युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

17 दिसंबर 2014

बुजुर्ग झेल रहे दर्द : कतार में चौदह घंटे, फिर भी फर्द नहीं

डबवाली (लहू की लौ) इन दिनों ई-दिशा केंद्र में फर्द के लिये बुजुर्गों को दर्द झेलना पड़ रहा है। इसके बावजूद भी फर्द नसीब नहीं हो रही। मंगलवार को फर्द लेने आये लोग तहसीलदार से मिले। दो टूक लफ्जों में बात करते हुये कहा कि घंटों कतार में खड़े रहकर उनकी टांगों में सोजिश आ गई है। साहब आप कुछ इंतजाम कीजिये।
दो दिनों से ई-दिशा केंद्र में फर्द लेने के लिये लंबी कतार लग रही है। कई लोग ऐसे हैं, जो दोनों ही दिन कतार में खड़े रहे, लेकिन उनका नंबर नहीं आया। मायूस लोगों ने मंगलवार को तहसीलदार के कार्यालय में पहुंचकर अपनी व्यथा सुनाई। जिस पर तहसीलदार ने संबंधित पटवारी को तय समय सीमा से एक घंटा ज्यादा काम करने के निर्देश दिये। फर्द लेना यहां मुश्किल हो रहा है, वहीं दलालों की चांदी बन रही है। फर्द लेकर बाहर आये लोगों ने बताया कि ई-दिशा के भीतर कई दलाल सक्रिय हैं, जो फोन पर ही सारा काम कर देते हैं। बाद में चोरी मोरी से फर्द प्राप्त हो जाती है। गांव मांगेआना के नछत्तर सिंह, गांव कालूआना के पिरथी राज तथा जंडवाला बिश्नोईयां के मनी राम ने बताया कि वे सोमवार को भी आये थे। शाम करीब साढ़े चार बजे तक लाईन में खड़े रहने के बाद चले गये। चूंकि उनकी बस का समय निकले जा रहा था। आज फिर उन्हें कतार में खड़ा होना पड़ा है।
सुबह 8 बजे शुरू हो जाती है लाईन लगनी
फर्द लेने के लिये इन दिनों मारामारी जैसी स्थिति है। काऊंटर के आगे सुबह 8 बजे से लोग कतार में लगना शुरू हो जाते हैं। जो शाम करीब छह बजे तक जारी रहते हैं। ई-दिशा केंद्र एक दिन में करीब डेढ़ सौ से दो सौ फर्द जारी करने का दावा कर रहा है।
क्यों हो रही मारामारी
तत्कालीन एसडीएम सतीश कुमार ने फर्द के लिये टोकन सिस्टम लागू किया था। लेकिन उनके तबादले के साथ व्यवस्था में भी परिवर्तन आ गया है। अब टोकन की जरूरत नहीं, लाईन में लगने वाले व्यक्ति को ही फर्द दी जाती है।

टोकन सिस्टम लागू करेंगे
फर्द के लिये टोकन सिस्टम लागू किया जायेगा। ताकि लोगों को परेशानी न हो। भीड़ को देखते हुये फर्द के लिये एक कंप्यूटर तथा ऑपरेटर की मांग की जायेगी। कर्मचारियों को निर्देश दिये गये हैं कि जब तक एक भी व्यक्ति फर्द के लिये काऊंटर पर है, तब तक कार्य जारी रखा जाये।
-मातू राम नेहरा, तहसीलदार

जमीन पर बैठकर पढऩे को मजबूर मासूम

डबवाली (लहू की लौ) प्रदेश में बर्फबारी के बाद ठंड अपने चरम पर है। कंपकंपाती ठंड के बीच खंड डबवाली की प्राथमिक पाठशालाओं में बच्चे जमीन पर बैठकर पढऩे को मजबूर हैं। महज तीन दिनों में ही स्कूलों में बच्चों की तादाद दिन ब दिन घटनी शुरू हो गई है। करीब चालीस से पचास बच्चे प्रतिदिन गैरहाजिर हो रहे हैं।
बैठने को फटी दरी और बोरी
पिछले तीन दिनों में डबवाली का अधिकतम तापमान 20 डिग्री सेल्सियस तथा सबसे कम तापमान पांच डिग्री सेल्सियस रहा है। लेकिन राजकीय प्राथमिक पाठशालाओं में शिक्षा ग्रहण करने के लिये आने वाले बच्चों को खुले आसमान के नीचे फटी दरी या फिर मिड-डे मील का राशन भरकर आई बोरियों तथा प्लास्टिक बैग ही मुहैया करवाये जा रहे हैं। डबवाली के चौहान नगर में राजकीय प्राथमिक पाठशाला एक धर्मशाला में चल रही है। जिसमें महज दो कमरे है। जिसमें से एक में मिड-डे मील का राशन तथा दूसरे में ऑफिस चलता है। जबकि पहली से पांचवी कक्षा के बच्चों की संख्या 170 है। बच्चे पाठशाला के प्रांगण या फिर बरामदे में जमीन पर बैठकर पढ़ते हैं। इधर कलोनी रोड़ स्थित राजकीय प्राथमिक पाठशाला में भी कमोबेश यहीं स्थिति है। पाठशाला में बच्चों की संख्या 382 है। लेकिन बैठने के लिये कमरे महज छह। शेष कक्षाएं बरामदे में लगाई जाती हैं। बच्चे जमीन पर बैठकर पढ़ते हैं।
पाठशाला की छत पर सड़ रहे डेस्क
कुछ वर्ष पूर्व राजकीय प्राथमिक पाठशालाओं में डेस्क मुहैया करवाये गये थे। टूटने पर इनकी मैंटीनैंस के लिये शिक्षा विभाग को लिखा गया। लेकिन कोई सुनवाई न होने पर पाठशाला मुखियों ने इन डेस्कों को पाठशाला की छत पर रखवा दिया। लापरवाही की वजह से जो इन दिनों छत पर पड़े सड़ रहे हैं। वहीं करीब एक वर्ष पूर्व भी शिक्षा विभाग ने डयूल डेस्क मुहैया करवाये थे। पाठशाला में कम कमरों की वजह से ये डेस्क स्टोर रूमों में पड़े हुये हैं। जिन्हें दीमक चाट रही है।
खंड में 20 हजार बच्चों का स्वास्थ्य दांव पर
खंड डबवाली में 81 प्राथमिक पाठशालाओं में करीब 20 हजार बच्चों का दाखिला है। इतनी बढ़ी संख्या होने के बावजूद बच्चों के स्वास्थ्य से सरासर खिलवाड़ हो रहा है। डेस्क तो छोडिय़े कंपकंपाती ठंड में जमीन पर बैठने के लिये बच्चों को दरी या टाट पट्टी तक उपलब्ध नहीं करवाई जा रही।
राशन जरूरी बच्चे जायें भाड़ में : पाठशाला प्रभारियों ने बताया कि शिक्षा विभाग के लिये मिड-डे मील का राशन संभालना जरूरी है। बच्चों की चिंता बिल्कुल नहीं। यहां बच्चे छत के नीचे बैठने चाहिये वहां राशन पड़ा है। कई बार आपत्ति उठा चुके हैं, लेकिन विभाग अपने आदेश को अंतिम आदेश मानता है।

छत या स्टोर में पड़े डेस्क अपनी कस्टडी में लेगा विभाग
शिक्षा विभाग के आदेशानुसार बच्चों के लिये स्कूलों में डेस्क उपलब्ध करवाये गये हैं। स्कूलों की छतों या फिर स्टोर रूम में पड़े डेस्कों को शिक्षा विभाग अपनी कस्टडी में करेगा। जिस भी स्कूल में डेस्कों की जरूरत होगी, वहां पहुंचा दिये जाएंगे। यहां तक दरी या टाट पट्टी का सवाल है तो पाठशाला प्रभारी दरी या टाट पट्टी की मांग कर सकता है। पाठशालाओं का निरीक्षण करके कमियों को दूर किया जायेगा।
  -संत कुमार बिश्नोई, बीईओ, डबवाली

सरसों लूट के आरोप तीन दिन के रिमांड पर

डबवाली (लहू की लौ) शहर थाना पुलिस ने सरसों लूट मामले में पकड़े गये आरोपी सलीम खान, कृष्ण कुमार उर्फ डॉक्टर, अनिल उर्फ लाला निवासी चौटाला तथा रतनपुरा निवासी रघुवीर उर्फ रंगा को मंगलवार को उपमंडल न्यायिक दंडाधिकारी परवेश सिंगला की अदालत में पेश किया। अदालत ने आरोपियों को तीन दिन के पुलिस रिमांड पर सौंप दिया।
शहर थाना के कार्यकारी प्रभारी एसआई इंद्राज ने बताया कि रिमांड अवधि के दौरान आरोपियों से लूटी गई सरसों, वारदात में प्रयुक्त की गई बाईक तथा ट्रेक्टर-ट्राली प्राप्त करने का प्रयास किया जायेगा।

युवतियों की तालाश में तालाशी अभियान

डबवाली (लहू की लौ) पीएनबी में एक लाख रूपये की चोरी करने वाली युवतियों की तालाश में पुलिस ने सघन तालाशी अभियान छेड़ दिया है। शहर थाना के कार्यकारी प्रभारी इंद्राज तथा मामले के जांच अधिकारी भूप सिंह ने बताया कि बैंक से सीसीटीवी फुटेज प्राप्त की गई हैं। इन फुटेज को सार्वजनिक करके युवतियों का पता लगाने का प्रयास किया जायेगा।

रूठी पत्नी नहीं मानी तो पति ने जहर निगला

डबवाली (लहू की लौ) पिछले छह माह से रूठकर अपने मायके बैठी पत्नी साथ चलने के लिये नहीं मानी तो पति ने शराब के नशे में धुत्त होकर जहर निगल लिया। जिससे उसकी मौत हो गई। पुलिस ने दफा 174 सीआरपीसी के तहत इत्तेफाकिया मौत की कार्रवाई अमल में लाई है।
वार्ड नं. 1 के अंतर्गत आने वाले उत्तम नगर निवासी किरण पुत्री कुलवंत सिंह उर्फ छिंदा की शादी करीब 10 साल पूर्व बठिंडा के प्रताप नगर की गली नं. 11 निवासी सुखजीत सिंह पुत्र जरनैल सिंह के साथ हुई थी। शादी के बाद वह उससे मारपीट करने लगा। इस दौरान वह कई बार अपने मायके आ जाती। पिछले छह माह से किरण डबवाली आई हुई थी। इस दौरान कई बार सुखजीत ने अपनी पत्नी को वापिस उसके ससुराल लेजाने का प्रयास किया।
जान से मरने की धमकी दी थी
कुछ दिन पूर्व सुखजीत ने अपनी पत्नी को आत्महत्या की धमकी दी थी। सोमवार शाम को वह शराब के नशे में धुत्त होकर डबवाली पहुंचा। उत्तम नगर में स्थित अपने ससुराल पहुंचते ही उल्टियां करने लगा। उसने पत्नी के घर की चौखट पर अपना दम तोड़ दिया।
गोल बाजार पुलिस चौकी प्रभारी एएसआई देसराज ने बताया कि मृतक के बड़े भाई जीत सिंह पुत्र जरनैल सिंह के ब्यान पर दफा 174 सीआरपीसी के तहत इत्तेफाकिया मौत की कार्रवाई अमल में लाई गई है। मंगलवार को शव का पोस्टमार्टम करवाने के बाद उसे उसके वारिसों को सौंप दिया।

मुआवजा से दूसरों को जिंदगी दे रहे अग्निकांड पीडि़त

डबवाली (लहू की लौ) 19 वर्ष पहले आग की सुनामी ने सबकुछ तबाह कर दिया। अपने बिछुड़ गये। कभी न भूलने वाला दर्द दिया। लेकिन ऐसे दो अग्निकांड पीडि़त परिवार सामने आये हैं, जिन्होंने समाजसेवा के जरिये इस दर्द को भूलने की कोशिश की है। ये पीडि़त परिवार अदालत से मिले मुआवजे को जरूरतमंदों में बांट रहे हैं। यहीं नहीं एक परिवार तो ऐसा है, जो दूसरों को नई जिंदगी देने में लगा है।
एक परिवार ने खो दिये आठ लोग : डबवाली में बारदाना की दुकान चलाने वाले तीन भाईयों पवन, अनिल, सुशील के लिये 23 दिसंबर 1995 का दिन सबसे मनहूस घड़ी साबित हुआ। तीनों भाईयों ने आठ लोग खो दिये। उस दिन पवन का बेटा अनीश (10), बेटी ममता (9), सुशील की पत्नी कैलाश देवी (28), बेटा राजीव (8), राहुल (साढ़े छह साल), अनिल की पत्नी रेखा (20) अपने 9 माह के बेटे सागर के साथ डीएवी स्कूल का वार्षिक उत्सव देखने के लिये राजीव मैरिज पैलेस में गई थी। उनके साथ भाईयों की फुफेरी बहन रमन (18) भी थी। लेकिन इनमें से कोई वापिस नहीं लौटा। पवन कुमार ने बताया कि उसने धुआं उठते देखा था। तभी उसे एक कर्मचारी ने आकर सूचना दी कि उत्सव में लगी आग से सबकुछ नष्ट हो गया है। वे मौका पर पहुंचे। उन्होंने वहां कोई नहीं मिला।
अस्पतालों में ढूंढ़ते रहे अपने परिजन : पवन के अनुसार वे तीनों भाई तथा पूरा परिवार अपनों को सिरसा, लुधियाना, बठिंडा ढूंढ़ता रहा। उन्हें तरह-तरह की सूचना दी गई कि परिवार वहां है, उनका परिवार बच गया है। लेकिन उन्हें कहीं कोई नहीं मिला। बाद में उनके शव मिले। बताते हैं कि जिस समय हादसा हुआ उस समय भतीजा राहुल हाथी बनकर स्टेज पर था। पवन के अनुसार भाभी कैलाश देवी की मृत्यु आग में झुलसने से हुई। शेष सभी की मृत्यु दम घुटने के कारण हुई थी।
आज भी लगता है डर
पवन के भाई सुशील कुमार ने बताया कि बेशक रि-मैरिज करके वे दोबारा सेटल हो गये हैं। लेकिन 19 वर्ष पूर्व जो दर्द मिला है, उसे आज तक नहीं भूले हैं। आज भी उस हादसे को याद कर डर लगता है। अग्निकांड में मिले दर्द ने मानसिकता को गहरा आघात पहुंचाया है। परिजन सुबह आंख खोलेंगे या नहीं, इस तरह के ख्यालात आते हैं। इसके अतिरिक्त अग्निकांड ने स्वास्थ्य आघात भी पहुंचाया है। जिसकी क्षति पूर्ति नहीं हो सकती।
ट्रस्ट बनाकर कर रहे समाजसेवा : पवन कुमार ने बताया कि हादसे के कुछ समय बाद उन्होंने अनीश कुमार गोयल चेरिटेबल ट्रस्ट खड़ा किया था। उन्हें जो भी मुआवजा राशि मिली, उसमें से एक पाई भी उन्होंने अपने पर खर्च नहीं की। बल्कि ट्रस्ट के जरिये उसे धार्मिक, सामाजिक कार्यों में लगाया। जो आज भी जारी हैं।
......वापिस आने का वायदा किया था : अग्निकांड में अपनी पत्नी आशा रानी (27), बेटी स्माईल (5), किट्टू (ढाई साल) को गंवाने के बाद भी पीडि़त आरके नीना का समाजसेवा के प्रति हौंसला बुलंद है। यह शख्स मुआवजे के रूप में मिली राशि को समाजसेवा में बहा रहा है। डबवाली जन सहारा सेवा संस्था के नाम से डबवाली में एंबुलैंस सेवा देकर सड़क दुर्घटनाओं में घायल लोगों को अस्पताल तक पहुंचाकर नई जिंदगी दे रहा है, जोकि किसी मिसाल से कम नहीं। इसके अतिरिक्त शहर में सात जगहों पर वाटर कूलर, टैंकी तथा शव वाहन भी दे चुका है। यहीं नहीं हर साल मुआवजा राशि से आने वाले गर्म कपड़ों को जरूरतमंदों में वितरित कर रहा है। एंबुलैंस राशि पर हर वर्ष खर्च आने वाले डेढ़ लाख रूपये को वह मुआवजा राशि से ही चुका रहा है।
वापिस आने का वायदा किया था : आरके नीना के अनुसार वह खुद अपनी बेटियों तथा पत्नी को कार्यक्रम में छोड़कर आया था। उस दिन उन्होंने बठिंडा जाना था। घर पर उसकी सास अपनी बेटी आशा के इंतजार में बैठी थी। इसी बीच उसे जानकारी मिली कि कार्यक्रम में आग ने सब खत्म कर दिया है। वह मौका पर पहुंचा उसकी पत्नी बुरी तरह से जल चुकी थी। गले में डाले राकेश-आशा के लॉकेट के आधार पर उसकी पहचान की। किट्टू की पहचान उसके चेहरे से हो गई। लेकिन स्माईल का पता नहीं चल पाया। डबवाली के रामबाग में अंतिम संस्कार के लिये जगह न मिलने पर उन्होंने जिला बठिंडा की संगत मंडी में शवों को मुखाग्नि दी।
किसी ओर ने कर दिया स्माईल का संस्कार : आरके नीना के अनुसार शव बुरी तरह से जलने के बाद पहचान के काबिल नहीं थे। उसकी बेटी स्माईल का अंतिम संस्कार किसने किया, वह नहीं जानता। जब उसने प्रशासन से अपनी बेटी का सुराग लगाने की मिन्नतें की तो उसे कुछ फोटोग्राफ दिखाये गये। एक शव के पहनी ड्रेस के आधार पर ही उन्होंने स्माईल की पहचान की। चूंकि उसकी बेटी फैंसी ड्रेस में थी। ड्रेस कुछ दिन पूर्व ही उसे दिलाई गई थी। उस दिन घटना हुये को 8 दिन बीत चुके थे।

थाना में दरी बिछाते ही सत्रह दिन पुरानी शिकायत पर हुई कार्रवाई

डबवाली (लहू की लौ) शहर थाना में मारपीट की शिकायत देने के बावजूद कार्यवाही न होने से खफा लोगों ने मंगलवार को शहर थाना में धरना देने के लिये जैसी ही दरी बिछाई, पुलिस दौड़ पड़ी। पिछले सत्रह दिनों से लटक रही शिकायत ने तुरंत असर कर दिखाया। पुलिस ने आरोपी का चालान काटकर उसे गिरफ्तार कर लिया। शिकायतकर्ताओं का आरोप है कि जांच अधिकारी ने संबंधित मामले की शिकायत ही गायब कर दी थी। जब पुन: शिकायत दी गई तो जांच अधिकारी ने उसे फेंक दिया।
भवन निर्माण कामगार यूनियन के जिला अध्यक्ष नत्थू राम, खेत मजदूर यूनियन के जिला अध्यक्ष भाला राम भारूखेड़ा, सुखदेव सिंह, मनदीप सिंह, गुरमीत सिंह के नेतृत्व में दोनों यूनियनों के सदस्य शहर थाना में एकत्रित हुये। एक मामले में शिकायत के बावजूद कार्रवाई न होने से नाराज इन लोगों ने जैसे ही थाना में दरी बिछाई, पुलिस दौड़ पड़ी। कार्यकारी थाना प्रभारी इंद्राज से बातचीत करते हुये भाला राम भारूखेड़ा ने कहा कि 29 नवंबर 2014 को गांव मांगेआना निवासी गुरमेल सिंह, अंग्रेज सिंह गांव जोगेवाला में पंचायत के कहने पर नालियों का निर्माण कर रहे थे। इसी दौरान गांव के एक दबंग व्यक्ति ने आकर उनसे मारपीट शुरू कर दी। उसी दिन मारपीट की शिकायत दर्ज करवाई गई। लेकिन संबंधित जांच अधिकारी भूप सिंह ने शिकायत ही गुम कर दी। कुछ दिनों बाद जब दोबारा उनके पास शिकायत लाई गई तो कार्रवाई करवाने की बात पर एएसआई उखड़ पड़े। शिकायत वापिस फेंक दी। मौका पर मौजूद एएसआई भूप सिंह ने किसी प्रकार के दुव्र्यवहार से इंकार किया। उन्होंने कहा कि वह एक समाजसेवी हैं, दुव्र्यवहार को तो सवाल ही नहीं उठता। कार्यकारी प्रभारी इंद्राज ने यूनियन सदस्यों को आगाह करते हुये कहा कि यूनियन सदस्यों के बड़ी गिनती में आने से पुलिस डरने वाली नहीं। जो भी जायज कार्रवाई होगी वही की जायेगी। जिस शिकायत पर पिछले सत्रह दिनों से कार्रवाई नहीं हो रही थी। यूनियन सदस्यों के थाना में आते ही पुलिस ने कार्रवाई कर दी। संबंधित व्यक्ति का चालान काटकर पुलिस ने उसे अदालत में पेश कर दिया।

जमानत पर छोड़ा
आरोपी कौर जीत सिंह को गिरफ्तार करने के बाद डयूटी मजिस्ट्रेट मातू राम नेहरा की अदालत में पेश किया गया था। अदालत ने उसे जमानत पर छोड़ दिया।
-भूप सिंह, एएसआई,शहर थाना, डबवाली

डबवाली धर्मशाला फुल

डबवाली (लहू की लौ) डबवाली धर्मशाला सालासर के सेवक ओम बाबा ने बताया कि धर्मशाला में 31 दिसम्बर को तपा मंडी की ओर से विशाल जागरण करवाया जा रहा है। जिसके चलते धर्मशाला के सभी कमरे फुल हो गये हैं। धर्मशाला में टैंट लगा कर 300 लोगों के सोने का इंतजाम किया गया है। 

एसडीओ वर्मा का निधन

डबवाली (लहू की लौ) सड़क हादसे में घायल हुए टेलीफोन एक्सचेंज के एसडीओ भारत भूषण वर्मा का मंगलवार सुबह  हृदयगति रूकने से निधन हो गया। वर्मा जीटी रोड़ पर गुरूद्वारा बाबा विश्वकर्मा मंदिर के सामने एक हादसे में घायल हो गये थे। डबवाली में प्राथमिक उपचार के सिरसा रैफर कर दिया गया था। हादसे में उनके सिर पर चोट लगी थी। जिसके चलते वे कोमा में चले गए थे। पहले सिरसा फिर गुडग़ांवा के मेदांता तथा बाद में हिसार के जिंदल अस्पताल में उपचाराधीन रहे।
अभी उनकी हालत में सुधार हो ही रहा था कि मंगलवार की सुबह हृदयगति रूक जाने से उनका निधन हो गया। बाद दोपहर डबवाली के रामबाग में उनके पार्थिव शरीर को पंचभूतों में विलीन कर दिया गया। 

डॉ. जगतार सिंह प्रधान चुने गये

डबवाली (लहू की लौ) मंडी किलियांवाली में सब्जी मंडी यूनियन का गठन किया गया। जिसमें डॉ. जगतार सिंह फतूहीवाला को सर्वसम्मति से प्रधान,  बिचित्र सिंह उपप्रधान, गुरमेल सिंह सचिव, बलकार सिंह खजांची चुना गया। इसके अलावा अवतार सिंह सरपंच फतूहीवाला, नननदीप पाल, रणजीत ङ्क्षसंह, राजा सिंह कोटली, जसवीर सिंह फतूहीवाला को कमेटी सदस्य चुना गया।

विधायक आदर्श ग्राम योजना हो लागू, विधायक ले एक गांव गोद

नैना चौटाला ने की मांग, सीएम खट्टर को लिखा पत्र 
डबवाली (लहू की लौ) डबवाली की विधायक नैना सिंह चौटाला
ने पहल करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सांसद आदर्श ग्राम योजना की तर्ज पर हरियाणा में भी आदर्श गांव योजना लागू करने की मांग की है। नैना सिंह चौटाला ने इस संबंध में प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को एक पत्र लिखा है। विधायक नैना सिंह ने कहा है कि प्रदेश में  प्रत्येक विधानसभा में हर वर्ष एक आदर्श गांव बनाने की योजना विकास की दिशा में एक महत्वपूर्व कदम साबित हो सकता है।
नैना सिंह चौटाला ने 10 दिसंबर को मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में कहा है कि प्रधानमंत्री की पहल पर देश में सांसद आदर्श ग्राम योजना शुरू की गई थी। उसी तर्ज पर हरियाणा में विधायक आदर्श ग्राम योजना की शुरू की जाए। इस योजना से न केवल ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोगों का जीवन स्तर ऊंचा उठेगा बल्कि हरियाणा में प्रगति की एक नई मिसाल कायम होगी। पत्र में कहा गया है कि माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वतंत्रता दिवस पर अपने अभिभाषण में सांसद आदर्श ग्राम योजना का जिक्र करते हुए कहा था कि  सभी प्रदेशों के मुख्यमंत्री अपने-अपने राज्य में इस तरह की योजना लागू करें। गुजरात सरकार ने इस बारे में पहल करते हुए विधायक आदर्श ग्राम योजना शुरू कर दी है। नैना सिंह चौटाला ने कहा है कि पूर्व प्रधानमंत्री स्व. चौधरी देवीलाल हमेशा कहते थे कि भारत गांवों में बसता है। प्रधानमंत्री द्वारा सांसद आदर्श ग्राम योजना लागू करने से स्व. चौधरी देवीलाल की सोच को बल मिला है।
डबवाली की विधायक ने सीएम मनोहर लाल खट्टर से प्रार्थना की है कि दलगत व पक्ष-विपक्ष की राजनीति से ऊपर उठ कर प्रदेश के सभी 90 विधानसभा क्षेत्रों में विधायक आदर्श ग्राम योजना शुरू करें।

नशे की खेप सहित चढ़ा पुलिस के हत्थे

कालांवाली (लहू की लौ) कालांवाली क्षेत्र में बढ़ रहे नशे के कारोबार को रोकने के लिए पुलिस ने कमर कस ली है। नव नियुक्त थाना प्रभारी ने गुप्त सूचना के आधार पर मंगलवार को गांव गदराना गांव में मैडीकल नशा बेचने के आरोप में एक व्यक्ति को नशीली दवाईयों के साथ काबू किया है। 
थाना प्रभारी अनिल कुमार सोढ़ी ने बताया कि उन्हें गुप्त सूचना मिली थी कि गांव गदराना में एक व्यक्ति काफी समय से नशीली दवाईयों के कारोबार में लिप्त है। सूचना के आधार पर पुलिस ने नकली ग्राहक को पैसे देकर उक्त व्यक्ति के पास नशे की दवाई लेने के लिए भेजा जिस पर आरोपी ने ग्राहक को पैसे लेकर नशे की दवाई का एक सैट दे दिया। थाना प्रभारी ने बताया कि आरोपी के घर पर दबिश दी तो वहां से काफी मात्रा में नशीली शीशियां व नशे की गोलियां मिली। आरोपी को गिरफ्तार कर थाना में लाकर पूछताछ की तो उसने अपना नाम बिकर सिंह निवासी गदराना बताया। पुलिस द्वारा आरोपी से 48 शीशियां रैस्कफ व इतने ही पत्ते कैरीसोमा की गोलियां बरामद की हैं। 
 आरोपी बिकर सिंह से बरामद मैडिकल नशे बारे पुलिस ने ड्रग विभाग को सूचित कर दिया है।
महंगे दामों पर बेचता था सैट : पुलिस ने आरोपी से पूछताछ की तो ये बात सामने आई है कि वह नशेड़ी से 150 से 200 रुपये तक वसूल करता था। बताया जाता है कि इस सैट को लेने के बाद नशेड़ी को पूरा नशा होता है। नशे के एक सैट में एक रैसकाफ की शीशी एक नशे की गोलियों का पत्ता होता है। सूत्रों की माने तो उक्त व्यक्तिलंबे समय से उक्त धंधे में लिप्त था। जिसके हत्थे चढऩे के बाद पुलिस उससे पूछताछ कर अन्य आरोपियों तक पहुंचने की कोशिश करेगी।

मैंने अभी-अभी यहां का चार्ज संभाला है हमने गदराना गांव से एक व्यक्ति को काबू किया है, उससे पूछताछ करके मामले की तह तक पहुंचेंगे, क्षेत्र में नशीले पदार्थों की बिक्री करने वालों पर पुलिस की पैनी नजर है अगर विभाग का कोई कर्मचारी इस मामले में सांठगांठ रखता नजर आया तो उसे बख्शा नहीं जाऐगा।
-अनील कुमार सोढ़ी,थाना प्रभारी

सामान्य ज्ञान प्रतियोगिताएं आयोजित

डबवाली (लहू की लौ) मंगलवार को रा.व.मा. वि मंडी डबवाली में प्रार्थना सभा में निरंतर चलने वाले सामान्य ज्ञान कार्यक्रम के अंतर्गत हर महीने करवाई जाने वाली प्रतियोगिताओं में आज प्रार्थना सभा में कक्षा दसवीं की सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता करवाई गयी। इसमें कक्षा दस की चार टीमों ने भाग लिया जिसमें टीम बी के विद्यार्थी गगनदीप , रजत, आकाशदीप , धीरज और गुरविंदर विजेता रहे। मंच संचालन श्रीमती नवजोत ऋषि और सुभाष पूनिया  ने किया 7 स्कोर बोर्ड 10+1 कॉमर्स के बच्चों ने संभाला।

एनसीसी कैडिट संसद के भ्रमण के लिए रवाना

डबवाली (लहू की लौ) मंगलवार को राजा राम कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय के एनसीसी एयरविंग कैडट्स संसद के शैक्षणिक भ्रमण के लिए दिल्ली रवाना हुए। विद्यालय प्रधानाचार्य प्रवीण कुमार गौड़ ने बताया कि स्कूल प्रबंधक समिति के प्रधान सुरेन्द्र गुप्ता ने कैड्टस को हरी झण्डी देकर रवाना किया। विद्यालय  के एनसीसी एयरविंग कैडिट एनसीसी एयरविंग अधिकारी सत्यपाल जोशी के नेतृत्व  में संसद भवन के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे। यह शैक्षणिक भ्रमण नम्बर एक हरियाणा एयर स्कवाड्रन एनसीसी हिसार के कमांडिंग ऑफिसर विंग कमांडर राजेश शर्मा के नेतृत्व में सम्पन्न होगा। जिसमें हरियाणा के विभिन्न कॉलेजों तथा स्कूलज के एनसीसी कैडिट भाग लेंगे।

बिश्नोई महासभा के चुनावों की तैयारियां शुरू

डबवाली (लहू की लौ)अखिल भारतीय बिश्नोई महासभा के चुनावों की तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। इन चुनावों में ग्राम सभा के सदस्य से लेकर महासभा के अध्यक्ष तक का चुनाव किया जाएगा। इसके तहत सभा के नए सदस्य बनाने के लिए प्रक्रिया दो चरणों में पूरी होगी। यह जानकारी देते हुए बिश्नोई सभा डबवाली के सचिव इंद्रजीत बिश्नोई ने बताया कि सदस्यता अभियान के प्रथम चरण में  1 जनवरी से 15 जनवरी तक व दूसरे चरण में 26 जनवरी से 10 फरवरी तक स्थानीय सभा के सदस्य बनाए जाएंगे। इससे पहले 22 दिसंबर को बिश्नोई धर्मशाला में प्रधान कृष्ण जादूदा की अध्यक्षता में महासभा चुनावों की तैयारियों की समीक्षा के लिए एक बैठक होगी। इस बैठक में मुख्य चुनाव अधिकारी सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी राम सिंह बिश्नोई, राज्य चुनाव अधिकारी रामरख जाखड़ जोधपुर व जिला चुनाव प्रभारी कृष्ण देव पंवार हिसार विशेष तौर पर पहुंचेंगे व चुनाव संबंधी निर्देश देंगे। इसके अलावा सभी गांवों से ग्राम चुनाव प्रभारियों को भी बैठक में बुलाया जाएगा व उन्हें सदस्यता फार्म उपलब्ध करवाए जाएंगे। उन्होंने बताया कि 10 फरवरी के बाद किसी को भी स्थानीय सभा का सदस्य नहीं बनाया जाएगा।

योग 100 वर्ष तक निरोग जीवन जीने की संजीवनी-गोपाल कृष्ण

डबवाली (लहू की लौ) हमारे ऋषि मुनियों की धरोहर योग ऐसी संजीवनी है जिसको अपनाकर   हम 100 वर्ष तक निरोग रहकर  जीवन जी सकते हैं।
वे मोबाईल पर इस संवाददाता से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि श्वास रूपी वायु हमारे शरीर की संजीवनी है। यहीं हमारी प्राण शक्ति है। क्योंकि मनुष्य बिना पीए कुछ दिनों तक जीवित रह सकता है। परन्तु बिन  श्वास के कुछ ही पलों में मृत्यु अवस्था में पहुंच जाता है। शरीर में श्वास का इतना महत्व होने पर भी हम श्वास क्रिया के सही उपयोग को नहीं समझ पायें हैं और अक्सर गलत  श्वास प्रक्रिया द्वारा रोग ग्रस्त हो जाते हैं। उन्होंने कहा कि 90 प्रतिशत लोग हॉस्पिटल में इसलिए बीमार पड़े हैं कि उसका मूलभूत कारण सिर्फ गलत श्वास प्रणाली है। क्योंकि रक्त का एक-एक कण बिना हवा के हिल नहीं सकता। यदि हमारी श्वासन प्रणाली ठीक होगी तो हमारी प्राण ऊर्जा बढ़ेगी और हम रोगों के गिरफ्त में आने से बचेंगे। 
उन्होंने आगे बताया कि पहले की अपेक्षा योग की आज अधिक आवश्यकता है। पहले पर्यावरण, वातावरण, रहन-सहन सभी कुछ आज की अपेक्षा बहुत ही प्राकृतिक था।  परन्तु आज दूषित वातावरण, प्रदूषित पर्यावरण, फास्ट फूड, डिब्बा बंद खाद्य पदार्थ, विटामिन और प्रोटीन रहित खानपान, बदलता परिवेश और विकृत मानसकिता इन सभी ने हमारे सम्पूर्ण स्वास्थ्य को प्रभावित किया है।
उन्होंने कहा कि योग महिलाओं, पुरूषों,बच्चों एवं वृद्धों व युवाओं के लिए आवश्यक है। योग प्राचीन भारतीय ऋषि मुनियों द्वारा अन्वेषित सुखी जीवन जीने की एक ऐसी श्रेष्ठ कला है जिसके द्वारा मनुष्य अंतिम क्षण तक  शरीर में अखण्ड स्वास्थ्य, इन्द्रियों में अखण्ड शक्ति, मन में अखण्ड आनन्द, बुद्धि में अखण्ड ज्ञान एवं अहम अखण्ड प्रेम पाकर  सदैव सुखी रह सकता है। अर्थात् योगाम्यास से शरीर से रोग, मन से चिंता,हृदय से भय एवं अहम् से वियोग की पीड़ा से मनुष्य अपने को सदैव के लिए मुक्त कर सकता है।
उन्होंने बताया कि वे 18 से 20 दिसम्बर तक डबवाली के महाराजा पैलेस में सुबह और सायं दो-दो घंटे योगासन, प्राणायाम, प्राकृतिक जीवन शैली पर साधकों को फ्री निरोग रहने के टिप्स देंगे और योग से संबंधित जिज्ञासाओं को शांत करने का प्रयास करेंगे।