युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

10 दिसंबर 2014

सीसीआई पर भेदभाव का आरोप, किसानों ने जताया विरोध

डबवाली (लहू की लौ) नरमा के भाव को लेकर सोमवार को अनाज मंडी में जमकर बवाल हुआ। किसान सरकारी खरीद एजेंसी सीसीआई पर भेदभाव बरतने का आरोप लगाते हुये लामबंद हो गये। नारेबाजी करते हुये मंडी के गेटों पर ताले जड़ दिये। जिससे मार्किट कमेटी कर्मचारियों में हड़कंप जैसी स्थिति हो गई। कमेटी कर्मचारियों के अनुरोध पर तुरंत ही किसानों ने ताले खोल भी दिये।
किसान सुंदर सिंह,कंलवजीत सिंह, मलकीत सिंह सूच, काका सिंह, अजनीश कैनेडी ने बताया कि नरमा का भाव सबसे निचले स्तर पर चल रहा है। पिछले करीब एक माह से सीसीआई खरीद कर रही है। जोकि भेदभाव भरा रूख अख्तियार किये हैं। नरमा का 3100, किसी नरमा का 3300 भाव लगा रही है। किसान राजेंद्र नेहरा ने बताया कि आढ़ती ने उसके नरमा का भाव 3305 रूपये लगाया था। जिस पर वह अपने नरमा को उठाकर ले गया। शेरगढ़ स्थित एक कॉटन फेक्टरी ने उसका वही नरमा 3850 रूपये प्रति क्विंटल की दर से खरीदा।
बोली हुई प्रभावित
किसानों तथा आढ़तियों के विरोध के बीच नरमा की बोली प्रभावित हुई। कुछ समय के लिये किसान तथा आढ़ती अनाज मंडी के गेट बंद किये खड़े रहे। बाद में कर्मचारियों के समझाने पर मान गये और बोली शुरू करवाई।
मार्किट कमेटी के कार्यकारी सचिव हेतराम ने बताया कि सीसीआई सरकार के तय नियमों के अनुसार नरमें की खरीद कर रही है। कुछ समय के लिये किसानों तथा आढ़तियों ने विरोध किया था। समझाने पर सभी मान गये।

कोई टिप्पणी नहीं: