युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

15 अप्रैल 2011

दूसरी के लिए पत्नी को राजस्थान कैनाल में फेंका


डबवाली (लहू की लौ) राजस्थान कैनाल के लोहगढ़ हैड से शनिवार देर शाम को चौटाला पुलिस को एक महिला का शव बरामद हुआ है। मृतका की पहचान जसवंत कौर (40) पत्नी शेर सिंह निवासी गांव मसीतां थाना कोट ईसे खां जिला मोगा के रूप में हुई है।
पति ने की थी हत्या
चौटाला पुलिस चौकी के इंचार्ज एसआई जीत सिंह ने बताया कि 27 मार्च 2011 को गांव मसीतां थाना कोट ईसे खां जिला मोगा (पंजाब) ने अपनी पत्नी जसवंत कौर की गांव पधरी थाना मक्खू जिला फिरोजपुर के निकट राजस्थान कैनाल में फेंककर हत्या कर दी थी। उस दिन से जसवंत कौर के परिजन नहर में से शव की तालाश कर रहे थे। शनिवार को जसंवत कौर के शव को खोजते-खोजते वे लोग लोहगढ़ हैड पर पहुंचे। मृतका के जीजा रतन सिंह (72) पुत्र बूटा सिंह निवासी अमृतसर की नजर नहर में तैरते एक शव पर पड़ी। शव को बाहर निकाला गया। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर उसे पोस्टमार्टम के लिए गली-सड़ी अवस्था में डबवाली के सरकारी अस्पताल में पहुंचाया। लेकिन डॉक्टर ने शव की हालत को देखते हुए उसे रोहतक रैफर कर दिया।
14 दिन पहले फेंका था नहर में
जसवंत कौर का शव मिलने की सूचना पाकर थाना मक्खू जिला फिरोजपुर से एएसआई गुरनेक सिंह तथा हवलदार कुलवंत सिंह रविवार को डबवाली पहुंचे। एएसआई गुरनेक सिंह ने बताया कि 27 मार्च 2011 को गांव मसीतां थाना कोट ईसे खां का रहने वाला शेर सिंह (42) अपनी पत्नी जसवंत कौर को अपनी बाईक पर बैठाकर गांव पधरी थाना मक्खू के निकट राजस्थान नहर के पुल पर ले आया और वहां उससे गाली-गलौज करने लगा। नहर में फेंकने की कोशिश शुरू कर दी। महिला ने शोर मचाना शुरू कर दिया और मदद की गुहार लगानी शुरू कर दी। महिला का शोर सुनकर पुल की निगरानी कर रहे पंजाब आम्र्ड पुलिस के जवान तजिंद्र सिंह ने इसकी सूचना तुरंत रेलवे ब्रिज गार्द के इंचार्ज एसआई सतनाम सिंह को दी।
हत्या का मामला दर्ज
एएसआई के मुताबिक इंचार्ज ने अपने अधिनस्थ कर्मचारियों को साथ लेकर उपरोक्त व्यक्ति को महिला को नहर में न फेंकने की आवाज लगाई। लेकिन उसने महिला को नहर में फेंकने के बाद भागने का प्रयास किया। जिसका पीछा करते हुए कर्मचारियों ने दबोच लिया। पकड़े गए व्यक्ति ने अपनी पहचान शेर सिंह निवासी मसीतां  थाना कोट ईसे खां के रूप में करवाई। थाना मक्खू पुलिस ने एसआई सतनाम सिंह के ब्यान पर आरोपी के खिलाफ दफा 302 आईपीसी के तहत मामला दर्ज करके मृतका के शव की तालाश शुरू कर दी।
यह कहते हैं मृतका के जीजा
मृतका जसवंत कौर के जीजा रतन सिंह (72) पुत्र बूटा सिंह निवासी अमृतसर रिटायर्ड चीफ इंस्पेक्टर पंजाब रोड़वेज ने बताया कि उसकी साली जसवंत कौर की शादी साल 1994 में शेर सिंह  निवासी गांव मसीतां थाना कोट ईसे खां के साथ हुई थी। शादी के इतने साल बाद भी दोनों के संतान नहीं हुई। संतान न होने के कारण दोनों पति-पत्नी में तकरार रहने लगी। कुछ समय पूर्व शेर सिंह ने दूसरी महिला रख ली। पांच माह पूर्व जसवंत कौर को इस बात का पता चला और उसने एतराज भी किया। इस पर शेर सिंह ने उससे मारपीट की। रतन सिंह के अनुसार 26 मार्च की रात को सभी हदें पार करते हुए वह दूसरी महिला को अपने घर ले आया। इस बात को लेकर पति-पत्नी में काफी झगड़ा हुआ। 27 मार्च की सुबह जसवंत कौर को दवाई दिलाने का बहाना बनाकर उसे गांव पधरी के पास राजस्थान कैनाल पर ले गया। वहां शेर सिंह ने जसवंत कौर को नहर में फेंक दिया। शनिवार को मृतका के शव को ढूंढता हुआ वह लोहगढ़ हैड पर पहुंचा यहां उसे जसवंत कौर का शव दिखाई दिया।

कोई टिप्पणी नहीं: