युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

17 नवंबर 2014

अस्पताल सरकारी, पैसा खा रहे प्राईवेट

एक शिशु देखने पर निजी चिकित्सक को दिये जा रहे 1000 रूपये, हर माह अस्पताल उठा रहा 60 हजार रूपये का खर्च
डबवाली (लहू की लौ) सिविल अस्पताल में नवजात शिशु की सुरक्षा के लिये कोई प्रबंध नहीं है। पिछले डेढ़ वर्ष से बाल रोग विशेषज्ञ का पद रिक्त होने के कारण स्वास्थ्य विभाग निजी चिकित्सकों पर पैसा लुटा रहा है। एक बच्चे के जन्म के बाद सिविल अस्पताल में पहुंचने पर निजी चिकित्सक एक हजार रूपये वसूल करता है। यह कीमत बच्चे के चैकअप तक सीमित है। अगर नवजात शिशु को वह अपने निजी अस्पताल में एडमिट करता है, तो परिजनों की जेब ढीली होनी शुरू हो जाती है।
सिविल अस्पताल में हर माह करीब सौ से सवा सौ डिलीवरी होती हैं। प्रतिदिन डिलीवरी की एवरेज 4 की बैठती है। लेकिन डिलीवरी के बाद बच्चे को होने वाली बीमारियों से बचाव के लिये कोई प्रबंध नहीं है। डेढ़ वर्ष पूर्व सिविल अस्पताल के बाल रोग विशेषज्ञ ने नौकरी छोड़कर प्राईवेट प्रेक्टिस शुरू कर दी थी। लेकिन स्वास्थ्य विभाग ने उनकी जगह बाल रोग विशेषज्ञ नियुक्त नहीं किया। तत्कालीन सरकार ने डबवाली के सरकारी अस्पताल में डिलीवरी की अच्छी एवरेज को देखते हुये वार्मर, फोटो थेरेपी जैसा सामान उपलब्ध करवाया था। जिनके प्रयोग से जन्म के बाद शिशुओं को होने वाली विभिन्न तरह की बीमारियों से बचाया जा सके। लेकिन बाल रोग विशेषज्ञ के लिये जरूरी साजो सामान अस्पताल के स्टोर रूम में पड़ा धूल फांक रहा है।
तीन निजी चिकित्सकों से है गठबंधन
सिविल अस्पताल ने शहर के तीन निजी चिकित्सकों से गठजोड़ कर रखा है। डिलीवरी होने के बाद करीब पचास फीसदी मामलों में तीनों चिकित्सकों में से किसी एक को सिविल अस्पताल में बुलाया जाता है। निजी चिकित्सक बच्चे की जांच करते हैं। इसकी एवज में सरकार चिकित्सक को एक हजार रूपये देती है। अगर बच्चा गंभीर हो और सिविल अस्पताल में इलाज संभव न हो तो निजी चिकित्सक उसे अपने अस्पताल में लेजाते हैं। जिसका खर्च सरकार नहीं, बच्चे के परिजनों को भुगतना पड़ता है। जिसका सरकारी स्तर पर कोई कंट्रोल नहीं होता।
आशा वर्कर का बच्चा अभी भी निजी अस्पताल में
बाल रोग विशेषज्ञ न होने के कारण शनिवार को गांव सुकेराखेड़ा की आशा वर्कर के एंबुलैंस में जन्में बच्चे को समय पर चिकित्सीय सुविधा न मिलने के कारण इंफेक्शन का शिकार होना पड़ा था। रविवार को भी बच्चा निजी अस्पताल में उपचार पर रहा। निजी अस्पताल के चिकित्सक का कहना है कि बच्चे की स्थिति में सुधार आ रहा है।
एक ऑप्शन यह भी
निजी चिकित्सक के कहने पर अगर परिजन अपने बच्चे को निजी अस्पताल में नहीं लेजाना चाहते तो सिविल अस्पताल से बच्चे को 60 किलोमीटर दूर सिरसा के सामान्य अस्पताल में बने नीकू (न्यू बोर्न केयर यूनिट) के लिये रैफर कर दिया जाता है।
यह बोले एसएमओ
बाल रोग विशेषज्ञ न होने से नवजात की सही संभाल के लिये निजी चिकित्सक को बुलाना पड़ता है। करीब 50 फीसदी मामलों में निजी चिकित्सक सिविल अस्पताल में आते हैं। एक बच्चे के पीछे चिकित्सक को एक हजार रूपये दिये जाते हैं। जिसे स्वास्थ्य विभाग चुकाता है। बाल रोग विशेषज्ञ की मांग हर माह रिपोर्ट भेजकर की जाती है।
-एमके भादू, एसएमओ, सिविल अस्पताल, डबवाली

45 दिन में साढ़े छह करोड़, कैसे लायेगा बिजली बोर्ड

सिरसा सर्कल गोद लेने के बाद पहली बार डबवाली पहुंचे एमडी
डबवाली (लहू की लौ) दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम हिसार के प्रबंध निदेशक ने सिरसा सर्कल को गोद लिया है। जिसके बाद रविवार को पहली बार वे गांव डबवाली स्थित 132केवी सबस्टेशन में पहुंचे। मंडल डबवाली के तहत आने वाले सभी उपमंडल के एसडीई तथा जेई के साथ बैठक करके बिल रिकवरी करने के आदेश दिये। 31 दिसंबर तक की डेड लाईन जारी की।
रविवार सुबह दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम के प्रबंध निदेशक अरूण कुमार वर्मा डबवाली पहुंचे। उनके साथ वीके चौधरी, डीएल हांसु तथा एसडीई आरके वर्मा भी थे। वे शाम तक डबवाली में ही रहे। इस दौरान एमडी ने 132 केवी बिजलीघर का निरीक्षण किया। वे स्टोर रूम में भी गये। डबवाली मंडल के तहत आने वाले कालांवाली, चौटाला तथा डबवाली उपमंडल के अधिकारियों के साथ बैठक की। बैठक में एमडी ने बिजली चोरी रोकने तथा बिल रिकवरी करने पर जोर दिया। उन्होंने बिजली चोरी पकड़े जाने पर तुरंत एफआईआर करवाने के आदेश दिये। साथ में बिल न भरने वाले उपभोक्ताओं के मीटर उखाडऩे के लिये कहा।
15 दिसंबर को करेंगे रिव्यू
एमडी ने कर्मचारियों को अपने व्यवहार में परिवर्तन लाने के लिये कहा। उन्होंने स्पष्ट किया कि अगर कोई कर्मचारी या अधिकारी जायज कार्य के लिये जनता को परेशान करेगा तो उसे सबक सिखाया जायेगा। उन्होंने 15 दिसंबर को बैठक करके रिव्यू लेने के लिये कहा। साथ में मंडल डबवाली से संबंधित रिकवरी 31 दिसंबर तक करने के लिये डेड लाईन घोषित की। बैठक में मंडल अभियंता अशोक भनोट, एसडीई सुखबीर कंबोज, एसडीई मोहन लाल, एसडीई बीआर वर्मा उपस्थित सहित मंडल डबवाली से संबंधित सभी 11 जेई उपस्थित थे।
45 दिन में साढ़े छह करोड़ का टारगेट
मंडल अभियंता अशोक भनोट ने बताया कि डबवाली मंडल की साढ़े छह करोड़ रूपये की रिकवरी बकाया है। जिसे 31 दिसंबर तक हर हाल में जीरो करने का प्रयास किया जायेगा। एमडी ने डिफाल्टरों के मीटर उखाडऩे के लिये कहा है। बिजली चोरी वाले इलाकों में इंसूलेटर कंडक्टर लगाये जाएंगे। ताकि चोरी रोकी जा सके। एमडी अरूण कुमार वर्मा ने स्पष्ट किया है कि कार्य में कोताही बर्दाश्त नहीं होगी, संबंधित कर्मचारी को दंड दिया जायेगा।
एमडी ने याद ताजा की
बिजली निगम के कर्मचारियों के साथ बैठक में एमडी अरूण कुमार वर्मा ने अपनी पुरानी यादें ताजा करते हुये कहा कि उनके पिता डबवाली में एसडीई रह चुके हैं। उन्होंने डबवाली के सरकारी स्कूल में पढ़ाई की है। डबवाली से उनका पुराना नाता है। इसलिये सिरसा सर्कल को गोद लेने के बाद वे सर्वप्रथम डबवाली में ही पहुंचे हैं।

वार्ड बंदी के बाद बढ़ी राजनीतिक गतिविधियां

डबवाली (लहू की लौ) वार्ड बंदी के बाद राजनीतिक दलों की गतिविधियां बढ़ गई हैं। बेशक चुनाव वर्ष 2015 में होना प्रस्तावित है। लेकिन इनेलो, कांग्रेस अभी से सक्रिय हो गई है। दोनों पार्टियों के साथ-साथ इस बार भाजपा भी उत्साह के साथ मैदान में उतरने जा रही है। तीनों राजनीतिक दलों ने योग्य उम्मीदवार के लिये कार्यकर्ताओं की नब्ज टटोलनी शुरू कर दी है।
शहर में कांग्रेस ने दर्ज की थी जीत
इस वर्ष हुये विधानसभा चुनाव में डेरा प्रेमियों के भरपूर समर्थन के दम पर भाजपा को 9057 मत मिले थे। इसके बावजूद कांग्रेस को 10057 मत मिले थे। 4710 मत लेकर इनेलो तीसरे नंबर पर रही। नगर परिषद चुनाव से पूर्व विधानसभा चुनाव में शहर से सामने आये आंकड़ों को तीनों राजनीतिक दल साथ लेकर चल रहे हैं। पिछले दिनों कांग्रेस नेता डॉ. केवी सिंह ने कार्यकर्ताओं की बैठक लेकर उन्हें आगामी नगर परिषद चुनाव के लिये तैयार रहने के निर्देश दिये थे। वहीं इनेलो तथा भाजपा ने गुपचुप तरीके से तैयारी शुरू कर रखी है। केंद्र तथा प्रदेश में सरकार बनने के बाद भाजपा खेमा नगर परिषद चुनावों का उत्सुकता से इंतजार कर रहा है। चेहरों की पहचान की जा रही है।
पहली बार होने हैं नगर परिषद चुनाव
कुछ समय पहले नगर निकाय विभाग ने डबवाली नगरपालिका को नगर परिषद का दर्जा दिया था। जिसके बाद वर्ष 2015 में पहली बार नगर परिषद के लिये चुनाव होगा। हालांकि विभाग ने नोटिफिकेशन करके नगर परिषद चेयरमैन का पद एससी के लिये रिजर्व किया है।
शहर की कुल आबादी 50390 : नगर परिषद चुनाव से पूर्व पार्टियां जातिगत समीकरणों का भी ख्याल कर रही हैं। चूंकि कई ऐसे वार्ड हैं, यहां एससी, बीसी के साथ-साथ सामान्य श्रेणी की आबादी एक जैसी नजर आ रही है। शहर की कुल आबादी 50390 में से 49.89 प्रतिशत सामान्य, 33.68 प्रतिशत एससी तथा 16.43 प्रतिशत बीसी श्रेणी की आबादी है।

यूनियन ने गुरूद्वारा को दिया वाटर कूलर

डबवाली (लहू की लौ) इलेक्ट्रीकल्ज इंजीनियरिंग यूनियन के संस्थापक सुरेन्द्र खरब तथा प्रधान जगतार सिंह ने बताया कि इलेक्ट्रीशियन मनजीत सिंह जोगेवाला की मौत पर दु:ख व्यक्त किया और यूनियन की ओर से गांव के गुरूद्वारा में 60 लीटर का वाटर कूलर स्थापित करवाया गया। उन्होंने बताया कि इससे पूर्व यूनियन ने भोला सिंह हैबुआना की मौत पर उनके परिजनों को एक लाख रूपये की आर्थिक सहायता दी थी।

कैंटर की टक्कर से चालक की मौत

डबवाली (लहू की लौ) बठिंडा रोड़ पर गांव डूमवाली-पथराला के नजदीक हुये सड़क हादसे में पंजाब रोड़वेज के एक चालक की मौत हो गई। गांव पक्का कलां निवासी गुरदीप सिंह शनिवार रात को बाईक पर अपने गांव की ओर जा रहा था। मार्ग में एक कैंटर ने उसमें टक्कर मार दी। उपचार के लिये उसे डबवाली के सरकारी अस्पताल में लेजाया गया। प्राथमिक उपचार के बाद उसे बठिंडा लेजाया गया। वहां चिकित्सक ने उसे मृत घोषित कर दिया।

हैप्पीनेस कार्यक्रम का समापन

डबवाली (लहू की लौ) आर्ट ऑफ लिविंग के हैप्पीनेस प्रोग्राम का रविवार को बीएड कॉलेज में नाचते गाते हुए समापन हो गया। कार्यक्रम के समापन पर योग शिक्षक डॉ. प्रेम छाबड़ा ने कहा कि कर्म योग वह जो कर्म हंसते हुए और खुशी की अभिव्यक्ति बने। जब यह लगने लगे कि दूसरा कोई नहीं है, सभी अपने ही हैं तो हमारा जीवन प्रेम आनन्द और शांति से भर जाता है। इस मौके पर कॉलेज प्रबंधक समिति के अध्यक्ष सुभाष गुप्ता, डॉ. पीके अग्रवाल, राजगर्ग, प्रिंसीपल डॉ. पूनम गुप्ता भी उपस्थित थे।

शाखा लगा रहे स्वंयसेवकों पर चली थीं अंधाधुंध गोलियां

24 साल पहले मंडी किलियांवाली स्थित जलघर में आरएसएस की शाखा पर आतंकवादी हमला हुआ था। आतंकवादियों ने ताबड़तोड़ गोलियां बरसाकर आरएसएस के 11 स्वयंसेवकों को मौत के घाट उतार दिया था। जबकि 12 स्वयंसेवक गंभीर रूप से जख्मी हुये थे। मृतकों की याद में जलघर में स्मारक बना हुआ है। हर वर्ष आरएसएस स्वयंसेवक स्मारक पर इक्ट्ठे होकर शाखा लगाते हैं। हमले में बिछुड़े स्वयंसेवकों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं।
17 नवम्बर 1990 को हर रोज की तरह सुबह 6 बजे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के स्वयंसेवक मंडी किलियांवाली स्थित जलघर में लगने वाली शाखा में एकत्रित हुए थे। नगर कार्यवाहक के रूप में जगदीश अंगी 27 स्वयंसेवकों को प्रशिक्षण दे रहे थे। करीब 6.30 बजे गए स्वंयसेवक शक्ति परीक्षण के लिये तैयार थे। 13-13 स्वयंसेवकों की टुकड़ी में बंटकर आमने-सामने खड़े थे। इस दौरान एक व्यक्ति वहां आया। जिसने अपने मुंह को छुपा रखा था। कंबल में छुपाये असले से अंधाधुंध गोलियां बरसानी शुरू कर दी। स्वयंसेवक संभलते इससे पूर्व ही गोलियों ने कई स्वयंसेवकों का सीना छलनी कर दिया। एक स्वयंसेवक ने गोलियों की परवाह न करते हुए आतंकवादी को पकड़ लिया। स्वंयसेवक का सीना छलनी करने के बाद वह भाग निकला। 11 स्वयंसेवक मौका पर ही काल का ग्रास बन गए। जबकि 12 स्वयंसेवक गोली लगने से घायल हुए। कुछ ने भागकर अपनी जान बचाई। आतंकवादियों की संख्या 4 थी। पूरे घटनाक्रम को योजनाबद्ध तरीके से अंजाम दिया गया था। चूंकि शाखा पर हमला करने वाले आतंकवादी का एक साथी जलघर के गेट पर खड़ा हुआ था। जबकि दो साथी जीप पर सवार होकर खड़े थे। गोलियों की आवाज सुनकर जलघर क्षेत्र के लोग बाहर आये। घायल स्वयंसेवकों को अस्पताल पहुंचाया।एसके दुआ का कहना है कि 1990 को आरएसएस शाखा पर हुए आतंकवादी हमले के बाद भी संघ ने शांति बनाए रखी। समाज विरोधी ताकतों को मुंह तोड़ जवाब मिला।
आज दी जायेगी श्रद्धांजलि
सह जिला संघ चालक एसके दुआ ने बताया कि सोमवार को आरएसएस कार्यकर्ता मंडी किलियांवाली स्थित जलघर में इक्ट्ठा होंगे। शाखा लगेगी। जिसमें 24 बरस पूर्व बिछुड़े कार्यकर्ताओं को श्रद्धांजलि दी जायेगी।
ये बने थे काल का ग्रास : केवल कृष्ण पुत्र मेघराज मित्तल, सुरेन्द्र पुत्र सोहन लाल सिंगला, महेन्द्र पुत्र हरबंस लाल सिंगला, रामलाल पुत्र जगन्नाथ सिंगला, जीवन कुमार पुत्र रामलाल सिंगला, रवि पुत्र रामलाल सिंगला, जितेन्द्र कुमार पुत्र वेदप्रकाश जिन्दल, जगदीश पुत्र श्री राम खण्डवाल, दीवान चन्द पुत्र अजायब चन्द बांसल, रविन्द्र कुमार पुत्र फिरंगी लाल, भूषण कुमार पुत्र हंसराज
हमले में घायल हुए स्वयंसेवक : फिरंगी लाल पुत्र देसराज सिंगला, राम गोपाल पुत्र केवल कृष्ण, रामपाल पुत्र चिमन लाल सिंगला, दीपक पुत्र चिमन लाल सिंगला, मुकेश पुत्र लभू राम ओबराय, दीपक कुमार पुत्र सूरजभान सिंगला, कमल कुमार पुत्र सागर मल लड्ढा, ओमप्रकाश पुत्र श्री राम जीदगर, जगदीश राय पुत्र धन्नु राम अंगी, दलजीत सिंह पुत्र तरसेम खुरमी, रमेश कुमार पुत्र बाबू राम सिंगला, संजीव कुमार पुत्र मदन लाल ओबराय

360 ने करवाया चैकअप

डबवाली (लहू की लौ) श्री अरोड़वंश पब्लिक चेरीटेबल ट्रस्ट मंडी डबवाली तथा सिरसा ईएनटी हॉस्पीटल एण्ड लेजर सर्जरी सेन्टर के संयुक्त तत्वावधान में रविवार को अरोड़वंश आदर्श हाई स्कूल में आयोजित कान, नाक व गले के नि:शुल्क परामर्श शिविर में 360 मरीजों ने चैकअप करवाया। जिसमें ईएनटी सर्जन डॉ. महिन्द्र उपाध्याय ने अपनी सेवाएं दीं और जरूरतमंदों को नि:शुल्क दवाइयां दी गईं। यह जानकारी देते हुए कैम्प प्रभारी भाल सिंह सहारण और अनिल फगोडिय़ा ने बताया कि इस मौके पर प्रेम सेठी, ओमप्रकाश सचदेवा,सुभाष अरोड़ा, देसराज सेठी, राकेश सचदेवा, विजय सेठी, रणजीत सेठी, रजनीश मोंगा, बख्तावर मल दर्दी, रविकांत मोंगा, शाम सिंह सेठी उपस्थित थे।

गंदगी फेंकने पर बजी तालियां, पहना हार, आई समझ में बात

माई ड्रीम सिटी के लिये डबवाली में निकाली रैली
डबवाली (लहू की लौ) स्वच्छता का संदेश लिये पंजाब, हरियाणा के सीमावर्ती इलाके में स्थित तीन निजी स्कूल रविवार को रामलीला मैदान में इक्ट्ठे हुये। बच्चों ने नुक्कड़ नाटक के जरिये गंदगी फैलाने वालों पर कटाक्ष किया। वहीं स्टॉफ सदस्यों ने शहर के समाजसेवियों के साथ मिलकर दिल से स्वच्छता की शपथ दिलाई। इस दौरान स्कूलों ने समारोह में शामिल हुये लोगों तथा राहगीरों को कैरी बैग तथा डस्टबिन बांटकर स्वच्छता अपनाने के लिये प्रेरित किया।
सुबह करीब 9 बजे हिंदुस्तान मित्तल एनर्जी लिमिटेड की टाऊनशिप में चल रहे द मिलेनियम स्कूल की अगुवाई में सिरसा स्कूल, सिरसा तथा राजेंद्रा पब्लिक स्कूल, पंजुआना का स्टॉफ तथा बच्चे रामलीला मैदान में पहुंचे। मिलेनियम स्कूल के बच्चों ने नुक्कड़ नाटक के जरिये गंदगी फैलाने वालों पर कटाक्ष किया। नाटक में दिखाया गया कि कुछ बच्चे स्वच्छता जागरूकता के लिये एक मौहल्ले में निकले हैं। बच्चों के सामने एक व्यक्ति सरेआम गंदगी फेंक रहा है। जिसे देखकर बच्चे खुश हो गये। बच्चों ने ताली पीटकर गंदगी फेंकने वाले व्यक्ति का सम्मान किया। उसे हार पहनाया। जब सम्मान पाने वाले व्यक्ति ने बच्चों से इसका कारण जाना तो उसे शर्मिंदगी हुई। नाटक के जरिये बच्चों ने पान मसाला खाकर जगह-जगह थूकने वालों पर भी कटाक्ष किया। आधे घंटे के नाटक में बच्चों ने मैदान में एकत्रित लोगों तथा समाजसेवियों का दिल जीत लिया।
द मिलेनियम स्कूल की नन्हीं बच्ची नेहर त्रिपाठी ने स्वच्छ भारत, स्वच्छ संसार बनाना है गीत सुनाकर खूब तालियां बटोरी। विद्यालय के कोर्डिनेटर तरूण शर्मा ने तीनों विद्यालयों के बच्चों, स्टॉफ सदस्यों तथा समाजसेवियों को दिल पर हाथ रखकर स्वच्छता की शपथ दिलाई। स्वच्छता के प्रति सचेत करने के लिये मैदान के भीतर तथा बाहर दोनों जगहों पर शहरवासियों को कैरी बैग तथा डस्टबिन बांटे गये। बाद में बच्चों ने ग्रीन सिटी, क्लीन सिटी, माई ड्रीम सिटी के नारे लगाते हुये शहर में रैली निकालकर लोगों को स्वच्छता के प्रति जागरूक किया। इस अवसर पर द मिलेनियम स्कूल की प्रिंसीपल अंजू नागपाल, सिरसा स्कूल की प्रिंसीपल ज्योति कक्कड़, द मिलेनियम स्कूल बठिंडा की प्रिंसीपल अंजू रानी, राजेंद्रा पब्लिक स्कूल पंजुआना के प्राचार्य धवन कुमार, समाजसेवी रामलाल बागड़ी, मुंकद लाल सेठी, सतीश जग्गा, सुमति जैन, देवकुमार शर्मा, स्टेशन अधीक्षक महेश सरीन, नगरपालिका की पूर्व अध्यक्षा सिंपा जैन, मनीष जैन उपस्थित थे। मंच का संचालन मनमीत त्रिपाठी तथा गुरमीत सिंह ने बखूबी निभाया।

एनपीएस के बच्चों ने दिखाया टेलेंट



डबवाली (लहू की लौ) नवप्रगति सीनियर सैकेंडरी स्कूल में चल रहे बाल मेले के अंतिम चरण में कविता, गीत गायन, नाटक, रंगोली, मेहंदी, टेबल टेनिस, खो-खो, क्रिकेट व बेडमिन्टन मुकाबले हुए। बच्चों में निहित प्रतिभा को निखारने, उन्हें प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से इस टेलेंट हंट का आयोजन एनपीएस स्टार महक कल्चरल विंग द्वारा किया गया। कार्यक्रम में बच्चों की खुशी देखते ही बनती थी।
प्रस्तुतियों से व्यवस्था पर कटाक्ष
इस अवसर पर पीएनबी के वरिष्ठ प्रबंधक परमजीत कोचर मुख्यातिथि के रूप में उपस्थित हुए। उन्होंने कहा कि आज बचपन बोझिल शिक्षा, हाई कंपीटिशन व आधुनिकता की भेंट चढ़ रहा है। इसे सुरक्षित व तनाव रहित रखना हम सबका प्रथम कर्तव्य होना चाहिए। कविता प्रतियोगिता में बच्चों ने कन्या भ्रूण हत्या, नारी का दर्द व बाल मजदूरी जैसे विषयों को छूकर सभी को सोचने पर मजबूर कर दिया। नैन्सी ने कन्या भ्रूण हत्या कर मुस्कान कहां से लाओगे राखी के दिन राखी बांधने को बहन कहां से लाओगे सुनाकर सबको भावविभोर कर दिया। हरवीर की कविता नी झलिए तूं तां इक औरत हैं ने भी सबकी आंखें नम की। सिमरन कौर ने कपड़े धोना, कपड़े सीना, खाना बनाना और साथ में सीखा है मैने बंदूक चलाना सुनाकर नारी की व्यथा समझाने का प्रयास किया। अमनदीप कौर ने मां दा दूध जहर हो गया कविता सुनाकर कीटनाशकों के बढ़ते प्रयोग को रोकने का आह्वान किया। हिंदी प्रवक्ता साक्षी कालड़ा व प्रिंसीपल बलजिंद्र कौर ने निर्णायक की भूमिका निभाई। मंच संचालन अध्यापिका मनदीप कौर ने किया। वरिष्ठ वर्ग के क्रिकेट मैच में सुमित भारती व कनिष्ठ वर्ग में सुरेश कुमार अम्पायर बने। डीपीई अमृतपाल कौर ने खो-खो, बैडमिंटन व टेबल टेनिस आदि गेम्ज करवाए। अंत में प्रिंसीपल चंद्रकाता भारती ने सहयोग करने वाले सभी लोगों का धन्यवाद किया। 
परिणाम पर एक नजर
मेहंदी प्रतियोगिता में लवली लिली ग्रुप में मनवीर कौर प्रथम, रजनीश द्वितीय व सविता तथा जिया तृतीय रही। स्वीट डेलिया ग्रुप में जसप्रीत कौर ने पहला, गुरप्रीत कौर ने दूसरा व गरिमा तथा नवीन ने तीसरा स्थान पाया। रंगोली प्रतियोगिता में लवली लिली ग्रुप में कार्तिक व अर्पित की टीम प्रथम, पीतेंद्रपाल, अक्षत व राजप्रीत द्वितीय तथा गुरप्रीत कौर व रीना की टीम तृतीय रही। स्वीट डेलिया ग्रुप में दीप्ति व नेहा पहले, ममता व शिवानी दूसरे तथा पपिंद्र व रविंद्र दूसरे, सिमरन व सोनाली तीसरे स्थान पर रहीं। क्रिकेट के जूनियर वर्ग में तरूण इलेवन व सीनियर वर्ग में सीनियर सैकेंडरी इलैवन विजेता रही। कुलदीप सिंह मैन ऑफ दी मैच रहे। खो-खो में पिंकी की टीम ने पहला व नेहा की टीम ने दूसरा स्थान पाया। बैडमिंटन में नेहा प्रथम, जसप्रीत द्वितीय व परमीत कौर तृतीय रही। टेबल टेनिस में अनिकेत विजेता व जश्र उपविजेता रहे। कविता प्रतियोगिता के पहले वर्ग में हरमन सिंह व अनंत कालड़ा प्रथम, वरनीत कौर द्वितीय, महक तृतीय व सतवीर को सांत्वना पुरस्कार मिला। द्वितीय वर्ग में खुशवीन कौर, हरपिंद्र कौर, सिमरन कौर व सुमेघा ने पहले चार स्थानों पर कब्जा किया। तृतीय वर्ग में हरवीर कौर, ममता, जोतवीर कौर, दीप्ति ने क्रमश: पहला, दूसरा, तीसरा व चौथा स्थान प्राप्त किया। सिमरन, रचना, गरिमा, श्रुति, अमीषा, हर्ष, मोनिका, शिवंागी, सुमेघा, खुशी, प्रभजीत, जसमीन व लवप्रीत कौर को अलग-अलग इवेंटस में पुरस्कार मिले। मुख्यातिथि परमजीत कोचर ने सभी विजेताओं को पुरस्कार देकर सम्मानित किया। समर कैंप के दौरान आर्ट एंड क्राफ्ट एवं विज्ञान प्रदर्शनी मं विजेता रहे बच्चों को पुरस्कार दिए गए।

क्लब की वर्षगांठ पर समाजसेवी तनेजा सम्मानित

डबवाली (लहू की लौ) गांव अहमदपुर दारेवाला के डॉॅ. भीमराव अंबेडकर स्पोट्र्स क्लब के सदस्यों ने रविवार को क्लब का 19वां स्थापना दिवस मनाया। अनुसूचित जाति चौपाल में स्थित क्लब के कार्यालय में समारोह का आयोजन किया गया। 
निस्वार्थ भाव से करनी चाहिये सेवा-तनेजा
जिसमें समाजसेवी मास्टर जीवनदास तनेजा ने बतौर मुख्यातिथि के तौर पर शिरकत की। जबकि अध्यक्षता क्लब के पूर्व प्रधान रामकुमार जोगपाल व ओमप्रकाश टेलर ने की। समारोह में क्लब के पहले प्रधान सुधीर कुमार तथा वरिष्ठ सदस्यों ने अपने-अपने अनुभव सांझे किये। क्लब के शानदार 18 वर्ष पूरे होने पर बधाई दी। मास्टर जीवन दास तनेजा गोदिकां ने अपने संबोधन में कहा कि जो खुशी समाजसेवा करने में मिल सकती है, वो किसी और काम में नहीं। इसलिए इंसान को स्वार्थ भाव से नहीं बल्कि निस्वार्थ भाव से सेवा करनी चाहिए। क्लब प्रधान गुरविंद्र सिंह पन्नू ने कहा कि युवा अपनी ऊर्जा को एकता के साथ सही दिशा में प्रयोग करे ताकि गांव का नाम रोशन हो। उन्होंने कहा कक्षा, परीक्षा, प्रतियोगिताओं की पढ़ाई क्लब के पुस्तकालय में कर सकते है।
इन्होंने भी रखे विचार
इस अवसर पर क्लब सचिव रामचंद्र नोखवाल, उपप्रधान चरणजीत, कैशियर जगदीप घायल, प्रचार सचिव सुनील कुमार ने भी अपने विचार रखे। इस अवसर पर वरिष्ठ सदस्य रिछपाल रोलन, सुरजीत रंगा, सुरेश टेलर, मास्टर ओमप्रकाश, अर्जुन दास तनेजा, सुरेन्द्र चारण, संदीप, राजपाल चौहान, संदीप सहोत्रा, मांगेराम मौजूद थे।

17 Nov. 2014