युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

29 जुलाई 2010

हवलदार का बेटा साथियों सहित लूट में काबू

डबवाली (लहू की लौ) लूट के मकसद से करनाल शहर से मंगलवार को किराये पर ली इनोवा कार (एचआर 05 यू 910) पडा़ेसी प्रांत राजस्थान के हनुमानगढ़ में मिली है। चालक से लूटकर भागते हुए पकड़े गये चारों युवक एक अंतर्राज्यीय लूट व मादक तस्करी गिरोह के सदस्य हैं तथा पंजाब के बठिंडा जिले के निवासी हैं। इनमें से एक का पिता बठिंडा ट्रैफिक पुलिस में हवलदार है। चारों को राजस्थान पुलिस ने पूछताछ के लिए 30 जुलाई तक रिमांड पर लिया है।
हनुमानगढ़ जंक्शन थाना प्रभारी संजय बोथरा ने बताया कि पकड़े गए लुटेरों में शामिल मनदीपसिंह उर्फ गौरखा पुत्र हरपालसिंह निवासी पथराला (बठिंडा) पूर्व में लगभग सवा किलो अफीम के साथ पकड़ा गया था तथा इन दिनों जमानत पर था। उन्होंने बताया कि मनदीपसिंह सहित पकड़े गये तीन अन्य सदस्य हरपालसिंह पुत्र चंदसिंह निवासी नरवाना, बठिंडा, बगडू उर्फ बलकौरसिंह पुत्र दलीपसिंह जटसिख और लखवीरसिंह उर्फ लखविंद्र उर्फ बोहड़सिंह पुत्र गुरदेवसिंह जटसिख निवासी पथराला के आपराधिक रिकॉर्ड का पता लगाने के लिए पुलिस दल को बठिंडा भेजा गया है। चारों युवक 19 से 25 वर्ष की आयु के हैं इन द्वारा कई वारदातें किये जाने की जानकारियां पुलिस को मिली हैं।
 उन्होंने बताया कि हरपालसिंह का पिता चंदसिंह पंजाब पुलिस में हवलदार है और उसकी तैनाती बठिंडा ट्रैफिक पुलिस में है। इसके अलावा इनमें से एक के विरूद्ध तलवंडी साबो थाने में हत्या के प्रयास का मुकदमा दर्ज होने की जानकारी मिली है। बलकौर उर्फ बगडू को पिछले वर्ष संगरिया थाना क्षेत्र के गांव नगराना के एक बैंक में पड़ी डकैती के मामले में पूछताछ के लिए पकड़ा गया था। हालांकि बगडू इस डकैती में शामिल नहीं था लेकिन डकैती डालने वालों में से कइयों को वह जानता है।
थानाप्रभारी संजय बोथरा ने बताया कि कार लूट में पकड़े गए युवकों ने बताया कि उनके यार-दोस्तों के पास महंगी-महंगी गाडिय़ां हैं। वे भी ऐसी ही कोई गाड़ी रखना चाहते थे। इसके लिए काफी रूपये चाहिये थे पेसौ  का बंदोबस्त नहीं होने के कारण उन्होंने किराये पर गाड़ी लेकर चालक से लूट  की योजना बनाई। उन्होंने कार चालक को कहा कि वे खिलाड़ी हैं व हनुमानगढ़ में खेलने के लिए जाना है। पुलिस ने बताया कि युवक चालक को राजस्थान में फैंककर पुन: पंजाब जाना चाहते थे ताकि हरियाणा व राजस्थान पुलिस माजरा न समझ सके। इन्होंने बहाने से इनोवा को नवां गांव के करीब कार को  रूकवाया और चालक जयभगवान को चलती गाड़ी से सड़क पर फैंक दिया। इसी दौरान मोटरसाइकिल पर आ रहे दो युवकों ने यह हरकत देखी तो उन्होंने मोबाइल से हनुमानगढ़ पुलिस कंट्रोल रूम को फोन करते हुए पीछा किया। मानकसर गांव के पास इनोवा दो ट्रैक्टर ट्रॉलियों से टकराकर दुर्घटनाग्रस्त हो गई। इसमें सवार चारों जने खेतों की तरफ भागने लगे तो युवकों ने शोर मचाकर ग्रामीणों को एकत्रित किया तथा उनकी मदद से चारों को काबू कर लिया। बाद में वहां पहुंची पुलिस को यह चारों जने सौंप दिये। पुलिस ने बताया कि लूटने के बाद इनोवा को लखवीर उर्फ लखविंद्र चला रहा था। इन चारों के कोई चोट नहीं आई, लेकिन गाड़ी को काफी नुकसान पहुंचा। चालक जयभगवान के कुछ चोटें आई हैं। करनाल निवासी चालक जयभगवान पुत्र दारासिंह की शिकायत के आधार पर राजस्थान पुलिस ने इन चारों युवकों के विरूद्ध हत्या का प्रयास तथा लूट के आरोप में मुकदमा दर्ज कर लिया है।

संदिग्ध परिस्थितियों में सिपाही की मौत

सिरसा। अपराध अन्वेंषण शाखा में कार्यरत एक सिपाही की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। सिपाही का शव जुलाना के अंतर्गत गांव खैराती में बरामद हुआ।
मिली जानकारी के अनुसार अपराध अन्वेंषण शाखा सिरसा में रमेश कुमार नामक युवक बतौर सिपाही पद पर कार्यरत था।  विगत दो दिनों से रमेश कुमार फतहबाद में डयूटी पर गया हुआ था। सूत्रों के मुताबिक रमेश का शव आज जुलाना के अंतर्गत गांव खैराती में मिला। वहां मौजूद लोगों ने मामले की जानकारी पुलिस को दी। सूत्रों के अनुसार रमेश की जेब से एक सुसाइड नोट बरामद हुआ है। बताया जाता है कि इस सुसाइड नोट में रमेश ने सीआईए विभाग के उच्चाधिकारियों पर उसे परेशान करने का आरोप लगाया गया है। शव को सामान्य अस्पताल ले जाया गया। बताया जाता है कि रमेश ने कीटनाशी का सेवन किया, जिससे उसकी मौत हो गई। रमेश की मौत के मामले में जब अपराध अन्वेंषण शाख प्रभारी किशोरी लाल से बात की गई तो उन्होंने बताया कि रमेश की मौत का समाचार उन्हें मिला है। आगामी जांच के लिए विभाग के अधिकारी घटना स्थल पर पहुंच गए हैं। उनके आने के पश्चात ही मामले का पटाक्षेप होगा।  सूत्रों के अनुसार रमेश कुमार विगत एक वर्ष से अपराध अन्वेंषण शाखा  में कार्यरत था।

बैटन क्वीन मशाल 26 सितम्बर को हरियाणा पहुंचेगी, सुरक्षा चाक चौबंद

सिरसा। हरियाणा के गृह, उद्योग एवं खेल राज्यमंत्री  गोपाल कांडा ने कहा कि विभिन्न देशों से गुजर कर राष्ट्रमंडल खेलों की जलती हुई मशाल बैटन क्वींन 26 सितम्बर को हरियाणा में प्रवेश करेगी जिसका सिरसा के डबवाली में स्वागत किया जाएगा। सिरसा में मशाल के सदस्य रात्री विश्राम करेगें तथा शहीद भगत सिहं स्टेडियम में उनके सम्मान में सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित होगा। मशाल राजस्थान के हनुमानगढ़ जिला के संगरिया कस्बा से हरियाणा में प्रवेश करेगी। प्रदेश के खेल राज्य मंत्री गोपाल कांडा 29 सितम्बर को इस मशाल को दिल्ली सरकार को सौंपेगे। श्री कांडा आज सिरसा में लोगों की शिकायतें सुनने के बाद पत्रकारों से बात कर रहे थे।
उन्होंने कहा कि आगामी तीन अक्तूबर से दिल्ली में शुरु होने जा रहे राष्ट्रमंडल खेलों के लिए हरियाणा के खिलाड़ी बिल्कुल तैयार है और इन्हें पूरी तरह प्रशिक्षित किया गया है। उन्हें आशा है कि राष्ट्रमंडल खेलों में भारत की तरफ से जीतने वाले मैडलों में हरियाणा के खिलाडिय़ों के सर्वाधिक पदक होंगे। उन्होंने कहा कि राष्ट्रमंडल खेलों में हरियाणा के बीजेंद्र सिंह और साइना नेहवाल को ब्रांड एंबेसडर बनाया गया है। इन दोनों का संबंध चूंकि हरियाणा से है वे इन दोनों को खिलाडिय़ों को खेल विभाग की ओर से व प्रदेश की जनता की ओर बधाई देते है। उन्होंने कहा कि बीजेंद्र  तो हरियाणा के रहने वाले और साइना नेहवाल का भी लंबे समय तक हरियाणा से संबंध रहा है। उन्होंने कहा कि बीजेंद्र और साइना नेहवाला को ब्रांड एंबेसडर बनाने से प्रदेश के खिलाडिय़ों में और उत्साह होगा। उन्होंने कहा कि विदेशी मेहमानों की आवभगत करने के लिए हरियाणा पूरी तरह तैयार है और इसके लिए पर्यटन विभाग द्वारा आठ हजार के लगभग सैट तैयार किए गए है जहां विदेशी मेहमान रुक पाएंगे। उन्होंने बताया कि सुरक्षा की दृष्टि से भी हरियाणा पुलिस विभाग द्वारा पुख्ता प्रबंध किए गए है और जो भी उपकरण राज्य सरकार द्वारा केंद्र सरकार से मांगे गए थे वो सभी हरियाणा पुलिस को प्राप्त हो चुकेे है और इन उपकरणों के प्रयोग के लिए हरियाणा पुलिस के अधिकारियों व कर्मचारियों को प्रशिक्षित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हरियाणा के जो खिलाडी देश की तरफ से राष्ट्रमंडल खेलों में भाग लेंगे उन्हें भी प्रशिक्षण शिविरों में पूरी तरह प्रशिक्षित किया गया है।
खेल राज्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने प्रदेश में खेलों को बढ़ावा देने के लिए विशेष खेल नीति के तहत कई योजनाएं शुरु की है जिनमें ग्रामीण क्षेत्रों में खेल स्टेडियमों का निर्माण करवाना और प्रदेश में स्पैट टेलेंट हंट योजना का शुरु किया जाना शामिल है। उन्होंने बताया कि प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों  में 170 से भी अधिक खेल स्टेडियमों का निर्माण करवाया गया है। प्रत्येक स्टेडियम के निर्माण पर 50 से 70 लाख रुपए की राशि खर्च की गई है।

हथियारों समेत लुटेरा गिरोह के तीन सदस्य काबू

सिरसा। जिला पुलिस ने एक लूट व डकैती करने वाले गिरोह के तीन सदस्यों  को हथियारों समेत गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है। गिरफ्तार किए गए युवकों में राजकुमार उर्फ राजू पुत्र सतबीर सिंह निवासी अस्थलबोहर रोहतक, हरपाल सिंह उर्फ हैप्पी पुत्र लाभ ङ्क्षसह ढाणी हिसार रोड़ दिल्ली पुल सिरसा तथा सतीश उर्फ सत्तु पुत्र औमप्रकाश निवासी जोधकां के नाम शामिल है। पुलिस ने युवकों के कब्जे से तीन पिस्तौल, आठ जिंदा कारतूस भी बरामद किए है। आरोपियों के विरूद्ध भादंसं की धारा 398, 401 के तहत थाना शहर सिरसा में अभियोग दर्ज किया गया है।
इस संबध में जानकारी देते हुए पुलिस अधीक्षक सिरसा सतेंद्र कुमार गुप्ता ने बताया कि एंटी थेफ्ट स्टाफ का इंचार्ज उपनिरीक्षक औमप्रकाश पर आधारित पुलिस टीम शहर सिरसा क्षेत्र में रात्रि गश्त पर थी। उन्होने बताया कि इसी दौरान पुलिस पार्टी को किसी मुखबिर से सूचना मिली कि टी प्वाइंट खाजाखेड़ा रोड सिरसा क्षेत्र में कुछ हथियारों से लैस युवक आने जाने वाले राहगीरों को लूटने की वारदात को अंजाम देने की फिराक में है। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि इस सूचना को पाकर पुलिस टीम ने उक्त स्थान पर दबिश देकर सभी युवकों को हथियारों सहित काबू कर लिया।
इस गिरोह का सरगना 22 वर्षीय राजकुमार उर्फ राजू है, जो कि एमए पास है, इसने रोहतक में झज्जर चुंगी रोड पर एसी व कुलर की दुकान कर रखी है, तथा वहां अपने दो नौकरों को रखा हुआ है। खुद अपने साथियों के साथ मिलकर अपराधिक वारदातों को अंजाम देता है। राजू ने पुलिस पुछताछ में बताया है कि उसने अपने अन्य साथियों के साथ मिलकर वर्ष 2009 व 10 की अवधि के दौरान दिल्ली में चार लूट व डकैती की वारदातें कर लाखों रूपये लूटे है तथा पुलिस से बचने के लिए फिलहाल सिरसा क्षेत्र में रह रहा था तथा अपराधिक वारदात को अंजाम देने की फिराक में था।
गिरफ्तार किए गए दूसरे आरोपी हरपाल ङ्क्षसह गिरोह के सरगना राजू के साथ बारहबीं कक्षा तक पढा हुआ है। जबकि तीसरा आरोपी सतीश हरपाल का नजदीकी दोस्त है। पुछताछ के दौरान तीनों आरोपियों में से एक आरोपी सतीश उर्फ सत्तू ने बताया कि उसने अपने अन्य साथियों के साथ मिलकर 18 अगस्त 2009 को सिरसा क्षेत्र में लूटपाट की वारदात की और 2 लाख 10 हजार रूपये लूटे। इसके अलावा उसने यह भी बताया कि थाना सदर के गंाव सलारपुर में जानलेवा हमला करने की एक वारदात में भी शामिल था।
पुलिस अधीक्षक सतेंद्र कुमार गुप्ता ने बताया कि आरोपियों से पुछताछ के दौरान इस गिरोह के अन्य सदस्यों के बारे में व गिरोह द्वारा अंजाम दी गई अन्य अपराधिक वारदातों का खुलासा होने की संभावना से भी इंकार नही किया जा सकता। उन्होने बताया कि इस गिरोह का पर्दाफाश करने वाले सभी पुलिस कर्मियों को उचित ईनाम व प्रशंसा पत्र देकर सम्मानित भी किया जाएगा।