युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

20 मार्च 2010

सैक्स रैकेट का भंडाफोड़

सिरसा। सिटी पुलिस ने पुरानी हाउसिंग बोर्ड के पास बने अशोक विहार में सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ करते हुए एक दलाल, तीन लड़कों व दो लड़कियों सहित 6 लोगों को गिरफ्तार किया है।
पुलिस को किसी मुखबिर से सूचना मिली थी कि अशोक विहार में कमरा किराए पर लेकर कुछ लोग देह व्यापार का धंधा चला रहे हैं। सूचना मिलने पर थाना शहर प्रभारी हंसराज ने टीम का गठन किया और एक पुलिस कर्मचारी को फर्जी ग्राहक बनाकर भेजा। सौदा पटने पर फर्जी ग्राहक बनकर गए पुलिसकर्मी ने इशारे से पुलिस को बुला लिया। पुलिस ने मौके से हिसार के रहने वाले लड़कियों के दलाल विक्रम, फतेहाबाद के दो युवकों रामेश्वर व हनुमान के साथ कोलकाता की दो लड़कियों सुनीता व माया को इम्मोरल ट्रेफिक एक्ट के अंतर्गत गिरफ्तार कर लिया। सभी को आज शाम कोर्ट में पेश कर दिया गया।

गुमनाम पत्र के जरिये डॉक्टर से मांगे 5 लाख

डबवाली (लहू की लौ) गांव चट्ठा के एक आरएमपी डॉक्टर को गुमनाम धमकी भरी चिट्ठी मिलने के बाद बुधवार रात को डबवाली पुलिस में खलबली मच गई और आनन-फानन में मुस्तैद पुलिस ने नाकाबंदी करके आरोपी को पकडऩे के लिए अपना जाल भी बिछा दिया। लेकिन आरोपी नहीं पहुंचा।

पुलिस सूत्रों के अनुसार गांव चट्ठा के एक आरएमपी डॉक्टर को एक गुमनाम पत्र मिला था। जिसमें लिखा था कि वह 5 लाख रूपये की राशि निर्धारित स्थल पर पहुंचा दे। अन्यथा उसके खिलाफ कार्यवाही की जाएगी। आरएमपी डॉक्टर ने इस मामले को पुलिस के सुपुर्द रख दिया। पुलिस ने गुमनाम पत्र को गंभीरता से लेते हुए बताये गये स्थल को चारों ओर से घेर लिया। सूत्रों के अनुसार डीएसपी बाबू लाल के नेतृत्व में थाना सदर प्रभारी भगवान दास तथा डबवाली पुलिस के अन्य अधिकारियों को अलग-अलग डयूटी लगाकर चौकन्ना कर दिया गया। पूरी रात पुलिस नाकाबंदी लगाये बैठी रही। लेकिन धमकी देने वाला नहीं पहुंचा।
इस सम्बन्ध में जब डीएसपी बाबू लाल से पूछा गया तो उन्होंने स्वीकार किया कि धमकी भरा पत्र गांव चट्ठा के एक आरएमपी डॉक्टर को मिला था और इस संदर्भ में पुलिस ने पूरी तरह से चौकसी बरतते हुए आरोपी को पकडऩे का जाल बिछा दिया था। उनके अनुसार डॉक्टर से गुमनाम पत्र के जरिये 5 लाख रूपये की मांग की गई थी। फिलहाल एतिहात के तौर पर पुलिस को चौकस रहने के आदेश दिये गये हैं। इधर थाना सदर प्रभारी भगवान दास ने भी धमकी भरे पत्र की पुष्टि की और उन्होंने कहा कि संभव है कि किसी शरारती ने यह शरारत की हो। लेकिन इसके बावजूद भी पुलिस ने पूर्ण नाकाबंदी की और अब भी चौकसी बरते हुए है।