युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

28 मई 2011

बारह साल बाद गिरफ्त में हत्यारोपी

डबवाली | दिल्ली पुलिस द्वारा शक के आधार पर गिरफ्तार किया गया एक व्यक्ति हरियाणा के उपमण्डल डबवाली के गांव राजपुरा माजरा में साल 1999 में एक बिहारी युवक की हत्या करने का आरोपी निकला। दिल्ली पुलिस के सहयोग से सदर डबवाली पुलिस ने आरोपी को काबू कर लिया।
बिहार के गांव मलटोली का निवासी धर्मपाल पुत्र सतोराय साल 1999 में हरियाणा के उपमण्डल डबवाली के गांव राजपुरा माजरा में कृषि कार्य करने आया था। यहां उसे किसान लक्ष्मण पुत्र गणेशाराम के खेत में एक हजार रूपए प्रति माह की पगार पर काम मिल गया। लेकिन 10 अगस्त की रात को किसी व्यक्ति ने तेजधार हथियार से उसकी हत्या कर दी। 11 अगस्त को उसका शव नरमा के खेत से मिला। उस समय सदर पुलिस को दिए ब्यान में गणेशाराम पुत्र बसावा राम निवासी राजपुरा माजरा ने बताया था कि मृतक धर्मपाल करीब 10 दिन पूर्व ही उनके यहां काम पर लगा था। वह पास के खेतों में काम करने वाले रामप्रवेश, नवीन राय, बिन्दा राम निवासीगण मलटोली तथा नवल राय निवासी खरहुआ (बिहार) के साथ उठता-बैठता था।
गणेशाराम ने बताया था कि 10 अगस्त की रात को धर्मपाल उनके यहां खाना खाने के बाद प्रतिदिन की तरह रामप्रवेश बगैरा के पास चला गया। लेकिन 11 अगस्त की सुबह वह काम पर नहीं आया। जब उन्होंने रामप्रवेश बगैरा से धर्मपाल के बारे में पूछा तो उन्होंने कोई संतोषजनक जवाब नहीं दिया और उपरोक्त चारों गांव छोड़कर भाग गए। इसी दिन गांव के किसान बुल्ला राम के नरमा के खेत से धर्मपाल का शव मिला।
थाना सदर प्रभारी एसआई रतन सिंह ने बताया कि उस समय पुलिस ने गणेशाराम के ब्यान पर दफा 302/201/34 आईपीसी के तहत मामला दर्ज करके आरोपियों की तालाश शुरू कर दी थी। 2-2-2001 में एडीशनल सैशन जज सीबी जगलान ने उपरोक्त चारों आरोपियों को भगौड़ा करार दे दिया था। थाना प्रभारी के अनुसार साल 2008 में पुलिस ने घटना की गुत्थी को सुलझाते हुए घटना के एक आरोपी नवीन राय पुत्र रामशोभितराय निवासी मलटौली (बिहार) को काबू कर लिया था। अब दिल्ली पुलिस के सहयोग से इस मामले में वांछित उद्घोषित अपराधी रामप्रवेश पुत्र रामशोभित निवासी मलटोली (बिहार) को काबू किया है। पकड़े गए आरोपी को उपमण्डल न्यायिक दण्डाधिकारी डॉ. अतुल मडिया की अदालत में पेश किया गया। अदालत ने आरोपी को तीन दिन के पुलिस रिमांड पर भेजने के आदेश दिए।

प्रशासन को जगाने के लिए कविता का सहारा

डबवाली (लहू की लौ) समस्या का समाधान न हो तो लोग आंदोलनरत होते हैं। कोई झण्डा, तो कोई डंडा पकड़कर आंदोलन में कूदता है। नारेबाजी, प्रदर्शन, अनशन, भूख हड़ताल आंदोलन के अंग हैं। शहर में विकराल होती जा रही गंदे पानी की समस्या को लेकर नारेबाजी, प्रदर्शन, मटका फोड़ प्रोग्राम जैसा सबकुछ हो लिया है। लेकिन इसके बावजूद विभाग मौन है।
    गंदे पेयजल की आपूर्ति आज शहर की सबसे प्रमुख समस्या है। लेकिन इस समस्या को दूर करने के लिए विभाग कोई प्रयास नहीं कर रहा। एक बार मामूली बरसात आ जाती है तो शहर के लोगों को पंद्रह दिनों तक लगातार गंदा पानी नसीब होता है। इस बार भी कुछ ऐसा ही हुआ। थोड़ी सी बरसात आने भर से शहर में गंदे पेयजल की आपूर्ति शुरू हो गई। समस्या के समाधान के लिए चार दिनों से लोग प्रशासन से चीख-पुकार करके अपनी बात कह रहे हैं। लेकिन समस्या के प्रति न तो विभाग संजीदा है और न ही प्रशासन। प्रशासन और विभाग के अधिकारियों को जगाने के लिए शहर का एक युवक आगे आया है। बिना झण्डा और बिना लट्ठ बजाए इस युवा ने विभाग के खिलाफ एक नया आंदोलन खड़ा किया है।
    गंदे पानी की आपूर्ति से परेशान चल रहा यह युवक वार्ड नं. 15 का निवासी कमल छाबड़ा है। जिसने अपनी कविता की पंक्तियों के माध्यम से जनस्वास्थ्य विभाग की हठधर्मिता पर करारी चोट की है। छाबड़ा के अनुसार वह अपनी व्यंग्यात्मक कविता को शिकायत के तौर पर जनस्वास्थ्य विभाग तथा प्रदेश सरकार के आला मंत्रियों तक पहुंचाएंगे। ताकि चुनाव के दिनों में स्टेज पर अपने शायरों तथा चुटकुलों की मार्फत लोगों के वोट हथियाने वाले नेता शायद इस कविता से प्रभावित होकर शहर के लोगों के लिए स्वच्छ पानी का बंदोबस्त करवा सकें।

यह है कविता
जनस्वास्थ्य विभाग का नया उत्पाद
पिछले दो दिनों से मैंने जब भी खोला नल,
तो उसमें से निकला काले रंग का जल।
सीवरेज युक्त बदबूदार पानी है इतना मलिन और खराब,
पेश किया है जैसे जनस्वास्थ्य विभाग ने कोई नया उत्पाद।
संबंधित विभाग अति शीघ्र इसे पेटेंट करवा ले,
कहीं कोई बहुराष्ट्रीय कंपनी इसका फार्मूला ना चुरा ले।
शिकायत करने पर भी आंख मूंद बैठे हैं अधिकारी,
इस पानी के सेवन से लग सकती है कोई भी बीमारी।
    -कमल छाबड़ा, वार्ड नं. 15, डबवाली

    वार्ड नं. 19 की बराड़ों वाली गली के निवासी राकेश कुमार, डॉ. ललजीत गर्ग, मोहन लाल, कुलवन्त सोनी, लखबीर सिंह, पम्मी ने बताया कि उनके घरों में  पिछले तीन दिनों से जनस्वास्थ्य विभाग की सप्लाई में सीवरेजयुक्त पानी की आपूर्ति हो रही है। उनके अनुसार यह पानी नहाने के भी योग्य नहीं है। इस संबंधी विभाग में शिकायत करने के बावजूद उनकी सुध लेने कोई नहीं पहुंचा। उन्हें अंदेशा है कि इस पेयजल से उनके वार्ड में कोई गंभीर रोग फैल सकता है।
    इसी प्रकार से वार्ड नं. 15 में स्वामी दयानन्द स्कूल वाले एरिया के निवासी कमल और विकास, वार्ड नं. 16 का नगर सुधार मंडल क्षेत्र के महिन्द्र कुमार, विपिन, सर्वजीत ने भी आरोप लगाया है कि उनके वार्ड  में भी पिछले तीन दिनों से गन्दे पेयजल की आपूर्ति हो रही है।

    लोगों को मिलेगा स्वच्छ पेयजल   
स्वच्छ पेयजल आपूर्ति करने के आदेश जनस्वास्थ्य विभाग को दिए गए हैं। मानसून से पूर्व शहर के मुख्य चैम्बरों की मशीन से सफाई करने के लिए भी विभाग को कहा गया है।
    -डॉ. मुनीश नागपाल, एसडीएम डबवाली

    चैम्बर जाम होने की वजह से आई समस्या
    पिछले दिनों तेज अंधड व बारिश के कारण चैम्बर में गंदगी चले जाने के चलते जीटी रोड़ पर एक चैम्बर जाम हो गया था। जिसकी वजह से प्रॉबल्म सामने आई। प्रॉबल्म ढूंढकर उसे हल किया गया। जिससे वार्ड नं. 15, 16 में स्वच्छ पेयजल की आपूर्ति शीघ्र बहाल हो जाएगी। जबकि वार्ड नं. 19 में जल्द ही स्वच्छ पेयजल की आपूर्ति सुनिश्चित की जाएगी।
    -सतपाल, कनिष्ठ अभियंता, जनस्वास्थ्य विभाग, डबवाली