युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

28 जुलाई 2011

मिठड़ी के पास कारें भिड़ी, तीन की मौत


डबवाली (लहू की लौ) एनएच 10 पर स्थित गांव मिठड़ी के पास दो कारों की आमने-सामने टक्कर में दम्पत्ति समेत तीन लोगों की मौत हो गई। जबकि एक महिला घायल हो गई। टक्कर इतनी भयानक थी कि कारों के परखच्चे उड़ गए।
पंजाब के जिला श्री मुक्तसर साहिब के गांव भुटटीवाला निवासी मेवा सिंह अपनी पत्नी कर्मजीत कौर, गांव दोदा निवासी अपनी सास हरदीप कौर तथा साले गुरप्रीत सिंह के साथ अल्टो कार में कर्मजीत कौर की टांग के दर्द की दवा लेने के लिए सिरसा जा रहे थे। कार को गुरप्रीत सिंह चला रहा था। गांव मिठड़ी के पास अचानक सामने से आई एक इंडिका कार ने उनकी कार में टक्कर मार दी। जिससे गुरप्रीत की मौका पर ही मौत हो गई। सूचना पाकर मौका पर पहुंची पुलिस एम्बूलैंस के चालक सतीश ने घायल मेवा सिंह उसकी पत्नी कर्मजीत कौर तथा सास हरदीप कौर को डबवाली के सरकारी अस्पताल में पहुंचाया।
घायल मेवा सिंह ने अस्पताल में उपचार के दौरान दम तोड़ दिया। जबकि कर्मजीत कौर की सिरसा लेजाते समय मौत हो गई। मृतक दम्पत्ति का एक 8 वर्षीय बेटा सरबजोत सिंह है। गुरप्रीत सिंह की शादी करीब सात माह पूर्व ही हुई थी।
थाना औढ़ां प्रभारी हीरा सिंह ने बताया कि दुर्घटना के बाद इंडिका चालक फरार हो गया। जिसकी तालाश की जा रही है। फिलहाल दफा 174सीआरपीसी के तहत कार्रवाई करते हुए सिरसा के सामान्य अस्पताल से शवों का पोस्टमार्टम करने के बाद शवों को उनके वारिसों को सौंप दिया गया। घायल महिला हरदीप कौर के ब्यान पर आगामी कार्रवाई की जाएगी।

बिजली के लिए कर्मियों से मारपीट


छह गांवों के लोगों ने बिजलीघर को ताला जड़ा, डबवाली-संगरिया मार्ग रखा जा                          डबवाली (लहू की लौ) बिजली न मिलने से गुस्साए छह गांवों के लोगों ने आसाखेड़ा बिजलीघर के कर्मचारियों को मारपीट करके बिजलीघर से बाहर निकाल दिया। सबस्टेशन से होने वाली बिजली आपूर्ति बंद कर दी। बिजलीघर पर ताला जड़कर कर्मचारियों को साथ लेकर डबवाली-संगरिया मार्ग जाम कर दिया। करीब दो घंटे तक मार्ग जाम रहने से दोनों ओर वाहनों की लम्बी कतारें लग गई। बिजली निगम के मण्डल अभियंता से बिजली मिलने का आश्वासन पाकर जाम खोला।
गांव लोहगढ़, राजपुरा, जोतांवाली, अबूबशहर तथा सुकेराखेड़ा, चौटाला की सिक्खवाली ढाणी के सैंकड़ों ग्रामीण बुधवार दोपहर करीब 12 बजे आसाखेड़ा स्थित बिजलीघर में आ धमके। कार्यालय में बैठे एसडीओ धीरज कुमार तथा अन्य कर्मचारियों को बाहर निकालकर कार्यालय पर ताला जड़ दिया। गुस्साई भीड़ सबस्टेशन में चली गई। सबस्टेशन के फोन को धरती पर पटक दिया। वहां बैठै जीएसओ शशि मोहन, एएलएम शीशपाल तथा एएलएम भीम सिंह से मारपीट करते हुए उन्हें सबस्टेशन से निकाल दिया। बिजली आपूर्ति ठप्प कर देने के बाद सबस्टेशन को ताला जड़ दिया। यह भीड़ कर्मचारियों को अपने साथ डबवाली-संगरिया मार्ग पर ले गई और मार्ग जाम कर दिया। सड़क पर सैंकड़ों की संख्या जमा ग्रामीणों ने बिजली निगम के खिलाफ नारेबाजी करके प्रदर्शन शुरू कर दिया। जाम की सूचना पाकर चौटाला पुलिस चौकी इंचार्ज जीत सिंह अपने दलबल के साथ मौका पर पहुंचे। उन्होंने जाम लगाए बैठे लोगों से सड़क से हटने का अनुरोध किया। लेकिन ग्रामीण टस से मस नहीं हुए। दोपहर बाद डेढ़ बजे दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम के मण्डल अभियंता वीके रंजन, एचपीपीएनएल के एक्सीयन रूपेश खैरा, एसडीई धीरज कुमार मौका पर पहुंचे। ग्रामीणों ने उन्हें खूब खरी-खोटी सुनाई। बाद में उनके आश्वासन देने पर ग्रामीण सड़क मार्ग से हट गए और उनसे बातचीत करने के लिए बिजलीघर में जमा हो गए।
करीब सवा दो बजे तक चली बातचीत के दौरान मण्डल अभियंता ने ग्रामीणों को आश्वासन दिलाया कि उन्हें शैड्यूल अनुसार बिजली आपूर्ति होगी। जिसमें कोई बिजली कट नहीं होगा। शैड्यूल आज से ही बदला जाएगा। आश्वासन के बाद ग्रामीण शांत हुए।
ग्रामीण राजा राम, निरजा राम, विनोद, राजकुमार, कृष्ण, संजय, भुवनेश, रमेश, अश्विनी मैहता, भूपिंद्र सिंह, इकबाल सिंह, मालविंद्र सिंह, सुनील, आत्मप्रकाश, लालचंद, हीरा लाल, अर्जुन सिंह, गुरमीत सिंह ने बताया कि उनके गांवों को बिजली आपूर्ति करने के लिए निगम ने शैड्यूल बनाया हुआ है। लेकिन शैड्यूल के मुताबिक भी उन्हें बिजली नहीं दी जा रही। 24 घंटे के दौरान मुश्किल से दो घंटे बिजली मिलती है। इसमें भी एक घंटे के दौरान बीस बार कट लगता है।  ग्रामीणों के अनुसार आगामी दिनों में उन्हें शैड्यूल के अनुसार बिजली नहीं मिलती है, तो वे दोबारा बिजलीघर का घेराव करेंगे।
दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम मण्डल डबवाली के अभियंता वीके रंजन ने बताया कि उपरोक्त गांवों को होने वाली बिजली आपूर्ति का शैड्यूल बदला जा रहा है। ट्रिपिंग की समस्या को दूर करने के लिए पुरानी तारों को बदला जाएगा।  ग्रामीणों को बिना किसी रूकावट के शैड्यूल अनुसार बिजली दी जाएगी। बिजली कर्मचारियों से हुई मारपीट के बारे में उच्च अधिकारियों को अवगत करवा दिया गया है। अधिकारियों के निर्देश पर उचित कार्रवाई की जाएगी

जण्डवाला-गंगा मार्ग पांच घंटे जाम


डबवाली (लहू की लौ) डबवाली क्षेत्र में खेत और लोग दोनों ही प्यासे हैं। करीब चार माह से 700 रूपए प्रति टैंकर के हिसाब से प्रति दिन पानी मोल लेकर थक चुके तीन गांवों के ग्रामीणों ने बुधवार को पांच घंटे तक यातायात को जाम करके अपना रोष प्रकट किया। नायब तहसीलदार के आश्वासन के बाद ग्रामीण रोड़ से हटे।
गांव गंगा, जण्डवाला बिश्नोईयां तथा कालूआना के ग्रामीण पिछले चार माह से नहरी और पीने के पानी की दिक्कत झेल रहे हैं। नहरी पानी की कमी के चलते खेतों में बोई फसल प्यास से दम तोड़ रही है। वहीं पेयजल की आपूर्ति न होने से ग्रामीणों का तन भी पानी के लिए तड़प रहा है। गुस्साए ग्रामीणों ने सुबह करीब 11 बजे अपने वाहनों को आडा-तिरछा करके सड़क पर खड़ा कर दिया। जण्डवाला बिश्नोईयां-गंगा रोड़ पर स्थित हनुमान मंदिर के सामने धरना देकर सिंचाई विभाग के खिलाफ जबर्दस्त नारेबाजी करने लगे। सूचना पाकर मौका पर थाना सदर प्रभारी एसआई रतन सिंह अपने दलबल के साथ मौके पर पहुंचे। लेकिन ग्रामीणों ने उनकी एक न सुनी। बाद में मौके पर आए नायब तहसीलदार हरिओम बिश्नोई ने मौजगढ़ हैड से माईनर में पानी छुड़वाकर ग्रामीणों को शांत कराया। ग्रामीणों ने करीब पांच घटे बाद जाम खोल दिया।
अखिल भारतीय किसान सभा के जिलाध्यक्ष प्रहलाद सिंह भारूखेड़ा, गांव जण्डवाला बिश्नोईयां के सरपंच मिट्ठू राम, भूप सिंह, पाला राम, विष्णु, महावीर सिंह, गंगा के किसान धर्मपाल, भूप सिंह, कालूआना के विजय कुमार, विनय कुमार, राजेंद्र भादू, कृष्ण कुमार ने बताया कि वे लोग भाखड़ा नहर के मौजगढ़ हैड से निकलने वाली जण्डवाला माईनर की टेल पर बसे हुए हैं। हैड से माईनर में करीब 2.20 गेज पानी छोड़ा जाता है, लेकिन इन दिनों मात्र 1.10 गेज से नीचे पानी छोड़ा जा रहा है। जोकि टेल पर नहीं पहुंचता। वे लोग इस बारे में सिंचाई विभाग को मौखिक तथा लिखित तौर पर शिकायत कर चुके हैं। लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। पीने का पानी कुछ लोग 8 किलोमीटर दूर बहती राजस्थान कैनाल से भरकर लाते हैं। जिनसे वे लोग 700 रूपए प्रति टैंकर के हिसाब से खरीदकर अपनी प्यास बुझाते हैं। अगर उनकी समस्या का सुचारू रूप से हल नहीं हुआ तो वे पुन: रोड़ जाम कर देंगे।
नायब तहसीलदार हरिओम बिश्नोई ने बताया कि माईनर में क्षमता से कम पानी छोड़ा जा रहा था, जिसे अब पूरा कर दिया गया है। ग्रामीणों को पीने के पानी की दिक्कत आ रही है। जो जल्द हल कर दी जाएगी।

एनएच पर चला पीला पंजा


डबवाली (लहू की लौ) गांव डबवाली में बुधवार को नगर योजनाकार का पीला पंजा चला। योजनाकार विभाग सिरसा ने नेशनल हाईवे नं. 10 पर स्थित दो दुकानों तथा एक निर्माणाधीन इमारत के निर्माण को अवैध करार देते हुए पीले पंजे से गिरवा दिया।
जिला नगर योजनाकार अरविंद्र ढुल आज अपने तीन कनिष्ठ अभियंताओं अरविंद कुमार, राज सिंह और हरिराम तथा पटवारी धनपत राय के साथ डबवाली के सिटी थाना में पहुंचे। यहां थाना प्रभारी महा सिंह से पुलिस सुरक्षा की मांग की। सुरक्षा मिलने पर गांव डबवाली में नेशनल हाईवे पर बनी दो दुकानों और एक निर्माणाधीन इमारत को गिराने की कार्यवाही आरंभ कर दी। पंद्रह मिनट में ही दो दुकानों और भवन की नींव को ध्वस्त कर मलबे में बदल दिया गया। जिला नगर योजनाकार अरविंद्र ढुल के अनुसार पंजाब हरियाणा उच्च न्यायालय के आदेश के अनुसार अनरेगुलेटिड डिवेल्पमेंट एण्ड कंट्रोल एरिया 1963 के तहत सड़क से 30 मीटर क्षेत्र में निर्माण कार्य करने पर यह कार्यवाही की गई है।
डबवाली गांव में सिरसा रोड़ पर बनी दो दुकानों और निर्माणाधीन इमारत पर पीला पंजा चला। पीले पंजे की चपेट में आई इमारतों में एक दुकान और एक प्लाट अनीता रानी पत्नी नरेंद्र कुमार के नाम पर है, जबकि दूसरी दुकान भगवान दास पुत्र बाबू राम की है। जिला नगर योजनाकार ने बताया कि उच्च न्यायालय के आदेशों के अनुसार 4 जनवरी 2009 के बाद ग्रीन बेल्ट में निर्माण कार्यों पर रोक लगाई हुई है।
सुरक्षा के थे व्यापक प्रबंध- जिला नगर योजनाकार द्वारा की गई कार्यवाही के दौरान सुरक्षा के व्यापक बंदोबस्त किये गये थे। अवैध निर्माण गिराने के लिए जिला नगर योजनाकार द्वारा मांगी गई सुरक्षा के बाद थाना शहर के प्रभारी निरीक्षक महा सिंह के नेतृत्व में भारी संख्या में पुलिस बल कार्यवाही स्थल पर तैनात था।

नशे के खिलाफ हल्ला बोल


डबवाली (लहू की लौ) श्री गुरुग्रंथ साहिब सत्कार सभा ने प्रदेश में नशों के हो रहे अवैध कारोबार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। बुधवार को डबवाली से हल्ला बोल मुहिम के पहले चरण का आगाज करते हुए सभा ने एसडीएम डॉ. मुनीश नागपाल को एक ज्ञापन सौंप कर मेडिकल स्टोरों पर बिक रही नशे की दवाईयों पर रोक लगाने की मांग की।
ज्ञापन सौंपने के बाद पत्रकारों से बातचीत करते हुए श्री गुरुग्रंथ साहिब सत्कार सभा के प्रदेशाध्यक्ष सुखविंद्र सिंह खालसा ने बताया कि डबवाली में मेडिकल नशों को जिस प्रकार धड़ल्ले से दवाईयों की दुकानों पर बिक्री हो रही है, उससे कायदे कानूनों की धज्जियां तो उड़ ही रही है साथ में युवा भी अपने जीवन को नशे में बर्बाद कर रहे है। उन्होंने कहा कि नशों की लत को पूरा करने के लिए नौजवान को अपराधीकरण होता जा रहा है। बाईक चोरी, चैन स्नेचिंग तथा अन्य अपराधों का बढ़ता ग्राफ इसका प्रमाण है।
उन्होंने सरकार से इस पर अंकुश लगाने के लिए स्थानीय स्तर पर राजकीय चिकित्सकों को मेडिकल स्टोरों के खिलाफ कार्यवाही करने के अधिकार देने की मांग की। उन्होंने आरोप लगाया कि काले शीशे और वीआईपी नंबरों वाली गाडिय़ां नशे के अवैध कारोबार में संलिप्त हैं। प्रशासन और पुलिस इनकी जांच करने और इन पर कार्यवाही करने से गुरेज कर रहे है।
इस मौके पर जीटी रोड़ एसोसिएशन के गुलाब सिंह, डबवाली जन सहारा सेवा संस्था के अध्यक्ष आरके नीना, श्री गुरुग्रंथ साहिब सत्कार सभा की डबवाली इकाई के प्रधान ठाना सिंह, प्रेम सिंह, कंवलजीत सिंह, साधु सिंह, वचित्र सिंह हाकूवाला सहित अन्य व्यक्ति मौजूद थे।