युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

11 दिसंबर 2014

चौटाला ने लॉलीपाप दिया, हुड्डा दयालु नहीं

पीडि़ता बोली 23 दिसंबर 1995 के अग्निकांड ने जख्म दिये, राजनीतिकों ने नमक छिड़का


डबवाली (लहू की लौ) 28 वर्षीय सुमन कौशल उन्नीस साल पहले अपनी मित्र सुनीता के साथ राजीव मैरिज पैलेस में आयोजित डीएवी स्कूल का वार्षिक कार्यक्रम देखने गई थी। खचाखच भरे पैलेस में दोनों को बैठने के लिये महज एक कुर्सी मिली। अभी आये को पांच से सात मिनट हुये थे कि स्टेज से घोषणा होने लगी कि कृपा बैठे रहो, आग पर काबू पा लिया जायेगा। पीछे मुड़कर देखा तो आग तेजी से उनकी ओर बढ़ रही थी। सुनीता भाग खड़ी हुई। सुमन खुद को संभालती, इससे पहले ही आग ने उसे पकड़ लिया। टूटी दीवार से निकलकर जल रही सुमन पैलेस से बाहर आई। जबकि उसकी मित्र की मौत हो गई। सौ फीसदी जल चुकी सुमन का आज भी क्रूर कांड पीछा नहीं छोड़ रहा। जबकि राजनीतिकों के आश्वासन नमक छिड़कने का काम कर रहे हैं।

किसी विद्यालय ने नहीं दिया एडमिशन
अग्निकांड के समय सुमन महज 9 वर्ष की थी। वह एक निजी स्कूल में 5वीं कक्षा में पढ़ती थी। 23 दिसंबर 1995 को दोपहर बाद साढ़े 12 बजे छुट्टी होने के बाद डीएवी स्कूल का वार्षिक कार्यक्रम देखने के लिये गई थी। अग्निकांड में बुरी तरह से झुलसने के बाद भी सुमन ने हिम्मत नहीं हारी। प्लास्टिक सर्जरी होने के बाद वह पुन: पढऩे के लिये डबवाली पहुंची सुमन को किसी भी निजी या सरकारी विद्यालय में एडमिशन नहीं मिला। रहम करने की अपेक्षा स्कूल प्रबंधकों ने उसके कुरूप चेहरे का हवाला देते हुये मजाक उड़ाया।
लड़कों के साथ बैठकर पढ़ी
6वीं से 10वीं प्राईवेट करने के बाद आखिरकार राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय में उसे 11वीं कक्षा में दाखिला मिला। लड़कों के साथ बैठकर 11वीं तथा 12वीं की परीक्षा पास की। पिता दयानंद कौशल के सड़क दुर्घटना में घायल होने के बावजूद वर्ष 2007 में बीए क्लीयर की। 2008 में बीएड पास की। यहीं नहीं एचटेट की परीक्षा में 93 प्रतिशत अंक पाकर अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया। पिछले छह वर्षों से सुमन नौकरी के लिये मारे-मारे फिर रही है। सुमन के अनुसार अग्निकांड पीडि़तों के आंसू पौंछने के लिये अग्निकांड स्मारक स्थल पर पहुंचे डबवाली के पूर्व विधायक अजय चौटाला के आगे मिन्नतें कर चुकी है। उस समय अजय चौटाला ने पांच अग्निकांड पीडि़तों को सिरसा स्थित संस्थान में नौकरी देने का वायदा किया था। जब वह संस्थान में नौकरीे के लिये पहुंची तो उसे नफरत भरी निगाह से देखा गया। उसे औढ़ां स्थित एक शिक्षण संस्थान में भेज दिया गया। संस्थान प्रबंधकों ने उसका मजाक उड़ाया। केवल 3000 रूपये प्रति माह देने की बात कही। जब अजय चौटाला के 12000 रूपये सेलरी का वायदा याद दिलाया तो यह बात चौटाला से लिखकर लाने को कहा।
पूर्व सीएम भूपिंद्र सिंह हुड्डा से तीन बार मिली
सुमन ने बताया कि बीएड तथा एचटेट करने के बाद वह नौकरी के लिये तीन बार पूर्व सीएम भूपिंद्र सिंह हुड्डा से मिली। अग्निकांड पीडि़तों से किया वायदा याद दिलाया। लेकिन हुड्डा ने उसका कागज पकडऩे के बाद यही कहा, देखेंगे। चौटाला ने नौकरी का लॉलीपाप दिया, हुड्डा दयालु नहीं। सुमन के अनुसार अग्निकांड को उन्नीस वर्ष बीत चुके हैं। इस दौरान इनेलो, कांग्रेस की सरकारें रही। लेकिन आज तक अग्निकांड पीडि़तों को नौकरी देने का वायदा पूरा नहीं हुआ। हां, इतने वर्षों में राजनीतिकों ने उनके जख्मों पर नमक छिड़कने का काम जरूर किया है। जिसे वे हमेशा याद रखेंगे।
दो बार किया एमए करने का प्रयास
सुमन के हौंसले बुलंद हैं। वह एमए करना चाहती है। इसके लिये दो बार फार्म भर चुकी है, खूब तैयारी भी की। लेकिन परीक्षाएं जून, जुलाई में होने के कारण वह परीक्षा केंद्र तक नहीं पहुंच पाई। चूंकि अग्निकांड में मिले घाव गर्मी में तकलीफदेय हो जाते हैं। जिसकी वजह से पूरी गर्मी सुमन घर की चारदीवारी में गुजारती है।
लोगों के कमेंट सताते हैं
सुमन के अनुसार वह अक्सर गली-मोहल्ले में निकलती है। लोग बिल्कुल पास आकर कहते हैं कि यह वही लड़की है जो अग्निकांड में आई थी। ऐसे कमेंट मुझे बहुत सताते हैं। लोग मेरे पास आने से पहले भी इस तरह के कमेंट कर सकते हैं। उन्नीस वर्षों से मिल रहे ऐसे कमेंटों ने विचलित कर रखा है।

नौकरी मिलने के बाद करूंगी शादी
मैं 100 फीसदी जली हुई हूं। माता-पिता उम्र का ख्याल करते हुये शादी करवाना चाहते हैं। मेरी भी जिद्द है कि जब तक अपने दम पर नौकरी नहीं लगूंगी तब तक शादी नहीं करूंगी। बेशक हमसफर अच्छा मिल जाये, लेकिन वर्तमान समय में खुद के पैरों पर खड़ा होना जरूरी है। -सुमन कौशल, अग्निकांड पीडि़ता

पुलिसकर्मी के घर मोहल्ला वासियों का छापा, रंगरलियां मना रहा प्रेमी जोड़ा काबू, पुलिस ने की जांच शुरू

डबवाली (लहू की लौ) सुंदर नगर में पुलिस वाले के घर पर रंगरलियां मना रहे प्रेमी जोड़े को लोगों ने पकड़ कर पुलिस के हवाले कर दिया।
मोहल्ला वासी जगवीर सिंह, चरणप्रीत सिंह, इकबाल सिंह, दीपक, सुखदेव सिंह बगैरा ने बताया कि उनके नगर में एक पुलिसकर्मी ने अपना मकान किराये पर दे रखा है। बुधवार को किरायेदार एक युवती के साथ घूम रहा था। शक के आधार पर वे उस पर निगाह रखने लगे। अचानक वह युवती को अपने कमरे में ले गया। जिसे उन्होंने संदिग्ध हालातों में पकड़ लिया। सूचना पाकर मौका पर पहुंची पुलिस ने दोनों को काबू करके आगामी कार्रवाई शुरू कर दी है।
शहर थाना प्रभारी इंस्पेक्टर दलीप सिंह ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है।

अनुबंध खत्म, अब घरों से इक्ट्ठा नहीं होगा कूड़ा

डबवाली (लहू की लौ) नगर परिषद के स्वच्छता अभियान को तगड़ा झटका लगा है। शहर में घर-घर जाकर कूड़ा एकत्रित करने वाली पांच गाडिय़ों के चालकों का अनुबंध समाप्त होने पर गाडिय़ों पर ब्रेक लग गये हैं। हालांकि कुछ दिन पूर्व ही नप ने चालकों के मोबाइल नंबर जारी करके अभियान को गति देने की बात कही थी।
घर-घर जाकर कूड़ा एकत्रित करते थे वाहन
पिछले करीब डेढ़ वर्ष से नगर परिषद की पांच महिंद्रा गाडिय़ां शहर में घर-घर जाकर कूड़ा एकत्रित कर रही हैं। जिसे बाद में रामबाग क्षेत्र में स्थित डंपिंग प्वाईंट पर पहुंचाया जाता है। इन गाडिय़ों पर नप ने अनुबंध पर चालकों की भर्ती की हुई है। प्रत्येक छह माह बाद उपायुक्त की मंजूरी के बाद अनुबंध की तिथि आगे बढ़ जाती है। इस बार 30 नवंबर को अनुबंध समाप्त हो गया। लेकिन स्वीकृति नहीं मिली। एक हफ्ते तक स्वीकृति का इंतजार करने के बाद चालकों ने हाथ खड़े कर दिये हैं। गाडिय़ों की चाबी नप को सौंप दी है।
बिना पैसा काम नहीं
चालक राजेश, सूरज, शिव कुमार, रोहताश ने बताया कि 30 नवंबर को अनुबंध समाप्त होने पर उन्हें नवंबर माह का वेतन नहीं मिला है। फिर भी उन्होंने हफ्ता भर मुफ्त में गाड़ी चलाई है। मई 2014 में भी इसी प्रकार का मामला था। स्वीकृति न मिलने के कारण उन्होंने माह भर गाड़ी चलाई थी। जिसकी पैगार आज तक नहीं मिली है। वे कई बार नप सचिव से लेकर एसडीएम डबवाली तक गुहार लगा चुके हैं। लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला। जिसके चलते इस बार मजबूरन उन्हें काम छोडऩा पड़ा है। हालांकि सफाई निरीक्षक अविनाश सिंगला ने उन्हें काम करते रहने की सलाह दी है। उन्होंने स्पष्ट कर दिया है कि बिना वेतन काम नहीं होगा।
आज तक नहीं मिला पीएफ
अनुबंध आधारित चालकों ने बताया कि उनका मासिक वेतन 9900 रूपये है। जिसमें से हर माह 1400 रूपये पीएफ के नाम पर काटे जाते हैं। अनुबंध समाप्ति पर वे पीएफ की राशि मांगते हैं, तो उन्हें जवाब मिलता है कि आपके हटने के दो माह बाद ही पीएफ मिलेगा। उनका सवाल है कि अगर छह माह बाद अनुबंध समाप्त हो जाता है तो उन्हें पीएफ साथ की साथ मिलना चाहिये।
हालात हो जाएंगे खराब
अनुबंध कर्मचारियों के हाथ खड़े करने से शहर में गंदगी का आलम होने की आशंका है। चूंकि घर में एकत्रित होने वाला कूड़ा लोग इन्हें वाहनों में डंप करते थे। अब लोग कूड़े को बाहर डंप करेंगे। प्रतिदिन 60 टन कूड़ा एकत्रित करने का दावा करने वाली नगर परिषद के लिये उपरोक्त मामला स्वच्छता अभियान के लिये धक्का साबित हो सकता है।

एक माह पहले उपायुक्त को लिखा था
करीब एक माह पूर्व अनुबंध की अवधि बढ़ाने के लिये उपायुक्त को लिखा गया था। अभी मंजूरी नहीं आई है। वहीं चालकों ने काम छोड़ दिया है। चालकों को मनाने का प्रयास किया जा रहा है। -अविनाश सिंगला, सफाई निरीक्षक, नप

ग्रामीण बता रहे शराब में पुलिस वाले ने ठोकी गाड़ी

पुलिस कह रही गश्त पर थी गाड़ी, अवारा पशु आया आगे

डबवाली (लहू की लौ) मंगलवार रात्रि चौटाला पुलिस की गाड़ी गांव चौटाला में अनियंत्रित होने के बाद पंचायत घर की दीवार के साथ चलते हुये बिजली के पोल से जा भिड़ी। ग्रामीणों का कहना है कि चालक शराब के नशे में धुत्त था। उसके साथ एक ग्रामीण भी था। जो ग्रामीणों को गालियां निकाल रहा था। इससे पहले की उसका मेडिकल होता, सूचना पाकर आये चौकी के कर्मचारी उसे ले गये। इधर चौकी प्रभारी धन सिंह ग्रामीणों के आरोप को निराधार बता रहे हैं। उनका कहना है कि गाड़ी गश्त पर थी। गाड़ी के आगे अवारा पशु आने से अनियंत्रित होकर एक खाल में फंस गई और पोल से टकरा गई। गाड़ी का डंपर पहले ही क्षतिग्रस्त था, कोई खास नुक्सान नहीं हुआ।

खुद हथौड़ा चला काटे चालान

फजीहत के बाद नगर परिषद ने हटाया अपना अतिक्रमण


डबवाली (लहू की लौ) इनेलो कार्यकर्ताओं के विरोध के बाद बुधवार को नगर परिषद ने कार्यालय के आगे अतिक्रमण हटा लिया। खुद एमई जयवीर डुडी ने कर्मचारियों के साथ मिलकर हथौड़ा चलाया। यहीं नहीं कार्यालय का साईन बोर्ड भी खिसका लिया।
चल रहा है अभियान
अदालत के आदेश पर नगर परिषद काफी अरसे से अतिक्रमण के खिलाफ हल्ला बोल अभियान छेड़े हुये है। लेकिन मंगलवार को इनेलो कार्यकर्ताओं ने नप के अतिक्रमण का मुद्दा खड़ा किया था। जिससे नप को फजीहत का सामना करना पड़ा था। नप ने कार्यालय के आगे करीब बारह फुट सड़क रोक रखी थी। इसके साथ-साथ नप का साईन बोर्ड की सड़क पर था। बुधवार सुबह एमई जयवीर डुडी तथा अन्य कर्मचारियों ने हथौड़ा उठाकर खुद ही अतिक्रमण हटा दिया। अतिक्रमण हटाने के तुरंत बाद एमई, सफाई निरीक्षक अविनाश सिंगला अतिक्रमण के खिलाफ अभियान चलाते हुये मुख्य बाजार में निकल गये। मुख्य बाजार में नप टीम ने अतिक्रमण करने पर गोरा गारमेंटस, बालाजी गारमेंटस, भगवान दी हट्टी, धवन गारमेंटस, अंकल दी हट्टी के चालान काटकर उनके हाथों में सौंप दिये।
सब्जी मंडी में मची भगदड़
नप टीम जैसे ही सब्जी मंडी में पहुंची तो फड़ी लगाये बैठे लोगों तथा रेहड़ी चालकों में भगदड़ की स्थिति पैदा हो गई। टीम ने चुन्नी लाल मोंगा सब्जी विक्रेता का चालान किया। टीम ने फड़ी लगाकर बैठे एक व्यक्ति का कांटा कब्जे में लिया। सब्जी मंडी के भीतर फड़ी न लगाने की सलाह देकर उसे वापिस कर दिया। इस दौरान कर्मचारियों ने खुद-ब-खुद सब्जी उठाकर दुकानों के भीतर की।
प्रधान जी यूं बात नहीं बनेगी
फड़ी वालों का पक्ष लेने आये सब्जी मंडी आढ़तिया एसोसिएशन के अध्यक्ष अशोक गुप्ता को भी नप टीम से खरी-खरी सुननी पड़ी। दरअसल गुप्ता ने फड़ी वालों को सब्जी बरामदे में करने के लिये कहा था। जिस पर कर्मचारियों ने कहा कि प्रधान जी यूं बात नहीं बनेगी, सारा सामान दुकान के भीतर जाएगा या फिर ये लोग घर जाएंगे।


इधर रेहडिय़ों को पलटा
गौशाला के नजदीक जमने लगी सब्जी मंडी असामाजिक तत्वों को रास नहीं आ रही है। मंगलवार रात को ऐसे लोगों ने कई रेहडिय़ां पलट दी। राजेश, कालीचरण, केवल, संजय, प्रवीण, रमेश कुमार ने बताया कि करीब पंद्रह रेहडिय़ां पलटने के कारण रेहडिय़ों के चक्के बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गये हैं। यहीं नहीं दो रेहडिय़ां भी गायब हो गई हैं। नगर परिषद उनके क्षेत्र में पहरेदार की व्यवस्था करवाये।

छह चालान काटे
अतिक्रमण किसी शर्त पर बर्दाश्त नहीं होगा। एतराज के बाद नप ने कार्यालय के आगे अतिक्रमण खत्म कर दिया है। अतिक्रमण के खिलाफ चल रहे अभियान के तहत आज छह चालान किये गये हैं।
-जयवीर डुडी, एमई नगर परिषद, डबवाली

बस अड्डा से एक्टिवा चोरी

डबवाली (लहू की लौ) बुधवार को अज्ञात चोर बस अड्डा में खड़ी एक अध्यापिका की एक्टिवा चुरा ले गये। कलोनी रोड़ पर लवकुश पार्क के नजदीक रहने वाले प्रो. राजीव रंजन बजाज की पत्नी कांता बजाज गांव मौजगढ़ स्थित सरकारी विद्यालय में बतौर अध्यापिका कार्यरत है। रोजाना की तरह बुधवार को बस अड्डा में अपनी एक्टिवा खड़ी करके विद्यालय गई थी। शाम करीब सवा 4 बजे जब वापिस लौटकर अपनी एक्टिवा संभाली तो गायब मिली।

पुलिस को गली-सड़ी हालत में दो शव मिले

डबवाली (लहू की लौ) गोरीवाला पुलिस को दो अलग-अलग क्षेत्रों से दो शव बरामद हुये हैं। जिन्हें पहचान के लिये डबवाली के सरकारी अस्पताल में रखा गया है। चौकी प्रभारी एसआई भाना राम ने बताया कि गांव गंगा रकबा में कालूआना माईनर से 70-75 वर्षीय पगड़ीधारी का शव बरामद हुआ है। जिसके सफेद रंग का कुर्ता पहना हुआ है। शव करीब तीन दिन पुराना लगता है। शरीर पर चोट का निशान नहीं है। बेलदार गुरचरण सिंह के ब्यान पर दफा 174 सीआरपीसी के तहत कार्रवाई की गई है। जबकि दूसरा शव कालूआना रकबा से मम्मड़ माईनर में मिला है। शव पूरी तरह से गली सड़ी अवस्था में है।

खराब रिजल्ट पर विभाग सख्त, मांगा तीन साल का ब्यौरा

वर्तमान समय में बच्चों का लर्निंग लेबल जानने के लिये 15 से होगी परीक्षा, प्रदेश में हुई एक घटना के बाद शौचालयों के लिये जारी हुई राशि

डबवाली (लहू की लौ) प्रदेश के विभिन्न स्कूलों में निरीक्षण के दौरान शिक्षा के स्तर में मिली गिरावट के बाद हरियाणा शिक्षा विभाग हरकत में आया है। शिक्षा विभाग ने प्रदेश के सभी स्कूलों से पिछले तीन वर्ष का रिकॉर्ड मांगा है। विभाग इस रिकॉर्ड को खंगालेगा। माना जा रहा है कि रिकॉर्ड जांचने के बाद विभाग खराब रिजल्ट लाने वाले अध्यापकों पर कार्रवाई कर सकता है। शिक्षा विभाग के आदेश मिलने पर बुधवार को बीईओ ने विद्यालयों के मुखियों की बैठक अपने कार्यालय में ली। जिसमें उन्होंने तीन साल का रिकॉर्ड मुहैया करवाने के लिये कहा।
बैठक के बाद इस संवाददाता से बातचीत करते हुये बीईओ संत कुमार ने बताया कि शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार लाने के लिये विभाग ने आदेश पारित किये हैं। जिसमें 10वीं तथा 12वीं कक्षा के साथ-साथ 9वीं तथा 11वीं कक्षा पर फोकस किया गया है। स्कूल प्रिंसीपल को हिदायत दी गई है कि वे पिछले तीन वर्षों का रिकॉर्ड कार्यालय में जमा करवाएं। इस रिकॉर्ड को विभाग के मुख्यालय में भेजा जायेगा। रिकॉर्ड का अवलोकन करने के बाद ही विभाग दिशा-निर्देश जारी करेगा।
20 अंकों की परीक्षा होगी
विभाग ने विद्यार्थियों का वर्तमान लर्निंग लेबल जानने के लिये इसी माह से 20 अंकों की परीक्षा शुरू करने के आदेश दिये हैं। 15 से 20 दिसंबर को पहली से 12वीं कक्षा के बच्चों की परीक्षा ली जायेगी। जिसमें ओवजेक्टिव टाईप प्रश्न पूछे जाएंगे। यह रिपोर्ट बीईओ कार्यालय की मार्फत मुख्यालय में जाएगी। उपरोक्त दोनों चरण पूरे होने के बाद विभाग की उच्च स्तरीय टीम स्कूलों की जांच पर निकलेगी। व्यवस्था में गड़बड़ी को चिन्हित करके उन्हें दूर करने का प्रयास किया जायेगा।
बच्चे की मौत के बाद हरकत में आया विभाग
वहीं प्रदेश के एक सरकारी स्कूल में टॉयलेट की छत गिरने से बच्चे की मौत होने के बाद विभाग हरकत में आया है। एक सवाल के जवाब में बीईओ ने बताया विभाग ने स्कूल प्रबंधन पर भी विशेष जोर देने के निर्देश दिये हैं। खासकर विद्यालयों में बने शौचालयों पर। विभाग ने शौचालयों की मुरम्मत के लिये प्रति विद्यालय करीब 7500 रूपये की राशि भेजी है। एक सवाल का जवाब देते हुये बीईओ ने कहा कि शिक्षा विभाग के आदेशानुसार अब प्रत्येक सरकारी विद्यालय में सप्ताह का एक दिन स्वच्छता के नाम होगा। इसके तहत विद्यालय प्रभारी बच्चों को स्वच्छता के बारे में जानकारी मुहैया करवाएंगे।
शिक्षा में गुणवत्ता सुधार के साथ-साथ विभाग ने शिक्षकों के लिये एक ओर आदेश जारी किया है। जिसके तहत अब शिक्षकों को अपनी कक्षा के बच्चों का सर्वे करके यह बताना होगा कि कितनों के पास आधार कार्ड है। स्टेटस की रिपोर्ट मुख्यालय जायेगी। बीईओ संत कुमार ने बताया कि शिक्षा विभाग मिशन 2015 लेकर चला है। जिसके तहत उपरोक्त गतिविधियां शुरू की गई है। बैठक में सभी विद्यालय प्रभारियों से रिकॉर्ड की मांग की गई है।

साहब, मैं जिंदा हूं

डबवाली (लहू की लौ) गांव नीलियांवाली का बुजुर्ग खुद को जिंदा साबित करने के लिये पिछले डेढ़ वर्ष से संघर्ष कर रहा है। लापरवाहों के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर  सरकारी दफ्तरों की सीढिय़ां चढ़कर थक चुके इस बुजुर्ग ने इंसाफ पाने के लिये अदालत की शरण ली है। हजूरा सिंह ने बताया कि दिसंबर 2012 तक उसे निर्बाध रूप से पेंशन मिलती रही। वर्ष 2013 के जनवरी, फरवरी, मार्च तथा अप्रैल माह में उसे सरपंच ने पेंशन दी। मई माह की पेंशन लेने के लिये वह सरपंच के पास गया। उसे ज्ञात हुआ कि सरपंच की मिलीभगत से चार माह की पेंशन गायब की जा चुकी है। जब उसने इसकी आवाज उठाई तो सरपंच ने सितंबर 2013 को उसे मृत घोषित करके उसकी पेंशन बंद कर दी। उसने खुद को जिंदा साबित करने के लिये प्रशासनिक अधिकारियों के आगे फरियाद की। लेकिन किसी ने उसकी पुकार नहीं सुनी। हजूरा सिंह ने उपमंडल  न्यायिक दंडाधिकारी परवेश सिंगला की अदालत में याचिका डालकर गांव के सरपंच व जिला समाज कल्याण विभाग के अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही किए जाने की मांग की है।

चल रही है पेंशन
करीब डेढ़ वर्ष पूर्व हजूरा सिंह पेंशन लेने के लिये नहीं आया था। जिस पर एबसेंट मार्क करके पेंशन को वापिस लौटा दिया गया। लेकिन कर्मचारियों की गलती के कारण एबसेंट की जगह मृत लिखा गया। जिससे पेंशन कट गई। गलती सुधारते हुये विभाग ने पुन: आवेदन करने पर हजूरा सिंह की पेंशन लगा दी। पिछले चार माह से वह पेंशन लेने नहीं आ रहा। पुरानी पेंशन मांग रहा है। -मुखपाल सिंह, सरपंच
गांव नीलियांवाली

व्यापारी बोले, इस बार मंदा, एडवांस कर हो सकता है कम

डबवाली (लहू की लौ) बुधवार को आयकर विभाग सिरसा की ओर से अग्रवाल धर्मशाला में आयकर संयुक्त आयुक्त हिसार  भवानी शंकर तथा डीसी हिसार आयकर शंभू दयाल की अध्यक्षता में एडवांस आयकर को लेकर विभिन्न व्यापारिक संगठनो के प्रतिनिधियों की एक बैठक का आयोजन किया गया।
बैठक में संयुक्त आयुक्त आयकर हिसार ने व्यापारियों से कहा कि विभाग के पास रिफंड का ग्राफ बढ़ रहा है, जबकि आयकर अदा करने वालों का डाटा कम हो रहा है। उन्होंने व्यापारी प्रतिनिधियों से कहा कि वे व्यापारियों को ईमानदारी से आयकर अदा करने का अनुरोध करें। उनके अनुसार उन द्वारा दिया गया आयकर देश के विकास में लगता है। उन्होंने यह भी कहा कि व्यापारियों तथा विभाग के बीच दोस्ताना संबंध होने चाहिए। इस लिए वे स्वयं उनकी समस्याएं जानने के लिए उनके पास आये हैं। इस मौके पर उन्होंने व्यापारियों की समस्याएं भी सुनी। व्यापारी प्रतिनिधियों ने बताया की इस समय हालत मंदे की है और ऐसे में एडवांस कर उनकी अपेक्षा से कम हो सकता है। लेकिन वह यह आश्वासन जरूर उन्हें देते हैं कि आयकर ईमानदारी से अदा किया जायेगा।
बैठक को डीसी आयकर हिसार शम्भू दयाल, आईटीओ सिरसा नरेन्द्र सिंह, आयकर निरीक्षक सुरेश कुमार ने भी सम्बोधित किया। बैठक में आईटीओ सिरसा  आरके गर्ग भी उपस्थित थे। डबवाली आयकर बार एसोसिएशन के सदस्य, कच्चा-पक्का आढ़तिया एसोसिएशन, कैमिस्ट एसोसिएशन के प्रतिनिधि शामिल थे।

आधार कार्ड पर लूट

डबवाली (लहू की लौ) पिछली सरकार में मुफ्त बनने वाला आधार कार्ड खट्टर सरकार में शुल्क वाला होने के बाद महंगा हो गया है। सरकार की ओर से सुविधाओं में जरूरी किये जाने के बाद बेशक आधार की महत्ता बढ़ गई हो। लेकिन कुछ निजी एजेंसियों ने इसके बहाने लूट मचा रखी है।
इन दिनों कलोनी रोड़, वैष्णों माता मंदिर क्षेत्र, पुराना डाकघर क्षेत्र तथा नई अनाज मंडी क्षेत्र में ऐसे कई केंद्र खुल गये हैं, जो आधार कार्ड की एवज में लोगों को लूट रहे हैं। आधार कार्ड का फार्म भरने तथा उसका प्रिंट निकालने के नाम पर 70 से 80 रूपये तक वसूले जाते हैं। जबकि सरकार की ओर से आधार कार्ड बिल्कुल मुफ्त बनाया जाता है।
उपरोक्त कार्य में लगे एक युवक ने बताया कि प्रदेश की कुछ निजी कंपनियों ने कुछ समय पहले उनसे संपर्क करके मुफ्त में आधार कार्ड बनाने के लिये कहा था। इसके लिये उन्होंने करीब ढाई लाख रूपये खर्च करके मशीनें मंगवाई थी। कंपनियों ने प्रति कार्ड उन्हें 16 रूपये देने का वायदा किया था। करीब डेढ़ से दो लाख आधार कार्ड तैयार करने के बाद जब कंपनी से अपना हिस्सा मांगा तो कंपनी ने उन्हें एक चैक सौंप दिया। जो बैंक ने डिस्ऑनर कर दिया। उनके लाखों रूपये कंपनियों की ओर डूब गये।
हम घाटा पूरा कर रहे हैं
युवक ने बताया कि आधार कार्ड सरकार की ओर से बिल्कुल फ्री है। लेकिन वे अपना घाटा पूरा करने के लिये आधार कार्ड अप्लाई करने तथा प्रिंट निकालने पर 50 से 80 रूपये ले रहे हैं। लेकिन इसके लिये भी उन्हें संबंधित कंपनियों पर निर्भर रहना पड़ता है। चूंकि आधार कार्ड के लिये अप्लाई करते समय जिन मशीनों का प्रयोग वे कर रहे हैं, वे एक निश्चित अवधि के लिये चलती हैं। जिनकी कुंजी कंपनियों के पास होती है। दोबारा रिचार्ज करवाने के लिये कंपनियों का मुंह ताकना पड़ता है। एक मशीन रिचार्ज करने के पीछे संबंधित कंपनी करीब पांच हजार रूपये लेती है।

आधार कार्ड के लिये अप्लाई करने वाले केंद्रों पर सुबह से ही लोगों की लंबी लाईन लग जाती है। जो शाम तक रहती है। लोग बिना जागरूकता के लिये केंद्रों पर पैसा लुटा रहे हैं। जबकि प्रशासन मौनी बाबा बनकर रह गया है। एसडीएम संजय राय छुट्टी पर चल रहे हैं। ऐसे में शहर पर प्रशासन की पकड़ लगातार ढीली होती जा रही है।

बस्ती में स्कूल बनाने की मांग

डबवाली (लहू की लौ) सतगुरू कबीर सत्संग मंडल धानक समाज व अन्य शहरवासियों ने जिला उपायुक्त को एक मांग पत्र देकर करीब दो वर्ष पूर्व शहर में दुराचार का शिकार हुई मासूम बच्ची महक के नाम से कबीर बस्ती में विद्यालय स्थापित करने की मांग फिर उठाई है। बुधवार को सिरसा में हुई जिला विजीलेंस व मोनिटरिंग कमेटी की बैठक में कमेटी सदस्य अमरनाथ बागड़ी ने लोगों की ओर से डीसी के समक्ष यह मामला उठाया।
उन्होंने बताया कि जनवरी 2012 को डबवाली में हुए महंक हत्याकांड की देश भर में भत्र्सना हुई थी। उस समय शहर व जिले के लोगों ने एक जुटता से मांग की थी कि महक की याद में कबीर बस्ती में एक स्कूल खोला जाए। कबीर बस्ती को सरकार ने मलिन बस्ती घोषित कर रखा है व इस क्षेत्र में कोई भी स्कूल नही है। लोगों की इस मांग को जल्द पूरा करने का आश्वासन दिया गया था लेकिन दो वर्ष का लंबा अरसा बीत जाने के बाद भी स्कूल स्थापित नहीं किया जा सका है। उन्होंने उपायुक्त से मांग की कि कबीर बस्ती में स्कूल खोलने की प्रक्रिया जल्द शुरू करवाई जाए। इसके अलावा अमरनाथ बागड़ी ने यह भी बताया कि वार्ड 4 में 1955 से बनी राजकीय प्राथमिक पाठशाला न. 1 में भी गरीब वर्ग के करीब 500 बच्चे शिक्षा ग्रहण करते हैं। इस पाठशाला को छोड़कर शहर की अन्य सभी पाठशालाओं को अपग्रेड कर दिया गया है। उन्होंने मांग की कि इस पाठशाला को भी जल्द अपग्रेड़ कर उच्च विद्यालय बनाया जाए।

294 अभियोग अंकित किये

डबवाली (लहू की लौ) पुलिस विभाग द्वारा गत माह जिला में अपराधिक गतिविधियों को नियंत्रित करते हुए विभिन्न धाराओं के तहत 294 अभियोग दर्ज किए गए है। विभिन्न चोरियों की गुत्थी सुलझाते हुए 3 लाख 92 हजार 500 रुपए की चोरीशुदा संपत्ति भी बरामद करने में पुलिस विभाग ने सफलता हासिल की है। पुलिस अधीक्षक मितेश जैन ने बताया कि आबकारी अधिनियम के तहत 294 अभियोग दर्ज किए गए जिसमें से 1302 बोतल शराब ठेका देसी, 5 बोतल नाजायज शराब बरामद की गई। उन्होंने बताया कि जिला में मादक पदार्थों की तस्करी पर लगाम कसने के लिए पुलिस टीम ने विभिन्न स्थानों पर छापा मारी की और नारकोटिक अधिनियम के तहत 15 अभियोग दर्ज किए गए जिसके तहत लगभग 503.200 किलोग्राम चूरापोस्त, 0.255 ग्राम स्मैक, 2.208 किलो ग्राम अफीम, 0.039 ग्राम हिरोईन बरामद किया गया। शस्त्र अधिनियम के तहत 4 मामले दर्ज किए गए जिसमें 5 पिस्तौल, 6 कारतूस बरामद किए गए। उन्होंनेे बताया कि जुआ अधिनियम के तहत 12 अभियोग दर्ज किए गए जिसके तहत विभिन्न स्थानों पर सट्टे खाईवाली करते हुए व जुआ खेलते लोगों से 1 लाख 27 हजार 675 रुपए की राशि बरामद की गई है।

विवेकानंद स्कूल में हुई प्रतियोगिता

डबवाली (लहू की लौ) स्वामी विवेकानंद सीनियर सैकेंडरी स्कूल में सड़क सुरक्षा प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता का पेपर सभी कक्षाओ के बच्चो से लिया गया  पेपर के तीन लेवल रखे गए थे। लेवल-प्रथम (पहली से पांचवी),  लेवल-द्वितीय (छठी से नोवीं) और लेवल-तृतीय (दसवीं से बारहवीं )।  
यूं रहे परिणाम : लेवल प्रथम में मोहित टाक प्रथम,मुकेश कुमार द्वितीय, मुस्कान तृतीय रहीं।
लेवल 2 में शनेहा प्रथम, अंकित कुमार, विक्रम यादव द्वितीय, साहिल तृतीय, मनप्रीत कम्बोज चतुर्थ रहे। लेवल तृतीय में गमदूर सिंह, विक्रम प्रथम, पूनम, रमनदीप सिंह ,ममता द्वितीय,अंकुश, प्रियंका तृतीय रहे।  इस अवसर पर प्रबन्धक एस.एस.सुथार, प्रिंसिपल बी.एल.डोडा, सचिव प्रशांत बेरड़, वाईस प्रिंसिपल विनोद शर्मा, मनोज सुथार,सरोज बेरड़, समेस्ता सुथार, प्रोमिला उपस्थित  थे 

आप कूड़ा कहां फेंकते हैं नजर रखेगी नई किरण

डबवाली (लहू की लौ) शहर की सुंदरता पर ग्रहण बने मेन बाजार रेलवे फाटक के नजदीक लगने वाले कूड़े के ढेरों को हटाने की जिम्मेदारी नई किरण संस्था के युवा सदस्यों ने उठाई है। नगरपरिषद द्वारा कई बार सफाई करवाने के बाद भी उस स्थान पर कूड़े के ढेर पुन: लगने लगते हैं व इस दिशा में किए गए प्रयास तमाम प्रयास अब तक विफल रहे हैं।
सात दिन चलेगा अभियान
ऐसे में नईं किरण संस्था सदस्यों ने अब यहां लगातार सात दिन तक सफाई अभियान चलाने व कूड़ा फैंकने वालों पर नजर रखने की मुहिम शुरू की है। बुधवार सुबह 7 बजे नई किरण सदस्य मेन बाजार रेलवे फाटक पर पहुंचे व कूड़े का डिपो बन चुके उस स्थान पर सफाई अभियान शुरू किया। करीब 3 घ्ंाटे की मशक्कत के बाद वहां से पूरी गंदगी को हटा दिया और नगरपरिषद की ट्रेक्टर ट्रॉली को बुलाकर एकत्रित कूड़े को उठवाया।
डस्टबिन किये शिफ्ट
नई किरण प्रधान करण कामरा ने बताया कि नगरपरिषद द्वारा उक्त स्थान पर रखे दो डस्टबिन को भी शिफ्ट करते हुए कॉर्नर पर कर दिया गया ताकि भविष्य में लोग डस्टबिन में ही कूड़ा फैंकें। उन्होंने बताया कि नगरपरिषद द्वारा पहले इस स्थान पर सुबह 10  बजे ट्रॉली भेजकर कूड़ा उठवाया जाता था व नप सचिव ऋषिकेश चौधरी ने आश्वासन दिया है कि अब रोजाना सुबह 11 बजे व शाम को 5 बजे भी डस्टबिन में एकत्रित हुई गंदगी को उठाया जाएगा। इसके अलावा संस्था सदस्य लगातार यहां नजर रखेंगे व लोगों को कूड़ा डस्टबिन में फैंकने के लिए प्रेरित करेंगे। यह अभियान लगातार सात दिन तक चलेगा। अपने घर व दुकान के आसपास क्षेत्र को साफ रखें तथा कूड़े को डस्टबिन में ही डालें ताकि शहर में कहीं भी गंदगी नजर न आए।
ये थे उपस्थित
इस मौके पर गौरव सिंगला, लवली शर्मा, पंकज बांसल, आकाश मित्तल, विजय गुरेजा, शाम लाल, मोहित गोयल, करण बांसल व अन्य उपस्थित थे।

नैतिक दृष्टिकोण से जाने जा सकते हैं अधिकार-आत्मा राम अरोड़ा

डबवाली (लहू की लौ) गुरू नानक कॉलेज के राजनीति शास्त्र विभाग की थिंकर्स सोसायटी ने बुधवार को अन्तर्राष्ट्रीय मानवाधिकार दिवस मनाया। जिसमें मुख्य वक्ता के रूप में शिक्षाविद् व कॉलेज के पूर्व प्रधानाचार्य आत्मा राम अरोड़ा विद्यार्थियों समक्ष रूबरू हुए।
मुख्य वक्ता ने आत्मा राम अरोड़ा ने कहा कि मानव अधिकारों की स्थिति हमारे समाज व संपूर्ण विश्व में दयनीय है। क्योंकि सभी अपने अधिकारों के प्रति तो गंभीर हैं लेकिन दूसरे के मानव अधिकारों या अपने कर्तव्यों के प्रति कोई भी गंभीर नहीं है। उन्होंने कहा कि यदि हम मानवाधिकारों की असल में प्राप्ति चाहते हैं तो हमें उसके लिए सतत् जागरूकता एवं अपने अंदर योग्यता पैदा करनी होगी। हमे इन अधिकारों के प्रति नैतिक दृष्टिकोण पैदा करना होगा। तभी आज के दिन को सार्थक बना पायेंगे। व्यख्यान के बाद उन्होंने विद्यार्थियों के प्रश्नों व जिज्ञासाओं को बड़ी कुशलता से शंात किया। कार्यक्रम के अंत में  प्रिंसीपल डॉ. इन्दिरा अरोड़ा ने कॉलेज व क्षेत्र को शिक्षा के क्षेत्र में योगदान का वर्णन किया। मंच का संचालन अमित बहल ने किया।

11 Dec. 2014