युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

08 दिसंबर 2014

याचिका के बाद सरकार का फैसला सभी स्कूलों में लगेंगे अग्निश्मक यंत्र

बच्चों तथा शिक्षकों को अग्नि से बचाव का प्रशिक्षण दिया जायेगा

डबवाली (लहू की लौ) अग्निकांड के उन्नीस सालों बाद पहली बार सरकार हरकत में आई है। प्रदेश के सभी सरकारी तथा गैर सरकारी विद्यालयों को नोटिस जारी करके अग्नि सुरक्षा प्रबंध करने के सख्त निर्देश दिये हैं। सरकार ने यह निर्णय पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट में विचाराधीन एक मामले के बाद लिया है।
258 बच्चों की हुई थी मौत
23 दिसंबर 1995 को डीएवी स्कूल के वार्षिक कार्यक्रम में हुये भीषण अग्निकांड में मरने वाले 442 लोगों में 258 स्कूली बच्चे थे। जिसके बावजूद सरकारें नहीं जागी थी। स्कूलों में अग्नि सुरक्षा प्रबंधों को लेकर रोहित सभ्रवाल वर्सेज प्रिंसीपल सेक्ट्री डिपार्टमेंट ऑफ लोकल बॉडी मामला अदालत में विचाराधीन है। मामले की गंभीरता को समझते हुये शहरी स्थानीय निकाय ने प्रदेश के सभी दमकल केंद्र अधिकारियों को नोटिस जारी करके सरकारी तथा गैर सरकारी स्कूलों में अग्नि सुरक्षा के प्रबंध पुख्ता करने के आदेश दिये हैं। जिसके बाद स्कूलों को धड़ाधड़ नोटिस निकाले जा रहे हैं। सरकार ने रिपोर्ट एक माह के भीतर मांगी है। ताकि उपरोक्त मामले की सुनवाई की आगामी तिथि 10 फरवरी 2015 को रिपोर्ट अदालत में समक्ष प्रस्तुत की जा सके।
सरकार ने एक माह में मांगी रिपोर्ट
शहरी स्थानीय निकाय एवं अग्निश्मन सेवा हरियाणा पंचकूला के निदेशक ने अपने पत्र में पूछा है कि जिला/नगर निगम क्षेत्र में कितने सरकारी, सहायता प्राप्त गैर सरकारी तथा बिना सहायता प्राप्त गैर सरकारी विद्यालय हैं, उनमें से कितने स्कूलों में अग्निश्मन सुरक्षा के प्रबंध हो चुके हैं? कितने स्कूलों द्वारा अग्निश्मन सुरक्षा का अनापत्ति प्रमाण पत्र (एनओसी) लिया जा चुका है? कितने अध्यापकों/विद्यार्थियों को प्रशिक्षण दिया गया है तथा जिन स्कूलों ने अनापत्ति प्रमाण पत्र/नवीनीकरण नहीं कराया है व अग्निश्मन उपकरण उपलब्ध नहीं करवाये गये हैं, उनके विरूद्ध क्या कार्यवाही की जा रही है? दमकल केंद्र प्रभारियों से एक माह के भीतर रिपोर्ट तलब की गई है।

स्कूलों को जारी हो रहे नोटिस
डबवाली अग्निकांड की 19वीं बरसी आ रही है। लेकिन अभी तक डबवाली जैसे क्षेत्र में सरकारी तथा गैर सरकारी स्कूलों में अग्नि सुरक्षा के प्रबंध ना के बराबर हैं। पिछले दस वर्षों में कुछ स्कूलों ने ही अग्नि सुरक्षा के प्रबंध करते हुये एनओसी ली थी। लेकिन बाद में नवीनीकरण नहीं करवाया। सरकार ने प्रत्येक स्कूल में अग्नि सुरक्षा यंत्र लगाने के आदेश दिये हैं। सरकार के पत्र के बाद स्कूलों को नोटिस जारी किये जा रहे हैं। साथ में बच्चों तथा शिक्षकों को ट्रेनिंग दी जा रही है।
-अमर सिंह, प्रभारी दमकल केंद्र, डबवाली

सरकारी स्कूल चाईल्ड वेल्फेयर फंड से खरीद सकते हैं यंत्र
चाईल्ड वेल्फेयर फंड का प्रयोग करके सरकारी स्कूल अग्नि सुरक्षा यंत्र खरीद सकते हैं। स्कूल मुखियों को इससे अवगत करवा दिया गया है। निजी स्कूलों में होने वाले वार्षिक उत्सवों की रिपोर्ट भी दमकल केंद्र को देने के निर्देश दिये गये हैं।
-संत कुमार बिश्नोई, बीईओ, डबवाली

कोई टिप्पणी नहीं: