युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

24 मार्च 2011

बन बैठा था जज


धनी राम मित्तल कागजों में जालसाजी करके
डबवाली (लहू की लौ) गाड़ी चोरी के आरोप में पकड़ा गया रोहतक का 72 साल का वकील धनी राम मित्तल जालसाजी करके रोहतक में अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश रह चुका है। विभिन्न राज्यों में इस वकील पर करीब 250 मुकद्दमें चल रहे हैं। यह खुलासा दिल्ली पुलिस की जांच के दौरान हुआ है। धनी राम मित्तल को गत दिवस कार चोरी के आरोप में दिल्ली पुलिस के एंटी ऑटो थेफ्ट स्कवेड की टीम ने डबवाली से काबू किया था। आरोपी को दिल्ली की एक अदालत में पेश करने के बाद पुलिस ने दो दिन का रिमांड हासिल किया था।
जज को दिखाया बाहर का मार्ग
एंटी ऑटो थेफ्ट स्कवेड के एसआई वेदप्रकाश तथा एएसआई सुरेश शर्मा ने मोबाइल पर बताया कि रिमांड के दौरान दिल्ली पुलिस को धनी राम मित्तल के बारे में कई जानकारियां मिली हैं। पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, दिल्ली में इस एलएलबी पास आरोपी पर जालसाजी, चोरी व अन्य वारदातों के कई मुकद्दमें चल रहे हैं। मुकद्दमों की फेहरिस्त काफी लम्बी है। धनी राम मित्तल राजस्थान के गंगानगर से एलएलबी पास है। प्रेक्टिस के लिए यह व्यक्ति रोहतक अदालत में बैठा। 1987 में रोहतक अदालत में किसी बात को लेकर जज से आरोपी की बहस हुई। आरोपी ने जज को तीन दिन के भीतर सबक सिखाने की धमकी दी।
144 आरोपी कर दिए थे बरी
एसआई के अनुसार धनी राम मित्तल ने जाली कागजात तैयार करके जज को वहां से चलता किया। बाद में जाली ऑर्डर लेकर खुद अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश बन बैठा। करीब डेढ़ माह तक यह बेहरूपिया अपना खेल खेलता रहा और इस खेल के दौरान उसने विभिन्न मामलों में फंसे 144 आरोपियों को बरी कर दिया। आखिर बहरूपिया का मुखोटा सामने आया, तो पुलिस ने आरोपी के खिलाफ 144 एफआईआर दर्ज कर दी।
हैंडराईटिंग की नकल उतारने में है माहिर
एसआई के अनुसार धनी राम मित्तल शातिर दिमाग का है और जाली हुबहू हस्ताक्षर करने का माहिर भी है। 1964 में पहली बार 420 के एक मुकद्दमें में दिल्ली पुलिस के हत्थे चढ़ चुका है। काले कोट में छुपा यह शातिर अपने काले कोट की आड़ में अपराध करता रहा। कोर्ट के इर्द-गिर्द खड़ी होने वाली गाडिय़ों को उड़ाता रहा। वकील होने के कारण किसी को इस पर संदेह नहीं हुआ। जब राज खुला तो दिल्ली पुलिस के हत्थे चढ़ गया।

दिल्ली पुलिस के अनुसार आरोपी के पास मास्टर की थी। जिसके आधार पर वह किसी भी कार का लॉक खोल लेता। आरोपी चोरी करने के बाद अपने रहने की जगह बदल लेता था।

कोई टिप्पणी नहीं: