युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

01 मार्च 2010

दर्जनों के खिलाफ बसें जलाने का मामला दर्ज

डबवाली (लहू की लौ) शनिवार शाम को जिला सिरसा के विभिन्न स्थानों पर हरियाणा रोड़वेज की बसों को जलाने के आरोप में संबंधित थानों में अज्ञात लोगों के खिलाफ केस दर्ज करके पुलिस ने आगामी कार्यवाही शुरू कर दी है।
प्राप्त जानकारी अनुसार गांव मुन्नांवाली में तेल छिड़क कर बस को आग लगाने का प्रयास करने के आरोप में बस चालक रामकुमार पुत्र मोमन राम निवासी पन्नीवाला मोटा की शिकायत पर 10-12 अज्ञात लोगों के खिलाफ धारा 436, 511, 148, 149 आईपीसी तथा पब्लिक सम्पत्ति को नुक्सान पहुंचाने के आरोप में 3/4 के तहत केस दर्ज किया गया है।
इसी प्रकार चालक अशोक कुमार की शिकायत पर गांव नुइयांवाली में हरियाणा रोड़वेज की बस को आग लगा कर क्षतिग्रस्त करने के आरोप में थाना औढां पुलिस ने 30-40 अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ धारा 148/149/341/435 आईपीसी तथा पब्लिक सम्पत्ति को नुक्सान पहुंचाने के आरोप में 3/4 के तहत केस दर्ज करके आरोपियों की तालाश शुरू कर दी है। यह भी पता चला है कि पुलिस काफी हद तक आरोपियों का सुराग लगाने में सफल रही है।
थाना रोड़ी के अन्तर्गत आने वाले गांव अलीकां में बस को जलाने के आरोप में बस चालक मदन लाल पुत्र जीत सिंह निवासी सिरसा की शिकायत पर अज्ञात लोगों के खिलाफ धारा 436/341/427/353/186 आईपीसी तथा पब्लिक सम्पत्ति को नुक्सान पहुंचाने की विभिन्न धाराओं के तहत केस दर्ज किया गया है। इसी पुलिस ने गांव कुरंगावाली में बस को जलाने के आरोप में बस चालक नछतर सिंह पुत्र हाकम सिंह निवासी डबवाली की शिकायत पर अज्ञात लोगों के खिलाफ धारा 436/341/395/427/353/186 आईपीसी तथा आमर्ज एक्ट और पब्लिक सम्पत्ति को नुक्सान पहुंचाने की विभिन्न धाराओं के तहत केस दर्ज करके आरोपियों की तालाश शुरू कर दी है।

मोटरसाईकिल पर पहुंचा बारात लेकर

डबवाली (लहू की लौ) शनिवार शाम को डेरा सच्चा सौदा के प्रेमियों के हंगामे के चलते पंजाब और हरियाणा की सरकारी बसें अचानक बन्द किये जाने से रविवार को भी बसों के ब्रेक लगे रहे। इसके चलते यात्रियों को परेशानी हुई ही। लेकिन जिनकी शादियां थी उन दुल्हों को अपने गंत्वय तक पहुंचने में मुश्किलें आई। इसकी जानकारी उस समय मिली जब तह. फाजिल्का के गांव तेजरवेला का बलवीर सिंह पुत्र लक्ष्मण सिंह बसें न चलने की वजह से अपनी बारात लेकर रविवार सुबह पंजाब बस अड्डा पर पहुंचा। उसने सिरसा जिला के डेरा संगर साधा जाना था। बलवीर सिंह के अनुसार डेरा में आज सामूहिक शादियां थी। जिसमें करीब 75 जोड़े शामिल होने हैं। जिनमें वह भी शामिल है। उसके अनुसार उसे फाजिल्कां से ही सिरसा जाने के लिए बस नहीं मिली। वह वहां से मोटरसाईकिल पर ही अपनी भाभी गुरां बाई और बिचौलिये कुशाल सिंह के साथ अपनी दुल्हन को लेने के लिए निकल पड़ा। दूल्हे राजा के अनुसार उसे उम्मीद थी कि डबवाली से सिरसा के लिए बस जरूर मिल जाएगी। लेकिन यहां भी उसे निराशा ही हाथ लगी। परंतु उसने अपनी दुल्हन रामो बाई तक पहुंचने के संकल्प को दृढ रखते हुए डबवाली से 3200 रूपये में मैक्सी कैब की और अपनी दुल्हन लेने के लिये सिरसा के लिए निकल पड़ा।

बस सेवा ठप्प होने के चलते जनजीवन प्रभावित

औढ़ां (जितेन्द्र गर्ग) शनिवार की शाम बसों में आगजनी के कारण आज दूसरे दिन दोपहर तक बस व्यवस्था पूरी तरह से ठप्प रहने के कारण आम जनजीवन पर काफी प्रभाव पड़ा और यात्री मारे मारे फिरते रहे। इस दौरान निजी वाहन चालकों ने खूब चांदी कूटी तथा यात्रियों से मनमाना किराया बसूल किया।

इस विषय अनेक यात्रियों से बात किए जाने पर ओढ़ां निवासी मुखत्यार सिंह ने बताया कि उन्हें आज रिश्तेदारी में रस्म क्रिया में शामिल होना था लेकिन बसें बंद होने के कारण वे जा न सके। दैनिक यात्री रामलाल ने बताया कि रात को वो एक टैक्सी चालक को 25 रुपए किराया देकर व जान जोखिम में डालते हुए टैक्सी के पीछे लटककर अपने घर ओढ़ां पहुंचे।
नुहियांवाली निवासी सोहन लाल ने बताया कि ओढ़ां आने के लिए उन्हें साधन नहीं मिला और उन्हें पैदल ओढ़ां आना पड़ा। कृष्ण लाल ने बताया कि उन्हें एक विवाह समारोह में शामिल होने हेतु प्राइवेट वाहन किराए पर करके जाना पड़ा। इसी प्रकार अन्य यात्रियों को भी काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। ऐसे में दूर जाने वाले यात्रियों के चेहरों पर काफी चिंता व परेशानी से जूझना पड़ा। अनेक गांवों जैसे बनवाला, रामगढ़, रत्ताखेड़ा, रामपुरा, राजपुरा, रिसालियाखेड़ा, सालमखेड़ा, जंडवाला, किंगरे, मलिकपुरा, टप्पी, ख्योवाली, रोहिडांवाली, आनंदगढ़ सहित अनेक गांवों के लोगों को कहीं भी आने जाने हेतु काफी मशक्कत व परेशानी का सामना करना पड़ा क्योंकि इन गांवों में न तो कोई सरकारी बस ही पहुंची और न ही निजी वाहन पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हो सके।

आगजनी के आरोप में 36 गिरफ्तार

डबवाली (लहू की लौ) हरियाणा पुलिस द्वारा असामाजिक तत्वों द्वारा शनिवार सायं राज्य में की गई तोडफ़ोड़ और आगजनी के मामलों को गंभीरता गया है और पुलिस द्वारा त्वरित कार्यवाही करते हुए उत्पात मचाने वाले उपद्रव्यिों को काबू करने में सफलता हासिल की है।
इस संबंध में जानकारी देते हुए हरियाणा पुलिस के प्रवक्ता ने आज बताया कि इस कार्यवाही के परिणाम स्वरूप अब तक विभिन्न क्षेत्रों में लगभग 36 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है और सभी को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। इसके अतिरिक्त, सभी जिलों में पुलिस उपद्रव्यिों की गहरी छानबीन में जुटी हुई है और पुलिस द्वारा शीघ्र ही सबूतों के आधार पर कुछ और लोगों की गिरफ्तार की जा सकती है।
प्रवक्ता ने बताया कि हरियाणा सरकार की मांग पर केन्द्रीय गृह मंत्रालय द्वारा केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल की दो कंपनियां जिला अंबाला और सीमा सुरक्षा बल की दो-दो कंपनियां क्रमश: जिला सिरसा और फतेहाबाद में तैनात कर दी गई है ताकि स्थिति को पूर्णत: नियंत्रण में रखा जा सकें। इसके अतिरिक्त, सभी संवेदनशील क्षेत्रों में हरियाणा पुलिस बल की अतिरिक्त टुकडिय़ां, भौण्डसी एवं मधुबन में प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे दो हजार पुलिस कर्मियों और हरियाणा गृहरक्षी दल के जवानों को भी तैनात कर दिया गया है।
हरियाणा पुलिस के महानिदेशक रंजीव दलाल ने कल हुए हादसे पर खेद व्यक्त करते हुए लोगों से अपील की है कि वो किसी भी तोडफ़ोड़ की कार्यवाही में हिस्सा न ले और अफवाहों से भ्रमित न हो। उन्होंने लोगों से कहा कि प्रदेश में शांति भंग करने या कानून हाथ में लेकर किसी भी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने का किसी को कोई भी अधिकार नहीं है और इस प्रकार की गैर कानूनी गतिविधियां करने वालों के खिलाफ पुलिस द्वारा सख्त कार्यवाही की जायेगी।

चार जिलों में धारा 144 लागू

डबवाली (लहू की लौ) राज्य में शांति एवं कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए जिला सिरसा, फतेहाबाद, हिसार एवं जींद में अपराधिक प्रक्रिया 1973 के कानून की धारा 144 की शक्तियों के अंतर्गत निषेधाज्ञा लागू कर दी गई है, जिसके अनुसार इन जिलों में कहीं भी पांच या पांच से अधिक व्यक्तित एकत्रित नहीं हो सकते।

इन जिलों के जिलाधीशों द्वारा जारी आदेशों के अनुसार जिला में कोई भी व्यक्ति घातक हथियार, आगेण्य अस्त्र, विस्फोटक सामग्री के साथ-साथ तलवार, भाला, बरछा, चाकू, लाठी इत्यादि हथियार लेकर नहीं चल सकता।
यह आदेश ड्यूटी पर तैनात पुलिस या अन्य पब्लिक कर्मचारियों पर लागू नहीं होंगे। इन आदेशों की अवेहलना करने वाले व्यक्तियों के खिलाफ कानूनी कार्यवाही की जाएगी। लोगों से अपील की गई है कि वे किसी प्रकार की अफवाहों पर ध्यान न दें और जिला में शांति बनाए रखे।
हिसार के जिलाधीश ओ पी श्योरान ने राज्य में गत सायं हुई तोड़-फोड़ केदृष्टिगत 28 फरवरी 2010 से शान्ति बहाली तक जिला में 15 ड््यूटी मजिस्ट्रेट नियुक्त किए हैं। आदेश के अनुसार जिला में कानून व्यवस्था एवं शांति बहाली के लिए सभी ड्यूटी मजिस्ट्रेट के साथ समन्वय के लिए एक-एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी को लगाया गया है। सभी ड्यूटी मजिस्ट्रेट अपने कार्य क्षेत्र में कानून व्यवस्था पर नजर रखेंगे।
उधर, जिला उपायुक्त फतेहाबाद सी.जी. रजिनिकांथन ने आज जिला प्रशासन और डेरा प्रतिनिधियों की एक संयुक्त बैठक को भी संबोधित किया। उपायुक्त ने डेरा प्रतिनिधयों से जिला में शांति बनाये रखने की अपील की और कहा कि जिला में कानून व्यवस्था को बनाये रखने में सहयोग दें।
उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिये कि वे अपने-अपने कार्यालयों की सुरक्षा व्यवस्था को सुनिश्चित करें और कार्यालय के चौकीदार या अन्य कर्मचारी को ड्यूटी पर तैनात करें। जिला में शांति व्यवस्था की देखरेख के लिए 11 ड्यूटी मजिस्ट्रेट एवं समन्वय अधिकारी के रूप में पुलिस विभाग के अधिकारियों को नियुक्त किया गया है। इसी प्रकार, जींद में 13 वरिष्ठ अधिकारियों को ड्यूटी मजिस्ट्रेट नियुक्त किया गया हैं।

विधायक के समक्ष लोगों ने रखी बिजली, पानी और पीले कार्ड की समस्याएं

डबवाली (लहू की लौ) डबवाली विधानसभा से विधायक अजय सिंह चौटाला अपने निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार रविवार को डबवाली में स्थित अपने विधानसभा चुनाव कार्यालय में पहुंचे और उन्होंने सबसे पहले इनेलो कार्यकर्ताओं और उपस्थित आम लोगों को होली की बधाई दी।
इस मौके पर उन्होंने लोगों की शिकायतें सुनीं जिनमें अधिकांश बिजली, पानी और पीले कार्ड से संबंधित समस्याएं थीं। उन्होंने उपस्थित लोगों से कहा कि वह उनकी समस्याओं को सरकार के समक्ष उठायेंगे और अगर फिर भी बात नहीं बनी तो वह अपने इनेलो विधायकों के साथ विधानसभा में भी उनकी मांगों को रखेंगे।
इसके बाद पत्रकारों से बातचीत करते हुए अजय चौटाला ने कहा कि हरियाणा में सरकार नाम की कोई चीज नहीं है। बल्कि जंगल राज है जिसका ज्वलंत उदाहरण शनिवार शाम को पूरे राज्य में कुछ लोगों द्वारा सरकारी सम्पत्ति को नुक्सान पहुंचाया गया और सरकारी बसों को आग के हवाले कर दिया। उन्होंने यह भी कहा कि केन्द्र सरकार द्वारा प्रस्तुत बजट में महंगाई कम होने की अपेक्षा महंगाई को बढ़ाने वाली नीतियों को ही दर्शाया गया है। उनके अनुसार पेट्रोल और डीजल के दाम बढऩे से इसका सीधा प्रभाव आम लोगों पर पड़ेगा। रेलवे ओवरब्रिज के संबंध में पूछे गये प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कहा कि डबवाली में ओवरब्रिज का होना जरूरी है और इस समस्या के समाधान के लिए वह प्रयासरत हैं। आगामी विधानसभा स्तर में वह इस मामले को लेकर अपने स्तर पर सरकार से जवाब मांगेंगे। इस मौके पर पूर्व विधायक डॉ. सीता राम, रणवीर सिंह राणा, संदीप सिंह गंगा, कुलदीप सिंह जम्मू चेयरमैन, नरेन्द्र बराड़ हल्का प्रधान डबवाली, डॉ. गिरधारी लाल गर्ग, जगरूप सिंह सकताखेड़ा, जगसीर सिंह मांगेआना, पार्षद लवली मैहता, सुखविन्द्र सिंह सरां, सुरेन्द्र छिन्दा, सुखबीर सिंह एडवोकेट, पवन मैहता पूर्व सरपंच, लभू सेठी, रोशन मोंगा, केशों राम गुप्ता, मदन लाल सेठी प्रधान, गुरमीत सिंह अबूबशहर, नानक चन्द धींगड़ा अबूबशहर, सर्वजीत सिंह मसीतां, प्रहलाद चौटाला, सतपाल लोहगढिय़ा, सुरेन्द्र बर्तन, सुखदेव सिंह नम्बरदार सांवतखेड़ा, सुरजीत सिंह जगमालवाली, जगदेव सिंह सरपंच असीर, मास्टर हरनेक सिंह पूर्व पार्षद, परमजीत बराड़, रवि जिन्दल, गुलजिन्द्र सोना, जगपाल सिंह गिल, जगपाल सिंह जत्थेदार, मनजीत इन्द्र सिंह काका पूर्व सरपंच च_ा, अमरनाथ बागड़ी, शिवजी राम बागड़ी, अमरीक सिंह चट्ठा, नसीब चन्द गार्गी, नरेश मित्तल, मदन गुप्ता, मुनीष शर्मा, पवन बांसल पूर्व एमसी, पवन शर्मा शेरगढ़, मोहन लाल, हरिकिशन दास राजौरा, डॉ. ओमप्रकाश सचदेवा, सन्त लाल, लाली, गण्डा सिंह मौजगढ़, भोला सिंह बराड़, टेक चन्द छाबड़ा, महिन्द्र डूडी, केवल कृष्ण, सुरेन्द्र ग्रोवर, बलदेव सिंह भीटीवाला शहरी प्रधान, प्रदीप गर्ग, संदीप गर्ग, सीता राम सिंगला, काला ठेकेदार, विक्की शर्मा, सुभाष मित्तल पार्षद, सुभाष गुप्ता गोरीवाला, जगजीत सिंह बराड़, दर्शन मोंगा, सतपाल सरारी, काका शर्मा, रवि कुक्कड़, सोम अरोड़ा, गुरविन्द्र भोला, ओम बाबा, हरबन्स लाल भीटीवाला, विपिन मोंगा, सोनू सेठी, मनोहर लाल दीवानखेड़ा, सुरजीत सिंह ढाणी, शामलाल खुइयांमलकाना, बॉबी छाबड़ा, अजनीश कैनेडी, जसमिन्द्र बराड़, सरदारी लाल मिढ़ा, सोहन लाल, बाबू लाल, जिन्द्र, जोगिन्द्र ढाल, दीशा, कुलवन्त सिंह, सूबा सिंह, मलूक सिंह लखेसर, सुरेश, किशन कम्बोज, पवन सेठी पूर्व पार्षद, दीपा सेठी, माणिक सेठी, मास्टर अमृतपाल उपस्थित थे।