युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

04 जुलाई 2011

टेक्सटाईल इंडस्ट्री में आग से लाखों का नुक्सान, परिंदे भी जल मरे


डबवाली (लहू की लौ) शनिवार रात किलियांवाली में स्थित मिढ़ा टेक्सटाईल इंडस्ट्री में आग लगने से लाखों रूपए का धागा, मशीनरी जलकर राख हो गई। इंडस्ट्री को जलता देख सदमे में आया इंडस्ट्री मालिक का पिता बेहोश हो गया। कड़ी मशक्कत के बाद रविवार अल सुबह करीब 3 बजे आग पर नियंत्रण पाया जा सका। वहीं इंडस्ट्री के शैड पर घर बनाए परिंदे भी आग में जल मरे।
धमाका के साथ उठा धुआं
इंडस्ट्री में कार्यरत पिंटू, रामप्रवेश, सूरज, विजय, संजू, गुरिया, विनय ने बताया कि रात करीब 11 बजे वह इंडस्ट्री के आंगन में अपनी-अपनी चारपाई पर लेटे हुए आपस में बातचीत कर रहे थे। इंडस्ट्री के भीतर स्थित एक बिजली के बोर्ड में अचानक धमाका हुआ और धुआं उठने लगा। आग ने वहां पड़ी बान (चारपाई के लिए प्रयुक्त होने वाला धागा) को पकड़ लिया। उन्होंने इसकी सूचना तत्काल इंडस्ट्री मालिक अनिल मिढ़ा पुत्र नत्थू राम मिढ़ा निवासी वार्ड नं. 11, डबवाली को दी। इधर इसकी सूचना दमकल केंद्र डबवाली को दी गई।
सूचना पाकर इंडस्ट्री मालिक अनिल मिढ़ा, सुनील मिढ़ा तथा नत्थू राम मिढ़ा मौके पर पहुंचे। कर्मचारियों के सहयोग से बाल्टी में पानी भरकर आग आग पर काबू पाने का प्रयास किया गया। आग के विकराल रूप को देखकर सदमे में आए नत्थू राम मिढ़ा बेहोश होकर वहीं गिर पड़े। मौका पर पहुंचे अग्निश्मक दस्ते ने आग पर नियंत्रण स्थापित करने के प्रयास शुरू किए।
इंडस्ट्री के कर्मचारियों ने बताया कि इंडस्ट्री के जिस हिस्से में आग लगी हुई थी वह हिस्सा चारों तरफ से बंद था। धुआं निकलने का कहीं से मार्ग नहीं था। जिसके चलते मशीनरी रूम में गैस भर गई और उसमें प्रवेश करना मुश्किल हो गया। उन्होंने आग पर नियंत्रण पाने के लिए और गैस को रूम से बाहर निकालने के लिए रूम के चारों तरफ लगे शीश तोड़े। तब कहीं जाकर अग्निश्मक दस्ते ने रविवार सुबह करीब 3 बजे आग पर काबू पाया।
परिंदे भी जले
कर्मचारियों ने बताया कि आग की तपिश इतनी तेज थी कि इंडस्ट्री के ऊपर बनी शैड की छत भी क्षतिग्रस्त हो गई। इन शैड़ों में घौंसला बनाकर रहने वाले करीब बीस-पच्चीस कबूतर आग की भेंट चढ़ गए।
इंडस्ट्री मालिक अनिल मिढ़ा, सुनील मिढ़ा पुत्रान नत्थू राम ने बताया कि आग लगने का कारण शॉर्ट सर्किट माना जा रहा है। आग से उसका करीब 8 लाख रूपए का नुक्सान हुआ। जिसमें मशीनरी, तैयार किया गया बान, बिल्डिंग, दरियां आदि का नुक्सान शामिल है।
करीब चार माह पहले इंडस्ट्री के मीटर रूम में आग लगने से इंडस्ट्री का ढाई लाख रूपए का नुक्सान हुआ। इसके बाद मशीनों के पास पड़े कुछ माल को आग लगी। जिसमें करीब 25 हजार रूपए का नुक्सान हुआ। करीब 20 दिन पूर्व मशीनरी रूम में आग लगने से डेढ़ लाख की मशीनरी जल गई। अब चौथी बार आग लगी।
कहां जाता है माल
मिढ़ा टेक्सटाईल इंडस्ट्री के मालिक ने बताया कि वे रूईं से धागा निर्मित करके सीतापुर, बम्बई, कानपुर, बरेली आदि जगहों में बेचते हैं। इससे वहां पर दरियां आदि बनती हैं।