैं। आरोप है कि रिलायंस ने एंट्री टैक्स का भुगतान नहीं किया है। शनिवार को ट्रक ड्राईवरों का धैर्य जवाब दे गया। ड्राईवरों ने रिलायंस कंपनी के खिलाफ नारेबाजी कर डाली।
ड्राईवर बहादर सिंह, सुखचैन सिंह, बेअंत सिंह, काला सिंह निवासीगण जगरांव (पंजाब), बूटा सिंह निवासी बरनाला (पंजाब) ने बताया कि उन लोगों ने 17 जनवरी को बड़ौदा से लुधियाना के लिए रिलायंस कंपनी का प्लास्टिक का सामान भरा था। प्रत्येक ट्रक में करीब सोलह टन माल की भराई हुई। इस माल को लेकर वे 18 जनवरी को डूमवाली बैरियर पर आ गए। लेकिन बैरियर पर तैनात कर्मचारियों ने उनसे एंट्री टैक्स की मांग की। एक ट्रक का एंट्री टैक्स करीब एक लाख रूपए से अधिक है। पिछले पांच दिनों से वे इस टैक्स बैरियर पर अटके हुए हैं। इस बारे में जब उन्होंने रिलायंस कंपनी के लुधियाना ऑफिस से संपर्क किया तो उन्हें कोई संतोषजनक उत्तर नहीं मिला।
ट्रक ड्राईवारों ने आरोप लगाया कि बड़ौदा से लुधियाना करीब 1500 किलोमीटर दूर है। पांच दिनों से एक ही जगह पर रूके होने के कारण उन्हें काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। जेब खर्च अलग से भुगतना पड़ रहा है। ऐसे हालातों में माल पहुंचाने के लिए उन्हें जो भाड़ा दिया गया है, वह बहुत कम है।
इस संदर्भ में जब डूमवाली टैक्स बैरियर के ईटीओ आरएन शर्मा से बातचीत की गई तो उन्होंने बताया कि ट्रकों में जो माल है उस पर 8 प्रतिशत एंट्री टैक्स है। बिना एंट्री टैक्स भरे ट्रकों को बैरियर से नहीं गुजरने दिया जाएगा।
इस संदर्भ में जब रिलायंस कंपनी के रीजनल सैंटर लुधियाना के क्लर्क प्रदीप कुमार से बातचीत की गई तो उन्होंने इस बात को स्वीकारा कि एंट्री टैक्स का भुगतान न होने के कारण ट्रक डूमवाली बैरियर पर खड़े हैं। उसे एंट्री टैक्स का भुगतान करने के लिए बिलों को मुंबई से पास करवाना पड़ता है। बिल पास होने के बाद ही एंट्री टैक्स का भुगतान हो सकेगा। जोकि जल्द होने की संभावना है।

मायावती न होकर माया की देवी है बसपा सुप्रीमों-कांता आलडिय़ा

डबवाली (लहू की लौ) इंडियन बहुजन संदेश पार्टी (कांशीराम) की राष्ट्रीय अध्यक्षा कांता आलडिय़ा ने कहा कि घोटाले करके देश की जनता को लूटने वालों पर देशद्रोह का मामला दर्ज होना चाहिए। लेकिन इसके बावजूद घोटालेखोर राजनीतिक संरक्षण में पल-बढ़ रहे हैं।
वे शनिवार को श्री अन्नपूर्णा रिसोर्ट में पत्रकारों से बातचीत कर रही थीं। उन्होंने कहा कि देश की जनता से लूटा हुआ धन विदेशी बैंकों में पड़ा है। यह धन किसका है, उनके नामों के खुलासे सार्वजनिक होने चाहिए। लेकिन इसके बावजूद केन्द्र की कांग्रेस सरकार नामों के खुलासे करने में आनाकानी कर रही है। चूंकि कांग्रेस के कुछ हाईप्रोफाइल नेताओं के नाम भी सामने आ रहे हैं। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि बहुजन समाज पार्टी में कार्यकर्ता की कोई कद्दर नहीं है, केवल पैसा देखा जाता है। साल 1985 से 1992 तक उन्होंने भी बसपा के लिए कार्य किया। उसी समय बसपा की असली तस्वीर उनके सामने आई। बसपा की सुप्रीमों मायावती नहीं, मायादेवी हैं। माया के लिए वह कोई भी समझौता करने से नहीं चूकतीं।
आलडिया ने कहा कि प्रदेश सरकार ने डॉ. भीमराव अम्बेडकर के नाम पर रोहतक में दिल्ली रोड़ पर पांच एकड़ में पार्क बनाकर बाबा साहिब की प्रतिमा लगाने का वायदा किया था। लेकिन प्रदेश सरकार अपने वायदे से मुकर रही है। इसी के चलते इंडियन बहुजन संदेश पार्टी के कार्यकर्ता 26 जनवरी को सीएम सिटी रोहतक में तिरंगा नहीं फहराने देंगे। एक सवाल का जवाब देते हुए कान्ता आलडिय़ा ने कहा कि कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है। लाल चौक में तिरंगा फहराने का विरोध गलत है। विरोध जताने वाले लोगों का साथ देने का मतलब अलगाववादियों का साथ देना है।
उन्होंने कहा कि हुड्डा सरकार ने प्रदेश के गरीबों से कुछ वायदे किए थे। जो आज तक पूरे नहीं हुए हैं। वायदों की याद दिलाने के लिए पार्टी ने प्रदेश सरकार के खिलाफ डेरा डालो अभियान शुरू किया है। इसी के अन्तर्गत आगामी 15 मार्च को कुरूक्षेत्र तथा 14 अप्रैल को अम्बाला में पार्टी वर्कर डेरा डालकर सरकार के खिलाफ आवाज बुलंद करेंगे।
उन्होंने आरोप लगाया कि सीएम भूपेन्द्र सिंह हुड्डा प्रदेश में जातिवाद का जहर घोल रहे हैं। मिर्चपुर कांड, हिसार कांड सीएम के बुने हुए हैं। वे प्रदेश के जाटों के हितैषी होने की बजाए, उन्हें खोखला कर रहे हैं। राष्ट्रीय अध्यक्षा ने आरोप लगाया कि राजनीतिक रोटियां सेंकने के लिए राजमार्ग जाम, रेलवे मार्ग जाम आंदोलनकारी नहीं, बल्कि कांग्रेस के गुण्डे करते हैं। इस अवसर पर पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष करनैल सिंह औढ़ां, राजेश लठवाल, शिवचरण सैनी, पटेल सिंह, सुनील दहिया, कर्मपाल चौधरी, राजू कोल, रामेश्वर दाबड़ी, जिया लाल, रामभज सनेहडी, रतन सिंह आदि उपस्थित थे।
विवाद खत्म
गांव पन्नीवाला मोरिकां में दलितों से कथित मारपीट करके उनका मुंह काला कर घूमाने की घटना को सुलझाने का स्पष्टीकरण देते हुए इंडियन बहुजन संदेश पार्टी (कांशीराम) की राष्ट्रीय अध्यक्षा कान्ता आलडिय़ा ने कहा कि पार्टी प्रदेश में सौहार्द का माहौल कायम रखने पर विश्वास रखती है। बेवजह राजनीतिक रोटियां सेंकने में विश्वास नहीं रखती। इसी मकसद से हल्का डबवाली के गांव पन्नीवाला मोरिकां में चल रहा विवाद शांत हो गया। उन्होंने बताया कि दलित समाज से संबंध रखने वाले जगसीर सिंह तथा मक्खन सिंह ने टिण्डे चोरी के अपराध को स्वीकार कर लिया। जबकि दूसरे पक्ष के जगदीप, बंसी सिंह, अमरीक सिंह, सर्वजीत सिंह, मलकीत सिंह, काका सिंह ने भी अपनी गलती को मान लिया। साथ में जगदीप बगैरा से 51-51 हजार रूपए जगसीर सिंह तथा मक्खन सिंह को दिलाए गए हैं। जबकि 21,000 रूपए गौशाला को दिलाए गए हैं।

मेजबान को धूल चटा घुकांवाली ने कब्जाई ट्रॉफी


बनवाला (जसवन्त जाखड़) बनवाला क्रि केट कमेटी की ओर से श्रीकृष्णा पब्लिक स्कूल बनवाला में करवाये जा रहे क्रिकेट मैच के अन्तिम दिन शनिवार को बनवाला और घुकांवाली के बीच हुए फाईनल मुकाबले में घुकांवाली टीम बनवाला टीम को हराकर ट्रॉफी कब्जा जमाया।
टॉस जीत कर पहले बल्लेवाजी करते हुए युवा क्लब बनवाला की टीम कैप्टन विकास गोदारा के नेतृत्व में मैदान में उतरी। टीम ने 4 विकेट खो कर 10 ओवर में 101 रन बनाये। टीम कप्तान विकास गोदारा ने 3 चौके लगा कर 23 रन का, कालू राम डूडी ने 3 छक्के, 4 चौके लगा कर 34 रन का योगदान पाया। मैन जबकि प्रदीप कुमार ने 2 विकेट लिये। मैन ऑफ दी मैच कालू राम डूडी बनवाला को घोषित किया गया।
पहले बल्लेबाजी करते हुए बनवाला टीम के 101 रनों को भेदने के लिए घुकांवाली टीम ने  खेलना शुरू किया। घुकांवाली टीम ने 10 ओवर में 5 विकेट खो कर 102 रन बना कर विजय पताका फहराया। वहीं बनवाला टीम के धुआंधार खिलाड़ी कालू राम डूडी तथा विकास गोदारा के छक्कों तथा चौकों को धूल चटाते हुए घुकांवाली टीम के अमनदीप ने 2 छक्के, 4 चौके मार कर 32 रन बनाये। वहीं जोशीले खिलाड़ी रेशम ने 2 छक्कों, 2 चौके मार कर टीम को 27 रनों का योगदान दिया। खिलाड़ी हनुमान ने 2 विकेट लेकर घुकांवाली टीम को जिताने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। मैन ऑफ मैच अमनदीप, मैन ऑफ दी सीरिज हनुमान डूडी को घोषित किया गया।
विजेता घुकांवाली टीम को गोगामेडी के भक्त नानक चन्द ने 5100 रूपये तथा ट्राफी देकर सम्मानित किया। जबकि बनवाला की उपविजेता टीम को 3100 रूपये तथा ट्राफी मिली। मैच में अम्पायर की भूमिका भूप सिंह टाडा, स्कोयरर की भूमिका धर्मवीर जाखड़ा ने निभाई। इस मौके पर महेन्द्र जाखड़, सुरेश सोनी, कालू राम डूडी, सुरेन्द्र गोदारा, अनिल जाखड़, पवन कासनिया उपस्थित थे।

सगे भाईयों को दस साल कैद


सिरसा। अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायालय ने चूरापोस्त तस्करी व लापरवाही से वाहन चलाने के आरोप में दो सगे भाइयों को दोषी करार देते हुए 10-10 वर्ष के कारावास की सजा सुनाई है।
मामले के अनुसार 15 मार्च 2004 को गांव डबवाली निवासी इकबाल सिंह पुत्र अवतार सिंह अपने साथी हरजिंद्र पुत्र बाबू लाल के साथ ट्रैक्टर-ट्राली पर सवार होकर गांव जंडवाला से वापिस अपने गांव लौट रहा था। गांव से करीब 10 किलोमीटर दूर पीछे से आ रही तेज रफ्तार कार ने उन्हें टक्कर मार दी। जबरदस्त हुई भिड़ंत में ट्राली में लदी लकडिय़ां बिखर गईं और कार में सवार युवक घायल हो गए। उक्त दोनों को भी मामूली चोटें आईं।  राजमार्ग पर हुए हादसे के दौरान भीड़ एकत्रित हो गई थी।
तत्काल मामले की जानकारी सदर थाना डबवाली पुलिस को दी गई। पुलिस मौके पर पहुंची। कार में सवार दोनों युवकों को उपचार के लिए अस्पताल पहुंचाया गया। पुलिस ने कार की तलाशी ली तो उसमें से करीब 60 किलोग्राम चूरापोस्त बरामद हुआ। पुलिस ने इस संदर्भ में इकबाल सिंह की शिकायत पर किशनगढ़ पंजाब निवासी मनसुख व जसविंद्र सिंह पुत्र सौदागर सिंह के विरुद्ध भारतीय दंड संहिंता की धारा 279, 337, 15, 16, 61 व 85 के तहत अभियोग दर्ज किया था। पुलिस ने चालान न्यायालय के समक्ष पेश किया। करीब 7 वर्ष तक चली कार्रवाई के उपरांत अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश जेएस कुंडू की अदालत ने उक्त दोनों भाइयों को दोषी करार देते हुए 10-10 वर्ष के कारावास की सजा सुनाई। दोषियों को एक-एक लाख रुपये अर्थदंड भी लगाया गया है। अर्थदंड की अदायगी न करने पर उन्हें दो-दो वर्ष अतिरिक्त कारावास भुगतना होगा।