युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

08 अगस्त 2011

तालाब में मछलियां मरने पर जोगेवाला में हंगामा


डबवाली (लहू की लौ) गांव जोगेवाला के तालाब में मछलियां मरने से ग्रामीण और ठेकेदार आमने-सामने आ गए। पिछले तीन दिनों से मरी मछलियों की बदबू से परेशान चले आ रहे ग्रामीणों ने ठेकेदार के करिंदों को पीट डाला। रविवार को मौका पर पहुंची पुलिस ने मरी मछलियों को जोहड़ से बाहर निकलवाया।
शहर के चौहान नगर में रह रहे रोशन लाल ने गांव जोगेवाला में मछली पालन का ठेका लिया हुआ है। दो जोहड़ों में मछली पालने का कार्य किया जा रहा है। इस कार्य को ठेकेदार का करिंदा गांव जोगेवाला का टेकचंद देखता है। तीन दिन पूर्व एक जोहड़ में पाली जा रही मछलियां काफी संख्या में दम तोड़ गई। जिससे वातावरण में दुर्गंध फैल गई। ग्रामीणों ने इसकी शिकायत टेकचंद से की। लेकिन उसने कोई कदम नहीं उठाया। शनिवार शाम को टेकचंद अपने साथ कुछ लोग लेकर आया और जोहड़ में पाली जा रही मछलियों को जाल बिछाकर बाहर निकालने लगा। जानकारी पाकर आसपास के ग्रामीण इक्ट्ठे हो गए। उन्होंने इस पर एतराज किया और मरी हुई मछलियों को पहले उठाने की बात कही। जिस पर दोनों पक्षों में तूतू-मैंमैं हो गई। परेशान ग्रामीणों ने जाल फाड़ दिया और  ठेकेदार के एक करिंदे के थप्पड़ रसीद कर लिया। जिससे मामला तूल पकड़ गया। ठेकेदार ने इसकी शिकायत पुलिस में कर दी। शिकायत पर सिटी थाना के एसआई राजा राम, एएसआई गोपाल राम के नेतृत्व में रविवार सुबह पुलिस पार्टी मौका पर पहुंची। पुलिस की देखरेख में जोहड़ से मछली निकालने का कार्य शुरू हआ। टेकचंद ने बताया कि रोशन लाल ने यह ठेका साल 2007-08 में 26 हजार रूपए में लिया था। दो जोहड़ों में करीब 70 हजार रूपए की राशि के बीज डाले थे। लेकिन तीन-चार दिन पहले अचानक मछलियां मर गई। वे लोग शनिवार शाम करीब 6 बजे मरी मछलियों को निकालने के लिए आए थे। लेकिन ग्रामीणों के एतराज करने से उन्हें वापिस जाना पड़ा। इस मामले की सूचना उन्होंने सिटी पुलिस को दी।
ग्रामीण जग्गा सिंह, सुखदेव सिंह तथा सर्वजीत सिंह ने बताया कि वे पिछले तीन दिनों से मरी हुई मछलियों को उठाने के लिए टेकचंद से कह रहे थे। लेकिन उनकी कोई सुनवाई नहीं हो रही थी। उल्टा उन पर ही मछलियों को मारने का आरोप जड़ा जा रहा था। शनिवार शाम को भी उन्होंने मरी मछलियां पहले उठाने की बात कही। लेकिन ठेकेदार के करिंदे उनके ऊपर आ चढ़े।
सिटी पुलिस के एसआई राजा राम ने बताया कि ठेकेदार ने शिकायत की थी कि उसे कुछ लोगों द्वारा जोहड़ से मछली बाहर निकालने नहीं दी जा रही। जोहड़ में मरी हुई मछलियों को हटाने से ग्रामीणों की संतुष्टि के बाद ठेकेदार ने कार्य शुरू कर दिया।

वकील का मुंशी अफीम सहित काबू


डबवाली (लहू की लौ) सदर पुलिस ने पंजाब की फरीदकोट अदालत में प्रेक्टिस कर रहे एक वकील के मुंशी तथा उसके साथी को अफीम तस्करी में गिरफ्तार किया है। दोनों गांव जण्डवाला जाटान से अफीम खरीदकर ऊनो कार में डबवाली की ओर आ रहे थे। पुलिस ने गांव नीलियांवाली के पास दोनों को दरदबोचा। पुलिस को मुखबरी मिली थी कि ऊनो कार में सवार दो व्यक्तियों ने गांव जण्डवाला जाटान की एक ढाणी से 10 हजार रूपए में 250 ग्राम अफीम खरीदी है। वे अफीम को लेकर डबवाली की ओर आ रहे हैं। सदर पुलिस की एक टीम ने तुरंत गांव नीलियांवाली के पास नाका लगा लिया। पुलिस को देखकर कार सवारों ने मुंह में बांधे कपड़े उतार लिए। शक के आधार पर पुलिस ने तालाशी ली। लेकिन उनसे कुछ नहीं मिली। कार की तालाशी ली गई। पुलिस पार्टी को गाड़ी की पिछली सीट में एक पॉलीथीन के लिफाफे में डली 250 ग्राम अफीम बरामद हुई। जिसे बड़ी चतुराई से छुपाया हुआ था।
सदर पुलिस प्रभारी एसआई रतन सिंह ने उपरोक्त घटनाक्रम की पुष्टि करते हुए बताया कि आरोपियों ने अपनी पहचान जगतार सिंह निवासी कगियाना (फरीदकोट), सुखचैन सिंह निवासी मचाकी कलां (फरीदकोट), पंजाब के रूप में करवाई है। जगतार सिंह फरीदकोट अदालत में प्रेक्टिस कर रहे एक वकील का मुंशी है। दोनों के खिलाफ मामला दर्ज करके अगली कार्रवाई शुरू कर दी गई है।

गोल चौक पर चली गोली!


किलियांवाली के गुरूनानक कॉलेज में प्रधानगी को लेकर विवाद
डबवाली (लहू की लौ) गुरू नानक कॉलेज किलियांवाली के छात्रों के दो गुटों में प्रधानगी को लेकर चल रहा तनाव थमने का नाम नहीं ले रहा है। इसी मामले में शनिवार रात को एक गुट के छात्रों ने दूसरे गुट के समर्थक की गाड़ी पर गोली चला दी। शुक्रवार को भी छात्रों को ये दो गुट शहर की अनाज मण्डी में भिड़े थे और गोली चली थी।
पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल के गृह क्षेत्र लम्बी के गांव किलियांवाली के गुरू नानक कॉलेज के छात्रों के दो ग्रुपों में तनाव चल रहा है। कई बार दोनों ग्रुपों मेें हाथापाई तक भी नौबत आई है। एक ग्रुप का नेतृत्व बब्बू कंग कखांवाली कर रहा है जबकि दूसरे ग्रुप का नेतृत्व गुरप्रीत कुलार मलिकपुरा कर रहा है। दोनों अपने को कॉलेज विद्यार्थियों के स्वयंभू अध्यक्ष बता रहे हैं। बब्बू कंग ने कुछ दिन पूर्व स्वयं को सर्वसम्मति से विद्यार्थियों का अध्यक्ष घोषित कर दिया था और इस संबंध में अपने पोस्टर भी दीवारों पर चस्पा कर दिए दिये थे। लेकिन गुरप्रीत कुलार तथा उसके समर्थकों ने इसका विरोध करते हुए कंग के खिलाफ हस्ताक्षर अभियान छेड़ दिया और अपने को विद्यार्थियों का अध्यक्ष घोषित करते हुए अपने पोस्टर लगा डाले। कॉलेज विद्यार्थियों का प्रधान होने का दावा करने वाले दोनों ही गुट बीते शुक्रवार को डबवाली की नई अनाज मंडी में आपस में भिड़ गये और वहां पर फायरिंग भी हुई। मौका पर हरियाणा पुलिस भी पहुंची। सिटी पुलिस ने गुरप्रीत कुलार के समर्थक मनजिंद्र सिंह के ब्यान पर बब्बू कंग तथा उसके साथियों पर मामला दर्ज करके कार्रवाई आरंभ कर दी। लेकिन शनिवार रात करीब 10.15 बजे बब्बू कंग के समर्थक गांव मसीतां निवासी गगनदीप सिंह की गाड़ी पर गोल चौक के पास कुछ युवकों ने हमला कर दिया।
गांव मसीतां निवासी गगनदीप सिंह ने बताया कि वह शहर में प्रॉपर्टी डीलर का कार्य करता है। हर रोज की तरह अपनी वीरेटो गाड़ी पर रात को गांव जा रहा था। गोल चौक के पास बब्बल, मुख्तियार सिंह, गुरप्रीत कुलार, रॉकी, हरिंद्र बगैरा ने उस पर हमला कर दिया। उसकी गाड़ी पर रॉडें मारी। जब उसने गाड़ी भगाई तो पीछे से फायर किए। एक फायर उसकी गाड़ी के बॉक्स को छेदता हुआ पिछली सीट पर जा लगा। उसने चौहान नगर में अपने एक मित्र चन्ना कंग के निवास स्थान पर पहुंचकर अपने को छुपाया। उपरोक्त वाक्य की जानकारी सिटी पुलिस को दी। गगनदीप के अनुसार वह गुरूनानक कॉलेज में विद्यार्थियों के प्रधान बब्बू कंग का समर्थक है। जबकि कंग को गुरप्रीत कुलार बगैरा अपना नेता नहीं मानते और उससे रंजिश रखते हैं। इसी वजह से आरोपियों ने उसे निशाना बनाते हुए उस पर गोली चलाई।
सिटी पुलिस के एसआई राजा राम ने बताया कि रात को गगनदीप ने उसके साथ हुए वाक्य की सूचना उन्हें दी थी। लेकिन अभी तक उसने लिखित में शिकायत नहीं दी है। शिकायत आने पर मामले की जांच की जाएगी। मामला साथ लगते पंजाब के गांव किलियांवाली में स्थित एक कॉलेज में विद्यार्थियों पर प्रधानगी को लेकर है।