युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

15 अप्रैल 2011

मोल में पानी लेकर पी रहे हैं गांव बिज्जूवाली के ग्रामीण


बिज्जूवाली (हेमराज बिरट) गांव बिज्जूवाली के जलघर में जलापूर्ति विभाग के कर्मचारियों द्वारा अपनी ड्यूटी पर सही ढंग से नहीं आने व वाटर सप्लाई न छोडऩे के कारण ग्रामीणों ने उच्चाधिकारियों को अवगत करवाते हुए कहा कि अगर जल्द ही उनकी समस्या का सामाधान न हुआ तो वे इस जलघर को ताला लगा देगें। ग्रामीणों ने बताया कि जलघर में मुन्नांवाली निवासी हरबंस व गंगा निवासी भजनलाल दो कर्मचारी कार्यरत है, लेकिन उच्चाधिकारियों की फटकार के बाद भी वह अपनी ड्यूटी पर सही नहीं आ रहे हैं और उनको पानी के लिए दर-दर की ठोकरें खानी पड़ती है व पीने का पानी मोल लेकर पीना पड़ रहा है। जलघर में तैनात कर्मचारी दिन में थोड़ी देर के लिए महज खानापूर्ति के लिए आता है, उस समय लाईट न होने का बहाना बनाकर अपना पल्ला झाड़ लेते हैं और ग्रामीणों को पीने का पानी नहीं मिलता। उन्होंने बताया उक्त कर्मचारी ने एक व्यक्ति को निजी तौर पर जलघर में रख रखा है, लेकिन वो अकेला इतने बड़े गांव को पानी की सप्लाई कैसे पहुंचा सकता है व ग्रामीणों ने उच्चाधिकारियों से मांग की है कि जो कर्मचारी ड्यूटी पर नहीं आते हैं उनके खिलाफ कार्यवाही की जाए। उन्होंने कई बार संबंधित विभाग के अधिकारियों को जलघर के बारे में लिखित व मौखिक रूप में अवगत करवाया हैं, लेकिन विभागीय कर्मचारी जल्द ही समस्या का समाधान करवाने की बात कहकर ग्रामीणों की समस्या को रफा-दफा कर देते हैं। वहीं ग्रामीणों ने बताया कि बार-बार शिकायत करने के बाद भी अधिकारी कोई न कोई बहाना बना रहे हैं।
इस बारे में सरपंच राजाराम बिरट से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि उच्च अधिकारियों को इस बारे में अवगत करवा कर दोषी पाए जाने वाले कर्मचारियों के खिलाफ कार्यवाही करवाई जाएगी। जेई सुभाष चन्द्र से बात की गई तो उन्होंने कहा कि कर्मचारी गांव में ही होंगे, आ जाएंगे। ग्रामीणों को पेयजल संबंधी दिक्कत नहीं आने दी जाएगी।

कोई टिप्पणी नहीं: