युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

01 अक्तूबर 2009

चुनाव से 48 घण्टे पूर्व सील हो जाएंगी सीमाएं

राजस्थान ने हरियाणा पुलिस से मांगी शूटरों की लिस्ट


डबवाली (लहू की लौ) 13 अक्तूबर को होने जा रहे हरियाणा विधानसभा चुनाव को निष्पक्ष और शान्तिपूर्ण तरीके से सम्पन्न करवाने के लिए चुनाव से 48 घण्टे पूर्व हरियाणा के साथ लगते पंजाब और राजस्थान की सीमाओं को सील कर दिया जाएगा और इस समय दौरान पंजाब और राजस्थान से किसी को भी प्रवेश करने की अनुमति नहीं होगी। यह फैसला डबवाली के पीडब्ल्यूडी रैस्ट हाऊस में पंजाब, हरियाणा और राजस्थान के आईजी स्तर के पुलिस अधिकारियों की इंटर स्टेट कोर्डिनेशन विंग की बैठक में लिया गया।
यह जानकारी देते हुए हिसार रेंज के आईजी अनन्त कुमार ढुल ने पत्रकारों को बताया कि इस बैठक में बीकानेर रेंज के हनुमानगढ़, चुरू, झुंझनू जिलों के एसपी, पंजाब के पटियाला रेंज के आईजी और मानसा, बठिण्डा, मुक्तसर और संगरूर जिलों के एसपी, हरियाणा के हिसार, भिवानी, जींद, सिरसा, फत्तेहाबाद जिलों के एसपी ने भाग लिया। जिला सिरसा के उपायुक्त युद्धवीर सिंह ख्यालिया भी बैठक में शामिल हुए। उन्होंने पत्रकारों से सवालों का जवाब देते हुए बताया कि पिछले वर्ष जनवरी 2008 में इसी प्रकार की इंटरस्टेट कोर्डिनेशन विंग की बैठक हुई थी। उस समय आपसी सहयोग के लिए, लिए गये फैसलों का अच्छा असर सामने आया है। जिससे पंजाब, हरियाणा और राजस्थान की सीमाओं से लगते क्राईम में कमी आई है और आपसी सहयोग से कई बड़े अपराधियों को पकडऩे में सफलता हासिल हुई है और साथ में अपराधों पर शिकंजा कसने में भी कामयाबी मिली है। उन्होंने बुधवार की बैठक के संदर्भ में बताया कि यह बैठक हरियाणा में हो रहे विधानसभा चुनाव के मद्देनजर आयोजित की गई है। लेकिन इसमें क्राईम पर भी विचार किया गया है। उनके अनुसार इस बैठक में चुनाव को निष्पक्ष और साफ-सुथरा करवाये जाने और लॉ एण्ड ऑर्डर की स्थिति बनाये रखने के लिए चुनाव शुरू होने से 48 घण्टे पूर्व उक्त राज्यों के सभी बॉर्डर सील करने का फैसला लिया गया है। कहां-कहां नाके लगाये जाने है, इनकी पहचान तीनों ही राज्यों के अधिकारियों ने अपने-अपने राज्यों में चिन्हित कर ली है और नाकों पर पुलिस का प्रबन्ध करने का भी निर्णय ले लिया गया है। इसके अतिरिक्त कच्चे रास्तों पर पेट्रोलिंग करने के लिए पार्टियों का भी गठन किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि इस बैठक में तीनों ही राज्यों के आईजी ने चुनाव से 48 घण्टे पूर्व सीमाएं सील करने पर सहमति व्यक्त करते हुए यह निर्णय लिया कि इस समय में पंजाब और राजस्थान से किसी को भी बिना किसी कारण के हरियाणा की सीमा में घुसने नहीं दिया जाएगा। आईजी ढुल ने बताया कि चुनाव को शांतिपूर्ण ढंग से सम्पन्न करवाने के लिए चयनित संवेदनशील केन्द्रों पर अतिरिक्त फोर्स लगाई जाएगी। जिसमें बीएसएफ और राजस्थान बॉर्डर पुलिस का भी सहयोग लिया जाएगा। इसके अतिरिक्त माईक्रो ऑबजर्वर भी नियुक्त किये जाएंगे। इसके बाद क्राईम पर बातचीत करते हुए आईजी ढुल ने कहा कि तीनों राज्यों की पुलिस आपसी सहयोग करके लगातार अपराधों पर अंकुश लगाने में सफल हो रही है। उनके अनुसार आपसी सहयोग के चलते ही तीनों राज्यों की पुलिस ने अपराधियों को सूचिबद्ध करके एक-दूसरे को सूचियां उपलब्ध करवाई हैँ और समय-समय पर एक राज्य के अपराधी दूसरे राज्य में जाकर अपराध करने के बाद सहयोग के चलते ही पकड़े गये हैं। इस सम्बन्ध में उन्होंने कई उदाहरण भी दिये। नशों के सम्बन्ध में पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि दवाईयों के रूप में बिकने वाले नशे पर स्वास्थ्य विभाग का नियंत्रण है। इसलिए यह विभाग ही इस पर कार्यवाही कर सकता है। लेकिन खुले में चूरा पोस्त बिकने पर अंकुश लगा है और नशा बेचने वाले अपराधियों को सजा भी पुलिस के सहयोग के चलते मिल सकी हैं। उन्होंने इस बात को स्वीकार किया कि आर्थिक तंगी के चलते अवैध धंधा करने वाले लाभ कमाने के लिए एक-दूसरे राज्यों में वस्तुओं की स्मगलिंग करते हैं। इस स्मगलिंग में पेट्रोल बगैरा भी शामिल है। इस मौके पर उन्होंने कहा कि अपराधों पर अंकुश लगाने के लिए पुलिस के साथ-साथ समाज द्वारा भी प्रयत्न किये जाने की जरूरत है। इस अवसर पर राजस्थान के बीकानेर रेंज के आईजी मेघनन्द मीणा ने पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए कहा कि राजस्थान से चूरा पोस्त पंजाब और हरियाणा में आ रहा है। जबकि हरियाणा से अवैध रूप से शराब बिकने को जा रही है। तीनों ही राज्यों की पुलिस इन स्मगलरों पर शिकंजा कसने के लिए प्रत्यनशील है और राजस्थान में इस संदर्भ में ठेकेदारों के खिलाफ केस भी दर्ज किये गये हैं। उन्होंने यह भी बताया कि हरियाणा से उन शूटरों की लिस्ट मांगी गई है, जो राजस्थान में जाकर शरण लेते हैं या फिर आते-जाते रहते हैं। चुनावों के मद्देनजर इन शूटरों पर राजस्थान में कार्यवाही की जायेगी।

कांग्रेस का चुनाव घोषणा पत्र झूठ का पुलिंदा-अजय चौटाला

डबवाली (लहू की लौ) इनेलो ने कांग्रेस के चुनाव घोषणा पत्र को आधा-अधूरा, खोखला, झूठ का पुलिंदा व सत्ता से बाहर हो रही पार्टी की निराशा व मायूसी का प्रतीक बताया है। इनेलो के प्रधान महासचिव व सांसद अजय सिंह चौटाला ने कहा कि कांग्रेसी घोषणा पत्र में कोई भी स्पष्ट वायदा नहीं है और मात्र पिछले घोषणा पत्र को नए शब्द देते हुए मात्र शब्दजाल से लोगों को बहकाने की नाकाम कोशिश की गई है। अजय चौटाला ने कहा कि कांग्रेस का चुनाव घोषणा पत्र देखने से यह बात पूरी तरह से साफ हो जाती है कि कांग्रेस ने अपने पिछले चुनाव घोषणा पत्र का एक भी वादा पूरा नहीं किया है और अब कांग्रेस एक बार फिर खोखली घोषणाओं से लोगों को मूर्ख बनाने की कोशिश कर रही है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पांच साल सरकार चलाने के बावजूद आज फि र उन्हीं वायदों को दोहरा रही है जिन्हें उसने पांच साल में पूरा नहीं किया। पिछले पांच वर्ष की विफलताओं व झूठी घोषणाओं की पोल खुलने के बाद जनता कांग्रेस को पांच साल तक सत्ता में बने रहने के दौरान लोगों के साथ किए गए विश्वासघात और धोखे की सजा जरूर देगी। उन्होंने कहा कि पिछले घोषणा पत्र में कांग्रेस ने अल्पसंख्यक समुदाय के वोट हासिल करने के लिए उनसे अलग गुरूद्वारा प्रबंधक कमेटी का झुठा वायदा किया और सरकार जाने के समय कह दिया कि पहली नवम्बर को अलग कमेटी बनाएगें और आज उस मामले पर यू-टर्न लेते हुए मुख्यमंत्री यह कह रहे हैं कि उन्होंने ऐसा कोई वायदा नहीं किया है। उन्होंने कहा कि इससे सिक्ख समाज के साथ कांग्रेस पार्टी द्वारा किया गया धोखा व विश्वासघात खुलकर सामने आ गया है। इनेलो के प्रधान महासचिव ने कहा कि कांग्रेस ने 2005 के चुनाव घोषणा पत्र में कांग्रेस ने प्रदेश में अल्पसंख्यक आयोग, मानवाधिकार आयोग, सफाई मजदूर आयोग, अनुसूचित जाति/जनजाति आयोग, अल्पसंख्यक वित्तीय और विकास निगम जैसे आठ आयोग व निगम बनाने का वायदा किया था लेकिन आज तक उन वायदों पर कोई कार्य नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि पिछले कई दिनों से मुख्यमन्त्री निरन्तर यह दावे कर रहे हैं कि सरकार ने पिछले चुनाव के समय लोगों से किए सभी वायदे पूरे कर दिए हैं और वायदों से भी ज्यादा काम किया है। इसके अलावा कांग्रेस ने अपने पिछले घोषणा पत्र में विकास परिषद के गठन, पूर्व सैनिकों के कल्याण के लिए नए विभाग का गठन, उत्तरी हरियाणा में पीजीआई चंडीगढ़ की तर्ज पर स्नातकोत्तर संस्थान, वैट की समाप्ति, हिमाचल प्रदेश के साथ सांझा पन-बिजली परियोजनाएं लगाने और गैस पर आधारित बड़े संयंत्र लगाने की बातें कही थी लेकिन दुख का विषय है कि किसी भी मामले पर कोई भी कार्रवाई नहीं हुई और आज पांच साल के बाद बिना किसी शर्म के एक नया घोषणा पत्र जारी कर दिया गया है। मुख्यमन्त्री को इनेलो पहले भी किसी भी सार्वजनिक मंच पर सार्वजनिक बहस के लिए आमन्त्रित कर चुकी है लेकिन वे केवल झूठ व छलावे के आधार पर सत्ता हासिल करना चाहते हैं।

सड़क दुर्घटना में एक की मौत

कालांवाली (लहू की लौ) डबवाली रोड पर बीती रात एक कार के अनियंत्रित हो जाने से एक व्यक्ति की मौत हो गई, जबकि दूसरा गंभीर रूप से घायल हो गया। मिली जानकारी के अनुसार कालांवाली निवासी कृष्ण असीजा अपने साथी मास्टर सतपाल के साथ किसी कार्य के लिए कार में सवार होकर सिरसा आए थे। बीती देर रात वापिस लौट रहे थे कि ओढ़ां व पन्नीवाला के निकट सामने से आ रहे दूसरे वाहन की तेज लाईटें पडऩे के कारण कार अनियंत्रित हो गई और सड़क के किनारे खड़े पेड़ से जा टकराई। कार में सवार कृष्ण असीजा व सतपाल गंभीर रूप से घायल हो गये। उन्हें उपचार के लिए सिरसा के सामान्य अस्पताल में लाया गया, जहां चिकित्सकों ने कृष्ण असीजा की गंभीर हालत को देखते हुए उन्हें हिसार के लिए रैफर कर दिया, लेकिन घाव के ताव न सहते हुए कृष्ण असीजा ने बीच रास्ते ही दम तोड़ दिया, जबकि सतपाल का उपचार सिरसा के सामान्य अस्पताल में किया जा रहा है। इस घटना की सूचना मिलते ही कालांवाली क्षेत्र में शोक की लहर दौड़ गई और मीना बाजार के दुकानदारों ने अपने प्रतिष्ठान बंद कर गहरा शोक व्यक्त किया है।

पानी की टंकी मे डूबने से एक व्यक्ति की मौत

सिरसा (लहू की लौ ) बरनाला रोड पर टेलीफोन एक्सचेंज के निकट पानी की टंकी मेें डूबने से एक व्यक्ति की मौत हो गई। मृतक का शव कल देर सायं बरामद किया गया। पुलिस ने उसे पोस्टमार्टम हेतु सामान्य अस्पताल पहुंचाया। प्राप्त जानकारी के अनुसार बरनाला रोड स्थित शक्ति नगर कॉलोनी की झोंपड़ पट्टी में रहने वाला जग्गू दिहाड़ी-मजदूरी करता था। सोमवार को उसने शराब का सेवन किया हुआ था और नहाने के लिए टेलीफोन एक्सचेंज के निकट शैट्रिंग स्टोर के संचालकों द्वारा बनाई गई पानी की टंकी में नहाने के लिए उतर गया, जहां डूबने से उसकी मौत हो गई। उसके परिजनों ने सोमवार को उसे आस-पास तलाशा लेकिन उसका कोई पता नहीं लगा। मंगलवार देर सायं उसकी लाश टंकी के ऊपर आ गई। इस बारे में तत्काल पुलिस को सूचना दी गई। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए सामान्य अस्पताल पहुंचाया।

मिट्टी में दबने से मौत

बनवाला (जसवन्त जाखड़) गांव में एक व्यक्ति पर मिट़टी का तौंदा गिर जाने से उसकी मौत हो गई। प्राप्त जानकारी अनुसार गांव बनवाला को जयवीर अपने ही गांव के पूर्व सरपंच हरिराम के खेत से लाल मिट्टी लेने के लिए गया था और जब वह लाल मिट्टी खोद रहा था तो मिट्टी गिली होने के कारण बह गई और उसके ऊपर मिट्टी का तौंदा गिर गया और वह दब गया। मौके पर गांव का राजगुरू भी संयोग से मिट्टी लेने चला गया और उसने देखा की जयवीर की बैल गाड़ी वहां खड़ी है लेकिन वहां जयवीर नहीं है। उसे संंदेह हुआ तो उसने आसपास के खेतों में काम कर रहे किसानों को आवाज लगाई। जिस पर सोहन लाल, भोपत राम, दलीप जाखड़, विजय कुमार जाखड़, भीम सैन वहांं पहुंच गये। लोगो ने गंभीर हालत में जयवीर को खड्डे में से निकाल कर औढा अस्पताल पहुंचाया लेकिन वहां से उसे सिरसा रैफर कर दिया गया। सिरसा में उसे मृत घोषित कर दिया। मृतक गरीब परिवार से संबंधित है और उसके चार छोटे-छोटे बच्चे हैं। गांव वालों ने सरकार से गरीब परिवार को आर्थिक मदद करने की अपील की है।