युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

11 दिसंबर 2014

नैतिक दृष्टिकोण से जाने जा सकते हैं अधिकार-आत्मा राम अरोड़ा

डबवाली (लहू की लौ) गुरू नानक कॉलेज के राजनीति शास्त्र विभाग की थिंकर्स सोसायटी ने बुधवार को अन्तर्राष्ट्रीय मानवाधिकार दिवस मनाया। जिसमें मुख्य वक्ता के रूप में शिक्षाविद् व कॉलेज के पूर्व प्रधानाचार्य आत्मा राम अरोड़ा विद्यार्थियों समक्ष रूबरू हुए।
मुख्य वक्ता ने आत्मा राम अरोड़ा ने कहा कि मानव अधिकारों की स्थिति हमारे समाज व संपूर्ण विश्व में दयनीय है। क्योंकि सभी अपने अधिकारों के प्रति तो गंभीर हैं लेकिन दूसरे के मानव अधिकारों या अपने कर्तव्यों के प्रति कोई भी गंभीर नहीं है। उन्होंने कहा कि यदि हम मानवाधिकारों की असल में प्राप्ति चाहते हैं तो हमें उसके लिए सतत् जागरूकता एवं अपने अंदर योग्यता पैदा करनी होगी। हमे इन अधिकारों के प्रति नैतिक दृष्टिकोण पैदा करना होगा। तभी आज के दिन को सार्थक बना पायेंगे। व्यख्यान के बाद उन्होंने विद्यार्थियों के प्रश्नों व जिज्ञासाओं को बड़ी कुशलता से शंात किया। कार्यक्रम के अंत में  प्रिंसीपल डॉ. इन्दिरा अरोड़ा ने कॉलेज व क्षेत्र को शिक्षा के क्षेत्र में योगदान का वर्णन किया। मंच का संचालन अमित बहल ने किया।

कोई टिप्पणी नहीं: