युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

08 दिसंबर 2010

सिरसा में सिंचाई विस्तारीकरण परियोजनाओं पर 160 करोड़ रुपए खर्च

सिरसा। सिरसा जिला में सिंचाई सुविधा के विस्तारीकरण पर गत पांच वर्ष के कार्यकाल में 23 परियोजनाओं पर 160 करोड़ रुपए से भी अधिक की राशि खर्च की गई है। यह जानकारी उपायुक्त  सी.जी रजिनीकांथन ने बताया कि ओटू झील की क्षमता बढ़ाने पर 69 करोड़ रुपए की राशि खर्च की गई है। इसके साथ-साथ कुस्सर माईनर के विस्तार पर 1 करोड़ 92 लाख 72 हजार रुपए, सदैवा डिस्ट्रीब्यूटरी के साथ समानान्तर चैनल के निर्माण पर 12 करोड़ 20 लाख 25 हजार रुपए की राशि खर्च की गई है।
उन्होंने बताया कि बागसर माईनर के निर्माण पर 109 लाख 63 हजार रुपए, कसाबा माईनर के निर्माण पर 86 लाख 65 हजार रुपए, राजस्थान फीडर से निकलने वाली निमला लिंग चैनल पर 63 लाख 41 हजार रुपए, मंगला डायरैक्ट माइनर के विस्तार पर 13 करोड़ 47 लाख 34 हजार रुपए, रबी सीजन के लिए पक्की दक्षिणी घग्घर कैनाल और खरीफ सीजन के लिए समानान्तर कच्चे चैनल के निर्माण पर 9 करोड़ 66 हजार रुपए की राशि खर्च की गई है।
श्री कांथन ने बताया कि पोहड़का माईनर व पोहड़का सब-माईनर के निर्माण पर 2 करोड़ 9 लाख 72 हजार रुपए खर्च किए गए है। इसी तरह से घग्घर बरुवाली लिंक चैनल के निर्माण पर 6 करोड़ 15 लाख रुपए खर्च किए गए है। उन्होंने बताया कि कालुआना लिंक चैनल की रीमाडलिंग तथा चौटाला डिस्ट्रीब्यूटरी की क्षमता बढ़ाने पर भी 1 करोड़ 65 लाख रुपए की राशि खर्च की जा चुकी है। इसी प्रकार से नई कुम्थल माइनर के निर्माण पर 70 लाख 82 हजार रुपए, कंवरपुरा माइनर के निर्माण पर 51 लाख 29 हजार रुपए, कुटियाना डिस्ट्रीब्यूटरी की क्षमता बढ़ाने पर 138 लाख 93 लाख हजार रुपए खर्च किए गए है। उन्होंने बताया कि हिसार घग्घर ड्रेन तथा रंगोई खरीफ चैनल की खुदाई पर 457 लाख 69 हजार और खालों के रखरखाव और मरम्मत पर 29 लाख 98 हजार 23 हजार पर खर्च किए गए है।

गैस कालाबाजारी पर विभाग हुआ सख्त

सिरसा। सर्दियों में गैस की किल्लत से निपटने के लिए प्रशासन ने कमर कस ली है। खाद्य एवं आपूर्ति विभाग ने जिला की सभी गैस एजेंसियों को घरेलू गैस की पर्याप्त सप्लाई सुनिश्चित करने के कड़े निर्देश जारी किए हैं। इन निर्देशों का जिन एजेंसी संचालकों ने दृढ़ता से पालन नहीं किया, उसके खिलाफ विभाग द्वारा कड़ी कार्रवाई की जाएगी। जिला खाद्य एवं आपूर्ति नियंत्रक धर्मवीर गोयत ने जिला की सभी गैस एजेंसियों को लिखे निर्देश पत्र में कहा कि एजेंसी पर रेट व स्टॉक बोर्ड लगा हुआ होना चाहिए। एजेंसी पर गैस बुकिंग के क्रमांक नम्बर की सूचि सूचना बोर्ड पर लगी हुई हो जिसमें प्रतिदिन बुकिंग की सप्लाई दर्शाई गई हो। नया गैस कनैक्शन लेते समय उपभोक्ता को चूल्हा देना अनिवार्य नहीं। डीएफएससी इन निर्देशों में कहा कि सूचना बोर्ड पर नए गैस कनैक्शन के रेट, जिसमें सिलेंडर की प्रतिभूति, रेगुलेटर प्रतिभूति, गैस पाइप का रेट, सर्विस चार्जेज व कम्पनी से सम्बंधित अन्य खर्चे उल्लेखित किए जाएं। कार्यदिवस पर दूरभाष पर गैस बुकिंग की सुविधा प्रदान की जाए तथा दूरभाष के अलावा सूचना बोर्ड पर गैस बुकिंग के लिए भी एक मोबाइल नम्बर भी दर्शाया जाए और इस कार्य के लिए किसी व्यक्ति की ड्यूटी लगाई जाए। निर्देशों में लिखा गया है कि एजेंसी संचालक प्रतिदिन कम्पनी से आए गैस सिलेंडर व उपभोक्ता को किस क्रमांक नम्बर से किस क्रमांक नम्बर तक गैस उपलब्ध करवाई गई, उसकी सूचना रोजाना दूरभाष व लिखित में विभाग को उपलब्ध करवाई जाए। नए गैस कनैक्शन/रिफिल जारी करते समय उपभोक्ताओं को अन्य खाद्या सामग्री लेने के लिए बाध्य न किया जाए। खाद्य एवं आपूर्ति विभाग ने इन निर्देशों की प्रति डीसी, एसडीएम के अलावा रानियां, डबवाली, कालांवाली के सहायक खाद्य एवं आपूर्ति अधिकारियों को भी भेजी गई है। एजेंसी संचालकों को इन निर्देशों के पालन में कोताही बरतने पर कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दी गई है।

पीडि़त के परिजनों ने आरंभ की भूख हड़ताल

सिरसा। अरनियांवाली कांड में आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर गत पांच दिनों से पुलिस अधीक्षक कार्यालय के समक्ष धरने पर बैठे पीडि़त परिवार के दो परिजनों ने आज से भूख हड़ताल शुरू कर दी। धरने पर बैठे घायल त्रिलोक स्वामी की लड़की सुमित्रा तथा बृजलाल पुत्र महिपत राम ने आज से भूख हड़ताल शुरू कर दी। उन्होंने कहा कि इतने दिन धरने पर बैठने के बाद भी न तो पुलिस प्रशासन की ओर से तथा न ही जिला प्रशासन की ओर से कोई उनसे बात करने आया तथा न ही खुलेआम जान से मारने की धमकियां देने वाले आरोपियों को गिरफ्तार किया गया। उन्होंने कहा कि उनका परिवार अपने काम काज छोड़कर न्याय मांगने के लिए यहां धरने पर बैठा है, लेकिन अभी तक आरोपियों को पकडऩे के लिए पुलिस द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की गई। उन्होंने कहा कि खेत व दुकान उजडऩे के बाद उनके परिवार पर भूखों मरने की नौबत आ चुकी है तथा सारे मामले की जानकारी होने के बाद भी अधिकारियों द्वारा उनकी सुनवाई करते हुए न्याय नहीं दिलाया जा रहा, जिसके विरोधस्वरूप आज वे भूख हड़ताल शुरू कर रहे हैं, जो तब तक चलती रहेगी, जब तक कि सभी आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं हो जाती।

सांसद ने किया नवोदय का औचक निरीक्षण

सिरसा । सिरसा लोकसभा क्षेत्र से सांसद डा. अशोक तंवर गत सांय सिरसा से दिल्ली जाते वक्त जवाहर नवोदय विद्यालय खाराखेड़ी रूके और विद्यालय का औचक निरीक्षण किया। इस मौके पर डा. तंवर ने छात्र-छात्राओं से मुलाकात की और उनसे गहन विचार विर्मश किया।
सांसद डा. तंवर  इस अवसर पर छात्रों के साथ खेले और उन्हें खेलों के महत्व के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि छात्रों को पढाई के साथ-साथ खेल आदि गतिविधियों से जुडऩा चाहिए। खेल से जहां शारीरिक विकास होता है वहीं नेतृत्व व प्रतियोगिता की भावना का विकास भी होता है। सांसद तंवर ने कहा कि देश व प्रदेश के खिलाडिय़ों का लोहा विदेशों ने माना है। राष्ट्रमंडल खेलों में भारत ने बेहतर प्रदर्शन कर देश का गौरव बढ़ाया। उन्होंने कहा कि यूपीए सरकार ने प्रधानमंत्री डा. मनमोहन सिंह के कुशल नेतृत्व व श्रीमति सोनिया गांधी के मार्गदर्शन में खेलों को बढ़ावा देने के लिए खिलाडिय़ों प्रोत्साहन दे रही है। खिलाडिय़ों को राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रशिक्षण की सुविधा के साथ-साथ उन्हें विभिन्न प्रकार की प्रतिस्पर्धाओं में भाग लेने के अवसर प्रदान कर रही है। डा. तंवर ने कहा कि  राष्ट्रमंडल खेलों मेें स्वर्ण, रजत तथा कास्य पदक जीतने वाले हरियाणा के खिलाडिय़ों को प्रदेश सरकार ने क्रमश: 15 लाख, 10 लाख तथा 5 लाख रूपए के नगद ईनाम तथा इसके साथ-साथ प्रशिक्षकों को 3 लाख, 2 लाख तथा 1 लाख रूपए के नगद ईनाम दिए हंै। उन्होंने कहा कि एशियाड खेल में पदक विजेताओं को भी जल्द ही प्रदेश सरकार सम्मानित करेगी।

प्रदेश में बनेंगे कै्रशर जोन:बजरंग गर्ग

सिरसा । प्रदेश में उद्योग जोन की तर्ज पर निकट समय में क्रैशर जोन भी बनाए जाएंगे। इस दिशा में एक परियोजना तैयार की गई है। यह क्रैशर जोन प्रदेश के खनन वाले इलाकों में स्थापित किए जाएंगे ताकि एक ही जगह पर क्रैशर  उपलब्ध हो सके। इस महत्ती परियोजना की खास बात यह भी है कि ईंट भट्ठों की तर्ज पर क्रैशर उद्योग पर भी एकमुश्त कर लगाए जाने की योजना पर विचार किया जा रहा है। इस आशय का खुलासा कान्फैड के चेयरमैन एवं हरियाणा व्यापार मंडल के चेयरमैन बजरंग दास गर्ग ने सिरसा में पत्रकार वार्ता में किया।  
   बजरंग दास गर्ग ने बताया कि कांग्रेस शासनकाल में व्यापारी वर्ग को अनेक रियायतें दी गई हैं। ग्वार गम उद्योग पर वैट कर के चलते ग्वार गम उद्योग की कमर टूट गई थी। कांंग्रेस सरकार ने इस पर वैट कर की समाप्ति कर दी। यही वजह है कि आज ग्वार गम उद्योग की इकाइयां दो से बढ़कर करीब 45 हो गई हैं।  उन्होंने कहा कि किसी भी इलाके की उन्नति व्यापार की प्रगति पर निर्भर करती है। हुड्डा सरकार ने व्यापारी वर्ग को रियायतें दी। सुरक्षित व्यापार का माहौल तैयार किया है। यही वजह है कि आज प्रदेश का वाॢषक बजट 2200 करोड़ रुपए से बढ़कर 18 हजार करोड़ से अधिक हो गया है। इस दौरान गर्ग के साथ व्यापार मंडल के जिला प्रधान हीरालाल शर्मा, आनंद बियानी, ओम बहल, राजेंद्र बंसल, कृष्ण ङ्क्षसगला, नरेंद्र ङ्क्षजदल, इंद्र जैन व प्रवीण ङ्क्षसगला उपस्थित थे।
   इस दौरान गर्ग ने यह भी बताया कि ग्राम स्तर पर उद्योग नीति में संशोधन की प्रक्रिया जारी है। इस परियोजना के लागू होने से ग्राम स्तर पर उद्योग को बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने एक सवाल के जवाब में बताया कि  पिछले कुछ अरसे से प्रदेश में खनन कार्य संबंधी मामला कोर्ट में है। ऐसे में सड़कों एवं सरकारी कार्यों के निर्माण में दिक्कत आ रही है। उन्होंने कहा कि उन्होंने चौटाला सरकार पर बरसते हुए कहा कि पहले व्यापारियों से रैलियों के नाम पर थैलियां लेने का चलन था। पहले तो व्यापारी का शोषण ही हुआ। कांग्रेस सरकार ने अनेक वस्तुओं पर करों से मुक्ति देकर व्यापारी वर्ग का हित किया है। उन्होंने इस बात की भी जानकारी दी कि उन्होंने कहा कि 25 दिसम्बर को सिरसा में प्रस्तावित कांग्रेस की बढ़ते कदम रैली में व्यापार मंडल के तत्वावधान में हजारों लोग शिरकत करेंगे। इस रैली को लेकर व्यापार मंडल के पदाधिकारी जनसम्पर्क अभियान भी चलाएंगे।

गांव छोड़ा, मौत खींच ले गई

डबवाली (लहू की लौ) अपने मां-बाप की मौत के बाद पंजाब के गांव मैहना को छोड़ कर अपने मामा के हाथों पले 28 वर्षीय युवक को क्या पता था कि उसकी मौत उसके गांव में ही जाकर होनी है।
गांव अलीकां में अपने मामा जीत सिंह के पास रहने वाला सुखमन्दर उर्फ सुखवन्त मूल रूप से पंजाब के गांव मैहना का निवासी है। लेकिन 15 वर्ष पूर्व उसकी माता गोलो तथा पिता नाजर सिंह की मौत हो गई और उसे उसका मामा जीत सिंह अपने पास गांव अलीकां ले आया। मामा लक्कड़ व्यापारी और भांजा बारबर का काम करके टाईम पास करता। कभी समय लगता तो अपने मामा के साथ लक्कड़ का व्यापार भी करने चला जाता।
उसकी दोस्ती 10 वर्ष पूर्व गांव के लक्कड़ व्यापारी मक्खन सिंह के बेटे सूबा सिंह से हुई तो अक्सर दोनों दोस्त यहां कहीं भी जाते साथ ही जाते। सूबा सिंह अभी कुंवारा था लेकिन सुखमन्दर सिंह की शादी हुई थी और उसके एक लड़का और एक लड़की है। सोमवार सुबह भी दोनों दोस्त मलोट में लक्कड़ खरीदने के लिए गये और मलोट से लौटते समय सूबा सिंह की बहन के घर गांव भुंदड़ में चले गये। वहां पर सूबा सिंह के जीजा जलौर सिंह ने गांव अलीकां आने की इच्छा जाहिर करते हुए उनके साथ बैठ गया। लेकिन इन तीनों को क्या पता था कि गांव मैहना के पास बस-मोटरसाईकिल दुर्घटना में उन तीनों को मौत अपने आगोश में ले लेगी। जलौर सिंह के भी दो बच्चे हैं जिनमें एक लड़का और एक लड़की।
अलग-अलग हुए संस्कार-गांवों में गमगीन माहौल
मंगलवार शाम को मलोट के सरकारी अस्पताल से पोस्टमार्टम के बाद हरियाणा के गांव अलीकां में सूबा सिंह तथा सुखमन्दर के शवों को तथा पंजाब के गांव भुंदड़ में जलौर सिंह के शव का दाह संस्कार रामबाग में किया गया। इस मौके पर ग्रामीणों की आंखों में आंसू थे और माहौल गमगीन था।

बस ने बाईक सवार कुचले

डबवाली (लहू की लौ) यहां से छह किलोमीटर दूर राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित पंजाब के गांव मैहना के पास एक निजी बस ने बाईक सवार तीन युवकों को कुचल दिया। दुर्घटना के बाद चालक बस को मौका पर छोड़कर फरार हो गया। थाना लम्बी पुलिस ने बस चालक के खिलाफ धारा 304ए/279/427 आईपीसी के तहत केस दर्ज करके उसकी तालाश शुरू कर दी है।
हरियाणा के गांव अलीकां निवासी तथा लक्कड़ व्यापारी सतपाल (32) पुत्र चन्द सिंह ने बताया कि वह और उसका साथी गुरचरण सिंह सोमवार सुबह लगभग 9.30 बजे मलोट के लिए रवाना हुए। मलोट में उन लोगों ने लक्कड़ खरीदनी थी। उनके साथ एक अन्य मोटरसाईकिल पर गांव का लक्कड़ व्यापारी सूबा सिंह (24) पुत्र मक्खन सिंह अपने दोस्त सुखमन्दर उर्फ सुखवन्त के साथ उनके गया था। मलोट से लौटते समय वह लोग गांव भुंदड़ में सूबा सिंह की बहन के घर कुछ समय के लिए रूके। इसी दौरान सूबा सिंह का जीजा जलौर ङ्क्षसह भी उनके साथ आ गया कि वह काफी समय से बीमार उसकी सास तेज कौर का पता ले आयेगा।
सतपाल के अनुसार वे लोग दो मोटरसाईकिलों पर अलग-अलग आ रहे थे। सूबा सिंह का मोटरसाईकिल उनके आगे था। वह लोग जैसे ही मैहना क्रॉस करके अभी एक किलोमीटर आगे निकले ही थे कि डबवाली साईड से आ रही बस अपने आगे जा रही कॉटन स्टिक की भरी ट्राली को ओवरटेक करते हुई सूबे सिंह के मोटरसाईकिल में जा लगी और उनको घसीटती हुई खेतों में ले गई। जबकि उन लोगों ने अपने मोटरसाईकिल को खेतों में डाल कर अपनी जान बचाई।
घायल अवस्था में सुखवन्त सिंह पुत्र नाजर सिंह को सहारा सेवा संस्था मलोट के सदस्य मनदीप सिंह पुत्र रमेश कुमार निवासी मलोट ने डबवाली के सरकारी अस्पताल में पहुचांया। सूबा सिंह (24) पुत्र मक्खन सिंह निवासी अलीकां तथा जलौर सिंह (36) पुत्र गोकुल सिंह निवासी भुंदड़ को घायल अवस्था में मलोट के सरकारी अस्पताल में ले जाया गया। डबवाली के सरकारी अस्पताल में पहुंचते ही सुखवन्त को और मलोट के सरकारी अस्पताल में पहुंचते ही जलौर सिंह को मृत घोषित कर दिया गया। जबकि सूबा सिंह को गंभीर हालत में बठिंडा के लिए रैफर कर दिया। गंभीर हालत में सूबा सिंह को बठिंडा ले जाया ही जा रहा था कि जोधपुर रोमाना के पास सूबा सिंह ने दम  तोड़ दिया।
थाना लम्बी पुलिस प्रभारी एसआई हरिन्द्र सिंह चमेली ने बताया कि सतपाल के ब्यानों पर बस चालक के खिलाफ लापरवाही से बस चला कर दुर्घटना करके तीन युवकों को मारने के आरोप में केस दर्ज करके बस को कब्जे में लेकर बस चालक की तालाश शुरू कर दी है। बस चालक की पहचान करतार सिंह सरांवा निवासी अबोहर के रूप में हुई है। बस फाजिल्कां डबवाली ट्रांस्पोर्ट कं.  की थी जो शाम को डबवाली से फाजिल्कां के लिए जा रही थी।

हजारों के जेवरात लेकर प्रेमी जोड़ा फुर्र

डबवाली (लहू की लौ) यहां की एकता नगरी से एक विवाहिता युवती अपने प्रेमी संग फुर्र हो गई। युवती के परिजनों ने पड़ौस में रहने वाले एक युवक के खिलाफ थाना शहर पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई है।
डबवाली के वार्ड नं. 11 की एकता नगरी में रहने वाली एक युवती की शादी कुछ दिन पूर्व पंजाब के एक गांव में हुई थी। सोमवार को वह अपने माता-पिता से मिलने के लिए डबवाली आई हुई थी। लेकिन मंगलवार सुबह जब आंख खुली तो युवती के परिजन उसे घर में न पाकर आश्चर्यचकित हो गए। उन्होंने युवती की खोजबीन आरंभ की। कुछ देर बाद पता चला कि गली का सोनू नामक युवक भी अपने घर पर मौजूद नहीं है।
सूत्रों से मिली जानकारी अनुसार घर से फरार हुए युवक-युवती दोनों एक ही गली के रहने वाले हैं। उनमें काफी दिनों से लव चला आ रहा था। जिसकी भनक पाकर युवती के परिजनों ने उसकी शादी कहीं ओर तय कर दी। लेकिन लड़की अभी नाबालिग थी। इसी के कारण लड़का कुछ दिन पहले थाना शहर डबवाली में जा पहुंचा और नाबालिग लड़की की शादी रोकने की गुहार लगाई। सूचना पर पुलिस भी सतर्क हो गई। युवती के परिजनों को इस बात का पता लग गया और उन्होंने उसकी शादी पंजाब के एक गांव में जाकर कर दी।
 सूत्रों ने यह भी बताया कि सोमवार को लड़की अपने मायके आई हुई थी। मौका पाकर वह अपने प्रेमी संग फुर्र हो गई। बताया जाता है कि लड़की अपने साथ 10,000 रूपए और चार-पांच तोले सोने के जेवरात भी ले गई है। मामले की जांच कर रहे थाना शहर पुलिस के एसआई मंदरूप सिंह ने बताया कि युवती के परिजनों ने पुलिस में शिकायत देकर सहायता की मांग की है।

सिरसा में होगी बढ़ते कदम रैली

सिरसा। आगामी 25 दिसंबर को सिरसा के शहीद भगत सिंह स्टेडियम में एक विशाल रैली का आयोजन किया जाएगा। इस रैली का नाम बढ़ते कदम रखा गया है। रैली को हरियाणा के मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा संबोधित करेंगे। यह खुलासा सिरसा के सांसद डा. अशोक तंवर ने कांगे्रस भवन में कांगे्रस नेताओं की उपस्थिति में पत्रकारों के समक्ष किया।
उन्होंने कहा कि भीड़ के हिसाब से सिरसा की यह रैली नए कीर्तिमान स्थापित करेगी। रैली में हरियाणा के मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा अपनी सरकार के एक वर्ष का लेखा-जोखा जनता के समक्ष रखेंगे और जिला में अरबों रुपए की लागत से पूरी हुई कई विकास परियोजनाओं को जनाता को समर्पित करेंगे। इन विकास परियोजनाओं में सिरसा में बना रेलवे ओवर ब्रिज भी शामिल है जो 25 दिसंबर को जनता के लिए खुल जाएगा। इसके अलावा कई परियोजनाओं की आधारशिला भी रखी जाएगी।
तवंर ने कहा कि बढ़ते कदम रैली में मुख्यमंत्री श्री हुड्डा जिलावासियों के लिए अरबों रुपए की योजनाओं की घोषणाएं भी करेंगे। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन एवं स्थानीय पार्टी नेताओं द्वारा जिला में होने वाले कार्यों की सूची तैयार की जा रही है। प्राथमिकता के आधार पर पूरे किए जाने वाले कार्यों का मांगपत्र मुख्यमंत्री के समक्ष रखा जाएगा। इन कार्यों में घग्घर विस्तारीकरण परियोजना, सिरसा में महिला महाविद्यालय तथा ग्रामीण क्षेत्र के विकास से जूड़े कई कार्य शामिल होंगे। उन्हें उम्मीद है कि मुख्यमंत्री सभी कार्यों की घोषणा जनता के समक्ष करेंगे। जिससे यह सिरसा के विकास के लिए वरदान साबित होगी।
एक प्रश्र के जवाब में डा. तंवर ने कहा कि सड़कों, भवनों व अन्य विकास कार्यों के लिए प्रदेश के पास धन की कोई कमी नहीं है। उन्होंने माना कि खनन कार्य का मामला अदालत में होने की वजह से बजरी व पत्थर इत्यादी के मिलने में रुकावट आई है जिससे सड़कों के निर्माण पर असर पड़ा है। बावजूद इसके मुख्यमंत्री ने विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि बजरी-पत्थर इत्यादी दूसरे प्रदेशों से खरीदें चाहे उसके लिए अधिक दाम भी क्यों न देने पड़े।
तंवर ने एक अन्य प्रश्र के जवाब में कहा कि मुख्यमंत्री की रैलियां प्रदेश के लोगों को लिए लाभदायक सिद्ध हुई हैं। इन रैलियों में मुख्यमंत्री विकास की घोषणाएं कर रहे हैं। फतेहाबाद में आयोजित रैली का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि फतेहाबाद की रैली लोगों के लिए विकास लेकर आई। इसी प्रकार से राई में हुई चक दे हरियाणा चक दे इंडिया नामक रैली में मंख्यमंत्री ने प्रदेश वासियों के लिए वोनांजा घोषणाएं की। पूर्व में हुई रैलियों से अंदाजा लगाया जा सकता है कि सिरसा में भी प्रगति के द्वार खुलेंगे।
उन्होंने कहा कि दूसरे जिलों में हुई रैलियों से सिरसा को भी फायदा हुआ है। राई की रैली में खेल जगत से संबधित कई कार्यक्रमों व योजनाओं की घोषणाएं हुई थी जिनमें सिरसा जिला को पुरुष हॉकी अकेडमी का तोहफा मिला। उन्होंने बिजली के मामले में बोलते हुए कहा कि हरियाणा फतेहाबाद जिला की ढाणियों सहित पूरे प्रदेश की ढाणियों में बिजली सुविधा मुहैया करवाने का कार्यक्रम शुरु किया गया है। इस कार्यक्रम के लिए पहले से रखी गई 118 करोड़ रुपए की राशि को और अधिक बढ़ाया जा रहा है। उन्होंने 2जी स्पेक्ट्रम मामले पर बोलते हुए कहा कि यह घोटाला नही है, घोटाला होने न होने की बात तो पुरी जांच के बाद ही सामने आएगी। केंद्र सरकार इस मामले की जांच के लिए तैयार है। पीएसी से इस मामले की जांच करवाई जा सकती है।
डा. तंवर ने कहा कि रैली में स्थानीय स्तर की छोटी मोटी समस्याओं के समाधान के लिए भी मांग रखी जाएगी। इस अवसर पर पूर्व मंत्री चौ. रणजीत सिंह, मुख्यमंत्री के पूर्व ओएसडी डा. केवी सिंह, जिला कांगे्रस अध्यक्ष मलकीत सिंह खोसा, हरियाणा प्रदेश कांगे्रस के प्रतिनिधि गोबिंद कांडा, होशियारी लाल शर्मा व अन्य पार्टी के स्थानीय नेता व कार्यकर्ता उपस्थित थे।