युवा दिलों की धड़कन, जन जागृति का दर्पण, निष्पक्ष एवं निर्भिक समाचार पत्र

08 दिसंबर 2014

हादसों से बचने के लिये अपनायें दो सैकंड फार्मूला

आज दो स्कूलों में चलेगा यातायात जागरूकता अभियान

डबवाली (लहू की लौ) ड्राईविंग के दौरान मामूली सी चूक हादसे को अंजाम देती है। हरियाणा पुलिस चूक से बचने के लिये दो सेकंड नियम का प्रयोग करने की सलाह देती है। अगर इस नियम पर चला जाये तो बहुत सी जानें बच सकती हैं।
सुरक्षित ड्राईविंग के लिये अपने वाहन और आगे चल रहे वाहन के बीच उचित दूरी बनाय रखना एक अच्छी आदत है। यह धीमे होने या सुरक्षित रूप से अपना रास्ते बदलने हेतू पर्याप्त स्थान देती है। यातायात, गति, मौसम की स्थिति व दृश्यता इस सुरक्षित दूरी पर प्रभाव डालते हैं। 2 सेंकड नियम का मतलब है कि आपको अपने वाहन को आगे जा रहे वाहन से इतनी दूरी पर रखना चाहिये कि यदि अगला वाहन रूक जाये तो आपके वाहन को उस तक पहुंचने में कम से कम दो सेकंड लगें। हरियाणा पुलिस ने अपनी सड़क सुरक्षा पुस्तक में 2 सेकंड नियम की विस्तृत व्याख्या की है। शहर थाना प्रभारी इंस्पेक्टर दलीप सिंह के अनुसार पीछे चलने की दूरी को मापने के लिये आपके आगे चल रहे वाहन के आगे एक निश्चित वस्तु जैसे टेलीफोन पोल, एक पुल या एक पेड़ चुनिए। जैसे ही आपके आगे का वाहन उस वस्तु से गुजरता है आप एक हजार एक, एक हजार दो, एक हजार तीन कहते हुये गिनती शुरू करें और ऐसा करते रहें जब तक आपका वाहन भी उसी वस्तु तक न पहुंच जाये। यदि आप एक हजार दो गिनने से पूर्व ही उस वस्तु तक पहुंच जायें तो इसका मतलब आपकी पीछे चलने की दूरी सुरक्षित से बहुत कम है।
एमएसएम/पीएसएल नियम
रक्षात्मक ड्राईविंग के सबसे महत्वपूर्ण नियमों में से एक है एमएसएम। जिसका अर्थ है मिरर, सिग्नल, मैन्युवर। नियमित रूप से रियर-व्यू मिरर और साईड मिरर से सड़क की बाएं और दायं ओर देखते रहना महत्वपूर्ण है। यह एक मानसिक चित्र बनाने में मदद करता है कि आपके पीछे सड़क पर क्या है। दिशा बदलने की योजना बनाने से पूर्व दर्पण में चौकसीपूर्वक यातायात का निरीक्षण करते रहें।
सिग्नल : एक बार जब दर्पण का निरीक्षण कर लिया हो और अपनी दिशा बदलने के लिये रास्ता स्पष्ट लग रहा हों तो वाहन के दिशा सूचक या हाथ से संकेत करके या दोनों का ही प्रयोग करते हुये मुडऩे का संकेत दिया जा सकता है।
मैन्युवर : जब वास्तव में ही दिशा बदलने की कार्यवाही करते हैं, इस चरण को आगे तीन उप चरणों में विभाजित किया जा सकता है। जिसके तहत पोजिशन, स्पीड और लुक हैं। तीनों उपचरणों को ध्यान में रखकर रक्षात्मक ड्राईविंग की जा सकती है।
आज भी चलेगा अभियान
शहर थाना प्रभारी दलीप सिंह ने बताया कि यातायात नियमों के प्रति जागरूकता के लिये अभियान जारी रहेगा। सोमवार को खालसा सीनियर सैकेंडरी स्कूल तथा डीएवी स्कूल में बच्चों को यातायात नियमों के बारे में जागरूक किया जायेगा।

कोई टिप्पणी नहीं: